GLIBS
18-12-2019
प्रेस क्लब में दी गई वरिष्ठ पत्रकार स्व.रविकांत कौशिक को श्रद्धांजलि

रायपुर। वरिष्ठ पत्रकार स्व. रविकांत कौशिक का विगत 16 दिसंबर को निधन हो गया। बुधवार को प्रेस क्लब में आयोजित श्रद्धांजलि सभा में पत्रकारों ने दो मिनट का मौन धारण कर श्रद्धांजलि अर्पित की। श्रद्धांजलि सभा में पत्रकारों ने कहा कि स्व. कौशिक का निधन प्रेस क्लब परिवार के लिए अपूर्णीय क्षति है। नए पत्रकारों के लिए उनके द्वारा दिया गया योगदान भविष्य में उनका मार्गदर्शन करेगा। स्व.कौशिक ने सहज,सरल भाषा में जनता के दुख को अपनी लेखनी के माध्यम से व्यक्त किया। स्व. कौशिक ने अपनी अथक मेहनत से संघर्ष कर पत्रकारिता के क्षेत्र में बड़ा मुकाम हासिल किया।

18-12-2019
मुख्यमंत्री से वरिष्ठ पत्रकार विजय विद्रोही ने की मुलाकात

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से उनके निवास कार्यालय में दिल्ली के वरिष्ठ पत्रकार विजय विद्रोही ने मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को अपनी लिखी ‘90 सेकेंड की टीवी पत्रकारिता‘ नामक पुस्तक भेंट की। मुख्यमंत्री ने इसके लिये उन्हें धन्यवाद दिया। इस पुस्तक में विद्रोही ने बताया है कि कैसे टीवी पत्रकारिता में स्टोरी की जाती है। 32 साल से टीवी पत्रकारिता में सक्रिय विजय विद्रोही बड़े चैनलों में काम कर चुके हैं। अभी वो एबीपी न्यूज के कार्यकारी सम्पादक हैं। इस किताब की मदद से पत्रकारिता में आने वाले छात्रों को ये समझने में आसानी होगी की टीवी पत्रकारिता में 90 सेकेंड की क्या अहमियत है और आज के दौर के कैसे रिपोर्टिंग की जाती है। कैसे सूत्र बनाए जाते हैं और कैसे टीवी स्क्रिप्ट लिखी जाती है। किताब का प्रकाशन नेशनल बुक ट्रस्ट द्वारा किया गया है।

 

16-12-2019
वरिष्ठ पत्रकार कौशिक के निधन पर डॉ. रमन सिंह ने किया शोक व्यक्त  

रायपुर। भाजपा उपाध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने मुखर एवं प्रखर पत्रकार रविकान्त कौशिक के निधन पर संवेदना व्यक्त की है। डॉ. सिंह ने इसे अपनी निजी क्षति बताते हुए कहा कि कौशिक उनके अभिन्न पारिवारिक मित्र थे। प्रदेश की पत्रकारिता में स्थापित और अपना विशिष्ट स्थान रखने वाले कौशिक का देहावसान हृदयविदारक है। डॉ. सिंह ने कहा कि पत्रकारिता में वरिष्ठ पत्रकार कौशिक का तेवर, उनकी निष्ठा और ईमानदारी नयी पीढ़ी के लिये प्रेरणा का काम करेगी। वास्तव में उनका जाना प्रदेश की पत्रकारिता के एक विशिष्ट शैली का खत्म हो जाना है। उन्होंने कहा कि पत्रकारिता और राजनीति समेत समाज का एक बड़ा वर्ग इनके निधन से मर्माहत है। कौशिक अपनी एक अमिट छाप छोड़ कर गए हैं। उन्होंने ईश्वर से प्रार्थना की है कि परिवारजनों को इस पीड़ा को सहन करने की ताकत प्रदान करें। सम्पूर्ण भाजपा परिवार ने रविकान्त कौशिक के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है।

16-12-2019
वरिष्ठ पत्रकार कौशिक के निधन पर राज्यपाल, सीएम, विधानसभा अध्यक्ष ने शोक व्यक्त किया

रायपुर। राज्यपाल अनुसूईया उइके ने वरिष्ठ पत्रकार रविकांत कौशिक के निधन पर गहरा दु:ख व्यक्त किया है। उन्होंने ईश्वर से प्रार्थना की है कि  दिवंगत आत्मा को शान्ति प्रदान करें और शोक संतप्त परिवारजनों को इस दु:ख को सहन करने की शक्ति प्रदान करें। इसी तरह मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने राजधानी के वरिष्ठ पत्रकार रविकांत कौशिक के आकस्मिक निधन पर गहरा दु:ख व्यक्त किया है। उन्होंने शोक संदेश में कहा है कि वरिष्ठ पत्रकार कौशिक ने हमेशा पत्रकारिता के ऊंचे मानदण्डों को बनाए रखा। उनकी पहचान खबरों में निष्पक्षता और विश्वसनीयता को लेकर थी। उनका निधन प्रदेश के पत्रकारिता जगत के लिए अपूर्णीय क्षति है। मुख्यमंत्री ने ईश्वर से मृतआत्मा की शांति और परिवारजनों को इस दुख की घड़ी को सहन करने की शक्ति प्रदान करने की प्रार्थना की है।  

छत्तीसगढ़ विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत ने जाने-माने वरिष्ठ पत्रकार रविकांत कौशिक के निधन को दु:खद बताते हुए कहा कि उनके निधन की सूचना हृदय विदारक है, उनका निधन मेरे लिए व्यक्तिगत हानी है। निर्भीक पत्रकारों की छवि समेटे लम्बे समय तक उनकी पत्रकारिता से प्रदेश,समाज को नयी दिशा मिलती रही है, बेबाक सवालों के नाम से उन्होंने हमेशा ही पत्रकारिता को शीर्ष पर रखा। रविकांत कौशिक , युवा पत्रकारों के आदर्श थे। उनका यूं ही आकस्मिक चले जाना बेहद ही दु:खद असहनीय है। ईश्वर उनकी दिवंगत आत्मा को शांति दे और परिजनों को इस दु:ख जी घड़ी में शक्ति प्रदान करें।

10-12-2019
अनुज गुप्ता के निधन पर मुख्यमंत्री ने दी श्रद्धांजलि

रायपुर। वरिष्ठ पत्रकार अनुज गुप्ता के निधन पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने शोक व्यक्त कर श्रद्धांजलि दी है। मुख्यमंत्री ने ट्वीट कर लिखा कि अनुज गुप्ता से दिल्ली में बरसों से मुलाकात होती रही। वे एक विनम्र और प्रतिभावान पत्रकार थे। उनका इस तरह जाना दुखी कर गया। विनम्र श्रद्धांजलि।

10-12-2019
वरिष्ठ पत्रकार अनुज की अंतिम यात्रा में शामिल होंगे विधानसभा अध्यक्ष और सांसद ज्योत्सना महंत

कोरबा। कोरबा लोकसभा क्षेत्रांतर्गत बालको निवासी एवं दिल्ली में दैनिक समाचार पत्र नवभारत के वरिष्ठ पत्रकार अनुज गुप्ता का सोमवार को दु:खद निधन हो गया। अनुज गुप्ता के निधन पर छत्तीसगढ़ विधानसभा के अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत व कोरबा लोकसभा क्षेत्र की सांसद ज्योत्सना चरणदास महंत ने अपनी गहरी शोक संवेदना व्यक्त की है। इन्होंने कहा है कि स्व. अनुज गुप्ता उनके पारिवारिक सदस्यों में से एक रहे है। डॉ. महंत उन्हें अपने अनुज भ्राता के रूप में सदैव अपना स्नेह बनाये रखते थे। उनका पूरा परिवार से डॉ. महंत के परिवार से गहरा नाता रहा है। अनुज गुप्ता के निधन की खबर ने डॉ महंत को स्तब्ध कर दिया। विस अध्यक्ष व सांसद ने शोकाकुल परिवार को दु:ख की घड़ी सहन करने की शक्ति प्रदान करने एवं मृतात्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की है। वरिष्ठ पत्रकार स्व.अनुज गुप्ता की अंतिम संस्कार 10 दिसम्बर को दोपहर 2 बजे को दयानंद मुक्तिधाम, लाला लाजपत राय रोड, लोधीरोड निज़ामुद्दीन नई दिल्ली में किया जाएगा, जिसमें शामिल होने विधानसभा अध्यक्ष डॉ चरण दास महंत मंगलवार को दिल्ली रवाना होंगे जहाँ वे स्व.अनुज गुप्ता को श्रद्धांजलि देंगे व शोकाकुल परिवार से भेंट कर उनके दुख में सहभागी बनेंगे।

 

05-12-2019
प्रथम पुण्यतिथी पर वरिष्ठ पत्रकार त्रिपुरारी पांडेय को दी गयी श्रद्धांजलि

लखनपुर। पत्रकारिता के क्षेत्र में अपना एक अलग ही मकाम हासिल करने वाले पत्रकार स्व. त्रिपुरारी पांडेय को प्रथम पुण्य तिथि पर 4 दिसंबर को स्थानीय पत्रकारों, जनप्रतिनिधियों ने उनके छायाचित्र पर धूप दीप जला श्रद्धा सुमन अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। अपने शसक्त लेखनी और निष्पक्ष संवाद, कार्यकुशलता के लिए क्षेत्र में लंबे समय तक उन्हें जाना और पहचाना जाता रहा। इसके बाद उन्होंने लखनपुर में पत्रकारिता का एक अलग ही स्तंभ खड़ा किया जिसके तले आज लखनपुर में निर्भीक पत्रकारिता संभव हो पाई। उन्होंने जीवन के अंतिम छणों तक अपने लेखनी को कायम रखा तथा क्षेत्र में निर्भीक और निश्वार्थ पत्रकारिता की एक अलग परिभाषा कायम की। श्रद्धांजलि अर्पित करने कांग्रेस के जिला सचिव अमित सिंहदेव, वरिष्ठ पत्रकार मुन्ना पांडेय, प्रताप सिंह सिसोदिया, जानिसार अख्तर, मनोज कुमार, सावन पांडेय, मकसूद हुसैन, दिनेश बारी, शशिभूषण पांडेय सहित काफी संख्या में उनके चाहनेवाले उपस्थित रहे। इस अवसर पर उन्हें याद करते हुये जिला सचिव अमित सिंहदेव ने कहा कि ऐसा लगता है मानो वो अब भी हमारे साथ हैं। अपने लेखन कृति के जरिये आज भी बतौर यादें वो हम सबके बीच बने हुए हैं।

19-11-2019
इंदिरा गांधी ने हमें दूर दृष्टि, कड़ी मेहनत और पक्के इरादे का रास्ता बताया : भूपेश बघेल

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने देश की पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय इंदिरा गांधी को उनकी जयंती के अवसर पर विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा है कि इंदिरा गांधी ने हमें दूर दृष्टि, कड़ी मेहनत और पक्के इरादे का रास्ता बताया। प्रदेश और देश के विकास के लिए यही हमारा मूलमंत्र होना चाहिए। उन्होंने कहा कि हम समृद्ध छत्तीसगढ़ बनाना चाहते हैं। इसके लिए सबकी भागीदारी जरूरी है। मुख्यमंत्री आज यहां न्यू सर्किट हाउस में छत्तीसगढ़ में कार्यरत स्वैच्छिक संस्थाओं के संगठन वानी द्वारा इंदिरा गांधी की जयंती पर आयोजित विकास सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। सीएम भूपेश बघेल ने कहा है कि स्वैच्छिक संस्थाएं यदि शासकीय योजनाओं से जुड़ना चाहती हैं, तो उनका स्वागत है। स्वैच्छिक संस्थाएं गांवों में लोगों को प्रशिक्षण देने का और ग्रामीणों को स्वावलम्बी बनाने का काम करें। यह सुनिश्चित किया जाए कि अधिक से अधिक ग्रामीणों को योजनाओं का लाभ मिले।  

मुख्यमंत्री ने पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के व्यक्तित्व और कृतित्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि उन्होंने आजीवन गरीबों और समाज के कमजोर वर्गों के उत्थान के लिए काम किया और देश की एकता और अखण्डता की रक्षा के लिए अपना जीवन न्यौछावर कर दिया। उन्होंने  दूरदृष्टि और पक्के इरादे के साथ देश को नई दिशा प्रदान की। चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों में देश का कुशलतापूर्वक नेतृत्व करते हुए अंतर्राष्ट्रीय पटल पर भारत को प्रतिष्ठापूर्ण स्थान दिलाया। उनके हरित क्रांति कार्यक्रम की सफलता ने देश को खाद्यान्न उत्पादन में आत्मनिर्भर बनाया।

सीएम बघेल ने कहा कि इंदिरा गांधी ने बैंकों के राष्ट्रीयकरण, राजाओं के प्रिवीपर्स की समाप्ति जैसे कठोर निर्णय लिए। बांग्लादेश का उदय, भारत का परमाणु शक्ति संपन्न राष्ट्र बनना उनकी प्रमुख उपलब्धियां थी। इंदिरा गांधी बचपन से देश के स्वतंत्रता संग्राम में सक्रिय रहीं। उन्होंने बाल चरखा संघ की स्थापना की और असहयोग आंदोलन के दौरान बच्चों की वानर सेना बनायी। मुख्यमंत्री ने कहा कि इंदिरा गांधी को आयरन लेडी कहा जाता था। वे एक अनुशासित और कठोर शासक थीं, लेकिन उनके दिल में आदिवासियों, महिलाओं और गरीबों के प्रति कोमल भावनाएं थीं। इस अवसर पर वानी संगठन के अध्यक्ष योगेन्द्र प्रताप सिंह, उपाध्यक्ष बसंत यादव ने भी अपने विचार प्रकट किए। सम्मेलन में कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे, खाद्य मंत्री अमरजीत भगत, विधायक द्वय मोहन मरकाम और सत्यनारायण शर्मा, वरिष्ठ पत्रकार ललित सुरजन, मुख्यमंत्री के सलाहकार द्वय प्रदीप शर्मा और राजेश तिवारी विशेष अतिथि के रूप में उपस्थित थे। 
 

31-10-2019
सरदार पटेल के जाने के बाद से देश की अखण्डता खतरे में आई : अनिल पुसदकर

रायपुर। राष्ट्रीय एकता और अखण्डता के लिए भारत में आज सरदार पटेल की ज्यादा जरूरत महसूस की जा रही है। उनके रहते भारत की एकता और अखण्डता को कोई खतरा नहीं था। सरदार पटेल के जाने के बाद बहुत से कारण बने और वर्तमान में अलगाववादी और विघटनकारी ताकतें हावी हो रही हैं। उनके जाने के बाद ही एकता और अखण्डता खतरे में आई है। इसलिए सरदार पटेल आज ज्यादा प्रासंगिक हैं। उक्त बातें वरिष्ठ पत्रकार अनिल पुसदकर ने कही। सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती के अवसर पर रायपुर प्रेस क्लब में आयोजजित कार्यक्रम को अनिल पुसदकर संबोधित कर रहे थे। सूचना और प्रसारण मंत्रालय के अधीनस्थ कार्य करने वाले पत्र सूचना कार्यालय एवं रीजनल आउटरीच ब्यूरो रायपुर तथा प्रेस क्लब के संयुक्त तत्वाधान में 31 अक्टूबर राष्ट्रीय एकता दिवस पर परिसंवाद का कार्यक्रम आयोजित किया गया था।

पुसदकर ने आगे कहा कि सरदार पटेल को याद करने से ज्यादा आत्मसात करने की आवश्यकता है। देश आजादी के बाद बड़ी विषम परिस्थितियों से गुजर रहा था। उतनी विषम परिस्थितियां आज नहीं है। देश के बहुत से हिस्से अलगाववाद से ग्रस्त हैं। सरदार पटेल जो कह गए और कर गए उन्हें याद किया जाना चाहिए। सरदार पटेल ने महात्मा गांधी के कहने पर प्रधानमंत्री पद का त्याग कर दिया था आज तो मुख्यमंत्री पद के लिए झगड़े हो रहे हैं। उनमें जो त्याग की भावना थी वह आज नहीं दिखती। राष्ट्रीय एकता और अखंडता में सरदार पटेल का योगदान विषय पर परिसंवाद की अध्यक्षता वरिष्ठ पत्रकार रमेश नैयर ने की। इस दौरान वरिष्ठ पत्रकार गिरीश पंकज, सुभाष मिश्र सहित पत्र सूचना कार्यालय के अधिकारी भी मौजूद रहे। सभी ने उक्त विषय पर अपने विचार व्यक्त किए।

19-10-2019
मानिक खेर के निधन पर मुख्यमंत्री ने किया शोक व्यक्त

रायपुर। वरिष्ठ पत्रकार स्वर्गीय मधुकर खेर की पत्नी मानिक खेर का शनिवार को निधन हो गया। मानिक खेर का विगत कई दिनों से ईलाज जारी था। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मानिक खेर के निधन पर शोक व्यक्त किया है। मानिक खेर नगर निगम जनसम्पर्क अधिकारी मिलिंद खेर की माता, वरिष्ठ पत्रकार स्वर्गीय कमलाकर खेर की भाभी थी।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804