GLIBS
24-05-2020
लॉक डाउन में फंसे 53 हजार से अधिक श्रमिकों की छत्तीसगढ़ वापसी, 23 मई तक का विस्तृत आंकड़ा जारी

रायपुर। छत्तीसगढ़ के श्रमिकों का अन्य राज्यों से वापसी का सिलसिला लगातार जारी है। 40 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों से 23 मई तक कुल 53 हजार 852 श्रमिक लौट चुके हैं। सभी श्रमिकों को स्टेशनों से उनके गृह जिलों में बसों से पहुंचाया गया। सभी को क्वारेंटाइन सेंटरों में रखा गया है।  जिला प्रशासन की ओर से उनके रहने, भोजन और स्वास्थ्य जांच सहित आवश्यक व्यवस्था तय की गई है। शासन की ओर से जारी जानकारी के मुताबिक श्रमिक स्पेशल ट्रेन गुजरात (अहमदाबाद) से 11 मई को 1265 श्रमिक और इसी स्थान से एक अन्य ट्रेन से 12 मई को 1387 श्रमिक बिलासपुर पहुंचे। पंजाब के अमृतसर से 13 मई को चांपा पहुंची ट्रेन से 1287, इसी दिन उत्तर प्रदेश के लखनउ से रायपुर पहुंची ट्रेन से 1853 श्रमिक, तेलंगाना के हैदाराबाद लिंगमपल्ली से 12 मई को राजनांदगांव, दुर्ग और बिलासपुर पहुंचने वाली ट्रेन में 797 श्रमिक, अहमदाबाद के बीरामगंम से 14 मई को बिलासपुर और चांपा पहुंचने वाली ट्रेन में 1525 श्रमिक, इसी दिन आंध्रप्रदेश के नेम्बूर विजयवाड़ा से दुर्ग, रायपुर बिलासपुर पहुंचने वाली ट्रेन में 1368 श्रमिकों की सकुशल वापसी हुई।

गुजरात के खेड़ा नाडियाड से 15 मई को बिलासपुर और चांपा पहुंची ट्रेन से 2022 श्रमिक, इसी दिन लखनउ से रवाना होकर बिलासपुर भाटापारा और रायपुर पहुुंची ट्रेन से 733 श्रमिक, अहमदाबाद साबरमती से रवाना होकर 16 मई को बिलासपुर और चाम्पा पहुंचने वाली ट्रेन में 1362 श्रमिक,लखनउ से रवाना होकर 16 मई को बिलासपुर, रायपुर, और दुर्ग पहुंचने वाली ट्रेन मेंं 1559 श्रमिक,लखनउ से चलकर 17 मई को बिलासपुर भाटापारा और रायपुर पहुंचने वाली ट्रेन से 1410 श्रमिक, भोपाल से रवाना होकर 17 मई को रायपुर और बिलासपुर पहुंचने वाली ट्रेन में 1360 श्रमिक पहुंचे।

गुजरात के खेड़ा नाडियाड से रवाना होकर 17 मई को रायपुर , भाटापारा , बिलासपुर , और चाम्पा पहुंचने वाली ट्रेन से 2142 श्रमिक, दिल्ली से रवाना होकर 17 मई को दुर्ग रायपुर, भाटापारा और बिलासपुर पहुंचने वाली ट्रेन से 1092 श्रमिक पहुंचे। तेलंगाना हैदाराबाद से रवाना होकर 18 मई को बिलासपुर दुर्ग और रायपुर पहुचने वाली ट्रेन से 2070 श्रमिक, वीरामगम अहमदाबाद से रवाना होकर 18 मई को चाम्पा पहुंचने वाली ट्रेन से 1777 श्रमिक, मेहसाणा गुजारात से रवाना होकर 19 मई को बिलासपुर और चाम्पा पहुंचने वाली ट्रेन से 2342 श्रमिक, महाराष्ट्र के पुणे से रवाना होकर 19 मई को दुर्ग रायपुर, भाटापारा, बिलासपुर पहुंचने वाली ट्रेन से 1582 श्रमिक,नागापल्ली विजयवाड़ा से रवाना होकर 19 मई को दुर्ग,रायपुर,बिलासपुर और चाम्पा पहुंचने वाली ट्रेन से 612 श्रमिक पहुंचे।

तमिलनाडू के चेन्नई से रवाना होकर 19 मई को रायपुर और दुर्ग पहुंचने वाली ट्रेन से 829 श्रमिक, उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद से 19 मई को बिलासपुर भाटपारा,रायपुर और दुर्ग पहुंचने वाली ट्रेन से 952 श्रमिक, लखनउ से रवाना होकर 20 मई को दुर्ग,भाटापारा, बिलासपुर और चाम्पा पहुंची ट्रेन से 1652, पंजाब के अमृतसर से रवाना होकर 20 मई को रायपुर, भाटापारा, बिलासपुर और चाम्पा पहुंचने वाली ट्रेन से 635 श्रमिक,तेलंगाना के विजयवाड़ा से रवाना होकर 20 मई को चाम्पा और रायपुर पहुंचने वाली ट्रेन से 1078 श्रमिक, करमाली से रवाना होकर 20 मई को रायगढ़ और रायपुर पहुंचने वाली ट्रेन से 470, महाराष्ट्र के पुणे से रवाना होकर 21 मई को दुर्ग, भाटापारा,बिलासपुर और चाम्पा पहुंचने वाली ट्रेन से 1865 श्रमिक पहुंचे।

जम्मू से रवाना से 21 मई को बिलासपुर पहुंचने वाली ट्रेन से 1069 श्रमिक, लखनउ से 21 मई को रायपुर पहुंचने वाली ट्रेन से 1483 श्रमिक, बंगलोर से रवाना होकर दुर्ग, रायपुर भाटापारा और बिलासपुर पहुंचने वाली ट्रेन से 1288 श्रमिक, वीरामगम अहमदाबाद से रवाना होकर 22 मई को रायपुर, भाटापारा,बिलासपुर और चाम्पा पहुंचने वाली ट्रेन से 1632 श्रमिक,जम्मू से रवाना होकर 22 मई को बिलासपुर पहुंचने वाली ट्रेन से 1554 श्रमिक , अहमदाबाद से रवाना होकर 22 मई को रायपुर, भाटापारा, बिलासपुर और चाम्पा पहुंचने वाली ट्रेन से 1926 श्रमिक पहुंचे। गुुजरात के अमदाबाद से 22 मई को रायपुर, भाटापारा, बिलासपुर और चांपा पहुंचने वाली ट्रेन से 1604 श्रमिक, साबरमती से रवाना होकर 23 मई को रायपुर भाटापारा, बिलासपुर और चाम्पा पहुंचने वाली ट्रेन से 2208 श्रमिक,उत्तराख्ंड के देहरादून से रवाना होकर 23 मई को रायपुर पहुंचने वाली ट्रेन से 1221 श्रमिक, महाराष्ट्र के पुणे से रवाना होकर 23 मई को बिलासपुर पहुंचने वाली ट्रेन से 795 और वीरामगम अहमदाबाद से रवाना होकर 23 मई को रायपुर, भाटापारा, बिलासपुर और चाम्पा पहुचने वाली ट्रेन से 2010 श्रमिक पहुंचे।

 

20-05-2020
इटावा में ट्रक ने पिकअप वाहन को मारी टक्कर 6 सब्जी विक्रेताओं की मौत, 1 की हालत गंभीर

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश में इटावा के फ्रेंड्स कॉलोनी थाना क्षेत्र में ट्रक की चपेट में आने से पिकअप वाहन पर सवार छह सब्जी विक्रेताओं की मौत हो गई जबकि एक गंभीर रूप से घायल हो गया। बताया जा रहा है कि पक्के बाग के पास मंगलवार और बुधवार की मध्य रात्रि के करीब यह हादसा उस समय हुआ जब एक तेज रफ्तार ट्रक डिवाइडर तोड़ते हुए सड़क के दूसरी ओर आ गया और विपरीत दिशा से जा रहे कटहल लदे पिकअप वाहन पर पलट गया।

इस हादसे में पिकअप पर सवार छह सब्जी विक्रेताओं की मौके पर ही मृत्यु हो गई जबकि गंभीर रूप से घायल एक विक्रेता को डॉक्टर भीमराव अंबेडकर राजकीय संयुक्त चिकित्सालय में भर्ती कराया गया है। सूत्रों ने बताया कि मरने वाले और घायल सभी सब्जी बेचने वाले बकेवर थाना क्षेत्र के रहने वाले हैं। पुलिस ने हादसे को अंजाम देने वाले ट्रक को पकड़ लिया है। उसके चालक और मालिक के खिलाफ कानूनी कार्रवाई अमल में लाई जा रही है।

18-05-2020
अभिनेता नवाजुद्दीन सिद्दीकी परिवार सहित हुए होम क्वारंटीन

मुंबई। बॉलीवुड अभिनेता नवाजुद्दीन सिद्दीकी अपने परिवार संग उत्तर प्रदेश के अपने घर में 14 दिन के लिए क्वारंटीन हैं। बता दें कि हाल ही में नवाज परिवार समेत मुंबई से उत्तर प्रदेश के मुज्जफरनगर जिले के बुढाना में स्थित अपने घर आए थे। एहतियातन वो घर के अंदर ही परिवार के साथ 14 दिन के क्वारंटीन में हैं।नवाज के मैनेजर ने कहा, "दरअसल नवाज 10 मई को लॉक डाउन के तीसरे चरण दौरान मुंबई से जरूरी परमिशन लेकर अपने गांव के लिए निकल गए थे। वजह थी उनकी मां की सेहत जो कि मुंबई में अपनी आंखों इलाज के लिए आई थी और महामारी की वजह से देश में हुए लॉक डाउन के तहत उन्हें यहां रुकना पड़ा, मगर जब लॉक डाउन की मियाद बढ़ने लगी तो उन्हें पैनिक अटैक आने लगे उन्हें ब्लड प्रेशर की भी शिकायत है, और वो अपने गांव वापस जाना चाहती थीं।

इसलिए नवाज ने अपने भाई के साथ मिलकर सारे जरूरी कागजात और नियमों का पालन करते हुए अपनी मां को मुंबई से गांव ले गए और वहां पर नियमानुसार इस वक्त 14 दिन क्वॉरेंटाइन का पालन कर रहे हैं।" बुढ़ाना पुलिस सर्कल के स्टेशन हाउस अफसर ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग के कर्मियों ने अभिनेता के घर का दौरा किया और उन्हें 14 दिनों के लिए क्वारेंटाइन में रहने को कहा।

16-05-2020
भूपेश बघेल ने औरैया में श्रमिकों की मृत्यु पर दुःख प्रकट किया

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने उत्तर प्रदेश के औरैया में शनिवार को हुुुए सड़क हादसे में श्रमिकों की मृत्यु की घटना पर दुःख प्रकट किया है। उन्होंने मृत श्रमिकों के परिवारजनों के प्रति संवेदना प्रकट कर दुर्घटना में घायल श्रमिकों के जल्द स्वस्थ्य होने की कामना की है।

16-05-2020
उत्तर प्रदेश के औरैया हादसे पर पीएम मोदी ने जताया दुख,  कहा- सरकार तत्परता से राहत कार्य में जुटी है

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश के औरैया में भीषण सड़क दुर्घटना पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दुख जताया है। दरअसल शनिवार को औरैया जिले में एक ट्रक और डीसीएम की टक्कर हो गई। इस हादसे में 23 मजदूरों की घटनास्थल पर ही मौत हो गई, जबकि 15 मजदूर बुरी तरह घायल हो गए है। इस घटना पर पीएम मोदी ने ट्वीट करके लिखा कि उत्तर प्रदेश के औरैया में सड़क दुर्घटना बेहद ही दुखद है। प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट किया, 'सरकार राहत कार्य में तत्परता से जुटी है। इस हादसे में मारे गए लोगों के परिजनों के प्रति अपनी संवेदना प्रकट करता हूं, साथ ही घायलों के जल्द से जल्द स्वस्थ होने की कामना करता हूं।

यूपी सीएम योगी ने लिया संज्ञान :

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने औरैया में हुए हादसे का संज्ञान लेते हुए जान गंवाने वाले मजदूरों के परिवारों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की है। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया है कि सभी घायलों को तुरंत चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराई जाए। इसके साथ ही उन्होंने कमिश्नर और आईजी कानपुर को घटनास्थल का दौरा कर दुर्घटना के कारणों की तत्काल रिपोर्ट देने को कहा है।

मृतकों के परिजनों को दो-दो लाख की घोषणा :

इसके अलावा घटना का संज्ञान लेते हुए मुख्यमंत्री ने प्रत्येक मृतक परिवार को 2-2 लाख रुपए एवं घायलों को 50-50 हजार रुपए का मुआवजा देने की घोषणा की है।

14-05-2020
बस और ट्रक में जोरदार टक्कर, 8 मजदूरों की मौत, 50 से अधिक लोग घायल

भोपाल। कोरोना संकट और लॉक डाउन के बीच प्रवासी मजदूरों के साथ हादसों का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा। प्रदेश के गुना जिले में बुधवार रात को एक बड़ा हादसा हो गया। बुधवार रात गुना में हुए एक बड़े सड़क हादसे में 8 मजदूरों की मौत हो गई, जबकि 50 से ज्यादा मजदूर गंभीर रूप से घायल हैं। ये सभी मजदूर ट्रक में सवार थे। बता दें कि ये हादसा देर रात गुना के कैंट थाना क्षेत्र में हुआ है। दुर्घटना होते ही कंटेनर का ड्राइवर घटना स्थल से भाग गया। बताया जा रहा है कि मध्यप्रदेश के गुना जिला में बस और ट्रक में इतनी जबरदस्त भिड़ंत हुई कि मौके पर ही आठ मजदूरों की मौत हो गई और पचास से अधिक घायल हो गए।

सूचना मिलते ही पुलिस और प्रशासन के अफसर मौके पर पहुंच गए और घायलों को तुरंत ज़िला अस्पताल में भर्ती कराया। सभी मृतक मजदूर महाराष्ट्र से अपने गृह राज्य बिहार और उत्तर प्रदेश जा रहे थे। पुलिस ने बताया कि हादसा बृहस्पतिवार तड़के गुना के पास हुआ जब प्रवासी श्रमिक महाराष्ट्र से एक बस के द्वारा उत्तर प्रदेश की ओर जा रहे थे। हादसे के तुरंत बाद पीड़ितों को नजदीकी अस्पताल ले जाया गया। यात्रियों के बचाव में लगे पुलिसकर्मियों को कोविड-19 के एहतियात के तौर पर पृथक किया गया है।

11-05-2020
गुजरात: श्रमिक स्पेशल ट्रेन के अचानक रद्द होने पर मजदूरों ने की बस में तोड़फोड़

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश जाने वाली एक श्रमिक स्पेशल ट्रेन रद्द होने के बाद गुजरात के भावनगर जिले में एक कारखाने में काम करने वाले सैकड़ों श्रमिक सोमवार को हिंसा पर उतर आए और उन्होंने एक बस को क्षति पहुंचाई। एसपी जयपाल सिंह राठौड़ ने बताया कि घटना निरमा कारखाने के पास श्रमिकों की कॉलोनी में हुई।राठौड़ ने कहा कि श्रमिकों ने यह सोचकर क्रोधित हो उठे कि कंपनी उन्हें लॉकडाउन के दौरान अपने गृह राज्य नहीं जाने देगी ‘जो सच नहीं था।’ उन्होंने कहा, “सोमवार को कुछ श्रमिक भावनगर रेलवे स्टेशन से उत्तर प्रदेश के लिए विशेष ट्रेन पकड़ने वाले थे। जब उन्हें कर्मचारियों की बस से स्टेशन ले जाया जा रहा था तब कंपनी प्रबंधन को पता चला कि ट्रेन किसी कारणवश रद्द कर दी गई है। इसलिए बस आधे रास्ते से ही श्रमिकों की कॉलोनी में वापस आ गई।”राठौड़ ने कहा कि श्रमिकों ने सोचा कि कंपनी उन्हें जाने नहीं देना चाहती। उन्होंने कहा, “वापस आने के बाद श्रमिकों ने तोड़-फोड़ की। उन्होंने बस खिड़कियां और शीशे तोड़ डाले।” एसपी ने कहा कि पुलिस ने दंगा करने के आरोप में प्राथमिकी दर्ज की है।

 

 

09-05-2020
मुख्यमंत्री सहायता कोष से मृत श्रमिक दंपत्ति के परिजनों को 5 लाख की सहायता, सीएम ने दी स्वीकृति

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से छत्तीसगढ़ के बेमेतरा लौट रहे श्रमिक दंपत्ति की शुक्रवार को सड़क हादसे में मृत्यु पर शोक व्यक्त किया है। उन्होंने श्रमिक दम्पत्ति के परिवारजनों को मुख्यमंत्री सहायता कोष से तत्काल 5 लाख रुपए की सहायता की स्वीकृति प्रदान की है। उल्लेखनीय है कि बेमतरा जिले के नवागढ़ इलाके के गांव रनबोर में रहने वाले कृष्णा साहू मजदूरी करने लखनऊ गए थे। लॉक डाउन के कारण काम बंद हो जाने की स्थिति में लखनऊ से साइकिल से परिवार सहित वापस बेमेतरा लौट रहे थे। वापसी के दौरान रास्ते में अज्ञात वाहन से एक्सीडेंट होने के कारण  कृष्णा साहू और उनकी पत्नी की मृत्यु हो गई।

05-05-2020
ट्रक और टेंपो की भिड़ंत में 7 मजदूरों की मौत, दो घायल, घर जाने के लिए निकले थे सभी

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश के मथुरा जिले में सोमवार रात भीषण हादसा हो गया। मगोर्रा थाना क्षेत्र के गांव उमरी के समीप ट्रक और टेंपो की टक्कर में सात लोगों की मौत हो गई, जबकि दो घायल हो गए हैं। बताया जा र​हा है कि मरने वाले सभी मजदूर थे और अपने घर जा रहे थे। लॉक डाउन के बीच हुए भीषण हादसे से पुलिस प्रशासन में हड़कंप मच गया। मध्य प्रदेश के छतरपुर के रहने वाले मजदूर यहां मेहनत-मजदूरी करने आए थे, लेकिन लॉक डाउन के कारण फंस गए। ये सभी अपने घर जाने के लिए परेशान थे। इन मजदूरों को जाजन पट्टी चौराहे से मध्य प्रदेश जाने के लिए बस उपलब्ध होने की सूचना मिली थी। 8 मजदूर मथुरा से किराये पर टेंपो लेकर जाजन पट्टी जा रहे थे।

टेंपो में चालक समेत नौ लोग सवार थे। मथुरा-भरतपुर मार्ग स्थित गांव उमरी के समीप भरतपुर की ओर से तरबूजों से लदे ट्रक ने टेंपो को टक्कर मार दी। टक्कर होते ही चीख-पुकार मच गई। स्थानीय लोगों की सूचना पर पुलिस पहुंच गई। टेंपो सवार लोगों को बाहर निकाला गया। हादसे में दो मजदूरों की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि पांच ने अस्पताल में दम तोड़ दिया। इस घटना की जानकारी मिलने पर पुलिस अधिकारियों में हड़कंप मच गया। पुलिस के अनुसार हादसे में सात लोगों की मौत हो गई और दो घायल हुए हैं। हादसे की जांच की जा रही है। 

29-04-2020
कोलकाता, औरंगाबाद, रामपुर में लोगों की जान बचाने वाली पुलिस पर हमले, खुद की जान बचाना मुश्किल हो रहा

रायपुर। लॉक डाउन का पालन कराना पुलिस के लिए दिन-ब-दिन कठिन होता जा रहा है। जैसे-जैसे कोरोना के खिलाफ जंग तेज हो रही है कुछ इलाके के लोग लॉक डाउन का उल्लंघन करने पर उतर आए हैं। वे पुलिस पर हमले करने लगे है। कोलकाता में तो पुलिस वालों पर पथराव कर दिया गया। जान बचाकर भाग रही पुलिस पर जिस तरह से भीड़ टूटी वह शर्मनाक है। पुलिस वालों को बचाने के लिए रैपिड एक्शन फोर्स तक को उतरना पड़ा और वह भी वहां से बड़ी मुश्किल से अपनी जान बचाकर बाहर निकल पाई।

अब दोषियों की पहचान की जा रही है और उनकी गिरफ्तारी की कोशिश की जाएगी। समझ से परे है कोलकाता में पुलिस पर हमला। इसी तरह पुलिस पर हमला हुआ है औरंगाबाद जिले के गांव में भी। लॉक डाउन का पालन करने के लिए गांव वालों को समझाने गई पुलिस पार्टी पर गांव वालों ने हमला कर दिया। इसमें कुछ पुलिसवाले घायल होकर अस्पताल में भर्ती हैं। और पुलिस अब दोषियों की धरपकड़ में लग गई है। उत्तर प्रदेश के रामपुर में भी पुलिस पर हमले की खबर हैरान करने वाली है। पुलिस पर इस तरह से हो रहे हमले पुलिस का मनोबल गिराने वाले हैं और कोरोना के खिलाफ चल रही देश की जंग को कमजोर करने की साजिश भी नजर आते हैं।

25-04-2020
एक ही परिवार के पांच लोग घर में मिले मृत, जानिए क्या है मामला...

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश के एटा जिले से सनसनीखेज वारदात सामने आई है। यहां एक ही परिवार के पांच लोगों के घर में मृत मिलने से सनसनी फैल गई है। मृतकों में दो मासूम भी शामिल हैं। वारदात का पता उस वक्त चला जब शनिवार की सुबह दूध वाला आया। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और जांच में जुट गई है। एटा कोतवाली सिटी के श्रृंगार नगर में एक ही परिवार के पांच लोग घर में मृत मिले हैं। मृतकों में सेवानिवृत स्वस्थ निरीक्षक राजेश्वर प्रसाद पचौरी, उनकी पुत्रवधू दिव्या पचौरी, दिव्या की बहन बुलबुल, आठ साल का बेटा आरुष और एक साल का बेटा आरव शामिल है।
 

21-04-2020
सरपंच पति को गोली मारने वाले दो आरोपी गिरफ्तार, उत्तर प्रदेश के रहने वाले है आरोपी

कवर्धा। जिले के ग्राम जिंदा में सरपंच पति को बीते 17 मार्च की रात करीब 7 बजे सरपंच पति को रास्ते मे रुकवाकर गोली मार दी गई थी। पिरपिया पुलिस लगातार आरोपीयो की तलाश कर रही थी। इसके बाद गोली मारने वाले दो युवकों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। मिली जानकारी के अनुसार 17 मार्च को सरपंच पति को गोली मार दी गई थी। उसे गंभीर हालत में रायपुर रेफर किया गया था। जानकारी के मुताबिक ग्राम जिंदा से नवनिर्वाचित सरपंच सावित्री के पति बीके कौशिक को आपसी रंजिश के चलते गोली मारकर हत्या करने की कोशिश की गई। बीके कौशिक के सीने पर लगातार तो गोली दागी गई, गोली लगने से वह जमीन पर गिर गया। आस-पास मौजूद लोगों ने घटना की सूचना की पुलिस को दी। गोली चलने की सूचना के बाद मौके पर एसपी पहुंचे। उन्होंने जांच शुरू की थी। वहीं सरपंच पति के स्वास्थ्य में सुधार हो गया। दूसरी ओर पुलिस जांच कर रही थी। इसमें पता चला कि सुपारी देकर सरपंच पति को मारने की प्लानिंग बनी थी। गोली मारने वाले यूपी के दो युवकों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804