GLIBS
25-09-2020
भाजपा नेताओं ने पं.दीनदयाल उपाध्याय को किया याद, साय ने कहा-सादगी, शुचिता और सरलता के थे प्रतीक 

रायपुर। पं.दीनदयाल उपाध्याय की जयंती पर भाजपा नेताओं व कार्यकर्ताओं ने अपने-अपने निवास पर तैलचित्र पर माल्यार्पण कर उनकी सेवा भावना को याद किया। उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। इस दौरान भाजपा के लोगों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा का संबोधन सुना। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने भी अपने राजधानी स्थित निवास पर पं. दीनदयाल उपाध्याय के तैलचित्र पर पुष्प अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि दी। उन्होंने कहा कि पं. दीनदयाल उपाध्याय का पूरा जीवन राष्ट्र को समर्पित था। वे शुचिता और सरलता के प्रतीक थे। राष्ट्रवाद और अंतयोदय की जो अलख पं. दीनदयाल उपाध्याय ने जगायी, आज भाजपा उसी के आलोक में श्रेष्ठ भारत के निर्माण में लगी है। उनके इन्हीं विचार पर पार्टी की सरकारें काम कर रही है। राज्यसभा सांसद रामविचार नेताम ने अपने दिल्ली स्थित निवास पर पं.उपाध्याय के तैलचित्र पर पुष्पांजलि अर्पित कर उन्हें याद किया। सांसद पाण्डेय ने कहा कि पं. दीनदयाल उपाध्याय हमारे आदर्श हैं, वो बेहद साधारण जीवन जीने वाले नेता थे। उन्हीं के पदचिन्हों पर चलते हुए भाजपा के कार्यकर्ता तन-मन और समर्पण भाव से देश के विकास के लिए काम कर रहे हैं और आगे भी करते रहेंगे।
संगठन महामंत्री पवन साय ने भाजपा प्रदेश कार्यालय कुशाभाऊ ठाकरे परिसर में पुष्पांजलि अर्पित कर पं. उपाध्याय का पुण्य स्मरण किया और श्रद्धांजलि दी। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा का उद्बोधन भी भाजपा प्रदेश कार्यालय में सुना।

रायपुर लोकसभा सांसद सुनील सोनी ने पं. दीनदयाल उपाध्याय को नमन कर श्रद्धांजलि अर्पित की। उन्होंने कहा कि एकात्म मानववाद और अंत्योदय के प्रणेता पंडितजी का जीवन एक संदेश है। प्रत्येक कार्यकर्ता उनके जीवन से बहुत कुछ सीख सकता है। उनके विचारों में मुझे क्या मिला नहीं बल्कि मैने राष्ट्र के प्रति क्या समर्पित किया मुख्य है।  विधायक व पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने पं.दीनदयाल उपाध्याय को श्रद्धांजलि अर्पित की। उन्होंने कहा कि पंडित उपाध्याय एक प्रखर राष्ट्रवादी विचारक थे। उन्होंने अपने विचारों व कर्तव्य निष्ठा से भारतीय राजनीति में अद्वितीय आदर्श स्थापित किया। उन्होंने देश को अंत्योदय व एकात्म मानववाद जैसी प्रगतिशील विचारधारा देने का काम किया है। उनका संपूर्ण जीवन देश की संस्कृति और देश की अखंडता के लिए समर्पित रहा है। देश को अंत्योदय का मंत्र देते हुए उन्होंने पंक्ति में अंतिम पायदान पर खड़े व्यक्ति को पंक्ति में खड़े प्रथम व्यक्ति तक लाने की परिकल्पना की,जिसके लिए उनका संपूर्ण जीवन समर्पित रहा। पूर्व मंत्री महेश गागड़ा ने कहा कि पं. उपाध्याय एक ऐसे युगद्रष्टा थे,जिनके बोये गए विचारों व सिद्धांतों के बीज ने देश को एक वैकल्पिक विचारधारा दी। उनकी विचारधारा सत्ता प्राप्ति के लिए नहीं बल्कि राष्ट्र पुनर्निर्माण के लिए थी। भाजपा नेता सच्चिदानंद उपासने, सुभाष राव, शिवरतन शर्मा, संजय श्रीवास्तव, नलिनीश ठोकने, नरेश गुप्ता, संदीप शर्मा, राजीव कुमार अग्रवाल, प्रफुल्ल विश्वकर्मा, सत्यम दुवा, गौरीशंकर श्रीवास, संजुनारायन सिंह ठाकुर, अनुराग अग्रवाल, राजीव चक्रवर्ती, उमेश घोरमोड़े, अमित चिमनानी, सहित भाजपा नेताओं व कार्यकर्ताओं ने श्रद्धांजलि अर्पित की।

11-09-2019
स्कूटी पर सवार मंत्री सिंहदेव की सरलता व सादगी ने कांग्रेसी कार्यकर्ताओं में भर दिया जोश

मुंगेली। स्वास्थ्य एवं पंचायत मंत्री टीएस सिंहदेव की सरलता किसी से छिपी नहीं है। टीएस बाबा सिर्फ प्रदेश में हैं नहीं, बल्कि पूरे देश में अपने सहज, सरल व सौम्य स्वभाव से जाने जाते हैं। यही वजह है कि लोगों में उनकी लोकप्रियता भी कुछ जुदा किस्म का है। टीएस बाबा का सरल और दिलचस्प अंदाज मुंगेली में आज उस वक्त देखने को मिला, जब वे स्कूटी पर सवार होकर हेलीपैड से कलेक्ट्रेट पहुंचे। फिर क्या था, बाबा साहब के पीछे-पीछे अधिकारी और कांग्रेसी नेता भी बाइक पर सवार होकर चलने लगे। बता दें कि मंत्री टीएस सिंहदेव मुंगेली जिले के प्रभारी मंत्री हैं। प्रभारी मंत्री होने के नाते आज वे डीएमएफ को लेकर अधिकारियों की बैठक लेने हेलीकॉप्टर से मुंगेली पहुंचे थे। हेलीपैड पर प्रशासनिक अधिकारियों के अलावा बड़ी संख्या में कांग्रेसियों की भीड़ प्रभारी मंत्री टीएस सिंहदेव का स्वागत करने पहुंची थी। स्वागत के बाद बाबा कलेक्ट्रेट जाने के लिए लक्जरी कार की बजाय एक स्थानीय कांग्रेसी नेता की स्कूटी पर सवार होकर करीब एक किलोमीटर का सफर तय कर मीटिंग लेने कलेक्ट्रेट पहुंचे। इसके बाद कांग्रेसी कार्यकर्ताओं का जोश और दोगुना हो गया। इधर मंत्रीजी को बाइक पर सवार होते देख अधिकतर अधिकारी व कांग्रेसी कार्यकर्ता भी बाइक पर सवार होकर चलने लगे।

 

  सुशील शुक्ला की रिपोर्ट 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804