GLIBS
03-08-2020
नर्सो ने निभाई बहन की भूमिका, कोरोना पॉजिटिव भाईयों को बांधी राखी

धमतरी। रक्षाबंधन पर्व की खुशियां हर तरफ बिखरी, इससे कोविड अस्पताल भी अछूता नहीं रहा। भाई के पॉजिटिव होने पर भले ही बहने उन तक नहीं पहुंच सकीं पर उनकी भेजी राखी से भाइयों की कलाई जरूर सज गई। कोविड अस्पताल धमतरी में कुल 5 मरीज भर्ती है, जिनमें दो युवती व 3 युवक है। तीनों की बहनों तथा महिला स्वसहायता समूह से प्राप्त राखियों को उनकी कलाई में नर्सो ने पीपीई किट पहनकर बांधा। सीएमएचओ डॉ.डीके तुर्रे ने बताया कि संक्रमण को रोकने बहनों को मुलाकात करने नहीं दिया गया पर उनकी राखियां नर्सो के माध्यम से बंधवाने की व्यवस्था की गई,जिससे बहनों ने खुशी जाहिर की।

 

02-08-2020
राज्यपाल बहन को मुख्यमंत्री भाई की चिट्ठी : आपका संरक्षण हमारा सौभाग्य

रायपुर। प्रदेश के मुखिया मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने राज्यपाल अनुसुईया उइके की ओर से रक्षाबंधन पर्व पर भेजी गई राखी मिलने पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा है कि रक्षाबंधन और भुजलिया पर्व के अवसर पर आपने मुझे स्नेह, आर्शीवाद तथा राखी भेजकर जो विश्वास व्यक्त किया है, वह मेरे लिए अत्यंत प्रसन्नता तथा सम्मान का विषय है। बघेल ने बहन उइके को रक्षाबंधन पर्व की परंपरा अनुरूप भाई की तरफ से शुभकामनाओं सहित उन्हें नगद राशि और साड़ी उपहार में भेजी है। मुख्यमंत्री बघेल ने बहन उइके को लिखे पत्र में कहा है कि रक्षाबंधन का यह पर्व हमारे पारिवारिक संबंधों को नए शिखर पर पहुंचाने का माध्यम बना है। आपका संरक्षण मेरे और राज्य के लिए सौभाग्य का विषय है। मुख्यमंत्री के रूप में अपने दायित्वों का निर्वहन करने, कोरोना महामारी से निपटने और प्रदेश को प्रगति के पथ पर आगे ले जाने के लिए आपने मेरा जो उत्साहवर्धन किया है, उसके लिए मैं सदैव आपका आभारी रहूूंगा।

मुख्यमंत्री ने कहा है कि यह पावन पर्व हमारी महान संस्कृति के गरिमामय उत्कर्ष का प्रतीक भी है, जो बहनों के प्रति भाईयों के संकल्पों को सुदृढ़ बनाता है। आपने उत्तरदायित्वों के प्रति सजग करते हुए मुझे जो शुभकामनाएं प्रेषित की है, उसके लिए मैं कृतज्ञता व्यक्त करता हूं तथा आपको विश्वास दिलाता हूं कि आपकी भावनाओं के अनुरूप अपनी जिम्मेदारियों का निर्वाह पूरी निष्ठा तथा परिश्रम से करूंगा।

22-07-2020
महिला स्व-सहायता समूह ने बेची 15 हजार रूपए की कलात्मक राखियां

रायपुर। रक्षाबंधन पर्व के मौके पर बेमेतरा जिले की बिहान महिला स्व-सहायता समूह द्वारा सुंदर, आकर्षक, रंग-बिरंगी राखियां तैयार की जा रही है। समूह ने अब तक लगभग 15 हजार रूपए की राखी बेच चुकी है। समूह द्वारा निर्मित आकर्षक राखियों की 2 हजार रूपए की बिक्री जिला पंचायत बेमेतरा के अधिकारियों-कर्मचारियों को की है। इसी तरह जिले की महिला स्व-सहायता समूहों द्वारा निर्मित राखियों की बिक्री स्थानीय हाट बाजार और शासकीय कार्यालयों में सस्ते दामों पर की जा रही है। जिले में गंगा महिला स्व-सहायता समूह बिलई और जय महालक्ष्मी स्व-सहायता समूह जेवरा एस द्वारा भी राखी बनाने का कार्य किया जा रहा है।

 

 

13-07-2020
स्वसहायता समूह की महिलाएं बना रही हैं राखियां, मिल रहा घर में रोजगार

जांजगीर-चांपा। राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन बिहान से जुड़ी स्वसहायता समूह की महिलाओं ने रक्षाबंधन के पर्व की तैयारियां शुरू कर दी हैं। उन्होंने भाई-बहन के पवित्र रिश्ते को मजबूती से बांधने के लिए धान,चावल, रूद्राक्ष, रंगीन मोती, स्टोन, ऊन से राखियां बनाना शुरू कर दिया है‌। बनाई जा रही राखियां आसपास के मार्केंट के दुकानदारों को उपलब्ध कराया जा रहा है। महिला समूह द्वारा निर्मित ये राखियां सस्ते दामों में लोगों को मिल सकेंगी। जिला पंचायत मुख्य कार्यपालन अधिकारी तीर्थराज अग्रवाल ने बताया कि एनआरएलएम बिहान से महिला स्व सहायता समूहों को विभिन्न गतिविधियों से जोड़कर उन्हें आत्मनिर्भर बनाया जा रहा है। अगले माह रक्षाबंधन त्यौहार आ रहा है, इसलिए समूहों को राखियां बनाकर बेहतर स्वरोजगार प्राप्त हो इसके लिए लगातार प्रेरित भी किया जा रहा है। जनपद पंचायत बम्हनीडीह की ग्राम पंचायत परसापाली, पोडीशंकर की महिला स्व सहायता समूह जयदेवी दाई, सिद्ध बाबा समूह की अध्यक्ष नीरा यादव, लीला  वी,शीतबाबा समूह अध्यक्ष बंसती जायसवाल, निशा जायसवाल, रानी लक्ष्मीबाई समूह बिर्रा की सदस्यों का कहना है कि रक्षाबंधन बनाने से उन्हें कोरोना वैश्विक महामारी के दौरान समूह को स्वरोजगार मिल रहा है।

छत्तीसगढ़ी देशी राखियों के निर्माण में धान, चावल एवं अन्य अनाज का उपयोग किया जा रहा है। पिछले एक सप्ताह से राखियां बनाकर उन्हें आसपास के मार्केट में बेचा जा रहा है, इससे समूह को अच्छी आमदनी हो रही है। रक्षाबंधन त्यौहार के पूर्व समूह की महिलाएं घरों में कोरोना वायरस को ध्यान में रखते हुए रेशम के धागेे, छोटे-बड़े मोती, चावल के दाने, अलग-अलग रंगीन कपड़े, छोटे-छोटे रूद्राक्ष, रंगीन पत्थर आदि  मार्केट से खरीदकर उनसे राखियां तैयार कर रहीं हैं। नगरदा क्लस्टर के अंतर्गत आने वाली ग्राम पंचायत सकरेली खुर्द के बजरंग समूह, जर्वे के सर्वमंगला समूह की अध्यक्ष हमेश्वरी श्रीवास, जेठा कलस्टर से नया सवेरा समूह की अध्यक्ष ज्योति डनसेना, जनपद पंचायत के  बलोदा के अंतर्गत नवगवा स्व सहायता समूह की महिलाओं के द्वारा राखी बनाई जा रही है। समूह की महिलाओं द्वारा देशी राखियां खरीदने की अपील लोगों से की जा रही है ताकि उन्हें रोजगार मिलता रहे और देश का पैसा देश में ही रहे।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804