GLIBS
18-08-2019
अरुण जेटली की हालत नाजुक, भागवत मिलने पहुंचे 

नई दिल्ली। राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत रविवार सुबह अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में भाजपा के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली को देखने पहुंचे। बता दें कि पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली को यहां एम्स में जीवन रक्षक प्रणाली पर रखा गया है। इससे पहले शनिवार को जेटली के स्वास्थ्य का हाल जानने के लिए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल समेत कई नेता अस्पताल पहुंचे थे। मालूम हो कि देश के पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली की हालत नाजुक बनी हुई है। उनको 9 अगस्त को अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में भर्ता कराया गया था और वहां उनका इलाज चल रहा है। फिलहाल जेटली लाइफ सपोर्ट पर रखा गया है। उनके इलाज के साथ ही उनके लिए दुआओं का दौर भी जारी है। अरुण जेटली के जल्द स्वस्थ होने के लिए हवन किया गया, विश्व हिंदू परिषद के राष्ट्रीय प्रवक्ता विनोद बंसल ने ट्वीट किया, 'देश के प्रख्यात विधिवेत्ता, राजनेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली के शीघ्र स्वस्थ होने की प्रभु से कामना करते हैं।

18-08-2019
अंग्रेजी जानने से अच्छा पैसा कमाया जा सकता है, इस सोच को बदलने की जरूरत : आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत

नई दिल्ली। आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने लोगों से मातृभाषा की पढ़ाई पर जोर देने को कहा है। उन्होंने कहा कि इस धारणा को हमें बदलने की जरूरत है कि सिर्फ अंग्रेजी ज्ञान से ही अच्छा पैसा कमाया जा सकता है। एक कार्यक्रम में संघ प्रमुख ने कहा कि छात्रों को अध्ययन के अन्य विषयों के साथ आध्यात्मिक ज्ञान देने की भी जरूरत है। आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने शिक्षा प्रणाली में भारतीयता की आवश्यकता पर जोर देने की बात कही। उन्होंने कहा कि अगर कोई व्यक्ति आजीविका चलाने के लिये पढ़ता है तो यह शिक्षा नहीं है क्योंकि समाज में ऐसे कई उदाहरण हैं जहां अशिक्षित लोगों ने शिक्षित लोगों को नौकरियां दी हैं। आरएसएस प्रमुख ने ये बातें नई दिल्ली में इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय में आरएसएस से संबद्ध शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास (एसएसयूएन) द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में कही। बता दें कि मातृभाषा के प्रचार-प्रसार और स्वदेशी को बढ़ावा देने के लिए आरएसएस के द्वारा अनेक कार्यक्रम चलाए जाते हैं।

03-06-2019
राष्ट्रभक्ति की भावना दिखावे के लिए नहीं, दिल से हो : मोहन भागवत

नई दिल्ली। राष्ट्रभक्ति की भावना दिखावे के लिए नहीं, बल्कि दिल में होनी चाहिए। यह अभियानात्मक न होकर दैनिक जीवन में शामिल होनी चाहिए। जीवन का हर क्षण राष्ट्र के लिए समर्पित हो। यह उदगार दीनदयाल उपाध्याय सनातन धर्म इंटर कॉलेज, नवाबगंज में स्वयं सेवकों के प्रशिक्षण वर्ग में शिरकत करते हुए संघ प्रमुख मोहन भागवत ने बौद्धिक सत्र में व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि हर एक को निरंतर राष्ट्र चिन्तन के लिए समर्पित रहना चाहिए। स्वयं सेवकों में उत्साह का संचार करते हुए कहा कि सशक्त भारत देखना है तो कुछ करने के साथ कुछ संकल्प भी लेने होंगे। राष्ट्र निर्माण की खातिर कई चीजों से मुंह मोड़ना होगा। समाज का हर तबका स्वस्थ रहे और उसके समक्ष खुशहाली हो। यह तभी संभव है, जब हर एक युवा के हाथ में रोजगार होगा। इस तरह की अलख स्वयंसेवक हर वर्ग में जाकर जगाएंगे तो अपना भारत नई ऊंचाइयों को छुएगा। 

खेत-खलिहान तक करें शाखा विस्तार

संघ प्रमुख ने प्रशिक्षणार्थी स्वयं सेवकों से संवाद के जरिए उनके राष्ट्र प्रेम के भाव जाने। इसके बाद कहा कि सुदृढ़ भारत के लिए जरूरी है कि शाखाओं का विस्तार खेत-खलिहान तक हो। जब राष्ट्रवाद की अलख खेत से लेकर अपार्टमेंट तक जागेगी तो अपने आप उभरता भारत चौतरफा दिखाई देगा। अभी शाखा विस्तार की असीम संभावनाएं हर क्षेत्र में हैं। वैसे इसमें निरंतर बढ़ोतरी साल-दर-साल दर्ज हो रही है।   

शाखा में गूंजा नए भारत निर्माण का मसला

संघ प्रमुख ने सुबह दीनदयाल उपाध्याय सनातन धर्म इंटर कॉलेज में लगी शाखा में भी शिरकत की। राष्ट्रध्वज प्रणाम से शुरू हुई शाखा में मोहन भागवत ने कहा कि स्वस्थ राष्ट्र निर्माण की खातिर हर एक की हिस्सेदारी होनी चाहिए। यह काम आज का युवा बखूबी कर सकता है। कोई सरकार हो या फिर कोई व्यक्ति। अकेले कोई कुछ नहीं कर सकता है। नए भारत के निर्माण में हर कोई अपना योगदान अपने हिसाब से दे तो भारत की पहचान विश्व में अलग बनेगी। वैसे भी भारत युवा देश कहलाता है। 

28-05-2019
राम मंदिर का काम होना है और यह होकर रहेगा : मोहन भागवत 

 

उदयपुर। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत ने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर आवाज उठानी शुरू कर दी है। उदयपुर में आयोजित संघ शिक्षा सेवा कार्यक्रम में पहुंचे भागवत ने कहा कि राम मंदिर का काम होना है और यह होकर रहेगा। इस दौरान भागवत ने कहा कि हम सभी में राम बसते हैं और राम का काम हम सभी की जिम्मेदारी है। इससे पहले धार्मिक गुरु मुरारी बापू ने कहा कि देश उस दौर से गुजर रहा है जब राम का काम हर हाल में होना चाहिए और यह सभी की जिम्मेदारी है। इसके साथ ही मोहन भागवत ने कहा कि हमें मुरारी बापू की बात का ध्यान रखना चाहिए। इस दौरान मोहन भागवत ने कहा कि यदि बात होती है कि कण कण में राम, मन-मन में राम, तो यह हम सभी के लिए जरूरी है कि राम का काम पहले हो। उन्होंने कहा कि राम का काम करना है और राम का काम होकर रहेगा।

27-05-2019
राम का काम करना है तो काम होकर रहेगा : मोहन भागवत

उदयपुर। राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) के प्रमुख मोहन भागवत का कहना है कि राम का काम करना है और राम का होकर रहेगा। यह बात उन्होंने उदयपुर के बड़गांव क्षेत्र में स्थित प्रताप गौरव केंद्र के भक्ति धाम में मंदिर प्राण प्रतिष्ठा और जन समर्पण समारोह में कही। उनसे पहले संत मुरारी बापू ने कहा था कि देश सदियों से राम के नाम का जाप करता रहा है। मगर आज देश ऐसी परिस्थितियों से गुजर रहा है कि हमें राम का काम भी करना है। जब युवाओं के हाथों पर राम लिखा देखता हूं तो मुझे खुशी होती है।

मुरारी बापू के बाद मोहन भागवत ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि मुरारी बापू ने जो संदेश दिया है उसे याद रखना है। हमें राम का काम करना है और यह काम होकर रहेगा। राम हमारे मन में बसते हैं। उन्होंने कहा कि इतिहास बताता है कि जिस देश के लोग सजग, सक्षम, सक्रिय, बलवान और शीलवान होते हैं उस देश का भाग्य लगातार आगे बढ़ता रहता है। ऐसे में हम सभी को सक्रिय रहना होगा और लक्ष्य की तरफ बढ़ते जाना होगा। संघ प्रमुख उदयपुर में चल रहे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के राजस्थान क्षेत्र संघ शिक्षा वर्ग द्वितीय प्रशिक्षण शिविर के लिए शुक्रवार से चार दिनों के लिए उदयपुर प्रवास कर रहे हैं। भागवत ने कहा कि हमें कहां से चलना है और कहा जाना है इस बात को ध्यान में रखते हुए देश में काम करना है।

20-05-2019
पीएम मोदी आज मोहन भागवत से कर सकते हैं मुलाकात

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) प्रमुख मोहन भागवत से मुलाकात कर सकते हैं। सूत्रों का कहना है कि पीएम मोदी नागपुर स्थित संघ मुख्यालय पहुंचेंगे जहां वह विभिन्न मुद्दों पर उनसे चर्चा करेंगे। लोकसभा चुनाव के 23 मई को आने वाले नतीजों से पहले हो रही इस मुलाकात को काफी अहम माना जा रहा है। मोदी का पिछले चार साल में यह पहला संघ मुख्यालय का दौरा होगा। ऐसी अटकलें लगाई जा रही हैं कि एनडीए के पूर्ण बहुमत हासिल नहीं करने की स्थिति में संघ पीएम पद के लिए मोदी की जगह किसी दूसरे नेता का नाम प्रस्तावित कर सकता है। ऐसे में मोदी की भागवत से इस मुलाकात को उनका आशीर्वाद और पीएम पद के लिए समर्थन हासिल करने के तौर पर देखा जा रहा है। पिछले कुछ सालों के दौरान मोदी ने संघ मुख्यालय से दूरी बनाए रखी और नागपुर दौरे से बचते रहे हैं।  

भाजपा की नागपुर इकाई के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि उम्मीद है कि पार्टी पूर्ण बहुमत के साथ सत्ता में वापसी करेगी लेकिन एक आशंका यह भी जताई जा रही है कि बहुमत नहीं मिलने की परिस्थिति में संघ मोदी को साइडलाइन कर सकता है। आखिर भाजपा की बागडोर अप्रत्यक्ष रूप से संघ के हाथों में ही है। दोनों नेताओं की मुलाकात के दौरान सरकार समेत कई मुद्दों पर चर्चा होने की उम्मीद है।

16-05-2019
गाड़ी का टायर फटा, बाल-बाल बचे संघ प्रमुख मोहन भागवत 

नागपुर। राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत आज एक हादसे में बाल बाल बच गए। महाराष्ट्र के चंदरपुर में वरोरा-भद्रावती रोड पर उनके काफिले का एक वाहन हादसे का शिकार हो गया। वाहन का कार टायर फट गया जिससे वह नियंत्रण के बाहर हो गया। आरएसएस के नेता राजीव तुली से मिली जानकारी के अनुसार मोहन भागवत बिल्कुल सुरक्षित हैं लेकिन उनके चार सुरक्षा गार्ड घायल हो गए हैं। सभी को इलाज के लिए निकट के अस्पताल में भर्ती कराया गया है। बताया कि मोहन भागवत किसी निजी कार्यक्रम में चंद्रपुर गए थे। नागपुर लौटते समय शाम 5.30 बजे वरोरा तहसील नंदोरी गांव के निकट डॉ. भागवत के काफिले में शामिल पुलिस जीप का टायर फट गया, जिससे वह गाड़ी दुर्घटनाग्रस्त होकर सड़क के किनारे जा गिरी। 

19-04-2019
उद्योगपति रतन टाटा ने की आरएसएस के सरसंचालक से भेंट

नागपुर। उद्योगपति रतन टाटा ने राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत से संघ मुख्यालय नागपुर में मुलाकात की। संघ के सूत्रों के अनुसार यह एक औपचारिक मुलाकात थी और दोनों के बीच संघ मुख्यालय में लगभग 2 घंटे तक बैठक हुई। इससे पहले दिसंबर 2018 में संघ प्रमुख मोहन भागवत से उद्योगपति रतन टाटा ने मुलाकात की थी। रतन टाटा और संघ प्रमुख के बीच मुलाकात ऐसे समय हुई जब आम चुनावों के लिए मतदान जारी है। 

19-02-2019
संघ प्रमुख मोहन भागवत पहुंचे इंदौर

इंदौर। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत आज कड़ी सुरक्षा में यहां पहुँचे। वे संघ के स्थानीय पदाधिकारियों ने उनकी अगवानी की। वे तीन दिन तक इंदौर में रहेंगे। संघ सूत्रों के अनुसार आज दिनभर रामबाग स्थित अर्चना कार्यालय में संघ पदाधिकारियों और स्वयंसेवकों के साथ बैठकें होगी। संघ प्रमुख 20 फरवरी को नक्षत्र गार्डन में सभी अनुषांगिक संगठनों के साथ भी बैठक करेंगे। इसको लेकर तमाम तैयारियां हो चुकी हैं।

सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम :

संघ प्रमुख के दौरे को लेकर सुरक्षा के चाक-चौबंद इंतजाम किए गए हैं। पुलिस ने अपने  मुखबिरों को भी सचेत कर दिया है।

10-02-2019
Mohan Bhagwat : मोहन भागवत का इंदौर दौरा 18 से 

भोपाल। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत 18  से 22 फरवरी तक इंदौर में रहेंगे। रविवार को ये जानकारी आरएसएस के जानकार  सूत्रों ने दी। उन्होंने बताया कि अपने इंदौर प्रवास के दौरान मोहन भागवत मालवा और मध्य भारत प्रांत के कार्यकर्ताओं की बैठक लेंगे। इसके बाद अगली बैठक जबलपुर में होगी।

वर्तमान परिस्थितियों पर होगी चर्चा :

संघ के जानकार सूत्रों ने कहा कि इस दौरान मोहन भागवत देश की मौजूदा परिस्थितियों पर चर्चा करेंगे। इसके अलावा लोकसभा चुनावों के विषय में भी विचार- विमर्श होगा। तो वहीं अगली बैठक जबलपुर में होगी। इसके लिए भी तैयारियां शुरू हो गई हैं।

18-10-2018
Mohan Bhagwat : भगवान श्री राम सिर्फ हिंदुओं के नहीं बल्कि पूरे देश के हैं - मोहन भागवत 

नागपुर। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने नागपुर के रेशमीबाग ग्राउंड में विजयादशमी उत्सव एवं आरएसएस का 93वां स्थापना दिवस मनाया। इस मौके पर नागपुर में स्वयंसेवकों ने पथ संचलन किया। इस बार दशहरा उत्सव में खास बात है कि नोबल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी  मुख्य अतिथि के रूप में उत्सव में शामिल हुए।  संघ प्रमुख मोहन भागवत, केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी और मशहूर गायक उस्ताद रशीद खान भी मौजूद हैं। संघ प्रमुख भागवत ने शस्त्र पूजा की। इस अवसर पर संघ प्रमुख मोहन भागवत ने राम मंदिर मुद्दे को लेकर कहा, राम सिर्फ हिंदुओं के नहीं हैं, बल्कि पूरे देश के हैं।

राम मंदिर के लिए सरकार को कानून लाना चाहिए

मंदिर किसी भी मार्ग से बने लेकिन श्रीराम का मंदिर बनना चाहिए। सरकार को इसके लिए कानून लाना चाहिए। लोग कहते हैं कि इनकी सत्ता है फिर भी मंदिर क्यों नहीं बना, वोटर सिर्फ एक ही दिन का राजा रहता है। मतदाता को सोच विचार कर अपने वोट का इस्तेमाल करना चाहिए, वरना एक दिन के कारण 5 साल तक भुगतना पड़ता है। उन्होंने कहा, भारत अगर पंचामृत के मंत्र पर आगे बढ़ेगा तो एक बार फिर विश्वगुरू बन सकता है। एक भयानक आंधी बाबर के रूप में आई और उसने हमारे देश के हिंदू-मुसलमानों को नहीं बख्शा। उसके नीचे समाज रौंदा जाने लगा।

सबरीमाला पर बोले मोहन भागवत-जिन्होंने याचिका लगाई वे कभी मंदिर नहीं गए

सबरीमाला मंदिर के मुद्दे पर मोहन भागवत ने कहा,  सबरीमाला के निर्णय का उद्देश्य स्त्री-पुरुष समानता का था, लेकिन क्या हुआ। इतने वर्षों से परंपरा चल रही है वह टूट गई, जिन्होंने याचिका डाली वो कभी मंदिर नहीं गए, जो महिलाएं आंदोलन कर रही हैं वो आस्था को मानती हैं। धर्म के मुद्दे पर धमार्चार्यों से बात होनी चाहिए, वो बदलाव की बात को समझते हैं। महिलाएं ही इस परंपरा को मानती हैं लेकिन उनकी बात नहीं सुनी गई।

पड़ोसी देश में सत्ता बदली, नीयत नहीं 

मोहन भागवत ने कहा कि पड़ोसी देश में  सत्ता परिवर्तन हुआ लेकिन उसकी हरकतों में कोई अंतर नहीं आया। हमें इतना मजबूत होना पड़ेगा ताकि कोई हमारे ऊपर पाकिस्तान जैसे आतंकी देश आक्रमण करने की हिम्मत ना कर पाए। हमें पाकिस्तान को उसी की भाषा में जवाब देना होगा। हाल के वर्षों में दुनिया में भारत की प्रतिष्ठा बढ़ी है। उन्होंने कहा कि हमने अपना देश सरकार को नहीं सौंपा है, देश हमारा ही है।

18-09-2018
Mohan Bhagwat : सरकार नागपुर से नहीं दिल्ली से चलती है : भागवत 
आरएसएस के सियासत करने के मामले को लेकर सरसंघ चालक की दो टूक राय
Advertise, Call Now - +91 76111 07804