GLIBS
22-03-2020
Breaking : ऐसी क्या जिद कि एक दिन नहीं दे सके समर्थन, शाहीन बाग धरनास्थल के पास हमला, अलीगढ़ में बढ़ाई गई सुरक्षा 

रायपुर/ नई दिल्ली। एक ओर पूरा देश प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जनता कर्फ्यू का सुबह से समर्थन कर रहा है तो वहीं दूसरी ओर देश की राजधानी में शाहीन बाग में प्रदर्शन जारी रहा। जनता कर्फ्यू के बीच शाहीन बाग से बड़ी खबर सामने आई, प्रदर्शन स्थल के पास पेट्रोल बम से हमला हुआ है। बताया जा रहा है कि शाहीन बाग में सुबह 8 बजे बाइक में सवार दो लोग चेहरा ढक कर आए और चाय की दुकान पर दो पेट्रोल बम मारकर फरार हो गए। पुलिस सीसीटीवी की मदद से आरोपियों को तलाश कर रही है। घटना के समय शाहीन बाग में कम संख्या में प्रदर्शनकारी बैठे हुए थे। बम की घटना कालिंदी कुंज के रास्ते पर हुई है। हमलावर ओखला के रास्ते आए थे। नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ धरने पर बैठे लोगों का आरोप है कि प्रदर्शन स्थल पर पेट्रोल बम फेंका गया है। इधर शाहीन बाग धरना स्थल के पास हुए हमले के बाद अलीगढ़ में सीएए और एनआरसी के विरोध में शाहजमाल ईदगाह के सामने जारी धरना प्रदर्शन की सुरक्षा बढ़ाई गई है। ऐसा नहीं कि प्रदर्शनकारियों से सहभागिता की अपील जिला पुलिस और प्रशासन ने नहीं की। बार-बार कहा गया लेकिन प्रदर्शनकारी अपनी जिद पर अड़े रहे। अन्य दिनों की अपेक्षा आज धरना प्रदर्शन में शामिल होकर पुलिस प्रशासन के लिए चुनौती बने हुए हैं।

03-03-2020
दिल्ली हिंसा : पुलिस जवान पर बंदूक तानने वाला शाहरुख यूपी से गिरफ्तार

नई दिल्ली। नागरिकता संशोधन कानून को लेकर उत्तर-पूर्वी दिल्ली में भड़की हिंसा के दौरान पुलिस के जवान पर बंदूक तानने वाले और हवाई फायरिंग करने वाला शाहरुख गिरफ्तार कर लिया गया है। दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने शाहरुख को उत्तर प्रदेश के बरेली से गिरफ्तार किया है। इससे पहले बीते गुरुवार को दिल्ली पुलिस के सूत्रों ने यह स्पष्ट किया था कि कई राउंड गोली चलाने वाला शाहरुख अब भी पुलिस की गिरफ्त से बाहर है। 25 फरवरी को यह खबर आई थी कि पुलिस ने शाहरुख को गिरफ्तार कर लिया है। दरअसल, उत्तर-पूर्वी दिल्ली के जाफाराबाद, गोकलपुरी, मौजपुर, भजनपुरा, करावल नगर आदि इलाकों में रविवार को नागरिकता संशोधन कानून के समर्थकों और विरोध करने वालों के बीच में हिंसक झड़प हुई थी, जिसके बाद यह हिंसा तीन दिन तक जारी रही। हिंसा में अब तक 47 लोगों की मौत हो चुकी है। दिल्ली हिंसा में पुलिस के हेड कॉन्स्टेबल रतनलाल के अलावा, इंटेलिजेंस ब्यूरो यानी आईबी अफसर अंकित शर्मा की भी हत्या हुई है। 

 

02-03-2020
ओवैसी के करीबी विधायक ने दिया आपत्तिजनक बयान, कहा - हमने चूड़ियां नहीं पहन रखी

नई दिल्ली। एआईएमआईएम विधायक मुफ्ती मोहम्मद इस्माईल ने आपत्तिजनक बयान दिया है। मुफ्ती मोहम्मद इस्माईल ने मालेगांव में कहा कि शहर में गोलीबारी की घटना हुई, कोई एफआईआर क्यों नहीं दर्ज की गई? अगर यह हमारे पास आते हैं तो विभाग (पुलिस विभाग) को ध्यान देना चाहिए कि यदि हम शांति बनाए रखना जानते हैं, तो हम यह भी जानते हैं कि शांति कैसे चली जाएगी। हमने चूड़ियां नहीं पहन रखी हैं। अपने बयान पर सफाई देते हुए मुफ्ती मोहम्मद इस्माईल ने कहा कि मैंने इसे अपने शहर के संदर्भ में कहा था। यह महाराष्ट्र या भारत से जुड़ा बयान नहीं है। फायरिंग जो हमारे लोगों के करीब हो रही थी, इस संदर्भ में मैंने कहा कि हम शांति बनाए रखने में विभाग की मदद करते हैं, अगर हम इसे रोकते हैं तो शांति बाधित होगी। बता दें कि इससे पहले एआईएमआईएम नता वारिस पठान ने कर्नाटक के कलबुर्गी में 16 फरवरी को नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के विरोध में आयोजित एक रैली में कहा था कि हमें साथ मिलकर आगे बढ़ना होगा। हमें आजादी चाहिए, इस तरह की चीजें हमें केवल मांगने से नहीं मिलती हैं, हमें इसे छीनना पड़ता है। याद रखना हम 15 करोड़ हैं लेकिन 100 करोड़ पर भारी हैं। पठान का यह बयान सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हुआ था।

01-03-2020
कोलकाता में गरजे अमित शाह,कहा- हम नागरिकता देना चाहते हैं,ममता दीदी क्यों कर रही विरोध

कोलकाता। नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लेकर कोलकाता में गृहमंत्री अमित शाह ने  जनसभा को संबोधित किया। यहां अमित शाह ने टीएमसी पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने एक बार फिर सीएए को सही ठहराया। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी सीएए लेकर आएं,लाखों बंगालियों को इससे नागरिकता मिलती है। ममता दीदी ने इसका विरोध किया। बंगाल में दंगे कराएं, ट्रेनें जला दी गई, रेलवे स्टेशन जला दिया गया। मैं सवाल पूछने आया हूं कि हम नागरिकता देना चाहते हैं और आप इसका विरोध क्यों कर रही हो। आपको घुसपैठिए ही अपने लगते हैं। मैं बताने आया हूं कि 70 साल से जो शरणार्थी यहां आए हैं हम उनको नागरिकता देकर रहेंगे।

उन्होंने कहा कि अयोध्या में जहां प्रभु श्रीराम का जन्म हुआ वहां भव्य मंदिर बनाने के लिए हम 500 साल से लड़ रहे थे। अब पीएम नरेंद्र मोदी ने अयोध्या में राम मंदिर को तीर्थ स्थल बनाने की घोषणा की है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस, सपा, बसपा और ममता राम मंदिर बनने के बीच में रोड़ा बने थें। अमित शाह ने कहा कि जब पीएम मोदी सीएए लेकर आए तो टीएमसी फिर से कांग्रेस और कम्युनिस्टों के साथ खड़ी हैं। उन्होंने कहा कि वे अल्पसंख्यकों को इस डर से भर रहे हैं कि वे अपनी नागरिकता खो देंगे। मैं अल्पसंख्यक वर्ग के प्रत्येक व्यक्ति को आश्वस्त करता हूं कि सीएए केवल नागरिकता प्रदान करता है और कुछ भी नहीं लेता है। यह आपको किसी भी तरह से प्रभावित नहीं करेगा। शाह ने कहा कि मैं उनसे पूछना चाहता हूं,'दलितों ने किसी भी तरह से आपके साथ कैसा अन्याय किया है? जब हम उन्हें नागरिकता देना चाहते हैं तो आप क्यों विरोध कर रहे हैं?'

01-03-2020
शाहीन बाग़ में धारा 144 लागू, प्रदर्शनकारी आज निकालेंगे शांति मार्च

नई दिल्‍ली। नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और एनआरसी के विरोध में देश की राजधानी दिल्‍ली के शाहीन बाग इलाके में दो महीने से भी ज्‍यादा वक्‍त से लोग धरना-प्रदर्शन कर रहे हैं। इस बीच हिन्‍दू सेना ने शाहीन बाग में जवाबी विरोध-प्रदर्शन का ऐलान किया था। हालांकि हिन्‍दू सेना ने 29 फरवरी को इस घोषणा को वापस ले लिया था। इसके बावजूद दिल्‍ली पुलिस ने एहतियातन इलाके में दिनभर के लिए धारा 144 लागू कर दी है, ताकि एक जगह ज्‍यादा लोग इकट्ठा न हो सकें। बता दें कि उत्‍तर-पूर्वी दिल्‍ली में हिंसा के खिलाफ शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों ने 1 मार्च को ही शांति मार्च निकालने की घोषणा की है। शाहीन बाग मामले में दिल्ली पुलिस के ज्वाइंट कमिश्नर डीसी श्रीवास्तव ने कहा कि एहतियात के तौर पर बड़ी संख्या में पुलिसबल की तैनाती की गई है। पुलिस का मकसद है कि शांति और कानून-व्यवस्था बनी रहे। किसी भी तरह की अप्रत्याशित घटना के लिए पुलिस ने ये तैयारियां

28-02-2020
दिल्ली हिंसा में मरने वालों की संख्या बढ़कर हुई 39, घायलों का इलाज जारी

नई दिल्ली। उत्तर-पूर्वी दिल्ली में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के मुद्दे को लेकर हुई हिंसा में मरने वालों की संख्या बढ़कर 38 हो गई है। इसमें गुरु तेग बहादुर अस्पताल में 34 लोगों की लोकनायक जयप्रकाश नारायण अस्पताल में तीन तथा एक व्यक्ति की जग प्रवेश चंद अस्पताल में मौत हो गई। इस इलाके में तीन दिनों तक हुई हिंसक वारदातों में लगभग 200 लोग घायल हुए हैं, जिसमें से कई लोगों की हालत नाजुक बनी हुई है। फिलहाल हालात नियंत्रण में है और जांच के लिए क्राइम ब्रांच के अंतर्गत एक विशेष जांच टीम (एसआईटी) का गठन किया गया है। बता दें कि दिल्ली पुलिस के जनसंपर्क अधिकारी मनदीप सिंह रंधावा ने बताया कि हिंसाग्रस्त इलाकों में समुचित संख्या में सुरक्षा बलों को तैनात करने के बाद हालात नियंत्रण में है। उन्होंने कहा कि 48 प्राथमिकी अब तक दर्ज की जा चुकी है और तथ्यों की जांच करने के बाद और मामले दर्ज किये जाएंगे। एक हजार से अधिक सीसीटीवी फुटेज मिले हैं, जिसकी जांच की जा रही है। अब तक 106 लोगों की गिरफ्तारी की गई है। उन्होंने कहा कि इलाके में शांति व्यवस्था बनाये रखने के लिए दिन-रात चौकसी बरती जा रही है।

27-02-2020
दिल्ली हिंसा पर भाजपा मंत्री का विवादित बयान, कहा- दंगे होते रहते हैं, यह जीवन का हिस्सा

नई दिल्ली। नागरिकता संशोधन कानून को लेकर दिल्ली में हो रही हिंसा पर हरियाणा से भाजपा मंत्री रणजीत चौटाला ने एक विवादित बयान दिया है। उन्होंने कहा है कि दंगे तो होते रहते हैं और ये जिंदगी का हिस्सा है। मंत्री रंजीत चौटाला का यह बयान ऐसे वक्त में आया है जब दिल्ली हिंसा से मौत के आंकड़ों में लागातार इजाफा हो रहा है और यह 34 पर पहुंच गया है। मिली जानकारी के अनुसार हरियाणा सरकार में मंत्री रंजीत चौटाला ने कहा 'दंगे होते रहते हैं। पहले भी होते रहे हैं, ऐसा नहीं है। जब इंदिरा गांधी की हत्या हुई तो पूरी दिल्ली जलती रही। ये तो पार्टी ऑफ लाइफ है, जो होते रहते हैं।

 

 

26-02-2020
प्रदर्शनकारियों पर सख्त हुए योगी के तेवर, कहा मारकाट करने वालों की आरती नहीं उतारी जाएगी

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ प्रदर्शन करने वालों पर सख्त लहजे में बयान दिया है। योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को विधानसभा में इस संबंध में बयान दिया। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि यदि 12-15 लोग तलवार लेकर आएंगे, मार-काट करेंगे तो उनकी आरती नहीं उतारी जाएगी। आगजनी और तोड़फोड़ करने, कानून हाथ में लेने की इजाजत किसी को नहीं दी जाएगी। नोट कर लें, गलतफहमी है तो दिमाग से निकाल लें, कयामत का दिन कभी नहीं आने वाला। इसके साथ ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विपक्ष और सीएए के विरोधियों को निशाने पर लिया। योगी ने कहा कि सरकार सबका विकास करेगी लेकिन तुष्टकरण किसी का नहीं करेगी। सभी अपनी परंपराओं के अनुसार त्योहार मनाएं लेकिन दूसरे के मामलों में दखल देंगे तो खामियाजा भुगतना पड़ेगा। पिछली सरकार में पुलिस लाइन में जन्माष्टमी नहीं मनाई जाती थी, कांवड़ यात्रा में डीजे नहीं बजा सकते थे। हमने दोनों परंपराओं को फिर शुरू किया। पिछली सरकार में हिंदू आस्था के साथ खिलवाड़ की जाती थी, उन्हें चिढ़ाया जाता था। पिछली सरकार को कांवड़ लाने वाले शिवभक्तों की ड्रेस से चिढ़ थी। मुख्यमंत्री ने विपक्षी सदस्यों की तरफ इशारा करते हुए कहा कि यहां सीएए समर्थक बैठे हैं। मैं उनसे पूछना चाहता हूं कि वे देश की छवि खराब करके क्या पाना चाहते हैं ? आगजनी, तोड़फोड़ करने व निर्दोषों को निशाना बनाकर वे क्या साबित करना चाहते हैं?

26-02-2020
शाहीन बाग पर आज भी नहीं हुआ फैसला, सुप्रीम कोर्ट ने कहा- फिलहाल हस्तक्षेप नहीं करेंगे

नई दिल्ली। नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ शाहीन बाग में पिछले दो महीने से ज्यादा दिनों से प्रदर्शन चल रहा है। सुप्रीम कोर्ट में शाहीन बाग प्रदर्शन को लेकर बुधवार को एक बार फिर सुनवाई हुई। लेकिन इस सुनवाई का कोई नतीजा नहीं निकल सका। दरअसल सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि फिलहाल इस मामले में हस्तक्षेप नहीं करेंगे। सुप्रीम कोर्ट ने मामले की अगली सुनवाई के लिए 23 मार्च की तारीख तय की है।
सुनवाई के दौरान सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि दिल्ली हाईकोर्ट ने हिंसा से जुड़ी याचिकाओं पर सुनवाई की है। इस पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि वह हिंसा से जुड़ी याचिकाओं पर विचार करके शाहीन बाग प्रदर्शनों के संबंध में दायर की गई याचिकाओं के दायरे में विस्तार नहीं करेगा।

 

25-02-2020
दिल्ली में तीसरे दिन भी हिंसा जारी, पांच मेट्रो स्टेशन आज रहेगे बंद

नई दिल्ली। दिल्ली में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लेकर ब्रह्मपुरी और मौजपुर इलाके में बवाल मचा हुआ है। यहां तीसरे दिन भी हिंसक प्रदर्शन जारी है। रविवार से शुरू हुई हिंसा में अब तक एक हेड कांस्टेबल समेत पांच लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं एहतियात के तौर पर पांच मेट्रो स्टेशन, जाफराबाद, मौजपुर-बाबरपुर, गोकुलपुरी, जौहरी एंक्लेव और शिव विहार बंद कर दिए हैं।

पांच मेट्रो स्टेशन आज भी बंद
दिल्ली के कई इलाकों में चल रही हिंसा के कारण बचाव की दृष्टि से पांच मेट्रो स्टेशन, जाफराबाद, मौजपुर-बाबरपुर, गोकुलपुरी, जौहरी एंक्लेव और शिव विहार बंद कर दिए है। ट्रेनों को वेलकम मेट्रो स्टेशन पर ही रोक दिया जा रहा है, इससे आगे कोई मेट्रो नहीं जा रही है। करावल नगर के टायर मार्केट में आज सुबह 8.24 बजे आगजनी हुई। लेकिन अब तक फायर ब्रिगेड की गाड़ियां मौके पर नहीं पहुंच सकी है। क्योंकि उन्हें पुलिस ने सुरक्षा प्रदान नहीं की है। बता दें कि यहां आज सुबह दो-तीन गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया गया था।

 

24-02-2020
शाहीन बाग प्रदर्शन पर 26 फरवरी को होगी सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई, मध्यस्थों ने जमा की रिपोर्ट  

नई दिल्ली। दिल्ली के शाहीन बाग में नागरिकता संशोधन कानून के प्रदर्शन कर रहे लोगों से बातचीत के बाद मध्यस्थों ने अपनी सीलबंद रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट में जमा कर दी है। सीलबंद लिफाफे में तीनों मध्यस्थों ने रिपोर्ट दी है। सोमवार को इस पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने मामले में 26 फरवरी को तारीख दी है। अब बुधवार को मामले की अगली सुनवाई होगी। दिसंबर से शाहीन बाग में धरना चल रहा है। इससे दिल्ली को नोएडा से जोड़ने वाली सड़क बंद है। इसको लेकर सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दी गई है। इस पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने संजय हेगड़े, साधना रामचंद्रन और वजाहत हबीबुल्लाह को मध्यस्थ नियुक्त किया है। तीनों मध्यस्थों से शाहीन बाग जाकर प्रदर्शनकारियों से बात करने और ऐसा कोई रास्ता निकालने को कहा था,जिससे प्रदर्शन की वजह से बंद रास्ता खुल जाए। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद बीते हफ्ते लगातार चार दिन तक मध्यस्थ धरनास्थल पर गए और बातचीत की।

इसके बाद सुप्रीम कोर्ट में अपनी रिपोर्ट दी। सुप्रीम कोर्ट की ओर से नियुक्त वार्ताकार वजाहत हबीबुल्ला ने सड़क बंद होने को लेकर सुप्रीम कोर्ट में जो हलफनामा दायर किया है,उसमें रास्ता बंद होने में पुलिस को भी जिम्मेदार कहा है। हबीबुल्लाह ने अपने हलफनामे में कोर्ट को बताया है कि शाहीन बाग में शांतिपूर्ण प्रदर्शन चल रहा है। यहां राहगीरों को असुविधा हो रही है, क्योंकि धरना स्थल से दूर पुलिस ने सड़क पर बेवजह बैरिकेड्स लगा रखे हैं। इससे पिछली सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि लोगों को शांतिपूर्वक और कानूनी रूप से विरोध करने का पूरा हक है। हम केवल शाहीन बाग में रास्ता बंद होने को लेकर उनसे बातचीत चाहते हैं। सुप्रीम कोर्ट में की दो सदस्यीय बेंच इस मामले की सुनवाई कर रही है। 

 

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804