GLIBS
26-05-2020
जिलावासी भयभीत नहीं होे, सतर्कता में ही है बुद्धिमता: रजत बंसल

धमतरी। धमतरी शहर के बठेनापारा वार्ड में कोरोना वायरस से संक्रमित दो लोगों की पुष्टि प्रशासन द्वारा की गई है। उक्त क्षेत्र को कंटेनमेंट जोन घोषित कर वहां पर स्वास्थ्य, पुलिस, नगरीय प्रशासन तथा राजस्व विभाग द्वारा आवश्यक उपाय किए जा रहे हैं। कलेक्टर रजत बंसल ने नगर में कोरोना के प्रकरण आने के उपरांत जिलावासियों से संयम व धैर्य के साथ घर पर ही सुरक्षित ढंग से रहने की अपील की है। उन्होंने कहा है कि जिले की आम जनता कोरोना वायरस से भयभीत न होकर सुरक्षात्मक उपायों पर फोकस करें। सावधानी, सतर्कता ही सबसे कारगर और बुद्धिमतापूर्ण उपाय है। कलेक्टर ने कहा है कि जिले में कोरोना धनात्मक प्रकरणों की पुष्टि होते ही स्वास्थ्य, नगरीय प्रशासन, पुलिस तथा राजस्व विभाग की टीमें काॅन्टैक्ट ट्रेसिंग कर संक्रमित लोगों से मिलने वालों की पतासाजी की जा रही है। साथ ही कन्टेनमेंट जोन में स्वास्थ्य विभाग द्वारा वार्ड के लोगों के ब्लड सैम्पलिंग के लिए संग्रहित किए जा रहे हैं। इसी तरह नगरीय निकाय प्रशासन की टीम लगातार हाइपोक्लोराइट सहित अन्य दवाओं का छिड़काव कर रही है। उन्होंने पुनः अपील करते हुए कहा है कि जहां तक संभव हो, लोग अपने घरों में ही रहे। आपातकालीन स्थिति या अति आवश्यक कार्य के लिए ही घर से बाहर निकलें तथा शासन द्वारा निर्धारित मापदण्ड के अनुसार सामाजिक एवं शारीरिक दूरी के नियमों का कड़ाई से पालन करते हुए मास्क, हैण्डवाॅश, सैनिटाइजर आदि का उपयोग करें, जिससे कोरोना वायरस कोविड-19 के संक्रमण का खतरा कम से कम हो।

 

08-05-2020
सावधानी और सतर्कता के साथ संचालित करें क्वारेंटाइन सेंटर्स : सिंहदेव


रायपुर। पंचायत एवं ग्रामीण विकास तथा स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने शुक्रवार को वीडियो कॉन्फ्रेस से प्रदेश के सभी जिलों के जिला व जनपद पंचायत सदस्यों और सरपंचों के साथ प्रवासी मजदूरों की क्वारेंटाइन व्यवस्था के संबंध में चर्चा की। उन्होंने कहा कि प्रवासी मजदूरों के लौटने पर उनकी जांच, क्वारेंटाइन की व्यवस्था और स्थानीय ग्रामीणों को सुरक्षित रखना हम सबके लिए बड़ी चुनौती होगी। इसकी व्यापक व्यवस्था के लिए राज्य शासन सभी विभागों के समन्वय से पर्याप्त संसाधन जुटाने में लगा हुआ है।वीडियो कॉन्फ्रेस में पंचायत एवं ग्रामीण विकास के प्रमुख सचिव गौरव द्विवेदी और स्वास्थ्य विभाग की सचिव निहारिका बारिक सिंह ने जिला व जनपद पंचायत कार्यालयों से जुड़े पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के मैदानी अधिकारियों और पंचायत प्रतिनिधियों को पूरी सावधानी और सतर्कता के साथ क्वारेंटाइन सेंटर्स में आवश्यक व्यवस्थाएं करने कहा। उन्होंने वहां बेरीकेटिंग, आवास, भोजन, बिजली, पानी, शौचालय, स्नानागार और साफ-सफाई के इंतजाम के बारे में आवश्यक निर्देश भी दिए। उन्होंने कहा कि सेंटर में रह रहे लोगों को डिस्पोजेबल्स में ही खाना-पीना दें। उनके द्वारा उपयोग किए गए डिस्पोजेबल्स एवं अन्य सामग्री का सावधानीपूर्वक मानकों के अनुरूप निपटान करें।पंचायत एवं ग्रामीण विकास तथा स्वास्थ्य मंत्री सिंहदेव ने कहा कि प्रवासी मजदूरों की गांव वापसी से घबराने की जरूरत नहीं है। कोरोना वायरस हवा से नहीं फैलता है। यह संक्रमित व्यक्ति के साथ व्यक्तिगत संपर्क या उनके थूक या छींक के जरिए मुंह या नाक से निकलने वाले कणों के शरीर में प्रवेश करने से होता है। प्रवासी श्रमिकों की समुचित जांच, निगरानी एवं 14 दिनों के क्वारेंटाइन से यह खतरा टाला जा सकता है। उन्होंने कहा कि दूसरे राज्यों से लौटने वाले लोगों और स्थानीय ग्रामीणों के बीच क्वारेंटाइन अवधि में सीधा संपर्क न हो।पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री ने लॉक डाउन अवधि में गांवों में रोजगार और आर्थिक व्यवस्था सुधारने पंचायत प्रतिनिधियों द्वारा किए जा रहे कार्यों की प्रशंसा की। उन्होंने पंचायत प्रतिनिधियों को बधाई देते हुए कहा कि आप लोगों की मेहनत और सक्रियता से मनरेगा में छत्तीसगढ़ में देश में सबसे अच्छा काम हो रहा है।

प्रवासी श्रमिकों और स्थानीय ग्रामीणों के स्वास्थ्य की सुरक्षा के लिए क्वारेंटाइन सेंटर्स के इंतजाम और संचालन में भी आप लोगों से इसी सहयोग की जरूरत है।उन्होंने विभागीय अधिकारियों एवं पंचायत प्रतिनिधियों को मनरेगा कार्यों में केवल श्रमिकों की संख्या बढ़ाने पर ही जोर नहीं देते हुए इसका वास्तविक लाभ अधिक से अधिक जरूरतमंद परिवारों तक पहुंचाने कहा। उन्होंने काम करने के इच्छुक प्रवासी मजदूरों और गांव में जिन लोगों के जॉब-कॉर्ड नहीं बने हैं, उनके भी जॉब-कॉर्ड बनाने के निर्देश दिए। जल संवर्धन, जल संचय और सिंचाई विस्तार के सामुदायिक एवं व्यक्तिमूलक कार्यों के साथ-साथ विभिन्न विभागों के साथ अभिसरण (Convergence) से आजीविका संवर्धन के कार्यों को प्रमुखता से लेने कहा।सिंहदेव ने हर गांव के लिए नरवा, गरवा, घुरवा, बारी योजना के अंतर्गत इसके सभी घटकों के लिए कार्ययोजना तैयार करने कहा। उन्होंने कृषि, उद्यानिकी, पशुपालन और मछली पालन के कार्यों को मनरेगा के साथ जोड़कर ग्रामीणों की आजीविका मजबूत करने कहा। इससे कृषि एवं संबद्ध क्षेत्रों के लिए बेहतर संसाधन भी तैयार होंगे। उन्होंने कहा कि नाबार्ड के सहयोग से प्रदेश में प्रधानमंत्री आवास योजना के काम भी जल्दी शुरू किए जा सकेंगे। वीडियो कॉन्फ्रेंस में पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के सचिव टीसी महावर, संचालक एस.प्रकाश और अपर विकास आयुक्त अशोक चौबे भी मौजूद थे।

 

23-04-2020
पीलिया से बचने पानी उबाल कर पीए, महापौर ने उपाय, सतर्कता और सही उपचार पर दिया जोर  

रायपुर। महापौर एजाज ढेबर ने एक बार फिर समस्त राजधानीवासियों से अपील की है कि पीलिया से बचने का सबसे जरूरी उपाय है पानी को उबालकर पीना। उन्होंने नागरिकों से कहा कि पीलिया के लक्षण दिखने पर तुरंत डॉक्टरी उपचार शुरू करना चाहिए। पानी को 20 मिनट तक उबालकर ठंडा कर पीना चाहिए। 20 लीटर पीने के पानी में एक क्लोरीन गोली पीस कर डालें और 30 मिनट बाद उसका उपयोग करना चाहिए।महापौर ने नगर निगम रायपुर के स्वास्थ्य व जलप्रदाय विभाग की ओर से व सभापति प्रमोद दुबे, स्वास्थ्य विभाग अध्यक्ष नागभूषण राव यादव, जलप्रदाय विभाग अध्यक्ष सतनाम सिंह पनाग के साथ समस्त राजधानीवासियों से अपील की कि प्रत्येक व्यक्ति को शौच के पश्चात और भोजन के पहले हाथ अच्छी तरह साबुन से अनिवार्य रूप से धोएं। खुले में रखी बासी, सड़ी-गली खाद्य सामग्री का सेवन कदापि नहीं करें। पीलिया के विषाणु मरीज के मल के साथ विसर्जित होते हैं। अत: किसी भी व्यक्ति को खुले में शौच नहीं करना चाहिए, न किसी व्यक्ति को खुले में शौच करने देना चाहिए। ऐसा आकस्मिकता में होने पर उसी समय तुरंत मल की सफाई आवश्यक है। उन्होंने कहा कि पीलिया वायरल हेपेटाइटिस ई प्रदूषित जल व भोजन से फैलने वाला संक्रामक रोग है। विषाणुओं के शरीर में प्रवेश करने के 15 से 50 दिनों में इस बीमारी के लक्षण सामने आते हैं।

पीलिया का मुख्य लक्षण  
भोजन का स्वाद न आना, भूख न लगना, पीले रंग की पेशाब होना, उल्टी लगना या होना, सिर में दर्द होना, कमजोरी और थकावट लगना, पेट के दाहिने तरफ ऊपर की ओर दर्द होना, आंखों और त्वचा का रंग पीला होना आदि। पीलिया रोग से सभी को नुकसान होता है, लेकिन इससे गर्भवती महिलाओं को अधिक खतरा होता है।
         

पीलिया रोग में सतर्कता और सही उपचार कारगर
उन्होंने कहा कि लक्षण दिखते ही तत्काल मेडिकल कॉलेज हास्पिटल, जिला अस्पताल या निकट के स्वास्थ्य केन्द्र से संपर्क कर उपचार शुरू कर देना चाहिए। यदि मरीज को स्वास्थ्य केन्द्र तक जाने में असुविधा हो तो टोल फ्री नंबर 108 किसी भी फोन से डायल कर निशुल्क संजीवनी एक्सप्रेस सेवा का तत्काल उपयोग स्वास्थ्य रक्षा के लिए करना चाहिए। चिकित्सकीय सलाह या अस्पताल के संबंध में जानकारी के लिए टोल फ्री नंबर 104 स्वास्थ्य परामर्श सेवा संपर्क नंबर पर किसी भी फोन से संपर्क कर सलाह तत्काल प्राप्त करनी चाहिए।

 

14-04-2020
करोना का संक्रमण जिले में कम है पर सतर्कता बरतना जरूरी : अरुण वोरा

दुर्ग। प्रदेश में कोरोना संक्रमण के अपेक्षाकृत कम मामले होने के बावजूद सतर्कता बरतना जरूरी है। दुर्ग जिले में सिर्फ एक कोरोना पॉजिटिव मरीज मिला है जो स्वस्थ हो चुका है। इसके बावजूद किसी भी तरह की लापरवाही या सुविधाओं में चूक नहीं होना चाहिए। उक्त बाते दुर्ग विधायक अरुण वोरा ने जिला अस्पताल दुर्ग की व्यवस्था देखने के दौरान कही। उन्होंने डॉक्टरों के लिए पीपीई किट्स, मास्क व मरीजों के लिए आइसोलेशन बेड, वेन्टीलेटर्स की उपलब्धता सुनिश्चित करने का सुझाव देते हुए कहा है कि अंतरराज्यीय सीमाएं खुलने से स्थिति नियंत्रण से बाहर होने का खतरा है। जिलों में आर्थिक गतिविधियां चलाना भी जरूरी है। इसके लिए पर्याप्त सावधानी से कुछ कार्य शुरू कराए जा सकते हैं। संक्रमण का खतरा रहने तक पूरी सावधानी व सतर्कता बरतते हुए ऐसा किया जा सकता है। वोरा ने कहा कि जिला अस्पताल दुर्ग में रैपिड कोरोना टेस्ट किट के साथ ही वेंटिलेटर, आइसोलेशन वार्ड में ज्यादा बेड उपलब्ध होना चाहिए। कोरोना संदिग्धों के लिए अलग व सामान्य मरीजों के लिए अलग से ओपीडी का संचालन करना बेहद जरूरी है। हर सरकारी कार्यालय में दिन में दो बार सेनेटाइजर स्प्रे की व्यवस्था होना चाहिए ताकि आने-जाने वालों की संख्या सीमित रखकर सोशल व फिजिकल डिस्टेंसिंग का विशेष ध्यान रखा जा सके। वोरा ने कहा कि स्कूल-कॉलेज सबसे बाद में खोलना चाहिए। इस दौरान स्कूल प्रबंधन छात्रों से फीस ना लें। डॉक्टरों के लिए पीपीई किट्स व इंफ़्रा रेड थर्मामीटर की व्यवस्था सुनिश्चित होना चाहिए। पेयजल आपूर्ति के लिए अति आवश्यक अमृत मिशन के कार्यों को शुरू करने की अनुमति देना जरूरी है। इसके अलावा आवश्यक वस्तुओं, राशन व किराना दुकानों, फल-सब्जी, दवाई दुकानों में भीड़ कम रखने 3 बजे की समय सीमा को धीरे-धीरे बढ़ाया जाना चाहिए। सब्जी मंडी एक से अधिक जगह पर लगाने की व्यवस्था करने और दिहाड़ी मजदूरों, गरीब जरूरतमंदों को राशन उपलब्ध कराने नोडल एजेंसी बना कर राशि जारी करना चाहिए ताकि कोई भी भूखा ना रहे।

24-03-2020
देश बंद रहेगा लेकिन शेयर मार्केट खुला रहेगा

रायपुर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को कोरोना से बचाव और सतर्कता के कारण देश मेें लॉक डाउन का ऐलान किया। इसमें देश में बंद की स्थिति रहेगी और लोग घर से बाहर नहीं निकलेंगे। आवश्यक वस्तुओं की दुकानें खुली रहेगी पर अन्य व्यवसायी संगठन बंद रहेंगे। इस दौरान देश का शेयर बाजार खुला रहेगा। इसमें मुंबई स्थि​त बाम्बे स्टाक एक्सचेंज और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज में शेयरों का कारोबार होगा। बता दें कि शेयर बाजार का कार्य आनलाइन संचालित होता है। इधर मंंगलवार को शेयर बाजार में गिरावट का सिलसिला थम गया है। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज बढ़त के साथ बंद हुआ। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज में भी निफ्टी बढ़त पर बंद हुआ।
 

30-09-2019
डीएसपी ने कहा-कम्पनी कमांडर ड्यूटी में बरतें सतर्कता  

रायपुर। पुलिस लाइन रायपुर में राजधानी में रहने वाले महत्वपूर्ण व्यक्तियों, महत्वपूर्ण प्रतिष्ठानों और बैंकों की सुरक्षा में लगे सशस्त्र बलों के कंपनी कमाण्डर और गार्ड की सुरक्षा संबंधी बैठक हुई। लाइन डीएसपी मणिशंकर चन्द्रा ने यह बैठक ली। बैठक में गार्ड कमाण्डर्स को सुरक्षा संबंधी महत्वपूर्ण दायित्वों से अवगत कराया गया। इसके साथ ही ड्यूटी में सतर्कता रखने की हिदायत दी गई। कुछ दिनों में ठण्ड का मौसम शुरू होने के कारण वेशभूषा को दुरुस्त करने की भी हिदायत दी गई। डीएसपी चन्द्रा ने बैठक में सभी कंपनी कमाण्डर को निर्देश दिया कि प्रत्येक संतरी को उसके दायित्वों और कार्य के बारे में समस्त गार्ड कमाण्डर के माध्यम से अवगत कराया जाए। समीक्षा के दौरान डीएसपी चन्द्रा ने उपस्थित अधिकारियों और कर्मचारियों से उनकी समस्याओं के बारे में जानकारी ली। बैठक में रक्षित निरीक्षक चन्द्रप्रकाश तिवारी, सूबेदार गोविंद कुमार वर्मा सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804