GLIBS
सड़क निर्माण से गुस्साए नक्सलियों ने ठेकेदार कपूरचंद की हत्या की ली जिम्मेदारी

सुकमा। पिछले महीने हुए नक्सल प्रभावित इलाके बस्तर में सड़क निर्माण में जुटे ठेकेदार कपूरचंद राजपूत की हत्या की ज़िम्मेदारी नक्सलियों ने ली है। नक्सलियो की कोंटा एरिया कमेटी ने पर्चा फेंका है जिसमें उन्होंने कहा है कि इलाके में हो रहे सड़क निर्माण को लेकर उसकी हत्या की गई। नक्सलियों ने लिखा है कि ठेकेदार से 5-6 बार मुलाकात करके चेतावनी दी गई थी।

आपको बता दें कि नक्सल प्रभावित क्षेत्र सुकमाकी में नक्सलियों ने सड़क निर्माण कार्य करा रहे एक ठेकेदार कपूरचंद राजपूत की बेरहमी से हत्या कर दी थी। हत्या के बाद ठेकेदार की लाश को सुकमा के गोरगुंडा मार्ग से पुलिस ने बरामद किया था। इस घटना को नक्सलियों ने दोरनापाल से 6 किलोमीटर दूर चिंतलनार मार्ग पर अंजाम दिया था। घटनास्थल से सटे गोरगुंडा गांव के लोगों ने ठेकेदार की हत्या की सूचना पुलिस को दी थी। ग्रामीणों के मुताबिक सड़क निर्माण कार्य कराने की वजह से वो लंबे समय से नक्सलियों के टारगेट पर थे। मूल रूप से उत्तर प्रदेश के अकबरपुर निवासी कपूरचंद राजपूत लंबे समय से दोरनापाल में अपने परिवार के साथ रह रहे थे। वो यहीं से सड़क निर्माण की ठेकेदारी करते थे।

 
बीच सड़क खून से लथपथ मिली लाश, हत्या की आशंका

गरियाबंद। आज सुबह बीच सड़क पर खून से लथपथ संदिग्ध हालत में एक युवक की लाश मिलने हड़कंप मच गया। मामला फिंगेश्वर थाना क्षेत्र के महासमुंद मुख्य मार्ग से लगे पत्थरी मार्ग का है।  सुबह करीब 6 बजे जब राहगीरों ने अचानक खून से लथपथ युवक की लाश बीच सड़क पर देखा तो सकते में आ गए।  लोगों ने  तत्काल फिंगेश्वर पुलिस को सूचना दी। मौके पर पुलिस पहुंची और जांच में जुट गई है।  

जानकरी के अनुसार मृतक का नाम शैलेन्द्र कुमार मारकंडे पचरी पिथौरा निवासी बताया जा रहा है।  घटनास्थल पर एक मोटरसाइकिल मिली है। लाश को देखकर यही लग रहा ह कि  युवक की हत्या की गई है। पुलिस ने मामला पंजीबद्ध कर लिया है। शव का पंचनामा कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। घटना के संबंध में मृतक के परिजनों को सूचना दे दी गई है। 

भाभी के साथ पी शराब, अवैध संबंध का खुलासा करने की दी धमकी तो देवर ने कर दी हत्या

धमतरी। जिले के सिरसिदा गांव में आदिवासी महिला की हत्या के मामले में एक नया मोड़ सामने निकलकर आया है। महिला का हत्यारा कोई और नहीं बल्कि उसका देवर ही निकला है। पुलिस ने आरोपी देवर  को गिरफ्तार कर लिया है। नगरी थाना पुलिस ने ये कार्रवाई की ।बताया जा रहा है कि अवैध संबंधों के चलते देवर ने अपने भाभी की हत्या की थी। आरोपी का नाम राजकुमार ध्रुव है।आरोपी अपने भाभी की हत्या कर बालका नदी में फेंक दिया था। जिसके बाद पुलिस मामले की जांच में जुट गई थी। जांच के दौरान देवर फरार था जिसके बाद पुलिस का शक उसके उपर पड़ा। पूछताछ की गई तो उसने अपना जुर्म कबूल लिया।

17 मई को आरोपी सुबह 11 बजे के करीब अपने भाभी यानी मृतका जागेश्वरी के साथ अपने नए मकान में जमकर शराब पीया।बाद में महिला द्वारा दोनों के पुराने संबंधों को जगजाहिर करने की बात दोहराने पर आरोपी आगबगुला हो गया और गुस्से में आकर उनकी हत्या कर दी। आरोपी हत्या को आत्महत्या का रुप दिखाने के लिए मृतका के कपड़े उतार कर कुछ कपड़े सीने के ऊपर बांध दिया और उसे नदी में फेंक दिया था। इसके आलावा साक्ष्य छुपाने के बाकी कपड़ो को आग के हवाले कर दिया।पुलिस के मुताबिक तफ्तीश के दौरान  आरोपी देवर को फरार पाया गया।जिसके बाद आरोपी के खिलाफ पुलिस का शक और गया। वहीं आखिरकार 1 महीने बाद पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। आरोपी के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर आगे की कार्रवाई की जा रही है। फिलहाल पुलिस ने आरोपी देवर को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

बता दें कि 18 मई को सिहावा इलाके के बालका नदी में एक महिला की लाश मिलने का मामला सामने आया था। लाश मिलने से इलाके में सनसनी फैल गई थी। महिला के शव की पहचान सिरसिदा गांव की जागेश्वरी ध्रुव के रुप में हुई थी। हालांकि नदी में शव मिलने से इसे पहले आत्महत्या के रुप से देखा जा रहा था। लेकिन जांच में हत्या का मामला सामने निकलकर आया है।

निसंतान दंपति की गला घोंटकर हत्या, सुराग में जुटी पुलिस

अम्बिकापुर। कोतवाली थाना क्षेत्र के लालमाटी गांव में पति पत्नी की हत्या का मामला सामने आया है। दोनों का शव उनके ही घर मे मिला है। बताया जा रहा है मृतकों की कोई संतान नही थी और दोनों ही पति पत्नी घर मे रहते थे। घटना की सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस ने मामले में मार्ग कायम कर लिया है। पुलिस के मुताबिक प्रथम दृष्टया गला घोंट कर दम्पति की हत्या की गई है। फिलहाल पुलिस ने मर्ग कायम कर लिया है और मामले में हत्या का प्रकरण दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार रायगढ़ रोड स्थित लालमाटी डुगु निवासी रामचंद्र राजवाड़े 48 वर्ष व फुलेश्वरी राजवाड़े 44 वर्ष निसंतान दंपति है, पड़ोसियों के अनुसार कल शाम दंपति को देखा गया था मगर आज सुबह दरवाजा खुला था काफी समय तक हलचल नहीं होने पर पड़ोसियों ने झांककर देखा तो सन्न रह गए घर के भीतर रामचंद्र राजवाड़े व उसकी पत्नी फुलेसवरी राजवाड़े का शव पड़ा हुआ था ग्रामीणों ने इसकी सूचना तत्काल कोतवाली पुलिस को दी पुलिस मौके पर पहुंचकर विवेचना प्रारंभ की ।प्रथम दृष्टया में पुलिस ने बताया कि हत्या गला घोटकर की गई है पुलिस ने हत्यारों को पकड़ने के लिए डॉग स्क्वायड की टीम को भी बुलाया पुलिस ग्रामीणों से पूछताछ कर रही है लेकिन अभी तक मामले में किसी प्रकार का सुराग नहीं लगा है की निसंतान दंपति की हत्या क्यों की गई है पुलिस सुराग लगाने में जुटी हुई है

खाना खाकर लौट रहे युवक की अज्ञात लोगों ने की हत्या

दुर्ग। खाना खाकर लौट रहे देर रात युवक की अज्ञात लोगों ने हत्या कर दी। घटना को आदित्य नगर स्थित कुशाभाऊ ठाकरे भवन के पास अंजाम दिया गया जहां अज्ञात लोगों ने हमला कर युवक को मौत के घाट उतार दिया। इस घटना में नीतिश शर्मा उम्र 28 वर्ष को गंभीर हालत में पहले जिला अस्पताल फिर चंदू लाल चंद्राकर अस्पताल ले जाया गया। जहां उसकी मौत हो गई। मामले में मोहन नगर पुलिस ने 302 का अपराध दर्ज कर आरोपियों की तलाश कर रही है।

​जानकारी के अनुसार किराए के मकान में अकेले रहने वाले नीतिश का घायल दोस्त उससे मिलने रूम पहुंचा था। दोनों अपने घर से कार में खाना खाने निकले थे। देर रात वापस लौटने के बाद उन पर घर के नजदीक ही अज्ञात लोगों ने धावा बोल दिया। घटना के वक्त मृतक के कुछ दोस्तों ने दोनों घायलों को अस्पताल पहुंचाकर पुलिस को पूरे घटना की रिपोर्ट दी।

Exclusive : पिथौरा हत्याकांड की जांच के लिए एसआईटी टीम गठित

रायपुर। महासमुंद जिले के पिथौरा ब्लाक में महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ता योगमाया साहू और उसके पति चैतन्य साहू के साथ दो मासूमों की निर्ममता पूर्वक हत्या के मामले में एसआईटी गठित कर दी गई है। फिलहाल इस मामले में कोई बड़ा सुराग नहीं मिला है। पुलिस तीन संदेहियों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर चुकी है। फिलहाल उनसे कोई अहम सुराग नहीं मिला है। 

जानकारी के मुताबिक इस अंधे कत्ल की गुत्थी को सुलझाने के लिए एसपी महासमुंद के निर्देश पर एएसपी संजय ध्रुव के नेतृत्व में एक एसआईटी टीम का गठन किया गया है। एसआईटी में पिथौरा एसडीओपी के अलावा क्राइम ब्रांच पुलिस सहित 10 पुलिसकर्मी शामिल हैं। इसके अलावा पुलिस की तीन टीम मामले की जांच करने पिथौरा से बाहर गई हुई है। 

क्या है हत्या की वजह 

योगमाया साहू और उसके पति का गांव में किसी तरह का कोई विवाद नहीं था। गांव के लोग भी इस परिवार का सम्मान करते थे। दिन हो या रात जब भी किसी को इलाज की जरूरत पड़ती थी, योगमाया उनका उपचार करने पहुंच जाती थी। इसके अलावा योगमाया और उसके  पति के चरित्र को लेकर गांव के लोगों ने कोई शिकायत नहीं की है। न तो इस परिवार का किसी के साथ लेन-देन का कोई विवाद रहा है। ऐसी स्थिति में इनकी हत्या की वजह क्या हो सकती है इस सवाल का जवाब तलाशने में पुलिस जुटी हुई है। 

सुपर विजन अफसरों की देखरेख में होगी जांच 

इस पूरे मामले की जाच महासमुंद एसपी संतोष सिंह के अलावा, एएसपी संजय ध्रुव के अलावा प्रशिक्षु आईपीएस उदय किरण के सुपर विजन में हो रही है। तीनों अधिकारी मामले की बारिकियों को समझ कर मामले की जांच कर रहे पुलिस कर्मियों को आवश्यक दिशा निर्देश दे रहे हैं। 

तीन संदिग्धों पर पुलिस की नजर 

सूत्रों के मुताबिक पुलिस के इस सनसनीखेज हत्याकांड में तीन संदेहियों के शामिल होने की आशंका है। घटना वाले दिन पुलिस उन तीनों संदेहियों के मोबाइल लोकेशन को ट्रेस करने का प्रयास कर रही है। बताया जा रहा है पुलिस उन तीनों संदेहियों से पहले दौर की पूछताछ पूरी कर चुकी है। 

मिले हैं फिंगर प्रिंट 

सूत्रों के मुताबिक मामले की जांच करने गई रायपुर के फोरेंसिक टीम को घटना स्थल पर कुछ स्पष्ट  फिंगर प्रिंट के निशान मिले हैं। पुलिस घटना स्थल पर मिले फिंगर प्रिंट के निशान को संदेहियों के फिंगर प्रिंट से मिलान करने का प्रयास कर रही है। पुलिस एक सप्ताह के भीतर मामलों को सुलझा लेने का दावा कर रही है। 

जांच जारी 

मामले की जांच जारी है। एसपी के निर्देश पर एसआईटी गठित की गई है। संदेहियों को सूचीबद्ध कर उनसे पूछताछ की जाएगी। 

-संजय ध्रुव, एएसपी महासमुंद 

प्रेमिका की हत्या कर जलाने वाले आरोपी को आजीवन कारावास

धमतरी। प्रेमिका का अपहरण करने के बाद जंगल में ले जाकर हत्या कर धमतरी महानदी के किनारे जलाने वाले आरोपी को अपर सत्र न्यायालय ने आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। न्यायालय से मिली जानकारी के अनुसार पोस्ट ऑफिस वार्ड में रहने वाला तेजप्रकाश सेन इसी वार्ड की नगमा परवीन नामक महिला के साथ 3 वर्षों से प्रेम प्रसंग के चलते विवाह का शपथ पत्र बना कर रहा था। प्रेमी तेज प्रकाश का परवीन के घर आना जाना है । 17 जनवरी 2017 को दोनों ने अलग अलग विवाह विच्छेद संबंधी शपथ पत्र बनवाया।

इसी दौरान नगमा तेजप्रकाश से पैसे की मांग करने लगी जिससे नाराज होकर तेज प्रकाश ने नगमा को मारने का प्लान बनाया। नगमा को अपनी मोटरसाइकिल में बालोद के सियादहि के जंगल ले गया। जहां गला दबाने के बाद उसे पेंचकस से मौत के घाट उतार दिया। वहां से बोरे में भरकर धमतरी लाया और लकड़ी की व्यवस्था कर रुद्रेश्वर घाट में उसे जला दिया ।दूसरे दिन राख को पानी में बहा भी दिया ।सिटी कोतवाली पुलिस ने आरोपी के खिलाफ धारा 302 307 के तहत अपराध पंजीबद्ध किया था ।सभी पक्षों को सुनने के बाद न्यायाधीश ग्रेगोरी तिर्की ने आरोपी को आजीवन कारावास एवं₹1000 अर्थदंड की सजा सुनाई है।

 
कार में मिली युवक की लाश, पिता ने दोस्तों पर लगाया हत्या का आरोप

बिलासपुर। सकरी थाना क्षेत्र के शारदा विहार में शनिवार को कार में युवक लाश मिलने से सनसनी फैल गई। आस पास के लोगों ने घटना की जानकारी पुलिस को दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने मृतक की शिनाख्त देवरीखुर्द निवासी संजय साहू के तौर पर की। संजय बिलासपुर के आयुर्वेदिक चिकित्सालय में भृत्य की नौकरी करता था।

मृतक के पिता शिव कुमार साहू ने बताया कि बीती रात आरोपी जनी ध्रुव उर्फ चंदन अपने 2 दोस्तों के साथ घर आया था और संजय को पार्टी में ले जाने की बात कहकर ले गया था, जिसके बाद देर रात वापस घर पहुंचे और मृतक की पत्नी को संजय को कार से उतारकर घर ले जाने की बात कही। जब संजय की पत्नी ने मना किया तो जनी ध्रुव वापस कार लेकर चला गया। सुबह तक जब घर नहीं पहुंचा तो बेटे की तालाश करते हुए मृतक के पिता को जनी ने संजय का पैर अकड़ जान बताकर भाग निकला। मृतक संजय के पिता ने आरोप लगाया है कि उसके बेटे की हत्या उसके ही दोस्तों ने की है।

नवविवाहिता को नहीं था पति पसंद इसलिए सुपारी देकर करवा दी हत्या

हैदराबाद। विजयनगरम जिले में एक नवविवाहिता ने भाड़े के हत्यारों से अपने पति की हत्या करवा दी। क्योंकि वह उसे पसंद नहीं करती थी। महज दस दिन पहले ही उन दोनों की शादी हुई थी। जिसके बाद लड़की ने कुछ बेरोजगार बीटेक पास छात्रों को अपने पति की हत्या की सुपारी दी और उसका कत्ल करवा दिया। हत्यारों के भुगतान के तौर पर लड़की ने अपनी शादी की रिंग भी दी थी।

दरअसल, इस जोड़े की शादी 28 अप्रैल को हुई थी। लड़की को अपना 30 वर्षीय दूल्हा पसंद नहीं था। तभी उसने अपने पति को रास्ते से हटाने की साजिश रची। जिसके चलते उसने कुछ बेरोजगार बीटेक युवाओं के गिरोह को अपनी शादी की अंगूठी भुगतान के रूप में देकर हत्या कराने का काम सौंपा।

इस मामले का खुलासा बड़े ही नाटकीय अंदाज में हुआ। दरअसल, पहले 22 वर्षीय सरस्वती नामक लड़की विजयनगरम जिले के पार्वतीपुरम थाने पहुंची। उसने पुलिस को बताया कि तीन लोगों ने उसकी शादी के आभूषण लूट लिए और उसके पति वाई। गौरीशंकर को मार डाला।

पुलिस ने लड़की की शिकायत को गंभीरता से लेते हुए तत्काल आरोपी को पकड़ने के लिए बड़े पैमाने पर अभियान शुरू किया। पुलिस हर एंगल से मामले की छानबीन में जुट गई। पुलिस ने पाया कि लड़की का बयान विरोधाभासी था। इसी दौरान हत्या में लड़की की भागीदारी के सबूत मिलने पर पुलिसकर्मी हैरान रह गए।

पुलिस जांच से पता चला कि सरस्वती इस शादी से नाखुश थीं और उसी ने अपने पति को मारने की योजना बनाई थी ताकि वह अपने प्रेमी मधु शिव के साथ रह सके। मधु एक बेरोजगार बीटेक युवक है। वह पड़ोसी जिले विशाखापत्तनम का रहने वाला था. वे दोनों फेसबुक पर संपर्क में आए थे और अब दोनों शादी करना चाहते थे।

लेकिन परिजनों सरस्वती की शादी दूसरे परिवार के रिश्तेदार वाई गौरीशंकर से कर दी। गौरीशंकर एक इलेक्ट्रिकल इंजीनियर था, जो कर्नाटक के बेल्लारी में काम कर रहा था। मधु शिव और सरस्वती ने उसे मारने की योजना बनाई थी। जिसके चलते उन्होंने स्थानीय बदमाश एस.राम. कृष्ण, मेरुगु गोपी और गुरला बंगारुराजू को इस हत्या को अंजाम तक पहुंचाने के लिए सुपारी दी। तीनों बदमाश बीटेक स्नातक थे।

 
सुरक्षाबलों की कार्रवाई से घबराए आतंकियों ने की तीन युवकों की गोली मारकर हत्या

बारामुला। सेना की लगातार कार्रवाई से आतंकवादियों की कमर टूटती नजर आ रही है और अब वे बौखलाकर निर्दोष जनता को अपना शिकार बना रहे हैं। यही वजह है कि आंतकियों ने तीन युवकों को गोली मारकर हत्या कर दी। बताया जा रहा है कि सभी मृतक युवक दोस्त थे। जानकारी के अनुसार लश्कर-ए-तैयबा के आतंकियों ने बारामुला (जम्मू कश्मीर) के ओल्ड टाउन क्षेत्र में तीन स्थानीय युवकों की गोली मारकर हत्या कर दी। 

बताया जा रहा है कि तीनों युवक आसिफ अहमद शेख, हसीब अहमद शेख और मोहम्मद असगर इकबाल मार्केट बारामुला के दुकान के बाहर बैठे हुए थे। इसी दौरान आतंकी आ धमके और इससे पहले युवक अपने बचाव के लिए कुछ कर पाते आतंकियों ने उन पर गालियां बरसानी शुरू कर दी। इस घटना में तीनों युवकों की मौक पर ही मौत हो गई। गोलियों की आवाज सुनते ही सुरक्षा बल के जवान मौके पर पहुंच गए लेकिन तक तक आतंकी भाग निकले। आतंकियों की तलाश में सुरक्षाबल उनके ठिकानों पर दबिश दे रही है। 

महबूबा मुफ्ती व अब्दुल्ला ने की हत्या की निंदा

इस घटना पर मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती और पूर्व सीएम उमर अब्दुल्ला ने दुख जताया है। महबूबा मुफ्ती ने ने कहा कि 'बारामुला में आतंकवादी द्वारा नागरिकों की हत्या की खबर सुनकर परेशान हूं। मृतकों के परिवारों के प्रति मेरी गहरी संवेदनाएं हैं। वहीं अब्दुल्ला ने ट्वीट कर लिखा, बारामूला में 3 नागरिकों को आतंकियों ने मार दिया। अब मैं देखना चाहता हूं कि अलगाववादियों की क्या प्रतिक्रिया रहती है, क्योंकि जब सुरक्षाबलों की कार्रवाई में नागरिकों की मौत होती है तब तो वो दुख व्यक्त करते हैं।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804
Visitor No.