GLIBS
12-09-2019
गायत्री खदान बैंकर का लोडिंग पॉइंट हुआ जर्जर, गाड़ी मालिक हो रहे तबाह, जिम्मेदार अधिकारी मौन

सूरजपुर। बिश्रामपुर एससीसीएल क्षेत्र कोल अधिकारियों द्वारा करोड़ों रुपए के कोयला उत्पादन प्रतिदिन कर खपा रही है, जिसके बावजूद रेहर खदान अंतर्गत गायत्री खदान में वर्षों से असुविधा होने के कारण खामियाजा स्थानीय कर्मचारी एवं गाड़ी मालिकों को भुगतना पड़ रहा है। विदित है कि गायत्री खदान  में वर्षों पहले बैंकर के नीचे लोडिंग पॉइंट पर ठेकेदार के माध्यम से छठ गिट्टी रेता और क्रांकीट मिलाकर जमीन सतह को व्यवस्थित रूप से बनाया गया था, जिस सतह के ऊपर ट्रक बैंकर से गिरने वाले कोयला लोड करती है। इसमें वर्तमान में 1 से 2 फीट तक गड्ढा हो चुका है और गड्ढे अत्यधिक होने के कारण क्रांकीट हटकर अनेक छड़ निकला हुआ है! इसमें प्रत्येक दिन 20-30 गाड़ियों को डियो होल्डर के माध्यम से लिफ्टरों द्वारा गाड़ियां लगाकर लोडिंग कराया जाता है, जो छत्तीसगढ़ से लेकर पड़ोसी राज्यों में कोल परिवहन रोड सेल के माध्यम से किया जाता है!

गायत्री खदान के कर्मचारी और लिफ्टरों द्वारा बैंकर के लोडिंग पॉइंट सतह के नीचे गड्ढा के कारण बरसात में पानी भरा होता है, जिसमें ट्रक ड्राइवर को मजबूरन लोडिंग करने के लिए गाड़ी बैंकर के नीचे लगानी होती है। एक तरफ ज्यादा गड्ढा होने के कारण गाड़ी का झुकाव तिरछा हो जाता है अत्यधिक गड्ढा होने के कारण बैंकर के माध्यम से गिरे कोयले से गाड़ी में कोयला भराव किया जाता है, गड्ढे की गहराई ज्यादा होने के कारण गाड़ी मोशन नहीं बना पाती। इस वजह से लोड गाड़ियों को पीछे से धक्के या फिर आगे से टोचन मारकर गड्ढे से निकाला जा रहा है। गड्ढे से बाहर निकालते समय निकले छड़ से कई गाड़ियों के टायर चपेट में आने से फट चुके है। एसईसीएल कोल विभाग टारगेट के अनुरूप लोडिंग नहीं कर पा रही है, जिसकी वजह से खदान के बाहर गाड़ियों की लंबी लाइन बनी होती है! मामले की जानकारी के लिए गायत्री खदान मैनेजर आरपी मिश्रा को कई बार फोन किया गया परंतु उन्होंने कॉल रिसीव नहीं किया, जिससे उनका पक्ष नहीं लिया जा सका।

गाड़ी मालिकों की कहना-
1- राजू मुरलीयार- गाड़ी मालिक बिश्रामपुर का कहना है ,मैं अपनी दो गाड़ी CG15DC 3865 और 5021 को गायत्री खदान में रायपुर की लोडिंग के लिए भेजा था, जो 2 महीने में 4 टायर खदान के अंदर लोडिंग पॉइंट में कोयला लोड निकलते समय ही ब्लास्ट हो गए। किसी तरह गाड़ी लोडिंग पॉइंट से खदान परिसर के अंदर ही नया टायर लगवानी पड़ा। मंदी के दौर में मेरे लिए बहुत ही कष्टदायक है।
2- सर्वजीत शर्मा- गाड़ी मालिक ने बताया मैंने अपनी गाड़ी क्रमांकCG15AC9948 को रायगढ़ लोडिंग के लिए 20 रोज पहले भेजा था। बैंकर के नीचे गड्ढे और छड़ निकलने के कारण पहले से हुई लोड गाड़ी द्वारा जुगाड़ व्यवस्था करने के बाद मेरी गाड़ी टोचन मार के निकाला गया! गड्ढे की समस्या को देखते हुए गायत्री खदान में लोडिंग के लिए भेजने को सोचना पड़ता है!
3- अविरेश शर्मा- गाड़ी मालिक ने बताया मेरी ट्रक क्रमांक CG15DE9948 को रेहर गायत्री खदान के द्वारा ही लोडिंग करा कर रायपुर बिलासपुर और रायगढ़ मैं चलाता हूं। क्योंकि वर्तमान में गायत्री खदान के बैंकर लोडिंग पोजीशन बहुत ही खराब हो चुकी है, जिसके कारण गाड़ियां कई बार फंस रही है!
4- गाड़ी मालिक विकास गुप्ता ने बताया मेरी ट्रक CG15DD 9484 को गायत्री खदान में 15 रोज पूर्व लोडिंग हेतु भेजा था। लोडिंग कर निकलते वक्त गाड़ी राउंड मार दिया और टायर पूरी तरह के छिल गया, जिससे मुझे मंदी के दौर में कुछ रुपए नगद और कुछ उधारी करके नया टायर एक जोड़ी 43000 रुपए की लगवानी पड़ी।
 वर्जन
बैंकर के नीचे जर्जर हुई है तो कभी भी दुर्घटना हो सकती है, जिसे तत्काल मरम्मत करना  चाहिए। खदान की संपूर्ण जिम्मेदारी मैनेजर की होती है। जर्जर को रिपेयरिंग कराना था। यदि नहीं किया गया है तो मुख्य रूप से मैनेजर की लापरवाही को दर्शाता है।

हीरा सिंह क्षेत्रीय अध्यक्ष एचएमएस
 

वर्जन
मेरे को 6 महीने ही हुआ है। गायत्री खदान के संबंध में आज तक ऐसी शिकायत किसी के द्वारा भी नहीं आया। यदि ऐसा है तो मैं जांच करवाता हूं।
सतीश श्रीवास्तव, एसईसीएल जीएम बिश्रामपुर

Advertise, Call Now - +91 76111 07804