GLIBS
17-01-2021
संतरा रसीला और फायदेमंद लेकिन जिन्हें मधुमेह हो वे न करें संतरे का सेवन

रायपुर। संतरा का नाम सुनते ही मुंह में पानी आ जाता है। यह बेहद स्वादिष्ट और रसीला फल है। जिसका सेवन आप फल और जूस दोनों के रूप में कर सकते हैं। लेकिन आपको पता है क्या संतरे का सेवन किसके लिए फायदेमंद और किसके लिए खतरनाक है। संतरा में विटामिन सी भरपूर मात्रा में होता है। जितना विटामिन सी संतरे में होता है उतना शायद ही और किसी फल में होता हो। ये ऐसा फल है जो मानव शरीर के लिए बहुत प्रभावशाली होता है। ठंडी तासीर के साथ शरीर को ताकत देने में भी यह बेहद कारगर है, जिनमें खून की कमी होती है उन्हें संतरे का नियमित सेवन जरूर करना चाहिए। लेकिन आपको यह पता होना चाहिए कि जिन लोगों को महुमेह यानी शुगर की समस्या है तो उन्हें भूलकर भी संतरे का सेवन नहीं करना चाहिए। इस बीमारी में संतरे का सेवन काफी खतरनाक हो सकता है। बाकि किसी भी तरह की परेशनी होने पर या परेशानी से बचने के लिए आप संतरे का सेवन कर सकते हैं।

24-09-2020
स्किन को जवां बनाए रखने के लिए करें ये घरेलू उपाय, बेहद आसान और सस्ता...

रायपुर। बिना किसी क्रीम के भी प्राकृतिक तरीके से अपनी स्किन को जवां बनाकर रखा जा सकता है। कुछ ऐसे फूड्स हैं जो आपकी स्किन को पूरा न्यूट्रिशन दे सकते हैं। ताकि आपकी स्किन हमेशा जवां दिखे। एवोकाडो, स्ट्रॉबेरी, पपीता, ब्रोक्कली और पालक का उपयोग बेहद ही कारगर है। आईए जानते हैं कैसे करे इनका उपयोग। एवोकाडो स्किन के लिए बहुत सही है और ये सबसे अच्छे खाद्य पदार्थों में से एक है, क्योंकि इससे आपकी स्किन को हेल्दी और स्मूद रखा जा सकता है। दरअसल, एवाकाडो में ऐसे न्यूट्रिएंट्स मौजूद होते हैं, जो एंटी एजिंग के प्रोसेस में मददगार साबित होते हैं। इसमें विटामिन के, सी, ई, ए और बी होता है जो आपकी स्किन को फायदेमंद होता है। इसी तरह स्ट्रॉबेरी में काफी मात्रा में न्यूट्रीएंट्स मौजूद होते हैं। इसमें विटामिन सी 4 और एंटीऑक्सीडेंट्स ऐसे होता है जो आपकी एंटी एजिंग प्रोसेस में मदद करते हैं।

इसके साथ ही पपीता न केवल सेहत के लिए बल्कि स्किन के लिए भी फायदेमंद होता है। स्किन केयर प्रोडक्ट्स में इसका इस्तेमाल किया जाता है। पपीते में पेपनी नाम का एंजाइम पाया जाता है, जो एंटी एजिंग कारक के रूप में काम करता है। इतना ही नहीं पपीता एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर होता है,जो स्किन को कई तरह के नुकसानों से बचाता हैं। वहीं ब्रोक्कली में कई न्यूट्रीएंटे्स यानी पोषक तत्व मौजूद होने के कारण ये स्वास्थ्य को लाभ पहुंचाने में सहायक होती है। ब्रोक्कली में विटामिन सी अधिक मात्रा में होता है और इसी कारण ये स्किन के लिए फायदेमंद होती है। इतना ही नहीं ब्रोक्कली में कैल्शियम और फाइबर भी होता है। इसी तरह पालक में मौजूद विटामिन सी इसे स्किन के लिए बेहद फायदेमंद बनाता है। इतना ही नहीं इसमें फाइबर भी पर्याप्त मात्रा में होता है, जो वजन घटाने में सहायक होता है। आप पालक को सलाद के रूप में खा सकते हैं। आएं दिन हम अपने चेहरे के निखार और जवां त्वचा के लिए कई प्रकार के उपाय करते हैं। लेकिन इसके उपाय से शरीर के साथ-साथ त्वचा को भी काफी फायदा मिलता है।

21-09-2020
सौ कमियों को अकेला पूरा कर देता है टमाटर,टमाटर खाओ तन्दरुस्त रहो

रायपुर। टमाटर पौष्टिक गुणों से भरपूर होते हैं। टमाटर में लाइकोपीन,पोटैशियम,कैल्शियम, फास्फोरस व विटामिन सी, गंधक, सिट्रिक एसिड अदि तत्व पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है। जो शरीर में खून की कमी,वजन कम करना, कोलेस्ट्रॉल नियंत्रण जैसी बहुत सारी बीमारियों से बचाने के लिए कारगर साबित होता है। दैनिक जीवन में टमाटर कई अहम भूमिकाएं निभाता है। खाने के अलावा टमाटर कई बीमारियों से लड़ने के काम भी आता है।

टमाटर के फायदे

टमाटर का रोजाना जूस पीने से शरीर में कोलेस्ट्रॉल का नियंत्रण बना रहता है।
टमाटर शरीर में खून की कमी को दूर करता है।
डाइबिटीज व दिल के मरिजों की सेहत के लिए टमाटर बहुत उपयोगी होता है।
टमाटर कफ और पेट साफ करने में भी मदद करता है।
टमाटर में काफी मात्रा में विटामिन 'ए' पाया जाता है, जो हमारी आंखों के लिए बहुत फायदेमंद होता है।
टमाटर में पाया जाने वाला विटामिन सी और लाइकोपीन त्वचा को सनबर्न और टैनिंग को साफ करके मॉश्चराइज करता है।
टमाटर बच्चों के मानसिक और शारीरिक विकास के लिए  बहुत फायदेमंद होता है।
टमाटर के नियमित सेवन से डायबि‍टीज में फायदा होता है।
टमाटर में मौजूद उसके एंटी-ऑक्सिडेंट गुण कैंसर और दिल की बीमारी जैसे गंभीर बीमारियों से बचने में भी सहायक होते हैं।

 

21-09-2020
मेथी के लड्डू के अनेक फायदे, घर पर बनाएं ऐसे...

रायपुर। घर पर मेथी लड्डू बनाकर खाने से कई प्रकार की बीमारियां दूर होती है। इसमें भरपूर मात्रा में प्रोटीन, फाइबर, कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम, जिंक, मैंगनीज, विटामिन सी, फैटी एसिड के साथ एंटीइंफ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेंट के गुण पाए जाते हैं। ये अर्थराइटिस के साथ-साथ डायबिटिज, कोलेस्ट्राल, ब्लड प्रेशर जैसी कई बीमारियों में कारगर है।

मेथी के लड्डू बनाने के लिए: 100 ग्राम मेथी, 100 ग्राम गुड, 2 कटोरी घी, 1 कटोरी बेसन
बारीके कटे हुए थोड़े ड्राई फूड्स (बादाम, काजू, पिस्ता), एक चौथाई कटोरी गोंद, आधा चम्मच अश्वगंधा पाउडर, थोड़ा सा शीलाजीत, थोड़ा सा सुरंजान। 

ऐसे बनाएं मेथी के लड्डू : पहले गोंद को अच्छे से फ्राई करें इसके बाद घी को डालकर गर्म हो जानें पर इसे फ्राई करें। इसके बाद इसे निकाल लें। इसे मिक्सर में डालकर या फिर बेलन की मदद से हल्का दरदरा पीस लें, इसके बाद कढ़ाई में घी गर्म करें और बारीक की हुई मेथी को अच्छे से फ्राई कर लें। इस के बाद बेसन को डालकर अच्छे से भूनें और जब बेसन से सोंधी खुशबू आने लगे तो इसमें शीलाजीत, सुरंजान और अश्वगंधा डालकर फिर से कुछ देर फ्राई करें। इसके बाद गोंद को ड्राई फूड्स डालकर कुछ फ्राई करें। दूसरे ओर गुड़ में थोड़ा सा पानी डालकर चाशनी बना लें। इसके बाद इसमें मेथी पाउडर वाले मिश्रण में डाल दें और अच्छे से मिक्स करें और गैस बंद कर दें। जब मिश्रण हल्का ठंडा हो जाएं तो हाथों से अच्छी तरह से मिलाकर मनचाहे आकार में लड्डू बना लें।

20-09-2020
आम तो आम गुठलियों के दाम तो सुना होगा, जानिए संतरा तो संतरा, संतरे का छिलका भी गुणवान, जानिए क्या है गुण

रायपुर। केवल संतरा ही नहीं संतरे का छिलका भी काफी फायदेमंद होता है। अगर मुरझाई हुई त्वचा और डल स्किन से परेशान हैं तो संतरा इसमें आपकी मदद कर सकता है। संतरे का छिलका स्किन प्रोब्‍लम्‍स से लड़ने में मदद कर सकता है। संतरे के छिलकों का प्रयोग करने के लिए आप इन्हें सुखाकर पाउडर बना सकते हैं या फिर मार्केट में मिलने वाले इनका पेस्ट बनाकर भी प्रयोग कर सकते हैं। इस लेप को चेहरे पर लगाने से आपकी त्वचा के दाग और मुंहासे खत्म हो सकते हैं। इसके छिलके से पाउडर बनाना बहुत ही आसान है। सबसे पहले संतरे के छिलके को धूप में सूखने के लिए डाल दीजिये। जब ये अच्छी तरह सूख जाए तब इसे मिक्सर में पीस लीजिये। आगे भी उपयोग करने के लिए एक जार में इस पाउडर को भरकर रख लीजिए।

संतरे के छिलके का फेस मास्क -
-संतरे के छिलके के पावडर का फेस मास्क विटामिन सी से भरपूर होता है और त्वचा को साफ करता है। इसमें एंटी-बैक्टीरियल गुण भी होते हैं, जिससे पिंपल कम होते हैं। 
-संतरे के छिलके के पाउडर में कुछ मत्रा दही की मिलाकर इसे चेहरे पर लगाने से सूक्ष्म रंध्र खुल जाते हैं और साथ ही ब्लैक हेड्स भी साफ हो जाते हैं। 
-संतरे के छिलके में रंगत साफ करने की जबरदस्त खूबी होती है। जिसके चलते किसी भी प्रकार के दाग-धब्बे को दूर करने में ये बहुत ही कारगर होता है। 
-संतरे के छिलके के पाउडर को शहद के साथ मिलाकर लगाने से टैनिंग दूर हो जाती है और चेहरे पर निखार आता है। 
-दमकती हुई त्वचा के लिए संतरे के छिलके का पैक और स्क्रब बेहतरीन तरीका है। यह त्वचा को प्राकृतिक चमक देता है और इसका कोई साइड इफेक्ट भी नहीं है।

18-07-2020
मानसून में चिपचिपे बालों से है परेशान, तो इस तरह रखे ध्यान  

रायपुर। मानसून के मौसम में बाल चिपचिपे या तैलीय हो जाते हैं। मौसम के बदलने से बालों पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता हैं। बालों के चिपचिपेपन या तैलीय हो जाने से कही बहार जाने में बहुत परशानी होती है। मानसून में बाल जल्दी गंदे और तैलीय हो जाते हैं। अगर मानसून में आप बालों का ध्यान रखना चाहते हैं। तैलीय बालों की देखभाल के कुछ टिप्स जिन्हें अपनाकर आप बालों के चिपचिपेपन से राहत पा सकते हैं। 

बारिश में न भीगे : 

बरसात का पानी बालों के लिए बहुत ख़राब होता है। अगर आप गलती से भीग भी गए तो घर आते ही तुरंत अपने बालों को शैम्पू करें।

तैलीय बालों को नियमित रूप से धोये :

अपने सिर के बाल नियमित रूप से धोइए। बालों को धोने के लिए अच्छे शैम्पू का प्रयोग करें। 

तैलीय बालों को सप्ताह में तीन बार बालों को धोएं :

ऑयली हेयर को सप्ताह में कम से कम तीन बार अवश्य धोना चाहिए जिससे बाल साफ रहते हैं और तैलीय कम होती है। 

तैलीय बालों को बांध कर न रखे :

अपने बालों को कभी कभी खुला भी रखिये। हमेशा बांधने से आयल एक जगह इकठा हो जाता है, जिससे बाल तैलीय लगते हैं।

कंघी की सफाई हमेशा करें :

बालों की साफ-सफाई का ध्यान रखते तो आप रखते ही है, पर कंघी को साफ करना भूल जाते हैं जो कि सबसे जरुरी बात है। हर हफ्ते बालों में इस्तेमाल करने वाली कंघी को साफ करना जरुरी है। रोज इस्तेमाल करने वाली कंघी को कुछ देर धूप में रखें और अगर लकड़ी की कंघी का इस्तेमाल करें तो वो बहुत अच्छी बात है।

तैलीय बालों के लिए विटामिन सी और मिनरल्स जरुरी होती है :  

विटामिन सी और मिनरल्स से भरपूर होने के कारण, नींबू का रस सिर की त्वचा में अतिरिक्त चिपचिपेपन को सोखता है। यह ज़्यादा तेल के उत्पादन को रोकता है। इसीलिए, ऑयली हेयर वालों को नींबू का रस बालों में लगाना चाहिए। सादे पानी में नींबू का रस मिक्स करें। इसे,  सिर की त्वचा पर 5-10 मिनट के लिए लगाकर रखें। फिर, हल्के गुनेगुने पानी से बालों को शैम्पू करें।

14-03-2020
मॉश्चराइजर से स्किन को रोका जा सकता है बेजान और रूखे होने से, आजमाएं यह टिप्स

नई दिल्ली। बदलते मौसम के प्रभाव से स्किन पर दाग-धब्बे, झाइयों, झुर्रियों आदि परेशानियों का सामना करना पड़ता है। ऐसे में शरीर के साथ स्किन का भी अच्छे से ध्यान रखना बेहद जरूरी होता है। इसके अलावा स्किन के ड्राई होने की समस्या की परेशानी होती है। ऐसे में स्किन रूखी-बेजान नजर आने लगती है। इससे बचने के लिए रोजाना बॉडी को मॉश्चराइज करना जरूरी है।

तो चलिए जानते कुछ स्किन केयर टिप्स के बारे में :

कौन सा म़ॉश्चराइज करें इस्तेमाल
अच्छी त्वचा के लिए नियमों में किसी लोशन तथा मॉश्चराइजर का इस्तेमाल शामिल करना चाहिए। एक ऐसा लोशन चुनें,जिसमें बहुत सारे विटामिन्स हो। लोशन ऐसा भी हो जो तेल के बिना हो। आपके रोम छिद्रों को खराब करने वाला न हो। एक्सपर्ट्स के मुताबिक कोई भी लोशन या ब्यूटी प्रॉडक्ट खरीदने से पहले उसका टेस्ट कर लेना चाहिए। बात अगर विटामिन्स की करें तो विटामिन ए, विटामिन बी 5 त्वचा की मजबूती बढ़ाने के साथ नमी बरकरार रखने में मदद करते है। विटामिन सी और विटामिन ई डेड स्किन सैल्स को रिपेयर करने में फायदेमंद होता है। इसके साथ ही त्वचा को हानि पहुंचाने से रोकता है।

कब करें मॉइश्चराइजर?
इसके इस्तेमाल करने का सबसे सही समय नहाने,शेव करने या स्क्रबिंग करने के बाद का माना जाता है। इसे दिन में 2 बार यूज किया जाना चाहिए। यह रिपेयरिंग में मदद करती है। आपके चेहरे, कानों, गर्दन तथा छाती की स्किन मौसमी बदलावों के प्रति संवेदनशील होती है। ये जगह शरीर के इन्य हिस्सों के मुकाबले अधिक तेजी से कोशिकाओं को या त्वचा की परत को झाड़ते हैं। इसलिए खुद को रिपेयर करने के लिए उन्हें मॉश्चराइजर की जरूरत होती है। इसके सात ही लोशन लगाने के समय की जाने वाली मसाज भी ब्लड सर्कुलेशन तथा नई कोशिकाएं बनाने में मदद करती हैं।

स्किन की देखरेख के टिप्स...
अधिक पानी पिएं :
रोजाना कम से कम 8 गिलास पानी का सेवन करें। माइल्ड क्लींजर का इस्तेमाल करें
जिस क्लींजर का आप इस्तेमाल करती हैं, वह सौम्य और खूशबू के बिना होनी चाहिए।

बाहर जाने से पहले लगाएं सनस्क्रीन :
अपनी स्किन की सुरक्षा से ज्यादा कुछ भी नहीं होता है। ऐसे में सूरज की हानिकारक यूवी किरणों से बचने के लिए घर से बाहर जाने से पहले सनस्क्रीन जरूर लगाएं। लिप बाम लगाएं जब भी होंठ सूखने की परेशानी हो लिप बाम लगाए। इससे इन्हें मॉश्चर मिलेगा। इसके साथ ही होंठों के कटने- फटने की परेशानी से बचा जा सकता है। अपने हाथों पर अधिक ध्यान दें। बॉडी के बाकी हिस्से के मुकाबले आपके हाथों पर वातावरण का अधिक प्रभाव पड़ता है। ऐसे में हाथ ज्यादा शुष्क दिखाई और महसूस होते है। इसलिए आप जितनी बार भी हाथ धोएं उतनी बार ही हाथों पर क्रीम लगाएं।

 

22-07-2019
स्वाद के साथ सेहत का भी ध्यान रखती हैं अंकुरित दालें  

नई दिल्ली। दालें किसी भी प्रकार की हो इन्हें अंकुरित करके खाने का अपना ही मजा है। दालों में प्रोटीन, काबोर्हाइड्रेट, विटेमिन-ए और बी पाया जाता है लेकिन अंकुरित होने के बाद इनकी पोषक वैल्यू कई गुना और बढ़ जाती है, इन दानों में विटामिन-सी भी उत्पन्न हो जाता है। विटामिन सी हमारे शरीर की एक बहुत बड़ी आवश्यकता है। अंकुरित हो कर ये दाने फाइबर से भरपूर, पाचक और पोषक हो जाते है। 

तो चलिए जानते हैं अंकुरित दाल बनाने की विधि :

—सबसे पहले अपनी मनपसंद दालों को रात भर पानी में भिगोकर रख दें।
—सुबह उठकर दाल का पानी निकालकर, दाल को छननी में मलमल के कपड़े के साथ ढककर रख दें।
—2 से 3 दिनों के लिए दाल ऐसी ही पड़ी रहने दे, कपड़े को दिन में दो बार बदलते रहें।
—जब दाल अंकुरित हो जाए तो प्रेशर कुकर में 2 से 3 सीटी आने तक दाल पकने दें, साथ में आधा कप पानी भी डाल दें।
—आपकी अंकुरित दाल बनकर तैयार है। इसे नमक-मिर्च डालकर या फिर प्याज, टमाटर, हरी मिर्च और नींबू डालकर इसकी चटपटी चाट बनाकर खाएं।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804