GLIBS
10-10-2019
सीएम भूपेश बघेल ने कहा- महात्मा गांधी के राष्ट्रवाद में सभी के लिए है स्थान

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा है कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के राष्ट्रवाद में समाज के हर वर्ग के लिए स्थान है। उनके राष्ट्रवाद में कमजोर से कमजोर व्यक्ति की असहमति का भी सम्मान है। महात्मा गांधी का राष्ट्रवाद हमारे संत, महात्माओं, महान विचारकों, महावीर स्वामी, गौतम बुद्ध, गुरूनानक, कबीर, बाबा गुरू घासीदास जैसी विभूतियों के विचारों से प्रभावित है और सभी के लिए कल्याणकारी है। मुख्यमंत्री राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के अवसर पर आयोजित ह्यगांधी विचार पदयात्रा के सातवें दिन आज रायपुर जिले के डूंडा में आयोजित आमसभा को सम्बोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने आमसभा को संबोधित करते हुए कहा कि देश के स्वतंत्रता आंदोलन के  दौरान छत्तीसगढ़ के ग्राम कंडेल में प्रथम सविनय अवज्ञा आंदोलन हुआ था। यहां किसानों पर अंग्रेजों द्वारा सिंचाई कर लगाने के निर्णय के विरोध में स्वतंत्रता संग्राम सेनानी स्वर्गीय  बाबू छोटेलाल श्रीवास्तव के नेतृत्व में कंडेल नहर सत्याग्रह किया गया। किसानों ने अंग्रेजों द्वारा लगाया गया सिंचाई कर देने से इंकार कर दिया था। इस नहर सत्याग्रह में शामिल होने के लिए महात्मा गांधी कंडेल आने वाले थे। यह सूचना मिलने पर अंग्रेजों को सिंचाई कर हटाना पड़ा। कंडेल नहर सत्याग्रह की स्मृति को चिरस्थायी बनाने और गांधी के विचारों को जन-जन तक पहुंचाने के लिए कंडेल से ह्यगांधी विचार पदयात्रा प्रारंभ की गई है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि महात्मा गांधी ने किसानों, मजदूरों की लड़ाई लड़ी। नारी शिक्षा, नारी उत्थान और स्वावलम्बन के लिए काम किया। महात्मा गांधी अस्पृश्यता के खिलाफ थे। उन्होंने अछूतों का साथ दिया, अपने सिर पर खुद मैला धोया, मवेशियों के चमड़े से अपने हाथों से चप्पल बनाई और हर काम को सम्मान दिया। उन्होंने स्वदेशी और स्वावलम्बन को बढ़ावा देते हुए चरखा चलाया और ब्रिटिश सम्राज को आर्थिक चोट पहुंचायी। उन्होंने सत्य और अहिंसा के रास्ते पर चलकर देश को आजादी दिलाई। महात्मा गांधी के इस रास्ते पर चलकर दुनिया के अनेक देशों ने स्वाधीनता पायी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि आज पूरा देश राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती मना रहा है। छत्तीसगढ़ में महात्मा गांधी की स्मृति में विधानसभा का दो दिवसीय विशेष सत्र आयोजित किया गया और 4 अक्टूबर से गांधी जी के विचारों और आदर्शों को जन-जन तक पहुंचाने के लिए कंडेल से गांधी विचार पदयात्रा प्रारंभ की गई।  इस पदयात्रा का आज समापन नहीं हो रहा बल्कि यह अब विकासखंडों तक पहुंचेगी। उन्होंने कहा कि भगवान राम की माता कौशल्या छत्तीसगढ़ की थीं और इसी के अनुरूप छत्तीसगढ़ के भांजा का चरण स्पर्श किया जाता है। उन्होंने शबरी के झूठे बेर खाये, केवट को गले लगाया। छत्तीसगढ़ के जन-जन में भगवान राम समाये हैं। छत्तीसगढ़ सरकार महात्मा गांधी के बताए रास्ते पर चल रही है। राज्य सरकार ने किसानों का कर्जा माफ किया, किसानों को देश में सबसे अधिक 2500 रुपए प्रति क्विंटल धान का मूल्य दिया। तेन्दूपत्ता संग्रहण की दर बढ़ाकर चार हजार रुपए प्रति मानक बोरा किया।

विधायक मोहन मरकाम ने कहा कि आज देश में दो प्रकार की विचारधारा चल रही है। एक देश को जोड़ने वाली और दूसरी तोड़ने वाली है। देश को बापू के राष्ट्रवाद की जरुरत है, जो सभी को जोड़े और सभी के कल्याण के लिए हो। उन्होंने कहा महात्मा गांधी के दर्शन और विचार को जन-जन तक पहुंचाने की जरूरत है। उन्होंने कहा छत्तीसगढ़ सरकार महात्मा गांधी के विचारों एवं आदर्शों के अनुरूप योजनाएं बनाकर कार्य कर रही है। महापौर प्रमोद दुबे ने भी रायपुर जिले की सीमा में पदयात्रा का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और मोहन मरकाम के नेतृत्व में आयोजित यह पदयात्रा आम जनता के दुख दर्द को समझने के लिए है।  मुख्यमंत्री के नेतृत्व में डूंडा से पदयात्रा में गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू, कृषि मंत्री रवीन्द्र चौबे, स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम, विधायक मोहन मरकाम, कुलदीप जुनेजा, विकास उपाध्याय, अनिता शर्मा, शकुंतला साहू, राज्यसभा सांसद छाया वर्मा, नगर निगम रायपुर महापौर प्रमोद दुबे, दिल्ली से आए चंदन यादव सहित अनेक जनप्रतिनिधि और नागरिक बड़ी संख्या में शामिल हुए। जगह-जगह लोगों ने मुख्यमंत्री और पदयात्रियों का अभूतपूर्व स्वागत किया।

03-10-2019
एक व्यक्ति का मन जहां इत्मिनान महसूस करें, वही वास्तविक जनतंत्र: अपूर्वानंद

रायपुर। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के अवसर पर छत्तीसगढ़ विधानसभा में आहुत दो दिवसीय विशेष सत्र के दूसरे दिन विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और संसदीय कार्य मंत्री रवीन्द्र चौबे, सहित विधानसभा के सदस्य गांधी जी के व्यक्तित्व और कृतित्व पर आधारित व्याख्यानमाला कार्यक्रम में शामिल हुए। व्याख्यानमाला कार्यक्रम विधानसभा परिसर स्थित डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी प्रेक्षागृह में आयोजित था। दिल्ली विश्वविद्यालय के प्रसिद्ध विचारक और प्रोफेसर डॉ. अपूर्वानंद ने व्याख्यानमाला में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के सिद्धांतों, विचारों तथा उनके दर्शन की प्रासंगिकता पर प्रकाश डाला। उन्होंने गांधी जी के विचारों और दर्शन को आत्मसात कर जीवन को सम्मानपूर्वक जीने तथा राष्ट्र सेवा के प्रति गांधी जी की संकल्पनाओं के संबंध में विस्तार से जानकारी दी। अपूर्वानंद ने मुख्यमंत्री, विधानसभा अध्यक्ष, नेता प्रतिपक्ष सहित विधानसभा सदस्यों को गांधी जी की 150वीं जयंती के अवसर पर विशेष सत्र आयोजित करने के लिए बधाई एवं शुभकामनाएं दी। उन्होंने कहा कि गांधी जी ने जिस संसदीय लोकतंत्र की परिकल्पना की है, उसमें संसदीय आचरण का पालन करते हुए सभी वर्गों के हित के लिए विचार-विमर्श करना और उनके लिए कानून बनाना शामिल है। अपूर्वानंद ने बताया कि गांधी जी सर्वोदय की बात किया करते थे। उन्होंने कहा कि एक भी व्यक्ति का मन जहां इत्मिनान महसूस करें, वही वास्तविक जनतंत्र है। उन्होंने यह भी बताया कि बहुसंख्यकवादी विचार समाज के लिए नुकसानदायक है। जो गांधी जी के सिद्धांतों के विरूद्ध है। अपूर्वानंद ने बताया कि गांधी जी कहा करते थे राजनीति जीवन का अभिन्न अंग है, इसे मनुष्य जीवन को संगठित करने के रास्ते के रूप में देखना चाहिए। गांधी जी के लिए आजादी की लड़ाई सिर्फ भारत से अंग्रेजों को हटाने की लड़ाई न होकर अपमान बर्दाश्त न करने की लड़ाई थी। गांधी जी का राष्ट्रवाद संकीर्ण न होकर अंतर्राष्ट्रीय राष्ट्रवाद था। उनके आंदोलन के समर्थन में कई विदेशी शामिल हुए, जो बाद में उनके विचारों के पूरी दुनिया में प्रवर्तक हो गए। गांधी जी ने व्यवस्था संतुलन को निजी विश्वास से अधिक बल दिया। गांधी जी ने बताया कि जीवन पद्धति के संरक्षण और विकास के मौके पैदा करना ही जनतंत्र का सिद्धांत है।

30-09-2019
सीएम भूपेश करेंगे ‘बापू की करूणा का संचार, जेलों में सदाचार’ कार्यक्रमों का शुभारंभ    

रायपुर। महात्मा गांधी की 150वीं जयंती समारोह के अंतर्गत कल एक अक्टूबर को सवेरे 10.45 बजे मुख्यमंत्री भूपेश बघेल केन्द्रीय जेल रायपुर में ‘बापू की करूणा का संचार, जेलों में सदाचार’ विषय पर आधारित सप्ताहव्यापी कार्यक्रमों का शुभारंभ करेंगे। गृह एवं जेल मंत्री ताम्रध्वज साहू कार्यक्रम की अध्यक्षता करेंगे। कृषि मंत्री रवीन्द्र चौबे, वन मंत्री मोहम्मद अकबर, सांसद सुनील सोनी, विधायक सत्यनारायण शर्मा, बृजमोहन अग्रवाल, कुलदीप सिंह जुनेजा, विकास उपाध्याय और रायपुर नगर निगम के महापौर प्रमोद दुबे विशेष अतिथि के रूप में कार्यक्रम में उपस्थित रहेंगे। कार्यक्रम के अतिथि वक्ता वरिष्ठ पत्रकार सोपान जोशी होंगे।  
 

25-09-2019
राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव: आयोजन की रूपरेखा तय करने राज्य स्तरीय समिति गठित

रायपुर। छत्तीसगढ़ में पहली बार आयोजित हो रहे राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव का तीन दिवसीय आयोजन राजधानी रायपुर के साइंस कॉलेज मैदान में 27, 28 और 29 दिसम्बर को होगा। आयोजन की रूपरेखा तय करने के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की अध्यक्षता में राज्य स्तरीय समिति गठित की गई है। समिति में गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू, कृषि मंत्री रवीन्द्र चौबे, आदिमजाति एवं अनुसूचित जाति विकास मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम,वन मंत्री मो.अकबर, खाद्य मंत्री अमरजीत भगत, खेल एवं युवा कल्याण मंत्री उमेश पटेल, छत्तीसगढ़ शासन के मुख्य सचिव, पुलिस महानिदेशक, अपर मुख्य सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग, वित्त तथा लोक निर्माण विभाग एवं मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव सदस्य होंगे। उच्च शिक्षा, पर्यटन एवं संस्कृति विभाग के सचिव समिति के सदस्य सचिव होंगे। नेशनल ट्राईवल डांस फेस्टिवल के आयोजन के लिए संस्कृति विभाग को नोडल विभाग बनाया गया है। इसके अलावा प्रशासनिक दृष्टि से मुख्य सचिव की अध्यक्षता में अंतरविभागीय समन्वय समिति का गठन भी किया गया है। अंतरविभागीय समिति आयोजन संबंधी कार्य योजना एवं इसके क्रियान्वयन एवं अंतरविभागीय समन्वय का कार्य सुनिश्चित करेगी। इस समिति में अपर मुख्य सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विभाग, वित्त तथा लोक निर्माण विभाग, प्रमुख सचिव कौशल विकास, वाणिज्य एवं उद्योग, ग्रामोद्योग, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव, सचिव सामान्य प्रशासन विभाग, आदिमजाति कल्याण विभाग, कृषि विभाग, वन विभाग, आयुक्त संस्कृति एवं पुरात्तव, कमिश्नर रायपुर, पुलिस महानिरीक्षक रायपुर, आयुक्त जनसम्पर्क सदस्य होंगे। सचिव उच्च शिक्षा, पर्यटन एवं संस्कृति सदस्य सचिव होंगे।  राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव की प्रतियोगिता में चार विषयों पर आधारित कार्यक्रम होंगे। पहला विवाह या मांगलिक अवसर पर होने वाले नृत्य, दूसरा कृषि आधारित जैसे फसल कटने के समय आयोजित होने वाले नृत्य, तीसरा देश के विभिन्न राज्यों में पारंपरिक त्यौहारों, विशेष अवसरों पर होने वाले नृत्य और चौथे विषय को खुली प्रतियोगिता के रूप में रखा गया है। विभिन्न राज्यों में पृथक-पृथक लोक नृत्य विधाएं प्रचलित हैं। इस प्रतियोगिता में प्रथम, द्वितीय और तृतीय स्थान प्राप्त करने वाले कलादलों एवं प्रतिभागियों को नगद राशि पुरस्कार एवं प्रतीक चिन्ह भेंट करने का प्रावधान है। एक प्रदेश से चार ग्रुप शामिल होंगे। एक गु्रप में 15 कलाकार हो सकते है। छत्तीसगढ़ में आयोजन की तैयारियों के लिए विकासखण्ड स्तर पर नृत्य प्रतियोगिता का आयोजन 1 से 15 नवम्बर तक किया जाएगा। विकासखण्ड स्तर पर उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले कलाकारों का 16 से 30 नवम्बर तक जिला स्तर पर प्रतियोगिता का आयोजन किया जाएगा और एक से 10 दिसम्बर तक संभाग स्तर पर प्रतियोगिता का आयोजन होगा और इस प्रतियोगिता में जो टीम सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करेंगे, उन्हें राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव में प्रदर्शन के लिए चयनित किया जाएगा। नेशनल ट्राइबल डांस फेस्टिवल नृत्य महोत्सव स्थल पर राज्य शासन की योजनाओं पर आधारित विकास प्रदर्शनी, हस्तशिल्प, कुटीर उद्योग, बस्तर एवं सरगुजा के कला प्रदर्शनी, हर्बल उत्पाद, नरवा, गरवा, घुरूवा, बारी अवधारणा का प्रदर्शनी, छत्तीसगढ़ी व्यंजनों की प्रदर्शनी एवं विक्रय केन्द्रों के स्टाल लगाये जाएंगे। हाथकरघा वस्त्रों और कृषि आधारित विभिन्न उत्पादों को भी प्रदर्शित किया जाएगा। इस नृत्य महोत्सव मंे छत्तीसगढ़ सहित देशभर के विभिन्न राज्यों के लगभग 2500 लोक कलाकार भाग लेंगे। इनके अलावा देशभर के कलाप्रेमी भी कार्यक्रम को देखने छत्तीसगढ़ आएंगे।      

23-09-2019
प्रदेश और राज्य के लोगों का हित छत्तीसगढ़ सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता : भूपेश बघेल

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा है कि प्रदेश और राज्य के लोगों का हित छत्तीसगढ़ सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। मुख्यमंत्री अपने निवास कार्यालय में आयोजित बैठक में छत्तीसगढ़ में रेल परियोजनाओं और यात्री सुविधाओं की समीक्षा कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों से पूछा कि इन रेल परियोजनाओं से छत्तीसगढ़ को और यहां के लोगों को क्या लाभ मिलेगा। लोगों को क्या यात्री परिवहन की सुविधा भी मिलेगी। कितने लोगों को रोजगार मिलेगा।
बैठक में छत्तीसगढ़ में प्रस्तावित विभिन्न रेल परियोजनाओं पर दिए जा रहे प्रस्तुतिकरण के दौरान अधिकारियों ने बताया कि प्रदेश की कोयला खदानों में उत्पादित होने वाले कोयले के परिवहन के लिए मुख्य रूप से इन रेल परियोजनाओं को प्रारंभ किया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारा कोयला हमारे छत्तीसगढ़ के उद्योगों को नहीं मिल पा रहा है। जिसके कारण अनेक उद्योग बंद हो गए हैं। हमारे कोयले से दूसरे राज्यों में उद्योग चलेंगे और हो सकता है हमें फिर अपना ही कोयला खरीदना पड़ेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोयला खदाने घने जंगलों के बीच स्थित हैं कोल ब्लॉक विकसित करने के लिए जंगल उजड़ेंगे। खदानों और रेल लाईन बनने से लोग भी विस्थापित होंगे। पर्यावरण को बड़ा नुकसान पहुंचेगा। इसकी तुलना में रायल्टी काफी कम मिलेगी। बैठक में ईस्ट रेल कारिडोर, ईस्ट वेस्ट रेल कारिडोर, दल्लीराजहरा-रावघाट रेल परियोजना, डोंगरगढ़-खैरागढ़-कवर्धा-मुंगेली-तखतपुर-रतनपुर-बेलतरा-कटघोरा रेल लाईन और खरसिया-नया रायपुर-दुर्ग रेल परियोजनाओं पर प्रस्तुतिकरण दिया गया।    
मुख्यमंत्री ने अधिकारियों से कहा कि वे छत्तीसगढ़ के हितों का ध्यान रखें। प्रदेश के प्राकृतिक संसाधनों का उपयोग प्रदेश के विकास और स्थानीय लोगों के हित में सुनिश्चित किया जाए। बैठक में कृषि एवं जल संसाधन मंत्री रवीन्द्र चौबे, आवास एवं पर्यावरण मंत्री मोहम्मद अकबर, राजस्व एवं आपदा प्रबंधन मंत्री जयसिंह अग्रवाल, मुख्य सचिव सुनील कुजूर, अपर मुख्य सचिव अमिताभ जैन, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव गौरव द्विवेदी सहित रेल, छत्तीसगढ़ राज्य औद्योगिक  विकास निगम, छत्तीसगढ़ रेलवे कापोर्रेशन लिमिटेड और संबंधित विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।

12-09-2019
बेमेतरा जिले में स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स के लिए की जाएगी पहल : कृषि मंत्री चौबे

बेमेतरा। प्रदेश के कृषि एवं जल संसाधन मंत्री रवीन्द्र चौबे ने मुख्य अतिथि के रूप में आज जिला मुख्यालय बेमेतरा के ऐतिहासिक बेसिक स्कूल मैदान में 19वीं राज्यस्तरीय शालेय क्रीड़ा प्रतियोगिता का शुभारंभ किया। मंत्री ने कहा कि बेमेतरा में स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स होना चाहिए इसके लिए उन्होंने जिला प्रशासन को एक प्रस्ताव बनाकर राज्य शासन को भेजने के निर्देश दिए। समारोह की अध्यक्षता विधायक बेमेतरा आशीष छाबड़ा, विशिष्ट अतिथि विधायक नवागढ़ गुरुदयाल सिंह बंजारे एवं जिला पंचायत अध्यक्ष कविता साहू उपस्थित थे। इस स्पर्धा में प्रदेश के 27 जिलों के 12 जोन के 1488 खिलाड़ी भाग ले रहे हैं। कार्यक्रम में कलेक्टर शिखा राजपूत तिवारी, पुलिस अधीक्षक प्रशांत ठाकुर, जिला पंचायत के सीईओ प्रकाश कुमार सर्वे सहित नागरिक एवं खिलाड़ी उपस्थित थे। कृषि मंत्री चौबे ने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा खेल गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए खेल प्राधिकरण गठन करने का निर्णय लिया गया है। इसके जरिए खेल प्रतिभाओं को उचित प्रशिक्षण देकर तराशने का कार्य किया जाएगा। इसके अलावा सरकार ने यह भी निर्णय लिया है कि स्पोर्ट्स स्कूल एवं खेल अकादमी की भी स्थापना की जाएगी। कैबिनेट मंत्री ने कहा कि आज बेमेतरा के मैदान में बस्तर से लेकर सरगुजा, जशपुर, कोरिया अंचल के खिलाड़ी अलग-अलग यूनिफार्म में इस स्पर्धा में भाग ले रहे हैं।  छत्तीसगढ़ देश का खूबसूरत राज्य है। हमारा प्रदेश खनिज संपदा से भरा है। उन्होंने कहा कि स्वस्थ मन एवं स्वस्थ जीवन के लिए खेल आवश्यक है। खेल हमारे निजी व्यक्तित्व के लिए ही नही बल्कि देश के लिए भी बहुत जरूरी है। हॉकी के महान जादूगर मेजर ध्यानचंद का नाम गर्व से लिया जाता है। ओलम्पिक खेलों में हमारे देश के खिलाड़ी पदक हासिल कर रहे हैं। बेमेतरा में राज्य स्तरीय शालेय क्रीड़ा प्रतियोगिता का आयोजन हम सबके लिए सौभाग्य की बात है। बेमेतरा में राष्ट्रीय क्रीड़ा प्रतियोगिता भी आयोजित हो चुकी है। विधायक छाबड़ा ने कहा कि यह हम सबके लिए बहुत ही सौभाग्य का विषय है कि बेमेतरा 19वीं राज्य स्तरीय क्रीड़ा प्रतियोगिता का आयोजन हो रहा है। व्यक्तित्व के विकास में खेल का बड़ा महत्व है। विधायक नवागढ़ बंजारे ने कहा कि खेल एक ऐसा माध्यम है जिससे राष्ट्रीयता की भावना मजबूत होती है। उन्होंने खिलाडिय़ों को बधाई एवं शुभकामनाएं दीं। स्वागत भाषण के दौरान कलेक्टर ने कहा कि बेमेतरा में आयोजित इस स्पर्धा में 12 जोन के लगभग 1500 सौ खिलाड़ी भाग ले रहे हैं। वे सभी पूरी खेल भावना के साथ अपने खेल का बेहतर प्रदर्शन करेंगे। शासकीय कन्या हायर सेकण्डरी स्कूल की बालिकाओं ने कर्मा नृत्य की प्रस्तुति दी। खिलाडिय़ों द्वारा आकर्षक मार्च पास्ट किया गया। इस अवसर पर अवनीश राघव, टीआर जनार्दन, जनपद पंचायत साजा अध्यक्ष ओमप्रकाश वर्मा, पार्षद रीता पाण्डे, ब्लाक अध्यक्ष साजा संतोष वर्मा, बंशी लाल पटेल, एएसपी विमल कुमार बैस, अनुविभागीय अधिकारी राजस्व आशुतोष चतुर्वेदी, जिला शिक्षा अधिकारी सीएस धु्रव, सीएमओ होरी सिंह ठाकुर सहित पत्रकार एवं बड़ी संख्या में खेल प्रेमी उपस्थित थे।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804