GLIBS
14-05-2020
नगर पालिका ने भेजा दुकानदारों को किराए का नोटिस

कोरिया। बैकुंठपुर नगर पालिका के द्वारा व्यापारियों को नगर पालिका की जो दुकानें हैं उसका किराया का नोटिस भेजा गया है। किराया नहीं पटा पाने के कारण नगर प्रशासन के द्वारा दुकान की तालाबंदी की जाएगी। एक प्रधानमंत्री एवं मुख्यमंत्री सभी से आग्रह कर रहे हैं की किराया दुकान का किराया अभी आप ना ले वहीं पर नगरपालिका का या फरमान देखने को मिल रहा है। नगर पालिका प्रशासन के इस फरमान से व्यापारियों दहशत का माहौल है। बैकुंठपुर के व्यापारी  विरोध करने का मन बना रहे हैं।

14-05-2020
नमक की आपूर्ति बनाए रखने प्रशासन और व्यापारियों की हुई बैठक

रायपुर/बेमेतरा। नमक को लेकर फैली अफवाह से अफरा-तफरी मच गई थी। इसके बाद लोग नमक खरीदने के लिए दौड़ पड़े। इससे कई दुकानों में भीड़ की स्थिति निर्मित हो गई थी। जिले में नमक की आपूर्ति बनाये रखने अपर कलेक्टर संजय कुमार दीवान की अध्यक्षता में जिले के नमक व्यापारियों की बैठक हुई। इनमें विभिन्न तहसीलों के थोक नमक व्यापारी व खाद्य विभाग के अधिकारी उपस्थित रहे। जिले में नमक स्टाॅक की कमी की अफवाह पर प्रशासन की ओर से उठाए गए कदमों की जानकारी दी। थोक व्यापारियों को नमक विक्रय के समय फुटकर व्यापारी की ओर से प्रतिमाह उनसे लिए जा रहे स्टाॅक अनुसार नमक प्रदान करने के निर्देश दिये। साथ ही फुटकर व्यापारी को प्रति उपभोक्ता 2 किलोग्राम नमक का विक्रय करने के संबंधी निर्देश में दिए। नमक की जमाखोरी व अनुचित लाभार्जन करने वाले लोगों के विरूद्ध शासन प्रशासन की ओर से कठोर कार्यवाही की जाएगी। थोक व्यापारियों ने बताया गया कि उनके पास स्टाॅक की कमी नहीं है और सतत् रूप से इसकी प्राप्ति हो रही हैै। व्यापारियों ने  इस संबंध में प्रशासन को पूर्ण सहयोग करने व जनहित में कार्य करने का आश्वासन दिया गया। बैठक में खाद्य अधिकारी भूपेन्द्र मिश्रा, सहायक खाद्य अधिकारी जीडी मिश्रा और खाद्य निरीक्षक व व्यापारी उपस्थित थे।

 

 

12-05-2020
दुकान खोलने की अनुमति को लेकर व्यापारियों ने कलेक्टर को दिया ज्ञापन

 रायपुर/बिलासपुर। रेलवे परिक्षेत्र के बुधवारी बाजार में व्यवसाय करने वाले व्यवसायियों के प्रतिनिधिमंडल ने कलेक्टर बिलासपुर के नाम एक ज्ञापन सौंपा। इसमें मांग की गई कि बुधवारी बाजार की दुकानों को कुछ पाबंदियों के साथ ही सही पर खोलने की अनुमति दी जाए। इन व्यापारियों ने अपने ज्ञापन में कहा है कि वैसे भी लाकडाउन के चलते पूरे शहर की तरह ही बुधवारी बाजार का व्यवसाय भी ठप हो चुका है। ऐसे में उसे फिर से 17 मई या उससे भी आगे की तारीखों के लिए बंद करने का आदेश देने से व्यापारी और उनके परिवार संकट में पड़ सकते हैं। अपने ज्ञापन में व्यापारियों ने कहा है कि बुधवारी बाजार के पास लगने वाले सब्जी बाजार को उर्दू स्कूल मैदान में ले जाने से बाजार के इर्द-गिर्द लगने वाली भीड़ भाड़ में काफी कमी आई है। ऐसे में सोशल डिस्टेंसिंग के सख्ती से पालन के साथ बुधवारी बाजार को खोलने की अनुमति दी जाए।

 

 

12-05-2020
मार्केट में नमक खत्म? बोरिया बिकी 300 से 500 रुपए में 

महासमुन्द। पिछले 24 घंटे के भीतर पूरे जिले में मार्केट से नमक के गायब होने की अफवाह ने लोगों को आज सुबह से ही मार्केट खुलने के बाद से लाईन में खड़ा कर दिया है। किसी ने कह दिया कि मार्केट में खाने की नमक समाप्त हो गया है और जनता ने यह भी मान लिया की नमक का स्टॉक दुकान में नहीं है। पहले आव पहले पाव की होड़ में पहुंच गये और 50 की नमक 300 सौ और 100 की नमक 500 सौ में खरीद भी लिया गया और व्यारियों ने अनाप-सनाप दामों में बेच भी दिया। महासमुन्द के एसडीएम सुनील चंद्रवंशी को मामले की जानकारी मिली की लोग मार्केट में नमक के लिए लाईन में खड़े हैं। तत्तकाल मार्केट पहुंच कर लोगों को समझाईश दी और मार्केट से जाने कहा। गौरतलब है कि पूरे जिले में आज सुबह से नमक लेने के लिए लोग दुकानों के सामने कतार में खड़े हो कर नमक ले रहे है। 50 और 100 रुपए की नमक बोरी 300 और 500 में बिकी गई। व्यापारियों का भी कोई जवाब नहीं, मौका मिला नहीं की जनता को ठगने के लिए तैयार है। जनता के पास परेशानी यह है कि उनको जैसे ही किसी बात की सूचना या अफवाह उन तक पहुंचती है वह उसे सच मानकर अपनी व्यवस्था में जूट जाती है। व्यापारी इसी बात का फायदा उठाते है और मार्केट में पहुंचने वाली जनता को अनाप-सनाप दामों पर अपनी वस्तुएं बेच कर जनता को लूट रहे है।

पिछले 24 घंटे में पूरे जिले में नमक की खत्म होने की खबर आखिर किसने फैलाई, किसकी साजिश है यह? क्या व्यापारी ही जानबूझ कर जनता को बेवकूफ बनाने के लिए यह अफवाह फैला रहे है? कौन इस तरह की अफवाह फैला रहा है? मार्केट में 5 रुपए का गुटखा 10 और 20 रुपए में बिका, 1 रुपए का तम्बाखू 5 से 10 रुपए में बिका, 5 रुपए का गुडाखू 50 रुपए में बिका, 700 रुपए की शराब की बोतल 3500 से 4000 में बिका। अब ये नमक 50 रुपए की बोरी 300 रुपए, 100 रुपए की बोरी 500 में बिक गई। 10 रुपए किलो की आलू 20 और 25 रुपए में, इसके साथ ही सभी तरह के राशन सामानों को व्यापारियों ने अनावश्यक रूप से महंगे दामों में बेचा गया है और बेचा जा रहा है। कोरोना वायरस के कारण लॉक डाउन है, समय-समय पर जनता को राहत पहुंचाने के लिए व्यापारियों को जिला प्रशासन ने छूट दे रखी है कि वह अपनी दुकान खोले ताकि जनता को रोज मर्रा की सामाने मिल सके, उन्हें भटकना ना पड़े, लेकिन व्यापारियों ने तो आम जनता को लूट ही लिया है। कानून नाम की कोई चीज ही नहीं है इन व्यापारियों के लिए, कुछ व्यापारियों पर जिला प्रशासन के अधिकारियों ने कार्रवाई की है और जुर्माना भी लिया है पर कितना, ऊंट के मूंह में जिरा की तरह। व्यापारी ने 5 लाख की कालाबाजारी की तब उसे फाइन हुआ है 25 हजार। आखिर आम जनता को इस अफवाह से कैसे बचाया जा सकेगा। कौन इन व्यापारियों पर लगाम लगायेगा।

10-05-2020
व्यापारियों के हित में काम कर रही सरकार, कैट ने जताया आभार

रायपुर। कैट ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा लगातार व्यापारियों के हितों में कार्य करने के आभार व्यक्त किया है। कैट के प्रदेश अध्यक्ष अमर परवानी,कार्यकारी अध्यक्ष मंगेलाल मालू, विक्रम सिंहदेव, महामंत्री जितेंद्र दोषी, प्रभारी महामंत्री परमानंद जैन, कोषाध्यक्ष अजय अग्रवाल, प्रवक्ता राजकुमार राठी ने बताया कि कैट के प्रयासों से सोमवार से रायपुर जिले के सीमा के अंर्तगत आवश्यक सेवाओं के अलावा अन्य दुकानों का संचालन हो सकेगा। दुकानों में ऑटो सर्विस सेंटर, इंडस्ट्रियल स्पेयर पाट्र्स, डोमेस्टिक रिपेयरिंग,ऑटोमोबाइल्स सर्विस सेंटर, आईटी, केबल रिपेयर, टॉयर शॉप, हार्डवेयर, पेंट, सेनेटरी, मार्बल, टाइल्स, सीमेंट, लोहा, जूता, कपड़ा, इलेक्ट्रिकल्स, ऑप्टिकल्स, स्टेशनरी, कूलर, पंखा, आरओ, वाटर फिल्टर आदि दुकानें शामिल हैं। दुकानों के खुलवाने को लेकर रविवार को कैट के नेतृत्व में सराफा, मोबाइल एसोसिएशन, रवि भवन व्यापारी संघ, कम्प्युटर डीलर्स एसोसिएशन आदि व्यापारी संघों के साथ अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक पंकज चंद्रा, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ग्रामीण तारकेश्वर पटेल, निगम अपर आयुक्त पुलक भट्टाचार्य, सीएसपी कोतवाली देवचरण पटेल के साथ बैठक आयोजित की गई। बैठक में आला अधिकारियों ने जहां आवश्यक सेवाओं के अतिरिक्त अन्य जरूरी दुकानों को खुलवाने की अनुमति दी है, वहीं मोबाइल, सराफा, ऑटोमोबाइल्स शो-रूम आदि को लेकर कहा कि है

कि छूट के बाद यदि उपरोक्त दुकानें बेहतर तरीके से संचालित हुई तो बाकी अन्य दुकानों को खुलवाने को लेकर आला अधिकारियों से बातचीत कर अनुमति दी जाएगी।बातचीत के दौरान व्यापारी संघों को निर्देश दिया गया कि वे दुकानों में सोशल डिस्टेसिंग व नियमों का पालन करवाएंगे, वहीं समय-सीमा का पालन करेंगे। कैट ने जिला, निगम व पुलिस प्रशासन को व्यापारियों से ओर नियमों का पालन व सोशल डिस्टेसिंग के लिए आश्वस्त किया। साथ ही राज्य सरकार से मांग रखी कि प्रदेश की आर्थिक स्थिति की मजबूती के लिए शीघ्र ही अन्य सेक्टर में व्यापार संचालन की अनुमति प्रदान किया जाए, ताकि राज्य सरकार के राजस्व में वृद्धि के साथ ही व्यापारियों की आर्थिक हालत में भी सुधार हो सके।कैट ने व्यापारियों की मांगों पर सहानुभूतिपूर्वक विचार करने के लिए रायपुर जिले के प्रभारी मंत्री रविंद्र चैबे, विधायक कुलदीप जुनेजा एवं महापौर एजाज ढ़ेबर के प्रति भी आभार जताया। साथ ही मुख्यमंत्री ने आश्वासन दिया की छग में अगर हालात अच्छे रहेंगें, तो 2 से 3 दिनों के भीतर पूरा व्यापार शुरू करने की अनुमती दे दी जायेगी।बैठक में कैट के प्रदेशाध्यक्ष अमर परवानी, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक पंकज चंद्रा, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ग्रामीण तारकेश्वर पटेल, निगम अपर आयुक्त पुलक भट्टाचार्य, सीएसपी कोतवाली देवचरण पटेल,कैट के कार्यकारी अध्यक्ष मगेलाल मालू, छग सराफा एसो. के  महासचिव उत्तम गोलछा, कोषाध्यक्ष सुरेश भंसाली, रायपुर सराफा एसो. के महासचिव दीपचंद कोटडिया, छग मोबाइल डीलर्स एसो. के प्रदेशाध्यक्ष राजेश वासवानी,रविभवन व्यापारी संघ के अध्यक्ष जय नानवानी, कम्प्यूटर डीलर्स एसो. के अध्यक्ष दीपक विधानी आदि शामिल रहे।

कैट ने लॉक डाउन के दौरान मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा व्यापारियों के हित के लिए लगातार किये जा रहे कार्य के प्रति आभार व्यक्त किया। इससे पहले कैट के प्रदेशाध्यक्ष अमर परवानी ने मुख्यमंत्री के साथ वीडियो कांफ्रेसिंग और दूरभाष पर चर्चा करते हुए व्यापारियों की मांगों और वस्तुस्थिति से अवगत कराया था। दुकानें खुलवाने के लिए मुख्यमंत्री के सकारात्मक रूख पर कैट ने आभार जताया है। कैट ने उम्मीद जताई है कि छतीसगढ़ दूसरे राज्यों की तुलना में आर्थिक मंदी के दौर से शीघ्र निकल आएगा। गौरतलब है कैट सीजी चैप्टर के प्रयासों से प्रदेश में रायपुर सहित दुर्ग-भिलाई, राजनांदगांव, कांकेर, भाटापारा, बलौदाराबाजार, जगदलपुर, सरगुजा, रायगढ़, अंबिकापुर, सरायपाली, बसना, कवर्धा , कोरिया, मनेन्द्रगढ़, चिरमिरी, राजिम, बलोदाबजार, तिल्दा, बिलासपुर सहित अन्य क्षेत्रों में व्यापार गति पकड़ रहा है।

08-05-2020
बस स्टैंड के व्यवसाइयों को कारोबार की अनुमति मिली,व्यापारियों ने विधायक-महापौर का आभार जताया

दुर्ग। बस स्टैंड के व्यापारियों का परिसर में 45 दिनों के बाद अब कारोबार शुरू हो जाएगा। व्यवसाय शुरू करने की मांग को लेकर व्यवसाइयों ने जिला प्रशासन से अनुमति मांगी थी। कलेक्टर ने व्यवसाय शुरू करने का आश्वासन दिया था लेकिन बाद में विधायक अरूण वोरा और महापौर धीरज बाकलीवाल की पहल पर यहां कारोबार की अनुमति मिल गई है।बस स्टैंड व्यापारी संघ के पदाधिकारियों ने बताया कि संघ ने विधायक और महापौर को ज्ञापन सौंपा था। इसमें यह जानकारी दी गई कि बस स्टैंड स्थित रैनबसेरा में रहने वाले सभी लोगों की कोरोना जांच के बाद रिपोर्ट निगेटिव आई है। रैन बसेरा को विधिवत सैनिटाइज़ कर दिया गया है। विधायक और महापौर ने निगम कमिश्नर से चर्चा कर तय किया गया है कि बस स्टैंड परिसर को सैनिटाइज़ करने के बाद सोमवार से बस स्टैंड की दुकानें खुलेगी।व्यापारी संघ की ओर से कुलवंत भाटिया, हरि जैन, बिमलेश जैन, प्रिंस, सत्येंद्र तोमर, सुरेश देवांगन, सुदामा, फारुख, संजय ताम्रकार, रिज्जू ताम्रकार, अखिलेश द्विवेदी, आंनद अग्रवाल, नितिन ने कारोबार की अनुमति मिलने पर विधायक अरुण वोरा और महापौर धीरज बाकलीवाल के प्रति आभार जताया है।

06-05-2020
व्यापारियों को राहत पैकेज व दुकान खोलने अनुमति पर सरकार तत्काल करे विचार: कैट

रायपुर। कॉनफेडरेशन आफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं छत्तीसगढ़ चैप्टर के प्रदेश अध्यक्ष अमर परवानी, कार्यकारी अध्यक्ष  मंगेलाल मालू ,विक्रम सिहदेव, महामंत्री जितेंद्र दोषी, प्रभारी महामंत्री परमानंद जैन, कोषाध्यक्ष अजय अग्रवाल,प्रवक्ता राजकुमार राठी ने बताया कि बुधवार को केंद्रीय सड़क एवं परिवहन राज्यमंत्री वीके सिंह से कैट की राष्ट्रीय कोर कमेटी ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से बातचीत कर व्यापारियों को आ रही दिक्कतों से अवगत करवाया।
कैट ने सिंह से मांग करते हुए कहा कि बैंक द्वारा क्रेडिट लिमिट पर लगने वाले ब्याज को माफ करने के साथ ही कर्मचारियों की तनखाह का 50 प्रतिशत हिस्सा सरकार द्वारा वहन कर लॉक-डाउन अवधि में जीएसटी व इनकम टैक्स में लगने वाले ब्याज को माफ किया जाए। साथ ही थोक-खुदरा व्यापारियों का सामूहिक स्वास्थ्य बीमा कराने की भी मांग कैट ने की है।प्रदेश अध्यक्ष अमर पारवानी ने देश मे सभी वस्तुओं के बाजार को खोलने से पहले अनिवार्य रूप से सैनिटाइज करवाने के नियम बनाने की मांग सामने रखी है,जिससे सभी व्यापारी सुरक्षित व स्वस्थ रहेंगे। पारवानी ने मांग की है की पिछले 45 दिनों से लॉक डाउन में बंद पड़े व्यापार को तत्काल प्रभाव से पुनः प्रारंभ करवाया जाए,जिससे पूरे देश की अर्थव्यवस्था पटरी पर आ सके। साथ ही कैट ने केंद्र सरकार से छोटे व्यापारियों के लिए राहत पैकेज की घोषणा करने की बात कही जिस पर केंद्रीय राज्य मंत्री द्वारा सकारात्मक पहल कर सभी मांगों पर सहानुभूतिपूर्वक विचार करने की बात कही गई।

 

04-05-2020
मध्यमवर्ग और छोटे व्यापारियों की सुध ले सरकार : प्रकाशपुंज पांडेय

रायपुर। राजनीतिक विश्लेषक एवं समाजसेवी प्रकाशपुंज पांडेय ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा है कि जिस प्रकार से पिछले 40 दिन से ज्यादा समय से पूरा भारत संपूर्ण लॉकडाउन में है। उससे पता चलता है कि भारत की जनता सरकार के दिशा निर्देशों का बखूबी पालन करना जानती है। लेकिन इसकी दूसरी तरफ एक बात बहुत जरूरी है कि क्या सरकार भी जनता की सुध लेती है? क्या देश की केंद्र और राज्य सरकारें अपनी जनता के प्रति संवेदनशील है?प्रकाशपुन्ज ने कहा कि जिस प्रकार से केंद्र व राज्य सरकारें पूंजीपतियों और ग़रीबों के हितों को देखते हुए उनके लिए तत्परता से कार्य कर रही है उसी प्रकार एक और वर्ग है इस देश में, इस समाज में जिसे कहा जाता है "मध्यमवर्ग"। उस मध्यम वर्ग के व्यक्ति की भी व्यथा को सरकार को समझना होगा। उस मध्यम वर्ग के छोटे व्यापारी और मझोले व्यापारी को भी सरकार को ध्यान देना होगा।

सरकार को यह सुनिश्चित करना होगा कि उस वर्ग के लोग तथा व्यापारी इस विपत्ति के समय कैसे अपना जीवन जी रहे हैं? क्योंकि उन्होंने सबसे ज्यादा इन्होंने ही लॉकडाउन में सरकार के नियमों का पालन किया है। लेकिन आज क्या उनके पास पर्याप्त मात्रा में धन है? क्या उनके पास पर्याप्त मात्रा में खाने की सामग्री है? इसके बारे में सरकार को सोचना होगा। लॉकडाउन को 40 दिन से ऊपर हो गए हैं, व्यापार ठप है, बाजार बंद है, तो सरकार को यह सोचना होगा कि यह मध्यम वर्ग के लोग किस प्रकार से अपना जीवन व्यतीत कर रहे हैं और इनके सामने क्या क्या परेशानियां खड़ी हो सकती है? प्रकाशपुन्ज पाण्डेय ने सरकार से अपील की है कि कृपया मध्यमवर्ग और छोटे व्यापारी के बारे में भी सरकार सोचे और उनके लिए भी कुछ उचित कदम उठाए।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804