GLIBS
26-02-2021
लाल किला हिंसा मामला : किसान नेता पन्नू और श्रवण सिंह से जुड़े ​हैं आरोपी

दिल्ली/रायपुर। लाल किला हिंसा मामले में एक नया खुलासा हुआ है। सारे आरोपी किसान नेता सतनाम सिंह पन्नू और श्रवण सिंह पंढेर संगठन से जुड़े हुए हैं। इस ग्रुप के लोगों ने लाल किले में हिंसा की ओर झंडा फैराया था। जांच में यह बात का खुलासा हुआ है। पुलिस अब उस व्यक्ति को तलाश कर रही है, जो इन लोगों को आदेश देता था और इन सब की साजिश कब से रची जा रही है। दिल्ली पुलिस ने दोनों नेता को नोटिस भेजा था लेकिन इसके बावजूद वह दोनों जांच में शामिल नहीं हुए।

17-02-2021
भाजपा के किसान नेता किसानों के बीच जाकर केंद्रीय कृषि कानून के खिलाफ भ्रम को दूर करने की कोशिश करेंगे

दिल्ली/रायपुर। किसान आंदोलन को लगातार चलता देख अब भाजपा ने उसके खिलाफ अपनी नई रणनीति तय कर ली है। कल पार्टी कार्यालय में राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने किसान नेताओं की बैठक ली। बैठक में गृह मंत्री अमित शाह, कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर व संदीप बालियान भी उपस्थित रहे। भाजपा ने तय किया है कि भाजपा के किसान नेता किसानों के बीच जाएंगे। जनता के बीच जाएंगे और केंद्रीय कानून के खिलाफ चलाए जा रहे अभियान के बारे में पार्टी का रुख स्पष्ट करेंगे। केंद्रीय कानून के खिलाफ फैलाये जा रहे भ्रमजाल को तोड़ने की कोशिश करेंगे। पार्टी के के अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने सभी किसान नेताओं से जनता और किसानों के बीच जाकर भ्रम दूर करने के लिए अभियान चलाने की बात कही है। केंद्रीय कृषि कानून के खिलाफ जारी आंदोलन को कांग्रेस आप पार्टी सहित विपक्ष के लगातार मिलते समर्थन के बाद भाजपा ने भी अब इस मामले में मैदान में आकर अपनी स्थिति स्पष्ट करने का फैसला ले लिया है।

07-02-2021
चक्का जाम के बाद अब महापंचायत के जरिए शक्ति प्रदर्शन, चरखी दादरी में आज दो महापंचायत

दिल्ली/रायपुर। किसान आंदोलन पर चर्चा और विस्तार के लिए आज हरियाणा के चरखी दादरी में दो महापंचायतों का आयोजन है। दोनों महापंचायतों में राकेश टिकैत शामिल होंगे। एक महापंचायत टोल प्लाजा के पास तो दूसरी मंडी प्रांगण के पास होगी। कल के चक्का जाम को मिले प्रतिसाद को किसान नेताओं ने शानदार बताया था और उसे अपनी सफलता मानी थी। दूसरी ओर शासन प्रशासन ने उसे असरकारक नहीं मान कर राहत की सांस ली थी। अब संयुक्त किसान मोर्चा के नेता महापंचायतों के जरिए किसान आंदोलन को विस्तार देने और उस पर चर्चा करने के लिए पूरी ताकत लगा रहे हैं। इसी सिलसिले में आज चरखी दादरी में दो-दो महा पंचायतों का आयोजन है।

05-02-2021
किसान नेताओं ने कहा, इंटरनेट बहाल हो लोगों को असुविधा हो रही है, दो माह से चक्का जाम करने वाले को अब होश आया

दिल्ली/रायपुर। किसान आंदोलन के मद्देनजर दिल्ली की तीनों सीमाओं और आसपास के जिलों में इंटरनेट सेवाओं पर रोक लगाने  पर किसान नेताओं का कहना है कि इंटरनेट सेवाएं तत्काल बहाल की जानी चाहिए। उनका कहना है कि इंटरनेट सेवाएं बंद होने से आम लोगों को असुविधा हो रही है। आम लोगों की सुविधाओं की बात करने वाले किसान नेताओं को शायद इस बात का ख्याल नहीं आया कि 2 माह से लगातार बॉर्डर पर जाम लगाने से आम आदमी को आवाजाही में कितने दिक्कत हो रही है। लगातार जारी किसान आंदोलन के चलते रोजमर्रा की जिंदगी कितनी बाधित हो गई है। ड्यूटी पर जाने वाले लोगों को कितनी असुविधा हो रही है। इस बात का ख्याल शायद इंटरनेट सेवा बहाल करने वाले लोग चक्का जाम करते समय बिल्कुल नहीं करते।

28-01-2021
दीप सिद्धू की किसान नेताओं को धमकी, तथ्यों का खुलासा किया तो आप सब भाग जाओगे

दिल्ली/रायपुर। ट्रैक्टर परेड में हिंसा के बाद चर्चा में आने वाले पंजाबी एक्टर दीप सिद्धू फिर चर्चा में है। उन्होंने फेसबुक पर वीडियो जारी कर किसान नेताओं को धमकी दी है कि तथ्यों का खुलासा करूंगा तो आप सब भाग जाएंगे। दीप सिद्धू ने लाल किले पर झंडा फहराने को भी ऐतिहासिक करार दिया है। दीप सिद्धू ने यह भी कहा है कि अगर मैं देशद्रोही हूं तो उस दिन दिल्ली बॉर्डर पर जितने लोग खड़े थे सभी देशद्रोही है। यहां यह बताना गैर जरूरी नहीं होगा कि सारे किसान नेता ट्रैक्टर परेड में हुई हिंसा के लिए दीप सिद्धू को ही निशाना बना रहे  है और अब तक खामोश रहे दीप सिद्धू ने किसान नेताओं पर पलटवार किया है। उन्होंने अपना वीडियो फेसबुक पर अपलोड कर दिया है।

27-01-2021
दिल्ली पुलिस की बड़ी कार्रवाई, 200 प्रदर्शनकारी लिए गए हिरासत में, 22 एफआईआर दर्ज, कुछ किसान नेताओं के नाम भी

दिल्ली/रायपुर। ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई हिंसा के मामले में पुलिस अब तेजी से कार्रवाई कर रही है। अब तक हिंसा की वारदात पर कुल 22 एफआईआर दर्ज हो चुकी है। पुलिस ने सभी मामलों में 200 से ज्यादा लोगों को हिरासत में ले लिया है। इधर गृहमंत्री के घर उच्च स्तरीय बैठक होने जा रही हैं। बताया जाता है कि दिल्ली के कमिश्नर पुलिस और आईबी के चीफ सारी स्थिति से गृह मंत्री को अवगत कराएंगे। पैरामिलिट्री फोर्स की 15 कंपनियों की तैनाती के बाद फिलहाल दिल्ली में शांति नजर आ रही है लेकिन तनाव फिर भी कायम है।यंहा ये बताना गैर जरूरी नही होगा कि उपद्रवियों ने बस ट्रक के अलावा मेटल डिटेलटर भी तोड़े थे।

27-01-2021
हिंसा के बाद किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा, जो आदमी हिंसा में पाया जाएगा उसे स्थान छोड़ना पड़ेगा

रायपुर/नई दिल्ली। गणतंत्र दिवस के मौके पर दिल्ली में हुए उपद्रव के बाद आंदोलनकारियों के प्रति लोगों की सहानुभूति कम हुई है। कल जो हुआ वह नहीं होना था। राष्ट्रीय ध्वज का अपमान, लाल किले में चढ़ाई, पुलिस वालों पर पथराव और लाठीचार्ज, अनेको पुलिस बल के कर्मचारी घायल और ना जाने क्या कुछ नहीं हुआ। वह भी गणतंत्र दिवस के मौके पर। इस हिंसा के बाद किसान नेता राकेश टिकैत ने बुधवार को अपना बयान जारी किया है। राकेश टिकैत ने कहा, जिसने झंडा फहराया वो कौन आदमी था? एक कौम को बदनाम करने की साज़िश पिछले दो महीने से चल रही है। कुछ लोगों को चिंहित किया गया है, उन्हें आज ही यहां से जाना होगा। जो आदमी हिंसा में पाया जाएगा उसे स्थान छोड़ना पड़ेगा और उसके खिलाफ कार्रवाई होगी

22-01-2021
गणतंत्र दिवस करीब, किसानों की ट्रेक्टर रैली से यूपी, दिल्ली व हरियाणा पुलिस की सांस फूली, रैली रद्द करने कोशिश जारी

दिल्ली/रायपुर। किसानों की ट्रैक्टर रैली तीन राज्यों की पुलिस के लिए सिरदर्द बनती जा रही है। किसानों की ट्रैक्टर रैली रद्द कराने के लिए किसान नेता और पुलिस के बीच चर्चाओं का दौर जारी है। लेकिन कोई ठोस हल निकलता नजर नहीं आ रहा है। पुलिस चाहती है कि गणतंत्र दिवस पर किसान बाहरी रिंग रोड पर अपनी ट्रैक्टर रैली निकाल ले लेकिन किसान नेता अड़े हुए हैं कि वे दिल्ली के अंदर ही ट्रेक्टर रैली निकालेंगे। इधर इस मामले में कोर्ट ने भी दखल देने से इनकार कर दिया था।  उसके बाद से पुलिस लगातार किसान नेताओं से चर्चा कर रही है। लेकिन दोनों ही पक्ष के अड़े रहने के कारण कोई बीच का रास्ता निकलता नजर नहीं आ रहा है। जैसे-जैसे गणतंत्र दिवस करीब आता जा रहा है वैसे वैसे पुलिस की सांस अटकती जा रही है। पुलिस सुरक्षा की दुहाई देकर भी किसानों से रैली टालने की अपील कर चुकी है लेकिन किसान नेताओं का कहना है कि वे गणतंत्र दिवस पर गणतंत्र को सलाम करने के लिए ट्रैक्टर रैली निकालकर रहेंगे। टकराव की स्थिति बनी हुई है और हल कोई निकलता दिख नहीं रहा है इस मामले में आज भी चर्चा होनी है देखते हैं क्या हल निकलता है।

08-12-2020
 अमित शाह और किसान नेताओं के बीच शाम 7 बजे होगी वार्ता

नई दिल्ली। तीन कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों की तरफ से भारत बंद का मिलाजुला असर रहा। भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने कहा कि 13-14 प्रतिनिधि मंगलवार शाम 7 बजे अमित शाह से मुलाकात करेंगे। बताया गया कि टिकैत ने गाजीपुर बॉर्डर खुलवा दिया है, साथ ही वह अन्य किसान संघों से बात करने के लिए सिंघू सीमा रवाना हो गए हैं। टिकैत ने कहा कि अब लग रहा है कि बस एक कदम दूर हैं। अब समापन होना चाहिए।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804