GLIBS
30-05-2020
राहत : देश में पिछले 24 घंटे में रिकार्ड 11264 कोरोना मरीज हुए ठीक, रिकवरी रेट 47.40 प्रतिशत

नई दिल्ली। भारत में कोरोना संक्रमण के मामले में तेजी से वृद्धि हो रही है। ऐसे में बढ़ते आंकड़े के बीच एक अच्छी बात यह है कि 24 घंटे में रिकॉर्ड 11264 मरीज ठीक हुए हैं। देश में पहली बार नए मरीजों की संख्या से अधिक रिकवर हुए हैं और इससे पहली बार एक्टिव केसों में इजाफे की बजाय गिरावट आई है। अब देश में 86422 एक्टिव केस हैं। एक दिन पहले (29 मई) देश में 89987 एक्टिव मरीज थे।देश में कोरोना वायरस का संक्रमण लगातार बढ़ता जा रहा है। पिछले 24 घंटे में सबसे अधिक रिकॉर्ड 7964 नये मामले सामने आये, जिससे पूरे देश का आंकड़ा बढ़कर 1,73,763 हो गया। यह आंकड़ा डराने वाला है। पिछले 10 दिनों से देश में कोरोना का रफ्तार तेज हुआ है, जो कम होने का नाम नहीं ले रहा। हालांकि इस बीच देश के लिए एक राहत भरी खबर भी है कि यहां कोरोना से ठीक होने वालों की संख्‍या भी लगातार बढ़ रही है।इसके अलावा, देश के सबसे जन घनत्व वाले राज्य उत्तर प्रदेश की बात करें तो यहां भी कोरोना संक्रमितों के ठीक होने का ग्राफ भी लगातार बढ़ता जा रहा है। मिल रही जानकारी के मुताबिक, उत्तर प्रदेश में अब तक 4262 कोरोना मरीज ठीक हो चुके हैं। इसके अलावा, कोरोना संक्रमण की वजह से 204 लोगों की मौत हुई है। मरीजों के ठीक होने का रिकवरी रेट 59 प्रतिशत है।

 

30-05-2020
क्या गांजे से कोरोना वायरस का इलाज किया जा सकता है, पढ़े पूरी खबर...

नई दिल्ली। देश में जानलेवा कोरोना वायरस का कहर जारी है। साढ़े तीन लाख से ज्यादा लोगों की जिंदगी लील चुके कोरोना वायरस का अभी तक कोई इलाज नहीं मिल पाया है। सारी दुनिया की उम्मीदें इसकी वैक्सीन पर ही टिकी हैं। कोविड-19 संक्रमण का इलाज करने के लिए अलग-अलग दवाइयों का ट्रायल किया जा रहा है। इस कड़ी में कई देशी नुस्खों को भी कोरोना संक्रमण रोकने के लिए रामबाण बताया जा रहा है। सोशल मीडिया पर ऐसे हजारों दावे किए जा रहे हैं कि फलां औषधि से कोरोना का इलाज संभव है। हाल के दिनों में गांजे को लेकर भी खूब चर्चा हुई है। हज़ारों लोगों ने सोशल मीडिया पर ऐसे लेख शेयर किए हैं, जिनमें दावा किया गया है कि गांजे से कोविड-19 संक्रमण का इलाज हो सकता है। इन लेखों में को इस तरह से पेश किया जा रहा है कि लोग इससे भ्रमित और गुमराह हो रहे हैं।

गांजे से कोरोना का इलाज :

असल में बात यह है कि कनाडा, इजरायल और ब्रिटेन समेत कई देशों में ये पता लगाने के लिए ट्रायल चल रहा है कि क्या गांजा कोरोना वायरस संक्रमण के इलाज में फ़ायदेमंद हो सकता है। अभी तक की जानकारी के मुताबिक औषधीय गांजे को संक्रमण की अवधि कम करने में मददगार माना जा रहा है। कहा जा रहा है कि यह साइटोकाइन स्टॉर्म के इलाज में भी उपयोगी साबित हो सकता है। साइटोकाइन स्टॉर्म कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों में देखने को मिलता है। ये सच है कि गांजे को लेकर ट्रायल किया जा रहा है लेकिन अभी ये शुरूआती स्टेज में है। ऐसे में अभी दावे के साथ नहीं कहा जा सकता है कि गांजे से कोरोना का इलाज किया जा सकता है। पिछले कुछ सालों में गांजे से कई बीमारियों का इलाज करने को लेकर प्रयोग किए गए हैं। इनमें से कई रिजल्ट पॉजिटिव मिले हैं तो कई बार यह पूरी तरह विफल रहा है। आम तौर पर दुनिया भर में लोग मादक पदार्थ के रूप में गांजे का सेवन करते हैं। इसलिए उनकी दिलचस्पी रहती है कि क्या यह बीमारियों का इलाज भी हो सकता है।

30-05-2020
देश में कोरोना ने तोड़े सारे रिकॉर्ड, 24 घंटे में 7964 नए मामले सामने आए, 265 की मौत, कुल संक्रमित 1,73,763

नई दिल्ली। पूरी दुनिया में कोरोना वायरस से हाहाकार मचा हुआ है। भारत भी कोविड-19 से बुरी तरह प्रभावित हुआ है। देश में जारी लॉक डाउन के बाद भी कोरोना वायरस संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है। नोवेल कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक पिछले 24 घंटे में रिकॉर्ड 7,964 नए मामले सामने आए हैं और 265 लोगों की मौत हुई है। इसके बाद देश भर में कोरोना पॉजिटिव मामलों की कुल संख्या 1,73,763 हो गई है, जिनमें से 86,422 सक्रिय मामले हैं, 82,370 लोग ठीक हो चुके हैं या उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है और अब तक 4,971 लोगों की मौत हो चुकी है।

28-05-2020
सु्प्रीम कोर्ट ने दिया आदेश, राज्य सरकारें देंगी मजदूरों का किराया,घर पहुंचाने की करेंगी व्यवस्था

नई दिल्ली। देश भर में फंसे प्रवासी मजदूरों की समस्या और उन पर आई विपत्ति को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने बड़ा फैसला सुनाया है। शीर्ष अदालत ने अपने अंतरिम आदेश में कहा है कि मजदूरों से बस, ट्रेनों का किराया नहीं लिया जाएगा। कोर्ट ने आदेश दिया कि राज्य सरकारें मजदूरों का किराया देंगी और उनको घर पहुंचाने की व्यवस्था करेंगी। शीर्ष अदालत ने कहा कि राज्य सरकारें मजदूरों की वापसी में तेजी लाएं।सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि जिस राज्य से प्रवासी मजदूर चलेंगे वहां स्टेशन पर उनके भोजन और पानी का इंतजाम किया जाएगा। राज्य प्रवासी श्रमिकों के पंजीकरण की देखरेख करेगा और यह सुनिश्चित करने के लिए कि पंजीकरण के बाद वे एक प्रारंभिक तिथि पर ट्रेन या बस में चढ़े। पूरी जानकारी सभी संबंधित लोगों को बताया जाएगा। सुको ने साफ कहा कि वह केंद्र सरकार नहीं बल्कि राज्य सरकारों को निर्देश जारी कर रही है।सुप्रीम कोर्ट ने सवाल किया कि प्रवासी मजदूरों को टिकट कौन दे रहा है, उसका भुगतान कौन कर रहा है? सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि टिकट के पेमेंट के बारे में कंफ्यूजन है और इसी कारण मिडिल मैन ने पूरी तरह से शोषण किया है। सुप्रीम कोर्ट ने सवाल किया कि ऐसी घटनाएं हुई है कि राज्य ने प्रवासी मजदूरों को प्रवेश से रोका है। तब केंद्र सरकार की ओर से सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा राज्य सरकार लेने को तैयार है। कोई भी राज्य प्रवासी के प्रवेश रोक नहीं सकता।

वह भारत के नागरिक हैं।केंद्र की तरफ से सॉलिसिटर जनरल ने कहा कि सरकार मजदूरों के लिए काम कर रही है लेकिन राज्य सरकारों के जरिए उन तक नहीं पहुंच रही है, कुछ दुर्भाग्यपूर्ण घटनाएं हुई हैं। सॉलिसिटर जनरल ने कहा केद्र सरकार ने तय किया है कि प्रवासी मजदूरों को शिफ्ट किया जाएगा, सरकार तब तक प्रयास जारी रखेगी जब तक एक भी प्रवासी रह जाते हैं तब तक ट्रेन चलती रहेंगी।सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि केंद्र सरकार ने अभी 3700 ट्रेने प्रवासी मजदूरों के लिए चला रखीं है, अभी तक 91 लाख प्रवासी मजदूर अपने गांव जा चुके हैं। तुषार मेहता ने कहा कि पड़ोसी राज्यों के सहयोग से 40 लाख को सड़क से शिफ्ट किया गया है। मेहता ने कहा कि एक मई से लेकर 27 मई तक कुल 91 लाख प्रवासी मजदूर शिफ्ट किए गए हैंसुप्रीम कोर्ट ने सवाल किया कि जब पहचान सुनिश्चित हो जाती है कि प्रावसी मजदूर हैं तो उन्हें भेजने में कितना वक्त लगता है। उन्हें हफ्ते 10 दिन में भेजा जाना चाहिए। इस पर केंद्र के वकील ने कहा कि अभी तक एक करोड़ से ऊपर प्रवासी मजदूर भेजे जा चुके हैं। 

28-05-2020
जशपुर के नए कलेक्टर महादेव कावरे ने किया पदभार ग्रहण

जशपुर। भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारियों की नवीन पदस्थापना आदेश के तहत कलेक्टर महोदव कावरे ने पदभार ग्रहण किया। वे इससे पूर्व कोष लेखा एवं पेंशन के संचालक पद पर पदस्थ थे। कावरे ने पदभार ग्रहण करने के उपरांत कलेक्टर कार्यालय के विभिन्न शाखाओं का निरीक्षण किया। उन्होंने उपस्थित अधिकारियों कर्मचारियों का परिचय प्राप्त कर उन्हें बेहतर कार्य के लिए प्रोत्साहित किया। निरीक्षण के दौरान उन्होंने समस्त विभागों के कर्मचारियों को टेबल में नेम प्लेट लगाने एवं दस्तावेजों का सही तरीके से संधारण करने के निर्देश दिए। इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक शंकरलाल बघेल, वनमंडलाधिकारी कृष्ण जाधव, सीईओ जिला पंचायत के एस मंडावी, डिप्टी कलेक्टर एवं विभिन्न शाखाओं के अधिकारी व कर्मचारी उपस्थित थे।

28-05-2020
कांग्रेस नेताओं ने

रायपुर। स्पीक अप इंडिया कार्यक्रम में पूरे देश के साथ-साथ छत्तीसगढ़ के लाखों लोग लाइव हुए। प्रदेश कांग्रेस कार्यालय राजीव भवन में भी कांग्रेस संचार विभाग से भी अनेक नेता लाइव हुए। प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि 20 लाख करोड़ के कोरोना पैकेज से प्रधानमंत्री मोदी के चंद चहेते उद्योगपतियों की सहायता हुई। 

सरकारी कंपनियां इन्हीं को बेचने का फैसला कोरोना पैकेज से है। मध्यम वर्ग, गरीबों, मजदूर, किसानों, रिक्शे, ठेले वालों, खोमचा वालों, आटो चालकों, निजी नौकरी करने वालों, रोज कमाने खाने वालों को क्या मिला? मदद की जरूरत जिनकों है,उनको दी जाए। आज फेसबुक लाइव पर कांग्रेस के लोगों ने 10 हजार रुपए की तत्काल सहायता गरीबों, जरुरतमंदों को देने की मांग की है। इसके साथ-साथ 7500 रुपए 6 महिनों तक गरीबों को देने की मांग की गई। जो मजदूर अन्य प्रदेशों में फंसे हुए हैं, मोदी सरकार तत्काल उन्हें घर गांव तक पहुंचाने की व्यवस्था करें। ये मांग कांग्रेस पार्टी के लाखों कार्यकर्ताओं ने सोशल मीडिया पर की। ये एक प्रकार का सोशल वल्यूएशन है।

28-05-2020
देश भर में कोरोना के 24 घंटे में 6566 नए केस, 194 मौतें, कुल संक्रमित 158333

नई दिल्ली। पूरी दुनिया में कोरोना वायरस से हाहाकार मचा हुआ है। भारत भी कोविड-19 से बुरी तरह प्रभावित हुआ है। देश में जारी लॉक डाउन के बाद भी कोरोना वायरस संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है। केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक, पिछले 24 घंटे में 6,566 नए मामले सामने आए हैं और 194 लोगों की मौत हुई है। इसके बाद देश भर में कोरोना पॉजिटिव मामलों की कुल संख्या 1,58,333 हो गई है, जिनमें से 86,110 सक्रिय मामले हैं, 67,692 लोग ठीक हो चुके हैं या उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है और अब तक 4,531 लोगों की मौत हो चुकी है।

26-05-2020
सुप्रीम कोर्ट ने प्रवासी मजदूरों की समस्याओं को स्वत: संज्ञान में लिया, 28 मई को होगी सुनवाई

नई दिल्ली। लॉक डाउन के कारण देश के विभिन्न हिस्सों में फंसे प्रवासी मजदूरों की समस्याओं और मुसीबतों का सुप्रीम कोर्ट ने स्वत: संज्ञान लिया है। इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले को 28 मई के लिए सूचीबद्ध किया है और सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता से इस मामले में सहयोग करने को कहा है।जस्टिस अशोक भूषण, जस्टिस संजय किशन कौल और जस्टिस एमआर शाह की बेंच ने केंद्र सरकार और सभी राज्य सरकारों और केंद्रशासित प्रदेशों को नोटिस जारी किया है। कोर्ट इस मामले पर 28 मई को सुनवाई करेगा।कोर्ट ने कहा है कि इस मामले में केंद्र और राज्य सरकार, दोनों ओर से कमियां रही हैं। कोर्ट ने कहा कि प्रवासी मजदूरों को आवास, भोजन और यात्रा की सुविधा देने के लिए तत्काल कदम उठाए जाने की जरूरत है। बता दें कि लॉक डाउन के चलते लाखों की संख्या में प्रवासी मजदूर उन राज्यों में फंस गए थे जहां वह काम करने गए थे। आय और भोजन का कोई साधन न होने के चलते कई श्रमिक घर जाने के लिए पैदल ही सैकड़ों किलोमीटर की यात्रा पर निकल गए थे। हालांकि, बाद में केंद्र सरकार ने इन मजदूरों को घर पहुंचाने के लिए श्रमिक स्पेशल ट्रेन और बस सुविधा संचालित करने का फैसला किया था। मजदूरों के पलायन के बाद मानवता को शर्मसार कर देने वाली घटनाएं सामने आई हैं। कहीं, गर्भवती महिला ने सड़क पर ही बच्चे को जन्म दिया और उसके कुछ घंटे बाद फिर यात्रा शुरू कर दी। वहीं, कुछ मजदूरों की ट्रेन के नीचे आ जाने से हुई मौत ने भी सरकार की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाए थे। 

 

26-05-2020
देश के कई राज्‍य गर्मी की चपेट में,विदर्भ में 3 दिनों के लिए रेड अलर्ट,नागपुर में पारा पहुंचा 47 डिग्री पर

नई दिल्‍ली। देश में कोरोना वायरस संक्रमण के बीच अब गर्मी का कहर बढ़ रहा है। मंगलवार को कई राज्‍यों में गर्म लू चल रही है। कई जगहों पर पारा 45 के पार पहुंच गया है। देश के उत्‍तर, पश्चिमी, मध्‍य और पेनिनसुला के अधिकतर भागों में भीषण गर्मी लोग प्रभावित हैं।आईएमडी के वैज्ञानिक डॉ. नरेश कुमार ने कहा कि अगले 2 दिन हरियाणा, पश्चिम, विदर्भ और राजस्थान को रेड अलर्ट दिया गया है। आगामी 2 दिनों के बाद पश्चिमी विक्षोभ के कारण तापमान में हल्की गिरावट होगी।

 वि‍दर्भ में पारा 47 के पार

महाराष्‍ट्र के प्रादेशिक मौसम केंद्र नागपुर के डिप्टी डायरेक्टर जनरल एमएल साहू ने बताया कि मध्य भारत में अभी भयंकर ग्रीष्म लहर चल रही है। बहुत सी जगहों पर तापमान 45 डिग्री से ऊपर चल रहा है। मध्‍य भारत में खासकर विदर्भ में 47, अकोला में 47.4 और नागपुर में तापमान 47 डिग्री है। विदर्भ में 3 दिनों के लिए रेड अलर्ट जारी कर दिया है।

मध्यप्रदेश में भी भयंकर गर्मी

मध्‍य प्रदेश में भी भयंकर गर्मी पड़ रही है। भोपाल में लू का कहर जारी है। भोपाल का तापमान 45 डिग्री सेल्यिस पहुंचा। मध्यप्रदेश में भारत के मौसम विभाग की भविष्यवाणी के अनुसार आज भोपाल में अधिकतम तापमान 45 डिग्री सेल्सियस को छू सकता है। मौसम विभाग ने आगामी दिनों में तापमान को 43 डिग्री सेल्सियस से 45 डिग्री सेल्सियस के बीच कम या ज्‍यादा रहने की भविष्यवाणी की है।

बुंदेलखंड और ग्‍वालियर चंबल अंचल में भयंकर गर्मी

मध्‍यप्रदेश के बुंदेलखंड और ग्‍वालियर चंबल अंचल में गर्म हवाएं चल रही है। राजस्‍थान तापमान को उछाल पर है। राजधानी जयपुर भी इसकी चपेट में हैंं। जोधपुर में ग्रीष्म लहर जारी है और गर्मी का प्रकोप और बढ़ गया है। जोधपुर का अधिकतम तापमान 44 डिग्री पहुंच गया है।बता दें कि सोमवार को उत्तर भारत में सोमवार को गर्मी तथा लू का प्रकोप और बढ़ गया था, राजस्थान के चुरु में पारा 47.5 डिग्री सेल्सियस के करीब पहुंच गया था, वहीं राष्ट्रीय राजधानी में अधिकतम तापमान 46 डिग्री तक पहुंच गया था। राजस्थान के अधिकतर हिस्सों में दिन का तापमान 45 से 47 डिग्री के बीच चल रहा है। पंजाब और हरियाणा में भी लोगों को गर्मी का प्रकोप झेलना पड़ रहा है।

हरियाणा के नरनौल में अधिकतम तापमान 45.8 डिग्री दर्ज किया गया था। वहीं उत्तर प्रदेश में प्रयागराज 46.3 डिग्री तापमान के साथ सबसे गर्म स्थान रहा था। आईएमडी ने सोमवार को कहा था कि उत्तर भारत के अनेक हिस्सों में 29-30 मई को धूल भरी आंधी चलने और गरज के साथ छींटे पड़ने की संभावना है, जिससे लू के प्रकोप से राहत मिल सकती है।

25-05-2020
सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और एयर इंडिया से कहा-लोगों की करनी चाहिए चिंता, विमान में बीच की सीट छोड़े खाली

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के कारण पिछले लगभग दो महीने से देश में जारी लॉकडाउन के बीच सोमवार से घरेलू विमान सेवाओं  को शुरू कर दिया गया है। इस पर सुप्रीम कोर्ट ने बड़ा फैसला सुनाया है। सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस जस्टिस एसए बोबडे ने केंद्र सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि 'क्या कोरोना वायरस ये सोच कर काम करेगा कि वो घरेलू विमान में है या विदेश से आने वाले विमान में।' उन्होंने सरकार के वकील सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता को याद दिलाते हुए कहा कि सोशल डिस्टेंसिंग का नियम सरकार ने ही बनाया था और इससे समझौता नहीं हो सकता।सुप्रीम कोर्ट ने एयर इंडिया से साफ तौर पर कहा है कि अगले 10 दिनों तक पूर्ण उड़ाने चलाई जा सकती हैं लेकिन दस दिन बाद एयर इंडिया के विमान में बीच की सीट को खाली छोड़ना अनिवार्य होगा। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना हर किसी के लिए अनिवार्य है। चूंकि 10 दिन के टिकट की बुकिंग पहले से हो चुकी हैं, इसलिए 10 दिन बाद बीच की सीट खाली छोड़ना अनिवार्य है।वहीं दूसरी तरफ इस पर केंद्र सरकार की तरफ से तर्क दिया गया कि विदेशी विमानों की कमी है। जबकि ज़्यादा से ज़्यादा पैसेंजर को भारत वापस लाना है। इस कारण सभी सीटों पर बुकिंग की जा रही है। हालांकि कोर्ट ने यह भी कहा कि जो टिकट बुक हुए हैं उसको कैंसल करके आने वाली उड़ानों के लिए किया जा सकता है।बता दें कि भारत सरकार 'वंदे भारत मिशन' के तहत दुनिया के अन्य देशों में फंसे भारतीय नागरिकों आज से विमान से वापस ला रही है। इसके तहत एयर इंडिया के सभी सीटों पर टिकट बुक किए गए हैं। इस पर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और एयर इंडिया पर नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि उन्हें लोगों की चिंता करनी चाहिए। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि मध्य सीट को खाली नहीं रखने का सर्कुलर परेशान करने वाला है।

 

24-05-2020
प्रशासन और पुलिस विभाग ने गीदम में किया फ्लैग मार्च

दंतेवाड़ा। वैश्विक महामारी कोविड-19 रुकने का नाम नहीं ले रहा। हर दिन कोविड-19 के मरीजों की संख्या बढ़ती ही जा रही है। इस वजह से पूरे देश में लॉक डाउन किया गया है।लोगों को कोविड-19 महामारी से बचाव के लिए गीदम में प्रशासन एवं पुलिस विभाग द्वारा 24 मई रविवार को डिप्टी कलेक्टर प्रीति दुर्गम की अध्यक्षता में तथा गीदम थाना प्रभारी गोविन्द यादव की मौजूदगी में हारम चौक से लेकर गीदम बस स्टैंड तक फ्लैग मार्च किया गया। इस दौरान बाइक से आने-जाने वालों को मास्क भी वितरित किया गया एवं कोविड-19 से बचाव के लिए सुझाव भी दिए गए।

24-05-2020
नेकी और भलाई का संदेश देता है ईद-उल-फितर : अनुसुईया उइके 

रायपुर। राज्यपाल अनुसुईया उइके ने ईद-उल-फितर के अवसर पर प्रदेशवासियों को मुबारकबाद देते हुए राज्य के सभी नागरिकों के सुख, शांति एवं खुशहाली की कामना की है। राज्यपाल ने कहा कि ईद-उल-फितर का पर्व पवित्र महीना रमजान के माह भर के कठिन उपवास के बाद आता है और नेकी एवं भलाई करने का संदेश देता है। उन्होंने कामना की है कि ईद का पर्व सभी के जीवन में खुशियां एवं भाई-चारे लेकर आएगा और अमन-चैन, सौहार्द्र और एकता का संदेश देगा। राज्यपाल ने कहा कि इस अवसर पर मैं इबादत करती हूं कि देश और प्रदेश को जल्द कोरोना संक्रमण से मुक्ति मिले।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804