GLIBS
11-11-2019
प्राइवेट ट्रेन तेजस ने एक महीने में की इतनी कमाई, मुनाफा जानकार उड़ जाएंगे आपके होश

नई दिल्ली। देश की पहली प्राइवेट ट्रेन तेजस ने अक्टूबर में कुल 3.70 करोड़ रुपये कमाए, जिसमें 70 लाख रुपये यानी करीब 20 प्रतिशत का मुनाफा हुआ। दिल्ली-लखनऊ के बीच 5 से 28 अक्टूबर के दौरान इस ट्रेन को 21 दिन चलाया गया। इस पर प्रति दिन 14 लाख रुपये लागत आई, वहीं 17.5 लाख रुपये की कमाई सवारियों से हुई। भारतीय रेलवे कैटरिंग व पर्यटन निगम (आईआरसीटीसी) को प्राइवेट फर्म के साथ हफ्ते में छह दिन चलाने के लिए दी गई इस तेजस एक्सप्रेस के औसतन 80 से 85 प्रतिशत तक टिकट बिक गए। रेलवे के सूत्रों के अनुसार अक्टूबर में इस ट्रेन को चलाने में आईआरसीटीसी ने करीब तीन करोड़ रुपये खर्च किए। रेलवे ने लखनऊ-दिल्ली मार्ग पर प्रयोग करते हुए पहली बार प्राइवेट फर्म के जरिए इस ट्रेन को पांच अक्टूबर से चलाना शुरू किया है।आईआरसीटीसी इस ट्रेन में सवारियों को कई तरह के भोजन के साथ साथ 25 लाख का बीमा और ट्रेन लेट होने पर मुआवजा लेने की सुविधा भी दे रहा है। रेलवे का लक्ष्य 50 विश्वस्तरीय रेलवे स्टेशन विकसित करके 150 प्राइवेट सवारी गाड़ियां चलाना है। केंद्र सरकार ने पिछले महीने ही सचिवों की विशेष टास्क फोर्स बनाकर इन कामों को तेजी देने की पहल की है। इस टास्क फोर्स की पहली बैठक अभी नहीं हुई है।

04-09-2019
नवरात्री में दिल्ली से लखनऊ के बीच शुरू हाेगी प्राइवेट ट्रेन तेजस

नई दिल्ली। देश की पहली प्राइवेट ट्रेन तेजस नवरात्र के शुभ मुहूर्त में दिल्ली से लखनऊ के बीच शुरू हाेगी। टिकट बुकिंग से लेकर ट्रेन के संचालन तक की पूरी जिम्मेदारी आईआरसीटीसी संभालेगा। किराया अगले सप्ताह तय हाेगा। संभावना है कि किराया शताब्दी की तुलना में 20% तक महंगा रहेगा। इसमें फ्लेक्सी फेयर लागू हाेगा और काेई छूट नहीं मिलेगी। सप्ताह में एक दिन मंगलवार को ट्रेन नहीं चलेगी। यह सुबह लखनऊ से चलकर दोपहर 12 बजे दिल्ली पहुंचेगी और दाेपहर बाद 3-4 बजे दिल्ली से चलकर 6 घंटे बाद लखनऊ पहुंचेगी। माेदी सरकार के 100 दिन के एजेंडे में प्राइवेट आपरेटर्स काे ट्रेन सौंपना भी शामिल है। ट्रेन की ओर यात्रियाें काे आकर्षित करने के लिए आईआरसीटीसी अतिरिक्त सुविधाएं भी मुहैया करवाएगा। इस ट्रेन में दो बार नाश्ता मिलेगा। यात्री स्टेशन में बने लाउंज का मुफ्त में इस्तेमाल कर सकेंगे। इसका किराया 200 रुपए प्रति घंटा है। इस ट्रेन में ड्राइवर और इलेक्ट्रिकल मेंटेनेंस का जिम्मा रेलवे के पास ही रहेगा। गार्ड्स और टीटीई काे आईआरसीटीसी रखेगा। एक अधिकारी के अनुसार रेलवे के रिटायर्ड कर्मचारी इसके लिए रखे जाएंगे। आईआरसीटीसी के वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि सुविधाओं काे लेकर यात्रियाें से मिलने वाले सुझाव भी लागू किए जाएंगे। हादसे की स्थिति में आईआरसीटीसी वही सुविधएं देगा, जो रेलवे देता है। दूसरी प्राइवेट तेजस अहमदाबाद से मुंबई के बीच चलेगी।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804