GLIBS
11-06-2021
भूपेश बघेल ने किया राजनांदगांव जिले में 192 विभिन्न निर्माण कार्यों का शिलान्यास और लोकार्पण

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अपने निवास कार्यालय में आयोजित वर्चुअल कार्यक्रम में राजनांदगांव जिले में 556 करोड़ 86 लाख रूपए की लागत के 192 विभिन्न निर्माण कार्यों का शिलान्यास और लोकार्पण किया। उन्होंने इनमें से 231 करोड़ 18 लाख रूपए की लागत से 135 कार्यों का शिलान्यास तथा 325 करोड़ 68 लाख 20 हजार रूपए की लागत के 57 कार्यों का लोकार्पण किया। इस अवसर पर गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू, कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री मो.अकबर, स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ.प्रेमसाय सिंह टेकाम, खाद्य आपूर्ति निगम के अध्यक्ष रामगोपाल अग्रवाल, मुख्यमंत्री के अपर मुख्य सचिव सुब्रत साहू और मुख्यमंत्री के सचिव सिद्धार्थ कोमल परदेशी भी उपस्थित थे।

20-05-2021
भूपेश बघेल ने सेवा रथ का किया वर्चुअल लोकार्पण,राजनांदगांव जिले को मिली 4 एम्बुलेंस

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने राजनांदगांव जिले में कोविड संक्रमण से प्रभावित मरीजों को तत्काल चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने के लिए 4 सेवा रथ एम्बुलेंस का गुरुवार शाम लोकार्पण किया। मुख्यमंत्री की ओर से रायपुर स्थित अपने निवास कार्यालय से वर्चुअल लोकार्पण के बाद राजनांदगांव में छत्तीसगढ़ अनुसूचित जाति विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष भुनेश्वर बघेल ने हरी झंडी दिखाकर एम्बुलेंस को रवाना किया। छत्तीसगढ़ अनुसूचित जाति विकास प्राधिकरण की ओर से  ये एम्बुलेंस राजनांदगांव जिले में स्वास्थ्य सुविधाओं के विस्तार के लिए प्रदान की गई हैं। मुख्यमंत्री ने अपने उद्बोधन में कहा कि कोरोना की दूसरी लहर के दौरान पूरे छत्तीसगढ़ के साथ-साथ राजनांदगांव जिले के लोगों ने भी बहुत कठिनाईयों का सामना किया है। सभी के सहयोग से इस संक्रमण को नियंत्रित करने में काफी हद तक सफलता मिली है। बहुत संतोष की बात है कि छत्तीसगढ़ में संक्रमण दर अब सिर्फ 8 प्रतिशत रह गई है। राजनांदगांव जिले में तो यह केवल 3 प्रतिशत के आसपास आ गई है। पूरे प्रदेश में नए मरीजों की संख्या घट रही है और रिकव्हरी रेट में लगातार सुधार हो रहा है। यह बड़ी खुशी की बात है कि राजनांदगांव जिले में रिकव्हरी रेट 94 प्रतिशत के आसपास पहुंच चुका है। इसी प्रकार छत्तीसगढ़ प्रदेश में रिकवरी रेट अब 89 से 90 प्रतिशत हो गयी है। ये सभी के सामूहिक प्रयासों से ही संभव हो पाया है। हम लोगों ने बहुत कुछ  गंवाने के बाद ये मुकाम हासिल किया है। कोरोना के कारण बहुत से लोग हम से हमेशा के लिए बिछड़ गए। कोरोना वायरस कितना खतरनाक हो सकता है इस बात का अहसास इस दूसरी लहर ने हमें अच्छी तरह से करा दिया है। 


मुख्यमंत्री बघेल ने कोरोना की दूसरी लहर के दौरान सभी सामाजिक एवं अन्य संगठनों की ओर से हर स्तर पर दिए गए सहयोग की सराहना की। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में इस लड़ाई को लड़ने में  सभी वर्गों के लोगों और सामाजिक संगठनों ने सक्रिय योगदान दिया। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना का संकट अभी टला नहीं है। संसाधनों के विकास के साथ-साथ यह भी जरूरी है कि हम कोरोना काल के सामाजिक नियमों का पालन करें। सोशल डिस्टेंसिंग अपनाएं। समय-समय पर हाथ धोते रहे। सामाजिक कार्यक्रमों में भीड़भाड़ से बचें। खुद भी जागरूक रहें, दूसरों को भी जागरूक करें। जब आपकी पारी आए, तो टीकाकरण जरूर कराएं। कोरोना से बचने का सबसे अच्छा तरीका टीकाकरण और मास्क ही है। हम लोगों को यह भरोसा है कि शहरी क्षेत्रों की तरह ग्रामीण क्षेत्रों में भी हम कोरोना को जल्दी से जल्दी परास्त करेंगे।  मुख्यमंत्री ने कहा कि मरीजों को शीघ्रता के साथ उपचार मिले और गंभीर मरीजों को तत्परता के साथ अस्पताल पहुंचाया जा सके, इसके इंतजाम किए जा रहे हैं। राजनांदगांव में चार मेडिकल एम्बुलेंस का लोकार्पण हो रहा है। इनकी व्यवस्था अनुसूचित जाति विकास प्राधिकरण मद से की गई है। ये एम्बुलेंस सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र घुमका, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र डोंगरगढ़, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र मुढ़ीपार, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र मरकाम टोला को उपलब्ध करायी जा रही है। इन एम्बुलेंसों के जरिए इन क्षेत्रों की स्वास्थ्य अधोसंरचना को और मजबूती मिलेगी। 
मुख्यमंत्री निवास में मुख्यमंत्री के सलाहकार विनोद वर्मा, राजनांदगांव के कार्यक्रम स्थल पर छत्तीसगढ़ अनुसूचित जाति विकास प्राधिकरण अध्यक्ष भुनेश्वर बघेल, अंत्यावसायी वित्त एवं विकास निगम छत्तीसगढ़ के अध्यक्ष धनेश पाटिला, नगर पालिक निगम राजनांदगांव की महापौर हेमा देशमुख, राजनांदगांव कलेक्टर टोपेश्वर वर्मा, पदमकोठारी और अन्य जनप्रतिनिधि एवं सामान्यजन उपस्थित थे।

19-01-2021
भूपेश बघेल 20 जनवरी को रायपुर, बालोद और राजनांदगांव जिले के कार्यक्रमों में होंगे शामिल

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल 20 जनवरी को राजधानी रायपुर, बालोद और राजनांदगांव जिले में आयोजित कार्यक्रमों में शामिल होंगे। मुख्यमंत्री बघेल पूर्वान्ह 11.30 बजे अपने निवास कार्यालय में आयोजित कार्यक्रम में खाद्य प्रौद्योगिकी महाविद्यालय रायपुर सहित 5 उद्यानिकी महाविद्यालयों साजा (बेमेतरा जिला), अर्जुन्दा (बालोद जिला), धमतरी, जशपुर और लोरमी (मुंगेली जिला) और नवीन कृषि विज्ञान केन्द्र कोण्डागांव का शुभारंभ करेंगे। बघेल इस अवसर पर प्रदेश के कृषि महाविद्यालयों, कृषि विज्ञान केन्द्रों और नवीन कृषि महाविद्यालयों में 109 करोड़ 77 लाख रूपए की लागत के अधोसंरचना विकास कार्यों का लोकार्पण और शिलान्यास करेंगे। मुख्यमंत्री इनमें से 46 करोड़ 67 लाख रूपए की लागत के कार्यों का लोकार्पण और 63 करोड़ 10 लाख रूपए की लागत के कार्यों का भूमिपूजन और शिलान्यास करेंगे।

इन कार्यों में कृषि महाविद्यालयों के भवन, बालक-बालिका छात्रावास, अनुसंधान केन्द्र, हाइटेक नर्सरी, सीड प्रोसेसिंग भवन, हैचरी, कृषि विज्ञान केन्द्रों में प्रशासनिक भवन और कृषक छात्रावास निर्माण के कार्य शामिल हैं। बघेल इस अवसर पर इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय द्वारा तैयार किए गए डिजिटल कृषि पंचांग और कृषि दर्शिका-2021 का विमोचन भी करेंगे।  बघेल रायपुर से दोपहर 1.15 बजे हेलीकॉप्टर द्वारा रवाना होकर 1.40 बजे बालोद जिले के डौंडी विकासखण्ड स्थित ग्राम ठेमाबुजुर्ग पहुचेंगे और वहां गैंदसिंह शहादत दिवस तथा अखिल भारतीय हल्बा-हल्बी आदिवासी समाज महासभा के कार्यक्रम में शामिल होंगे। मुख्यमंत्री 3.25 बजे हेलीकॉप्टर द्वारा राजनांदगांव जिले के छुरिया विकासखण्ड के ग्राम गोडलवाही पहुंचेंगे और वहां अखिल भारतीय हल्बा-हल्बी आदिवासी समाज महासभा के कार्यक्रम में शामिल होंगे। बघेल शाम 5.15 बजे रायपुर लौटेंगे।

 

 

16-12-2020
राज्यपाल ने डॉ. पंडित चैतन्य गोस्वामी को दी श्रद्धांजलि 

रायपुर। राज्यपाल अनुसुईया उइके ने राजनांदगांव जिले के डोंगरगांव निवासी आयुर्वेदाचार्य, आध्यात्मिक व्यक्तित्व, बनारस विश्वविद्यालय के संस्थापक सदस्य और महामना मदनमोहन मालवीय के शिष्य 109 वर्षीय डॉ. पंडित चैतन्य गोस्वामी के निधन पर गहरा दुख व्यक्त किया है। राज्यपाल ने उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए उनकी आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की है और उनके शोक संतप्त परिजनों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की है।

15-12-2020
 छत्तीसगढ़ में अब तक 23.10 लाख मीट्रिक टन धान की खरीदी,6.34 लाख किसानों ने बेचा धान

रायपुर।  खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में 15 दिसंबर तक 23 लाख 10 हजार मीट्रिक धान की खरीदी की गई है। अब तक राज्य के 6 लाख 34 हजार किसानों ने समर्थन मूल्य पर धान बेचा। राज्य के मिलरों को 5 लाख 54 हजार 349 मीट्रिक टन धान का डीओ जारी किया गया है। इसके विरुद्ध मिलरों ने अब तक 1 लाख हजार 93 हजार मीट्रिक टन धान का उठाव कर लिया गया है। खरीफ वर्ष 2020-21 में 15 दिसंबर तक राज्य के महासमुंद जिले में 1 लाख 64 हजार 250 मीट्रिक टन धान की खरीदी की गई है। इसी प्रकार बस्तर जिले में 26 हजार 138 मीट्रिक टन, बीजापुर जिले में 7 हजार 60 मीट्रिक टन, दंतेवाड़ा जिले में 1 हजार 412 मीट्रिक टन, कांकेर जिले में 75 हजार 222 मीट्रिक टन, कोंडागांव जिले में 36 हजार 440 मीट्रिक टन, नारायणपुर जिले में 3 हजार 171 मीट्रिक टन, सुकमा जिले में 5 हजार 233 मीट्रिक टन, बिलासपुर जिले में 1 लाख 16 हजार 267 मीट्रिक टन, गौरेला-पेंड्रा-मरवाही जिले में 16 हजार 98 मीट्रिक टन, जांजगीर-चांपा जिले में 1 लाख 87 हजार 139 मीट्रिक टन, कोरबा जिले में 21 हजार 605 मीट्रिक टन, मुंगेली जिले में 91 हजार 137 मीट्रिक टन खरीदी की गई है।
इसी तरह रायगढ़ जिले में 1 लाख 40 हजार 299 मीट्रिक टन, बालोद जिले में 1 लाख 54 हजार 381 मीट्रिक टन, बेमेतरा जिले में 1 लाख 57 हजार 95 मीट्रिक टन, दुर्ग जिले में 1 लाख 18 हजार 18 मीट्रिक टन, कवर्धा जिले में 1 लाख 17 हजार 920 मीट्रिक टन, राजनांदगांव जिले में दो लाख 7 हजार 459 मीट्रिक टन, बलौदाबाजार जिले में 1 लाख 45 हजार 842 मीट्रिक टन, धमतरी जिले में 1 लाख 19 हजार 529 मीट्रिक टन, गरियाबंद जिले में 92 हजार 124 मीट्रिक टन, रायपुर जिले में 1 लाख 49 हजार 126 मीट्रिक टन, बलरामपुर जिले में 28 हजार 208 मीट्रिक टन, जशपुर जिले में 21 हजार 772 मीट्रिक टन, कोरिया जिले में 19 हजार 748 मीट्रिक टन, सरगुजा जिले में 38 हजार 534 मीट्रिक टन और सूरजपुर जिले में 48 हजार 570 मीट्रिक टन धान की खरीदी की गई है।

09-12-2020
स्वास्थ्य ठीक नहीं होने के कारण कृषक करण साहू की मौत, एसडीएम ने सौंपा प्राथमिक जांच प्रतिवेदन

रायपुर। राजनांदगांव जिले में तहसील राजनांदगांव के अंतर्गत धान खरीदी केन्द्र घुमका में गत दिवस 8 दिसंबर को धान बेचने के दौरान ग्राम गिधवा के कृषक करण साहू की मृत्यु हो गई। मृत्यु के कारणों में कृषक साहू के स्वास्थ्य को ठीक नहीं होना बताया जा रहा है। इस संबंध में अनुविभागीय दंडाधिकारी राजनांदगांव प्राथमिक जांच कर अपने प्रतिवेदन में बताया कि मृतक के पुत्र और सहायक समिति प्रबंधक दुलेश कुमार वर्मा और ठेकेदार दाऊलाल दुबे के कथनानुसार कृषक करण साहू का स्वास्थ्य ठीक नहीं था। उन्होंने बताया कि कृषक करण साहू को चक्कर आने के कारण वह कुछ  समय धान की बोरे से टीक कर बैठा था। अचानक कृषक करण साहू चक्कर आने से गिरकर बेहोश हो गया। उसे एम्बुलेंस वाहन 112 से सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र घुमका ले जाया गया,जहां डॉक्टर ने मृत घोषित किया। मृतक के पास कुल 0.547 हेक्टेयर धारित रकबा है। उसने गत वर्ष 2019.20 में 0.494 हेक्टेयर पंजीकृत कराया गया था, जिसमें 33 हजार 596 रूपए की राशि का कुल 18.4 क्विंटल धान का विक्रय किया गया था। दिसम्बर 2018 की स्थिति में कृषक पर कुल कर्ज 23 हजार रुपए था। उसे कर्ज माफी का लाभ भी मिला है। साथ ही 21 मई 2020, 20 अगस्त 2020 और 1 नवम्बर 2020 को 3 हजार 256 रुपए के हिसाब से कुल 9 हजार 768 रुपए के रूप में बोनस भी दिया गया है। मृतक कृषक का मनरेगा जॉब कार्ड भी है। उसने वर्ष 2020 में जनवरी से नवंबर माह तक 42 दिनों का कार्य किया गया है। भुगतान भी किया जा चुका है।

 

27-11-2020
भूपेश बघेल  ने कहा - अनुसूचित जनजाति के विचाराधीन प्रकरणों के निराकरण में लाएं तेजी 

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने शुक्रवार को राजधानी स्थित अपने निवास कार्यालय में गृह विभाग की समीक्षा बैठक ली। उन्होंने बैठक में बस्तर संभाग और राजनांदगांव जिले में अनुसूचित जनजाति वर्ग के लोगों के विरूद्ध विचाराधीन प्रकरणों की अद्यतन स्थिति की समीक्षा करते हुए इनके निराकरण में तेजी लाने के निर्देश दिए। बैठक में बताया गया कि बस्तर संभाग के 7 जिलों तथा राजनांदगांव जिले में 494 प्रकरणों में अनुसूचित जनजाति वर्ग के विचाराधीन लोगों की कुल संख्या 869 हैं। जिला स्तरीय समिति द्वारा इनमें से 722 लोगों के विरूद्ध विचाराधीन प्रकरणों को वापस लिए लाने की अनुशंसा गृह विभाग से की गई है। मुख्यमंत्री बघेल ने समिति द्वारा अनुशंसित प्रकरणों का तत्परता से निराकरण करने तथा शेष मामलों को संवेदनशीलता के साथ निराकृत करने के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए। बैठक में जानकारी दी गई कि जिला स्तरीय समिति द्वारा बस्तर जिले के 39, दंतेवाड़ा के 41, कांकेर के 9, बीजापुर के 142, नारायणपुर के 28, कोण्डागांव के 34, सुकमा के 413 तथा राजनांदगांव जिले के 16 लोगों के प्रकरणों की वापसी की अनुशंसा की गई है। बैठक में गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू, अपर मुख्य सचिव गृह सुब्रत साहू, पुलिस महानिदेशक डीएम अवस्थी, पुलिस महानिदेशक ;नक्सल ऑपरेशन अशोक जुनेजा, मुख्यमंत्री के सचिव सिद्धार्थ कोमल सिंह परदेशी, बस्तर रेंज के पुलिस महानिरीक्षक  पी सुन्दर राज, संचालक लोक अभियोजन प्रदीप गुप्ता सहित गृह विभाग के अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

28-07-2020
वन अधिकार पट्टा मिलने से खुश है बीना यादव,कहा बच्चों को पढ़ाएंगी,भूपेश सरकार के फैसले का असर

रायपुर। भूपेश बघेल की जनहित और कल्याणकारी नीतियों से अब लोग उत्साहित हैं। राजनांदगांव जिले के मोहला विकासखंड के दूरस्थ ग्राम मिस्प्री की बीना यादव को वन अधिकार पट्टा से जमीन मिलने पर उनमें खेती करने के लिए उत्साह और खुशी है। शासन के कारगर प्रयासों से जंगलों में लघुवनोपज संग्रहण करने वाले लोगों की जिंदगी बदल रही है। बीना ने बताया की उन्हें 50 डिसमिल जमीन मिली है, जिस पर उन्होंने उनके पति जोहित यादव ने धान की फसल लगाई है। उन्होंने कहा कि दो छोटे बच्चे प्रियंका और दुष्यंत हैं,जिन्हें वे अच्छी तरह पढ़ाना चाहती है। उनके परिवार में वन अधिकार पट्टा के तहत मोहनलाल, पुरुषोत्तम, जागेश्वर को कुल 2 एकड़ की जमीन मिली है। बीना ने बताया कि हम सब वनों में महुआ,चार,हर्रा और अन्य तरह के वनोपज एकत्रित करते हैं, वहीं कुसुम पेड़ से लाख का भी संग्रहण करते हैं। यह हमारे आजीविका का साधन है, लेकिन अब जमीन पर अधिकार मिलने से कृषि कार्य करने से आमदनी बढ़ेगी।

 

25-07-2020
गृहमंत्री के निर्देश के बाद 24 घंटे में पकड़ा गया हत्या का आरोपी

रायपुर। राजनांदगांव जिले में हत्या का मामला संज्ञान में आते ही प्रदेश के गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने संबंधित अधिकारियों को तत्काल कार्यवाही करने के निर्देश देने के बाद पुलिस ने आरोपियों की गिरफ्तारी 24 घंटे के भीतर कर ली है। गौरतलब है कि राजनांदगांव-अम्बागढ़ चौकी के रायसिंह पिता स्व.आनंद सिंह पटेल ने 22 जुलाई की सुबह थाने आकर रिपोर्ट लिखाई की रात में सभी खाना खाकर सोए थे। सुबह उसके छोटे बेटे अनुज पटेल की लाश बिस्तर पर मिली। पुलिस ने मर्ग कायम कर जांच शुरू की और पोस्टमार्टम में गला घोंटकर कर हत्या करना पाया। जांच के दौरान घटना स्थल कातुलवाहि जाकर सूक्ष्मता से पूछताछ करने पर मृतक का बड़ा भाई अन्नू पटेल जो शादी शुदा था। उसने अपना जुर्म कबूल किया और बताया कि मृतक अनुज खेत के काम में मदद नहीं करता था। इतना ही नहीं वह नशे का आदी था। पहले दोनों के बीच दो बार झगड़ा हो चुका था। वह उसकी पत्नी से भी मारपीट करता था। मौका देखकर अपनी पत्नी के साथ गमछे से नाक मुँह दबाकर उसकी हत्या कर दी। निरीक्षक आशीर्वाद रहटगांवकर ने वरिष्ठ अधिकारियों के मार्गदर्शन में 12 घंटे में ही हत्या की गुत्थी सुलझाने में सफलता प्राप्त की। आरोपियों को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया गया जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया है।

21-07-2020
महासमुंद जिले के दो और राजनांदगांव जिले की एक सिंचाई जलाशय के जीर्णोद्धार कार्य के लिए 7.51 करोड़ की स्वीकृत

रायपुर। छत्तीसगढ़ शासन के जल संसाधन विभाग की ओर से महासमुंद जिले के दो और राजनांदगांव जिले की एक सिंचाई जलाशय के जीर्णोद्धार कार्य के लिए 7 करोड़ 51 लाख 69 हजार रूपए की स्वीकृत की गई है। इन सिंचाई जलाशयों के पूरा होने से 1090.63 हेक्टेयर क्षेत्र में किसानों को सिंचाई की सुविधा मिलेगी। जल संसाधन विभाग से मिली जानकारी के अनुसार महासमुंद जिले के विकासखंड महासमुंद की कोडार जलाशय परियोजना की बम्हनी वितरक नहर लाईनिंग कार्य के लिए 2 करोड़ 54 लाख 80 हजार और पसीदा जलाशय के नहर लाइनिंग, पक्के कार्यों का सुधार एवं जीर्णोंद्धार कार्य के लिए 2 करोड़ 11 लाख 27 हजार रूपए तथा राजनांदगांव जिले के विकासखंड डोंगरगढ़ की पेटेश्री नदी पर झिटिया एनीकट योजना के निर्माण के लिए 2 करोड़ 85 लाख 62 हजार रूपए की प्रशासकीय स्वीकृति दी गई है।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804