GLIBS
03-12-2019
अयोध्या मामलाः जमीयत उलेमा-ए-हिंद ने वकील राजीव धवन को से केस हटाया

नई दिल्ली। अयोध्या राम जन्मभूमि विवाद में मुस्लिम पक्ष की ओर से पेश होने वाले वरिष्ठ वकील राजीव धवन को जमीयत उलेमा-ए-हिंद ने इस मामले से हटा दिया है। जमीयत द्वारा दाखिल की गई पुनर्विचार याचिका में राजीव धवन को वकील नहीं बनाया गया है। राजीव धवन ने सोशल मीडिया पर पोस्ट लिखकर इस बारे में बताया है। उन्होंने ने फेसबुक पोस्ट पर लिखा कि मुझे ये बताया गया कि मुझे केस से हटा दिया गया है, क्योंकि मेरी तबीयत ठीक नहीं है। ये बिल्कुल बकवास बात है। जमीयत को ये हक है कि वो मुझे केस से हटा सकते हैं लेकिन जो वजह दी गई है वह गलत है। उन्होंने कहा कि अब वे इस मामले में शामिल नहीं होंगे। इस बाबत राजीव धवन ने एजाज मकबूल को एक चिट्ठी भी लिखी है। इस मामले पर वकील एजाज मकबूल ने कहा कि मुद्दा यह है कि मेरे क्लाइंट यानी की जमीयत सोमवार को रिव्यू पिटिशन दाखिल करना चाहते थे। यह काम राजीव धवन को करना था। वह उपलब्ध नहीं थे इसलिए मैं पिटिशन में उनका नाम नहीं दे पाया। यह कोई बड़ी बात नहीं है। बता दें कि सोमवार को अयोध्या रामजन्मभूमि विवाद मामले में सुप्रीम कोर्ट में पहली पुनर्विचार याचिका दाखिल की गई। पक्षकार एम.सिद्दीकी ने 217 पन्नों की पुनर्विचार याचिका दाखिल की। एम. सिद्दीकी की तरफ से मांग की गई कि संविधान पीठ के आदेश पर रोक लगाई जाए, जिसमें कोर्ट ने विवादित जमीन को राम मंदिर के पक्ष दिया था।

 

09-11-2019
Big Breaking : सुप्रीम कोर्ट ने रामजन्मभूमि न्यास को सौंपी विवादित जमीन

नई दिल्ली। अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट में चल रहे फैसले के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने विवादित जमीन रामजन्मभूमि न्यास को सौंप दी है। सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को आदेश देते हुए कहा कि सरकार को 3 महीनों के अंदर मंदिर निर्माण के लिए ट्रस्ट बनाना है।  

Advertise, Call Now - +91 76111 07804