GLIBS
30-06-2020
Video: नए सब्जी विक्रेताओं और पंजीकृत विक्रेताओं के बीच आपस में ठनी, दुकान लगाने को लेकर हो रहा विरोध

रायगढ़। कोरोना के संक्रमण को देखते हुए जिला प्रशासन ने संजय मार्केट के सब्जी विक्रेताओं को संडे मार्केट में दुकान लगाने की वैकल्पिक व्यवस्था की थी। लेकिन नए और अनरजिस्टर्ड सब्जी विक्रेताओं के दुकान लगाने से अब संजय मार्केट के लगभग 400 पंजीकृत सब्जी विक्रेताओं ने विरोध प्रकट किया है। नए सब्जी विक्रेता व संजय मार्किट के रजिस्टर्ड सब्जी विक्रेताओं के बीच अब दुकान लगाने को लेकर आपस मे ही ठन गई है। संजय मार्केट के सब्जी विक्रेताओं इस बात का विरोध दर्ज किया है और कलेक्टर से मिलकर अपनी समस्या बताने की बात कही है। बढ़ते कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए संडे मार्केट में सब्जी विक्रेताओं को दुकान लगाने की अनुमति जिला प्रशासन ने दी थी। आज निगम के अधिकारियों द्वारा शहर के विभिन्न स्थानों पर दुकान लगाने वाले फुटकर सब्जी विक्रेताओं को जाकर इस बात की हिदायत दी गई कि वह सभी सब्जियों की दुकान आप संडे मार्केट में लगाएं। लेकिन जब यह नए सब्जी विक्रेता इतवारी बाजार में सब्जी दुकान लगाई तो संजय मार्केट के सब्जी विक्रेताओं के साथ जगह को लेकर इनके बीच विवाद उत्पन्न हो गया। संजय मार्केट के सब्जी विक्रेताओं का कहना है कि लॉक डाउन की अवधि में कई नए सब्जी विक्रेता शहर में विभिन्न स्थानों पर सब्जी की दुकान लगा रहे हैं जो कि पंजीकृत विक्रेता नहीं है ऐसे में वर्तमान में जब सब्जी विक्रेताओं की संख्या हजारों में पहुंच गई है। तब संजय मार्केट के पंजीकृत सब्जी विक्रेताओं को स्थान की दिक्कत उत्पन्न हो रही है सब्जी विक्रेताओं ने अपनी शिकायत जिला कलेक्टर से करने की बात कही है।

वहीं दूसरी ओर इतवारी बाजार में सब्जी मार्केट लगने का स्थानीय निवासी भी पुरजोर विरोध कर रहे हैं और उन्होंने भी निगम आयोग और जिला कलेक्टर को आवेदन दिया है जिस पर उन्होंने इतवारी बाजार में मूलभूत समस्या नहीं होने का हवाला देते हुए कोरोना के संक्रमण को देखते हुए इतवारी बाजार में सब्जी मार्केट नहीं लगाने की मांग की है।इतवारी बाजार शहर के मध्य स्थित है और इसके चारों ओर रिहायशी क्षेत्र है जो अत्यंत घनी आबादी का है। ऐसे में यदि सैकड़ों की संख्या में सब्जी की दुकानें इतवारी बाजार में लगाई जाती हैं तो इससे संक्रमण का खतरा बढ़ सकता है। संजय मार्केट के सब्जी विक्रेताओं का विरोध अपनी जगह जायज है क्योंकि यह वह सब्जी विक्रेता है जो सालों से निगम के पंजीकृत सब्जी व्यवसाई हैं। ऐसे में यदि कोरोना के संक्रमण काल और लॉक डाउन की अवधि में नए ने लोग सब्जी बेचने का कारोबार शुरू किया है तो ऐसे में संजय मार्किट के सब्जी व्यवसायी अपनी दुकान लगाने के परेशान हो रहे है। इस पूरे मामले में जिला प्रशासन को पहल करने होगा और वर्षो से सब्जी का व्यवसाय करने वाले दुकानदारों को प्राथमिकता के साथ स्थान की व्यवस्था करनी होगी।

13-06-2020
एआईसीसी मेंबर सामू कश्यप पर राशन दुकान संचालक ने लगाए अवैध वसूली के आरोप

जगदलपुर। काकरवाड़ा राशन दुकान संचालक नुकेश बघेल द्वारा लगाए गए अवैध वसूली के आरोप मामला गरमा गया है। शुक्रवार को ग्राम पंचायत काकरवाड़ा में ब्लॉक कांग्रेस कमेटी के पदाधिकारी समेत 10 पंचायतों के सरपंचों ने संयुक्त बयान में बताया कि पीडीएस में धांधली की शिकायत पर राशन दुकान काकरवाड़ा में बीते मई माह में सरपंच धनसिंह नाग व पंचायत प्रतिनिधि मंडल जांच के लिए पहुँचा। उन्होंने विक्रेता नुकेश से ग्रामीणों को राशन कम मिलने के बाबत पूछताछ की। साथ ही हितग्राहियों को मिलने वाले राशन के बारे में भौतिक सत्यापन करने की बात कही।

संतोषप्रद जवाब न मिलने पर खाद्य विभाग से जानकारी मांगी गई तो खुलासा हुआ कि विक्रेता पर शासन का बकाया है। इसके बाद नाटकीय घटनाक्रम में नुकेश बघेल ने पंचायत व एआईसीसी मेंबर के खिलाफ उगाही का आरोप लगाया। इतना ही नहीं बीते बुधवार को परिवार के 5 लोगों के साथ धरने पर बैठ ये प्रचारित किया कि इलाके के 5 हजार कांग्रेसी इस्तीफा दे रहे हैं। इसका खंडन ब्लाक कांग्रेस कमेटी नानगुर ने किया है। बयान देने वालों में ब्लॉक कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष नीलू राम बघेल समेत पदाधिकारी जिला पंचायत सदस्य प्रत्याशी हीरालाल ध्रुव, युवा कांग्रेस ब्लाक अध्यक्ष लोकेश सेठिया, काकरवाड़ा सरपंच धनसिंग नाग, सोनसाय कश्यप, सुखराम नाग, दुर्जन बघेल, कमल सेठिया, शंकर नाग आदि ने हस्ताक्षर किए।

15-05-2020
Video: लगातार नुकसान झेल रहे दूध विक्रेताओं ने किया अनोखा प्रदर्शन, मुफ्त में बांटा दूध

रायगढ। शहर में दूध विक्रेताओं ने गरीब बस्ती में निःशुल्क दूध बांटकर अनोखा विरोध प्रदर्शन किया है। दूध विक्रेताओं का कहना है कि लॉक डाउन के कारण उनके दूध की खपत नहीं हो पा रही है, जिससे उन्हें भारी नुकसान हो रहा है। गौरतलब हो कि अभी दो दिन पहले ही 12 मई को भी लॉक डाउन की वजह से कुछ दूध विक्रताओं को लगातार हो रहे नुकसान के कारण ऐसा ही विरोध किया था। लेकिन आज किये गए विरोध में बड़ी संख्या में स्थानीय दूध विक्रेता शामिल हुए। उन्होंने सुभाष चौक में अनोखा प्रदर्शन करते हुए लोगों को मुफ्त में दूध बांट दिया। उनका कहना है कि होटल चाय की गुमटियां बन्द होने से दूध की खपत नहीं हो पा रही है। ऐसे में दूध उत्पादक किसानों को भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है। वर्तमान में सरकार ने शराब दुकान के अलावा पान ठेले तक खोल दिये गए है। लेकिन होटल व चाय की गुमटियां नहीं खोली गई है।

सरकार के इस निर्णय से वे नाराज है, वे लोग इन्हें खोलवाने की मांग कर रहे हैं। स्थानीय दुग्ध विक्रेताओं ने अपनी मांग को लेकर आज अनोखे ढंग से विरोध जताया। उन्होंने बचे हुए दूध को निचली बस्तियों में निशुल्क बांट कर प्रशासन से होटल व चाय दुकान खुलवाने अथवा सरकारी डेयरी में दूध खरीदने की व्यवस्था करने की मांग की है। होटल व चाय की गुमटियां नहीं खुलने से दूध की खपत नहीं हो पा रही हैं। बताया जा रहा है कि रायगढ़ में तकरीबन 30 से 32 हजार लीटर दूध का उत्पादन होता है। घरों में तकरीबन 10 से 12 हजार लीटर दूध की खपत होती है।

शेष दूध होटल में मिठाई बनाने व चाय की गुमटियों में खपत होती है। प्रशासन ने होटल व चाय की गुमटियों से प्रतिबंध नहीं हटाया है, ऐसे में दूध की खपत नहीं होने से दूध उत्पादक किसान परेशान है। किसानों ने होटल व चाय की गुमटियां खोलवाने की मांग को लेकर आज गरीब बस्ती में बचे दूध को निशुल्क बांट कर प्रशासन का विरोध जताया। दूध विक्रेताओं का कहना है कि लॉक डाउन में दूध की जितनी खपत हो रही है। उससे वे गाय का चारा बमुश्किल ले पा रहे है तो कुछ किसान लोन लेकर डेयरी का कार्य कर रहे हैं। उनके सामने लोन की किश्त जमा करने की भी परेशानी है। किसानों का कहना है कि यदि होटल नहीं खोले जाते है तो कम से कम शासकीय डेयरी में किसानों का पूरा दूध खरीदी करने की व्यवस्था की जाए।

11-04-2020
बैकुंठधाम में लगा होलसेल मार्केट,निगरानी में जुटी रही निगम और पुलिस की टीम

भिलाई। निगम एवं पुलिस प्रशासन की टीम शनिवार को बैकुंठधाम में लगने वाले होलसेल बाजार की निगरानी रखने पहुंची थी। पुलिस टीम लाउडस्पीकर के माध्यम से भीड़ न बढ़ाने समझाइश देते रहे तथा पुलिस बल बाजार का घूम-घूम कर निरीक्षण करती रही। बैकुंठधाम में लगने वाले होलसेल मार्केट में आने जाने-वाले वाहनों के लिए पार्किंग की अलग से व्यवस्था की गई है तथा दुपहिया वाहनों को भी अलग से पार्किंग स्थल पर खड़ा करने निर्देशित किया गया। होलसेल के आलू-प्याज के विक्रय के लिए पृथक से स्थल निर्धारित किया गया है तथा होलसेल के सब्जी विक्रेताओं के लिए अलग स्थल निर्धारित है दोनों ही स्थल बैकुंठ धाम में हैं।

जिन विक्रेताओं को मंडी समिति द्वारा टोकन पास जारी किया गया है उन्हीं विक्रेताओं को इस स्थल पर बैठने की इजाजत दी गई है। कुछ अन्य आलू प्याज विक्रेताओं ने यहां पर अपनी दुकानें लगा रखी थी जिनका निरीक्षण करने पर टोकन पास जारी नहीं किया जाना पाया गया जिस पर तीनों से प्रति विक्रेता 5000 रुपए आर्थिक दंड वसूल कर उनके दुकान को नहीं लगने दिया गया। बैकुंठधाम होलसेल बाजार में आज निगम एवं पुलिस प्रशासन की चाक-चौबंद व्यवस्था रही। इसके अतिरिक्त आकाशगंगा के फुटकर सब्जी विक्रेता आज राधिका नगर स्लॉटर हाउस के पास तथा सर्कस मैदान के पास व्यवसाय किए। यहां भी निगम की टीम बाजार का निरीक्षण करती रही।

 

28-01-2020
पद्म श्री सम्मान से नवाजा जायेगा एक संतरा बेचने वाले को

नई दिल्ली। कर्नाटक में हरेकला हजब्बा 68 साल नाम के संतरा विक्रेता को भी इस बार सरकार ने पद्मश्री सम्मान देने का ऐलान किया है। भारतीय वन्य सेवा के अधिकारी प्रवीण कसवान ने ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी है कि हरेकला हजब्बा उस समय राशन की दुकान पर लाइन में खड़े थे जब उनको सूचना दी गई कि उन्हें 'पद्मश्री' पुरस्कार देने का ऐलान हुआ है। फल विक्रेता हरेकला हजब्बा कई दशकों से दक्षिण कन्नड़ इलाके में गरीबों को मस्जिद में पढ़ाने का काम कर रहे हैं और इसमें वह अपनी कमाई का हिस्सा खर्च करते हैं। उनके गांव में नवापडापू में कोई स्कूल नहीं था लेकिन साल 2000 में हरेकला ने अपनी कमाई से पहला स्कूल खोला था। कुछ समय बाद स्कूल में बच्चों की संख्या बढ़ गई और तो उनको लोन लेकर और अपनी बचत का हिस्सा खर्च कर स्कूल के लिए जमीन खरीदी। हरेकला ने खुद अपनी प्राथमिक पढ़ाई भी नहीं पूरी की है। गांव में उनको प्यार से अक्षरों का संत कहा जाता है। हरेकला को उम्मीद है कि सरकार अब उनके गांव में कॉलेज खोलेगी।


 

30-08-2019
विक्रेता कृषकों को उसी दिन होगा भुगतान

मुंगेली।  कृषि उपज मंडी के सचिव ने आज यहां बताया कि कृषि उपज मंडी समिति मुंगेली क्षेत्रांतर्गत सौदा पत्रक के माध्यम से विक्रय किये गये कृषि उपज का भुगतान विक्रेता कृषकों  को उसी दिन प्राप्त होना है। यदि उसी दिन भुगतान प्राप्त नहीं होता है तो मोबाइल नम्बर 9826374970 में शिकायत दर्ज करा सकते है।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804