GLIBS
20-10-2020
Breaking : दोपहर 2 बजे मुख्यमंत्री लेंगे प्रेस कांफ्रेंस, मंत्री चौबे और भगत रहेंगे मौजूद

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल मंगलवार दोपहर 2 बजे एक महत्वपूर्ण विषय पर प्रेस कांफ्रेंस लेंगे। प्रेस कांफ्रेंस प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय राजीव भवन के प्रथम तल के पत्रकारवार्ता कक्ष में होगी। यह जानकारी सदस्य कांग्रेस संचार विभाग सुशील आनंद शुक्ला ने दी है। उन्होंने कहा कि प्रेस कांफ्रेंस में कृषि मंत्री रविंद्र चौबे और खाद्य मंत्री अमरजीत भगत भी मौजूद रहेंगे।

17-10-2020
ताम्रध्वज साहू ने कहा, लॉ एंड आर्डर की स्थिति कंट्रोल में, एसआई और आरक्षकों की भर्ती जल्द

रायपुर। प्रदेश में लॉ एंड आर्डर की स्थिति कंट्रोल में है। हम लगातार समीक्षा कर रहें है और समय समय पर कार्रवाई भी की जा रही है। यह बात शनिवार को गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू ने प्रेस कांफ्रेंस के दौरान कहीं। राजभवन की समीक्षा बैठक में शामिल नहीं हो पाने पर मंत्री साहू ने कहा कि भाजपा इस मुद्दे पर भ्रम फैला रही है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री स्वयं क्वारेंटाइन में थे इसलिए सीएम हाउस की बैठक में शामिल में हुआ था। एसआई भर्ती पर ताम्रध्वज साहू ने कहा कि जल्द से जल्द एसआई के साथ आरक्षकों की भी भर्ती की जाएगी। 

 

24-08-2020
नरेन्द्र मोदी कांग्रेस से नहीं बल्कि गांधी परिवार के मजबूत नेतृत्व क्षमता से डरते हैं : विकास उपाध्याय

रायपुर। दिल्ली में कांग्रेस के नए अध्यक्ष चुने जाने की अटकलों और जारी के बीच संसदीय सचिव विकास उपाध्याय ने सोमवार को प्रेस कांफ्रेंस ली। विकास ने गांधी परिवार के हाथों ही नेतृत्व सौंपे जाने की वकालत करते हुए कहा है कि, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सार्वजनिक जगहों से लेकर कई मौकों पर कहते हैं कि, वो कांग्रेस मुक्त भारत चाहते हैं, दरअसल ऐसा नहीं, वे असल में गांधी परिवार मुक्त कांग्रेस की बात करते हैं। इस बात को कांग्रेस के एक-एक कार्यकर्ता व पार्टी के नेताओं को समझ जाना चाहिए। मोदी कांग्रेस से नहीं बल्कि ज्यादा गांधी परिवार के मजबूत नेतृत्व क्षमता से डरते हैं।

विकास उपाध्याय ने कहा कि, कांग्रेस पार्टी को राहुल गांधी में उम्मीद नजर आती है ,क्योंकि वो वास्तव में नरेंद्र मोदी का एक विकल्प पेश करते हैं। मोदी की हर नीति को राहुल गांधी चुनौती देते नजर आते हैं। पिछले कुछ वर्षो में यदि विभिन्न राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव कि स्थति के बारे में भी यदि ध्यान दिया जाए तो, गुजरात समेत मध्यप्रदेश, राजस्थान, पंजाब, कर्नाटक, मणिपुर, पांडिचेरी और छत्तीसगढ़ में पार्टी ने मजबूत स्थति कायम की। इसमें गुजरात में तो राहुल गांधी के ताबड़तोड़ प्रचार के चलते लगभग कांग्रेस पार्टी का बराबरी का मुकाबला रहा है। इन चुनावों में भी मतदाताओं ने राहुल गांधी के चेहरे को सामने में रख मतदान किया था, इससे इनकार नहीं किया जा सकता।

विकास उपाध्याय ने कहा कि, बीजेपी एक चुनौती है कहना गलत है। ये भी हमें नहीं भूलना चाहिए कि, पिछले विधानसभा चुनाव में दिल्ली और झारखंड में बीजेपी की हार भी हुई। इसलिए यह बात नहीं है कि, कांग्रेस या फिर विपक्ष बीजेपी को टक्कर नहीं दे सकते। या फिर उसका विकल्प नहीं बन सकते। राहुल गांधी एक मात्र नेता हैं, जो इसके वास्तविकता का लगातार खुलासा कर सामने आ रहे हैं। इसीलिए मोदी को भय है तो बस इस गांधी परिवार से, जिसे कांग्रेस को भी असली ताकत के रूप में अख्तियार करना चाहिए।

02-06-2020
मध्यम वर्ग की ओर केन्द्र सरकार का ध्यान नहीं : कांग्रेस

राजनांदगांव। जिला कांग्रेस ने मंगलवार को प्रेस कांफ्रेंस ली। इसमें कांग्रेस के पदाधिकारियों ने पत्रकारों से चर्चा करते हुए मोदी सरकार के 6 वर्ष के कार्यकाल को काला अध्याय बताया। कांग्रेस नेताओं ने कहा कि पिछले 6 वर्षो से देश को भटकाव की राजनीति का सामना करना पड़ रहा हैं। झूठ की बुनियाद पर सरकार चलाना मोदी सरकार कि पहचान बन गई हैं,जिसके चलते देश को सामाजिक एवं आर्थिक क्षति पहुंची हैं। सत्ता पाने के लिए भाजपा बड़ी-बड़ी घोषणाए एवं वादे किए,जिन पर अमल करना तो दूर उसकी कार्ययोजना भी नहीं बना पाए हैं।कांग्रेस के पदाधिकारियों ने कहा कि मोदी सरकार सबका साथ सबका विकास कि बात तो करती है पर निम्न व मध्यम वर्ग की ओर केन्द्र सरकार का ध्यान नहीं है। कांग्रेस नेताओं ने कहा कि डीएपी,पोटाश का 50 किग्रा वाला बैग 450 रूपए से बढ़कर 969 रूपए हो गया है। सुपर खाद प्रति बैग 1450 रुपए में मिल रहा है। यूरिया फर्टिलाइजर के 50 किलो के बैग की मात्रा घटाकर 45 किलो ग्राम कर दी गई लेकिन मूल्य में कोई कमी नहीं की गई है।

 

27-01-2020
रविशंकर प्रसाद के बयान पर केजरीवाल का पलटवार, कहा गंदी राजनीति कर रही है भाजपा 

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी और आम आदमी पार्टी एक दूसरे पर निशाना साध रही है। शाहीन बाग का मुद्दा विधानसभा चुनाव से पहले हर रोज़ तेज़ी से गर्म हो रहा है। भाजपा के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने सोमवार को दिल्ली में प्रेस कांफ्रेंस का आयोजन कर विपक्ष पर जमकर निशाना साधा है, वहीं केजरीवाल ने इसका जवाब देते हुए कहा कि भाजपा शाहीन बाग पर गंदी राजनीति कर रही है और चाहती ही नहीं कि रास्ता खुले। रवि शंकर ने शाहीन बाग में चल रहे विरोध प्रदर्शन को लेकर कहा कि यह विरोध नागरिकता कानून का विरोध नहीं है, ये नरेंद्र मोदी का विरोध है। हमने बार-बार बताया कि नागरिकता संशोधन विधेयक किसी की नागरिकता नहीं छिनता। इस देश का हर मुस्लिम नागरिक इज्जत के साथ इस देश में रहता है और रहेगा। लोगों के शांतिपूर्ण बहुमत को दबाने के लिए कुछ लोग शाहीन बाग में यह सब कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि यह शाहीन बाग का असली चेहरा है और देश के सामने इसे उजागर करना बहुत महत्वपूर्ण है, वहीं कांग्रेस और आप पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा कि इस मामले में राहुल गांधी और केजरीवाल, दोनों चुप हैं, लेकिन उनके लोग खूब बोल रहे हैं। मनीष सिसोदिया बोलते हैं कि हम शाहीन बाग के साथ हैं। कांग्रेस के दिग्विजय सिंह और मणिशंकर अय्यर वहां जाकर क्या-क्या बोले हैं वो आप जानते हैं


बता दें कि शाहीन बाग में चल रहे प्रदर्शन को लेकर केजरीवाल ने पलटवार करते हुए कहा कि भाजपा गंदी राजनीति कर रही है। भाजपा नहीं चाहती कि रास्ते खुलें। शाहीन बाग में बंद रास्ते की वजह से लोगों को भारी परेशानी हो रही है। भाजपा के नेताओं को तुरंत शाहीन बाग जाकर बात करनी चाहिए और रास्ता खुलवाना चाहिए।

17-01-2020
एसटीएफ ने मुंबई ब्लास्ट के आरोपी 'डॉक्टर बम' को किया गिरफ्तार, पैरोल से हुआ था फरार

नई दिल्ली। डॉक्टर बम के नाम से मशहूर 1993 मुंबई बम ब्लास्ट के आरोपी जलीस अंसारी को यूपी एसटीएफ ने शुक्रवार को गिरफ्तार कर लिया। वह 21 दिन की पैरोल समाप्त होने से ठीक पहले फरार हो गया था। मामले पर यूपी डीजीपी ओम प्रकाश सिंह प्रेस कांफ्रेंस कर मीडिया को जानकारी देंगे। बता दें कि 1993 में राजस्थान बम धमाकों के मामले में उम्रकैद की सजा सुनाई थी। उसे उच्चतम न्यायालय ने 21 दिन की पैरोल दी थी। अंसारी के परिवार वालों ने उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट लिखवाई थी। अंसारी पिछले महीने अजमेर की जेल से पैरोल पर बाहर आया हुआ था। जिसकी मियाद शुक्रवार को खत्म हो रही थी। उस पर 50 से ज्यादा सीरियल धमाकों को अंजाम देने का आरोप है। वह अजमेर की जेल में आजीवन कारावास की सजा काट रहा था। उसके परिवार ने पुलिस को बताया था कि वह गुरुवार सुबह मुंबई सेंट्रल स्थित अपने मोमिनपुरा घर से निकला और वापस नहीं आया। पेशे से एमबीबीएस डॉक्टर अंसारी 1994 से जेल में है। उसे सबसे पहले केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) ने राजधानी एक्सप्रेस में बम लगाने में उसकी कथित भूमिका के लिए गिरफ्तार किया था। अंसारी को पांच और छह दिसंबर, 1993 को राजस्थान में छह स्थानों पर ट्रेनों में विस्फोट करने का दोषी पाया गया था। अंसारी के परिवार का कहना है कि वह गुरुवार को नमाज पढ़ने के लिए घर से निकला था और फिर वापस नहीं आया। उसके परिवार से पुलिस से संपर्क किया। उन्हें लगा कि वह पुलिस स्टेशन गया होगा क्योंकि उसे रोज सुबह पुलिस थाने जाना होता था।

 

22-12-2019
अखिलेश यादव ने हिंसा को लेकर भाजपा पर लगाए आरोप, कही ये बात...

लखनऊ। सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने प्रदेश में हो रही हिंसा को लेकर भाजपा सरकार पर आरोप लगाए। उन्होंने कहा कि भाजपा अर्थव्यवस्था, रोजगार और किसानों के मुद्दे पर पूरी तरह फेल हुई है। इसलिए जनता का ध्यान भटकाने के लिए दंगे फैलाए जा रहे हैं। दंगों से भाजपा को फायदा होता है। आज यही लोग सत्ता में हैं इसलिए दंगे भड़काए जा रहे हैं। अखिलेश यादव रविवार को प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि नागरिकता कानून देश के संविधान का उल्लंघन है। इसलिए सपा इसका विरोध कर रही है। हमने शांतिपूर्ण ढंग से प्रदर्शन किया। हिंसा भाजपा के इशारे पर की जा रही है। अखिलेश ने एनआरसी का विरोध करते हुए कहा कि गांवों में लोगों के पास दस्तावेज नहीं है। एनआरसी के लिए पूरा देश एक बार फिर लाइन मे लग जाएगा। नोटबंदी लागू होने से जनता को बहुत मुश्किल हुई थी। एक बार फिर से वही माहौल बनाने की कोशिश की जा रही है। नोटबंदी लागू करते वक्त कहा गया था कि कालाधन खत्म हो जाएगा। आतंकवाद, नक्सलवाद खत्म हो जाएगा लेकिन कुछ नहीं हुआ। जनता परेशान हुई।

सरकार के साथ टी-20 खेलने के मूड में विधायक

अखिलेश ने कहा कि भाजपा के 300 से ज्यादा विधायक सरकार के खिलाफ हैं। ये सभी नया साल आने पर सरकार के साथ टी-20 खेलने जा रहे हैं। सरकार अपनी असफलता से जनता का ध्यान बंटाना चाहती है। इसलिए जानबूझकर हिंसा फैलाई जा रही है। वहीं, आगामी 25 दिसंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यक्रम को लेकर अखिलेश यादव ने कहा कि प्रधानमंत्री उसी लोकभवन में अटल बिहारी वाजपेयी की प्रतिमा का अनावरण करने जा रहे हैं जिसे समाजवादियों ने बनवाया। उन्हें अटल के गांव में एक विश्वविद्यालय बनवाना चाहिए लेकिन उन्हें तो काम ही करना नहीं आता। अखिलेश ने कहा कि विपक्ष के लिए तो धारा 144 लगाई जा रही है लेकिन भाजपा के लोगों के लिए कोई कानून नहीं है। धारा लागू होने के बावजूद प्रधानमंत्री के कार्यक्रम का लखनऊ में आयोजन किया जा रहा है।

05-12-2019
संसद पहुंचे पी चिदंबरम, कांग्रेस नेताओं के साथ मिलकर किया प्रदर्शन

नई दिल्ली। संसद के शीतकालीन सत्र में गुरूवार को लोकसभा में नागरिकता संशोधन विधेयक को चर्चा के लिए पेश किया जा सकता है। बुधवार को मोदी कैबिनेट ने इस बिल को मंजूरी दी है। वहीं तिहाड़ जेल से जमानत मिलने के बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम राज्यसभा की कार्यवाही में हिस्सा लेने के लिए संसद पहुंच गए हैं। संसद परिसर में उन्होंने कांग्रेस नेताओं के साथ प्याज की कीमतों पर विरोध प्रदर्शन किया। गुरुवार दोपहर 12.30 बजे चिदंबरम एक प्रेस कांफ्रेस करेंगे।
 
पूर्वोत्तर के लोगों की समस्या का होगा समाधान

केंद्रीय खेल मंत्री किरण रिजिजू ने नागरिकता संशोधन विधेयक पर कहा, 'पूर्वोत्तर क्षेत्र के लोगों की चिंताएं हैं जिनका समाधान किया जाएगा। यह आश्वासन हमें गृह मंत्री अमित शाह ने दूरदर्शी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की देखरेख में दिया है।'

 

26-11-2019
फडणवीस ने दिया मुख्यमंत्री पद से  इस्तीफा, कही ये बात....

मुंबई। महाराष्ट्र में सियासत लगातार करवट ले रही है। राजनीतिक हलचल के बीच मंगलवार को सीएम देवेंद्र फडणवीस ने प्रेस कांफ्रेंस ली। मीडिया को संबोधित करते हुए उन्होंने इस्तीफे का ऐलान किया। उन्होंने कहा कि हमारे पास बहुमत नहीं है, इसलिए वह इस्तीफा दे रहे हैं। देवेंद्र फडणवीस से पहले अजित पवार डिप्टी सीएम पद से इस्तीफा दे चुके थे। देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि हमें उम्मीद है कि नई सरकार अच्छा काम करेगी। हम विपक्ष के रूप में अपना काम करेंगे। उन्होंने कहा कि शिवसेना नेता लाचारी में सोनिया गांधी के सामने नतमस्तक हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि तीन पहियों वाली सरकार चलना काफी मुश्किल है। देवेंद्र फडणवीस बोले कि शिवसेना उन वादों को लेकर अड़ गई थी, जिन्हें हमने कभी किया नहीं था। उन्होंने कहा कि मैं राज्यपाल को इस्तीफा देने जा रहा हूं। बता दें कि देवेंद्र फडणवीस और अजित पवार ने शनिवार सुबह राजभवन में शपथ ली थी। 

 

26-11-2019
महाराष्ट्र: अजित पवार ने दिया उपमुख्यमंत्री पद से इस्तीफा, देवेंद्र फडणवीस लेगें प्रेस कांफ्रेंस

नई दिल्ली। महाराष्ट्र में सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद बुधवार को फ्लोर टेस्ट के पहले अजित पवार ने डिप्टी सीएम पद से इस्तीफा दे दिया है। बता दें कि महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फडणवीस ने दोपहर साढ़े तीन बजे मीडिया को संबोधित करेंगे। महाराष्ट्र के विपक्षी दलों की याचिकाओं पर विचार करने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को बुधवार शाम पांच बजे से पहले विधानसभा में अपना बहुमत साबित करने का अंतरिम निर्देश दिया है। शीर्ष अदालत के न्यायमूर्ति एनवी रमना, न्यायमूर्ति संजीव खन्ना और न्यायमूर्ति अशोक भूषण की सदस्यता वाली पीठ ने विपक्षी दलों की याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए कहा कि चूंकि विधायकों ने शपथ ग्रहण नहीं किया है, इसलिए 27 नवंबर को जल्द से जल्द बहुमत परीक्षण हो जाना चाहिए। पीठ ने कहा कि बहुमत परीक्षण बुधवार शाम पांच बजे से पहले हो जाना चाहिए। कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि इसके लिए एक प्रोटेम स्पीकर नियुक्त किया जाएगा और बहुमत परीक्षण गुप्त मतदान द्वारा नहीं होगा और सदन की कार्यवाही का लाइव प्रसारण किया जाएगा। कोर्ट ने कहा कि विधायकों का शपथ ग्रहण बुधवार शाम पांच बजे से पहले होना चाहिए। शिवसेना-राकांपा-कांग्रेस की तरफ से वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल ने शीर्ष अदालत में आवेदन कर देवेंद्र फडणवीस सरकार को महत्वपूर्ण निर्णय लेने से रोकने का आग्रह किया।

17-11-2019
मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड फिर जाएगा सुप्रीम कोर्ट, इस फैसले को देगा चुनौती

नई दिल्ली। ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले को चुनौती देने का निर्णय किया है। बोर्ड के सदस्य सैयद कासिम रसूल इलियास ने इस बात की जानकारी देते हुए बताया कि बोर्ड ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ पुनर्विचार याचिका दायर करने का फैसला किया है। लखनऊ में हुई बोर्ड की बैठक में यह फैसला किया गया। बोर्ड ने कहा कि एक महीने में समीक्षा याचिका दायर की जाएगी। साथ ही बोर्ड ने अयोध्या में 5 एकड़ जमीन लेने से भी इनकार कर दिया है जिसका सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया था। बोर्ड के सचिव जफरयाब जीलानी ने बोर्ड की वर्किंग कमेटी की बैठक में लिये गये निर्णयों की जानकारी देते हुए प्रेस कांफ्रेंस में बताया कि बैठक में फैसला लिया गया है कि अयोध्या मामले पर गत नौ नवम्बर को दिये गये उच्चतम न्यायालय के निर्णय पर पुनर्विचार याचिका दाखिल की जाएगी। उन्होंने कहा कि बोर्ड का मानना है कि मस्जिद की जमीन अल्लाह की है और शरई कानून के मुताबिक वह किसी और को नहीं दी जा सकती। उस जमीन के लिये आखिरी दम तक कानूनी लड़ाई लड़ी जाएगी। जीलानी ने कहा कि 23 दिसंबर 1949 की रात बाबरी मस्जिद में भगवान राम की मूर्तियां रखा जाना असंवैधानिक था तो उच्चतम न्यायालय ने उन मूर्तियों को आराध्य कैसे मान लिया? वे तो हिंदू धर्म शास्त्र के अनुसार भी आराध्य नहीं हो सकते। जीलानी ने यह भी बताया कि बोर्ड ने मस्जिद के बदले अयोध्या में पांच एकड़ जमीन लेने से भी साफ  इनकार किया है। बोर्ड का कहना है कि मस्जिद का कोई विकल्प नहीं हो सकता। मुस्लिम पक्षकारों ने अयोध्या मामले पर हाल में आये सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ अपील दाखिल किये जाने की इच्छा जताते हुए शनिवार को कहा था कि मुसलमानों को बाबरी मस्जिद के बदले कोई जमीन भी नहीं लेनी चाहिये। इन पक्षकारों ने ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के महासचिव मौलाना वली रहमानी से नदवा में मुलाकात के दौरान यह ख्वाहिश जाहिर की थी। बोर्ड के सचिव जफरयाब जीलानी ने बताया था कि मौलाना रहमानी ने रविवार को नदवा में ही होने वाली बोर्ड की वर्किंग कमेटी की महत्वपूर्ण बैठक से पहले रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद मामले से जुड़े विभिन्न मुस्लिम पक्षकारों को राय जानने के लिये बुलाया था। उन्होंने बताया कि मामले के मुद्दई मुहम्मद उमर और मौलाना महफूजुर्रहमान के साथ-साथ अन्य पक्षकारों हाजी महबूब, हाजी असद और हसबुल्ला उर्फ  बादशाह ने मौलाना रहमानी से मुलाकात के दौरान कहा कि उच्चतम न्यायालय का निर्णय समझ से परे है, लिहाजा इसके खिलाफ अपील की जानी चाहिए।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804