GLIBS
16-02-2020
माँ बेटी की हत्या का मामला: पूर्व विधायक के बाद में अब ड्राइवर गिरफ्तार

रायगढ़। संबलपुरी में चार वर्ष पूर्व हुए माँ बेटी की नृशंस हत्या के मुख्य आरोपी ओड़िशा के पूर्व विधायक अनूप कुमार साय की गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने घटना में उसके साथ शामिल उसके ड्राइवर बर्मन टोप्पो को भी गिरफ्तार कर लिया है। बर्मन टोप्पो की गिरफ्तारी के बाद आज सीएसपी अविनाश ठाकुर, टीआई विवेक पाटले,फोरेंसिक एक्सपर्ट पैंकरा पूरे दल-बल के साथ घटनास्थल पहुंचे और पूरे मामले का डेमो तैयार किया। इस दौरान बर्मन टोप्पो ने पुलिस को बताया कि किस तरह से माँ-बेटी की हत्या उन लोगों ने की थी और दोनों के मृत देह को गाड़ियों से कुचल दिया था।  
 
बोलेरो ही नही इनोवा से भी कुचला गया था दोनो शवों को

पुलिस ने अब तक विधायक सहित दो लोगों को गिरफ्तार किया है,लेकिन इसमें आरोपियों की संख्या में इज़ाफ़ा हो सकता है। बर्मन टोप्पो की गिरफ्तारी के बाद एक और बात सामने आई है।कल्पना दास और बबली श्रीवास्तव की लाश को सिर्फ़ बोलेरो ही नहीं बल्कि इनोवा से भी कुचला गया था। पुलिस ने आज दो गाड़ियों का डेमो लिया है। इसका मतलब ये हुआ कि अनूप साय और बर्मन टोप्पो के साथ इस वारदात में और भी कुछ लोग शामिल हैं। अब पुलिस के लिए उनकी गिरफतारी और इनोवा की बरामदगी अगला लक्ष्य होगा।

घटना को अंजाम देने के बाद हमीरपुर के रास्ते भागे थे

जिस हिसाब से आज पुलिस ने इस वारदात का डेमो लिया है, उसके मुताबिक आरोपी घटना के बाद हमीरपुर के रास्ते ओड़िशा भागे थे। हत्या के बाद सबसे पहले बोलेरो से दो बार शवों को कुचला गया, फिर इनोवा से भी दोनो के शवों को कुचला गया,तदुपरांत हमीरपुर के रास्ते हत्यारे ओड़िशा की तरफ चले गए।

अनूप साय का क़रीबी रिश्तेदार भी है शामिल

सूत्रों की माने तो ये हत्याकांड पूरी तरह से सुनियोजित था,वारदात से कई दिन पहले इस हत्याकांड की पटकथा तैयार कर ली गई थी। कौन-कौन लोग इस वारदात में शामिल रहेंगे,उनकी भूमिका क्या रहेगी,ये पहले ही सुनिश्चित कर लिया गया था। इसमें एक खास जानकारी ये भी आ रही है कि पूर्व विधायक और वारदात का मास्टरमाइंड अनूप साय का एक करीबी रिश्तेदार भी इसमें शामिल है,जिसे बचाने के लिए दोनों ही आरोपी पुलिस को गुमराह कर रहे हैं।

 

15-02-2020
जाने एक ऐसे शख्स के बारे में जिसने पहले काटी 14 साल की सजा और अब बना एमबीबीएस

नई दिल्ली। अगर आप अपने किसी सपने को पूरा करने की ठान ले तो कोई भी परेशानी आ जाए आप को रोक नहीं सकती। कुछ ऐसी ही कहानी है कालाबुरागी के सुभाष पाटिल की जिन्होंने जेल में रहते हुए अपने सपने को साकार किया। बचपन में उनका सपना डॉक्टर बनकर लोगों की सेवा करना था। कुछ वर्ष बाद उन्हें हत्या के आरोप में बंगलूरू पुलिस ने गिरफ्तार किया। इसके बाद अदालत ने 14 वर्ष की जेल की सजा सुनाई। सलाखों के पीछे रहने वाले 40 वर्षीय सुभाष खुद को अपने डॉक्टर बनने के बचपन के सपने का पीछा करने से नहीं रोका। सुभाष पाटिल को नवंबर 2002 में बंगलूरू पुलिस ने हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया था। इसके बाद अदालत ने उन्हें 14 साल के लिए दोषी ठहराते हुए सलाखों के पीछे भेज दिया। बता दें कि सुभाष को जिस वक्त गिरफ्तार किया गया वह कालाबुरागी के एमआर मेडिकल कॉलेज में तीसरे वर्ष का छात्र था। इसके बाद वर्ष 2016 में स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर अच्छे आचरण को देखते हुए उन्हें जेल से रिहा कर दिया गया।

कलाबुरगी में अफजलपुर क्षेत्र स्थित भोसगा निवासी सुभाष ने गिरफ्तारी के बाद अपने सपने को नहीं छोड़ा। उन्होंने सेंट्रल जेल अस्पताल में डॉक्टरों की सहायता की। सुभाष ने बताया कि वर्ष 2008 में स्वास्थ्य विभाग ने तपेदिक से प्रभावित कैदियों के इलाज के लिए उन्हें सम्मानित किया था। सुभाष जेल में रहते हुए वर्ष 2007 में पत्रकारिता में डिप्लोमा पूरा किया। इसके बाद 2010 में कर्नाटक राज्य मुक्त विश्वविद्यालय से पत्रकारिता में ही एमए किया। सुभाष का कहना है कि परिश्रम और जुर्म के पश्चाताप ने उन्हें इस मंजिल तक पहुंचा। 2019 में उनका एमबीबीएस पूरा हुआ और आज उन्होंने एक साल की इंटर्नशिप पूरी कर ली है। उन्होंंने इस मंजिल तक पहुंचने में पिता तुकाराम पाटिल के सहयोग की सराहना किया। सुभाष का कहना है कि मैं राज्य सरकार और राज्यपाल का आभारी हूं जिन्होंने मेरे अच्छे आचरण के लिए रिहाई का आदेश दिया। उन्होंने अपने भविष्य को गरीबों की सेवा के लिए तत्पर रहने को कहा।

 

15-02-2020
झुठी शान बचाने कलयुगी पिता ने की थी 19 वर्षीय पुत्री की हत्या, 14 दिन बाद हुआ मामले का खुलासा

महासमुन्द। बेटी के चरित्र पर संदेह कर 19 वर्षीय पुत्री की पत्थर से सर कुचलकर हत्या करने वाले हत्यारे कलयुगी पिता को सिटी कोतवाली पुलिस ने 14 दिनों के बाद गिरफ्तार कर लिया है। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक राजीव शर्मा ने सिटी कोतवाली के सभागार में जानकारी देते हुए बताया कि सिटी कोतवाली थाना क्षेत्र के ग्राम कनेकेरा के नाले में 1 जनवरी को एक 19 वर्षीय युवती सुलोचना दीवान की लाश संदिग्ध हालात में मिली थी। पुलिस को मामले में पहले से ही हत्या का संदेह था, जो प्रारंभिक पोस्टमार्डम रिपोर्ट के बाद पुख्ता हो गया कि युवती को किसी ने भारी वस्तु से सर पर वार कर हत्या की है। पुलिस ने मामले में 302 का मामले दर्ज कर संदिग्धों से पूछताछ कर रही थी।

गौरतलब है कि 1 जनवरी को सिटी कोतवाली प्रभारी राकेश खुटेश्वर को जानकारी मिली की कनेकेरा के पास एक अज्ञात युवती की लाश खुन से सनी हुई पड़ी है। पुलिस तत्काल घटना स्थल पहुंच कर लाश मृतिका के बारे में पूछताछ की तो मृतिका की पहचान सुलोचना दीवान 19 वर्ष पिता संतोष दीवान ग्राम कनेकेरा निवासी के रूप में की गई। सिटी कोतवाली पुलिस ने मामले को गंभीरता से लेते हुए तत्काल रायपुर से एक्सपर्ट और डॉग स्क्वाड को घटना स्थल बुलाया था। पुलिस के एक्सपर्ट डॉग को जब घटना स्थल से छोड़ा गया तो वह सीधे युवती के घर जो घटना स्थल से 200 मीटर दूर है जा घुसी थी। पुलिस को प्रारंभ से ही युवती के पिता संतोष दीवान पर संदेह होने लगा। घटना के बाद युवती की लाश को देखने के लिए पूरा गांव पहुंचा था लेकिन आरोपी पिता घटना स्थल नहीं गया। पुलिस ने घटना स्थल ना पहुंचने की वजह पूछी तो उसने खून ना देख पाने का बहाना बनाया। पुलिस घटना दिनांक के बाद से लगातार आरोपी कलयुगी पिता से पूछताछ करता रहा आखिर कार वह टूट गया और अपनी बेटी की हत्या करना पुलिस के सामने कबूल कर लिया।

पुलिस को हत्यारे पिता ने हत्या की पीछे की जो वजह बताई वह शर्मसार करने वाला था। हत्यारे संतोष दीवान ने पुलिस को हत्या की वजह बताया कि कुछ वर्ष पहले उसकी छोटी बहन अंतरजातीय विवाह कर ली थी जिसकी वजह से वह समाज में किसी को मुंह दिखाने के लायक नहीं रहा वह इस तरह से सोचता था। हत्योर पिता ने सुचोलना को भी इसी तरह का व्यवहार करते पाया था, मृतिका सुलोचना भी कई लडक़ो से मोबाइल पर बातचीत करती थी जिसकी वजह से पिता उसके संदेह पर शंक करता था। घटना दिनांक 31 दिसम्बर 2019 को सुलोचना दोपहर से कही गई थी जो देर रात घर लौटी थी, आक्रोशित पिता ने जब मृतिका से घर देर से पहुंचने की वजह पूछा तो वह उसे संतोषप्रद जवाब नहीं दी। इस बात से संतोष दीवान अपने 19 वर्षीय बेटी सुलोचना दीवान से नाराज होकर उसे जान से मारने की बात कहने लगा। पिता को आक्रोशित देख सुलोचना रात्रि में ही घर से भागने लगी जिसका पीछा हत्यारा पिता करने लगा और घर से महज 200 मीटर दूर कनेकेरा नाला के पास अपनी बेटी को पकड़ लिया और वहीं पत्थर से सर में वार कर अपनी 19 वर्षीय बेटी की हत्या कर दी। पुलिस मामले में अभी और जांच कर रही है। बहरहाल पुलिस आरोपी पिता को भादवि की धारा 302 के तहत हत्या का मामला दर्ज कर जेल भेजा जा रहा है। इस हत्याकांड को सुलझा ने में पुलिस अधीक्षक जितेन्द्र शुक्ल के निर्देशन और एसडीओपी नारद सुर्यवंशी के मार्गदर्शन में थाना प्रभारी राकेश खुटेश्वर, प्रशिक्षु एसपी आंजनेय वाष्र्णेय, उप निरीक्षक विनोद शर्मा, डामनङ्क्षसग, ललित चन्द्राकर, चुड़ामणि सेठ, राहुल टंडन, सीमा धु्रव की मुख्य भूमिका रही।

15-02-2020
लापता हुए मासूम की लाश मिली कुएं में,परिजनों ने जताया हत्या का संदेह

कोरबा। आरा मशीन पारा से लापता हुए 8 वर्षीय बालक का शव कुएं में मिलने से आस-पास के इलाके में सनसनी फैल गई। मामला रामपुर चौकी क्षेत्र के आरा मशीन का है जहां 12 फरवरी से अभिषेक नामक बालक के गुमशुदगी की शिकायत परिजनों ने दर्ज कराई थी, जिसकी तलाश की जा रही थी। शनिवार सुबह आरा मशीन के एक कुएं में एक बालक का शव मिला जिसकी सूचना पुलिस को दी गई। बच्चे की पहचान अभिषेक साहू के रूप में हुई जिसका पंचनामा कर शव को पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल भेजा गया। परिजनों ने हत्या का संदेह जताया है। पुलिस पी एम रिपोर्ट के आधार पर आगे की करवाई की बात कह रही है।

 

12-02-2020
घर से आ रही थी बदबू, पड़ोसियों ने दरवाजा तोड़ा तो रह गए दंग, जानिए क्यों...

नई दिल्ली। दिल्ली के भजनपुरा इलाके में बुधवार को एक घर में 5 लाशें मिलने से हड़कंप मच गया। सभी शव एक ही परिवार के हैं,जिसमें एक महिला और 3 बच्चे भी शामिल हैं। पुलिस के मुताबिक सभी शव कुछ दिन से घर में पड़े थे। मृत महिला और शख्स पति-पत्नी थे। यह हत्या है या फिर सुइसाइड यह फिलहाल साफ नहीं है। जिस परिवार के शव मिले वह शंभुनाथ (43) का परिवार है। वह भजनपुरा की गली नंबर 11 में किराए पर रह रहे थे। मिली जानकारी के मुताबिक, शंभुनाथ बैट्री रिक्शा चलाते थे। मृत मिले अन्य लोगों में पत्नी सुनीता (38), कोमल (11), सचिन (14) और शिवम (17) शामिल हैं। शंभुनाथ बिहार के सुपौल जिले के रहनेवाले थे। पुलिस को सुबह 11.30 बजे पड़ोसियों ने फोन किया था। उनकी शिकायत थी कि उस घर में से कुछ बदबू आ रही है। फिर पुलिस ने आकर दरवाजा तोड़ा। दरवाजा खुला तो पुलिस और वहां मौजूद लोगों के होश उड़ गए। वहां एक नहीं पूरे पांच शव थे। मिली जानकारी के मुताबिक, शव सड़ चुके थे। फिलहाल उन्हें पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। पुलिस को घर से फिलहाल कोई सुइसाइड नोट नहीं मिला है।

 

10-02-2020
बेटे ने की मां के प्रेमी की हत्या, पुलिस को गुमराह करने लाश के पास रख दी थी जहर की डिबिया

महासमुन्द। माँ के प्रेमी का गला घोंट कर हत्या करने वाले हत्यारे बेटे को तुमगांव पुलिस ने 24 घंटे के भीतर गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस कंट्रोल रूम में अनुविभागीय अधिकारी नारद सूर्यवंशी ने बताया है कि 8-9 फरवरी की रात में प्रेमी रोहित ध्रुव दरवाजा खोलकर प्रेमिका के घर घुसने का प्रयास कर रहा था। दरवाजा खोलने की आवाज सुनकर बेटा ईश्वर साहू जाग गया और दोनो के बीच हाथापाई हुई। इस दौरान आरोपी ईश्वर साहू ने रोहित ध्रुव का गमछे से गला घोंटकर हत्या कर दी। मृतक रोहित ध्रुव का आरोपी के मां के साथ सम्बंध था। आरोपी ईश्वर साहू को इसकी जानकारी पहले से हो गई थी और रोहित ध्रुव को अपने घर आने से मना भी किया था। आरोपी ने हत्या करने के बाद मृतक को अपने पीठ में बांध कर बाइक से अमावश बेलटुकरी खार मछली तालाब के पास छोड़ कर घर आ गया। पुलिस को 9 फरवरी को लाश मिली थी। इसके बाद पुलिस ने डॉग स्क्वायड को मौके पर बुलाया, जो सीधे आरोपी के घर घुस गया था। पुलिस ने ईश्वर साहू से पूछताछ की तो उसने हत्या करना स्वीकार कर लिया। आरोपी ने पुलिस को गुमराह करने के लिए  लाश के पास जहर की एक डिबिया रख दी थी। तुमगांव पुलिस ने मामले को 24 घंटे में सुलझाते हुए आरोपी पर आईपीसी की धारा 302, 201 के तहत जेल भेज दिया है। 

 

09-02-2020
Breaking : नक्सलियों ने ग्रामीण को मौत के घाट उतारकर फेंका शव, पुलिस मुखबिरी का लगाया आरोप  

दंतेवाड़ा। बारसूर थाना क्षेत्र मंगनार रोड गुफा चौक के पास एक अज्ञात ग्रामीण का शव मिला है। मिली जानकारी के अनुसार, पूर्वी बस्तर डिवीज़न के माओवादियों द्वारा ग्रामीण की धारदार हत्यार से हत्या कर उसका शव मंगनार रोड गुफा चौक के पास फेक दिया गया है। घटनास्थल के पास भारी मात्रा में बैनर व पोस्टर भी लगाए गए है। नक्सलियों ने मृतक ग्रामीण पर पुलिस की मुखबिरी का आरोप लगाया है। इस पूरी घटना की पुष्टि एसपी अभिषेक पल्लव ने की है।

08-02-2020
चुनावी माहौल के बीच राजधानी में महिला सब-इंस्पेक्टर की हत्या, इलाके में फैली सनसनी  

नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली में एक महिला पुलिस सब-इंस्पेक्टर की हत्या का सनसनीखेज मामला सामने आया है। इस हत्या के बाद से एक बार फिर राजधानी दिल्ली की सुरक्षा व्यवस्था पर सवाल खड़े हो गए हैं। महिला सब-इंस्पेक्टर का नाम प्रीति अहलावत है। उनकी हत्या दिल्ली के रोहिणी पूर्व मेट्रो स्टेशन के नजदीक शुक्रवार रात करीब 9:30 बजे हुई। सब-इंस्पेक्टर प्रीति अहलावत की उम्र 26 साल बताई जा रही है और वह पटपड़गंज इंडस्ट्रियल एरिया पुलिस स्टेशन में तैनात थीं। दिल्ली पुलिस ने कहा कि एसआई प्रीति अहलावत पटपड़गंज औद्योगिक क्षेत्र थाने में तैनात थीं। वह 2018 में दिल्ली पुलिस में शामिल हुई थीं। उन्होंने कहा कि घटना को लेकर रात लगभग साढ़े नौ बजे कॉल आई। उनके सिर में गोली लगी थी। अतिरिक्त पुलिस आयुक्त (रोहिणी) एसडी मिश्रा ने कहा, 'हमने संदिग्ध को पहचान लिया है और इलाके में लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज भी एकत्रित कर ली गई है।' दिल्ली पुलिस के अधिकारी ने कहा कि घटनास्थल से तीन खाली कारतूस मिले हैं। मामला दर्ज कर लिया गया है और जांच जारी है। उन्होंने कहा कि संदेह है कि आपसी रंजिश के कारण हत्या की गई। घटनास्थल पर फॉरेंसिक टीम पहुंच गई है और जांच जारी है। गौरतलब है कि दिल्ली में आज विधानसभा के चुनाव भी हैं। ऐसे में इस हत्या की वारदात से दिल्ली पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया है।

07-02-2020
सर पर लाल रंग लगाकर बनाया टिक टॉक, दोस्तों ने फैला दी हत्या की खबर, पुलिस हुई घंटों परेशान

रायपुर। दुर्ग में जयंती स्टेडियम के पास युवक का शव मिलने की सूचना पर बीते दिन सोशल मीडिया में तस्वीरे वायरल हो गई। पुलिस को शव की सूचना मिलते उसकी तलाश में स्टेडियम के आसपास खोजबीन करने पहुंच गई। घंटों मशक्कत के बाद जब पुलिस युवक की तलाश में उसके घर पहुंची तब युवक घर पर ही सकुशल सोता हुआ मिला। परेशान पुलिस युवक को अपने साथ थाने ले गई और वहां उससे पूछताछ में पता चला कि उसका नाम डी गोविंद है जो कि सेक्टर-5 का रहने वाला है। वह टिक टॉक के लिए वीडियो बनाता है। युवक ने पूरा मामला पुलिस के समक्ष स्पष्ट किया। उसने बताया कि सिर पर लाल रंग लगाकर टिक टॉक वीडियो बनाया था। तभी साथियों ने सोशल मीडिया में फोटो वायरल कर दिया और लिख दिया कि इसकी हत्या हो गई है। फिलहाल पुलिस ने युवक को आगे से ऐसा न करने की हिदायत देकर छोड़ दिया है।

यामिनी दुबे की रिपोर्ट

06-02-2020
दो बेटियों और बेटे के साथ महिला ने की खुदकुशी, जाने वजह...

नई दिल्ली। प्रयागराज के ओसावा दाउदपुर हंडिया में विधवा महिला ने अपनी दो बेटियों व एक बेटे के साथ खुदकुशी कर ली। चार लोगों की एक साथ मौत से इलाके में सनसनी फैल गई है। जानकारी के मुताबिक तीन साल पहले महिला के पति की डेंगू से मौत हो चुकी है। बताया जा रहा है कि परिवार आर्थिक तंगी से जूझ रहा था। जिसके चलते महिला ने यह कदम उठाया है। मृतक महिला 40 वर्षीय मंजू देवी, बेटी प्रिया 10 साल, दूसरी बेटी अन्नू 6 साल वहीं बेटा रितिक 3 साल शामिल हैं। महिला बीड़ी मजदूर थी। महिला के परिवार में सास, ससुर और देवर रहते है। मौके पर कई थानों की पुलिस पहुंच गई है। वहीं मामले में हत्या की संभावना भी जताई जा रही है।   

 

06-02-2020
रंजीत बच्चन हत्याकांड मामले में शूटर को पुलिस ने मुंबई से किया गिरफ्तार

नई दिल्ली। लखनऊ में विश्व हिंदू महासभा के अध्यक्ष रंजीत बच्चन की हत्या के मामले में पुलिस को कामयाबी मिली है। पुलिस ने मुंबई से एक शूटर को गिरफ्तार किया है। बताया जा रहा है कि पुलिस की गिरफ्त में आए शूटर को लखनऊ लाया जा रहा है। रंजीत की मॉर्निंग वॉक से लौटते वक्त रविवार को गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। सूत्रों के मुताबिक वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपी ट्रेन से मुंबई फरार हो गया था।बता दें कि रविवार सुबह मॉर्निंग वॉक पर निकले रंजीत यादव पर हमलावरों ने हजरतगंज के छतर मंजिल इलाके में गोलियां बरसाई थीं। ग्लोब पार्क के पास बदमाशों ने इस वारदात को अंजाम दिया था। ज्यादा खून बहने के कारण उनकी मौत हो गई थी। कहा जा रहा है कि उन्हें 9 एमएम की पिस्टल से गोली मारी गई। यह पिस्टल पेशेवर लोगों द्वारा उपयोग की जाती है। एसीपी नवीन अरोड़ा ने कहा कि पुलिस ने घटनास्थल से दो मोबाइल फोन बरामद किए हैं और साइबर सेल कॉल डिटेल्स निकाल रही है। पुलिस ने एक सीसीटीवी फुटेज भी जारी किया है, जिसमें दो संदिग्धों को देखा गया है। इन पर 50 हजार रुपये का इनाम भी जारी किया गया था।

 

05-02-2020
कोटवार को नक्सलियों ने बनाया निशाना, मुखबिरी का लगाया आरोप

जगदलपुर। मारडूम थाना क्षेत्र के बोदली गांव में नक्सलियों ने एक ग्रामीण की हत्या कर दी और मृतक का शव फेंक दिया। मिली जानकारी के अनुसार मुखबिरी का आरोप लगाकर नक्सलियों ने ग्रामीण को जान से मार दिया। मृतक का नाम धनीराम बताया जा रहा है, जो कि बोदली गांव का कोटवार था। नक्सली मासूम ग्रामीणों लगातार अपना निशाना बना रहे है। हर हत्या के बाद वे उन पर मुखबिरी का आरोप लगाते हैं।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804