GLIBS
15-01-2021
ट्रेन की कोच में खोले जाएंगे रेस्टोरेंट, भोपाल, हबीबगंज, इटारसी स्टेशनों से होगी शुरूआत

भोपाल। भारतीय रेलवे नए साल के पहले महीने में रेल यात्रियों के लिए एक और खुशखबर लेकर आया है। अब रेलवे स्टेशनों के बाहरी परिसर में ट्रेन के कोच में रेस्टोरेंट खोले जाएंगे। इसकी शुरुआत पहले चरण में पायलट प्रोजेक्ट के तहत भोपाल, हबीबगंज, इटारसी, बीना सहित 11 स्टेशनों पर की जाएगी। इस तरह का रेस्टोरेंट भोपाल के होटल लेक व्यू अशोका में भी है। कुछ साल पहले रेलवे से कोच लेकर होटल परिसर में इस तरह का रेस्टोरेंट संचालित किया जा रहा है, लेकिन रेलवे स्टेशन परिसर में ऐसा प्रयोग पहली बार हो रहा है। इस बाबत सीनियर डीसीएम विजय प्रकाश ने बताया कि रेस्टोरेंट ऑन व्हील के लिए प्राइवेट फर्म से प्रस्ताव मंगाने और उनकी स्क्रूटनी के बाद कांट्रैक्ट किए जाएंगे। ऐसे में आम लोगों के लिए इस तरह के रेस्टोरेंट की सुविधा मार्च तक शुरू हो सकेगी। पश्चिम-मध्य रेल जोन के जबलपुर, कोटा और भोपाल मंडल के स्टेशनों पर यात्रियों की संख्या अधिक होती है। ऐसे स्टेशनों के सर्कुलेटिंग एरिया में यात्रियों को नाश्ते और खाने की सुविधा मुहैया कराई जा रही है। यहां सामान की कीमत बाजार दर के मुताबिक ही होगी। रेस्टोरेंट ऑन व्हील की सुविधा यात्रियों के अलावा अन्य लोग भी ले सकेंगे। बता दें, रेलवे के मंडल में विभिन्न स्थानों पर बेकार में खड़े कोच का इस्तेमाल कर इस तरह के रेस्टोरेंट खोले जाएंगे। साथ ही, रेस्टोरेंट में 40 से ज्यादा लोगों के एक साथ बैठकर खाने-पीने की जगह होगी। इसमें स्मॉल किचन और ऑर्डर लेने वाले मैनेजर के लिए भी जगह बनाई जाएगी।

 

22-12-2020
फैसला: मध्यप्रदेश में एक्पायरी डेट की दवाएं बेचने पर अब 3 वर्ष की बजाए 5 साल होगी सजा

भोपाल। मध्यप्रदेश की शिवराज सरकार ने बड़ा फैसला लिया है। सीएम शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में हुई बैठक में खाद्य सुरक्षा कानून में संशोधन करने पर मुहर लगाई है। इस फैसले की जानकारी प्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने दी। उन्होंने कहा कि एक्सपायरी डेट की दवाओं की बिक्री करने पर अब तीन की बजाय पांच साल की सजा होगी।गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि मध्यप्रदेश की सरकार मिलावट पर कसावट के लिए कटिबद्ध है। कुछ क्षेत्रों से खबर आ‌ रही है कि कोविड वैक्सीन में मिलावट हो सकती है और ग्वालियर में प्लाज्मा में मिलावट की जानकारी मिली है। इसलिए सरकार मिलावट करने पर 3 साल की सजा के प्रावधान को आजीवन कारावास में बदलने जा रही है।

उन्होंने कहा कि एक्सपायरी दवा बेचने पर 5 साल की सजा का प्रावधान करने के प्रस्ताव को कैबिनेट द्वारा मंजूरी मिली है। मध्यप्रदेश के गृहमंत्री ने कहा कि प्रदेश में जबरन धर्म परिवर्तन को रोकने के लिए धर्म स्वतंत्र विधेयक-2020 पर अलग-अलग सुझाव आने के बाद अब इसे 26 दिसंबर को एक अलग कैबिनेट बैठक कर और उसमें प्रस्ताव पास करके इसे विधानसभा में ले जाया जाएगा।

 

20-12-2020
एक सप्ताह में इंजीनियर ने की दो शादी, राज खुलने के बाद हुआ फरार, तलाश जारी

भोपाल।  एक सप्ताह के भीतर एक युवक ने दो महिलाओं से शादी की और फरार हो गया। दरअसल मध्यप्रदेश में एक 26 वर्षीय सॉफ्टवेयर इंजीनियर ने पांच दिनों में दो महिलाओं से कथित तौर पर शादी की और फिर फरार हो गया। घटना की जानकारी पुलिस ने रविवार को दी।  प्रदेश के खंडवा जिला मुख्यालय के कोतवाली थाने के इंस्पेक्टर बीएल मंडलोई के मुताबिक, एक महिला के परिवार ने धोखाधड़ी की शिकायत की। प्राप्त शिकायत के आधार पर पुलिस मामले की जांच कर रही है। पुलिस अधिकारी ने मिली शिकायत के आधार पर बताया है कि इंदौर के मूसाखेड़ी निवासी आरोपित ने दो दिसंबर को खंडवा में एक महिला से शादी की और फिर सात दिसंबर को इंदौर के महू में एक अन्य महिला से शादी की। इंदौर के महू तहसील में आयोजित शादी में भोज पर गये खंडवा के पीड़ित रिश्तेदार में से एक ने अपने परिवार को पांच दिनों में आरोपित की सात दिसंबर को दूसरी शादी की तस्वीर मोबाइल फोन के जरिये भेजी। तस्वीर मिलने के बाद खंडवा के पीड़ित परिवार ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराते हुए आरोपित के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।


प्राप्त शिकायत के आधार पर पुलिस अधिकारी ने बताया कि पीड़ित परिवार ने दुल्हन की शादी और दिये गये घरेलू सामान पर करीब 10 लाख रुपये खर्च करने की बात कही है। साथ ही कहा गया है कि शादी के बाद आरोपित दुल्हन को अपने घर इंदौर ले गया। उसके बाद आवश्यक कार्य के लिए भोपाल जाने की बात कही। लेकिन वह एक अन्य महिला से शादी करने के लिए महू चला गया। उन्होंने बताया कि दो दिसंबर को आरोपित अपने माता पिता, भाई बहन और अन्य रिश्तेदारों के साथ शादी करने के लिए खंडवा आया था। खंडवा की पीड़िता नवविवाहिता के परिजनों ने जब इंदौर में शादी के बंधन में बंधी दूसरी नवविवाहिता से बात की तो उसने बताया कि उसकी शादी आयोजित की गयी थी। इसके लिए किसी ने मजबूर नहीं किया था। कोतवाली थाने के इंस्पेक्टर बीएल मंडलोई ने बताया है कि सात दिसंबर के बाद आरोपित घर नहीं लौटा और अपने मोबाइल फोन को बंद कर दिया है। फरार आरोपित की तलाश की जा रही है।

 

 

18-12-2020
कृषि सुधार कानून रातों रात नहीं आए, पिछले 20-22 साल से हर सरकार ने इस पर व्यापक चर्चा की : नरेंद्र मोदी

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को भोपाल के किसान महासम्मेलन को वर्चुअल माध्यम से संबोधित करते हुए तीनों कृषि कानूनों का मजबूती से बचाव किया। उन्होंने कहा कि तेजी से बदलते दौर में किसान सुविधाओं के अभाव में असहाय होता जाए, ये स्थिति स्वीकार नहीं की जा सकती। पहले ही बहुत देर हो चुकी है, जो काम 25 से 30 साल पहले हो जाने चाहिए थे, वो अब हो रहे हैं। पिछले 6 साल में सरकार ने किसानों की एक एक जरूरत को ध्यान में रखते हुए काम किया है। उन्होंने कहा कि ये कृषि सुधार कानून रातों रात नहीं आए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तीनों कानूनों को लेकर कहा, बीते कई दिनों से देश में किसानों के लिए जो नए कानून बने, उनकी बहुत चर्चा है। ये कृषि सुधार कानून रातों रात नहीं आए पिछले 20-22 साल से हर सरकार ने इस पर व्यापक चर्चा की है। सभी संगठनों ने इन पर विमर्श किया है। देश के किसान,किसानों के संगठन, कृषि एक्सपर्ट, कृषि अर्थशास्त्री, कृषि वैज्ञानिक, हमारे यहां के प्रोग्रेसिव किसान भी लगातार कृषि क्षेत्र में सुधार की मांग करते आए हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने पंजाब और हरियाणा के किसानों के आंदोलन के बीच इस आयोजित अहम सम्मेलन में कहा, सचमुच में तो देश के किसानों को उन लोगों से जवाब मांगना चाहिए जो पहले अपने घोषणापत्रों में इन सुधारों की बात लिखते रहे, किसानों के वोट बटोरते रहे, लेकिन किया कुछ नहीं सिर्फ इन मांगों को टालते रहे और देश का किसान  इंतजार ही करता रहा। प्रधानमंत्री मोदी ने विपक्ष पर भी इस दौरान निशाना साधते हुए कहा कि किसानों की बातें करने वाले लोग कितने निर्दयी हैं, इसका बहुत बड़ा सबूत है स्वामीनाथन कमेटी की रिपोर्ट। रिपोर्ट आई लेकिन ये लोग स्वामीनाथन कमेटी की सिफारिशों को आठ साल तक दबाकर बैठे रहे। हर चुनाव से पहले ये लोग कर्जमाफी की बात करते हैं और कर्जमाफी कितनी होती है, कर्जमाफी का सबसे बड़ा लाभ किसे मिलता था

27-11-2020
Breaking: मध्यप्रदेश में कोवैक्सीन का ट्रायल शुरू, 17 लोगों को दी गई वैक्सीन

भोपाल। कोरोना संक्रमण के  नियंत्रण और रोकथाम के लिए देश सहित प्रदेश सरकारें भी सचेत है। इसी कढ़ी में मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में शुक्रवार को कोवैक्सीन का ट्रायल किया गया। 17 लोगों को कोवैक्सीन लगाया गया। मिली जानकारी के अनुसार निजी स्कूल के शिक्षक को वैक्सीन की डोज दी गई है।  बता दें कि मध्यप्रदेश में कोवैक्सीन के तीसरे चरण का क्लीनिकल ट्रायल जारी है। 

 

09-11-2020
डंपर और बोलेरो में जोरदार टक्कर, 7 की मौत, 5 घायल

भोपाल। सतना में सोमवार को सुबह हुई एक सड़क दुर्घटना में सात लोगों की मौत हो गई और पांच लोग जख्मी हो गए। इनमें से कुछ की कुछ लोग गंभीर रूप से घायल हैं। बताया जा रहा है कि परिवार के लोग शोक कार्यक्रम से लौट रहे थे, तभी नागौद थाना क्षेत्र से उनकी गाड़ी भीषण दुर्घटना का शिकार हो गई। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने घटना पर दुख जताया है। मिली जानकारी के मुताबिक नागौद में रेरुआ मोड़ में बोलेरो और डंपर की जोरदार टक्कर हो गई। इसमें 7 लोगों की मौत हो गई और 5 लोग घायल हो गए। सभी घायलों को रीवा अस्पताल में भर्ती कराया गया है। मृतकों में तीन पुरुष और तीन महिला समेत एक बच्चा शामिल है। हादसे का शिकार हुआ विश्वकर्मा परिवार पन्ना में शोक कार्यक्रम में शामिल होकर रीवा लौट रहा था। इस दौरान सामने से अचानक डंपर आ जाने से गाड़ी अनियंत्रित हो गई और टकरा गई। दुर्घटना के बाद डंपर का चालक मौके से फरार हो गया। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट किया “सतना के नागौद में हुई सड़क दुर्घटना में कई अमूल्य जिंदगियों के असमय काल कवलित होने के समाचार से अत्यधिक पीड़ा हुई। ईश्वर से दिवंगत आत्माओं को अपने श्रीचरणों में स्थान देने और परिजनों को यह वज्रपात सहन करने एवं घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की प्रार्थना करता हूं।”

 

 

06-11-2020
आयकर विभाग ने रायपुर और बिलासपुर में कई विज्ञापन एजेंसियों के ठिकानों पर मारा छापा

रायपुर। दीपावली पर्व के ठीक एक सप्ताह पहले आयकर विभाग की टीम ने शुक्रवार को रायपुर और बिलासपुर में विज्ञापन एजेंसियों के ठिकानों पर छापामार कार्यवाही की। कार्यवाही में कहां-कहां से कितनी टैक्स की चोरी पकड़ी गई इसका खुलासा आयकर विभाग जांच पूरी होने के बाद करेंगे। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार आयकर विभाग के अधिकारियों की टीम भोपाल के अलावा रायपुर और बिलासपुर में संचालित विज्ञापन एजेंसियों के ठिकानों पर छापामार कार्यवाही कर रही है। इस कार्यवाही के दौरान दस्तावेजों का खंगाला जा रहा है। समाचार लिखे जाने तक कार्यवाही जारी है। अधिकारियो का कहना है कि जांच पूरी होने के बाद ही मीडिया को इसकी जानकारी दी जाएगी।

 

20-10-2020
कमलनाथ विवादित टिप्पणी मामला: राहुल गांधी ने की बयान की निंदा,पूर्व सीएम ने किया माफी मांगने से इंकार

भोपाल। मध्यप्रदेश में पूर्व सीएम कमलनाथ की विवादित टिप्पणी के बाद राजनीति गरमा गई है।कमलनाथ के बयान पर बवाल बढ़ता देख राहुल गांधी ने भी मंगलवार को मीडिया के बातचीत में उनके बयान की निंदा की हैं। राहुल के बयान के बाद मीडिया ने जब पूर्व सीएम कमलनाथ से पूछा कि क्या वे अपने बयान को लेकर मांफी मांगेगे तो तो उन्होंने मांफी मांगने की बात से मना कर दिया। कमलनाथ ने कहा कि राहुल गांधी को जो बातें बताई गई होंगी। उसके आधार पर उन्होंने वह बात कही होगी। वह राहुल गांधी की राय है। लेकिन वे कल ही कह चुके हैं कि वे अपने बयान को लेकर मांफी नहीं मांगेगे। क्योंकि उनका लक्ष्य किसी को अपमानित करने का नहीं था और अगर कोई अपमानित अहसास करता है तो उन्हें खेद है। इस बात को उन्होंने पहले ही कह चुके हैं। बता दें कि कमलनाथ जहां अपने बयान को लेकर मांफी मांगने को तैयार नहीं हैं। वहीं बीजेपी भी उनके इस बयान को लेकर पूरी तरफ से आक्रमण है। भाजपा उनके इस बयान को लेकर महिला आयोग में शिकायत की है। बीजेपी के शिकायत के बाद महिला आयोग ने कमलनाथ से जवाब भी मांगा हैं। वहीं चुनाव आयोग से कार्रवाई किये जाने को लेकर पत्र भीं लिखा गया हैं।

 

20-10-2020
पत्नी और दोस्त की बेवफाई ने युवक को बनाया कातिल, लाठी से पीटकर उतारा मौत के घाट

भोपाल। पत्नी और दोस्त की बेवफाई ने युवक को आहत कर दिया और उसने पत्नी और अपने दोस्त की बेरहमी से हत्या कर दी। घटना के खरगोन की है। दरअसल पत्नी को उसके प्रेमी के साथ आपत्तिजनक स्थिति में देखकर उसका पति आपा खो बैठा और दोनों की लाठी से पीट-पीट कर हत्या कर दी। उसने प्रेमी की आंखें फोड़ दी। इसके बाद पत्नी की हत्या कर शव को घर के बाहर फेंक दिया। पुलिस ने बताया कि आरोपी ने पत्नी के प्रेमी के शव को बाइक पर लादकर गांव से 1 किलोमीटर दूर पुलिया के पास जाकर फेंक दिया।
वारदात को अंजाम देने के बाद पति लोकेश भागते हुए गांव पहुंचा। ग्रामीणों से कहा कि मेरी पत्नी को कुछ हो गया है और उसके मुंह से खून निकल रहा है। उसके कपड़ों पर खून के निशान लगे हुए थे। ग्रामीण जब लोकेश के घर पहुंचे उन्होंने उसकी पत्नी का शव देखा जबकि उसके दोस्त का शव पुलिया के पास पड़ा था। ग्रामीणों ने जब पुलिस को बुलाया तो लोकेश मौके से भागने लगा,जिसके बाद लोगों को उस पर शक होने लगा और बाद में यही शक सच्चाई में बदल गया।
सनसनीखेज हत्या के बाद जिले के एसपी शैलेंद्र सिंह चौहान ने खुद मौके पर पहुंच कर जांच की थी। एसपी के मुताबिक खरगौन के भाडली का लोकेश मानकर अपनी 28 वर्षीय पत्नी के साथ दसंगा में मकान निर्माण का काम कर रहा था। यहीं पर देहरी गांव का रवि उर्फ प्रवीण भागीरथ राणे भी काम करता था। उसकी लोकेश की पत्नी से प्रेम हो गया और आपत्तिजनक हालत में पति लोकेश ने देख लिया और आपा खो दिया और फिर हत्या कर दी। महिला और युवक की हत्या के आरोप में पुलिस ने पति को गिरफ्तार किया।

19-10-2020
कमलनाथ ने दी अपनी टिप्पणी पर सफाई,कहा- मैं किसी का अपमान नहीं करता, उनका नाम याद नहीं आ रहा था

भोपाल। मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भाजपा नेता इमरती देवी पर की गई अपनी टिप्पणी को लेकर अब सफाई दी है। उन्होंने कहा कि उन्हें इमरती देवी का नाम याद नहीं आ रहा था इसलिए उन्होंने आइटम बोल दिया। बता दें कि डबरा विधानसभा सीट में आयोजित एक जनसभा में कमलनाथ ने कैबिनेट मंत्री इमरती देवी को आइटम कह दिया। कांग्रेस नेता कमलनाथ ने कहा,'शिवराज सिंह तो बहाना ढूंढ रहे हैं, बैठ गए अनशन पर कि मैंने किसी का अपमान किया। कमलनाथ ने कहा कि मैं किसी का अपमान नहीं करता..मैं तो सच्चाई के साथ आपकी पोल खोलता हूं। बता दें कि कमलनाथ आज खंडवा जिले की मांधाता विधानसभा से कांग्रेस प्रत्याशी उत्तम पाल सिंह के समर्थन में जनसभा करने पहुंचे। इस दौरान उन्होंने इमरती पर दिए गए बयान पर सफाई दी और साथ ही प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर हमला बोला।
बता दें कि इस टिप्पणी पर बीजेपी के बाद खुद इमरती देवी ने कमलनाथ पर पलटवार किया है। इसके साथ ही इमरती देवी ने सोनिया गांधी से कमलनाथ को पार्टी से निकालने की मांग की है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस नेता के इस बयान से वह आहत हुई हैं। वह हमेशा कमलनाथ को अपना बड़ा भाई मानती रही हैं लेकिन वह राक्षस निकले। 

19-10-2020
पूर्व सीएम की विवादित टिप्पणी के बाद शिवराज सिंह ने रखा दो घंटे का मौन व्रत

भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को दो घंटे का मौन व्रत रखा।उनका मौन व्रत पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ की राज्य की महिला मंत्री इमरती देवी के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी के विरोध में है।
इसी मामले में ज्योतिरादित्य सिंधिया और कुछ अन्य भाजपा नेताओं ने इंदौर में दो घंटे का उपवास रखा।
बता दें कि रविवार को एक चुनावी सभा के दौरान कमलनाथ ने कहा, ''वो क्या है..मैं उसका नाम क्यों लूं.. आपको मुझे सतर्क करना चाहिए था...क्या 'आइटम' है।'' इस पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कड़ा ऐतराज जताया है। विरोध स्वरूप सोमवार को दो घंटे तक मौन व्रत रखने का निर्णय किया। भाजपा नेता का कहना है कि कमलनाथ का बयान उनकी सामंती मानसिकता को दर्शाता है.  
इमरती देवी ने डबरा विधानसभा क्षेत्र से उपचुनाव के लिए गुरुवार को भाजपा प्रत्याशी के तौर पर अपना नामांकन दाखिल किया था। इमरती देवी ज्योतिरादित्य सिंधिया की समर्थक हैं। मध्यप्रदेश में 28 विधानसभा सीटों के लिए 3 नवंबर को उपचुनाव होना है। इमरती देवी ने कहा कि अगर वह गरीब परिवार में पैदा हुईं हैं तो इसमें उनकी क्या गलती है, क्या दलित होना गुनाह है।
बसपा प्रमुख मायावती ने भी कांग्रेस से इस बयान को लेकर माफी मांगने को कहा है। उन्होंने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री का महिला और दलित विऱोधी बयान शर्मनाक और बेहद निंदनीय है। कांग्रेस हाईकमान को इस मामले में माफी मांगनी चाहिए।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804