GLIBS
24-06-2020
मुर्गी में कोरोना की अफवाह फैलाने वाले युवक के खिलाफ की गई थाने में शिकायत

धमतरी। पिछले कुछ दिनों से व्हाट्सएप के माध्यम से यह अफवाह उड़ाई जा रही कि स्वास्थ्य विभाग ने प्रदेश के पोल्ट्री फार्मो से सैम्पल लिया था। इसमें कोरोना की पुष्टि हुई है। जबकि न कोई सैम्पल लिया गया, न मुर्गी से कोरोना का कोई खतरा है।  धमतरी जिला पोल्ट्री एसोसिएशन ने थाने में शिकायत कर अफवाह फैलाने वालों पर कार्रवाई की मांग की है, एक युवक के मोबाइल नम्बर के साथ नामजद शिकायत भी की गई है। पोल्ट्री एसोशिएशन ने सिटी कोतवाली धमतरी प्रभारी भावेश गौतम से की गई शिकायत में बताया कि विगत दिनों व्हाट्सएप ग्रुप में रिसाईपारा वार्ड के फिरोज नामक व्यक्ति ने पोल्ट्री उत्पाद में कोरोना है,  एक अखबार का हवाला देकर ग्रुप में पोस्ट किया। जबकि अखबार में वैसी कोई खबर प्रकाशित ही नही हुई। झूठी खबर वायरल करने के कारण लोगों में अफवाह फैला रहा है कि पोल्ट्री में कोरोना है। अफवाह फैलाने वालों पर करवाई की मांग करने वालो में धमतरी जिला पोल्ट्री ऐसोसिशन के संजीव यादव, अनिल कामरानी, शकील अहमद, असलम रज़ा, शेखर सिन्हा, अशोक चारवानी, जावेद उमर, शेख हमीद, सोहन चक्रधारी, अशोक सिन्हा, नदीम रोकड़िया, हेमंत चन्द्राकार, शामीम कुरैशी, महीपाल सोनी आदि शामिल है।
 
टीआई ने कार्रवाई का दिलाया भरोसा

पोल्ट्री व्यवसायियों की शिकायत सुनने के बाद कोतवाली टीआई भावेश गौतम ने कहा कि अफवाह फैलाने वाले युवक पर कार्रवाई की जाएगी, साथ ही व्हाट्सएप ग्रुपों में नजर रखेंगे, अगर कोई पोल्ट्री व्यवसायियों को नुकसान पहुंचाने के उद्देश्य से झूठी पोस्ट वायरल करता है तो मामले में संज्ञान लेकर कार्रवाई की जाएगी।

किसी फार्म से नहीं लिया गया सैम्पल

पोल्ट्री व्यवसायियों ने बताया कि वायरल मैसेज में यह बताया जा रहा कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा धमतरी के फार्म से भी सैम्पल लिया गया था जिसमे कोरोना वायरस की पुष्टि हुई है, जबकि धमतरी के किसी फार्म से सैम्पल नही लिया गया है। स्वास्थ्य विभाग में जानकारी लेने पर विभाग के अधिकारियों ने कहा कि कोई सैम्पल नहीं लिया गया है। न ही पोल्ट्री का कोरोना से कोई सम्बन्ध है, पोल्ट्री चिकन कोरोना से पूरी तरह सुरक्षित है।

15-06-2020
मवेशियों से भरे वाहन को पुलिस ने किया जब्त

कांकेर। जिले के नरहरपुर में थाना के सामने से मवेशी लेकर जा रहे एक वाहन को पुलिस ने पकड़ा है,जांच में वाहन से सात मवेशी मिले है। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार मुखबीर से सूचना मिली थी कि एक वाहन में मवेशियों को भरकर बाहर ले जाया जा रहा है। सूचना पर पुलिस ने वाहन क्रमांक सीजी 05 डब्लू 4375 को रोककर जांच की। जांच के दौरान पुलिस को वाहन से सात मवेशी मिले। दस्तावेज पेश नहीं करने पर पुलिस ने वाहन समेत सभी मवेशियों को जब्त कर आरोपी चालक के खिलाफ भादवि की धारा पशु क्रूरता अधिनियम की धाराओें के तहत मामला दर्ज कर जांच में लिया है।

10-06-2020
ईडी ने नीरव मोदी-मेहुल चौकसी पर कसा शिकंजा, हांगकांग से लेकर आई 1350 करोड़ रुपए की ज्वैलरी

नई दिल्ली। भारत के बैंकों को हजारों करोड़ रुपए का चूना लगाकर फरार हीरा व्यापारी नीरव मोदी और मेहुल चोकसी के खिलाफ ईडी ने शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। हॉन्गकॉन्ग में नीरव मोदी और मेहुल चोकसी का हीरों का बड़ा व्यापार है,ऐसे में ईडी ने यहां दोनों की संपत्ति को जब्त करने का काम शुरू कर दिया है। अधिकारियों ने बताया कि ईडी पॉलिश किए हुए हीरे, मोती और ज्वेलरी को हॉन्गकॉन्ग से लेकर आई है,जिसकी कुल कीमत 1350 करोड़ रुपए है और यह नीरव मोदी और मेहुल चोकसी की कंपनी का हैं।बता दें कि इससे पहले एक विशेष अदालत ने सोमवार को भगोड़ा हीरा कारोबारी नीरव मोदी की परिसंपत्तियों को कुर्क करने की अनुमति दी थी। अदालत ने भगौड़ा आर्थिक अपराधी अधिनियम (एफईओए) की धाराओं के तहत यह आदेश दिया था।

महत्‍पूर्ण बात ये हैं कि एफईओए के प्रभाव में आने के दो साल बाद यह देश का पहला मामला है जिसमें इस कानून के तहत किसी की संपत्ति की कुर्की का आदेश दिया गया है।बता दें भगोड़े आर्थिक अपराधी अधिनियम (एफईओए) के तहत कुकीं का पहला आदेश सुनाते हुए सोमवार 8 जून को महाराष्ट्र की एक विशेष अदालत ने कारोबारी नीरव मोदी की परिसंपत्तियों को कुर्क करने की अनुमति प्रदान की हैं विशेष अदालत के जस्टिस वीसी बारडे ने प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) को मोदी की उन परिसंपत्तियों को कुर्क करने के आदेश दिए हैं,जो पीएनबी के पास गिरवी नहीं हैं। भगौड़े नीरव मोदी की परिसंपत्ति को कुर्क के लिए निदेशालय को एक माह का समय दिया गया हैं।गौरतलब है कि पंजाब नेशनल बैंक के 13 हजार करोड़ रुपए के धोखाधड़ी मामले में आरोपी भगोड़े हीरा व्‍यवसायी नीरव मोदी का लंदन के वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट कोर्ट में प्रत्यर्पण संबंधी केस की सुनवाई चल रही है।

49 वर्षीय भगोड़ा नीरव मोदी वर्तमान में ब्रिटेन की जेल में बंद हैं। नीरव मोदी को वहां मार्च 2019 में लंदन में गिरफ्तार किया गया था। भारत उनके खिलाफ वहां की अदालत में प्रत्यपर्ण की कानूनी लड़ाई लड़ रहा है। इसमें पिछले दिनों सुनवाई के दौरान नीरव मोदी के वकील ने कहा कि नीरव मोदी वर्तमान समय में गंभीर मानसिक बीमारी से ग्रसित हैं। उनका भारत की जेल में विशेषकर आर्थर रोड जेल में उचित इलाज नहीं हो सकता हैं। जेल की स्थितियों पर भारतीय सरकार का आश्वासन अपर्याप्त हैं ऐसे में उनका भारत को प्रत्‍यार्पण करना उचित नहीं होगा।

09-06-2020
Video : क्वारेंटाइन की अवधि में बाहर घूमने वालों पर कार्यवाही शुरू, 4 के खिलाफ एफआईआर दर्ज

रायगढ़। कोविड-19 को लेकर जिला प्रशासन, जिला पुलिस व स्वास्थ्य विभाग बेहद संजीदा है। लगातार सभी इस विभीषिका से जिलेवासियों को सुरक्षित रखने के कार्य में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं। ऐसे में कुछ लोगों की गंभीर लापरवाही बड़ी परेशानी का कारण बन सकती है। अब ऐसी लापरवाही बरतने वाले व्यक्तियों पर मामले दर्ज किए जा रहे हैं। जिले में अब तक थाना सारंगढ़, सरिया एवं लैलूंगा में दो दिन में कार्रवाई की गई है, जिसमें चार लोगों के खिलाफ मामला दर्ज करके कार्रवाई की जा रही है। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ने बताया कि क्वॉरेंटाइन सेंटर में 14 दिन तक रखने के बाद संबंधितों को 14 दिन होम आइसोलेशन के नियमों का पालन करने की हिदायत के साथ घर जाने दिया गया। जिन्हें सम्बंधित थाना प्रभारी एवं स्टाफ द्वारा समय समय पर चेक किया जा रहा है।

14  दिन होम आइसोलेशन अवधि के बीच ग्राम कमरीद, थाना सरिया एवं ग्राम पहंदा थाना सारंगढ़ के व्यक्ति अपने घर में ना रहकर घर के बाहर रिस्तेदारों एवं बाजार में घूमते देखे जाने पर तहसीलदार बरमकेला एवं सारंगढ़ द्वारा प्रतिवेदन कार्यवाही के लिए थाना सरिया एवं थाना सारंगढ़ में दिया गया है। जिस पर दोनों थानों में अलग अलग धारा 188,269,270 के तहत अपराध पंजीबद्ध किया गया है। उन्होंने बताया कि रायगढ़ जिले में 9 सौ क्वॉरेंटाइन सेंटर है और प्रवासी मजदूरों की संख्या 12 हजार के आसपास है और अभी तक पांच हजार से भी अधिक प्रवासी मजदूरों की क्वॉरेंटाइन अवधि समाप्त होने के बाद घर भेजा जा चुका है।

अब क्वॉरेंटाइन सेंटरों में रहने वाले प्रवासी मजदूरों या अन्य लोगों द्वारा इस पिरियेड की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। उन्होंने बताया कि अब तक चार लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है और आगे भी शिकायत के बाद कड़ी कार्रवाई की जाएगी। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ने यह भी बताया कि जिले के कोविड अस्पताल के अलावा लोईंग में भी मेडिकल कॉलेज की देखरेख में अस्पताल बनाया गया है। जहां डॉक्टरों की मांग पर पर्याप्त सुरक्षा भी दी जा रही है ताकि आने वाले समय में कोई घटना न हो।

04-06-2020
पुलिस और नक्सलियों के बीच मुठभेड़,ग्यारह नक्सलियों के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज

कांकेर। कोतवाली थानांतर्गत छिंदखड़क एवं पर्रेदोड़ो के बीच पहाड़ी जंगल मेें पुलिस और नक्सलियों के बीच हुई मुठभेड़ में पुलिस ने ग्यारह नक्सलियों के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज किया है। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार पुलिस अधीक्षक के निर्देश पर नक्सलग्रस्त सर्चिंग पर रवाना हुई थी। इस दौरान छिंदखड़क एवं पर्रेदोड़ो के बीच पहाड़ी जंगल के पास घात लगाकर बैठे नक्सलियों ने जवानों को फायरिंग कर दी। जवानों को भारी पड़ता देख नक्सली भाग खड़े हुए। उक्त मामले पर पुलिस ने ग्यारह नामजद नक्सलियों के खिलाफ भादवि की 147, 148, 149, 307, 25, 27, 3, 5, 13, 38(2), 39(2) के तहत अपराध दर्ज कर जांच में लिया है।

 

30-05-2020
अवैध शराब के खिलाफ आबकारी विभाग ने छापामार शैली में की कार्रवाई, 49.14 लीटर शराब जब्त

दुर्ग। जिले में अवैध शराब धारण विक्रय एवं परिवहन के खिलाफ कार्रवाई जारी है। कलेक्टर के निर्देश एवं सहायक आयुक्त आबकारी के मार्गदर्शन में आबकारी विभाग द्वारा सूचना मिलने पर त्वरित एवं विधिवत कार्रवाई की गई। शनिवार को दो स्थानों पर छापामार कार्रवाई करते हुए। 49.14 लीटर शराब जब्त की गई। मिली जानकारी के मुताबिक आरोपी रमेश बघेल आ. कृष्णा राम बघेल, उम्र-31 वर्ष, साकिन-निकुम वार्ड 05, थाना-अण्डा, जिला दुर्ग के रिहायशी मकान से 106 नग गोवा स्पेशल व्हिस्की विदेशी मदिरा एवं 54 नग देशी मदिरा प्लेन कुल मात्रा 28.80 ब.ली. मदिरा तथा आरोपी थानू सिन्हा, निवासी- ग्राम केसरा, थाना रानीतराई, जिला-दुर्ग के रिहायशी मकान से 113 नग सुपर 555 विदेशी मदिरा कुल मात्रा 20.34 ब.ली. जब्त किया गया है। इस प्रकार छ.ग. आबकारी अधिनियम 1915 की धारा 34(2), 59 (क) के तहत 02 प्रकरण कायम कर कुल 49.14 बल्क लीटर मदिरा जब्त किया जाकर उक्त दोनों आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है।
 

22-05-2020
श्रमिक विरोधी अध्यादेश के खिलाफ बीएमएस ने राष्ट्रपति के नाम कलेक्टर को सौंपा ज्ञापन 

भिलाई। भारतीय मजदूर संघ के केंद्रीय नेतृत्व द्वारा आज भारतीय इस्पात मजदूर महासंघ (संबंध - भारतीय मजदूर संघ) के राष्ट्रीय मंत्री सह महामंत्री भिलाई इस्पात मजदूर संघ भिलाई, दिनेश कुमार पांडेय द्वारा विभिन्न राज्य सरकारों के श्रम विरोधी पारित अध्यादेश के खिलाफ राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन जिलाधीश दुर्ग को सौंपा गया। उक्त ज्ञापन में  राष्ट्रपति से कुछ राज्य सरकारों द्वारा मजदूरों के हितों के खिलाफ निर्णय लेने, श्रमिक विरोधी अध्यादेश पारित करने को दिनेश कुमार पांडेय ने उक्त हरकतों को भ्रामक, गैरकानूनी, अनुचित, मानवता के खिलाफ, मौलिक अधिकारों का उल्लंघन करने वाला,आईएलओ कन्वेंशन 47 का उल्लंघन और विकास के दृष्टि के खिलाफ बताया है। 

जिनमें निम्न पांच बिंदुओं - 

1. उत्तरप्रदेश, मध्य प्रदेश एवं गुजरात प्रदेश सरकारों द्वारा 3 साल या उससे अधिक समय के लिए श्रम कानूनों को रद्द करने की तत्काल वापसी।

2. महाराष्ट्र, गोवा, राजस्थान, उड़ीसा बिहार आदि की राज्य सरकारों द्वारा बढ़ाए गए काम के घंटे की तत्काल वापसी।

3. सभी श्रमिकों को मार्च और अप्रैल 2020 की मजदूरी का भुगतान सुनिश्चित करना।

4. प्रवासी श्रमिकों के लिए दोनों तरफ (जाने वाले स्थान एवं पहुंचने वाले स्थान) पर भोजन, आश्रय, स्वास्थ्य, परिवहन काम आदि सुनिश्चित करना।

5.प्रवासी श्रमिकों का राष्ट्रीय रजिस्टर तैयार करना।

पर राष्ट्रपति को कलेक्टर दुर्ग के माध्यम से पत्र प्रेषित कर यूनियन के महामंत्री राष्ट्रीय सचिव भारतीय इस्पात मजदूर महासंघ दिनेश कुमार पांडेय ने ने विश्वास जताया है कि राष्ट्रपति महोदय के कृपा एवं हस्तक्षेप से  अध्यादेशों को रोकने में सफलता मिलेगी, और श्रमिकों की जायज मांग पर पुनर्विचार कर इसे वापस लेने हेतु प्रदेश सरकारों को निर्देशित करने का आग्रह महामहिम राष्ट्रपति महोदय से किया गया है। उक्त कार्यक्रम में भारतीय मजदूर संघ के प्रदेश उपाध्यक्ष सुरेंद्र यादव, जिला मंत्री आई पी मिश्रा, संविदा के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष देवेंद्र कौशिक, संविदा के प्रदेश महामंत्री अनिल साहू, दुर्ग जिला भारतीय मजदूर संघ रवि चौधरी, छत्तीसगढ़ प्रदेश ठेका के महामंत्री बाल्मीकि सिंह, धर्मेंद्र धामू उपस्थित थे।

21-05-2020
सूदखोरों के खिलाफ कार्यवाही करे सरकार : शुभम साहू

रायपुर। छत्तीसगढ़ नागरिक अधिकार संघर्ष समिति ने सरकार से मांग की है कि सूदखोरों के खिलाफ कठोर व दंडात्मक कार्यवाही की जाए। समिति के अध्यक्ष शुभम साहू ने कहा है कि विगत वर्ष इस मुद्दे पर राजधानी में पुलिस प्रशासन द्वारा की गई कड़ी कार्यवाही के सार्थक परिणाम सामने आए थे। प्रशासन को फिर से एक बड़ा अभियान शुरू करने की जरूरत है। लॉक डाउन में आर्थिक दिक्कतों का सूदखोर लाभ उठा रहे हैं। विशेषकर शासकीय कार्यालयों के छोटे कर्मचारियों के मध्य इन्होंने चतुराई से जाल बिछा रखा है। प्रतिमाह उनके नियमित वेतन से बड़ी भारी राशि वसूल कर रहे हैं। सूदखोरी के इस अवैध कारोबार ने सारे नियम कायदों को तोड़ दिया है और जरूरतमन्दों विशेषकर गरीब जनता से ऊंची ब्याज दरों में वसूली की जा रही है। छग नागरिक अधिकार समिति ने अतिशीघ्र इस दिशा में उचित कार्यवाही नहीं किये जाने की स्थिति में समस्त पीड़ितों के साथ मिलकर आंदोलन छेड़ने की चेतावनी दी है।  

21-05-2020
कर्नाटक में सोनिया गांधी के खिलाफ एफआईआर, पीएम केयर्स फंड पर गलत जानकारी देने का आरोप

नई दिल्ली। पीएम केयर्स फंड पर एक ट्वीट को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के खिलाफ शिकायत के बाद एफआईआर दर्ज हुई है। सोनिया गांधी के खिलाफ यह एपआईआर कर्नाटक के शिवमोगा में दर्ज की गई है। कांग्रेस पार्टी को ओर से यह ट्वीट 11 मई को किया गया था। एफआईआर में सोनिया गांधी को सोशल मीडिया अकाउंट की संचालक बताया गया है। शिकायत प्रवीण केवी नाम के शख्स ने दर्ज कराई है। वह बीजेपी कार्यकर्ता और वकील हैं। एफआईआर में सोनिया और कांग्रेस के दूसरे नेताओं के खिलाफ कार्रवाई की मांग की गई है। बता दें कि अभी तक यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि किस ट्वीट को लेकर यह एफआईआर दर्ज करवाई गई है।

पीएम को लिखी चिट्ठी में सोनिया ने क्या कहा था?

11 मई को कांग्रेस पार्टी ने कई ट्वीट किए हैं, जिसमें पीएम केयर्स फंड की पारदर्शिता को लेकर सवाल उठाए गए हैं। एक ट्वीट में कहा गया, 'भाजपा की हर योजना की तरह पीएम केयर्स फंड में भी गोपनीयता बरकरार रखी जा रही है। क्या पीएम केयर्स फंड में चंदा देने वाले देशवासियों को इसके उपयोग के बारे में जानकारी नहीं होनी चाहिए? सोनिया गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी में लिखा कि "जनता के सेवा के फंड के वितरण के लिए दो अलग-अलग मद बनाना मेहनत व संसाधनों की बर्बादी है। पीएम-एनआरएफ में लगभग 3800 करोड़ रु. की राशि (वित्तवर्ष 2019 के अंत तक) बिना उपयोग के पड़ी है। यह फंड तथा ‘पीएम-केयर्स’ की राशि को मिलाकर उपयोग में लाकर, समाज में हाशिए पर रहने वाले लोगों को तत्काल खाद्य सुरक्षा चक्र प्रदान किया जाए।

17-05-2020
पूर्व मंत्री भाटिया के खिलाफ मुस्लिम समुदाय ने दिया पुलिस अधीक्षक को ज्ञापन

राजनांदगांव। नगर पंचायत छुरिया किसी ना किसी मामले में सुर्खियों में रहा है। इस समय मामला जातिगत भेदभाव व मुस्लिम समुदाय के खिलाफ आक्रोश फैलाने का है। पूर्व मंत्री तथा भाजपा नेता रजिंदर पाल सिंह भाटिया के द्वारा लगातार व्हाट्सअप के माध्यम से मुस्लिम समाज के प्रति आक्रोश फैलाया जा रहा था, जिसकी कई बार पुलिस थाने में शिकायत की गई।  लेकिन राजनीतिक पकड़ होने की वजह से अब तक कार्यवाही नहीं हुई। अंततः छुरिया मुस्लिम समाज ने इसकी शिकायत राजनांदगांव पुलिस अधीक्षक से की जिसके बाद पुलिस अधीक्षक ने तुरंत अपराध पंजीबद्ध करने का आदेश छुरिया पुलिस को दिया। छुरिया थाने में भाटिया के खिलाफ धारा 295 A के तहत मामला दर्ज किया गया है। मामला पुलिस अधीक्षक के संज्ञान में आने से मुस्लिम समुदाय को न्याय की आस लगी है।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804