GLIBS
15-09-2020
सर्पदंश से हुई मौत के लिए चार-चार लाख मुआवजा मंज़ूर

 रायपुर। प्राकृतिक आपदा पीड़ित 2 परिवारों को 8 लाख रुपए की आर्थिक सहायता राशि स्वीकृत की गई है। बेमेतरा जिले की तहसील साजा के ग्राम सहसपुर निवासी रामरतन और ग्राम बीजागोड़ निवासी सोहागाबाई की सर्प के काटने सेे मृत्यु होने पर उनके परिजनों पुन्नीबाई और बलदाउ कोे 4-4 लाख रुपए की आर्थिक सहायता राशि स्वीकृत की गई है। राजस्व पुस्तक परिपत्र आरबीसी 6-4 के तहत आर्थिक सहायता स्वीकृत की गई है।

 

10-09-2020
प्राकृतिक आपदा दुर्घटनाओं से पीड़ित परिवारों के लिए 4-4 लाख की आर्थिक सहायता राशि मंज़ूर

रायपुर। प्राकृतिक आपदाओं-दुर्घटनाओं के कारण पीड़ित परिवार के सदस्य को सहायता राशि कलेक्टर अभिजीत सिंह की ओर से स्वीकृत स्वीकृत की गई है। कलेक्टर के माध्यम से आपदा पीड़ितों को आर्थिक सहायता मंजूर की जाती है। ऐसे ही प्रकरणों में नारायणपुर जिले के विकासखंड के ग्राम मरकाबेड़ा निवासी प्रतिभा पिता लच्छू मंडावी और ग्राम माहका के धनाजी की मृत्यु सर्प के काटने के कारण हुई थी। मृतकों के पीड़ित परिजनों को 4-4 लाख रुपए की सहायता राशि मंजूर की है। इसी प्रकार ग्राम झारा निवासी सोमारी पति रामूराम,पनकी पति  पनकू और कुमारी उर्मिता पिता मोतीराम की मृत्यु पानी में डूबने के कारण हुई थी। मृतकों के पीड़ित परिजनों को 4-4 लाख रुपए की आर्थिक सहायता राशि स्वीकृत की गई है।

 

05-09-2020
प्राकृतिक आपदा दुर्घटनाओं से पीड़ित 29 परिवारों के लिए 1 करोड़ 16 लाख की आर्थिक सहायता राशि मंज़ूर

रायपुर/जगदलपुर। प्राकृतिक आपदाओं-दुर्घटनाओं के कारण पीड़ित 29 परिवार के सदस्य को सहायता राशि कलेक्टर रजत बंसल की ओर से स्वीकृत किया गया। आर्थिक सहायता में घटना-दुर्घटना में मृतक से संबंधित व्यक्ति-वारिस को 4-4 लाख रूपए के मान से एक करोड़ 16 लाख की सहायता राशि स्वीकृत की गई है। आरबीसी 6-4 के तहत् तहसील बस्तर से 12, तोकापाल से 5, दरभा और बास्तानार से 4, लोहण्डीगुड़ा से 3 और जगदलपुर से 1 प्रकरण के लिए सहायता राशि स्वीकृत की गई है।

02-09-2020
बाढ़ पीड़ितों के मदद के लिए आगे आया सर्व आदिवासी समाज,राशन,कपड़े सहित दिए तीस हजार का चेक

बीजापुर। सर्व आदिवासी समाज ने बाढ़ पीड़ितों के लिए जिला प्रशासन को तीस हजार रुपये का चेक सहित राशन,कपड़ा दिया। समाज के नेताओं ने बाढ़ पीड़ित परिवार के हाल जाना। इस दौरान सर्व आदिवासी समाज के संरक्षक एवं पूर्व केन्द्रीय कृषि राज्य मंत्री अरविंद नेताम,बस्तर जिलाध्यक्ष कौशल नागवंशी,सचिव दशरथ कश्यप,अविभाजित मप्र में पूर्व नेता प्रतिपक्ष रहे राजाराम तोड़ेम एवं चित्रकोट के पूर्व विधायक लच्छूराम कश्यप उपस्थित थे। आदिवासी नेताओं ने कहा कि समाज 8-10 साल से विपदाग्रस्त इलाके में अपनी ओर से राहत देता है। बीजापुर क्षेत्र में  बारिश ने काफी तबाही मचाई है।

राहत का मकसद लोगों को ये महसूस होने देना है कि उनकी समाज को चिंता है और भावी पीढ़ी भी इस बात को समझे और आगे आकर मदद करे। पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरविंद नेताम ने कहा कि प्रभावित लोगों को पूरी तरह सरकार पर निर्भर नहीं रहना चाहिए। खुद जागरूक होना होगा। उन्होेंने कहा कि वे बाढ़ के प्रभाव के बारे में फीड बैक भी ले रहे हैं ताकि इस बात को वे राज्य सरकार और केन्द्र सरकार तक बेहतर ढंग से पहुंचा सकें। बोधघाट विद्युत परियोजना पर आदिवासी नेताओं ने कहा कि डूबान में आने वाले गांव के लोगों को बेहतर पुनर्वास दिया जाना चाहिए। उन्होंने बस्तर में प्राथमिक शिक्षा के लिए स्थानीय बोली या भाषा को माध्यम बनाने की बात को रेखांकित किया।

25-08-2020
प्राकृतिक आपदा से पीड़ित परिवारों को 16 लाख रुपए की आर्थिक सहायता

रायपुर। प्राकृतिक आपदा पीड़ित परिवारों को कुल 16 लाख रुपए की आर्थिक सहायता राशि मिलेगी। चार मृतकों के परिजनों को आरबीसी 6-4 के तहत चार-चार लाख रुपए की आर्थिक सहायता राशि स्वीकृत की गई है। धमतरी जिले के नगरी विकासखंड के ग्राम हरदीभाठा निवासी बुधलाल मरकाम की पानी में डूबने से मृत्यु होने के प्रकरण में उनकी पत्नी जयंती मरकाम को 4 लाख रुपए की आर्थिक सहायता राशि स्वीकृत की गई है। इसी प्रकार ग्राम कोंगेरा (बिरगुड़ी) निवासी बंदनसिंग नेताम की पानी में डूबने से मृत्यु पर उनकी पत्नी गीता बाई नेताम को 4 लाख रूपए की आर्थिक सहायता राशि स्वीकृत की गई। ग्राम गोविन्दपुर के रामनाथ नेताम और मंगली बाई नेताम की आकाशीय बिजली (गाज) गिरने से मृत्यु होने से उनके पुत्र, पुत्री क्रमश: राधेलाल नेताम, श्यामलाल, रजनीबाई को, प्रत्येक मृतक 4-4 लाख रुपए के हिसाब से कुल 8 लाख रुपए की आर्थिक सहायता राशि स्वीकृत की गई है।

 

07-08-2020
नक्सल हिंसा से पीड़ित परिवारों को आमचो बस्तर कैंटिन से मिला रोजगार का अवसर

रायपुर/जगदलपुर। राज्य सरकार की ओर से नक्सल हिंसा से पीड़ित परिवारों को पुनर्वास नीति के तहत मुआवजा राशि और रोजगार के अवसर मुहैया कराया जाता है। इसी प्रयास में जिला प्रशासन बस्तर ने जिले में नक्सल हिंसा से पीड़ित परिवार के सदस्यों को रोजगार का अवसर प्रदान किया है। आमचो बस्तर कैंटिन के नाम से चलित कैंटिन संचालन करने का दायित्व उनको दिया गया है। नगर निगम के द्वारा स्वास्थ्य विभाग की कंडम हुई एंबुलेंस को मॉडीफाई कर मोबाइल कैंटिन के रूप बनाया। इस मोबाइल कैंटिन को संचालन का दायित्व नक्सल प्रभावित परिवार के सदस्यों को समूह के रूप में दिया गया है। इस आमचो बस्तर कैंटिन को शहर के मध्य स्थित चौपाटी में स्थानीय व्यंजनों का विक्रय करने के लिए जगह दी गई।

नक्सल हिंसा से पीड़ित परिवारो ने गांव छोड़कर शहर की ओर रूख किए उनमे जीने की ललक और रोजगार की चाहत को देखते हुए जिला प्रशासन की ओर से कैंटिन संचालन के लिए इस समूह को प्रशिक्षण दिया गया है। इसमें लगभग 10 सदस्यों का समूह है। कैंटिन संचालन करने वाले समूह में छिंदगुर के माधव, कापानार की सोमारी कवासी, कोलेंग की शांति सेठिया, मरदापाल की सुशीला मानीकपुरी ने बताया कि वे पहले माओवाद से पीड़ित होकर जान बचाने शहर आ गए थे, जीवन यापन की चिंता सताए जा रही थी। प्रशासन व पुलिस विभाग के समक्ष रोजगार के लिए उन्होंने आवेदन दिया था। कैंटिन संचालन से अब उन्हें लग रहा है कि उनकी जिंदगी उन्नति की ओर अग्रसर होगा। नगर पालिक निगम की ओर से जिला प्रशासन के मार्गदर्शन में स्वास्थ्य विभाग की खराब पड़ी करीब 10 ऐसी एबुंलेस गाड़ियों को अलग-अलग जगह, अलग-अलग व्यवसाय के लिए तैयारी किया जा रहा है।

02-08-2020
बदमाशों ने मां-बेटी का अपहरण कर किया सामूहिक दुष्कर्म,पीड़ित परिवार बिलासपुर जिले का रहने वाला

बुरहानपुर। मध्यप्रदेश के बुरहानपुर जिले में 40 वर्षीय एक महिला एवं उसकी 12 वर्षीय बेटी का हथियारबंद छह बदमाशों ने कथित रूप से अपहरण कर दोनों के साथ सामूहिक बलात्कार किया। घटना बुरहानपुर जिला मुख्यालय से करीब 21 किलोमीटर दूर शाहपुर थानांतर्गत ग्राम बोदरली के पास शुक्रवार-शनिवार रात को घटी।खरगोन रेंज के पुलिस उपमहानिरीक्षक तिलक सिंह ने रविवार को बताया, ‘जंगल से लगे एकांत में स्थित गिट्टी के क्रेशर प्लांट पर शुक्रवार-शनिवार रात को आए   हथियारबंद छह बदमाश परिवार के मुखिया को बंधक बनाकर उसकी पत्नी और बेटी के साथ सामूहिक दुष्कर्म किया। उन्होंने कहा कि बदमाश परिवार के पास से नगद राशि और मोबाइल भी लूटकर ले गए हैं। सिंह ने बताया कि घटना के बाद सभी आरोपी मौके से फरार हो गये। उन्होंने कहा कि आरोपियों को पकड़ने के लिए दल गठित किए गए हैं। इन दलों को घटनास्थल से लगे महाराष्ट्र के बुलढाणा और जलगांव जिले के कई स्थानों पर भेजा गया है। पुलिस उपमहानिरीक्षक तिलक सिंह ने कहा कि इन बदमाशों के महाराष्ट्र की ओर भागने की आशंका है। तिलक सिंह ने बताया कि पीड़ित परिवार छत्तीसगढ़ के बिलासपुर जिले का रहने वाला है और लंबे समय से यहां रह रहा है। शाहपुर पुलिस थाना प्रभारी संजय पाठक ने बताया कि इस संबंध में शनिवार को छह अज्ञात आरोपियों के खिलाफ भादंवि की धारा 376-डी (सामूहिक बलात्कार), 347, 363 और अन्य संबंधित धाराओं के साथ-साथ पॉक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया है। उन्होंने कहा कि मामले की विस्तृत जांच जारी है। 

 

31-07-2020
नक्सली पीड़ित परिवार को दी गई 5 लाख की आर्थिक सहायता

कांकेर। कोयलीबेड़ा विकासखण्ड के ग्राम बुरकी पोस्ट रेंगावाही थाना छोटेबेठिया निवासी नक्सली पीड़ित स्व.सनकू गोटा की पत्नी चितेबाई गोटा को कलेक्टर केएल चौहान द्वारा पांच लाख रूपये की सहायता राशि का चेक प्रदान किया गया। इस अवसर पर ग्राम पंचायत रेंगावाही के सरपंच बेड़दे बाई, लक्ष्मण नेवाची,भारत, बुद्धूराम ध्रुव आदि उपस्थित थे।  

 

01-05-2020
थाने में रिपोर्ट करना परिवार को पड़ा भारी, हिस्ट्रीशीटर के साथियों ने घर में घुसकर की पिटाई, पढ़े पूरी खबर..

रायपुर। थाने में एक दिन पहले दर्ज हुई शिकायत से बौखलाए हिस्ट्रीशीटर ने नाराज़ होकर आज पीड़ित परिवार के घर घुसकर रॉड और डंडे से मारपीट करते हुए परिवार वालो को लहूलुहान कर दिया। पुरानी बस्ती थाने से मिली जानकारी के अनुसार फरीद खान,अमदू, राजा बंगाली समेत 7 आरोपियों के खिलाफ बलवा के साथ घर घुस कर मारपीट कर जान से मारने की धमकी देने के गंभीर आरोपो में अपराध दर्ज कर 2 आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। पीड़िता निवासी बंधवापारा ने थाने में शिकायत दर्ज कराई है कि 30 अप्रैल  को उसके भतीजे के साथ हुए विवाद के कारण आज आरोपी अमदू की लड़कियां पहले घर के बाहर गाली-गलौच कर रही थी,जिसके बाद हिस्ट्रीशीटर राजा बंगाली सहित फरीद खान व अमदू ने पीड़िता साबरा के घर पर जबरदस्ती प्रवेश कर पति अब्दुल को लोहे के रॉड व डंडों से मार लहूलुहान कर दिया। फिर आरोपी पक्ष ने एक राय होकर पीड़िता के घर पर पत्थरबाजी भी की,जिसके बाद पुलिस में शिकायत दर्ज होने के पश्चात 2 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ धारा 147,148,149,294,323,506बी,452 के तहत अपराध पंजीबद्ध कर लिया है। वही महिला आरोपियों को शाम होने के कारण गिरफ्तार नहीं किया गया है।

 

19-01-2020
ठेकेदार और सुपरवाइजर ने यूपी में मजदूर के परिवार वालों को बनाया बंधक, एसपी-कलेक्टर से छुड़ाने की गुहार

रायपुर। प्रदेश के मुंगेली जिले में लोरमी ब्लाक अंतर्गत गांव बुधवारा के 16 मजदूर उत्तर प्रदेश के अंबेडकर नगर में ईंट भट्ठे में बंधक बनाए गए है। पीड़ित परिवार के लोगों ने एसपी और कलेक्टर से उन्हें मुक्त कराने की मांग की है। ग्रामीणों ने कलेक्टर और एसपी को बताया है कि ज्यादा वेतन का लालच देकर मजदूरों को उत्तरप्रदेश के अंबेडकर नगर थाना सुल्तानपुर के अवतारा में ठेकेदार अशोक सिंह ठाकुर और उसके मुंशी सुपरवाइजर की ओर से ले जाए गए थे। उन्हें वहां बंधक बनाकर 24 घंटे काम करवाया जाता है। इसके साथ ही मजदूरी की राशि का भुगतान नहीं किया जा रहा है। इसकी जानकारी पीड़ित मजदूर मेलाराम ने अपने पुत्र गोपाल को दी। जिस पर बंधक बनाए गए मजदूरों के परिजनों ने एसपी और कलेक्टर से उन्हें मुक्त कराने की गुहार लगाई है। बंधक मजदूरों में ज्ञानचंद लतेल, मंगल पुत्र ज्ञानचंद, गणेश पुत्र रामकुमार, गणेश, कर्ण पुत्र गणेश, कलम, तीजन, आशा पुत्र कलम, कमल पत्नी बुधारू राजकुमारी पुत्र दर्जन पत्नी गोपाल, मेलाराम, पुत्र गोपाल हीरा और गोपाल, रेशमी पुत्र गोपाल आदि शामिल है।

 

08-12-2019
कुछ ही देर में होगा उन्नाव की बेटी का अंतिम संस्कार, पीड़िता की बहन ने मुख्यमंत्री से की ये मांग

रायपुर/नई दिल्ली। उन्नाव रेप पीड़िता की मृत्यु पर उत्तर प्रदेश समेत पूरे देश की जनता में आक्रोश का माहौल है। थोड़ी ही देर में पीड़िता का अंतिम संस्कार किया जाएगा। उन्नाव में माहौल गमगीन है। इस बीच पीड़िता की बहन ने मांग की है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उनसे मिलें और मामले में तुरंत फैसला सुनाएं। साथ ही पीड़िता की बहन ने यह भी मांग की है कि उसे सरकारी नौकरी दी जाए। इससे पहले मुख्यमंत्री ने पीड़ित परिवार को 25 लाख रुपये की आर्थिक मदद और आवास देने की बात कही थी। लेकिन पीड़िता की बहन की मांग है कि उसे सरकारी नौकरी दी जाए जिससे कि उसके घर का पालन पोषण अच्छे से हो सके। बता दें कि पीड़िता की मृत्यु शुक्रवार रात 11:40 बजे दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में हुई। इसके बाद रेप पीड़िता का शव शनिवार रात उन्नाव पहुंचा, जहां परिवार की ओर से कहा गया कि शव को न ही जलाया जाएगा न ही गंगा में बहाया जाएगा। इसे धरती मां की गोद में दफनाया जाएगा। रविवार सुबह पीड़िता का असंतिम संस्कार किया जाना है। वहीं इस बीच परिजनों ने कहा है कि जब तक सीएम योगी उनसे मिलने नहीं आते तब तक अंतिम संस्कार नहीं करेंगे।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804