GLIBS
29-06-2020
डीजल-पेट्रोल की बढ़ती कीमतों को लेकर धरना-प्रदर्शन कांग्रेस का एक और फ्लॉप शो : भाजपा

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता व पूर्व विधायक श्रीचंद सुंदरानी ने डीजल-पेट्रोल की बढ़ती कीमतों को लेकर कांग्रेस के धरना-प्रदर्शन को एक और फ्लॉप शो बताया है। सुंदरानी ने कहा कि आज डीजल-पेट्रोल की कीमतों को लेकर स्यापा मचा रहे कांग्रेस के नेता देश को गुमराह करने के लिए अपने झूठ का रायता चाहे जितना फैलाने की कोशिश कर लें, देश अब कांग्रेस के झाँसों में कतई नहीं आएगा। कांग्रेस डीजल-पेट्रोल में मूल्यवृद्धि पर तथ्यों से तो मुँह चुरा ही रही है, अपने संप्रग शासनकाल की महंगाई से लोगों का ध्यान भी भटका रही है। सुंदरानी ने कहा कि आज पेट्रोल भारत में 78.91 रुपए और डीजल 77.94 रुपए प्रति लीटर बिक रहा है जबकि कांग्रेसनीत संप्रग के शासनकाल में जनवरी 2013 में पेट्रोल 83 रुपए प्रति लीटर तक बिक रहा था। इसी प्रकार रसोई गैस की कीमतों को लेकर कांग्रेस को याद रखना चाहिए कि संप्रग शासनकाल (जनवरी 2014) में रसोई गैस की कीमत 1241 रुपए तक जा पहुँची थी,जो आज की तारीख में लगभग 660-676 रुपए है। डीजल-पेट्रोल की कीमतों को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर उंगली उठाने से पहले कांग्रेस नेता यह अच्छी तरह समझ लें कि डीजल-पेट्रोल की बढ़ी कीमतों से मिलने वाला राजस्व तो देश के खजाना में ही जा रहा है, अब प्रदेश सरकार यह स्पष्ट करे कि 30 फीसदी शराब के अवैध कारोबार से मिलने वाला राजस्व प्रदेश के खजाने में नहीं जाकर कहाँ जा रहा है?

 

01-03-2020
शाहीन बाग़ में धारा 144 लागू, प्रदर्शनकारी आज निकालेंगे शांति मार्च

नई दिल्‍ली। नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और एनआरसी के विरोध में देश की राजधानी दिल्‍ली के शाहीन बाग इलाके में दो महीने से भी ज्‍यादा वक्‍त से लोग धरना-प्रदर्शन कर रहे हैं। इस बीच हिन्‍दू सेना ने शाहीन बाग में जवाबी विरोध-प्रदर्शन का ऐलान किया था। हालांकि हिन्‍दू सेना ने 29 फरवरी को इस घोषणा को वापस ले लिया था। इसके बावजूद दिल्‍ली पुलिस ने एहतियातन इलाके में दिनभर के लिए धारा 144 लागू कर दी है, ताकि एक जगह ज्‍यादा लोग इकट्ठा न हो सकें। बता दें कि उत्‍तर-पूर्वी दिल्‍ली में हिंसा के खिलाफ शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों ने 1 मार्च को ही शांति मार्च निकालने की घोषणा की है। शाहीन बाग मामले में दिल्ली पुलिस के ज्वाइंट कमिश्नर डीसी श्रीवास्तव ने कहा कि एहतियात के तौर पर बड़ी संख्या में पुलिसबल की तैनाती की गई है। पुलिस का मकसद है कि शांति और कानून-व्यवस्था बनी रहे। किसी भी तरह की अप्रत्याशित घटना के लिए पुलिस ने ये तैयारियां

29-01-2020
सीएम की पाठशाला में भूपेश बघेल ने कहा, धरना-प्रदर्शन, हड़ताल में बंद नहीं होंगे स्कूल-कॉलेज

रायपुर। राजधानी रायपुर के विभिन्न स्कूलों के बच्चों ने बुधवार को सीएम की पाठशाला कार्यक्रम में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से सफलता, शिक्षा, सफल लीडर, गुणवत्तापूर्ण तकनीकी शिक्षा,परीक्षा के डर से उबरने जैसे विषयों पर रोचक सवाल पूछे। मुख्यमंत्री ने रोचक शैली और सहज-सरल भाषा में विद्यार्थियों के प्रश्नों के जवाब दिए। कार्यक्रम की समाप्ति के बाद भी छात्र-छात्राओं में मुख्यमंत्री से प्रश्न पूछने की होड़ लगी रही। मुख्यमंत्री ने विद्यार्थियों से कहा कि आप लोगों में सवाल पूछने की उत्सुकता है। यह जानकर मुझे अच्छा लगा। सवाल पूछने से ही व्यक्ति का विकास होता है। विद्यार्थियों को चाहिए कि जब तक उनके प्रश्न का जवाब ना मिल जाए तब तक कोशिश करते रहें।

कार्यक्रम में एक छात्र ने मुख्यमंत्री से पूछा कि रायपुर में धरना, प्रदर्शन और बंद के दौरान स्कूलों में व्यवधान न हो। इसके लिए सरकार ने क्या व्यवस्था की है? मुख्यमंत्री ने बताया कि जिला प्रशासन को निर्देश दिए गए हैं कि धरना,प्रदर्शन और हड़ताल के दौरान स्कूल-कॉलेजों में पढ़ाई में व्यवधान नहीं आए और विद्यार्थियों को असुविधा न हो। जबरदस्ती स्कूल-कॉलेज बंद कराने वालों के विरूद्ध कड़ी कार्रवाई की जाएगी। एक छात्रा के प्रश्न के जवाब में मुख्यमंत्री ने कहा कि शासकीय स्कूलों के साथ-साथ निजी स्कूलों के विद्यार्थियों को जिला स्तर पर आयोजित होने वाली खेल-कूद प्रतियोगिताओं में शामिल होने का अवसर मिलेगा। मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि नवा रायपुर के शहीद वीर नारायण सिंह अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम में वन-डे और इंटरनेशनल क्रिकेट मैच आयोजित करने की पहल की जाएगी। अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम का बच्चों को भ्रमण भी कराया जाएगा। स्कूलों की छुट्टी के समय लगने वाले जाम के संबंध में प्रश्न के जवाब में मुख्यमंत्री ने कहा कि शाला प्रबंधन और जिला प्रशासन को स्कूलों की छुट्टी के समय कुछ अंतराल रखने के लिए व्यवस्था के निर्देश दिए जाएंगे।

विद्यार्थियों ने सफलता की परिभाषा के संबंध में प्रश्न पूछे। मुख्यमंत्री ने कहा कि लक्ष्य निर्धारित करना और उसे हासिल करना ही सफलता है। लक्ष्य आप स्वयं निर्धारित करें। एक बार फेल होने पर कोई असफल नहीं होता। अपनी सफलता आपको खुद निर्धारित करनी चाहिए। सफलता के लिए जरूरी गुणों के संबंध में उन्होंने कहा कि सफलता के लिए स्व-अनुशासन जरूरी है। जब शारीरिक रूप से मजबूत रहेंगे, तभी स्वस्थ्य तन में स्वस्थ मन का वास होगा और अच्छे विचार आएंगे। सफलता के लिए समय का सदुपयोग आवश्यक है। उन्होंने कहा कि कड़ी मेहनत का कोई विकल्प नहीं है। मेहनत विवेकपूर्ण तरीके से समर्पण के साथ की जानी चाहिए। भूपेश बघेल ने शिक्षा के संबंध में कहा कि शिक्षा विद्यार्थियों को हुनरमंद बनाने वाली और उनकी प्रतिभा को निखारने वाली होनी चाहिए। शिक्षा विद्यार्थियों को व्यापक दृष्टिकोण देने वाली होनी चाहिए। मुख्यमंत्री ने सफल लीडर के संबंध में पूछे गये प्रश्न के सवाल में कहा कि जो समाज को दिशा दे, समाज सुधार के लिए जीवन समर्पित करे दे,जिसका समाज निर्माण में योगदान हो,जो समाज को जोड़कर रखे और जो समाज को आगे बढ़ाए। वही सही मायने में लीडर है। महात्मा गांधी और सुभाषचन्द्र बोस ने देश की सेवा की। वे हमारे लीडर हैं।

एक छात्रा ने पूछा कि स्टूडेंट लाइफ में आप एक्जाम के टेंशन से कैसे उबरते थे। मुख्यमंत्री ने जवाब में कहा कि अपने डर को आप स्वयं दूर कर सकते हैं। कोई दूसरा नहीं। सभी लोगों को किसनी ना किसी चीज से डर लगता है। राजनीतिज्ञ को चुनाव आने पर डर लगने लगता है, लेकिन डर के आगे ही जीत है। आप बुद्धि के साथ मेहनत करेंगे तो सफलता निश्चित मिलेगी और आत्मविश्वास बढ़ेगा। जब आत्मविश्वास आएगा तो कोई भी आपको पराजित नहीं कर सकेगा। उन्होंने कहा कि जब कोई समस्या आए तो घबराए नहीं उसके निदान के बारे में सोचें और जो सबसे अच्छा विकल्प है उस पर आगे बढ़ें। उन्होंने कहा कि आपको जिन चीजों से डर लगता है उसकी सूची बनाएं और रोज सोने के पहले संकल्प लें कि मैं नहीं डरूंगा ऐसा करने पर आप अपने डर के बारे में सोचेंगे और उसे दूर करने का उपाय करेंगे। आपके डर का कारण आप ज्यादा बेहतर जानते हैं। इसलिए डर से उबरने में आपसे बढ़ि़या दूसरा सहयोगी नहीं हो सकता।

बच्चों ने मुख्यमंत्री से कुछ व्यक्तिगत प्रश्न भी पूछे। एक छात्रा ने पूछा कि आपको संघर्ष से सफलता मिली कैसा महसूस करते हैं। हम विद्यार्थी इससे क्या सीख सकते हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि मैंने कभी सोचा नहीं था कि मैं इस पद पर आऊंगा। यह मेरा लक्ष्य भी नहीं था। मेरा लक्ष्य जनसेवा, किसानों,गरीबों की सेवा था। मुझे जिम्मेदारी मिलती गई और मैं इस मुकाम तक पहुंचा। उन्होंने विद्यार्थियों को बताया कि राजनीति हो या शिक्षा,व्यवसाय या उद्योग हो इसमें शार्टकट नहीं होता। हम जिस क्षेत्र में हो वहां कठोर परिश्रम करना चाहिए। एक प्रश्न के जवाब में उन्होंने बताया कि ना तो मेरे माता-पिता ने मुझे डाक्टर,इंजीनियर बनने के लिए दबाव डाला और ना ही मैंने अपने बच्चों पर। विद्यार्थियों को स्वयं तय करना चाहिए कि आगे क्या बनना है। पं.दीनदयाल उपाध्याय ऑडिटोरियम में आयोजित इस कार्यक्रम लगभग डेढ़ हजार विद्यार्थियों ने हिस्सा लिया। मुख्यमंत्री ने नरवा, गरूवा, घुरवा, बारी योजना के संबंध में कहा कि इससे नदी-नाले रिचार्ज होंगे, गौठानों में पशुओं के लिए चारा-पानी की व्यवस्था होगी। दुग्ध उत्पादन को बढ़ावा मिलेगा। पशुओं के गौठानों में रहने से फसल चराई और सड़क दुर्घटना जैसी समस्याओं से निजात मिलेगी। यह योजना पर्यावरण संरक्षण और ग्लोबल वार्मिंग को रोकने में भी सहायक होगी।

 

07-12-2019
पूर्व सीएम ने दी गिरफ्तारी और कमलनाथ सरकार के लिए कही यह बात

सागर। शुक्रवार को यूरिया संकट और भाजपा विधायक प्रदीप लारिया पर दर्ज मुकदमे के खिलाफ भाजपा ने शनिवार को धरना-प्रदर्शन किया। इस दौरान प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गिरफ्तारी भी दी। चौहान के साथ-साथ नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने भी गिरफ्तारी दी। इस दौरान  शिवराज सिंह चौहान ने कांग्रेस की कमलनाथ सरकार को चेतावनी दी कि प्रदेश में किसान परेशान हुए तो मंत्रियों को सड़कों पर निकलना बंद कर देंगे। विरोध प्रदर्शन के बाद शिवराज सिंह चौहान समेत सभी टैक्टर पर बैठकर गिरफ्तारी देने पहुंचे। लेकिन मकरोनिया थाना पहुंचने से पहले ही पुलिस ने बैरिकेट लगाकार नेताओं को रोक दिया। बाद में पुलिस ने नेताओं की गिरफ्तारी की घोषणा की और फिर सामूहिक रिहाई की भी घोषणा कर दी। शिवराज सिंह चौहान ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि  एक आदमी लाइन में लगेगा तो एक बोरी खाद मिलेगी। इसलिए पूरा परिवार लाइन में लग जाता है। बेटा, बहू, माता, पिता और 48 घंटे लाइन में लगे रहने के बाद एक बोरी खाद मिलती है तो दिल पर क्या गुजरती है, यह उस किसान से पूछो। उन्होंने कहा कि सीएम कमलनाथ को इसके लिए शर्म आनी चाहिए। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि जो किसान समय पर कर्ज चुकाते थे, वह भी आज कांग्रेस के झूठे वादे के जाल में फंसकर डिफाल्टर हो गए। डिफाल्टर होने की वजह से उन किसानों को सोसायटी से खाद-बीज के लिए ऋण नहीं मिल रहा है।

 

25-11-2019
वरिष्ठ पत्रकार अनिल पुसदकर अरविंद दीक्षित वार्ड से लड़ेंगे पार्षद चुनाव

रायपुर। लेफ्टिनेंट जनरल अरविंद दीक्षित वार्ड से वरिष्ठ पत्रकार अनिल पुसदकर चुनाव लड़ेंगे। ज्ञातव्य है कि श्री पुसदकर लंबे समय से पत्रकारिता में हैं। अपनी धारदार लेखनी से उन्होंने समाज में व्याप्त विसंगतियों पर करारा प्रहार करते हुए हमेशा समाज में कल्याणकारी कार्यों का समर्थन किया है। विदित हो कि श्री पुसदकर ने अविभाजित मध्यप्रदेश में 700 बिस्तरीय डॉ. भीमराव अम्बेडकर स्मृति चिकित्सालय (मेकाहारा) के निर्माण के समय समाज के गरीब, वंचित एवं जरूरतमंद मरीजों के लिए स्थापना में आयोजित धरना-प्रदर्शन में भाग लेकर बड़ी भूमिका निभाई। अनेक स्वयंसेवी संगठनों एवं समाज के लिए अच्छा कार्य करने वालों को श्री पुसदकर ने हमेशा समर्थन दिया। वे पत्रकारिता में रहकर भी जनहित के लिए हमेशा लड़ते रहे। उनकी कलम जब भी चली, मजबूर और दुखी लोगों को राहत देने के लिए चली। नगर निगम चुनाव में पार्षद बनकर वे जनहित में बड़ी भूमिका के जरिए समाज में समतामूलक समाज की स्थापना के लिए प्रतिबद्ध हैं।

 

 

18-11-2019
केंद्रीय मंत्री के बयान पर पलटवार-कागजी घोड़े नहीं दौड़ाती कमलनाथ सरकार

भोपाल। मध्यप्रदेश में बाढ़ और बारिश से आई आपदा के बाद अब राहत राशि के लिए मारामारी मची हुई है। कांग्रेस धरना-प्रदर्शन सब कर चुकी है। वह कह रही है केंद्र सरकार मदद नहीं कर रही है। इस बीच केंद्रीय मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते ने कांग्रेस सरकार पर बिना सर्वे रिपोर्ट तैयार करने का आरोप लगा दिया है। बता दें कि मध्यप्रदेश के एक बड़े हिस्से में इस बार बारिश और बाढ़ ने त्रासदी के हालात खड़े कर दिए हैं। मालवा के कई इलाकों में करोड़ों का नुकसान हुआ। राहत के नाम पर दो महीने से केंद्र और राज्य सरकार में ठनी हुई है। सीएम कमलनाथ ने एक बार पीएम मोदी और एक बार केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मिलकर सोलह हजार करोड़ रुपए देने की मांग की। सीएम कमलनाथ ने केंद्र को बाढ़ से किसानों को हुए नुकसान और बर्बादी की रिपोर्ट सौंपी लेकिन एक महीने बाद भी केंद्र ने इस पर कोई फैसला नहीं लिया। कांग्रेस ने केंद्र के रवैये के खिलाफ दो बार धरना देकर राज्यपाल को ज्ञापन सौंपा।

राज्य की मांग पर केंद्र के मंत्री का बयान आया है। केंद्रीय राज्यमंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते ने कहा कि राज्य सरकार ने बिना सर्वे और आंकलन के आधार पर रिपोर्ट तैयार की है। साथ ही आपदा के लिए केंद्र से मिलने वाली एडवांस राशि के इस्तेमाल का ब्यौरा भी नहीं दिया है। ऐसे में केंद्र से मांग रखना नियम प्रक्रिया के बाहर है। राहत राशि के लिए लगातार केंद्र पर दबाव बना रही कांग्रेस सरकार अब केंद्रीय मंत्री के बयान पर भड़क उठी है। प्रदेश के गृह मंत्री बाला बच्चन ने कहा कमलनाथ सरकार कागजी घोड़े नहीं दौड़ाती है। केंद्र भेदभाव की सियासत कर रही है। प्रदेश में बाढ़ से हुए नुकसान के बाद सीएम कमलनाथ ने केन्द्र सरकार से 21 अक्टूबर को दूसरी बार मेमोरंडम सौपकर तत्काल 6621.28 करोड़ की राहत देने की मांग की थी। उस मेमोरंडम में बाढ़ के कारण 55 लाख लोगों के प्रभावित होने और बड़े स्तर पर नुकसान की जानकारी दी गई थी।

15-11-2019
सुकमा के पांचों मंडल में भाजपाइयों ने किया एक दिवसीय धरना-प्रदर्शन

सुकमा। भारतीय जनता पार्टी जिला सुकमा में पार्टी कार्यकर्ताओं ने कांग्रेस की वादाखिलाफी व 2500 रुपए में धान न खरीदने जैसे कई बड़े  मुद्दों को लेकर कांग्रेस को घेरा और एक दिवसीय धरना-प्रदर्शन कर राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा। यह धरना-प्रदर्शन पूरे छत्तीसगढ़ में भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व में किया गया। इसी तारतम्य में सुकमा जिले के पांचों मंडल में भी यह धरना-प्रदर्शन किया गया और कांग्रेस के जन घोषणा पत्र के अनुसार 10 दिन में कर्ज माफी , 2500 रुपए क्विंटल में धान खरीदी, किसानों के पम्प में बिजली हाफ , बेरोजगारों को 2500 रुपए प्रति माह बेरोजगारी भत्ता जैसे बड़े मुद्दों को लेकर सुकमा जिला मुख्यालय के साथ  दोरनापाल, कोंटा, छिंदगढ़, तोंगपाल में भाजपा के कार्यकर्ताओं व किसानों द्वारा धरना-प्रदर्शन कर  कांग्रेस के घोषणा पत्र को बस स्टैंड परिसर में जलाया व कांग्रेस को घेरा और राज्यपाल के नाम सुकमा एसडीएम को ज्ञापन सौंपा गया। सुकमा जिले के पांचोंं मण्डल के कार्यक्रम में  भाजपा जिला अध्यक्ष मनोज देव, महामंत्री संजय शुक्ला, हूंगा राम मरकाम, धनीराम बारसे, प्रसाद शर्मा, मण्डल अध्यक्ष विनोद सिंह बैस, भगत राम नेगी, दुलाल शाह, न.प.अध्यक्ष लक्ष्मी बाई, युवा मोर्चा जिला अध्यक्ष दिलीप पेद्दी, महेंद्र सिंह भदौरिया, पोडियामी नारायण, संजय सोढ़ी, रमाकांत नायक, सोनू नायक, गौरव सिंह राठौड़,  सोभन, खेमलाल, गौरव तिवारी, धर्मेंद्र भदौरिया व राजकुमार  के साथ कई कार्यकर्ता मौजूद रहे। भाजपा जिला अध्यक्ष मनोज देव ने अपने संबोधन में कांग्रेस सरकार को जमकर लताड़ा। देव ने कांग्रेस की वादाखिलाफी और भ्रष्टाचार को लेकर घेरा  और कहा कि यह सरकार जनता विरोधी है। आने वाले समय में व नगरीय निकाय चुनावों में जनता कांग्रेस को जरूर आईना दिखाएगी व भारतीय जनता पार्टी को फिर से एक बार मौका मिलेगा व भाजपा की सरकार बनेगी।

 

15-11-2019
भाजपा ने राज्य सरकार पर लगाया किसानों के साथ वादाखिलाफी का आरोप

जांजगीर-चाम्पा। जांजगीर-चाम्पा जिले में आज भाजपा ने जय स्तंभ चौक पर राज्य सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी करते हुए धरना-प्रदर्शन किया और राज्यपाल के नाम प्रशासन को 8 सूत्रीय मांगों को लेकर ज्ञापन सौंपा। दरअसल प्रदेश में समर्थन मूल्य पर धान खरीदी एक दिसंबर से शुरू होने को लेकर खरीदी केंद्रों में इसका निर्देश नहीं पहुंच पाया है। भाजपा राज्य सरकार पर 25 सौ रुपए समर्थन मूल्य में धान खरीदने सहित लेटलतीफी की वजह से होने वाली परेशानियों को आम जनता तक पहुंचाने प्रदर्शन कर रही है। आज भाजपाइयों ने कहा कि किसानों से बड़े बड़े वादे करके प्रदेश में सरकार बनाने वाली कांग्रेस अब किसानों को परेशान कर रही है। मंडियों में धान खरीदी नहीं होने की वजह से किसानों को भारी दिक्कतों का सामान करना पड़ रहा है। पूर्व विधानसभा उपाध्यक्ष नारायण चंदेल ने कहा कि भूपेश बघेल मुख्यमंत्री हैं। उन्हें केंद्र के खिलाफ अनर्गल बयानबाजी नहीं करनी चाहिए। जनता ने उन्हें जनादेश दिया जिसका सम्मान करते हुए वादा निभाना चाहिए। इस दौरान भाजपा के कई नेताओं सहित भारी कार्यकर्ता मौजूद थे।

 

08-11-2019
केन्द्र सरकार की किसान नीति के विरोध में शहर कांग्रेस ने दिया धरना

रायपुर। प्रदेश कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष मोहन मरकाम के निर्देशानुसार व मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के आह्वान पर छत्तीसगढ़ के सभी ब्लॉक मुख्यालयों में केन्द्र सरकार की किसान विरोधी नीतियों के खिलाफ एक दिवसीय धरना-प्रदर्शन किया गया। इसी तारतम्य में रायपुर शहर कांग्रेस कमेटी द्वारा  शुक्रवार को 11 बजे जवाहर नगर ब्लॉक कांग्रेस कमेटी की अगुवाई में स्टेशन रोड गुरुद्वारा रायपुर के पास धरना-प्रदर्शन ब्लॉक अध्यक्ष अरुण जंघेल के  नेतृत्व में किया गया। सभा को शहर जिला कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष गिरीश दुबे, ब्लॉक अध्यक्ष अरुण जंघेल, अमित यदु, पंकज मिश्रा, नितिन ठाकुर, उषारंजन श्रीवास्तव, मंगल ठाकुर व  युवा इंटक कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष राजेश पांडे ने केंद्र की किसान विरोधी नीति को लेकर प्रधानमंत्री पर तीखा प्रहार किया। कार्यक्रम में बताया गया कि  मुख्यमंत्री भूपेश बघेल व मोहन मरकाम के नेतृत्व में 13 नवंबर को एक हजार गाडिय़ों का काफिला रायपुर से दिल्ली कूच करेगा और दिल्ली में भारतीय जनता पार्टी की किसान विरोधी नीति को बेनकाब करेगा। इस कार्यक्रम में हरिशंकर बंसोर प्रदेश उपाध्यक्ष युवा इंटक, मुकेश ठाकुर महासचिव, दिलीप सिंह चौहान, रितेश त्रिपाठी, सावित्री दीदी, डॉ. गजेंद्र साहू, दुर्गेश साहू, तात्यापारा वार्ड अध्यक्ष मुकेश विश्वकर्मा, संतोष दास मानिकपुरी, मनीष शर्मा, आतिश मिर्झा सहित बड़ी संख्या में कांग्रेसी उपस्थित थे। 

 

08-11-2019
केन्द्र सरकार की किसान विरोधी नीतियों के विरोध में कांग्रेस का आंदोलन

कोरबा।  केन्द्र सरकार की किसान विरोधी नीतियों के विरोध में चलाये जा रहे ब्लॉक स्तरीय धरना आन्दोलन की कड़ी में 8 नवम्बर को ब्लॉक कांग्रेस कमेटी कोरबा द्वारा टीपी नगर चौक में एक दिवसीय धरना-प्रदर्शन किया गया। जिला कांग्रेस कमेटी कोरबा के जिला अध्यक्ष राजकिशोर प्रसाद ने अपने उद्बोधन में कहा कि केन्द्र सरकार छत्तीसगढ़ से भेदभावपूर्ण रवैया अपनाते हुए किसानों से उपार्जित धान से बने सरप्लस चावल खरीदने से इसलिए मना कर रही है क्योंकि छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार किसानों को 2500/- प्रति क्विंटल भुगतान कर रही है लेकिन केन्द्र सरकार चाहती है कि किसानों को सिर्फ 1815/- प्रति क्विंटल दिया जाए। किसानों की आय दुगुना करने का वादा करने वाली मोदी सरकार दरअसल छत्तीसगढ़ के किसानों के चेहरे पर खुशी बर्दाश्त नहीं कर पा रही है। प्रदेश पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ के महामंत्री श्याम सुंदर सोनी ने अपने उद्बोधन में कहा कि केन्द्र सरकार की जनविरोधी नीतियों के कारण महंगाई बढ़ती जा रही है, बेरोजगारी बढ़ती जा रही है, देश की अर्थ व्यवस्था चरमरा गई है। केन्द्र सरकार  द्वारा छत्तीसगढ़ के हक का पैसा भी नहीं दिया जा रहा है। केन्द्र सरकार की गलत आर्थिक नीतियों के ही भारत के रुपए का डॉलर के मुकाबले दिन प्रतिदिन अवमूल्यन होता जा रहा है और व्यवसाय भी चौपट होता जा रहा है। धरने को जिला कांग्रेस कमेटी  उपाध्यक्ष हाजी एकलाख खान, जिला महिला अध्यक्ष सपना चौहान,  शांता मडावे आदि ने भी सम्बोधित किया। कार्यक्रम का संचालन ब्लॉक कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष संतोष राठौर एवं आभार प्रदर्शन अनुसूचित जाति प्रकोष्ठ के जिला अध्यक्ष रवि खुंटे ने किया। बालको ब्लॉक में ब्लॉक अध्यक्ष एफ. डी. मानिकपुरी के नेतृत्व में बालको क्षेत्र के कांग्रेस पदाधिकारियों दुष्यंत शर्मा, विकास डालमिया, पुष्पा रात्रे, मनोज अनंत, श्रीकांत सिन्हा, अखिलेश त्रिपाठी, बुद्धेश्वर चौहान आदि के साथ मिलकर परसाभाठा बाजार में धरना दिया गया। दर्री ब्लॉक कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष सुधीर जैन एवं राजेन्द्र सिंह ठाकुर, धुरपाल सिंह कंवर, इस्माईल कुरैशी, सुनील पटेल, देवी दयाल तिवारी, बिसाहू दास महंत, रेखा त्रिपाठी, भजन सिंह, द्वारा जैलगांव चौक में दर्री क्षेत्र के कांग्रेस पदाधिकारियों के साथ मिलकर धरना का आयोजन किया गया। उक्त कार्यक्रम में सुरेश सहगल, कुसुम द्विवेदी, लक्ष्मीनारायण देवांगन, दिनेश सोनी, सुरेश पटेल, राहुल यादव, अर्चना उपाध्यय, गजानंद प्रसाद साहू, अविनाश बंजारे, फिरोज अहमद, हलीम शेख, नफीसा हुसैन, देवेन्द्र सिंह गांधी, जुम्मन शेख, बनवारी लाल पाहुजा, दिलशाद अली, चरणलाल टंडन, अश्वनी पटेल, तीरथ पटेल, तिलेश्वर वर्मा, बिरेन्द्र सोनी, प्रेम लाल साहू, पंकज अग्रवाल, बबलू अग्निहोत्री सहित कांग्रेस कार्यकर्ता मौजूद थे। 

 

08-11-2019
प्रदेश सरकार के फैसले के विरोध में जेसीसीजे ने किया प्रदर्शन, राज्यपाल के नाम सौंपा ज्ञापन

रायपुर। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) ने 15 नवंबर से धान खरीदी न कर 1 दिसंबर से खरीदी करने के फैसले के खिलाफ और शासन द्वारा छत्तीसगढ़ नगर पालिक निगम संशोधन अध्यादेश 2019 जारी कर सरपंच व महापौर चुनने का अधिकार छीनने, महापौर चुनने का अधिकार जनता को वापस दिलाए जाने की मांग को लेकर शुक्रवार को धरना दिया। धरना-प्रदर्शन के बाद राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा। जकांछ (जे) रायपुर  जिलाध्यक्ष ओमप्रकाश देवांगन व केंद्रीय कार्यालय प्रभारी राहिल रउफी ने बताया कि आज पार्टी ने फायर ब्रिगेड चौक सुभाष स्टेडियम के सामने प्रदेश सरकार के विरोध में धरना दिया। उनका कहना है कि प्रशासन द्वारा जो जगह हमें दी गई थी, वहां आज कांग्रेसियों ने पहले से अपना पंडाल लगाकर धरना दिया। इसके बावजूद जनता कांग्रेस ने अपना धरना पंडाल उनके सामने लगाया। इस धरने में जकांछ के पदाधिकारी बड़ी संख्या में शामिल हुए। दोनों ने बताया कि छत्तीसगढ़ सरकार ने अपने घोषणा पत्र में 2500 रुपए क्विंटल धान का समर्थन मूल्य देने का वादा किया था, लेकिन 1815 रुपए में धान खरीदी का आदेश देकर किसानों के साथ धोखा किया है। इसके अलावा   15 नवंबर से धान खरीदी न कर 1 दिसंबर से खरीदी करने के फैसले के खिलाफ व नगर पालिक निगम संशोधन अध्यादेश 2019 जारी कर सरपंच व महापौर चुनने का अधिकार छीन लिया। सरपंच व महापौर चुनने का अधिकार जनता को वापस दिलाए जाने की मांग को लेकर आज धरना दिया गया। फिर राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा गया। धरना को पार्टी के वरिष्ठ नेता इकबाल अहमद रिजवी, मीडिया चेयरमैन रायपुर जिला अध्यक्ष डॉक्टर ओमप्रकाश देवांगन, केंद्रीय कार्यालय प्रभारी राहिल, रायपुर ग्रामीण अध्यक्ष डॉक्टर अमीन खान, रायपुर लोकसभा प्रभारी डॉ अनामिका पाल, एवज देवांगन, प्रदीप साहू, माखन ताम्रकार, बलदाऊ मिश्रा, संदीप यदु, भगत हरवंश व हितेश कुमार ने भी संबोधित किया।
 

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804