GLIBS
26-10-2020
कांकेर जिले में मिले 56 नए कोरोना संक्रमित, सर्वाधिक नरहरपुर क्षेत्र में

कांकेर। स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी बुलेटिन में सोमवार को जिलेभर में कोरोना संक्रमण के कुल 56 नए संक्रमित मरीजों की पहचान हुई है। वहीं जिले के कोयलीबेड़ा विकासखण्ड निवासी 45 वर्षीय एक व्यक्ति की 25 अक्टूबर को कोरोना संक्रमण से मौत होने की भी पुष्टि हुई है जोकि 13 अक्टूबर को पॉजिटिव पाया गया था,जिसका इलाज रायपुर के मेडिकल कॉलेज अस्पताल में जारी था। आज कांकेर से 14, अन्तागढ़ से 1, भानुप्रतापपुर 10, चारामा 8, दुर्गुकोंदल में 3, नरहरपुर में 16,  कोयलीबेड़ा से 4 कोरोना संक्रमण के नये मरीजों  की पुष्टि हुई है। कांकेर शहर में बरदेभाठा से 2, सिंगारभाट से 2, एमजी वार्ड से 1, संजयनगर वार्ड से 1, रामनगर वार्ड से 1, शितलापारा वार्ड से 2 एवं कांकेर विखं के ग्रामीण क्षेत्र से 5 पॉजिटिव संक्रमित मिले है।

 

29-09-2020
प्रदेश में अब तक 1208.9 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज, बीजापुर में सर्वाधिक और सरगुजा में सबसे कम 

रायपुर। प्रदेश के राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग द्वारा बनाए गए राज्य स्तरीय बाढ़ नियंत्रण कक्ष में संकलित जानकारी के मुताबिक एक जून से अब तक प्रदेश में कुल 1208.9 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज की जा चुकी है। प्रदेश में सर्वाधिक बीजापुर जिले में 2273.7 मिमी और सबसे कम सरगुजा में 821.6 मिमी औसत वर्षा अब तक रिकार्ड की गई है। राज्य स्तरीय बाढ़ नियंत्रण कक्ष से मिली जानकारी के मुताबिक एक जून से अब तक सूरजपुर में 1306.7 मिमी, बलरामपुर में 1084.9 मिमी, जशपुर में 1292.3 मिमी, कोरिया में 1042.9 मिमी, रायपुर में 1042.1 मिमी, बलौदाबाजार में 1063.5 मिमी, गरियाबंद में 1189.9 मिमी, महासमुन्द में 1260.4 मिमी, धमतरी में 1116.2 मिमी, बिलासपुर में 1238.7 मिमी, मुंगेली में 904.9 मिमी, रायगढ़ में 1207.2 मिमी, जांजगीर-चांपा में 1315.7 मिमी तथा कोरबा में 1330.7 मिमी औसत वर्षा दर्ज की गई है। इसी प्रकार गौरेला-पेन्ड्रा-मरवाही में 1051.3 मिमी, दुर्ग में 1004.2 मिमी, कबीरधाम में 953.4 मिमी, राजनांदगांव में 921.6 मिमी, बालोद में 1020.5 मिमी, बेमेतरा में 1077.1 मिमी, बस्तर में 1378.3 मिमी, कोण्डागांव में 1487.6 मिमी, कांकेर में 1020.7 मिमी, नारायणपुर में 1405.1 मिमी, दंतेवाड़ा में 1557.7 मिमी तथा सुकमा में 1490.1 मिमी औसत दर्ज की गई है।

27-09-2020
छत्तीसगढ़ में जून माह से अब तक 1207.2 मिमी औसत वर्षा, सर्वाधिक बीजापुर में दर्ज

रायपुर। प्रदेश में 1 जून से अब तक कुल 1207.2 मिमी औसत वर्षा दर्ज की जा चुकी है। प्रदेश में सर्वाधिक बीजापुर जिले में 2267.5 मिमी. और सबसे कम सरगुजा में 821.6 मिमी. औसत वर्षा अब तक रिकार्ड की गई है। राज्य स्तरीय बाढ़ नियंत्रण कक्ष से मिली जानकारी के मुताबिक 1 जून से अब तक सूरजपुर में 1306.7 मिमी., बलरामपुर में 1074.9 मिमी., जशपुर में 1292.3 मिमी., कोरिया में 1042.6 मिमी., रायपुर में 1042.1 मिमी., बलौदाबाजार में 1062 मिमी., गरियाबंद में 1189.9 मिमी., महासमुंद में 1259.5 मिमी., धमतरी में 1116.2 मिमी., बिलासपुर में 1238.5 मिमी., मुंगेली में 904.9 मिमी, रायगढ़ में 1206.3 मिमी., जांजगीर-चांपा में 1315.1 मिमी. और कोरबा में 1330.7 मिमी. औसत वर्षा दर्ज की गई है।

इसी प्रकार गौरेला-पेन्ड्रा-मरवाही में 1051.3 मिमी., दुर्ग में 1003.2 मिमी., कबीरधाम में 943 मिमी., राजनांदगांव में 917.2 मिमी., बालोद में 1020.5 मिमी., बेमेतरा में 1073.1 मिमी., बस्तर में 1367.मिमी., कोण्डागांव में 1487.6 मिमी., कांकेर में 1020.6 मिमी.,नारायणपुर में 1405.1 मिमी., दंतेवाड़ा में 1555.5 मिमी. और सुकमा में 1486.5 मिमी औसत दर्ज की गई है।

 

 

25-09-2020
प्रदेश में जून माह से अब तक 1204.3 मिमी. औसत वर्षा, सर्वाधिक बीजापुर और सबसे कम सरगुजा में हुई बारिश  

रायपुर। प्रदेश में एक जून से अब तक कुल 1204.3 मिमी. औसत वर्षा दर्ज की जा चुकी है। प्रदेश में सर्वाधिक बीजापुर जिले में 2261.4 मिमी. और सबसे कम सरगुजा में 821.2 मिमी.औसत वर्षा अब तक रिकार्ड की गई है। यह जानकारी प्रदेश के राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग की ओर से बनाए गए राज्य स्तरीय बाढ़ नियंत्रण कक्ष से मिली है। एक जून से अब तक सूरजपुर में 1303.3 मिमी., बलरामपुर में 1074.3 मिमी., जशपुर में 1292 मिमी., कोरिया में 1042.1 मिमी., रायपुर में 1039.9 मिमी., बलौदाबाजार में 1062.0 मिमी., गरियाबंद में 1187.8 मिमी., महासमुंद में 1256.1 मिमी., धमतरी में 1116.2 मिमी., बिलासपुर में 1238.5 मिमी., मुंगेली में 904.9 मिमी, रायगढ़ में 1206.3 मिमी., जांजगीर-चांपा में 1313.7 मिमी. और कोरबा में 1330.7 मिमी. औसत वर्षा दर्ज की गई है। इसी प्रकार गौरेला-पेन्ड्रा-मरवाही में 1051.3 मिमी., दुर्ग में 1001.5 मिमी., कबीरधाम में 943 मिमी., राजनांदगांव में 917.1 मिमी., बालोद में 1020.5 मिमी., बेमेतरा में 1073.1 मिमी., बस्तर में 1362.8 मिमी., कोण्डागांव में 1486.8 मिमी., कांकेर में 1020.6 मिमी., नारायणपुर में 1393.1 मिमी., दंतेवाड़ा में 1538 मिमी. और सुकमा में 1462.2 मिमी औसत दर्ज की गई है। इसी तरह प्रदेश के विभिन्न जिलों में शुक्रवार 25 सितंबर को सुबह रिकार्ड की गई वर्षा के अनुसार सरगुजा में 5.4 मिमी., सूरजपुर मे 5.8 मिमी, बलरामपुर2.4 मिमी, जशपुर 11.3 मिमी, कोरिया में 16.2 मिमी.रायपुर 0.4 मिमी, मिमी, गरियाबंद में 0.3 मिमी., महासमुंद 0.2 मिमी ,मुंगेली 0.7 मिमी , रायगढ़ 3.8 मिमी जांजगीर चांपा 2.3 मिमी, कोरबा 7.5 मिमी ,गौरेला पेंड्रा मारवाही में 6.1 मिमी, कबीरधाम में 3.3 मिमी , राजनांदगा में 3.3 मिमी , बालोद 3.3 मि मी , कोंडागांव में 0.9 मिमी., कांकेर में 0.1 मिमी., नारायणपुर में 0.3 मिमी औसत वर्षा दर्ज की गई।

 

 

29-08-2020
प्रदेश में 1 जून से अब तक 1047.3 मिमी. औसत वर्षा रिकार्ड, सर्वाधिक बीजापुर जिले में दर्ज

रायपुर।  प्रदेश के राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग के राज्य स्तरीय बाढ़ नियंत्रण कक्ष में संकलित जानकारी के मुताबिक प्रदेश में 1 जून से अब तक कुल 1047.3 मिमी. औसत वर्षा रिकार्ड की गई है।  प्रदेश में सर्वाधिक बीजापुर जिले में 2008.3 मिमी. और सबसे न्यूनतम सरगुजा में 726.0 मिमी. औसत वर्षा अब तक रिकार्ड की गई है। एक जून से अब तक सूरजपुर में 1157.9 मि.मी., बलरामपुर में 944.9 मिमी., जशपुर में 1087.9 मिमी., कोरिया में 923.4 मिमी., रायपुर में 947.9 मिमी., बलौदाबाजार में 954.8 मिमी., गरियाबंद में 974.8 मिमी., महासमुंद में 1144.3 मिमी., धमतरी में 961.2 मिमी., बिलासपुर में 1124.9 मिमी., मुंगेली में 767.3 मिमी, रायगढ़ में 1027.0 मिमी., जांजगीर-चांपा में 1113.7 मिमी. और कोरबा में 1185.1 मिमी. औसत वर्षा दर्ज की गई।  इसी प्रकार गौरेला-पेन्ड्रा-मरवाही में 906.6 मिमी., कबीरधाम में 788.3, दुर्ग में 882.3 मिमी., राजनांदगांव में 829.7 मिमी., बालोद में 933.7 मिमी., बेमेतरा में 948.5 मिमी., बस्तर में 1064.8 मिमी., कोण्डागांव में 1300.2 मिमी., कांकेर में 892.9 मिमी., नारायणपुर में 1174.1 मिमी., दंतेवाड़ा में 1341.0 मिमी. और सुकमा में 1213.8 औसत दर्ज की गई है। प्रदेश के विभिन्न जिलों में 29 अगस्त को सुबह सरगुजा जिले में 8.3 मिमी., सूरजपुर में 2.6 मिमी., बलरामपुर 1.7 मिमी., जशपुर में 10.9 मिमी. और कोरिया में 10.4 मिमी. औसत वर्षा रिकार्ड की गई है। इसी तरह से रायपुर 5.5, बलौदाबाजार में 11.2 मिमी., गरियाबंद में 3.1 मिमी., महासमुंद में 2.8 मिमी., धमतरी 3.8 मिमी, बिलासपुर में 16.2 मिमी., मुंगेली 7.7 मिमी., रायगढ़ में 5.4 मिमी., जांजगीर-चांपा में 17.3 मिमी., कोरबा में 27.5 मिमी., गौरेला-पेन्ड्रा-मरवाही में 5.1 मिमी., दुर्ग में 15.8 मिमी., कबीरधाम में 30.7 मिमी., राजनांदगांव में 37.9 मिमी., बालोद में 5.7 मिमी., बेमेतरा में 35.8 मिमी., बस्तर में 8.7 मिमी., कोण्डागांव में 3.6 मिमी., कांकेर में 5.8 मिमी., नारायणपुर में 10.0 मिमी., दंतेवाड़ा में 2.8 मिमी., सुकमा में 16.7 मिमी. और बीजापुर में 9.6 मिमी., औसत वर्षा दर्ज की गई।

17-07-2020
महासमुंद में 595 मिलीमीटर औसत बारिश, बागबाहरा में सर्वाधिक 

रायपुर/महासमुंद। चालू मानसून के दौरान विगत एक जून से आज 17 जुलाई तक 595 मिलीमीटर औसत वर्षा जिले में रिकार्ड की गई है। इस दौरान सबसे ज्यादा 741.6 मिलीमीटर बारिश बागबाहरा तहसील में हुई है। कार्यालय कलेक्टर भू-अभिलेख नियंत्रण कक्ष से प्राप्त जानकारी के अनुसार बसना तहसील में 697 मिलीमीटर, सरायपाली में 679 मिलीमीटर, महासमुंद में 484 मिलीमीटर और पिथौरा में सबसे कम 374 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई। बता दें कि जिले की सभी पांच तहसीलों में मानसून की संभावित औसत वर्षा सबसे अधिक बसना तहसील में 1268.7 मिलीमीटर महासमुंद की 1265.8 मिलीमीटर सरायपाली की 1225.6 मिलीमीटर पिथौरा की 1172.8 मिलीमीटर और सबसे कम बागबाहरा तहसील की 1026.9 मिलीमीटर है। इस प्रकार मानसून के दौरान जिले की औसत वर्षा 1192 मिलीमीटर है।

11-07-2020
ई-लोक अदालत से 2270 मामलों का हुआ आपसी समझौते से निराकरण, रायपुर में सर्वाधिक

रायपुर। छत्तीसगढ़ राज्य में ई-लोक अदालत के माध्यम से शनिवार को 2270 प्रकरणों का निराकरण किया गया। साथ ही 43 करोड़ 72 लाख 86 हजार 902 रुपए की सेटलमेंट राशि पारित की गई। उल्लेखनीय है कि छत्तीसगढ़ देश का पहला राज्य है, जहां अदालतों में लंबित मामलों के निराकरण के लिए पहली बार ई-लोक अदालत का आयोजन हुआ है। छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश पीआर रामचन्द्र मेनन ने ई-लोक अदालत का विधिवत शुभारंभ किया। इस दौरान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के कार्यपालक अध्यक्ष जस्टिस प्रशांत मिश्रा, जस्टिस मनीन्द्र मोहन श्रीवास्तव, जस्टिस गौतम भादुड़ी और अन्य न्यायधीश, हाईकोर्ट के रजिस्ट्रार जनरल नीलमचंद सांखला, रजिस्ट्रार सीपीसी शहाबुद्दीन कुरैशी उपस्थित थे। पक्षकारों के मामलों की सुनवाई और उसका निराकरण वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से किया गया।

छत्तीसगढ़ राज्य में ई-लोक अदालत के माध्यम से प्रकरणों के निराकरण के लिए 23 जिलों में कुल 195 खंडपीठे स्थापित की गई थी। इन खंडपीठों के माध्यम से कुल 2270 प्रकरणों का आपसी समझौते से निराकरण हुआ। ई-लोक अदालत के माध्यम से बस्तर जिले में 15, बलौदाबाजार में 88, बलरामपुर में 4, बालोद में 179, बेमेतरा में 48, बिलासपुर में 195, धमतरी में 22, दुर्ग में 294, जांजगीर में 116, जशपुर में 42, कबीरधाम में 44, कांकेर में 23, कोण्डागांव में 11, कोरबा में 65, कोरिया में 49, महासमुंद में 99, मुंगेली में 24, रायगढ़ में 45, रायपुर में 562, राजनांदगांव में 150, सरगुजा में 22, सूरजपुर में 18 और हाईकोर्ट विधिक सेवा समिति से 155 मामलों का निराकरण किया गया।

 

06-06-2020
लॉक डाउन, क्वारंटाइन उल्लंघन पर 25 एफआईआर दर्ज, मुुंगेली में 12 मामले

रायपुर। लॉक डाउन, क्वारंटाइन उल्लंघन करने और जानकारी छिपाने पर पुलिस ने पिछले 24 घंटे में 25 अपराध दर्ज किये हैं। इसमें मुंगेली में सर्वाधिक 12 एफआईआर दर्ज की गई है। इसके साथ ही महासमुंद में 5, बलौदाबाजार में 2, कोरबा में 1, जांजगीर चाम्पा में 1, कोरिया में 3, और जशपुर में 1 अपराध दर्ज किए गए हैं। पुलिस ने आईपीसी की धारा 188, 269, 270 के तहत अपराध दर्ज किए हैं।

30-04-2020
देश में सर्वाधिक वनोपजों की खरीदी करने वाला राज्य बना छत्तीसगढ़

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की पहल से छत्तीसगढ़ देश में सर्वाधिक मूल्य की लघु वनोपजों की समर्थन मूल्य पर खरीदी करने वाला राज्य बन गया है। “द ट्राइबल कोऑपरेटिव मार्केटिंग डेवलपमेंट फेडरेशन ऑफ इंडिया” (ट्राईफेड) की ओर से जारी किए गए आकड़ों के अनुसार छत्तीसगढ़ में अब तक 18 करोड़ 63 लाख रूपए से अधिक मूल्य की लघु वनोपजों की वनवासियों और ग्रामीणों से खरीदी की गई है, जो देश के सभी राज्यों में सर्वाधिक है। छत्तीसगढ़ के अलावा केवल दो राज्यों झारखण्ड और ओडिशा में लघु वनोपज की खरीदी का काम प्रारंभ हुआ है। ट्राईफेड के आंकड़ों के अनुसार पूरे देश में अब तक 18 करोड़ 67 लाख 26 हजार रूपए मूल्य की लघु वनोपजों की खरीदी की गई है, इसमें से अकेले छत्तीसगढ़ में 18 करोड़ 63 लाख 82 हजार रूपए मूल्य की लघु वनोपजों की खरीदी की गई है। झारखण्ड में 3 लाख 39 हजार रूपए और ओड़िसा में 5 हजार रूपए की लघु वनोपजों की खरीदी की गई है। प्रदेश में लघु वनोपजों का यह आंकड़ा लगतार बढ़ रहा है। राज्य सरकार के ताजा आंकड़ों के अनुसार चालू सीजन के दौरान छत्तीसगढ़ में अब तक एक लाख 32 हजार 272 संग्रहकों से लगभग 21 करोड़ रूपए मूल्य की 72 हजार 727 क्विंटल लघु वनोपजों का संग्रहण किया जा चुका है।

कोरोना लॉकडाउन के कारण संकट की इस घड़ी में सरकार की ओर से लघु वनोपजों की समर्थन मूल्य पर खरीदी और नगद भुगतान की प्रक्रिया से वनांचल के वनवासी-ग्रामीणों को काफी राहत मिल रही है। साथ ही वनोपजों के संग्राहकों के लिए रोजगार के अवसर भी बढ़ गए हैं। प्रदेश में वर्ष 2015 से वर्ष 2018 तक मात्र सात वनोपजों की समर्थन मूल्य पर खरीदी की जा रही थी। वर्तमान में राज्य सरकार द्वारा वनवासी ग्रामीणों के हित को ध्यान में रखते हुए खरीदी जाने वाली लघु वनोपजों की संख्या बढ़ाकर 22 कर दी गई थी, जिसे अब बढ़ाकर 23 कर दिया गया है।राज्य में चालू वर्ष में न्यूनतम समर्थन मूल्य योजना के अंतर्गत संग्रहित लघु वनोपजों में इमली (बीज सहित), पुवाड़ (चरोटा), महुआ फूल (सूखा), बहेड़ा, हर्रा, कालमेघ, धवई फूल (सूखा), नागरमोथा, इमली फूल, करंज बीज तथा शहद शामिल हैं। इसके अलावा बेल गुदा, आंवला (बीज रहित), रंगीनी लाख, कुसुमी लाख, फुल झाडु, चिरौंजी गुठली, कुल्लू गोंद, महुआ बीज, कौंच बीज, जामुन बीज (सूखा), बायबडिंग तथा साल बीज आदि लघु वनोपजें भी इसमें शामिल हैं।

 

17-04-2020
कोरोना से दुनिया में सबसे ज्यादा मौत हुई अमेरिका में, 24 घंटे में 4,491 लोगों की गई जान

नई दिल्ली। दुनियाभर में कोरोना वायरस का कहर जारी है। अमेरिका जैसे महाशक्ति शाली देश भी इस महामारी के आगे बेबस दिखाई दे रहा है। यह महामारी अमेरिका में सर्वाधिक तेज गति से फैल रहा है। चीन के वुहान से फैला कोरोना वायरस अब अमेरिका में तबाही मचा रहा है। अमेरिका में कोरोना वायरस के कारण संक्रमित लोगों का आंकड़ा 6 लाख के पार पहुंच गया है। अमेरिका में गुरुवार को मरने वाले लोगों की संख्या 32,917 पहुंच गई। मिली जानकारी के अनुसार बीते 24 घंटों में संक्रमण के कारण 4,491 लोगों की मौत हुई जो वैश्विक महामारी के कारण एक दिन में मौत का सर्वाधिक आंकड़ा है। मौत के इन आंकड़ों में वे मामले शामिल हैं, जिनमें मौत की वजह कोविड-19 के होने का संदेह है। कोविड-19 के कारण दुनिया में सर्वाधिक लोगों की मौत अमेरिका में हुई है। अमेरिका में संक्रमण के 6,67,800 से अधिक मामले सामने आए।

06-04-2020
 राज्य में अब तक 14 हजार क्विंटल से अधिक वनोपजों का हुआ संग्रहण,  इस जिले में हुई सर्वाधिक खरीदी

रायपुर। वन मंत्री मोहम्मद अकबर के मार्गदर्शन में राज्य में शासन के दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए लघु वनोपजों के संग्रहण का कार्य किया जा रहा है। इसके तहत अब तक प्रदेश में वनवासियों तथा ग्रामीणों द्वारा चालू सीजन के दौरान तीन करोड़ 16 लाख रूपए की राशि के 14 हजार 96 क्विंटल लघु वनोपजों का संग्रहण हो चुका है। वन मंत्री अकबर ने बताया कि चालू सीजन के दौरान राज्य में 253 करोड़ रूपए की राशि से 8 लाख 46 हजार 920 क्विंटल लघु वनोपजों के संग्रहण का लक्ष्य है। प्रमुख सचिव वन मनोज कुमार पिंगुआ ने बताया कि इनमें निर्धारित लक्ष्य के तहत अब तक वन मंडलवार सबसे अधिक खैरागढ़ वन मंडल द्वारा 839 क्विंटल और जिलेवार सबसे अधिक कबीरधाम जिले में 545 क्विंटल लघु वनोपजों का संग्रहण हो चुका है। ग्रामीणों तथा वनवासियों द्वारा लघु वनोपजों के संग्रहण में शासन के दिशा-निर्देशों और लाॅकडाउन के दौरान नियमों का शत-प्रतिशत पालन किया जा रहा है।

राज्य में अब तक संग्रहित वनोपजों में वन मंडलवार खैरागढ़ में 27 लाख रूपए की राशि के 839 क्विंटल, कवर्धा में 13 लाख रूपए की राशि के 545 क्विंटल और जगदलपुर में 80 लाख रूपए की राशि के 3 हजार 37 क्विंटल वनोपज शामिल हैं। इसी तरह वन मंडलवार दंतेवाड़ा में 46 लाख रूपए की राशि के एक हजार 573 क्विंटल, कांकेर में 12 लाख रूपए के 762 क्विंटल, बिलासपुर में छह लाख रूपए के 332 क्विंटल, बालोद में ढाई लाख रूपए के 146 क्विंटल और बीजापुर में 15 लाख रूपए के 965 क्विंटल वनोपजों का संग्रहण हो चुका है। वन मंडलवार बलौदाबाजार में 12 लाख रूपए की राशि के 582 क्विंटल, पश्चिम भानुप्रतापपुर में 4 लाख रूपए के 298 क्विंटल, सुकमा में 16 लाख रूपए के 686 क्विंटल, रायगढ़ में 5 लाख रूपए के 326 क्विंटल तथा दक्षिण कोण्डागांव में 20 लाख रूपए के 889 क्विंटल वनोपजों का संग्रहण कर लिया गया है।

वन मंडल नारायणपुर में डेढ़ लाख रूपए के 9 क्विंटल, कोरबा में 7 लाख रूपए के 328 क्विंटल, पूर्व भानुप्रतापपुर में छह लाख रूपए के 271 क्विंटल, राजनांदगांव में एक लाख रूपए के 80 क्विंटल तथा धमतरी में 3 लाख रूपए के 160 क्विंटल वनोपजों का संग्रहण हो चुका है। वन मंडलवार कटघोरा में 4 लाख रूपए के 232 क्विंटल, केशकाल में 5 लाख रूपए के 318 क्विंटल, गरियाबंद में 5 लाख रूपए के 273 क्विंटल, जशपुर में 5 लाख रूपए के 280 क्विंटल, महासमुंद में एक लाख रूपए के 71 क्विंटल और सरगुजा में दो लाख रूपए के 113 क्विंटल वनोपजों का संग्रहण कर लिया गया है। इसी तरह वन मंडलवार सूरजपुर में 3 लाख रूपए के 161 क्विंटल, बलरामपुर में 3 लाख रूपए के 163 क्विंटल, कोरिया में 2 लाख रूपए के 146 क्विंटल, धरमजयगढ़ में एक लाख रूपए के 81 क्विंटल और मनेन्द्रगढ़ में लगभग एक लाख रूपए की राशि के 50 क्विंटल वनोपजों का संग्रहण हो चुका है।

04-04-2020
राशन ही नहीं, सब्जियां भी दी जा रहीं दान में, दो दिनों में 9 क्विंटल सब्जी वितरित

धमतरी। लाॅक डाउन के दौरान सर्वाधिक प्रभावित होने वाले निर्धनों, दिहाड़ी मजदूरों और निम्न मध्यमवर्गीय परिवारों को जिला प्रशासन तथा शहर के स्वैच्छिक संगठनों व संस्थानों द्वारा राशन एवं आवश्यक सामग्रियां निःशुल्क वितरित कर यथासंभव सहयोग किया जा रहा है। उन्हें प्रतिदिन राशन दिया जा रहा है। अब कलेक्टर रजत बंसल के आव्हान पर सब्जी विक्रेता संघ भी दरियादिली दिखाते हुए सब्जियां दान में देने अपनी सक्रिय भूमिका निभा रहा है। इस संबंध में एसडीएम धमतरी मनीष मिश्रा और नगरपालिक निगम के आयुक्त आशीष टिकरिहा ने बताया कि कलेक्टर की अपील पर तालाबंदी के दौरान नवीन और पुरानी कृषि उपज मण्डी में थोक व चिल्हर सब्जियों का विक्रय निर्धारित समय में किया जा रहा है। चूंकि लाॅक डाउन के दौरान मण्डियों में लाई गई सब्जियां क्रेताओं की कमी के चलते काफी मात्रा में बच जाती हैं, इसलिए सब्जी विक्रेता संघ और स्थानीय सब्जी व्यापारियों ने सब्जियों को दान के तौर पर देने का निर्णय लिया।

वहीं दूसरी ओर गरीब परिवारों को राशन के साथ-साथ सब्जियां भी निःशुल्क मुहैया हो सके, इसके लिए जिला प्रशासन द्वारा भी पहल की गई। अब राशन के साथ-साथ निर्धन परिवारों को हरी सब्जियां भी वितरित की जा रही हैं। एसडीएम ने बताया कि कल और आज मिलाकर कुल 16 क्विंटल सब्जियां दान स्वरूप प्राप्त हुईं, जिन्हें उसी दिन राशन के पैकेट साथ निःशुल्क वितरित की जा रही हैं। तीन अप्रैल को साढ़े छह क्विंटल तथा आज साढ़े नौ क्विंटल सब्जियां दानस्वरूप प्राप्त हुईं, जिन्हें जरूरतमंदों को बांटा गया। उन्होंने बताया भी बताया कि जब तक लाॅकडाउन लागू रहेगा, तब तक प्रतिदिन सब्जी व्यवसायियों के द्वारा दान के तौर पर हरी सब्जियां गरीबों के लिए उपलब्ध कराई जाएंगी। कलेक्टर ने सब्जी विक्रेताओं की उक्त पहल एवं नवाचार की प्रशंसा की है।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804