GLIBS
17-02-2020
मुंबई के जीएसटी भवन में लगी भीषण आग, कई फंसे, अजीत पवार पहुंचे घटना स्थल

मुंबई। देश की आर्थिक राजधानी में एक भीषण हादसा सामने आया हैै। मेट्रो सिटी के मझगांव क्षेत्र में स्थित जीएसटी बहुमंजिला इमारत में आग लग गई। आग इतनी भयानक थी कि देखते-देखते आसमान पर काले धुएं का गुबार छा गया। दमकल की कई गाड़ियां मौके पर पहुंच गई हैं और आग बुझाने की कोशिश में लगी हैं। इसके अलावा बिल्डिंग में फंसे लोगों को बाहर निकालने की भी कोशिश जारी है। हादसे की सूचना मिलते ही महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री अजित पवार भी घटनास्थल पर पहुंच गए। मिली जानकारी के अुनसार मुंबई के मझगांव इलाके में स्थित जीएसटी भवन की 8वीं मंजिल पर सोमवार दोपहर आग लग गई। आग लगने के कारणों का अभी पता नहीं चल पाया है। सूचना मिलते ही दमकल विभाग की टीमें मौके पर पहुंच गईं। बताया गया कि 8 फायर इंजन और वॉटर टैंकर्स मौके पर भेजे गए हैं। आग पर काबू पाने की कोशिश की जा रही है। बिल्डिंग में कई लोग फंसे बताए जा रहे थे, जिन्हें बचा लिया गया है। मौके पर मौजूद मो. अशरफ ने बताया कि जब आग लगी थी तब एक हजार से ज्यादा लोग बिल्डिंग के अंदर फंसे हुए थे। अब सभी को बाहर निकाला जा चुका है। हादसे की सूचना मिलते ही महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री अजित पवार भी मौके पर पहुंच गए। उन्होंने स्थिति का जायजा लिया और बचाव कार्यों का निरीक्षण किया।

20-01-2020
शिरडी के साईंबाबा के जन्मस्थान को लेकर विवाद खत्म, उद्धव ठाकरे ने मानी सभी मांगें

मुंबई। शिरडी के साईंबाबा के जन्मस्थान को लेकर चल रहे विवाद को लेकर चल रहा टकराव खत्म हो गया है। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने पाथरी को साईंबाबा का जन्मस्थान बताया था, जिसके बाद काफी विवाद खड़ा हो गया था। शिरडी के लोग और तमाम साईंबाबा संस्थान ट्रस्ट ने नाराजगी जाहिर की थी। इसके बाद रविवार को शिरडी बंद का एलान किया गया था। लेकिन इस पूरे विवाद पर प्रदर्शनकारियों से बातचीत के बाद मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने उनकी मांग को मांग लिया है और मसले को सुलझा लिया गया।
 श्रीसाईंबाबा संस्थान ट्रस्ट के प्रतिनिधिमंडल के सदस्य कमलाकर कोठे ने बताया कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने इन लोगों की सभी मांगों को मान लिया है। इसके बाद शिरडी के लोग संतुष्ट हैं। इन लोगों ने आश्वासन दिया है कि अब इस पूरे मसले पर कोई नया विवाद खड़ा नहीं होगा। पूरे विवाद को सुलझाने के लिए मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के अलावा बालासाहेब थोराट, अजित पवार, आदित्य ठाकरे और श्रीसाईंबाबा संस्थान ट्रस्ट के सीईओ और डीएम मुगलीकर भी मौजूद थे। बता दें कि उद्धव ठाकरे ने एक कार्यक्रम के दौरान साईंबाबा के जन्मस्थान को पाथरी बताया था और इसके विकास के लिए 100 करोड़ रुपए जारी करने का एलान किया था। उनके इस एलान के बाद शिरडी के लोगों ने नाराजगी जाहिर की और विरोध प्रदर्शन करने लगे थे। लोगों का कहना था कि उन्हें पाथरी के विकास से कतई कोई एतराज नहीं है लेकिन साईंबाबा के जन्म को लेकर कोई भी पुख्ता सबूत नहीं हैं कि यह उनका जन्म पाथरी में हुआ है। हालांकि लोगों का कहना है कि साईं बाबा की कर्मभूमिक शिरडी रही है और शिरडी से ही साईंबाबा की पहचान जुड़ी रही है।

04-01-2020
मंत्रिमंडल बना नही और नाराज़गी का खेल शुरू, सावरकर पर भी विवाद जारी

रायपुर। मंत्रिमंडल बना नहीं विभाग बटे नहीं और नाराजगी भी शुरू हो गई है। शिवसेना कांग्रेस और एनसीपी की मिली जुली सरकार में पोर्टफोलियो को लेकर एक मंत्री अब्दुल सत्तार की नाराजगी सामने आ गई है। हालांकि उनके इस्तीफे की भी खबरें सामने आई लेकिन खुद अब्दुल सत्तार ने उससे इनकार कर दिया मगर वे नाराजगी में छुपा नहीं पाए। और उनकी नाराजगी संभवत कल शिवसेना सुप्रीमो उद्धव ठाकरे से मिलने के बाद खत्म हो पाए। नाराजगी अगर खत्म होती भी है तो भी यह गठबंधन की सरकार के लिए शुभ संकेत तो नहीं कहा जा सकता। इतनी जल्दी नाराजगी सामने आना कोई बहुत अच्छी बात नहीं माना जा सकता हैं। फिर सावरकर को लेकर भी पार्टियों के बीच खींचतान जारी है। इधर अजित पवार फिर से उपमुख्यमंत्री पद पा गए हैं और साथ ही वित्त विभाग जैसा महत्वपूर्ण पोर्टफोलियो भी। फडणवीस के साथ भी उपमुख्यमंत्री और उद्धव ठाकरे के साथ भी उपमुख्यमंत्री याने कुल मिलाकर उपमुख्यमंत्री रहना बनना ज्यादा जरूरी। सिद्धांत की बात बहुत पीछे हो जाती है। ऐसे में 3 चक्के वाला ऑटो कितनी रफ्तार से और कितनी दूर तक चलेगा इस पर इसलिए भी शक किया जा रहा है क्योंकि तीनों चक्के अलग-अलग दिशा मैं भागने वाले हैं। बहरहाल सत्तार की नाराजगी ने पहले ही कदम पर छींक मार कर अपशकुन कर दिया है।

30-12-2019
36 मंत्रियों के साथ आज उप-मुख्यमंत्री पद की शपथ ले सकते है अजित पवार

मुंबई। महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में बनी महा अघाड़ी सरकार के गठन के करीब एक महीने बाद सोमवार को पहला कैबिनेट विस्तार होने वाला है। इसी बीच खबर है कि राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के वरिष्ठ नेता अजित पवार उप-मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे। उनके नाम को लेकर काफी समय से चर्चा चल रही थी हालांकि किसी भी पार्टी ने स्पष्ट तौर पर उनके नाम की घोषणा नहीं की थी। इससे पहले माना जा रहा था कि अजित उद्धव ठाकरे के साथ पद एवं गोपनीयता की शपथ लेंगे मगर ऐसा नहीं हुआ। उनके अलावा 36 नए मंत्रियों को भी मंत्रिमंडल में शामिल किया जा सकता है। इससे पहले एनसीपी प्रवक्ता नवाब मलिक ने यह कहकर मुद्दे को हवा देना का काम किया था कि एनसीपी कार्यकर्ता अजित पवार को राज्य के उप मुख्यमंत्री के तौर पर देखना चाहते हैं। उद्धव ने 28 नवंबर को शिवाजी पार्क में मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ग्रहण की थी। उस समारोह में छह मंत्रियों की छोटी सी कैबिनेट ने भी शपथ ग्रहण की थी जिसमें तीनों ही दलों की तरफ से दो-दो मंत्री शामिल थे।

दो बार डिप्टी सीएम रह चुके हैं अजित

शरद पवार के भतीजे अजित 2014 से पूर्व कांग्रेस-एनसीपी सरकार में भी उपमुख्यमंत्री थे। इस विधानसभा चुनाव के बाद अजित 23 नवंबर को अचानक भाजपा के साथ चले गए थे और देवेंद्र फडणवीस के नेतृत्व वाली सरकार में डिप्टी सीएम बने थे। हालांकि 80 घंटे के अंदर ही अजीत ने इस्तीफा दिया और फडणवीस सरकार गिर गई। ठाकरे के नेतृत्व में 28 नवंबर को शिवसेना-एनसीपी और कांग्रेस के छह मंत्रियों ने भी शपथ ली थी।

36 मंत्री ले सकते हैं शपथ

कैबिनेट विस्तार में लगभग 36 मंत्री शपथ ले सकते हैं। फिलहाल मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के मंत्रिमंडल में उनके अलावा छह मंत्री हैं। शिवसेना, एनसपी और कांग्रेस के बीच हुए सत्ता साझेदारी के तहत शिवसेना के पास मुख्यमंत्री के अलावा 16 मंत्री हो सकते हैं, इसके अलावा एनसीपी के 14 और कांग्रेस के 12 मंत्री होंगे। कांग्रेस ने 12 मंत्री होने की पुष्टि कर दी है। 

08-12-2019
देवेंद्र फडणवीस ने तोड़ी चुप्पी, अजित पवार को लेकर कही ये बात...

रायपुर/मुंबई। महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने एनसीपी नेता अजित पवार के साथ अचानक सरकार बनाने पर अपनी चुप्पी तोड़ी। उन्होंने खुलासा किया कि एनसीपी प्रमुख शरद पवार की रजामंदी से अजित ने सरकार बनाने के लिए हमसे संपर्क किया था। उन्होंने 54 विधायकों के समर्थन की भी बात कही थी और कई से बात भी कराई थी। साथ ही भाजपा नेता ने स्वीकार किया कि हमारा यह दांव उल्टा पड़ गया। फडणवीस ने कहा कि अजित पवार ने कहा था कि हम शिवसेना और कांग्रेस साथ तीन पार्टियों की सरकार नहीं चला सकते हैं। इसलिए हमें मिलकर सरकार बनानी चाहिए। अजित ने यह भी कहा था कि शरद पवार से सरकार बनाने को लेकर पूरी बात हो गई है और उनकी इजाजत है। भाजपा नेता ने दावा किया कि अजित ने एनसीपी के कई विधायकों से उनकी बात भी कराई थी। इसी भरोसे पर हमने सरकार बनाई थी लेकिन हमारा यह कदम गलत साबित हुआ। एनसीपी प्रमुख शरद पवार के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से प्रस्ताव पर उन्होंने कहा कि इस बारे में हम वक्त आने पर जवाब देंगे। उन्होंने कहा कि भाजपा किसी से डील नहीं करती है। अगर करती तो किसी भी पार्टी के साथ ढाई साल के फार्मूले पर राजी हो जाते और हमारी सरकार बन जाती। शिवसेना नेता उद्धव ठाकरे के साथ रिश्तों पर उन्होंने कहा कि उनसे निजी संबंध जैसे पहले थे, वैसे ही अब भी हैं। 

 

29-11-2019
महाराष्ट्र के नए गठबंधन के खिलाफ दायर याचिका खारिज, सुको ने कहा-कोई आधार नहीं

नई दिल्ली। महाराष्ट्र में कांग्रेस-एनसीपी और शिवसेना गठबंधन के विरोध में दायर एक याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया है। अखिल भारतीय हिंदू महासभा की ओर से दायर इस याचिका में कहा गया था कि चुनाव प्रक्रिया के बाद महाराष्ट्र में कांग्रेस, एनसीपी और शिवसेना (महाविकास अघाडी) का गठबंधन हुआ, यह गलत है और इसे असंवैधानिक करार दिया जाए। शीर्ष अदालत ने याचिका का कोई आधार नहीं माना और इसे खारिज कर दिया। इस मामले की सुनवाई उसी बेंच ने की जिसने महाराष्ट्र में फ्लोर टेस्ट को लेकर सुनवाई की थी। इससे पहले 24 और 25 नवंबर को दलीलें सुनने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने महाराष्ट्र में 24 घंटे के अंदर फ्लोर टेस्ट करवाने और विधायकों की शपथ ग्रहण का आदेश दिया था। इसके बाद देवेंद्र फडणवीस ने मुख्यमंत्री और अजित पवार ने डिप्टी सीएम के पद से इस्तीफा दे दिया था। इसके बाद महाराष्ट्र में शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस गठबंधन की सरकार का रास्ता साफ  हो गया था।

28-11-2019
महाराष्ट्र: अजित पवार आज नहीं लेंगे शपथ

मुंबई। महाविकास अघाड़ी की सरकार के मुख्यमंत्री के तौर पर शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे गुरुवार शाम को शपथ ग्रहण करेंगे। यह समारोह शाम 6 बजकर 40 मिनट पर शिवाजी पार्क में होगा। लेकिन अभी तक यह तय नहीं हो पाया है कि उपमुख्यमंत्री पद की शपथ कौन लेगा। कहा ये जा रहा है कि एनसीपी और कांग्रेस के 2-2 विधायक मंत्री पद की शपथ लेंगे। एनसीपी सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक एनसीपी ने अजित पवार का नाम उपमुख्यमंत्री पद के लिए बढ़ाया है। हालांकि इस मामले में आखिरी निर्णय शरद पवार का होगा। लेकिन अजित पवार का नाम बढ़ाए जाने पर कांग्रेस ने आपत्ति जताई थी। वहीं दूसरी तरफ शिवसेना का मानना है कि अजित पवार को उपमुख्यमंत्री पद की शपथ लेनी चाहिए, क्योंकि उन्हें प्रशासन का अच्छा अनुभव है। सूत्रों ने बताया कि उपमुख्यमंत्री अजित पवार को बनाया जा सकता है। लेकिन आज होने वाले शपथ ग्रहण समारोह में अजित पवार शपथ नहीं लेंगे। उन्हें बाद में शपथ दिलाई जा सकती है। 

 

27-11-2019
महाराष्ट्र से देश में परिवर्तन की शुरुआत, अजित पवार को मिलेगा अच्छा पद : संजय राउत

मुंबई। महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में सरकार बनने जा रही है। वे मुख्यमंत्री की शपथ गुरुवार शाम 6 बजकर 40 मिनट पर शिवाजी पार्क में लेंगे। इस बीच शिवसेना के सांसद संजय राउत ने एक बार फिर भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि महाराष्ट्र से देश में परिवर्तन की शुरुआत हो गई है। आज उद्धव ठाकरे मुख्यमंत्री बने हैं और इसका मतलब है कि देश में परिवर्तन की शुरुआत हो गई है। संजय राउत ने कहा कि अजित पवार को गठबंधन में ठीक स्थान मिलेगा, वो बहुत बड़ा काम करके आए हैं। संजय राउत ने बुधवार सुबह प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबाेधित करते हुए कहा कि बीजेपी की ओर से ‘अघोरी’ प्रयोग किया गया था, लेकिन महाराष्ट्र की जनता ने सबकुछ ध्वस्त कर दिया। अब इस प्रकार के प्रयोग नहीं चलेंगे और महाराष्ट्र का असर अन्य राज्यों में भी दिखेगा।

 

27-11-2019
महाराष्ट्र : विधायकों ने ली शपथ, फडणवीस-अजित पवार का सुप्रिया सुले ने किया स्वागत

मुंबई। महाराष्ट्र विधानसभा का विशेष सत्र शुरू हुआ। बुधवार को इसमें पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने विधायक पद की शपथ ले ली है। फडणवीस के बाद छगन भुजबल, अजित पवार, जयंत पाटिल, बालासाहेब थोराट समेत अन्य विधायकों ने शपथ ली। प्रोटेम स्‍पीकर कालिदास कोलबंकर नए विधायकों को शपथ दिलाई। महाराष्ट्र विधानसभा में इस दौरान एक रोचक घटना देखने को मिली। शरद पवार के भतीजे अजित पवार के विधानसभा पहुंचते ही सुप्रिया सुले ने उनके गले लगकर स्वागत किया। इस दौरान सुप्रिया ने अजित से कहा कि दादा बधाई, यह दिन अपने साथ बड़ी जिम्मेदारी भी लाया है। इसके बाद शपथ ग्रहण को जाने से पहले अजित पवार ने एनसीपी के समर्थन में जिंदाबाद के नारे भी लगाए। पार्टी में वापसी पर अजित पवार ने कहा कि मैं कभी पार्टी से गया ही नहीं था तो वापसी का सवाल ही नहीं है। मैं हमेशा से एनसीपी में था, हूं और रहूंगा।

सुप्रिया ने न सिर्फ एनसीपी सदस्यों का बल्कि अन्य पार्टियों के सदस्यों का भी स्वागत किया। पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस विधानसभा के गेट पर पहुंचे, यहां सुप्रिया सुले ने उनका स्वागत किया और हाथ मिलाकर शुभकामनाएं दीं। बता दें शिवसेना-राकांपा-कांग्रेस गठबंधन की ओर से मुख्यमंत्री पद के लिए नामित उद्धव ठाकरे मंगलवार रात राजभवन पहुंचे थे और महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए दावा पेश किया था। महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने उद्धव ठाकरे को पत्र लिखकर जानकारी दी कि 28 नवंबर की शाम मुख्यमंत्री पद के लिए शपथ ग्रहण कराई जाएगी। इसे पहले शिवसेना अध्यक्ष ठाकरे ने राज्यपाल से मुलाकात की और ‘महाराष्ट्र विकास आघाड़ी’ की सरकार के गठन का दावा पेश किया था।

26-11-2019
एक दिसंबर को सीएम पद की शपथ लेंगे शिवसेना नेता उद्धव ठाकरे

मुंबई। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद महाराष्ट्र में पूरी राजनीतिक तस्वीर बदल गई है। कोर्ट ने कहा है कि कल शाम 5 बजे तक बहुमत परीक्षण हो जाना चाहिए। इसके फैसले के बाद देवेंद्र फडणवीस ने सीएम पद और अजित पवार ने डिप्टी सीएम पद से इस्तीफा दे दिया। इसके साथ ही राज्य में कांग्रेस-शिवसेना-एनसीपी सरकार गठन का रास्ता साफ  हो गया। शरद पवार ने कहा कि उद्धव ठाकरे को सीएम पद का जिम्मा दिया जाएगा। हम जनता की उम्मीदों पर खरा उतरेंगे। बैठक में उद्धव ठाकरे गठबंधन महा विकास अघाड़ी के नेता चुने गए हैं। उद्धव ने शरद पवार के पैर भी छुए। एसीपी के जयंत पाटिल ने उद्धव ठाकरे का नाम सीएम पद के लिए प्रस्तावित किया, कांग्रेस के बालासाहेब थोराट ने समर्थन किया। शिवसेना के अनिल देसाई ने कहा कि शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस गठबंधन में एक समन्वय समिति होगी।

 

26-11-2019
फडणवीस ने दिया मुख्यमंत्री पद से  इस्तीफा, कही ये बात....

मुंबई। महाराष्ट्र में सियासत लगातार करवट ले रही है। राजनीतिक हलचल के बीच मंगलवार को सीएम देवेंद्र फडणवीस ने प्रेस कांफ्रेंस ली। मीडिया को संबोधित करते हुए उन्होंने इस्तीफे का ऐलान किया। उन्होंने कहा कि हमारे पास बहुमत नहीं है, इसलिए वह इस्तीफा दे रहे हैं। देवेंद्र फडणवीस से पहले अजित पवार डिप्टी सीएम पद से इस्तीफा दे चुके थे। देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि हमें उम्मीद है कि नई सरकार अच्छा काम करेगी। हम विपक्ष के रूप में अपना काम करेंगे। उन्होंने कहा कि शिवसेना नेता लाचारी में सोनिया गांधी के सामने नतमस्तक हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि तीन पहियों वाली सरकार चलना काफी मुश्किल है। देवेंद्र फडणवीस बोले कि शिवसेना उन वादों को लेकर अड़ गई थी, जिन्हें हमने कभी किया नहीं था। उन्होंने कहा कि मैं राज्यपाल को इस्तीफा देने जा रहा हूं। बता दें कि देवेंद्र फडणवीस और अजित पवार ने शनिवार सुबह राजभवन में शपथ ली थी। 

 

26-11-2019
महाराष्ट्र: अजित पवार ने दिया उपमुख्यमंत्री पद से इस्तीफा, देवेंद्र फडणवीस लेगें प्रेस कांफ्रेंस

नई दिल्ली। महाराष्ट्र में सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद बुधवार को फ्लोर टेस्ट के पहले अजित पवार ने डिप्टी सीएम पद से इस्तीफा दे दिया है। बता दें कि महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फडणवीस ने दोपहर साढ़े तीन बजे मीडिया को संबोधित करेंगे। महाराष्ट्र के विपक्षी दलों की याचिकाओं पर विचार करने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को बुधवार शाम पांच बजे से पहले विधानसभा में अपना बहुमत साबित करने का अंतरिम निर्देश दिया है। शीर्ष अदालत के न्यायमूर्ति एनवी रमना, न्यायमूर्ति संजीव खन्ना और न्यायमूर्ति अशोक भूषण की सदस्यता वाली पीठ ने विपक्षी दलों की याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए कहा कि चूंकि विधायकों ने शपथ ग्रहण नहीं किया है, इसलिए 27 नवंबर को जल्द से जल्द बहुमत परीक्षण हो जाना चाहिए। पीठ ने कहा कि बहुमत परीक्षण बुधवार शाम पांच बजे से पहले हो जाना चाहिए। कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि इसके लिए एक प्रोटेम स्पीकर नियुक्त किया जाएगा और बहुमत परीक्षण गुप्त मतदान द्वारा नहीं होगा और सदन की कार्यवाही का लाइव प्रसारण किया जाएगा। कोर्ट ने कहा कि विधायकों का शपथ ग्रहण बुधवार शाम पांच बजे से पहले होना चाहिए। शिवसेना-राकांपा-कांग्रेस की तरफ से वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल ने शीर्ष अदालत में आवेदन कर देवेंद्र फडणवीस सरकार को महत्वपूर्ण निर्णय लेने से रोकने का आग्रह किया।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804