GLIBS
06-04-2020
मंत्री उमेश पटेल ने मुख्यमंत्री सहायता कोष में दिए 20 लाख रूपए

रायपुर। नोवेल कोरोना वायरस (कोविड-19) की रोकथाम में लोगों की सहायता के लिए उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल ने विधायक निधि से 20 लाख रूपए ‘मुख्यमंत्री सहायता कोष' में देने का निर्णय लिया है। गौरतलब है कि कोरोना वायरस की रोकथाम एवं नियंत्रण के लिए छत्तीसगढ़ शासन ने अनेक कदम उठाए है, राज्य में लॉकडाउन के दौरान कमजोर वर्ग के लोगों का जीवन प्रभावित हुआ है। राज्य शासन द्वारा मजदूरों, बेघरवार लोगों, प्रवासी मजदूरों सहित अन्य पीड़ित लोगों को हर संभव सहयोग और सहयता की जा रही है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इस सहयोग के लिए उमेश पटेल को धन्यवाद दिया है।


 

26-02-2020
पं. रविशंकर विवि के दीक्षांत समारोह में 151 को पीएचडी, 63 विद्यार्थियों को गोल्ड मेडल

रायपुर। पंडित रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यलय के 25वें दीक्षांत समारोह में आज 151 शोधार्थियों को पीएचडी की उपाधि, 1 को डिलीट और  63 विद्यार्थियों को गोल्ड मेडल प्रदान किया गया। यह जानकारी देते हुए विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. केशरीलाल वर्मा ने कहा कि इन सभी सम्मानित प्रतिभावान विद्यार्थियों ने विश्वविद्यालय का नाम रोशन किया है। इन्हें आज उपाधि और मेडल प्रदान होने से विश्वविद्यालय की गतिविधियां सही मायनों में सबके सामने आई हैं। उन्होंने कहा कि दीक्षांत समारोह में आज छत्तीसगढ़ की प्रतिभा का सम्मान हुआ है।

एक तरह से विश्वविद्यालय में 151 पीएचडी का होना विश्वविद्यालय की बहुत बड़ी उपलब्धि है। इसके माध्यम से हम अपनी अन्य गतिविधियों को भी प्रदर्शित कर सकते हैं कि शिक्षा की गुणवत्ता में विश्वविद्यालय क्या कर रहा है। हमारा निरंतर यह प्रयास रहता कि लोगों को समय में डिग्री प्रदान करें, मेडल प्रदान करें ताकि बच्चों में कुछ उत्साह बना रहे। अन्य विद्यार्थी भी उन्हें देखकर अपना लक्ष्य निर्धारित करें। उन्होंने कहा कि आज का दीक्षांत समारोह कुलाधिपति राज्यपाल अनुसुईया उइके, मुख्यमंत्री भुपेश बघेल, उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल, समारोह के मुख्य वक्ता अशोक वाजपेयी सहित जनप्रतिनिधियों, संकाय के अध्यक्षों, कार्य और विद्यार्थी परिषद के सदस्यों और शिक्षकों, विद्यार्थियों और उनके अभिभावकों की उपस्थिति में सफल हुआ।

 

18-02-2020
छत्तीसगढ़ में खेलोें के साथ साथ सांस्कृतिक गतिविधियों को बढ़ावा दिया जा रहा है : उमेश पटेल

रायपुर। उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल ने कहां के भूपेश बघेल सरकार प्रदेश में खेलों के साथ-साथ छत्तीसगढ़ की सांस्कृतिक गतिविधियों को भी बढ़ावा देने की पूरी कोशिश कर रही है। उमेश पटेल दुर्गा महाविद्यालय के वार्षिकोत्सव के मुख्यअतिथि थे। उन्होंने कहा कि अभी सरकार ने खेल आयोग का गठन किया है,जो युवाओं की बेहतरी के लिए है। कार्यक्रम की अध्यक्षता वरिष्ठ विधायक सत्यनारायण शर्मा ने की। कार्यक्रम की शुरुआत राज्य गीत अरपा पैरी के धार से हुई। छात्रों ने वार्षिकोत्सव में अपनी कला का जमकर प्रदर्शन किया। महाविद्यालय के प्राचार्य राकेश तिवारी ने कहां मेरिट में आने वाले छात्रों को गोल्ड मेडल दिया जा रहा है। गोल्ड मेडल दानदाताओं द्वारा प्रदत्त राशि से दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि छात्र छात्राओं को साल भर वार्षिक महोत्सव व पुरस्कार वितरण समारोह का इंतजार रहता है। वे खूब तैयारियां करते हैं और अपनी कला का प्रदर्शन करते है।

25-01-2020
विधायक के प्रयास से काॅलेज स्थापना के लिए हुई 12 करोड़ स्वीकृति

 

महासमुंद। विधायक विनोद चंद्राकर के प्रयास से महासमुंद को नवीन आदर्श महाविद्यालय का तोहफा मिला है। राष्ट्रीय उच्चतर शिक्षा अभियान रूसा के तहत महासमुंद में महाविद्यालय की स्थापना के लिए 12 करोड़ की स्वीकृति मिली है। उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल से मुलाकात के दौरान उन्होंने इसकी जानकारी विधायक चंद्राकर को दी है। जिस पर विधायक चंद्राकर ने उच्च शिक्षा मंत्री पटेल का आभार जताया है। विधायक चंद्राकर ने बताया कि क्षेत्र में शिक्षा के स्तर के बढ़ाने के लिए लगातार प्रयास कर रहे हैं। गुणवत्तायुक्त एवं रोजगारपरक शिक्षा के उद्देश्य से काॅलेज स्थापना के लिए शासन का ध्यान आकर्षित कराया गया था। जिस पर राष्ट्रीय उच्चतर शिक्षा अभियान के तहत नवीन आदर्श महाविद्यालय की स्थापना के लिए 12 करोड़ रूपए स्वीकृति की गई है।

इस राशि से महाविद्यालय भवन, बालक व बालिका छात्रावासों का निर्माण सहित उपकरण आदि की व्यवस्था की जाएगी। नवीन आदर्श महाविद्यालय स्थापना के लिए राशि स्वीकृत होने पर उच्च शिक्षा मंत्री पटेल व विधायक चंद्राकर का छात्र नेता व पार्षद अमन चंद्राकर, निखिलकांत साहू, रतनेश साहू, शहबाज रजवानी, मैंडी साहू, तेजा साहू, मुकेश पेंदारिया, कपिल पेंदरिया, सलमान कुरैशी, शहबाज खान, फलेश्वर सिन्हा, युगल चक्रधारी, नीरज, नितिन चंद्राकर, लक्की चंद्राकर, कुणाल चंद्राकर, देवेंद्र चंद्राकर, विवेक पटेल, गोपाल कहार, अनिता मोहन, तारिणी यादव, योगिता तंबोली, सूरज वर्मा, प्रदीप, हिमांशु चंद्राकर आदि ने आभार जताया है।

13-01-2020
महापौर और सभापति के पदभार ग्रहण समारोह में शामिल हुए उमेश पटेल,मोहन मरकाम

रायगढ़। नगरपालिका निगम रायगढ़ के नवनिर्वाचित महापौर एवम सभापति के पदभार ग्रहण समारोह हुआ। इसमें उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल तथा प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष मोहन मरकाम नगर निगम आडिटोरियम में पहुंचे। यहां नवनिर्वाचित महापौर जानकी काटजू तथा सभापति जयंत ठेठवार को पदभार ग्रहण कराया गया। सभापति जयंत ठेठवार ने सभा को संबोधित करते हुए सभी लोगों के प्रति कृतज्ञता ज्ञापित किया। सभापति ने लोगों को भरोसा दिलाया कि निगम क्षेत्र में विकास के सभी कार्य संपादित करेंगे। वही नव निर्वाचित महापौर जानकी काटजू ने सभा को सम्बोधित किया। उन्होंने कहा कि वे रायगढ़ शहर के जनता के भरोसे पर खरा उतरेंगी। विधायक प्रकाश नायक ने अपने उदबोधन में कहा कि रायगढ़ निगम के इतिहास में पहली बार बहुमत के साथ कांग्रेस की सरकार बनी है। उन्होंने केबिनेट मंत्री उमेश पटेल के प्रति आभार व्यक्त करते हुए कहा कि निगम चुनाव में उनके मार्गदर्शन में ही जीत हासिल की है। मोहन मरकाम प्रदेश कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष ने भी सभा को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में एक वर्ष के विकास कार्यों को लेकर नगरीय निकाय चुनाव लड़ा,जिसमें कांग्रेस ने प्रदेश में जीत हासिल की। सरकार के योजनाओं को आम जनता तक पहुचाने के लिए हम सब मिलकर कार्य करेंगे। नवनिर्वाचित महापौर एवम सभापति को केबिनेट मंत्री उमेश पटेल ने पदभार ग्रहण प्रमाण पत्र प्रदान किया। 

 

01-01-2020
कर्मचारियों को नशे में देखकर भड़के मंत्री उमेश पटेल, एसपी को दिए कार्यवाही के निर्देश

रायगढ़। ड्यूटी के दौरान शराब के नशे में कर्मचारियों को देखकर मंत्री भड़के और कर्मचारियों पर कार्यवाही के निर्देश दिए। दरअसल बीती शाम उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल अपने रायगढ़ दौरे से वापस खरसिया जा रहे थे। तभी कुर्मा पाली गांव के पास एक बाइक सवार का एक्सीडेंट हो गया। यहां रुककर मंत्री उमेश पटेल ने घायल बाइक सवार के लिए तत्काल एंबुलेंस बुलवाकर जिला चिकित्सालय रवाना करवाया। वही 112 की टीम को भी कॉल कर सूचना दी। जब मौके पर 112 की टीम पहुंची तो कर्मचारी शराब के नशे में थे। इसे देख कर उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल भड़क गए। उन्होंने मौके से ही पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार सिंह को फोन किया और 112 की टीम पर सख्त से सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए। 

 

 

 

23-12-2019
राष्ट्रीय सेवा योजना से समर्पण की  शिक्षा मिलती है : उमेश पटेल

रायपुर। प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल ने कहा है कि राष्ट्रीय सेवा योजना से सेवा और समर्पण की शिक्षा मिलती है। पटेल ने यह विचार रायगढ़ जिले के शासकीय महाविद्यालय जोबी विकासखंड खरसिया के ग्राम काफरमार में राष्ट्रीय सेवा योजना शिविर के समापन अवसर पर व्यक्त किए। मंत्री पटेल ने कहा कि हमारे लिए खुशी की बात है कि शासकीय महाविद्यालय जोबी के राष्ट्रीय सेवा योजना शिविर का आज ग्राम काफरमार में समापन हो रहा है। उन्होने शिविर में अपने उपस्थिति दर्ज कराने वाले ग्रामवासी एवं शिविरार्थियों को अपने शुभकामनाएं दी तथा आयोजकों सहयोगियों एवं स्वयंसेवियों का सम्मान करते हुए सभी के उज्जवल भविष्य की कामना की। इस अवसर पर राष्ट्रीय सेवा योजना के कार्यक्रम अधिकारी, महाविद्यालय के प्राध्यापक एवं कर्मचारीगण तथा बड़ी संख्या में गणमान्य नागरिक उपस्थित थे। 


 

21-12-2019
मुख्यमंत्री ने विश्वविद्यालय के कुलपति की शिकायत को देखते हुए जांच करने के दिए आदेश

अंबिकापुर। कमिश्नर द्वारा संत गहिरा गुरु विश्वविद्यालय के कुलपति के खिलाफ मुख्यमंत्री को 2 माह पूर्व एक रिपोर्ट भेजी गई थी। इसमें आर्थिक अनियमितता, महिला प्रोफेसर का शारीरिक शोषण सहित अन्य शिकायतों की जांच कर रिपोर्ट सौंपी गई थी। जांच से संतुष्ट नहीं होने के बाद मुख्यमंत्री द्वारा उच्च शिक्षा मंत्रालय के माध्यम से 2 दिन पूर्व एक पत्र भेजा गया था। इसमें पूरे शिकायत की विस्तृत जांच कर रिपोर्ट सौंपने को कहा गया था। कमिश्रर ने पत्र मिलने के बाद जांच कमेटी गठित कर शुक्रवार से जांच शुरू करा दी है। पूरी जांच में अभी एक सप्ताह का समय लगने की उम्मीद है। सरगुजा कमिश्नर ईमिल लकड़ा ने संत गहिरा गुरु विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो.रोहिणी प्रसाद के खिलाफ मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को एक जांच रिपोर्ट 15 दिसंबर को भेजी थी। उन्होंने अपने रिपोर्ट में लिखा था कि प्रो. रोहणी प्रसाद के सरगुजा में रहने से विश्वविद्यालय व उससे संबद्ध कॉलेजों में रहने से कभी भी अप्रिय स्थिति निर्मित हो सकती है। कमिश्नर ने ये जांच राज्य शासन के निर्देश पर की थी। कमिश्नर द्वारा भेजी गई रिपोर्ट के कुछ बिंदुओं पर सीएम भूपेश बघेल असंतुष्ट थे, उन्होंने उच्च शिक्षा मंत्रालय के माध्यम से कमिश्नर को एक पत्र लिखते हुए विस्तृत जांच रिपोर्ट देने को कहा। दो दिन पूर्व ही कमिश्नर कार्यालय को उच्च शिक्षा मंत्रालय का पत्र प्राप्त हुआ।


इसके बाद कमिश्नर ने सभी शिकायतों की जांच हेतु एक बार फिर चार सदस्यीय कमेटी बनाई है। इसमें उपायुक्त महावीर राम, ट्रेजरी ऑफिसर, एकाउंट अधिकारी व कमिश्नर कार्यालय के स्टेनो को शामिल किया गया है।
जांच कमेटी को निर्देश मिलने के बाद चारों सदस्य राज्य शासन व कमिश्नर कार्यालय का पत्र लेकर विश्वविद्यालय पहुंचे, जहां उन्होंने एक-एक बिंदु पर जांच शुरू की। सभी शिकायतों से संबंधित रिकॉर्ड को कमेटी के सदस्यों ने अपने कब्जे में ले लिया।इंजीनियरिंग कॉलेज के प्राचार्य आरएन खरे सहित अन्य लोगों ने कुलपति पर कई गम्भीर आरोप लगाते हुए शिकायत की थी। इसमें एक महिला प्रोफेसर का शारीरिक शोषण कर अनुचित लाभ पहुंचाने का आरोप लगाया गया था। इसके साथ ही आर्थिक अनियमितता का गम्भीर आरोप लगाया गया था। इसमें कई मामलों में दस्तावेजी प्रूफ है। कुलपति पर कार्यपरिषद की बैठक के दौरान लिए गए निर्णय को बदलकर कुछ लोगों की संविदा नियुक्ति किए जाने का भी गम्भीर आरोप लगाया गया था। बताया जा रहा है कि कुलपति द्वारा कार्यपरिषद की बैठक का पन्ना फाडक़र उसे बदलते हुए सैकड़ों की संख्या में संविदा पर नियुक्ति की गई थी। उच्च शिक्षा विभाग के अनुसार इस मामले का साक्ष्य भी उपलब्ध है।

जांच के दौरान पहले शिकायतों से संबंधित सभी रिकॉर्ड को खंगाला जा रहा है। जांच कमेटी के अनुसार एक-एक बिंदु पर जांच की जा रही है। अगर जरूरत पड़ी तो सभी स्टाफ के साथ कुलसचिव व कुलपति का भी बयान लिया जाएगा। शारीरिक शोषण पर जो शिकायत की गई थी अगर महिला प्रोफेसर जांच कमेटी के सामने अपना साक्ष्य दर्ज कराना चाहेगी तो उसका साक्ष्य भी लिया जाएगा। प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल ने विश्वविद्यालय की समीक्षा बैठक ली थी। इस दौरान उन्होंने विश्वविद्यालय के कुलपति को लेकर मिली शिकायतों पर सीएम भूपेश बघेल से मार्गदर्शन मांगा था। इसके बाद उच्च शिक्षा मंत्री ने 21 फरवरी को कमिश्नर से कुलपति के खिलाफ जांच किए जाने के आदेश जारी किए थे।

 वर्जन
कुलपति के खिलाफ कई गंभीर शिकायतें
कुलपति के खिलाफ कई गम्भीर शिकायतें हैं। कुछ बिंदुओं पर जांच की गई थी, लेकिन उच्च शिक्षा मंत्री के कार्यालय से दो दिन पूर्व विस्तृत जांच कर रिपोर्ट पेश करने को कहा गया है। इसमें कार्य के दौरान शारीरिक शोषण सहित कई गम्भीर आर्थिक अनियमितिता के आरोप है। जांच में अभी एक सप्ताह का समय लगना है।  

ईमिल लकड़ा, कमिश्नर व जांच अधिकारी

वर्जन
मुझे नहीं है जानकारी

मुझपर जो आरोप लगाए गए हैं, इसकी जानकारी नहीं है, मैं अभी बाहर हूूं।
प्रो. रोहिणी प्रसाद, कुलपति, संत गहिरा गुरु विश्वविद्यालय

 

14-11-2019
भाजपा का आरोप निराधार, किसानों से वादाखिलाफी नहीं, 25 सौ में ही खरीदेंगे धान : उमेश पटेल

रायपुर। मिलिये मंत्री से कार्यक्रम में गुरुवार को उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय राजीव भवन पहुंचे। मीडिया से चर्चा के दौरान उन्होंने कहा कि रिजल्ट में समस्या, एडमिशन की समस्या के संबंध में आवेदन मिले हैं, उसका निदान किया जाएगा। उन्होंने कहा कि युवा महोत्सव युवाओं को एक मंच देने का काम मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के आदेश के अनुसार किया जा रहा है। मुख्यमंत्री की सोच है कि युवाओं को प्रोत्साहित किया जाए। इसके माध्यम से उनके हुनर को उभारा जाए ताकि छत्तीसगढ़ के नाम को रौशन कर सकें। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ के चावल को केंद्र सरकार ने खरीदने से मना किया है लेकिन मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कई मंचों से कहा है कि परिस्थिति कैसी भी हो, किसानों से कांग्रेस सरकार का जो वादा है वह वैसा ही रहेगा। उन्होंने कहा कि मैं भी एक किसान हूं, इस साल पानी बहुत देर तक गिरा है और मेरी जमीन पर भी हार्वेस्टर जा नहीं सकता है, क्योंकि अभी भी गीली है। होता यह है कि किसी भी किसान का धान कटाई के बाद जब सोसाइटी आता है तो यदि किसान को कहा जाए कि आपके धान में नमी है तो उसे बहुत तकलीफ  होती है। किसानों को इस तकलीफ  से बचाने के लिए तारीख 15 दिन आगे बढ़ाई गई है।  इधर 1 दिसंबर किया गया है तो उधर 15 फरवरी तक बढ़ाया गया है, समय ढाई माह ही है। सिर्फ  इस साल की परिस्थिति को देखते हुए किसानों को समस्या का सामना न करना पड़े इसलिए इसे 1 दिसंबर किया गया है। मैं समझता हूं कि भाजपा का आरोप निराधार है, कोई वादाखिलाफी नहीं होगी किसानों के साथ। भाजपा के पास कोई मुद्दा नहीं है, किसी भी तरीके के मुद्दे को बनाना चाह रही है। 

 

08-11-2019
मुख्यमंत्री ने संत गहिरा गुरूजी को पुष्प अर्पित कर श्रद्धाजंलि दी

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने शुक्रवार को संत गहिरा गुरूजी की 23वीं पुण्य तिथि के अवसर पर बलरामपुर-रामानुजगंज जिले के सामरी क्षेत्र स्थित उनकी कर्मस्थली श्रीकोट पहुंचकर उन्हें पुष्प अर्पित कर श्रद्धाजंलि दी। उल्लेखनीय है कि बलरामपुर-रामानुजगंज जिले के सामरी क्षेत्र के ग्राम श्रीकोट में गहिरा गुरूजी 1952 में आए और इसको अपना कर्मक्षेत्र बनाया। गहिरा गुरूजी ने छत्तीसगढ़ के इस सुदूर वनांचल के कुसमी-श्रीकोट-सामरी  इलाके में समाज सेवा, सनातन धर्म एवं संस्कृति, शिक्षा के प्रचार-प्रसार के लिए आजीवन कार्य किया।  मुख्यमंत्री बघेल के साथ पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री टी.एस.सिंहदेव, शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम, उच्च शिक्षा मंत्री  उमेश पटेल, सरगुजा विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष खेलसाय सिंह, विधायक चिन्तामणि महाराज, विधायक जशपुर विनय भगत, विधायक भटगांव पारसनाथ राजवाड़े, विधायक लुन्ड्रा डॉ. प्रीतम राम सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण भी संत गहिरा गुरूजी को श्रद्धाजंलि देने के लिए श्रीकोट पहुंचे थे। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इस मौके पर संत गहिरा गुरूजी के चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित करते हुए दो मिनट का मौन धारण कर अपनी विनम्र श्रद्धाजंलि दी। इस अवसर पर बड़ी संख्या में मौजूद संत गहिरा गुरूजी के अनुयायी एवं ग्रामीणजनों ने भी मौन धारण कर श्रद्धांजलि अर्पित की। मुख्यमंत्री बघेल ने इससे पूर्व श्रीकोट में संत गहिरा गुरूजी के आश्रम स्थित मंदिर में मां दुर्गा के दर्शन एवं पूजा अर्चना कर प्रदेश की खुशहाली की कामना की।  

 

04-11-2019
पं. रविवि के रसायन विभाग में अंतरराष्ट्रीय रसायन सम्मेलन की तैयारी पूर्ण

रायपुर। पं. रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय में 14 से 16 नवंबर तक 56वाँ इंडियन कैमिकल सोसाइटी का अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन होगा। इस सम्मेलन की तैयारी पूर्ण हो चुकी है। सम्मेलन रसायन शास्त्र अध्ययनशाला तथा शा. नागार्जुन विज्ञान महाविद्यालय के संयुक्त तत्वावधान में होगा। आयोजन समिति के संयोजक डाॅ. कल्लोल के. घोष तथा आयोजन सचिव डाॅ. मनमोहन सतनामी ने बताया कि यह गौरव का विषय है कि प्रतिष्ठित इंडियन केमिकल सोसायटी के वार्षिक सम्मेलन की मेजबानी का अवसर पं. रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय, रायपुर को तीसरी बार प्राप्त हुआ है। पूर्व में सफल आयोजन सन 1985, सन 2010 में भी किया जा चुका है। पूर्व में सफल आयोजन व विश्वविद्यालय के अधोसंरचना को देखते हुए इंडियन केमिकल सोसाइटी ने पुनः इसके आयोजन की मेजबानी विश्वविद्यालय को दिया है। इस महत्वपूर्ण कार्यक्रम का उद्घाटन 14 नवंम्बर को प्रातः 10 बजे पं. दीनदयाल उपाध्याय प्रेक्षागृह में होगा। उद्घाटन समारोह के मुख्यअतिथि के लिए प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल तथा विशिष्ट अतिथि के लिए उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल को आमंत्रित किया गया है। उदघाटन समारोह की अध्यक्षता पं.रविशंकर शुक्ल विवि के कुलपति प्रो.केशरीलाल वर्मा करेंगे। इंडियन केमिकल सोसायटी के अध्यक्ष प्रो. दुलालचंद्र मुखर्जी तथा सचिव प्रो.चित्तरंजन सिन्हा विशेष रूप में उपस्थित रहेंगे। इस अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन में विभिन्न वैज्ञानिकों का शोधपत्र प्रस्तुतिकरण पाँच अलग-अलग सत्र में होगा। सत्र में भौतिक रसायन, कार्बनिक तथा बायोकेमिस्ट्री, अकार्बनिक रसायन, औद्योगिक रसायन एवं पर्यावरण वैश्लेषिक रसायन विषय है।
 उद्घाटन समारोह के पश्चात् टेक्सास यूनिवर्सिटी फ्लोरिडा के विशिष्ट रसायन शास्त्री प्रो. डेनियल थैलहम का व्याख्यान होगा। इसके पश्चात् जापान के चीबू युनिवर्सिटी के प्रो. किमिटाका कावामूडा का व्याख्यान होगा। इस वर्ष ‘आवर्त सारिणी के 150 वर्ष ’ पूरे विश्व में मनाया जा रहा है। इस सम्मेलन में भी आवर्त सारिणी पर कोलकाता विश्वविद्यालय के प्रो. डीसी. मुखर्जी तथा साहा नाभिकीय भौतिकी संस्थान, कोलकाता के डाॅ. सुशांत लाहिरी का विशेष व्याख्यान होगा। प्रथम तकनीकि सत्र में विश्वभारती शांतिनिकेतन  के प्रसिद्ध वैज्ञानिक प्रो.बीएम देब, भारतीय प्रोद्योगिकी संस्थान, मद्रास के रसायन विज्ञानी डाॅ. सुंदर गोपाल घोष, भाभा परमाणु अनुसंधान मुंबई के पूर्व वैज्ञानिक डाॅ. सपन कुमार घोष का व्याख्यान होगा। इस तीन दिवसीय सम्मेलन में लगभग 60 वैज्ञानिकों के विशेष आमंत्रण व्याख्यान होंगे। सम्मेलन में देश के सभी प्रांतों से वैज्ञानिक आ रहे हैं। इसमें विशेष रूप से पश्चिम बंगाल, उड़ीसा, बिहार, उत्तरप्रदेश, महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश, केरल, तेलंगाना, आन्ध्रप्रदेश, तमिलनाडू , असम, गुजरात, राजस्थान, झारखंड, पंजाब के विभिन्न विश्वविद्यालय तथा शोध संस्था से रसायन शास्त्री भाग ले रहे हैं। सम्मेलन के संयोजक डाॅ. कल्लोल के. घोष  ने बताया कि पहली बार छत्तीसगढ़ अंचल के विभिन्न विश्वविद्यालय, महाविद्यालय तथा मूल विज्ञान केन्द्र के स्नातक तथा स्नातकोत्तर छात्र-छात्राएँ अधिक संख्या में सहभागिता कर रहे हैं, युवा वैज्ञानिकों के लिए शोध पत्र प्रतियोगिता का भी आयोजन किया गया है।  यह आयोजन इसलिए भी विशेष है, कि प्रथम बार 600 प्रतिभागियों में से छत्तीसगढ़ के विभिन्न महाविद्यालयों के 200 से अधिक स्नातकोत्तर छात्र-छात्राएँ इस कार्यक्रम में शामिल हो रहे है, ताकि भारत के ये भविष्य के वैज्ञानिकों को प्रोत्साहन व उच्चकोटि के वैज्ञानिकों का मार्गदर्शन मिल सकें। कार्यक्रम के सफल आयोजन के लिए कुलपति तथा कुलसचिव निरंतर मार्गदर्शन कर रहे हैं। इस सम्मेलन में 450 से अधिक शोधपत्रों को शोध छात्र विषय विशेषज्ञों के समक्ष प्रस्तुत करेंगे। तीन दिवसीय इस आयोजन में उक्त विषयों में चयनित युवा वैज्ञानिकों को समिति द्वारा युवा वैज्ञानिक के अवार्ड से नवाजा जायेगा। इस वर्ष होने वाले इस आयोजन में न केवल विश्वविद्यालय बल्कि छत्तीसगढ़ के विज्ञान एवं रसायन शास्त्र के शिक्षक, शोध-छात्राएँ लाभान्वित होंगे

01-11-2019
मुख्यमंत्री ने राज्योत्सव स्थल पर लगाए गए स्टॉलों का किया अवलोकन

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने शुक्रवार को राज्य के 20वें स्थापना दिवस पर साइंस कालेज मैदान में आयोजित राज्योत्सव  में विभिन्न विभागों द्वारा लगाए गए स्टालों का विशेष वाहन में मंत्रीमंडल के सहयोगियों के साथ अवलोकन किया। मुख्यमंत्री ने स्टॉलों के अवलोकन के दौरान महिला स्व-सहायता समूहों और छत्तीसगढ़ के हस्त शिल्पियों द्वारा निर्मित सामाग्रियों की सराहना की। सांइस कॉलेज मैदान में राज्योत्सव स्थल पर लगभग 13 एकड़ क्षेत्र में 18 शासकीय विभागों की योजनाओं और गतिविधियों से संबंधित स्टॉल लगाए गये हैं। कृषि विभाग से संबंधित योजनाओं के लिए एक अलग से स्टॉल भी बनाए गए हैं। यहां शिल्प ग्राम बनाया गया है। इनमें शिल्पियों के द्वारा विभिन्न सामाग्रियों के बिक्री सह प्रदर्शनी से संबंधित 36 स्टॉल लगाए गए हैं। व्यवसायिक पेवेलियन में विभिन्न उद्योगों से संबंधित 52 स्टॉल लगाए गए है। साथ ही लोगों की जानकारी और प्रदर्शन के लिए पब्लिक सेक्टर यूनिट एनटीपीसी, जेएसपीएल, बाल्को, एनएमडीसी, बीएसपी, सीएसआईडीसी के स्टॉल भी लगाए गए हैं। राज्योत्सव स्थल पर शासकीय विभागों द्वारा लगाए गए स्टॉलों में पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग, नगरीय प्रशासन एवं विकास, जनसम्पर्क, खनिज, श्रम, संस्कृति तथा पर्यटन, जल संसाधन, वन, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी, आवास एवं पर्यावरण,लोक निर्माण, ऊर्जा, कृषि, आदिम जाति, अनुसूचित जाति तथा पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक विभाग, महिला तथा बाल विकास, खेल एवं युवा कल्याण, खाद्य नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण, समाज कल्याण तथा शिक्षा विभाग शामिल हैं। इसके साथ ही फूड कोर्ट में छत्तीसगढ़ी व्यंजनों के 26 स्टॉल बनाए गए हैं। इस अवसर पर गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू, स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव, कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे, वन मंत्री मोहम्मद अकबर, स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह, महिला एवं बाल विकास मंत्री अनिला भेंडि़या, संस्कृति मंत्री अमरजीत भगत, उच्च शिक्षा मंत्री  उमेश पटेल, लोक स्वास्थ्य मंत्री गुरू रूद्र कुमार, राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल, उद्योग मंत्री कवासी लखमा, नगरीय प्रशासन मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया, विधायक मोहन मरकाम, सांसद छाया वर्मा, नगर निगम महापौर प्रमोद दुबे भी उनके साथ थे।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804