GLIBS
दिनदहाड़े मस्जिद के अंदर घुसकर अज्ञात बदमाशों ने इमाम को चाकूओं से गोदकर उतारा मौत के घाट

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में एक बार फिर हत्या का एक बड़ा मामला सामने आया है। जहां एक 65 वर्षीय मस्जिद के इमाम को दिनदहाड़े ही गुरुवार के दिन अज्ञात बदमाशो ने मस्जिद के अंदर घुसकर चाकू से गोदकर मौत के घाट उतार दिया और फरार हो गए। क्राइम का अड्डा बन चुकी राजधानी भोपाल में अब इंसानियत को हसिए पर रख नफरत का कारोबार करने वालो के हौसले अब सारी हदें पार करने पर उतारू हो चुके है। आज भी ऐसा ही कुछ हुआ जब दिनदहाड़े वीआईपी रोड पर मौजूद मस्जिद आलमगीर के 65 वर्षीय ईमाम(नमाज पढ़ाने वाले शख्स) को मस्जिद में घुसकर अज्ञात हत्यारों ने कई बार चाकुओं से गोदा और उनका कत्ल कर डाला, जैसे ही लोगों को इस बारे में पता चला उन्होंने तत्काल इमाम साहब को राजधानी भोपाल के हमीदिया अस्पताल में भर्ती करवाया जहां इलाज के दौरान इमाम साहब ने दम तोड़ दिया। जिसके बाद से आम लोगो के दिल कांप उठे और तमाम इंसानियत शर्मसार हो उठी हैं। अब तक बार मदिरालय वैश्यालय और बाजारो और चौराहों तक ही गुनाहों की हदें मौजूद थी मगर अब हत्या बलात्कार मारधाड़ के मामले धार्मिल स्थलों से दूर थे लेकिन ये क्या दिनदहाड़े एक मस्जिद में हथियारों के साथ घूस कर एक कमजोर बुजुर्ग ईमाम को चाकुओ से गोद कर मस्जिद की पाक जमी को रक्तरंजित कर डाला वो कौन थे अब यह सवाल खड़ा हो रहा हैं। एक 65 साल के कमजोर इंसान को इतनी बेरहमी से क्यों मारा गया जनता यह जानना चा रही हैं। जानकारी मिलने के साथ मौके पर एसपी अजय सिंह और एएसपी राजेश सिंह भदौरिया अपनी टीम के साथ पहुँचे और जांच शुरू की।

मृतक के चचेरे भाई के साथ 3 लोगों ने मिलकर की हत्या 

रायपुर। डीडी नगर थाना अन्तर्गत हुए हत्या का पुलिस ने खुलासा किया है। इसके तहत मृतक के चचेरे भाई के साथ बसना के रहने वाले 3 लोगों ने मिलकर हत्या की। शिक्षा अधिकारी से 2 करोड़ रुपए वसूलने के लिए 1 महीने पहले अपहरण की योजना बनाई थी । मृतक प्रकाश शर्मा को बेहोश करने पर विफल होने के बाद हत्या कर दी। आरोपियों ने 2 प्लान बनाया था। इसममें अपहरण के बाद बैंक में डकैती डालने की भी योजना थी। व्यापार में 10 लाख के नुकसान की भरपाई करने के लिए प्लान बनाया था। पुलि ने बताया कि मृतक प्रकाश शर्मा को क्लोरोफार्म सुंघाकर बेहोश करने की कोशिश की विफल होने पर आरोपियों ने नाक और गाला दबाकर हत्या कर दी। आरोपी ने गोल बाजार के एक दुकान से 9 स्कार्फ भी किडनैपिंग के लिए खरीदा था आरोपी भाई अमृत शर्मा सहित अनिल बेहरा, भोजराज और चित्रसेन को पुलिए ने गिरफ्तार कर लिया है।

पुरानी रंजिश के कारण गोली मारकर हत्या करने वाले चारो आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार

भोपाल। कुछ दिनों पहले एक युवक के ऊपर चार गोलियां दाग उसकी हत्या करने वाले चारों आरोपियों को इंदौर पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। मिली जानकारी के मुताबिक इंदौर के पुलिस थाना परदेशीपुरा क्षेत्रान्तर्गत में 07 अप्रेल को परदेशीपुरा भागीरथपुरा रोड पर राजेन्द्र राठैर पार्षद के घर के पास वाले चौराहे पर वर्षो पुरानी रंजिश के कारण आरोपी रितु उर्फ रितुराज एवं गोलू तथा उसके दो अन्य साथियो नें एक करिज्मा तथा एक स्कूटर से आकर विशाल पिता हीरालाल गावडे उम्र 37 साल निवासी गोटू महाराज की चाल मालवा मिल इंदौर को बीच चौराहे पर चार गोलियां मारकर चारो आरोपी फरार हो गए थे। सूचना मिलने पर मौके पर तत्काल ही बीट की पुलिस पार्टी तथा एफ.आर.व्ही 7 वाहन घटना स्थल पर पहुचे व मौके पर घायल अवस्था में पडे़ विशाल को ईलाज हेतु बाम्बे अस्पताल पहुंचाया जहां डाक्टर नें जांच उपरान्त विशाल को मृत घोषित किया। उक्त घटना पर तत्काल मौके पर ही थाना प्रभारी द्वारा धारा 302,34 भादवि का अपराध पंजीबद्धकर विवेचना में लिया गया। घटना को गंभीरता से लेते हुए तत्काल आरोपियों को पकडने के निर्देश, पुलिस उप महानिरीक्षक श्री हरिनारायणाचारी मिश्र द्वारा दिये गये। पुलिस टीम द्वारा प्रकरण में विवेचना की गयी तो, पता चला कि, मृतक विशाल गावड़े एवं आरोपी रितू उर्फ रितूराज के परिवारो में वर्षो पुरानी रंजिश है।

सबसे पहले वर्ष 2004 में मृतक विशाल के भाई आनंद की हत्या आरोपी रितु उर्फ रितेश पिता सुरेन्द्र ने अपने साथियो के साथ मिलकर कर दी थी। उसके बाद वर्ष 2005 में रितु के चाचा रूपसिहं की हत्या मृतक विशाल एवं उसके भाई डॉन मराठा एवं साथीनीलू, दीपू एवं पिंटू नें मिलकर कर दी थी। फिर रितु के भाई शरद ने अपने साथियो के साथ मिकर रूपसिहं की हत्या का बदला लेने के लिए राजकुमार ब्रिज पर प्रेम उर्फ प्रहलाद तथा दिनेश प्रजापत की हत्या कर दी थी जिसका अपराध थाना एम.जी. रोड में पंजीबद्ध हुआ था। विशाल पर फरारी के दौरान आरोपी रितु के बडे भाई शरद एवं उसके साथियो ने जान से मारने की नियत से हमला गोटू महाराज की चाल में किया था, जिसका प्रकरण थाना एम.आई.जी में 10.04.2006 को पंजीबद्द हूआ था। फिर विशाल जब पेशी पर भैरूगढ जेल उज्जैन से इंदौर कोर्ट में वर्ष 2007 में आया था तब आरोपी रितेश उर्फ रितु नें अपने साथियो के साथ मिलकर विशाल के ऊपर हमला किया था। विशाल रूपसिहं हत्या कांड में लगभग 10-11 वर्ष से जेल में था, जो 15-16 माह पहले ही जेल से आकर अपनी बुआ के पास गोटू महाराज की चाल में आकर रहने लगा था। तभी से रितु एवं उसका बडा भाई शरद विशाल को रास्ते से हटाने की योजना बना रहे थे। घटना के कुछ दिनो पहले शरद गुरू नें अपने घर पर अपने भाई रितू उर्फ रितेश, उसके दोस्त अरूण उर्फ गोलू एवं सोनू उर्फ आदर्श यादव तथा सोनूउर्फ शुभम भार्गव को बुला कर षंडयत्र रचा कि विशाल को गोली मारकर रास्ते से हटाना है।

जब अरूण उर्फ गोलू ने कहा कि हथियार नही है तो शरद नें उसे एक 315 बोर का देशी कट्टा मय कारतूस के उपलब्ध कराया। शरद गुरू के द्वारा तैयार किए गए इस षडयत्रं को दिनाकं 07.04.18 को जब मृतक परदेशीपुरा चौराहे के पास तुलसी काम्पलेक्स पर खडा था उसी समय क्रियान्वयन करना चाहा एवं मृतक विशाल का पीछा कर राजेन्द्र राठौर के घर वाले चौराहे पर चारो आरोपियो नें उसे घेर लिया तथा रितू उर्फ रितेश मराठा ने पिस्टल से एवं गोलू उर्फ अरुण नें 315 बोर के कट्टे से फायर कर जान से मारने की नियत से विशाल को गोलियां मार दी तथा गोली मारकर करिज्मा मोसा एवं स्कूटर जिनको सोनू भार्गव एवं सोनू यादव चला रहे थे के साथ बैठकर फरार हो गए। निम्न चारो आरोपियो को आज मुखबिर की सूचना पर कबीटखेडी की मल्टियो के पासे से पकड़कर उनके कब्जे से घटना में प्रयुक्त करिज्मा मोटर सायकल क्रं एमपी-09/क्यूएच-1713 व सफेद कलर की एक्टिवा क्रं एमपी-09/एसएम-9362 एवं एक 315 बोर का देशी कट्टा व 9 एमएम की एक देशी पिस्टल को जप्त किया जाकर आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है।

तंत्र मंत्र के नाम पर हत्या करने वाले एक और आरोपी गिरफ्तार 

रायपुर।  माना क्षेत्र के एसीसी सीमेंट फैक्ट्री के पास मिले लाश की गुत्थी पुलिस ने सुलझा ली है।  आप को बता दें कि मृतक मुस्ताक अहमद की गुमसुदगी की रिपोर्ट डीडी  नगर थाने में दर्ज कराई थी, लेकिन तीन दिनों से गुम  इंसान के बारे में परिजन लगातार पुलिस से जानकारी ले  रहे थे, लेकिन कुछ सुराग नहीं मिलने की वजह से पुलिस भी परेशान हो गई थी।   मामला तब सामने आया जब मृतक की गाड़ी नाले के पास मिली और कुछ ही दुरी में मुस्ताक अहमद की लाश मिली।  

तंत्र मंत्र बना हत्या का कारण 

पुलिस ने खुलासा करते हुए मीडिया को बताया कि आरोपी सैय्यद जाकिर ने मृतक से गढ़ा हुआ हंडा निकालने की बात कही थी जिसके लिए आरोपी ने तीन लाख रुपए भी ले लिए थे और नाटक करते हुए तीन जगहों पर खुदाई तक कार्रवाई थी पर कुछ  हासिल नहीं हुआ, तब मृतक मुस्ताक ने पैसे लौटने को लेकर दोनों के बिच में विवाद भी हुआ था।  विवाद इतना बढ़ गया कि वह हत्या का रूप ले लिया और फिर मुस्ताक की हत्या कर दी।  

संजय गुप्ता की हत्या मामले का पुलिस आज करेगी खुलासा

दुर्ग। बीते 7 जून को हथखोज के औद्योगिक पार्क के पास नाले में खुसीर्पार निवासी संजय गुप्ता की लाश मिली थी। मृतक के शरीर पर चाकू से 32 बार वार किए जाने के निशान मिले थे। इस मामले में भिलाई-3 पुलिस ने अज्ञात आरोपियों के खिलाफ धारा 302 के तहत अपराध दर्ज किया था। मामले को सुलझाने पुलिस ने हर एंगल पर जांच कर ली थी, लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला। लेकिन घटना के नौ महीने बाद यह मामला अब सुलझ गया है। पुलिस को घटना से जुड़े कुछ अहम सुराग मिले हैं, जिसके आधार पर मृतक की पत्नी सहित चार लोगों को हिरासत में लिया गया है। इसमें मृतक की पत्नी के अलावा एक नाबालिग सहित और दो लोग भी शामिल हैं। इस पूरे मामले में अवैध संबंध के चलते हत्या की आशंका है। हालांकि पुलिस शाम को पूरे मामले का खुलासा करेगी।

बिहार: दो पत्रकारों को स्कॉर्पियो से कुचला, मौके पर ही मौत

आरा। बिहार के भोजपुर जिले के गडहनी थाना क्षेत्र में बाइक सवार दो पत्रकारों को एक बेकाबू स्कॉर्पियो ने बुरी तरह से कुचल दिया। इस घटना में दोनों पत्रकारों की मौके पर ही मौत हो गई। घटना के बाद गुस्साए ग्रामीणों ने गाड़ी को आग के हवाले कर दिया। वहीं ग्रामीण घटना में शामिल गडहनी के पूर्व मुखिया की गिरफ्तारी की मांग कर रहे हैं। ग्रामीणों के मुताबिक, दोनों पत्रकार किसी काम से बाहर गए थे और अपने घर लौट रहे थे। इसी दौरान ये दर्दनाक हादसा हो गया। घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंच गई है। मौके पर मौजूद लोगों के मुताबिक, गडहनी के पूर्व मुखिया मोहम्मद हरसु के खिलाफ खबर लिखे जाने के कारण यह हत्या करवाई गई है। हालांकि, अभी इस बात की पुष्टि नहीं हुई है। बता दें कि बिहार में बीते कुछ समय में पत्रकारों पर हमले बढ़ते जा रहे हैं। इनमें पत्रकार राजदेव रंजन, समस्तीपुर के बृजकिशोर कुमार जैसे पत्रकारों की हत्या शामिल है।

एमएमएस बनाकर वायरल करने की दी धमकी तो प्रेमिका ने ही प्रेमी को उतारा मौत के घाट

कानपुर। शहर के घाटमपुर में रहने वाले संदीप की हत्या उसकी प्रेमिका ने ही की थी । संदीप के अवैध संबध कानपुर में ही रहने वाली नेहा सिंह से थे । इस दौरान संदीप ने नेहा के कुछ अश्लील एमएमएस बना लिए थे । संदीप नेहा से मिलने के लिए कहता था लेकिन नेहा मिलने से इंकार कर रही थी।  इस पर संदीप एमएमएस को वायरल करने की धमकी दे रहा था । इससे परेशान होकर नेहा ने अपने दो साथियों के साथ मिलकर पहले संदीप को बुलाया। इसके उसकी गला रेत कर हत्या कर दी । संदीप के शव पर सीने पर चाकू से वार किये गए थे जबकि गला भी रेता गया था । इसके बाद उसके पास के 25 हजार रुपये और अंगूठियां उतारकर उसका शव पांडू नदी में बहा दिया था । जब संदीप का शव मिला तो उसका अंडरवियर उल्टा था । पुलिस ने नेहा औऱ उसके दो साथियो को गिरफ्तार कर लिया है।  

शूटर ने किया खुलासा: यूपी से खरीदे गए कारतूस से की थी गौरी लंकेश की हत्या!

नई दिल्ली। वरिष्ठ पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या करने के लिए यूपी से कारतूस मंगाए गए थे इस बात का खुलासा खुद इस मामले में गिरफ्तार किए गए आरोपी नवीन कुमार उर्फ होट्टे मंजा ने किया है। नवीन ने पुलिस को बताया है कि उसने प्रत्येक कारतूस के लिए एक हजार रुपए चुकाए थे। बता दें कि एसआईटी हिरासत में नवीन से पूछताछ की जा रही है। सूत्रों की मानें तो उसने हत्या की साजिश का खुलासा कर दिया है। उसके जरिए इस वारदात में शामिल अन्य आरोपियों की पहचान और तलाश की जा रही है। सीसीटीवी फुटेज के जरिए पहचान में आए नवीन को बस स्टैंड से 18 फरवरी को गिरफ्तार किया गया था। इस केस की जांच कर रही एसआईटी को सबसे बड़ी सफलता, तब मिली जब सीसीटीवी फुटेज में आरोपी शूटर दिखाई दिया। इसके जरिए पुलिस को पता चला कि वारदात को अंजाम देने से पहले संदिग्धों ने गौरी के घर की रेकी थी। बता दें कि गौरी लंकेश कन्नड़ टेबलॉयड 'लंकेश पत्रिका' की संपादक थीं। नवंबर, 2016 में उन्होंने भारतीय जनता पार्टी के नेताओं के खिलाफ एक रिपोर्ट प्रकाशित की थी, जिसके कारण उनके खिलाफ मानहानि का केस दायर किया गया। इस मामले में उन्हें 6 महीने की जेल हुई थी। कर्नाटक के पुलिस प्रमुख आर के दत्ता से अपनी जीवन पर खतरा बताया था।

18-02-2018
Video: अधिक सेक्स की डिमांड से परेशान पति ने कर दी पत्नी की हत्या
आरोपी गिरफ्तार, तोरवा थाना क्षेत्र के ग्राम महमंद का मामला
Loading
Advertise, Call Now - +91 76111 07804
Visitor No.