GLIBS
15-01-2021
जिला पंचायत सामान्य सभा की बैठक में मैनपुर के फर्जी शिक्षाकर्मी भर्ती को लेकर आवाज उठाई गई

गरियाबंद। जिला पंचायत सामान्य सभा की बैठक में आज जिला के सभी 11 जिला पंचायत सदस्य बिंद्रा नवागढ़ के विधायक डमरुधर पुजारी एवं राजिम विधायक के प्रतिनिधि नरेंद्र देवांगन के उपस्थिति में समान्य सभा की बैठक संपन्न हुई। हालांकि यह बैठक काफी हंगामेदार रहा और लोगों ने जमकर विभिन्न विषयों पर अपनी नाराजगी व्यक्त की,बैठक में सभी विभागीय अधिकारी मौजूद थे। बैठक में जिला पंचायत सीईओ चन्द्रकांत वर्मा द्वारा शासन की योजनाओं की जानकारी दी गई। उन्होंने पंचायतीराज अधिनियम के प्रावधानों के संदर्भ में सदस्यों को अवगत कराया। बैठक में 2005-6-7 के  मैनपुर के फर्जी शिक्षाकर्मी भर्ती को लेकर जमकर आवाज उठाई गई। जिस पर जांच करने की बात कही गई पांडुका क्षेत्र में धान खरीदी के कुछ केंद्रों में तौलाई के समय ज्यादाधान लेने एवं ट्रक में भर्ती के समय कम धन भेजने का मुद्दा भी उठा वही पांडुका में नवीन हाई स्कूल भवन की स्थापना की भी मांग रखी गई। सदस्यों ने सचिव संघ एवं रोजगार सहायक संघ की मांगों का समर्थन भी किया। मक्का फूड प्रोसेसिंग यूनिट को इंदागांव में स्थापित करने के सुझाव दिये गये। वहीं सदस्यों द्वारा शासकीय कार्यो के लोकार्पण और भूमिपूजन में क्षेत्रीय जनप्रतिनिधियों को अनिवार्य रूप से आमंत्रित करने और कार्यक्रम के पूर्व जानकारी देने का सुझाव रखा गया। सदस्यों द्वारा राजिम सामुदायिक अस्पताल में नये एम्बुलेंस खरीदने और मुक्तांजली वाहन प्रत्येक विकासखण्ड में उपलब्ध कराने का प्रस्ताव रखा गया। बैठक में दौरान विधायक  डमरूधर पुजारी द्वारा निराश्रित एवं वृद्धावस्था पेंशन समय पर देने हेतु त्रुटि सुधार कर निराकरण करने के निर्देश समाज कल्याण विभाग को दिया गया।

30-12-2020
प्रदेश अध्यक्ष बनने पर गरियाबंद में लोकेश्वरी नेताम का हुआ स्वागत

 गरियाबंद। जिला पंचायत सदस्य एवं सभापति लोकेश्वरी नेताम को छत्तीसगढ़िया सर्व समाज महिला प्रभाग का प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने पर गरियाबंद में आदिवासी समाज द्वारा अपने पारंपरिक नृत्य एवं वेशभूषा पहन कर स्वागत किया गया। प्रदेश अध्यक्ष बनने के बाद प्रथम आगमन होने पर लोकेश्वरी नेताम का गरियाबंद का हृदय स्थल तिरंगा चौक में आदिवासी समाज एवं सर्व समाज के लोगों ने स्वागत किया। लोकेश्वरी नेताम ने सम्मान समारोह में सम्मिलित होकर सभी सरपंचों व समाज  प्रमुखों ने अध्यक्ष का गुलदस्ता भेंट कर अभिवादन स्वीकार किया। अध्यक्ष ने सभी लोगों का धन्यवाद ज्ञापित करते हुए कहा कि मैं सभी समाज के लोगों को किसी भी प्रकार की समस्याओं को हल करने का प्रयास करूंगी एवं अपने कर्तव्यों का पूर्ण रूप से निर्वहन करने की भरसक प्रयास करने की बात कही। बधाई देने वाले सरपंच संघ  गरियाबंद अध्यक्ष मनीष ध्रुव, सचिव दिनेश कुमार ध्रुव, सरपंच भूपेन्द्र ध्रुव, सरपंच सुरेखा नागेश,लवकुमार ध्रुव, धनेश्वरी  दीवान, झरनी ध्रुव, छत्रपाल ध्रुव,पार्वती ध्रुव,चित्ररेखा ध्रुव,भाग सिंह ठाकुर आदि शामिल थे।

29-12-2020
जिला पंचायत प्रतिनिधियों ने अपना अधिकार क्या है, यह जानने के लिए पहुंचे कलेक्टर के पास

धमतरी। जिला पंचायत सामान्य प्रशासन की बैठक छोड़कर जिला पंचायत प्रतिनिधियों ने कलेक्टर के पास अपना अधिकार जानने पहुंचे थे। जनप्रतिनिधियों ने कलेक्टर जयप्रकाश मौर्य से चर्चा करते हुए कहा कि उनके क्षेत्रवासी उनको अपना मुखिया मानते हैं और क्षेत्र की विभिन्न समस्याओं को सामने रखते हैं। निराकरण की मांग की जाती है। साथ ही निर्माण कार्यो को लेकर भी आवेदन आदि दिये जाते है किंतु उनकी समस्या का जब निराकरण करने जनप्रतिनिधि आगे बढ़ते है तो जिला पंचायत के नियम कायदों से उनका सामना होता है औऱ यही पर उनके काम अटक जाते है। इसमें प्रशासन का भी सहयोग नही मिल पाता। जनप्रतिनिधियों ने कलेक्टर से कहा कि कृपया वह यह बताये कि जिला पंचायत के प्रतिनिधियों के पास क्या अधिकार है वह क्या कर सकते है क्या नहीं। कलेक्टर जेपी मौर्य ने उनसे विस्तृत चर्चा की औऱ उन्हें समझाइश देने के साथ उनको आश्वासन दिया कि उनकी दिक्कतों को दूर की जाएगी। इससे क्षेत्रवासियों को लाभ मिलेगा। कलेक्टर से चर्चा के दौरान जिला पंचायत अध्यक्ष कांति सोनवानी, उपाध्यक्ष निशू चंद्राकर, कविता बाबर,मीना बंजारे ,डुमन साहू ,गोविंद साहू व अन्य जनप्रतिनिधि मौजूद थे।

जनप्रतिनिधि परेशान तो आम जनता का क्या ??

मालूम हो कि प्रदेश सरकार को दो साल हो गया है और इस तरह के सवाल उठाकर जनप्रतिनिधि जब बैठक छोड़ अपने अधिकार जानने कलेक्टर के पास जाने लगे तो यह पता चलता है कि वह काफी परेशान है,जो कि चिंता की बात है। वही क्षेत्रवासियों के लिये भी दिक्कत वाली बात है। इनकी परेशानी सामने आने से अब यह चर्चा हो रही कि जब क्षेत्र के जनप्रतिनिधि ही परेशान हो तो आम जनता कैसे खुश रहेगी।

 

28-12-2020
मनरेगा में 50 दिन से अधिक मजदूरी करने वाली 13 गर्भवती महिलाओं को मिला मातृत्व भत्ता

महासमुन्द। मनरेगा में 50 दिन से अधिक मजदूरी करने वाली 13 गर्भवती महिलाओं को मातृत्व भत्ता मिला। बता दें कि महात्मा गांधी नरेगा में लोगों को फिर से रोजगार मिल रहा है। जिले में मजदूरों के लिए प्रारम्भ कराए गए हर ग्राम पंचायत के प्रत्येक गाँव में कार्य सभी वर्ग श्रेणी के मजदूर जो जॉब कार्ड धारी है उनके परिवार को मिलेगा। 150 दिन का रोजगार और वन पट्टा धारियों को 50 दिवस अतिरिक्त रोजगार प्रदाय होगा। इसके लिए वन विभाग की ओर से पृथक से कार्य योजना तैयार कर नरेगा से स्वीकृति प्राप्त की जा रही है। जिले में 130 करोड़ के कार्य की स्वीकृति प्रदाय कर प्रत्येक जॉब कार्ड परिवार को न्यूनतम 100 दिवस रोजगार देने पर जोर दिया जा रहा है। साथ ही नए जॉब कार्ड के लिए आवेदन ग्राम पंचायत, जनपद पंचायत एवं जिला पंचायत में दिया जा सकता है। इसके 15 दिन के भीतर नियमानुसार नवीन जॉब कार्ड प्रदाय किया जाएगा।

साथ ही मजदूर की ओर से कार्य की मांग का मांग पत्र ग्राम पंचायत, जनपद पंचायत, जिला पंचायत में जमा करके 15 दिवस के भीतर कार्य पा सकते हैं। यदि किसी को महात्मा गांधी नरेगा में मांग अनुसार 15 दिन में कार्य नहीं दिया जाता है तो तत्काल जिला पंचायत के टोल फ्री नंबर 18002336601 पर अपनी शिकायत दर्ज करा सकते हैं। ज़िले में मनरेगा के तहत निर्माण कार्यों में मजदूरी करने वाली 13 गर्भवती महिलाओं को एक महीने के मातृत्व भत्ते के साथ प्रसूति अवकाश दिया गया है और इसी वित्तीय वर्ष में अब तक 18 महिलाओं को मातृत्व भत्ता दिए जाने की प्रक्रिया की जा रही है। यदि किसी अन्य को इसमें आवेदन करना हो तो वो भी जनपद पंचायत नरेगा शाखा को दे सकते हैं। मनरेगा में यह राज्य पोषित योजना है। इसमें होने वाले खर्च का प्रावधान बजट में किया जाता है। कलेक्टर कार्तिकेय गोयल के निर्देशानुसार प्राप्त आवेदन अनुरूप मातृत्व भत्ता प्रदाय किया गया। एक माह की रोजी 190 रुपए प्रति कार्य दिवस के हिसाब से 5700 रुपए मातृत्व भत्ते के रूप में दिए गए हैं। ताकि बच्चे और माँ दोनों स्वस्थ रहे और सेहत दोनों की बनी रहे। इसके अलावा हितग्राहियों के लिए डबरी मछली पालन तालाब, नया तालाब, तालाब गहरीकरण, नहर जीर्णोध्दार, लूस बोल्डर, बोलडर चेक डेम, गेबियन संरचना जैसे जल से संबंधित कार्य को प्राथमिकता छोटे वर्ग के किसान अपने भूमि और नालों पर अधिक उपजाऊ बनाने के लिए कार्य योजना तैयार कर कार्य कर सकते हैं। अपने खेत में जल संरक्षण संवर्धन, कार्यों, फलदार पौधारोपण कार्य दिए जा सकते हैं। आवेदन ग्राम पंचायत, जनपद पंचायत और जिला पंचायत में अपने जॉब कार्ड के छाया प्रति के साथ दिया जा सकता।
 

25-12-2020
टास्क फोर्स समिति की हुई बैठक, कलेक्टर ने कहा- धान बेचने आए किसानों का करें कोरोना जांच

नारायणपुर। कलेक्टर अभिजीत सिंह की अध्यक्षता में कलेक्टोरेट के सभाकक्ष में जिला स्तरीय टास्क फोर्स समिति की बैठक हुई। बैठक में कलेक्टर सिंह ने कहा कि जिले के धान खरीदी केन्द्रों मे धान बेचने के लिए आने वाले किसानों का कोरोना परीक्षण कराना सुनिश्चित करें। कलेक्टर ने जिले में किए जा रहे कोरोना जांच के बारे में जानकारी ली। बैठक में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी राहुल देव, एसडीएम दिनेश कुमार नाग, डिप्टी कलेक्टर गौरीशंकर नाग, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ ए.आर गोटा, नगर पालिका अधिकारी मोबिन अली के अलावा अन्य अधिकारी उपस्थित थे। कलेक्टर सिंह ने जिले में कोविड-19 से बचाव के लिए टीकाकरण की तैयारियों की विस्तार से जानकारी ली। बैठक में अब तक इसके लिए की गई तैयारियों के संबंध में विस्तार से जानकारी दी गई। इसके लिए बूथ सेन्टर, वैक्सीनेसन वैन, आबजरवेशन रूम आदि के बारे में भी बताया गया। यह भी बताया गया कि वैक्सीन आने पर टीकाकरण के लिए निर्धारित प्राथमिकताओं पर विशेष ध्यान दिया जाएगा। टास्क फोर्स की बैठक में जिले में संचालित मलेरिया मुक्त छत्तीसगढ़ अभियान में अब तक की प्रगति की जानकारी ली। बैठक में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ एआरगोटा ने जिले में कोविड-19 संक्रमण के संक्रमित मरीजों, स्वस्थ मरीजों और कोरोना संक्रमण से बचाव तथा जिला चिकित्सालय में उपलब्ध सुविधाओं एवं व्यवस्थाओं के बारे में विस्तार से जानकारी दी।

पीयूष मंडल की रिपोर्ट

21-12-2020
Video: नियमितीकरण की मांग के लिए पंचायत सचिव संघ ने दिया धरना

दुर्ग। जिला पंचायत सचिव संघ ने सोमवार को एक दिवसीय धरना प्रदर्शन किया। अपनी 1 सूत्रीय मांगों को लेकर धरने में बैठे पंचायत सचिवों ने अपनी 25 साल पुरानी मांग को दोहराया और शासन प्रशासन से मांग की कि उनकी मांगों को जल्द से जल्द पूरा किया जाए। संघ के जिला अध्यक्ष महेंद्र कुमार साहू ने कहा कि वे लोग पिछले 25 साल से अपने नियमितीकरण की मांग को लेकर आवाज उठाते रहते हैं। लेकिन उनकी कोई सुनवाई नहीं हो रही है। इसके पश्चात उन्होंने आज धरना प्रदर्शन किया है। यदि सरकार उनकी मांगें जल्द ही नहीं मानेगी तो वे लोग आगे और आंदोलन करेंगे। इस दौरान बड़ी संख्या में पूरे जिला से पंचायत सचिव उपस्थित थे।

 

17-12-2020
कलेक्टर परिसर में दो दिवसीय प्रदर्शनी का जिला पंचायत उपाध्यक्ष ने किया शुभारंभ

कोंडागाँव। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व वाली सरकार के दो वर्ष पूर्ण होने पर जिला पंचायत उपाध्यक्ष  भगवती पटेल द्वारा कलेक्टर परिसर में राज्य के विकास पर आधारित दो दिवसीय फोटो प्रदर्शनी का शुभारंभ किया। इस अवसर पर कलेक्टर पुष्पेन्द्र कुमार मीणा,जिला पंचायत सीईओ डीएन कश्यप सहित अन्य विभागीय अधिकारी उपस्थित थे। इस दौरान जन सम्पर्क विभाग द्वारा प्रकाशित उन्नति का हर्ष विरासत और विस्तार, सम्बल, छत्तीसगढ़ विचार माला जैसी पुस्तकों का सेट भेंट कर के उनका स्वागत किया गया। आगन्तुकों ने फोटो प्रदर्शनी का अवलोकन किया।ज्ञात हो कि दो दिवसीय विकास प्रदर्शनी का आयोजन जिला जनसम्पर्क विभाग द्वारा किया गया है। प्रदर्शनी देखने आये लोगो का अभिमत था कि विकास, निर्माण और योजनाओं पर आधारित फोटो प्रदर्शनी शासन की एक अच्छी पहल है। इससे आम लोगों को योजनाओं के बारे में जानकारी होगी और वे इससे लाभांवित होगे। विभिन्न योजनाओं पर आधारित पुस्तकें प्रतियोगी परीक्षाओं के तैयारी करने वालों के लिए सार्थक साबित होगी।

 

 

14-12-2020
जयसिंह अग्रवाल ने अधिकारियों से कहा राजस्व प्रकरणों का जल्द करें निपटारा

कोरबा। राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने सोमवार को जिला पंचायत के सभागार में राजस्व अधिकारियों की बैठक ली। बैठक में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से सांसद ज्योत्सना महंत भी शामिल हुईं। राजस्व मंत्री अग्रवाल ने कलेक्टर किरण कौशल की मौजूदगी में राजस्व प्रकरणों के त्वरित निपटारे के निर्देश अधिकारियों को दिए। बैठक में सभी एसडीएम, तहसीलदार और नायब तहसीलदार सहित राजस्व विभाग के अधिकारी शामिल हुए। विकासखंडों और तहसीलों से भी अधिकारी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से जुड़े। बैठक में पालीतानाखार के विधायक मोहित किरकेट्टा भी शामिल हुए।

12-12-2020
कलेक्टर ने अधिकारियों से कहा, धान खरीदी में लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी

बेमेतरा। कलेक्टर शिवअनंत तायल ने शनिवार को जिला पंचायत के सभागृह में धान खरीदी के संबंध में अधिकारियों की बैठक लेकर खरीफ विपणन वर्ष 2020.21 में धान उपार्जन केन्द्रों में भौतिक सत्यापन करने और बारदानों की पूर्ति कराने के संबंध में जानकारी ली। ज्ञात हो कि जिले के 102 सहकारी समितियों के अंतर्गत 113 धान खरीदी केन्द्र बनाए गये हैं। यहां किसानों से धान का उपार्जन किया जा रहा है। कलेक्टर ने साफ चेतावनी देते हुए कहा कि इस कार्य में उदासीनता और  लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी और कहा कि इस साल बारदाने की कमी है।

इसलिए सभी समिति प्रबंधक भविष्य के लिए अपनी योजना बनाकर रखे,जिससे की धान की क्रय मे परेशानी न आये और सभी खाद्य निरीक्षक, सहकारी समिति तथा विपणन के अधिकारी कर्मचारी, मिलरों से सामंजस्य बिठाकर बारदाने की कमी को दूर करें और किसानों के हितों को ध्यान मे रखकर सभी का धान का क्रय किया जाये। जिलाधीश ने खाद्य, और नोडल अधिकारियों को धान के उठाव, स्टैकिंग के बारे में जानकारी लेते हुए कहा कि धान की स्टैकिंग सही करें। इससे धान के उठाव करते समय गणना करने मे असुविधा न हो। 

07-12-2020
कलेक्टर ने दिए उप जेल में कैदियों और अधिकारी-कर्मचारियों की कोरोना जांच करने के निर्देश

रायपुर\नारायणपुर। कलेक्टर अभिजीत सिंह की अध्यक्षता में सोमवार कलेक्टोरेट के सभाकक्ष में जिला स्तरीय टास्क फोर्स समिति की बैठक हुई। बैठक में कलेक्टर सिंह ने कहा कि नारायणपुर स्थित जेल में रह रहे कैदियों, वहां काम करने वाले कर्मचारियों और सभी अधिकारियों का कोरोना जांच कराई जाये। साथ ही जिले की ऐसी राशन दुकानें जहां बड़ी संख्या में लोग राशन लेने आते हो, उन दुकानों के खुलने का समय, तिथि आदि की जानकारी लेकर स्वास्थ्य टीम मौके पर उपस्थित होकर आने वाले लोगों को कोरोना जांच करने की बात कलेक्टर सिंह ने बैठक में कही। बैठक में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी राहुल देव, एसडीएम दिनेश कुमार नाग, डिप्टी कलेक्टर गौरीषंकर नाग, वैभव क्षेत्रज्ञ, मुख्य चिकित्सा और स्वास्थ्य अधिकारी डॉ एआर गोटा, के अलावा अन्य अधिकारी उपस्थित थे।कलेक्टर सिंह ने स्वास्थ्य अमले को धान खरीदी केन्द्रों में आने वाले किसानों की संख्या की जानकारी के लिए एक दिन पूर्व काटे गये टोकनों की सूची लेकर दूसरे दिन निर्धारित समय पर उपस्थित होकर किसानों का कोरोना जांच करने कहा।

कलेक्टर सिंह ने सार्वजनिक स्थानों, दुकानों बाजार आदि में ऐसे लोग जो मास्क नहीं पहन रहे और सोशल डिस्टेंसिग का पालन नहीं कर रहे, उन लोगों पर कड़ी कार्यवाही करने कहा। मुख्य चिकित्सा और स्वास्थ्य अधिकारी डॉ एआरगोटा ने बताया कि कोरोना जांच के लिए अलग-अलग दलों का गठन किया गया है, जिनके माध्यम से धान खरीदी केन्द्र, सार्वजनिक स्थनों, हाट-बाजार, आयोजित हो रही खेल प्रतियोगिताओं आदि स्थानों पर जाकर कोरोना वायरस की जांच की जा रही है। उन्होंने जिले में कोविड 19 संक्रमण के संक्रमित मरीजों, स्वस्थ मरीजों, आइसोलेशन के लिये गये सेम्पलों की संख्या, होम क्वांरटीन, प्राप्त रिपोर्ट और कोरोना संक्रमण से बचाव तथा जिला चिकित्सालय में उपलब्ध सुविधाओं और व्यवस्थाओं के बारे में विस्तार से जानकारी दी।

 

05-12-2020
लापरवाही बरतने पर पंचायत सचिव निलंबित

जांजगीर-चांपा। जिला पंचायत मुख्य कार्यपालन अधिकारी तीर्थराज अग्रवाल ने जनपद पंचायत नवागढ़ के ग्राम पंचायत दुरपा सचिव  प्रदीप कुमार कश्यप को पदीय कर्तव्यों में लापरवाही बरतने पर तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया। शासन के निर्देशानुसार जिले के समस्त ग्राम पंचायतों को 14वें वित्त योजना अंतर्गत ऑनबोर्ड कर आनलाइन भुगतान सरपंच, सचिव के डिजिटल सिग्नेचर के माध्यम से किये जाने के निर्देश है, परन्तु  प्रदीप कश्यप ग्राम पंचायत सचिव दुरपा के द्वारा चेक से राशि आहरण कर 9 लाख 98 हजार का भुगतान संबंधित वेंडर को किया गया। इस संबंध में सरपंच एवं सचिव ग्राम पंचायत दुरपा को समक्ष उपस्थित होकर उत्तर प्रस्तुत करने के निर्देश दिए गए। सचिव द्वारा जो आवेदन पत्र प्रस्तुत किया गया वह समाधानकारक नहीं पाया गया। सचिव कश्यप का यह कृत्य अपने कर्तव्य के प्रति घोर उदासीनता, गंभीर लापरवाही, स्वेच्छारिता एवं वरिष्ठ अधिकारियों के आदेशों की अवहेलना की श्रेणी में आता है। जो छग पंचायत (आचरण) नियम 1998 के विपरीत है। इस कृत्य के कारण सचिव को तत्काल प्रभाव से निलंबित किया गया है। निलंबन की अवधि में सचिव का मुख्यालय कार्यालय जनपद पंचायत नवागढ़ निर्धारित किया गया है। निलंबन के दौरान उन्हें नियमानुसार जीवननिर्वह भत्ते की पात्रता होगी।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804