GLIBS
01-08-2020
पंजाब में जहरीली शराब से मरने वालों का आकड़ा बढ़ा,अब तक गई 86 लोगों की जान

चंडीगढ़। पंजाब में जहरीली शराब त्रासदी में मरने वालों की संख्या शनिवार को बढ़कर 86 हो गई। मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने इस मामले में सात आबकारी अधिकारियों और छह पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया है। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि सरकार ने मृतकों के परिवारों के लिए दो-दो लाख रुपये के मुआवजे की घोषणा की। तरनतारन में 63 मौतें हुई हैं,जिसके बाद अमृतसर में 12 और गुरदासपुर के बटाला में 11 मौतें हुईं। राज्य में बुधवार रात से शुरू हुई त्रासदी में शुक्रवार की रात तक 39 लोगों की मौत हो गई थी। एक आधिकारिक बयान के अनुसार, मुख्यमंत्री ने छह पुलिसकर्मियों के साथ सात आबकारी अधिकारियों को निलंबित करने का आदेश दिया। निलंबित अधिकारियों में दो उप पुलिस अधीक्षक और चार थाना प्रभारी शामिल हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि इस मामले में किसी भी लोक सेवक या अन्य को संलिप्त पाया जाता है, तो उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि जहरीली शराब के उत्पादन और बिक्री को रोकने में पुलिस और आबकारी विभाग की नाकामी शर्मनाक है।

 

09-02-2020
मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के आदेश के बाद फिल्म ‘शूटर’ पर रोक

नई दिल्ली। पंजाब सरकार ने पंजाबी फिल्म ‘शूटर’ पर रोक लगा दी है। फिल्म पर ‘हिंसा’ और ‘जघन्य अपराधों’ को बढ़ावा देने का आरोप लगाया है। फिल्म गैंगस्टर सुखा काहलवां के जीवन पर आधारित है। राज्य सरकार की ओर से जारी बयान के अनुसार मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने रविवार को फिल्म पर रोक लगाने के आदेश दिए। बयान ने कहा, पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने फिल्म ‘शूटर’ पर रोक लगाने का आदेश दिया है, जो कि गैंगस्टर सुखा काहलवां के जीवन पर आधारित है और हिंसा,जघन्य अपराध, वसूली, धमकी जैसे कृत्यों को बढ़ावा देती है।’ मुख्यमंत्री ने पुलिस महानिदेशक दिनकर गुप्ता से भी मामले पर गौर करने और फिल्म के निर्माताओं में से एक केवी ढिल्लों के खिलाफ संभावित कार्रवाई शुरू करने का आदेश दिया है। डीजीपी को फिल्म के प्रमोटर्स, निर्देशकों और अभिनेताओं की भूमिका पर भी गौर करने को कहा गया है। 

 

20-10-2019
करतारपुर कॉरिडोर के उद्घाटन में आम श्रद्धालु की तरह शामिल होंगे मनमोहन सिंह!

नई दिल्ली। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पाकिस्तान में करतारपुर गलियारे के उद्घाटन के लिए आयोजित औपचारिक समारोह में शामिल नहीं होंगे, लेकिन एक आम श्रद्धालु की तरह वहां जाएंगे। सूत्रों ने रविवार को यह जानकारी पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी के दावे के बाद दी। जिसमें उन्होंने कहा था कि मनमोहन सिंह ने उद्घाटन समारोह में शामिल होने के न्योते को स्वीकार कर लिया है। खबर के मुताबिक कुरैशी ने अपने गृहनगर मुल्तान में शनिवार को पत्रकारों से कहा कि डॉ. सिंह ने उनका न्योता स्वीकार कर लिया है और तय उद्घाटन समारोह में विशेष अतिथि के बजाय आम आदमी की तरह शामिल होंगे। डॉ. सिंह के करीबी सूत्रों ने नई दिल्ली में कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री औपचारिक उद्घाटन समारोह में शामिल नहीं होंगे। उन्होंने बताया कि पाकिस्तानी प्रशासन की ओर से भेजे गए न्योते के जवाब में सिंह ने कहा कि वह औपचारिक समारोह में शामिल नहीं होंगे लेकिन एक आम श्रद्धालु की तरह ऐतिहासिक तीर्थस्थल का दर्शन करेंगे। डॉ. सिंह सिख जत्थे का हिस्सा होंगे जिसका नेतृत्व पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह करेंगे। वे करतापुर के गुरुद्वारे में मत्था टेकने के बाद उसी दिन लौट आएंगे।

08-08-2019
पंजाब सीएम की पत्नी हुई ऑनलाइन ठगी का शिकार

चंडीगढ़। पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह की पत्नी परनीत कौर के साथ 23 लाख रुपये की साइबर ठगी का मामला सामने आया है। ठग ने फोन पर खुद को बैंक प्रबंधक बताते हुए धोखाधड़ी की वारदात को अंजाम दिया। पुलिस ने यह जानकारी दी। पुलिस ने बुधवार को बताया कि पटियाला से कांग्रेस सांसद कौर के साथ यह धोखाधड़ी की घटना कुछ दिन पहले हुई। पुलिस ने कहा कि ठग को गिरफ्तार कर लिया गया है। अधिकारियों ने बताया कि फोन कॉल की पड़ताल के बाद झारखंड के रांची से पंजाब पुलिस की एक टीम ने जालसाज को गिरफ्तार किया। अधिकारियों ने कहा कि कौर को कुछ दिन पहले एक फोन आया था जब वह संसद सत्र में भाग लेने के लिए दिल्ली में थीं।

खुद को एक राष्ट्रीयकृत बैंक का प्रबंधक बताते देते हुए, कॉल करने वाले व्यक्ति ने कौर से कहा कि उन्हें उनका वेतन जमा करने के लिए उनके बैंक खाते की जानकारी चाहिए। अधिकारियों ने कहा कि आखिरकार वह सांसद की खाता संख्या, एटीएम पिन, सीवीसी नंबर और एक ओटीपी (वन टाइम पासवर्ड) प्राप्त करने में सफल रहा। पुलिस ने बताया कि कौर को तब एक एसएमएस के जरिए पता चला कि उनके खाते से 23 लाख रुपये की राशि निकाली गई है। जिसके बाद उन्होंने पुलिस को घटना की सूचना दी। पटियाला के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक मनदीप सिंह सिद्धू ने बुधवार को कहा कि आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है और पंजाब पुलिस की एक टीम उसे झारखंड से ला रही है।

31-07-2019
क्या नवजोत सिंह सिद्धू के हाथ में होगी दिल्ली कांग्रेस की कमान!

नई दिल्ली। शीला दीक्षित के निधन के बाद दिल्ली कांग्रेस के नए अध्यक्ष को लेकर जारी तलाश खत्म होती दिख रही है। सूत्रों के मुताबिक पूर्व क्रिकेटर और पंजाब सरकार में मंत्री रहे कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू को यह जिम्मेदारी सौंपी जा सकती है। बता दें कि सिद्धू ने बीते 6 जून को पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह द्वारा विभाग बदले जाने के बाद करीब सवा महीने बाद कैबिनेट मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था। लोकसभा चुनाव 2019 में पंजाब में कांग्रेस को अच्छी संख्या में सीटें न मिलने का ठीकरा मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने सिद्धू पर फोड़ा था। केंद्रीय आलाकमान से उनके खिलाफ  कार्रवाई की मांग की थी। इतना ही नहीं, मुख्यमंत्री ने लोकसभा चुनाव के बाद 6 जून को हुई कैबिनेट की पहली बैठक में सिद्धू सहित कई मंत्रियों के विभाग बदल दिए थे। बता दें कि दिल्ली कांग्रेस की अध्यक्ष और 3 बार की मुख्यमंत्री रहीं शीला दीक्षित का बीते 20 जुलाई को दिल्ली के एस्कॉट्र्स अस्पताल में दिल का दौरा पडऩे से निधन हो गया था।

28-07-2019
राहुल गांधी के त्यागपत्र से कांग्रेस को हो रहा नुकसान : शशि थरूर

नई दिल्ली। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर ने रविवार को कहा कि राहुल गांधी के इस्तीफे के बाद नेतृत्व को लेकर स्पष्टता की कमी पार्टी को नुकसान पहुंचा रही है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस में सुधार का रास्ता यही हो सकता है कि कार्यसमिति सहित पार्टी में सभी महत्वपूर्ण पदों के लिए चुनाव हों, जिससे इनमें चुने जाने वाले नेताओं को स्वीकार्यकता हासिल करने में मदद मिलेगी। उन्होंने पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के इस आकलन का भी समर्थन किया कि इस समय कांग्रेस की कमान किसी युवा नेता को सौंपी जानी चाहिए। थरूर ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि पार्टी अध्यक्ष पद का चुनाव होने पर महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा इसमें अपनी किस्मत आजमाने को लेकर फैसला करेंगी। लेकिन साथ ही उन्होंने कहा कि यह गांधी परिवार का फैसला होगा कि प्रियंका इस पद के लिए चुनाव लड़ेंगी या नहीं। एक साक्षात्कार में थरूर ने पार्टी की मौजूदा स्थिति पर असंतोष जताया और कहा कि कांग्रेस जिन हालात से गुजर रही है उसका अभी कोई स्पष्ट जवाब नहीं है। तिरुवनंतपुरम से कांग्रेस सांसद ने कहा कि यह बिल्कुल सही बात है कि पार्टी के शीर्ष पद पर स्पष्टता की कमी संभवत: कांग्रेस कार्यकर्ताओं और समर्थकों को नुकसान पहुंचा रही है, इनमें से ज्यादातर पार्टी नेता की कमी महसूस करते हैं जो अहम फैसलों को देखे, कमान संभाले और यहां तक कि पार्टी में नई जान फूंके और उसे आगे ले जाए। थरूर ने उम्मीद जताई कि कांग्रेस कार्य समिति मौजूदा स्थिति को बहुत गंभीरता से ले रही है और वह बिना किसी देरी के समाधान खोजने के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास कर रही है। पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि कांग्रेस में सुधार का एक रास्ता यह हो सकता है कि सीडब्ल्यूसी पार्टी के लिए एक अंतरिम कार्यकारी अध्यक्ष का नाम बताए और फिर इसे भंग कर दें। इसके बाद ताजा चुनाव हों। 

 

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804