GLIBS
04-07-2020
प्रदेश के सभी राशन दुकानों में लगेंगे कैमरे, एकरूपता के लिए तिरंगा कलर से पोता जाएगा दीवार

रायपुर। खाद्य मंत्री अमरजीत भगत ने प्रदेश की सभी शासकीय उचित मूल्य की दुकानों में सीसीटीव्ही कैमरा जल्द लगाने के निर्देश दिए हैं। भगत ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से आयोजित सभी जिलों के खाद्य अधिकारियों की बैठक में खाद्यान्न भण्डारण और वितरण की समीक्षा की। उन्होंने राज्य के सभी पहुंचविहीन क्षेत्रों की राशन दुकानों में खाद्यान्न भण्डारण और वितरण की जानकारी ली और तीन दिन के भीतर चार माह के लिए पर्याप्त मात्रा में खाद्यान्न भण्डारण करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने सभी राशन कार्डधारी परिवारों के सदस्यों की आधार सिडिंग शीघ्र करने को कहा है, ताकि अगस्त माह में वन नेशन वन राशन कार्ड योजना छत्तीसगढ़ में भी शुरू की जा सके। उन्होंने कहा कि राज्य के सभी राशन दुकानों की दीवारों को तिरंगा कलर से पोताई करने के निर्देश दिए गए थे। जिन दुकानों में पोताई का कार्य नहीं हो पाया है, उन दुकानों में एक सप्ताह के भीतर पोताई कराने के निर्देश दिए।

उन्होंने कहा कि तिरंगा कलर में पोताई होने से प्रदेश की राशन दुकानों में एकरूपता आएगी और अंजान व्यक्ति भी देखकर पहचान जाएगा राशन दुकान को। मंत्री भगत ने राशन दुकानों का युक्तियुक्तकरण करने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि 8 लाख से अधिक एपीएल परिवारों के राशन कार्ड बनाए गए हैं। राशन कार्डों की संख्या बढ़ने से राशन दुकानों की संख्या भी बढ़ाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि प्रत्येक ग्राम पंचायतों में एक-एक राशन दुकान एवं शहरी क्षेत्रों के वार्डों में आवश्यकता के अनुरूप एक या दो राशन दुकान खोले जाए, जहां नए राशन दुकान खोलने की जरूरत हो उसका प्रस्ताव शीघ्र देने को कहा है। भगत ने कहा कि नए राशन दुकान में तिरंगा कलर से पोताई और सीसीटीव्ही कैमरा लगाने के बाद ही दुकान का संचालन शुरू किया जाए।  भगत ने प्रदेश के जिन उचित मूल्य की दुकानों की शिकायतें आई है, उसका तत्काल निराकरण करने के निर्देश दिए हैं। भगत ने खाद्य विभाग द्वारा कोरोना काल में लोगों को खाद्यान्न उपलब्ध कराने के कार्य को महत्वपूर्ण बताया। उन्होंने कहा कि विषम परिस्थितियों में भी नागरिकों एवं प्रवासी श्रमिकों को समय पर राशन उपलब्ध कराया गया वह बड़ी उपलब्धि है।

खाद्य विभाग के सचिव डॉ. कमलप्रीत सिंह ने बताया कि राज्य के शहरी क्षेत्रों के 50 प्रतिशत से अधिक उचित मूल्य की दुकानों में सीसीटीव्ही कैमरा लगाए जा चुके हैं। सभी दुकानों में एक सप्ताह के भीतर सीसीटीव्ही कैमरा लगवाने के निर्देश जिला खाद्य अधिकारियों को दिए गए हैं। राशन दुकानों में सीसीटीव्ही कैमरा लगने के बाद सॉफ्टवेयर के माध्यम से उपभोक्ता मोबाइल पर अपने राशन दुकानों को देख सकेेंगे और राशन दुकान खुली या बंद होने की जानकारी घर बैठे ले सकेंगे। इसके माध्यम से सभी उचित मूल्य की दुकानों में होने वाली गतिविधियों की जानकारी भी मिलेगी और इसकी मॉनिटरिंग भी आसानी से हो सकेगी। बैठक में विशेष सचिव मनोज सोनी, एमडी मार्कफेड सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे।

29-06-2020
अमरजीत भगत का एक वर्ष का कार्यकाल पूरा, कहा- हर योजना के बेहतर क्रियान्वयन के लिए जमीनी स्तर पर कार्य किया

रायपुर। खाद्यमंत्री अमरजीत भगत ने सोमवार को मंत्री के रूप में अपने एक वर्ष का कार्यकाल पूरा होने पर मीडिया से चर्चा की। 29 जून 2019 को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार में अमरजीत भगत ने 13वें मंत्री के रूप में शपथ ली थी। उन्हें खाद्य, नागरिक आपूर्ति व उपभोक्ता संरक्षण, संस्कृति, योजना व सांख्यिकी विभाग मंत्रालय का कार्यभार सौंपा गया था। इस एक वर्ष में अपने दायित्वों का निर्वाह करते हुए छत्तीसगढ़ सरकार के अनेक निर्णयों को क्रियान्वित करने में सक्रिय योगदान दिया। उन्होंने कहा कि ,उनका संकल्प है कि छत्तीसगढ़ में कोई भूखा न सोए, जिसे पूरा करने के लिए उन्होंने लगातार कार्य किया। लोगों को योजनाओं का लाभ मिल रहा है कि नहीं मिल रहा, देखने के लिए खुद उनके बीच गए। उन्होंने कहा कि कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम के लिए लगाए गए लॉक डाउन के दौरान खाद्य व नागरिक आपूर्ति विभाग की भूमिका सबसे महत्वपूर्ण रही। इस दौरान 57 लाख अन्त्योदय, प्राथमिकता, एकल निराश्रित और नि:शक्तजन राशनकार्डधारियों को 3 माह अप्रैल, मई और जून का चावल नि:शुल्क वितरण किया गया। इन राशनकार्डधारियों को माह अप्रैल में 2 माह अप्रैल और मई का खाद्यान्न शक्कर, नमक एकमुश्त वितरण किया गया है। इसके अतिरिक्त उपरोक्त राशनकार्डधारियों को अप्रैल से जून 2020 तक नि:शुल्क 5 किलो प्रति सदस्य अतिरिक्त खाद्यान्न प्रदान किया गया।

मंत्री भगत ने कहा कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के क्रियान्वयन में छत्तीसगढ़ देश के अग्रणी राज्यों में से एक रहा। इस योजना के तहत अप्रैल व मई माह में शत-प्रतिशत और जून में 98 प्रतिशत खाद्यान्न का वितरण गरीब व जरुरतमंदों को किया गया। राज्य सरकार ने छत्तीसगढ़ के सभी राशनकार्डधारी परिवारों को 35 किलो हर महीने चावल देने का वचन पूरा किया है। राज्य के सभी निवासियों को खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती पर 2 अक्टूबर 2019 से सार्वभौम पीडीएस का शुभारंभ किया गया। सार्वभौम पीडीएस के अंतर्गत सामान्य परिवारों (आयकरदाता एवं गैर आयकरदाता) को भी खाद्यान्न प्रदाय किया जा रहा है। ऐसे तमाम उपलब्धियों पर मंत्री अमरजीत भगत ने प्रकाश डाला। मंत्री भगत ने भविष्य की कार्ययोजना के बारे में बताया कि राज्य में वाइंट आफ सेल डिवाईस के माध्यम से राशन सामग्री का वितरण पीडीएस के जरिए राशन सामग्री के वितरण में पारदर्शिता और  हितग्राही को अस्थायी प्रवास के दौरान राशन सामग्री प्राप्त करने की सुविधा देने के लिए प्वाइंट आफ सेल डिवाईस के माध्यम से राशन सामग्री का वितरण की व्यवस्था की जा रही है। भंडारण क्षमता का विकास और उचित मूल्य दुकानों का निर्माण और विस्तार किया जा रहा है। राज्य के अनुसूचित विकासखंडों और माडा क्षेत्र के 1500 भवनहीन उचित मूल्य दुकानों में नवीन दुकान सह गोदाम निर्माण और शहरी क्षेत्र के 200 व ग्रामीण क्षेत्र के 100 उचित मूल्य दुकानों में निर्मित दुकान सह गोदाम का नवीनीकरण और विस्तारीकरण करने के लिए कार्ययोजना बनाई गई है।

मंत्री भगत ने संस्कृति विभाग के उपलब्धियों के बारे में बताया कि राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव देश का सबसे बड़ा आदिवासी सांस्कृतिक समागम का आयोजन 27 से 29 दिसंबर 2019 तक रायपुर में किया गया। इसमें देश के 24 राज्य और केन्द्र शासित प्रदेश के आदिवासियों की प्रतिभागिता रहीं। साथ ही बेलारूस, थाईलैण्ड, युगाण्डा, मालदीव, श्रीलंका, बांग्लादेश के नृत्य समूहों का भी समावेश रहा। जीवन संस्कार, अनुष्ठान और मेले, कृषि चक्र तथा अन्य पारंपरिक नृत्य आदि चार श्रेणी में प्रतियोगिताएं आयोजित कर 16 पुरस्कार राशि रुपए 41 लाख प्रदान किया गया। आयोजन में लगभग 2,000 कलाकारों ने 125 से भी अधिक पारंपरिक जनजातीय नृत्यों का प्रदर्शन किया गया। इस आयोजन को राष्ट्रीय स्तर पर ख्याति मिली और राष्ट्रीय एकता और सदभावना की दिशा में जागृति उत्पन्न हुई। उन्होंने कहा कि साईंस कॉलेज मैदान, रायपुर में पांच दिवसीय राज्योत्सव का आयोजन हुआ। राज्योत्सव पर छत्तीसगढ़ के पारंपरिक लोक जनजातीय नृत्य, संगीत, गीत और वाद्य यंत्रों पर प्रस्तुतियां आयोजित की गई। इस अवसर पर राज्य की विभिन्न विभूतियों के नाम पर स्थापित सम्मानों के अन्तर्गत प्रतिभाओं को राज्य सम्मान से अलंकृत किया गया।

 

 

26-06-2020
अमरजीत भगत ने कहा, तेल की कीमतों पर हाय तौबा मचाने वाले आज चुप क्यों है

अम्बिकापुर। देशभर में डीज़ल-पेट्रोल की बढ़ती कीमत और मौसमी बीमारियों से बचाव की तैयारी जैसे मुद्दे पर खाद्य मंत्री अमरजीत भगत नें पत्रकारों से चर्चा की। स्थानीय सर्किट हाउस में पत्रकारवार्ता में चर्चा के दौरान खाद्य मंत्री नें कहा कि इस देश में लगातार पेट्रोल डीजल का दाम बढ़ता जा रहा है। पूरे विश्व में कोरोना महामारी से उपजे संकट से लोग परेशान हैं। इस परेशानी से देश भर के लोग परेशान है। अंतरराष्ट्रीय बाजार में क्रूड आयल की कीमत घट रही है,उसके बावजूद भारत में तेल की कीमतें आसमान छू रही है। यही नहीं बाज़ार में आवशयक वस्तु की कीमत बढ़ रही है। उन्होनें केंद्र सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि अप्रेल 2008 से जुलाई 2018 के बीच 11 बार पेट्रोल डीज़ल की कीमतों मे बढ़ोतरी हुई है जबकि कच्चे तेल में लगातार  गिरावट हुई है।

संक्रमण के दौरान ही लोगों से ज्यादा पैसा वसूला जा रहा है यह मौलिक अधिकार का हनन है। मूल्य नियंत्रण पर सरकार ध्यान दे। उद्योग-धंधे बन्द हैं,बड़ी संख्या में लोग बेरोजगार है। ऐसे में जनता पर यह अतिरिक्त बोझ किसी नाइंसाफी से कम नहीं।जब कांग्रेस की सरकार थी तब तेल की कीमतों में 10 पैसा बढ़ने पर भी जो लोग हाय तौबा मचाते थे,आज वह लोग चुप क्यों है। उन्होंने आरोप लगाया कि मूल्य वृद्धि की सबसे बड़ी वजह उद्योगपतियों को लाभ पहुंचाना। मोदी सरकार अपने चहेते उद्योगपतियों को लाभ पहुंचने के लिए नागरिकों के साथ नाइंसाफी कर रही है।खाद्य मंत्री ने बताया कि एलिफेंट रिजर्व का काम ग्रीन ट्रीब्यूनल में अटका हुआ है।

लेमरू प्रोजेक्ट को भी इसी वजह से आगे नहीं बढ़ाया जा सका है। लेकिन जहाँ प्रतिबंध है वहां भी अडानी को लीज पर जमीन दे दिया गया है। इससे वनक्षेत्र में कमी आई है। केवल भारत सरकार के ग्रीन ट्रिब्यूनल में मामला अटकने के कारण यह स्थिति निर्मित हुई है। इसे भूपेश सरकार ने गंभीरता से लिया और ग्रीन ट्रिब्यूनल में अटके मामले को क्लीयर कर लेमरू प्रोजेक्ट के एलिफेंट कॉरिडोर के काम को तेजी से किया जा रहा है। इससे हाथी-मानव द्वंद को रोका जा सकेगा।

 

19-06-2020
अमरजीत भगत ने अमलीडीह की सरकारी राशन दुकान में हितग्राहियों को बांटी अरहर दाल

रायपुर। खाद्य मंत्री अमरजीत भगत ने राजधानी रायपुर के अमलीडीह स्थित शासकीय उचित मूल्य की दुकान में हितग्राहियों को अरहर दाल का वितरण किया। गौरतलब है कि मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल ने प्रदेश के राशनकार्डधारी गरीब परिवारों को जून माह में एक किलो निःशुल्क अरहर दाल देने का निर्णय लिया है। राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के सामान ही छत्तीसगढ़ खाद्य और पोषण सुरक्षा अधिनियम के तहत बनाए गए राशनकार्डो में भी जून माह में एक किलो निःशुल्क अरहर दाल के वितरण के लिए आवंटन जारी किया गया है। इस मौके पर वरिष्ठ विधायक सत्यनारायण शर्मा, खाद्य विभाग के सचिव डॉ. कमलप्रीत सिंह, एम.डी.नान निरंजन दास सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे।

 

17-06-2020
उचित मूल्य की दुकानों के कांटा बांट और इलेक्ट्रानिक वेट मशीनों का होगा सत्यापन

रायपुर। खाद्य मंत्री अमरजीत भगत ने मंत्रालय में आयोजित बैठक में राज्य की सभी उचित मूल्य की दुकानों के कांटाबांट और इलेक्ट्रानिक वेट मशीनों का सत्यापन करने के निर्देश अधिकारियों को दिए हैं। मंत्री भगत ने कहा कि शहरी क्षेत्रों और जहां से तौल में गड़बड़ी की शिकायतें आ रही हैं, उन स्थानों की दुकानों का पहली जांच की जाए। उन्होंने बारिश शुरू होने के पहले राज्य के दुर्गम क्षेत्रों की उचित मूल्य की दुकानों में पर्याप्त मात्रा में खाद्यान्न भण्डारण के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि राज्य के सभी राशन कार्डधारी परिवारों के सदस्यों का आधार कार्ड लिंकिंग का कार्य शीघ्र पूरा किया जाए। उन्होंने कहा कि राशन कार्ड में शत्-प्रतिशत आधार लिंकिंग हो जाने से राज्य की किसी भी स्थान के उचित मूल्य के दुकानों से खाद्यान्न लिया जा सकता है। यदि राज्य का कोई परिवार अपने निवास  राज्य के ही किसी अन्य शहर या गांव में जाता है, तो उसे वहीं पर राशन कार्ड के माध्यम से खाद्यान्न लेने की सुविधा मिलेगी।

मंत्री भगत ने राज्य के सभी उचित मूल्य की दुकानों में मूल्य सूची लगाने एवं दुकानों के सामने रंग-रोगन कराने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि राज्य के सभी उचित मूल्य के दुकानों में तिरंगा कलर से पुताई करने का निर्देश भी दिए गए हैं। मंत्री भगत ने अन्य प्रदेशों से आ रहे श्रमिकों को निःशुल्क चावल 30 जून तक उपलब्ध कराने कहा है। बैठक में एमडी नान निरंजन दास, एमडी वेयर आउस एलेक्स पाल मेनन, एमडी मार्कफेड अंकित आनंद, खाद्य विभाग के विशेष सचिव मनोज सोनी एवं नियंत्रक नापतौल शिखा राजपूत तिवारी सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे।

31-05-2020
अंबिकापुर से रायपुर जाते टीएस सिंहदेव उदयपुर में रुके, कार्यकर्ताओं से की मुलाकात

अंबिकापुर। रविवार को अंबिकापुर से रायपुर जा रहे स्वास्थ्य मंत्री ने कुछ समय उदयपुर में रुककर स्थानीय कार्यकर्ताओं और आम लोगों से मुलाकात की। विश्राम गृह में मुलाकात के दौरान लोगों ने उन्हें अपनी समस्याओं से संबंधित ज्ञापन भी सौंपा। पीडीएस भवन की मांग पर उन्होंने मौके से ही खाद्य मंत्री अमरजीत भगत मोबाइल से संपर्क कर शीघ्र ही निर्माण कराए जाने को आश्वस्त किया। जर्जर हो चुके पंचायत भवनों के स्थान पर नए भवन की मांग पर उन्होंने स्पष्ट रूप से कहा कि फिलहाल उन्हीं भवनों को मरम्मत कर काम चलाना पड़ेगा, क्योंकि कोरोना के कारण शासन की वित्तीय हालत ठीक नहीं है, हालाकि नए सृजित पंचायतों में पंचायत भवनों की स्वीकृति दी जाएगी। स्थानीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में जीवनदीप समिति के माध्यम से स्वीपर के पद पर कार्यरत मानिक के द्वारा यह शिकायत की गई कि पूर्व से कार्यरत कर्मचारियों के साथ दूसरे जिले के लोगों को काम पर रखा गया है और उन्हें मानदेय भी अधिक दिया जा रहा है। इस शिकायत पर बीएमओ को तलब किया परंतु उनके मौके पर मौजूद नहीं होने पर गहरी नाराजगी जाहिर करते हुए सीएमएचओ को बीएमओ पर अनुशासनात्मक कार्यवाही के लिए निर्दशित किया। महिला स्वयं सहायता समूह के द्वारा तैयार किए गए सैनिटाइजर,मसाले, बैग आदि उत्पादों का भी उन्होंने अवलोकन किया। महिलाओं के द्वारा अस्पताल और अन्य शासकीय कार्यालयों में सप्लाई की मांग पर सहयोग का आश्वासन दिया। इस दौरान विधायक प्रतिनिधि सिद्धार्थ सिंहदेव, जिला पंचायत सदस्य राजनाथ सिंह,राधा रवि, जनपद अध्यक्ष भोजवंती सिंह, उपाध्यक्ष नीरज मिश्रा,जनपद सदस्य शांति राजवाड़े,पूर्व जनपद उपाध्यक्ष राजीव सिंहदेव वरिष्ठ कांग्रेसी कार्यकर्ता डीपी सिंह,रामबिलास अग्रवाल,बबन रवि,आदिवासी कांग्रेस के जिलाध्यक्ष ओमप्रकाश सिंह,जगदीश जायसवाल,द्वारिका यादव, अंकित बारी,रोहित सिंह टेकाम, सरपंच मरियम ,विभा सिंह सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

 

06-05-2020
मंत्री से मिलने पहुंचे कार्यकर्ताओं की फौज ने किया सोशल डिस्टेंस और धारा 144 का उल्लंघन

कोरिया बैकुंठपुर। खाद्य मंत्री अमरजीत भगत रायपुर से चलकर जिला मुख्यालय बैकुंठपुर पहुंचें। उनके पूरे दौरे के दौरान लॉक डाउन के समय ना तो सोशल डिस्टेंस और ना ही धारा 144 का ख्याल रखा गया। उनसे मिलने आए जनप्रतिनिधियों के साथ कार्यकर्ताओं ने जमकर सोशल डिस्टेंस का उल्लंघन किया। इस संबंध में खाद्य मंत्री अमरजीत भगत का कहना है कि रेस्ट हाउस में फ्रेश होने के लिए आया हूं बहुत दूर से आ रहा हूं, मैंने कोई बैठक तो ली नहीं, अब लोग आ गए हैं तो उनके दूर रहने के लिए कहा जा रहा है।

पूरे देश में लॉक डाउन जारी है, कोरिया मे धारा 144 लागू है। आम जनता यदि सोशल डिस्टेंस का पालन नहीं करें, मास्क नहीं पहने तो प्रशासन उन पर कार्यवाही कर रहा है। ऐसे में जब मंगलवार को कोरिया पहुंचे खाद्य मंत्री अमरजीत भगत से मिलने जनप्रतिनिधियों व कांग्रेसी कार्यकर्ता काफी संख्या में पहुंचे।

10-04-2020
 मंत्री, विधायक और महापौर ने किया राशन दुकानों का निरीक्षण, खाटू श्याम समिति के साथ किए सेवा  

रायपुर। महापौर एजाज ढेबर ने गुरुवार को खाद्य मंत्री अमरजीत भगत एवं ग्रामीण विधायक सत्यनारायण शर्मा के साथ राशन दुकानों का निरीक्षण किया। साथ ही खाटू श्याम मंदिर के राशन वितरण में शामिल हुए। महापौर ने गोंदवारा, फुड़हर, लाभांडी की राशन दुकानों की व्यवस्था का निरीक्षण किया। निरंतर अच्छी व्यवस्था बनाए रखने के निर्देश दिए। उन्होंने खाटू श्याम मंदिर समिति की ओर से गरीब जरुरतमंद लोगों को राशन वितरण के अभियान में भाग लिया। मंदिर समिति की ओर से लॉकडाउन में निरंतर जारी समाजहित में गरीबों की सेवा करने के कार्य को पूरे समाज के लिए अनुकरणीय कार्य कहा।

23-03-2020
भूपेश बघेल ने किडनी रोगी को मास्क,एंटीसेप्टिक साबुन और अन्य जरूरी चीज उपलब्ध करवाई

रायपुर। प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता विकास तिवारी ने बताया कि देवभोग जिले के ग्राम सुपेबेड़ा के निवासी दुर्योधन पुरैना,जो कि किडनी रोग से गंभीर रूप से ग्रसित हैं और लगातार अपना इलाज व रायपुर में करवा रहे हैं। दुर्योधन पुरैना वह व्यक्ति हैं,जिनके इलाज के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अमेरिका प्रवास के दौरान ईलाज राशि की समुचित व्यवस्था की थी। अभी कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते पूरे प्रदेश में लॉग डाउन घोषित करने के कारण दुर्योधन पुरैना को भी कुछ समस्याओं का सामना करना पड़ रहा था,जिसको तत्काल संज्ञान में लेते हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सर्वप्रथम उन्हें कपड़े से निर्मित मास्क,एंटीसेप्टिक साबुन फल एवं अन्य जरूरत की सामग्री उपलब्ध कराई। किडनी रोगी दुर्योधन पुरैना की मांग पर कि उनका राशन कार्ड में मिलने वाले राशन जो सुपेबेड़ा में मिलता है उसे रायपुर में ही व्यवस्था कराई जाए। इसके लिए खाद्य मंत्री अमरजीत भगत से बात कर तत्काल इस व्यवस्था को अमलीजामा पहनाने के लिए कहा गया। इसे तुरंत संज्ञान में लेते हुए खाद्य मंत्री अमरजीत भगत ने अपने विभागीय अधिकारी को निर्देश दिया है कि किडनी रोग से ग्रसित दुर्योधन पुरैना का राशन उन्हें रायपुर में ही उपलब्ध कराया जाए। उसके अलावा उन्हें विभाग से और अन्य जो भी सहायता चाहिए होगी उसकी व्यवस्था कराने की बात कही।

 

18-03-2020
भूपेश बघेल शामिल हुए अमरजीत भगत के पिता के दशगात्र कार्यक्रम में

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल बुधवार को सूरजपुर जिले के ग्राम पार्वतीपुर पहुंचकर वहां खाद्य मंत्री अमरजीत भगत के पिता स्व. दखलुराम भगत के दशगात्र कार्यक्रम में शामिल हुए। मुख्यमंत्री बघेल ने खाद्य मंत्री भगत के घर पहुंचकर स्वर्गीय दखलुराम भगत के छायाचित्र पर पुष्प अर्पित कर उन्हें विनम्र श्रद्धांजलि दी। मुख्यमंत्री ने अमरजीत भगत सहित उनके परिवार के सदस्यों से मुलाकात की और उन्हें ढांढस बंधाया। विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत, कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे, नगरीय प्रशासन एवं विकास मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया ने भी स्व. दखलुराम भगत को श्रद्धांजलि अर्पित की। बता दें कि छत्तीसगढ़ शासन के खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण तथा संस्कृति मंत्री अमरजीत भगत के पिता दखलुराम भगत का विगत 9 मार्च 2020 को रायपुर के एक निजी अस्पताल में निधन हो गया था। उनका दशगात्र, चन्दनपान एवं ब्रम्हभोज कार्यक्रम आज पार्वतीपुर में हुआ।

 

15-03-2020
अमरजीत भगत के गृह ग्राम पहुंचकर मुख्य सचिव ने पितृ शोक पर दी श्रद्धांजलि

रायपुर। प्रदेश के मुख्य सचिव आरपी मंडल ने खाद्य मंत्री अमरजीत भगत के गृह ग्राम पार्वतीपुर पहुंचकर उन्हें पितृ शोक पर सांत्वना व्यक्त करते हुए श्रद्धांजलि अर्पित की। इस मौके पर प्रधान मुख्य वन संरक्षक राकेश चतुर्वेदी, संस्कृति विभाग के सचिव पी. अंबलगन, सूरजपुर जिले के कलेक्टर दीपक सोनी सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे। ज्ञात हो कि खाद्य मंत्री अमरजीत भगत के पिता स्व. दखलु राम भगत का निधन रायपुर के एक निजी अस्पताल में 9 मार्च को हो गया था।


 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804