GLIBS
13-09-2020
रमन सिंह केंद्रीय नियुक्तियों में भर्ती पर रोक का विरोध करने साहस दिखाएंगे : कांग्रेस  

रायपुर। कांग्रेस ने भाजपा को रोजगार विरोधी बताया है। छत्तीसगढ़ में भारतीय जनता पार्टी राज्य लोकसेवा आयोग की परीक्षाओं का विरोध कर रही है, केंद्र में भाजपा की  मोदी सरकार ने नए पदों की भर्ती पर प्रतिबंध लगा दिया है। प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने कहा है कि, पूरे देश मे  भाजपा युवाओं के रोजगार के विरोध में खड़ी है । छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार राज्य लोकसेवा आयोग की मुख्य परीक्षा समय पर करवा कर राज्य के युवाओं को सरकारी सेवा में अवसर देने जा रही है, तो  भाजपा कोरोना की आड़ में विरोध कर रही है। वहां केंद्र सरकार ने नए पदों के सृजन और भर्ती पर प्रतिबंध लगा कर देश के बेरोजगार युवाओं के हितों पर कुठाराघात किया है। भारत सरकार के वित्त मंत्रालय के खर्च नियंत्रण विभाग ने केंद्र के सभी मंत्रालयों , विभाग प्रमुखों को 4 सितंबर को एक पत्र लिख कर स्प्ष्ट तौर पर यह कहा है कि, भविष्य में कोई भी विभाग किसी भी प्रकार के पद निर्मित नहीं करेगा। अर्थात नई भर्तियां नहीं करेगा । 1 जुलाई के बाद जो नियुक्तियों के विज्ञापन निकले हैं, उन्हें भी रद्द कर दिया गया है। यह भी निर्देश दिया गया है कि, विशेष आवश्यकता होने पर वित्त मंत्रालय के खर्च नियंत्रण विभाग से सहमति ले कर ही निर्णय लिए जाएंगे। सभी विभागों के प्रमुखों और सचिवों के साथ मुख्य लेखा अधिकारियों को यह कहा गया है कि, वे इस आदेश का कड़ाई से पालन तय करें। कांग्रेस प्रवक्ता ने पूछा है कि, रोजगार के नाम पर ट्वीट कर सुर्खियों में रहने वाले रमन सिंह मोदी सरकार के इस रोजगार विरोधी कदम के विरोध में भी ट्वीट करने का साहस दिखाएंगे? छत्तीसगढ़ में भाजपाई पीएससी परीक्षा का सिर्फ इसलिए विरोध कर रहे क्यंकि कांग्रेस ने नीट जेईई का विरोध किया था। जबकि दोनों परीक्षाओं में शामिल होने वाले अभ्यर्थियों की संख्या में कई गुना का अंतर है। पीएससी के परीक्षार्थी जेईई नीट में शामिल होने वाले बच्चों की अपेक्षा जादा परिपक्व है।

31-08-2020
 मोदी सरकार पर राहुल गांधी ने बोला हमला, कहा- भारतीय अर्थव्यवस्था 40 सालों में पहली बार भारी मंदी में

नई दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष एवं सांसद राहुल गांधी ने एक वीडियो में देश की अर्थव्यवस्था के बारे में बात करते हुए मौजूदा सरकार पर जमकर भड़ास निकाली है। राहुल गांधी ने वीडियो में अर्थव्यवस्था के बारे में बात करते हुए कहा कि, 'जो आर्थिक त्रासदी देश झेल रहा है, उस दुर्भाग्यपूर्ण सच्चाई की आज पुष्टि हो जाएगी। भारतीय अर्थव्यवस्था 40 वर्षों में पहली बार भारी मंदी में है। असत्याग्रही इसका दोष ईश्वर को दे रहे हैं।' राहुल गांधी द्वारा जारी किए गए इस वीडियो में कहा कि'बीजेपी की सरकार ने असंगठित अर्थव्यवस्था पर आक्रमण किया है, और आपको गुलाम बनाने की कोशिश की जा रही है। 2008 में जबरदस्त आर्थिक तूफान पूरी दुनिया में आया। अमेरिका, यूरोप के बैंक गिर गए लेकिन इंडिया को कुछ नहीं हुआ। राहुल गांधी ने कहा कि उस वक्त यूपीए की सरकार थी और मैं प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से मिलने गया और पूछा की पूरी दुनिया में आर्थिक नुकसान हुआ है लेकिन इंडिया में क्यों नहीं हुआ? प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा राहुल अगर हिंदुस्तान के अर्थव्यवस्था को समझना चाहते हो तो यह समझना होगा कि भारत में दो अर्थव्यवस्था है।

पहली असंगठित अर्थव्यवस्था और दूसरी संगठित अर्थव्यवस्था। संगठित अर्थव्यवस्था में बड़ी कंपनिया आती हैं, वहीं असंगठित अर्थव्यवस्था में किसान, मजदूर, मीडिल दुकानदार इत्यादि आते हैं। राहुल गांधी ने बताया कि मनमोहन सिंह ने उस वक्त बताया कि जिस दिन तक भारत की असंगठित अर्थव्यवस्था मजबूत है, उस दिन तक हिंदुस्तान को कोई भी आर्थिक नुकसान छू नहीं सकता है। इसके अलावा उन्होंने बताया कि मौजूदा समय में बीजेपी की तीन नीतियों से असंगठित अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंचा है। इसमें से उन्होंने बताया कि पहला नोटबंदी दूसरा जीएसटी और तीसरा लॉकडाउन है। इसके अलावा उन्होंने कहा, 'प्रधानमंत्री  को सरकार चलाने के लिए मीडिया की जरूरत है, मार्केटिंग की जरूरत है। मीडिया-मार्केटिंग 15-20 लोग करते हैं। इनफॉर्मल सेक्टर में लाखों करोड़ रुपए हैं। इस सेक्टर को तोड़कर ये लोग पैसा लेना चाहते हैं। इसका नतीजा ये होगा कि हिंदुस्तान रोजगार पैदा नहीं कर पाएगा, क्योंकि इनफॉर्मल सेक्टर 90% से ज्यादा रोजगार देता है।'

 

01-11-2019
व्हाट्सएप जासूसी स्कैंडल पर सरकार के जवाब का इंतजार : प्रियंका गांधी

नई दिल्ली। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने कई भारतीय पत्रकारों और सामाजिक कार्यकर्ताओं की कथित जासूसी के मामले को लेकर शुक्रवार को मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि अगर ऐसा किया गया है तो इसका राष्ट्रीय सुरक्षा पर गंभीर प्रभाव पड़ेगा। उन्होंने ट्वीट कर कहा, 'अगर भाजपा या सरकार ने पत्रकारों, वकीलों, सामाजिक कार्यकर्ताओं और नेताओं के फोन की जासूसी करने के लिए इजराइली एजेंसियों को लगाया है तो यह मानवाधिकार का घोर उल्लंघन और बड़ा स्कैंडल है जिसका राष्ट्रीय सुरक्षा पर गंभीर असर होगा।' साथ ही प्रियंका ने कहा कि सरकार के जवाब का इंतजार है। दरअसल, फेसबुक के स्वामित्व वाली कंपनी व्हाट्सएप ने कहा है कि इजराइल के स्पाईवेयर ‘पेगासस’ के जरिए कुछ अज्ञात इकाइयों की वैश्विक स्तर पर जासूसी की गई। भारतीय पत्रकार और मानवाधिकार कार्यकर्ता भी इस जासूसी का शिकार बने हैं। इस विवाद पर गृह मंत्रालय का कहना है कि सरकार नागरिकों के मौलिक अधिकारों की रक्षा करने के लिए प्रतिबद्ध है और नागरिकों की निजता के उल्लंघन की खबरें भारत की छवि को धूमिल करने की कोशिश है।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804