GLIBS
21-10-2020
तीन दिनों से जारी है धरना प्रदर्शन,अधिकारियों को उनकी सुध लेने की फुर्सत तक नहीं

धमतरी। राजीव ग्राम दुगली के पास वसुंधरा में रहने वाले आदिवासियों ने जमीन के पट्टे की मांग को लेकर जिला मुख्यालय धमतरी में अनिश्चितकालीन धरना शुरू कर दिया है। शहर के रामबाग मैदान में उनका धरना प्रदर्शन पिछले तीन दिनों से जारी है, पर अधिकारियों को उनकी सुध लेने की फुर्सत नहीं मिल रही है। परिवार समेत राशन पानी लेकर धरने पर बैठे इन आदिवासियों ने बताया कि वे सभी भूमिहीन हैं और दुगली के पास वसुंधरा धोबाकछार की आबादी जमीन पर झोपड़ी बनाकर रह रहे हैं और यहीं जमीन पर खेती कर गुजर बसर कर रहे हैं। काबिज जमीन के पट्टे की मांग वे वर्ष 1993 से लगातार कर रहे हैं। इस बीच 6-7 लोगों की मौत भी हो चुकी है, लेकिन उनकी कोई सुनवाई नहीं हो रही है। उल्टे कब्जा करने के आरोप में उन्हें दो बार जेल भेजा जा चुका है।

इनमें से एक प्रकरण में अदालत से सभी बरी हो चुके हैं और दूसरा प्रकरण लंबित है। इस बीच वन विभाग और ग्रामवासियों ने तीन साल पहले उनकी झोपड़ियों को तोड़कर अंदर रखे सारे सामानों को नष्ट कर दिया था और उनके साथ मारपीट भी की थी। इस अत्याचार के बावजूद वे सभी न्याय के लिए न्यायालय के चक्कर काट रहे हैं। उनका साफ कहना है कि वे सभी पिछले 27 सालों से वसुंधरा धोबाकछार की जमीन पर काबिज हैं और इसका पट्टा हासिल करने के इंतजार में उनके साथियों की एक एककर मौत भी हो रही है। इसलिए अब पट्टा हासिल करने के लिए सभी लोग मरते दम तक संघर्ष करते रहेंगे।

 

19-08-2019
राजीव ग्राम दुगली में मां अंगारमोती गौठान का लोकार्पण करेंगे सीएम बघेल

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल 20 अगस्त को धमतरी जिले के दुगली में ग्राम सुराज एवं वनाधिकार मड़ई में शामिल होंगे। वे इस अवसर पर दुगली में 3.06 एकड़ पर बने मां अंगारमोती गौठान का लोकार्पण करेंगे। ग्राम दुगली को राजीव ग्राम के नाम से भी जाना जाता है। 14 जुलाई 1985 को देश के पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी का दुगली आगमन हुआ था। तबसे इसे राजीव ग्राम के नाम से भी जाना जाता है। प्रदेश की नई सरकार की मंशानुरूप शासन की प्राथमिकताओं के सभी योजनाओं का बेहतर तरीके से क्रियान्वयन इस गांव में जिला प्रशासन द्वारा सुनिश्चित कराया जा रहा है। इसी तरह पर शासन की महत्वाकांक्षी सुराजी ग्राम योजना के तहत वनाच्छादित ग्राम दुगली में अब यह आदर्श गौठान बनाया गया है। गांव की आराध्य देवी अंगारमोती माता के नाम से स्थानीय परिवेश में स्थानीय संसाधनों से इस गौठान का निर्माण किया गया है। इस गांव में कुल 551 परिवार निवासरत हैं, जिनमें से 208 परिवारों में 620 मवेशी हैं। यहां चारागाह के लिए 10 एकड़ क्षेत्र स्थल प्रस्तावित है। गौठान बनाने के लिए महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना से और मध्य क्षेत्र विकास प्राधिकरण से सिहावा विधायक डॉ. लक्ष्मी ध्रुव ने अनुशंसा राशि स्वीकृति की है।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804