GLIBS
21-02-2020
अवैध हुक्का बार में पुलिस ने लगवाई उठक बैठक

दुर्ग। नशा मुक्ति अभियान 'जिओ खुलकर' के तहत पुलिस की ओर से शहर में संचालित एक अवैध हुक्का बार के खिलाफ कार्रवाई की गई। यहां हुक्का से धुंआ उड़ाते लोगों को नसीहत देने के लिए पुलिस की ओर से उनसे उठक बैठक भी कराई गई। हुक्का बार से 20 हजार रुपए के 10 नग हुक्का व मादक पदार्थ जब्त किया गया है।पुलिस विभाग की ओर से जिला में प्रारंभ नशा मुक्ति अभियान के तहत शहर में संचालित हुक्का बार के खिलाफ कार्रवाई की गई है। सीएसपी विवेक शुक्ला के नेतृत्व में पुलिस बल ने इंडियन प्राइड़ ढाबा पर दबिश दी गई। यहां हुक्का बार अवैध रुप से संचालित किया जा रहा था। 15-20 युवक हुक्का का धुंआ उड़ा रहे थे। इन युवकों को पुलिस ने उठक बैठक कराकर समझाइश दी, वहीं इंडियन प्राइड के संचालक मनदीप सिंह के विरुद्ध अपराध पाए जाने पर कोटपा एक्ट की धारा 8 एवं 11 के तहत कार्रवाई की गई। 

 

12-02-2020
नवनिर्वाचित सरपंच और पंचों ने नए दायित्व संभालने की ली शपथ

प्रेमनगर। जनपद पंचायत प्रेमनगर में त्रिस्तरीय पंचायत आम चुनाव सम्पन्न होते ही पंचायत सरकारों ने अपने अपने दायित्वों का निर्वहन करने जिला पंचायत के द्वारा चुने हुए प्रभारी अधिकारियों के समक्ष शपथ ली। सरपंच ग्राम पंचायत का प्रमुख होता है। सरपंच भारत में भारत में स्थानीय स्वशासन के लिए गांव स्तर पर विधिक संस्था ग्राम पंचायत का प्रधान होता है। अपने दायित्वों को निर्वहन करने प्रेमनगर जनपद के 46 ग्राम पंचायतों के नवनिर्वाचित सरपंच और 606 पंचों ने ग्राम पंचायत का प्रथम सम्मेलन में शपथ लिए। जनपद पंचायत प्रेमनगर सीईओ एमएल वर्मा ने सभी पंचायतों में शासन की विभिन्न योजनाओं की जानकारी देने सभी प्रभारी अधिकारियों को निर्देश दिए। इसमें ग्राम गौठान समिति के गठन एवं प्रबंधन, एनजीजीबी की जानकारी, नशा मुक्ति अभियान के सम्बन्ध में विशेष जानकारी, प्रधानमंत्री आवास योजना के संबंध में पंचायतों में समस्त स्वीकृति कार्यों की जानकारी दीवाल लेखन के माध्यम से, भारत स्वच्छ मिशन के अंतर्गत महत्वपूर्ण बिंदुओं पर चर्चा कर जानकारी देना, पॉलीथिन के उपयोग पर प्रतिबंध लगाने, पर्यावरण को स्वच्छ रखने पेड़ लगाने निर्देश दिया गया। गोवर्धन योजनांतर्गत बायोगैस यंत्र निर्माण के बारे में अवगत कराया गया, भारत स्वच्छ मिशन के तहत महत्वपूर्ण कार्य शौचायल,जिसका शत प्रतिशत उपयोग की जानकारी दी गई। शासन के मापदंड के अनुसार पात्र हितग्राहियों को पेंशन का लाभ, मनरेगा की पूरी जानकारी दी गई। महिला समूहों के लिए विभिन्न योजनाएं चल रही है,जिसकी जानकारी सभी सम्मेलन में दी गई। इस प्रकार ग्रामवासियों को शपथ ग्रहण के साथ साथ शासन की विभिन्न योजनाओं की जानकारी मिली। सभी पंचायतों के शपथ ग्रहण समारोह में बहुत संख्या में लोग उपस्थित थे।

06-02-2020
कलेक्टर ने कहा, समय व सोच आप दें, जिला प्रशासन साधन मुहैया कराएगा

धमतरी। कलेक्टर रजत बंसल की अध्यक्षता में गुरुवार शाम युवोदय अभियान की समीक्षा बैठक आयोजित की गई। इसमें युवोदय योजनान्तर्गत एक्शन प्लान पर चर्चा की गई। कलेक्टर ने कहा कि समय व सोच आप दें, साधन जिला प्रशासन देगा। युवाओं के संपूर्ण विकास के लिए जिले के युवाओं के लिए जिला प्रशासन धमतरी द्वारा ‘युवोदय-कार्यक्रम’ प्रारंभ किया गया है,जिसमें पूरे जिले में विभिन्न विभागों द्वारा विभिन्न विद्यालयों में अलग-अलग कार्यक्रम किए जा रहे है। ‘युवोदय-कार्यक्रम’में प्रमुख रूप से स्वास्थ्य विभाग,रोजगार विभाग,शिक्षा विभाग, पंचायत विभाग,उद्योग विभाग,लीड बैंक, पुलिस विभाग,कौशल विकास विभाग,रेडक्रॉस द्वारा सहभागिता प्रदान की जा रही है। सभी विभागों द्वारा जिले के समस्त स्नातकोत्तर महाविद्यालय, महाविद्यालय, नर्सिंग काॅलेज, उद्यानिकी महाविद्यालय, कृषि महाविद्यालय, पाॅलीटेक्निक काॅलेज, आईटीआई, तथा ग्रामों में विशेष कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है।

‘स्वस्थ्य तन-स्वस्थ्य मन’स्वास्थ्य विभाग द्वारा सभी स्नातकोत्तर महाविद्यालय, सभी महाविद्यालय, सभी आईटीआई, पाॅलीटेक्निक महाविद्यालय में नशा मुक्ति अभियान, मनोरोग चिकित्सा सलाह कैम्प, ब्लड डोनेशन,आंख एवं दांतों की जांच,गंभीर रूप से पीड़ित छात्र-छात्राओं को ईलाज के लिये जिला अस्पताल रिफर किये जाने कैरियर काउंसलिंग, युवाओं को सामाजिक धारा से जोड़ने के लिए विशेष कार्यक्रम युवाओं के माध्यम से समाज के नागरिकों व बुजुर्गों के साथ समन्वय स्थापित कर सामाजिक दायित्वों के अहसास कराते हुए विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम में सहभागिता प्रदान करते हुए क्रियान्वयन किया जा रहा है। युवाओं के व्यक्तित्व विकास हेतु कार्यक्रम सड़क सुरक्षा के लिए शिविर का आयोजन, सुपोषण के लिए जागरूकता अभियान काॅलेजों में रक्तदान, युवोदय लैब की स्थापना, काॅलेज के युवाओं द्वारा ग्रीष्मकालीन अवकाश में विभिन्न चयनित स्कूलों के छात्र-छात्राओं को खेलकूद, पेंटिंग, क्राॅफ्ट, रंगोली, मेंहदी, वक्तव्य कला, डांस, ड्रामा, संगीत एवं गायन आदि कार्यक्रमों के माध्यम से समर कैंम्प का आयोजन किया जाना है। इस अवसर पर जिले के समस्त महाविद्यालय के प्राचार्य, काॅलेज, हायर सेकेण्डरी स्कूल प्राचार्य, आईटीआई प्राचार्य, पालीटेक्निक काॅलेज प्राचार्य, रेडक्रास काउंसलर, सहित एनएसएस कार्यक्रम अधिकारी एवं प्राचार्यगण उपस्थित रहे।

 

22-11-2019
कोरिया जिले को नशे के चंगुल से आजाद कराने कलेक्टर ने ठानी जिद

बैकुण्ठपुर। कोरिया जिला कलेक्टोरेट के सभाकक्ष में विभागीय अधिकारियों की बैठक लेकर डीएमएफ के अब तक स्वीकृत कार्यों के प्रगति की समीक्षा कोरिया कलेक्टर डोमन सिंह ने की। स्वीकृत कार्यों के प्रारंभ, अप्रारंभ एवं पूर्ण होने की स्थिति की विस्तारपूर्वक समीक्षा, संबंधित विभागों तथा निर्माण एजेंसियों के साथ की और सभी संबंधितों को गुणवत्तापूर्ण निर्माण, कार्य समयावधि में ही पूर्ण कर हितग्राहियों एवं आमजनों को अधिक से अधिक लाभ पहुंचाने की बात कही। बैठक में कलेक्टर ने कहा कि जिले को नशा मुक्त बनाने के लिए हम सभी को मिल कर प्रयास करना होगा और इसे जड़ से खत्म करने के लिए वचनबद्ध होकर काम करना होगा। पंचायत स्तर पर सभी सचिवों द्वारा ग्रामीण लोगों से समन्वय कर इस अभियान से जोड़ा जाए। कलेक्टर के निर्देश अनुसार नशा मुक्ति अभियान के संबंध में 10 दिसंबर को सभी ग्राम पंचायतों में ग्रामसभा आयोजित की जाएगी। कलेक्टर ने कहा कि हर पंचायत में पोस्टर, प्रदर्शनी, कला जत्था द्वारा कार्यक्रम, स्कूली बच्चों एवं ग्रामीणों द्वारा रैली, मानव श्रृंखला का आयोजन कर अभियान का उचित प्रचार-प्रसार किया जाए। इस संबंध में कलेक्टर ने सीईओ जिला पंचायत एवं समस्त सचिवों को भी आवश्यक निर्देश दिए। कलेक्टर ने समस्त अधिकारियों एवं सचिव को निर्देशित किया कि तीन चरण में नशा मुक्ति अभियान का क्रियान्वयन किया जाए। प्रथम चरण में नशा करने वाले का चिन्हांकन, द्वितीय चरण में काउंसिलिंग कर उन्हें नशा छोडऩे हेतु प्रेरित करने तथा तृतीय एवं अतिम चरण में उनके इलाज की प्रक्रिया पूर्ण करने के निर्देश दिये। उन्होंने उपस्थित अधिकारियों से कहा कि पंचायत सचिव के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्र में लोगों से संपर्क कर नशे के दुष्परिणाम के बारे में जनजागरुकता लाएं। कलेक्टर डोमन सिंह ने आमजन से अपील की है कि इस नशा मुक्ति अभियान को सफल बनाने में सक्रिय रूप से सहभागी बनें। इस अवसर पर डीएमएफ के नोडल अधिकारी सहित सभी संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।

20-11-2019
सात जिलों में शुरू होंगे नशामुक्ति केंद्र, मुख्यमंत्री ने दिया आदेश

रायपुर । राष्ट्रीय तंबाकू नियंत्रण कार्यक्रम के तहत राज्य के छूटे हुए 7 जिलों में नशा मुक्ति केंद्र शीघ्र ही शुरू किए जाएंगे। यह निर्णय मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के आदेश पर लिया गया है जिन्होंने सभी जिला में नशामुक्ति केन्द्रों की स्थापना के लिए कहा है। बता दें कि वर्तमान में राज्य के 27 जिलों में से 20 जिलों में नशा मुक्ति केंद्र संचालित हैं। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने जिला कलेक्टर को पत्र लिखकर कहा है कि जनस्वास्थ्य के लिए नशा एक बड़ी समस्या के रूप में वैश्विक स्तर पर उभर कर सामने आ रहा है। नशीले पदार्थों के सेवन से व्यक्ति को शारीरिक मानसिक और आर्थिक हानि तो पहुंचती है, साथ ही इससे सामाजिक वातावरण भी प्रदूषित होता है । नशा मुक्ति अभियान में समस्त जनप्रतिनिधियों एवं समाज के विभिन्न वर्गों की भागीदारी सुनिश्चित करने भी कहा है। समस्त जिलों में नशा मुक्ति केंद्र की स्थापना किए जाने का आदेश देते हुए बघेल ने कहा कि दुष्परिणामों के प्रति जागरुकता लाने के लिए विभिन्न प्रकार के प्रचार-प्रसार एवं आवश्यकतानुसार विधिक एवं कानूनी कार्रवाई की जाए। उन्होंने संबंधित विभागों की जिम्मेदारी तय करते हुए जिला कलेक्टर को स्वयं समय-समय पर इसकी समीक्षा करने भी कहा है। नशा मुक्ति केंद्र के विषय में जानकारी देते हुए राज्य सलाहकार राष्ट्रीय तंबाकू नियंत्रण कार्यक्रम डॉ आनंद वर्मा ने बताया कि वर्तमान में छत्तीसगढ़ राज्य के 20 जिलों में नशा मुक्ति केंद्र संचालित है । बेमेतरा, बिलासपुर, कवर्धा, बीजापुर, सुकमा, रायगढ़ और बालोद में शीघ्र ही नशा मुक्ति केंद्र स्थापित किए जाएंगे। साथ ही वहां परामर्शदाता और सामाजिक कार्यकर्ता की उपलब्धता सुनिश्चित कराई जाएगी। 

25-10-2019
कलेक्टर ने उपस्वास्थ्य केन्द्र के तीन कर्मियों को निलंबित करने के दिए निर्देश

कवर्धा। कलेक्टर अवनीश कुमार शरण ने शुक्रवार को कलेक्टोरेट सभा कक्ष में स्वास्थ्य विभाग एवं महिला बाल विकास विभाग की समीक्षा बैठक ली। बैठक के दौरान कलेक्टर ने खैरझिटी उपस्वास्थ्य केन्द्र के तीन कर्मियों को मुख्यालय में अनुपस्थित पाए जाने पर निलंबित करने के निर्देश दिये हैं। साथ ही पंडरिया ब्लॉक के रूखमीदादर के पुरूष स्वास्थ्य कार्यकर्ता को मुख्यालय में उपस्थित नहीं रहने के कारण वेतन रोकने के निर्देश दिये। साथ ही उनके द्वारा कार्य पर सुधार नहीं होने पर निलंबन के निर्देश दिये हैं। कलेक्टर ने बैठक के दौरान नेत्र रोग से संबंधित मरीजों की जानकारी नोडल अधिकारी एवं नेत्र सहायक से ली। नेत्र रोग मरीजों का सत्यापन कर जिला अस्पताल में रिपोर्ट भेजने निर्देशित किया, ताकि मेडिकल ऑफिसर द्वारा मोतियाबिंद का सफल ऑपरेशन किया जा सके। उन्होंने संस्थागत प्रसव में मृत्युदर के संबंध में आवश्यक जानकारी ली। 
कलेक्टर ने नशा मुक्ति अभियान के संबंध में कहा कि जिले के स्कूल, हाईस्कूल, कॉलेज के आसपास गुटखा, पान ठेला को जब्त कर कार्रवाई करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि प्रचार-प्रसार के माध्यम से स्कूलों में प्रार्थना के समय नशामुक्ति के संबंध में जानकारी भी दी जाए। कलेक्टर ने शुगर, ब्लडप्रेशर के मरीजों को चिन्हांकित कर उनका प्राथमिकता के आधार पर उपचार करने के भी निर्देश दिये। साथ ही कहा कि स्वास्थ्य विभाग के अस्पतालों में गीजर लगाया जायें, ताकि गर्भवती माताओं को प्रसव के दौरान समस्या नहीं हो। उन्होंने एनआरसी, आयुष्मान भारत योजना की विस्तारपूर्वक जानकारी ली। कार्य में लापरवाही बरतने पर लोहारा बीएमओ को शोकॉज नोटिस जारी करने निर्देशित किया।

23-10-2019
कोरबा पुलिस ने लामपहाड़ और लेमरू में चलाया नशा मुक्ति अभियान 'हैलो जिंदगी'

कोरबा। कोरबा जिले के वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों के मार्गदर्शन में चलाये जा रहे नशा मुक्ति अभियान 'हैलो जिंदगी' कार्यक्रम के तहत पुलिस अधीक्षक जितेंद्र सिंह मीणा, उप पुलिस अधीक्षक (जिला मुख्यालय) रामगोपाल करियारे और थाना प्रभारी लेमरू मरावी के साथ पुलिस स्टाफ  ने जिले के अत्यंत वनवासी क्षेत्र ग्राम लामपहाड़ और लेमरू में ग्रामीणों और स्कूली बच्चों के मध्य पहुंचकर, नशे के दुष्प्रभावों को विस्तृत रूप से बताया। नशे से तात्कालिक आवेश में आकर जघन्य और गंभीर अपराध होने के बारे में भी बताया। लेमरू क्षेत्र में कई ऐसे पहाड़ी कोरबा जनजाति परिवार मिले जिनके परिवार में 40-45 वर्ष की उम्र में ही पिता का साया उठ गया था। कई बच्चे अनाथ की जिंदगी जीने को विवश हैं और इसका एकमात्र कारण है उस क्षेत्र में अत्यधिक नशा का सेवन, चाहे वह स्थानीय पेय पदार्थ से निर्मित हो या अन्य। बता दें कि कोरबा जिला पुलिस निरंतर नशे के अवैध व्यापार के खिलाफ  कार्रवाई कर रही है।

साथ ही इसके लिए व्यापक जागरुकता अभियान 'हैलो जिंदगी' चला रही है। यह कार्यक्रम पूरे जिले में समग्र रूप से संचालित है। इस कार्यक्रम के तहत नशे के अवैध व्यापार और मन:प्रभावी दवाइयों को बिना डाक्टरी प्रिस्क्रिप्शन के विक्रय पर अंकुश लगाने संदेही स्थानों, व्यक्तियों, दुकानों आदि पर नजर रखी जा रही है वहीं अवैध रूप से इस तस्करी में संलग्न व्यक्तियों पर लगातार कार्रवाई भी कर रही है।  इस अवसर पर बच्चों एवं ग्रामीणों को नशे और इससे प्रेरित अपराधों से दूर रहने के साथ ही चिटफंड ठगी, साइबर अपराध, महिलाओं एवं बच्चों पर होने वाले अपराध, सोसल मीडिया से संबंधित अपराध की जानकारियाँ एवं सेल्फ डिफेंस, गुड टच-बेड टच, संवेदना कार्यक्रम की मूल उद्देश्यों से सम्बंधित कई महत्वपूर्ण जानकारियां भी दी गईं। पुलिस अधीक्षक ने बच्चों को एकाग्रचित्त होकर अपने बेहतर भविष्य हेतु लक्ष्य निर्धारित करते हुए सतत साधना के रूप में विद्याध्ययन करते रहने कहा। इस अवसर पर जिला पुलिस कोरबा व थाना लेमरू के थाना स्टाफ,  स्कूल के शिक्षक-शिक्षिकाएं, छात्र-छात्राएं व ग्रामीण उपस्थित थे।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804