GLIBS
19-02-2020
महापौर के लिए खरीदेंगे नई गाड़ी, पानी टैंकर के लिए डेढ़ करोड़, एमआईसी में प्रस्ताव पर सहमति

रायपुर। रायपुर नगर निगम की एमआईसी की बैठक बुधवार को निगम मुख्यालय में हुई। महापौर एजाज ढेबर की अध्यक्षता में हुई इस बैठक में 28 बिन्दुओं पर चर्चा हुई। महापौर के लिए नई 7 सीटर इनोवा खरीदने के प्रस्ताव पर सहमति बनी है। पूर्व महापौर प्रमोद दुबे की गाड़ी 5 साल पुरानी होने के कारण नए महापौर के लिए नई गाड़ी खरीदी जा रही है। इसके साथ ही जीआईएस सर्वे, सफाई, स्वास्थ्य सहित अन्य मुद्दों पर चर्चा हुई। जोन की संख्या 8 से बढ़ाकर 10 करने पर भी सहमति बनी है। शहर में जलापूर्ति बाधित ना हो इसके लिए टैंकर चलाने पर सहमति मिली है। इसमें लगभग डेढ़ करोड़ रुपए खर्च की बात सामने आ रही है। एमआईसी की बैठक में महपौर के लिए नई गाड़ी खरीदने का प्रस्ताव आया था। 21 लाख 19 हजार 985 रुपए गाड़ी की कीमत बताई गई है। शासन की ओर से साढ़े 6 लाख रुपए की स्वीकृति दी गई है इसके बाद शेष राशि के लिए एमआईसी में प्रस्ताव आया जिस पर सहमति बनी है। महापौर एजाज ढेबर की अध्यक्षता में हुई बैठक में निगम कमिश्नर सौरभ कुमार, एमआईसी सदस्य ज्ञानेश शर्मा, श्रीकुमार मेनन, अजीत कुकरेजा, जितेन्द्र अग्रवाल, रितेश त्रिपाठी, अंजली विभार, सतनाम पनाग, नागभूषण राव, समीर अख्तर, दौपती पटेल, सुंदर जोगी, सुरेश चन्नावर, आकाश तिवारी सहित निगम के संबंधित अधिकारी मौजूद रहे।

एमआईसी में पारित प्रस्ताव,
एमआईसी ने नगर निगम के मुख्यालय के विभिन्न विभागों में निजी प्लेसमेंट से 43 कम्प्यूटर आपरेटर व 2 स्टेनोग्राफर उपलब्ध कराने 12 माह के कार्य व्यय 90 लाख 56 हजार 888 की वित्तीय प्रशासकीय स्वीकृति एवं निविदा बुलवाने की अनुमति देने का प्रस्ताव सर्वसम्मति से पारित किया।एमआईसी ने वित्त लेखा अंकेक्षण विभाग के प्रस्ताव अनुरूप निगम कर्मचारियों के 19 प्रकरणों में चिकित्सा प्रतिपूर्ति राशि को सर्वसम्मति से पारित किया। बैठक में आयुक्त सौरभ कुमार ने एमआईसी सदस्यों को जोनवार सभी जोन में सर्वे से चिन्हांकित पेयजल संकट ग्रसित क्षेत्रों की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि पेयजल समस्या से संबंधित सुझाव प्रदान करें ताकि समाधान के लिए कार्य योजना तैयार करते समय उन सुझावों को जनहित में अमल में लाया जा सके।एमआईसी के समक्ष रायपुर शहर में मच्छरों पर जनस्वास्थ्य सुरक्षा के लिए कारगर नियंत्रण निगम क्षेत्र में लगाने से संबंधित प्रस्तुतिकरण दिया गया।

बैठक में राजस्व वसूली को लेकर चर्चा की गई। अधिकारियों ने जानकारी दी कि संपत्तिकर की वसूली से संबंधित नियम के अनुरूप संपत्तिकर दाता नागरिक को नियमानुसार संपत्तिकर स्वनिर्धारण विवरणी प्रस्तुत करना होता है। इसी के अनुरूप संपत्तिकर लिया जाता है। यदि उन्होने सही तरीके से संपत्ति कर स्वनिर्धारण विवरणी नहीं दी है तो उसमें निगम अमले द्वारा निरीक्षण जांच कर गलत विवरणी मिलने पर संबंधित संपत्तिकर दाता नागरिक से संपत्तिकर राषि से 5 गुना जुर्माना वसूली का नियमानुसार प्रावधान प्रचलित है। अधिकारियों ने कहा कि जीआईएस सर्वे संपत्ति के आईडेंटीफिकेशन के लिए करवाया गया। उसमें हुई त्रुटियों को सुधारा गया है। फिर भी यदि किसी संपत्तिकर दाता नागरिक को यह गलत लग रहा है तो वे संपत्तिकर देते समय अंडर प्रोटेस्ट संपत्तिकर देना लिख सकते है। जिससे उसकी जांच करवायी जायेगी एवं कर दाता के सही होने पर अगले वर्ष के संपत्तिकर में अतिरिक्त ली गई राशि कर में समायोजित कर ली जायेगी।

 

 

19-02-2020
एमआईसी की पहली बैठक आज, मोहल्ला क्लीनिक और जोन में वृद्धि का आ सकता है प्रस्ताव

रायपुर। शहर के नवनियुक्त महापौर एजाज ढेबर की एमआईसी की पहली बैठक आज होगी। इस बैठक में मुख्य रूप से जोन की संख्या बढ़ाने का प्रस्ताव पेश किया जाएगा। रायपुर में जोन कार्यालयों की संख्या में वृद्धि करने की तैयारी नगर-निगम पहले से ही कर रहा है। वहीं दिल्ली की तर्ज पर मोहल्ला क्लिनिक और मॉडल स्कूल बनाने के प्रस्ताव पर भी चर्चा की जा सकती है। नगर-निगम मुख्यालय में दोपहर 2 बजे से एमआईसी सदस्यों की बैठक शुरु होगी।

18-02-2020
महापौर एजाज ढेबर की अध्यक्षता में एमआईसी की बैठक 19 को

रायपुर। रायपुर नगर निगम की मेयर इन काउंसिल की बैठक बुधवार 19 फरवरी को होगी। महापौर एजाज ढेबर की अध्यक्षता में यह बैठक होगी। निगम मुख्यालय के सभाकक्ष में दोपहर दो बजे से एमआईसी की बैठक शुरु होगी।

30-01-2020
रायपुर नगर निगम में 2 जोन बढ़ाने कवायद तेज

रायपुर। रायपुर नगर निगम में जोन की संख्या बढ़ाने कवायद तेज हो गई है। 70 वार्डों वाले रायपुर नगर निगम में वर्तमान में 8 जोन हैं। निगम की ओर से जोन संख्या 10 करने कार्यवाही शुरु कर दी गई है। रायपुर नगर निगम में जोन की संख्या बढ़ने से फायदा कांग्रेस को होगा। ज्यादा से ज्यादा जोन अध्यक्ष पद पर कब्जा जमाने की कोशिश कांग्रेस करेगी। निगम कमिश्नर सौरभ कुमार ने कहा कि नगर पालिक अधिनियम के अनुसार हर एक लाख की जनसंख्या पर एक जोन का गठन होना चाहिए। 2011 की जनसंख्या अनुसार साढ़े 10 लाख की जनसंख्या वाले नगर निगम रायपुर में दो अतिरिक्त जोन की वर्तमान में कार्रवाई चल रही है। बहुत जल्द इसे नियमानुसार एमआईसी के सामने ले जाएंगे। सामान्य सभा के सामने ले जाएंगे। यदि दोनों से पारित हो गया तो शासन को नवीन जोन के लिए अतिरिक्त जो अमला लगता है, इनकी भी मांग करेंगे। वर्तमान में रायपुर नगर निगम के कई जोन बड़े हो गए हैं, नगर पालिकाओं के क्षेत्र और जनसंख्या से भी बड़े हो गए हैं।

इससे प्रशासनिक कसावट आएगी, लोगों की अपने निकटतम कार्यालय तक पहुंच आसानी से हो जाएगी। जो पर्यवेक्षण होता है विशेषकर सफाई व्यवस्था और अन्य निर्माण कामों पर उनमें ज्यादा अच्छे से कसावट आ पाएगी। महापौर एजाज ढ़ेबर ने कहा कि एक जोन कमिश्नर के पास यदि नौ-नौ वार्ड हैं, जिसे वे कवर नहीं कर सकते। अधिकारियों को भी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। 10 जोन बनाने की बात की जा रही है। एक जोन में 7 वार्ड होंगे जिससे काम में बढ़िया रिजल्ट हम लोगों को मिलेगा। राज्य सरकार से दो जोनों के लिए अलग से अधिकारियों की मांग की गई है।

22-01-2020
एमआईसी टीम और अधिकारियों की बैठक आज

रायपुर। नगर निगम की मेयर इन काउंसिल के गठन के बाद नई समिति के सदस्यों की बैठक अधिकारियों के साथ आज होगी। बैठक में महापौर एजाज़ धिवर भी मौजूद रहेंगे। एमआईसी सदस्यों और अधिकारियों को आपस में समन्वय बनाकर शहर के विकास कार्य के लिए महापौर द्वारा निर्देश दिए जाएंगे। महापौर ने अपनी एमआईसी में 49 पार्षदों के अलावा अन्य वरिष्ठ पार्षदों को शामिल किया है।

 

21-01-2020
शहर की सफाई व्यवस्था पर होगा फोकस : एजाज ढेबर

रायपुर। पार्षद से महापौर तक पहुंचने में लंबा सफर तय किया। कई बार पार्षद रहकर मैने जनता की सेवा की। महापौर बनने के बाद हमारी सर्वाेच्च प्राथमिकता शहर की स्वच्छता व्यवस्था कायम करने की होगी। स्वच्छता सर्वेक्षण में रायपुर हमेशा पीछे रहा है। नगरनिगम का प्रयास होगा कि अगली बार इंदौर की तर्ज में रायपुर का नाम भी स्वच्छता सर्वेक्षण सूची में टॉप पर हो। उक्त बातें प्रेसक्लब रायपुर में आयोजित प्रेस से मिलिए कार्यक्रम में शहर के प्रथम नागरिक एवं महापौर एजाज ढेबर ने कही। महापौर ने बताया कि स्वच्छता संबंधी शिकायतों के लिए जल्द ही नगर निगम एक टोल फ्री नंबर जारी कर रहा है जिसमें एमआईसी सदस्य एवं वे स्वयं नगर निगम मुख्यालय में एक घंटा बैठकर स्वच्छता पर केन्द्रित समस्याओं का निदान करेंगे। जन सहयोग के बिना स्वच्छता अभियान संभव नहीं है। जनजागरूकता के चलते अब लोग शहर में सफाई व्यवस्था का महत्व समझने लगे हैं। महापौर एजाज ढेबर ने बताया कि नगर निगम द्वारा स्वच्छता कर्मियों को 10 हजार 150 रूपए प्रतिमाह वेतन दिया जाता है जो पीएफ कटकर 8 हजार रूपए प्रतिमाह उनके खाते में जमा होना चाहिए था किंतु 4 हजार स्वच्छता कर्मियों के संबंधित ठेकेदारों द्वारा उनके एटीएम कार्ड जब्त कर उन्हें केवल 6 हजार रूपए प्रतिमाह वेतन दिया जा रहा था। मामला संज्ञान में आने पर उन्होंने ठेकेदारों के अर्थशोषण से स्वच्छता कर्मियों को मुक्त कराया एवं उनके एटीएम कार्ड उन्हें सौंपे। 12 दिन माह महापौर बनने के दौर में यह उनका प्रभावी कार्य है।

पेयजल समस्या पर फोकस करते हुए महापौर ने कहा कि ग्रीष्म ऋतु में पेयजल समस्या गंभीर रूप लेती है। इस पर भी निगम का ध्यान है। तीन नवनिर्मित पानी टंकिया मार्च-अप्रैल तक बनकर तैयार हो जाएंगी। उनसे पेयजल की आपूर्ति किए जाने से 70 प्रतिशत जनता की पेयजल समस्या का निराकरण होगा। महापौर ने कि 14 एमआईसी सदस्यों के कार्यों का हर 6 माह में समीक्षा बैठक के जरिए जानकारी ली जाएगी। काम नहीं करने वाले सदस्यों को एमआईसी की सदस्यता से वंचित किया जाएगा। महापौर एजाज ढेबर ने आरएनएस प्रतिनिधि द्वारा नगर निगम की आय में वृद्धि एवं बड़े बकायादारों से संबंधी सवाल पर जवाब देते हुए कहा कि नगर निगम द्वारा निगम की दुकानों का पुर्ननिविदा के माध्यम से आमंत्रित निविदाओं में शुल्क वृद्धि के साथ ही आय में इजाफा होगा साथ ही उन्होंने कहा कि बाजार क्षेत्र एवं पॉश कालोनी क्षेत्रों के बड़े बकायादारों से सख्ती के साथ वसूली जाएगी। उक्त मामले में नगरीय निकाय मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया का भी सख्त रूख है। प्रेस से मिलिए कार्यक्रम में पहुंचे महापौर का प्रेसक्लब के अध्यक्ष दामू आम्बेडारे, संजय शुक्ला, जावेद खान, मनोज नायक सहित वरिष्ठ पत्रकारों एवं छायाकारों ने पुष्पगुच्छ देकर सम्मान किया। परंपरा के अनुसार महापौर को स्मृति चिन्ह देकर उनके कार्यकाल के सफल होने के लिए प्रेसक्लब परिवार ने शुभकामनाएं दीं।

 

20-01-2020
मेयर इन कौंसिल का गठन, कार्य ठीक से नहीं होने पर 6 माह में हटाया जाएगा : एजाज ढेबर 

रायपुर। महापौर एजाज ढेबर ने आज शाम नगर निगम मुख्यालय में अपनी 14 सदस्यीय मेयर इन कौंसिल की घोषणा की। उन्होंने कहा कि वर्तमान में जो 14 विभाग हमारे पास है और 14 विभाग अभी काम करेंगे। पहली बैठक में स्पष्ट निर्देश दिए जाएंगे कि हर 6 माह में सभी विभागों के कामकाजों की समीक्षा होगी और यदि विभागों में ठीक से काम नहीं होगा तो उन्हें 6 माह में हटा भी दिया जाएगा। पूर्व महापौर के कार्यकाल में स्कूल शिक्षा विभाग सरकार के पास जाने पर उन्होंने कहा कि इस मामले में उच्च न्यायालय के दिशा निर्देश हमें प्राप्त हुए हैं, पूर्व में क्यों हटाया गया इसका जवाब पूर्व महापौर देंगे, अभी 14 विभाग है और इसके लिए मेयर इन कौंसिल का गठन किया गया है। महापौर एजाज ढेबर ने कहा कि हमारी कोशिश है कि नगर निगम के स्कूलों को दिल्ली की तर्ज पर बनाया जाएगा। इसके लिए 24 जनवरी को महापौर, सभापति प्रमोद दुबे, स्मार्ट सिटी के अधिकारी, सीनियर पार्षद दिल्ली के शासकीय स्कूलों का निरीक्षण करने जाएंगे और कोई एक स्कूल को यहां पायलेट प्रोजेक्ट के आधार पर चलाएंगे। उन्होंने कहा कि जैसे एमआईसी का गठन किया गया है, जल्द ही जोन अध्यक्षों की भी नियुक्ति की जाएगी। महापौर ने कहा कि अंतर्राज्यीय बस स्टैंड के लिए भी उच्च स्तर पर बात चल रही है, जो ट्रस्ट की जमीन का विवाद है उसमें जल्द ही निर्णय होगा और मामला सुलझाकर संचालन शुरू किया जाएगा।

महापौर एजाज ढेबर ने कहा कि मेयर इन कौंसिल में ज्ञानेश शर्मा को लोक कर्म विभाग, रितेश त्रिपाठी सामान्य प्रशासन एवं विधि विधायी विभाग, श्रीकुमार मेनन नगरीय नियोजन एवं भवन अनुज्ञा,अंजनी विभार राजस्व विभाग ,सतनाम पनाग जल कार्य विभाग,नागभूषण राव यादव खाद्य, लोक स्वास्थ्य एवं स्वच्छता विभाग, अजीत कुकरेजा अग्नि शमन विद्युत एवं यांत्रिकी विभाग, समीरअख्तर वित्त लेखा एवं अंकेक्षण विभाग, सहदेव व्यवहार गरीबी उप शमन एवं सामाजिक कल्याण विभाग, द्रौपदी हेमंत पटेल महिला एवं बाल विकास विभाग,सुंदर जोगी अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति विभाग, जितेन्द्र अग्रवाल खेलकूद एवं युवा कल्याण विभाग, सुरेश चन्नावार पर्यावरण एवं उद्यानिकी विभाग और आकाश तिवारी संस्कृति, पर्यटन, मनोरंजन एवं विरासत संरक्षण विभाग की जिम्मेदारी सौंपी गई है।
 

14-01-2020
बिलासपुर नगर निगम में विभागों के बंटवारे को लेकर उलझन

रायपुर। बिलासपुर महापौर रामशरण यादव एमआईसी के 11 सदस्यों की लिस्ट जारी करने के बाद अब विभागों के बंटवारे को लेकर उलझन शुरु हो गई है। लिस्ट में नए और पुराने पार्षदों को जगह दे दी है लेकिन विभागों के बटवारे को लेकर काफी माथापच्ची करना पड़ रहा है। मेयर, सभापति के शपथ ग्रहण समारोह के दिन से ही एमआईसी को लेकर मंत्रणा शुरू हो गई थी। एमआईसी में वरिष्ठ पार्षदों,महिलाओं के साथ पहली बार चुनाव जीतकर टाउन हॉल पहुँचें पार्षदों को भी शामिल किया गया है। 3 एमआईसी सदस्यों के नाम अभी शेष है। बिलासपुर नगर निगम के सीमा विस्तार के बाद इस बार निगम में 14 एमआईसी सदस्य बनेंगे। वहीं तीन सदस्यों की संख्या बढ़ाने के लिए सरकार को पत्र लिखा गया है। राजेश शुक्ला वार्ड 62, विजय केशरवानी वार्ड 52, संध्या तिवारी वार्ड 51, सुनीता नामदेव वार्ड 38, बजरंग बंजारे वार्ड 53, पुष्पेंद्र साहू वार्ड 10, अजय यादव वार्ड 70, मनीष गढ़वाल वार्ड 67, भरत कश्यप वार्ड 19, आदि सीताराम वार्ड 23, परदेसी राज वार्ड 43 को मेयर इन काऊंसिल का सद्स्य बनाया गया है।

12-01-2020
महापौर रामशरण यादव ने जारी की एमआईसी सद्स्यो की लिस्ट

रायपुर। बिलासपुर महापौर रामशरण यादव ने एमआईसी के 11 सदस्यों की लिस्ट जारी कर दी है। लिस्ट में नए और पुराने पार्षदों को जगह मिली है। फिलहाल  विभागों का बंटवारा अभी नहीं किया गया है। मेयर, सभापति के शपथ ग्रहण समारोह के दिन से ही एमआईसी को लेकर मंत्रणा शुरू हो गई थी। एमआईसी में वरिष्ठ पार्षदों, महिलाओं के साथ पहली बार चुनाव जीतकर टाउन हॉल पहुँचें पार्षदों को भी शामिल किया गया है। 3 एमआईसी सदस्यों के नाम अभी शेष है । बिलासपुर नगर निगम के सीमा विस्तार के बाद इस बार निगम में 14 एमआईसी सदस्य बनेंगे। वहीं तीन सदस्यों की संख्या बढ़ाने के लिए सरकार को पत्र लिखा गया है। राजेश शुक्ला वार्ड 62, विजय केशरवानी वार्ड 52, संध्या तिवारी वार्ड 51, सुनीता नामदेव वार्ड 38, बजरंग बंजारे वार्ड 53, पुष्पेंद्र साहू वार्ड 10, अजय यादव वार्ड 70, मनीष गढ़वाल वार्ड 67, भरत कश्यप वार्ड 19, आदि सीताराम वार्ड 23, परदेसी राज वार्ड 43 को मेयर इन काऊंसिल का सद्स्य बनाया गया है।

 

18-12-2019
मदर टेरेसा वार्ड में कभी कांग्रेस तो कभी बीजेपी

रायपुर। वार्ड क्रमांक 48 मदर टेरेसा वार्ड ऐसा वार्ड है जहां क्षेत्र की जनता कभी कांग्रेस तो कभी बीजेपी को मौका देती है। इस वार्ड को किसी पार्टी वाला वार्ड नहीं कहा जा सकता है। इस वार्ड से पार्षद व एमआईसी सदस्य अजीत् कुकरेजा कांग्रेस की ओर से मैदान में है तो भाजपा के दीपक भारद्वाज मैदान में है। इस वार्ड में भी भाजपा ने पहले किसी और को उम्मीदवार बनाया था, लेकिन बाद में नाम परिवर्तित कर दिया। वार्ड के मतदाताओं की संख्या 7700 है। इस वार्ड में उत्कल वोट और सिंधी वोट हार जीत तय करेंगे। इसके अलावा साहू, यादव, कुर्मी, ब्राह्मण, ठाकुर के साथ मुस्लिम वोटर भी हैं। परिसीमन में वार्ड का कुछ हिस्सा कट गया है।

 

16-12-2019
मौलाना अब्दुल रऊफ में कांग्रेस का किला ढहाने के लिए भाजपा ने लगाई पूरी ताकत

रायपुर। वार्ड क्रमांक 40 मौलाना अब्दुल रऊफ वार्ड में इस बार चुनाव काफी रोमांचक रहेगा क्योंकि कांग्रेस का गढ़ कहा जाने वाला वार्ड परिसीमन के बाद पहली बार अनुसूचित जाति वर्ग के मतदाता बड़ी संख्या में जुड़े हैं। कांग्रेस तैयारी रिवर वर्तमान पार्षद हैं। वहीं एमआईसी के सदस्य भी हैं। एससी केटेगरी से भाजपा ने पार्षद रह चुके सुनील वांद्रे को मैदान में उतारा है। बता दें कि सुनील बांद्रे के पुराने वार्ड का आधा हिस्सा इस वार्ड में जुड़ गया है। एससी वर्ग से आरक्षित वार्ड खोजने के बजाय पुराने मतदाताओं के भरोसे वांद्रे यहां से चुनाव लड़ रहे हैं। अब मतदाताओं की संख्या 15620 हो चुकी है। मतलब जीत के लिए प्रत्याशियों के बीच कड़ी मशक्कत होगी।

31-08-2019
एमआईसी में 3 एजेंडे स्वीकृत, गार्डनों में लगेगी एलईडी लाइट

रायपुर। नगर निगम रायपुर के मेयर इन काउंसिल की बैठक में शनिवार को 3 एजेंडो को स्वीकृति प्रदान की गई। वहीं 1 एजेंडे को निरस्त कर दिया गया। बैठक में महापौर प्रमोद दुबे सहित एमआईसी सदस्य अनवर हुसैन, जसबीर सिंह ढिल्लन, श्रीकुमार मेनन, नागभूषण राव, सतनाम सिंह पनाग, राधेष्याम विभार,अजीत कुकरेजा, समीर अख्तर, विमल गुप्ता, दिशा धोतरे, निगमायुक्त शिवअनंत तायल, अपर आयुक्त पुलक भट्टाचार्य, लोकेश्वर साहू तथा अन्य अधिकारी उपस्थित थे। 

रायपुर नगर निगम के क्षेत्र अंतर्गत कुल 176 उद्यान है। इसमें से 47 उद्यानों में पर्याप्त प्रकाश व्यवस्था है तथा डेकोरेटिव लाइटें लगी हुई है। शेष उद्यानों में लगी परंपरागत लाइटों के स्थान पर उर्जा दक्ष एलईडी लाइटें लगाने का प्रस्ताव स्वीकृत किया गया। इस कार्य में कुल राशि 79,41,140 रू. एक साल की अवधि में खर्च होने की संभावित है। नगर निगम द्वारा आजाद मार्केट स्टेशन रोड पर स्थित बरखा होटल के लीज नवीनीकरण की स्वीकृति भी प्रदान की गई। इस होटल का निर्माण वर्ष 1980 में किया गया था। उक्त होटल की नीलामी वर्ष 1980 में की गई थी। इसमें 2 लाख 15 हजार रू. की बोली लगाकर गिरधारी लाल अग्रवाल द्वारा 8500 रू. मासिक किराया पर 3 वर्ष के लिये लिया गया था। 3 वर्ष पश्चात 10 प्रतिशत वृद्धि कर लीज का नवीनीकरण किया गया था। इस मामले में 1 अगस्त 1986 से 31 जुलाई 2016 तक 30 वर्षो का लीज नोटशीट में उल्लेखित है किंतु लीज डीड या अनुबंध आदि प्रकरण में उपलब्ध नहीं है। इसके कारण लीज नवीनीकरण की कोई शर्त परिलक्षित नहीं हो रहा है। लीज अवधि 2016 को समाप्त होने के बाद होटल को आबंटिती द्वारा निगम को नहीं सौपा गया। इस पर न्यायालय में वाद दायर किया गया। दिनांक 19 दिसम्बर 2018 को न्यायालय द्वारा होटल का निर्णय निगम के पक्ष में पारित किया गया। इसके आधार पर 24 दिसम्बर 2018 को होटल को सीलबंद कर निगम द्वारा कब्जा लिया गया। उच्च न्यायालय से स्थगन आदेश प्राप्त कर लेने के कारण आंबंटिती को दिनांक 15 जनवरी 2019 को होटल को पुनः कब्जा सौंपा गया । 

बरखा होटल मुख्य मार्ग में स्थित है। कलेक्टर गाईड लाईन अनुसार भूमि का मूल्य 9294 रू. प्रति वर्गफीट निर्धारित है। गाइड लाईन के अनुसार नियमित संपत्ति का दर 1544 रू. प्रतिवर्गफीट की दर से लागत मूल्य 17169280 रू. होता है। भूतल 1600 वर्गफीट भूमि का मूल्य 14870400 रू. होता है। इस प्रकार बरखा होटल की संपत्ति आज की स्थिति में 32039680 रू. की होती है। जो बरखा होटल की प्रीमियम राशि होती है। उक्त प्रीमियम राशि का 7.20 प्रतिशत वार्षिक किराया 2306857 रू. होता है। बरखा होटल का प्रकरण एमआईसी की स्वीकृति के उपरांत सामान्य सभा एवं सक्षम निराकरण हेतु शासन को प्रेषित किया जायेगा। स्वतंत्रता संग्राम सेनानी स्व. नागरदास बाबरिया की प्रतिमा लगाने व वार्ड का नाम व मार्ग का नामकरण करने की स्वीकृति दी गई है। सिविल लाईन वार्ड क्रमांक 42 का नाम अब स्व. बाबरिया वार्ड रखा जायेगा। डाॅ. श्रीवास्तव चौक से लेकर राजभवन तक के मार्ग का नाम स्व. नागरदास बाबरिया रखा जायेगा। साथ ही उनकी प्रतिमा भी उचित स्थान पर लगायी जायेगी।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804