GLIBS
16-02-2021
किसान आंदोलन की आड़ में भारत में दंगा कराने के पीछे अंतराष्ट्रीय साजिश का खुलासा

नई दिल्ली/रायपुर। गणतंत्र दिवस पर किसानों की ट्रैक्टर परेड में हुई हिंसा को लेकर पाकिस्तान का नाम सामने आ रहा है। सूत्रों की माने तो किसान आंदोलन की आड़ में भारत में दंगा कराने के पीछे अंतराष्ट्रीय साजिश का खुलासा हुआ है और इसमें पड़ोसी देश पाकिस्तान का हाथ था। सुरक्षा एजेंसियों के सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई ने किसानों के प्रदर्शन को हिंसक रूप देने के लिए खालिस्तानी आतंकियों के साथ बैठक की थी। इसके लिए आईएसआई ने कनाडा, ब्रिटेन, जर्मनी और अमेरिका में स्थित पाकिस्तानी दुतावास के जरिए खालिस्तानी आतंकियों के साथ कई राउंड की बैठक की थी।

14-02-2021
चुनाव में जमानत जब्त करा चुके खुद को समाजसेवी कहने वाले दिल्ली के गैंगस्टर लखा सिधाना पर 1 लाख का इनाम घोषित

दिल्ली/रायपुर। गणतंत्र दिवस पर ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई हिंसा में एक आरोपी लखा सिधाना पर दिल्ली पुलिस ने 1 लाख का इनाम घोषित किया है। लखा सिधाना की तलाश में एसआईटी जगह-जगह छापे मार रही है। पंजाब में पुलिस दर्जनों जगह छापा मार चुकी है। एसआईटी को अब तक निराशा ही हाथ लगी है। पुलिस लखा सिधाना की बुरी तरह तलाश कर रही है। लखा सिधाना खुद को समाजसेवी बताने लगा था, लेकिन उस पर दर्जनों केस दर्ज है और उसने एक बार चुनाव में भी तक़दीर आजमाई थी, लेकिन जनता ने उनकी जमानत जब्त करा दी थी।

03-02-2021
गणतंत्र दिवस पर हुई हिंसा मामले में सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई आज

 रायपुर/नई दिल्ली। गणतंत्र दिवस के दिन हुई हुई हिंसा के खिलाफ दायर जनहित याचिकाओं पर बुधवार को सुनवाई होगी। न्यायमूर्ति एएस बोपन्ना और वी रामसुब्रमण्यन के साथ ही प्रधान न्यायाधीश (सीजेआई) एसए बोबडे की अध्यक्षता वाली पीठ इसकी सुनवाई करेगी। सुप्रीम कोर्ट में दायर की गई याचिकाओं में से एक में एनआईए को मामले की जांच के निर्देश देने की मांग की गई है। याचिका में कहा गया है कि ट्रैक्टर रैली का हिस्सा कर रहे उन असामाजिक तत्वों के खिलाफ अदालत की निगरानी में एनआईए को जांच करनी चाहिए, जो गणतंत्र दिवस पर राष्ट्रीय राजधानी की सड़कों पर हिंसा में लिप्त थे। अधिवक्ता शशांक शेखर झा और मंजू जेटली शर्मा के माध्यम से दायर याचिका में कहा गया है कि गणतंत्र दिवस पर लाल किले और राष्ट्रीय ध्वज पर हुए हमले पर तत्काल ध्यान देने की आवश्यकता है। याचिका में कहा गया है कि प्रदर्शनकारियों को विरोध के नाम पर हिंसा करने की अनुमति नहीं दी जा सकती है। दलील में कहा गया है कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और विरोध जताने के साथ ही दूसरों के अधिकारों पर भी विचार करना चाहिए।

31-01-2021
किसी भी वक्त हो सकती है हिंसा फैलाने वाले दीप सिद्धू की गिरफ्तारी

रायपुर/नई दिल्ली। गणतंत्र दिवस पर लाल किले में मचे उत्पात को लेकर पंजाबी एक्टर दीप सिद्धू पर गिरफ्तारी के लिए दिल्ली पुलिस की कई टीमों ने पंजाब में छापामार कार्रवाई की है। दीप सिद्धू हिंसा के बाद से फरार है। दिल्ली पुलिस की दो टीमें लगातार सिद्धू की खोज कर रही है। अब किसी भी वक्त दीप सिद्धू की गिरफ्तारी हो सकती है।

31-01-2021
दिल्ली पुलिस ने गाजीपुर बॉर्डर पर रातो-रात 12 लेयर की बैरिकेडिंग के साथ नुकीले तार लगाए

रायपुर/दिल्ली। गणतंत्र दिवस पर ट्रैक्टर रैली में हुई हिंसा के बाद पंचायतों का दौर शुरू हो गया है। किसान एक बार फिर दिल्ली पहुंच रहे हैं। वहीं दिल्ली पुलिस ने भी किसानों को प्रदेश में घुसने से रोकने के लिए तैयारियां सख्त कर दी है। गाजीपुर बॉर्डर को किले में तब्दील कर दिया गया है। किसानों के बढ़ते संख्या बल को देखते हुए गाजीपुर बॉर्डर पर रातोरात 12 लेयर की बैरिकेडिंग की गई है। इसके साथ ही नुकीले तार भी लगाए गए हैं। एनएच 24 को पूरी तरह से बंद कर दिया गया है। नोएडा सेक्टर 62 से अक्षरधाम जाने वाले रास्ते को भी पूरी तरह बंद किया गया है।

29-01-2021
राष्ट्रपति ने अपने अभिभाषण में किया 26 जनवरी का जिक्र, कहा- तिरंगे और गणतंत्र दिवस का अपमान दुर्भाग्यपूर्ण

रायपुर/नई दिल्ली। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के अभिभाषण के साथ संसद का बजट सत्र शुक्र्रवार सेे शुरू हो गया है। 1 फरवरी को केंद्रीय बजट पेश किया जाएगा, जिसे वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण पेश करेंगी। अपने अभिभाषण में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने 26 जनवरी को हुए हिंसक आंदोलन का जिक्र किया। राष्ट्रपति ने कहा- पिछले दिनों हुआ तिरंगे और गणतंत्र दिवस जैसे पवित्र दिन का अपमान बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है, जो संविधान हमें अभिव्यक्ति की आजादी का अधिकार देता है, वही संविधान हमें सिखाता है कि कानून और नियम का भी उतनी ही गंभीरता से पालन करना चाहिए। मेरी सरकार यह स्पष्ट करना चाहती है कि तीन नए कृषि कानून बनने से पहले, पुरानी व्यवस्थाओं के तहत जो अधिकार थे तथा जो सुविधाएं थीं, उनमें कहीं कोई कमी नहीं की गई है। बल्कि इन कृषि सुधारों के जरिए सरकार ने किसानों को नई सुविधाएं उपलब्ध कराने के साथ-साथ नए अधिकार भी दिए हैं। वर्तमान में इन कानूनों का अमलीकरण देश की सर्वाेच्च अदालत ने स्थगित किया हुआ है। मेरी सरकार उच्चतम न्यायालय के निर्णय का पूरा सम्मान करते हुए उसका पालन करेगी।

28-01-2021
ट्रैक्टर रैली मामले में किसान नेताओं को दिल्ली पुलिस ने जारी किया लुक आउट नोटिस, चिल्ला बॉर्डर 57 दिन बाद खुला

नई दिल्ली। दिल्ली पुलिस ने किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान हुई हिंसा को लेकर किसान नेता दर्शन पाल को नोटिस जारी कर पूछा कि क्यों नहीं उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाए। पुलिस ने गणतंत्र दिवस पर लाल किले पर हिंसा को सबसे निंदनीय और राष्ट्र विरोधी कृत्य करार देते हुए पाल से तीन दिनों के भीतर अपना जवाब पेश करने को कहा। सभी किसान नेता जिनके खिलाफ पुलिस ने केस दर्ज किया है, उनको लेकर दिल्ली पुलिस ने गृह मंत्रालय के निर्देश पर लुक आउट नोटिस जारी किया है।

दिल्ली पुलिस आयुक्त एसएन श्रीवास्तव ने आरोप लगाया है कि 26 जनवरी की हिंसा में किसान नेता शामिल थे और उन्होंने चेतावनी दी है कि किसी को बख्शा नहीं जाएगा । नोटिस में ट्रैक्टर परेड के लिए निर्धारित शर्तों के उल्लंघन का भी हवाला दिया गया है। पुलिस ने पाल को दिए नोटिस में कहा कि रैली के लिए नियमों और शर्तों पर परस्पर सहमति जताने के बावजूद पाल और अन्य किसान नेताओं ने कल बेहद गैर जिम्मेदाराना तरीके से काम किया। पुलिस ने क्रांतिकारी किसान यूनियन के प्रमुख पाल से यह भी कहा कि वह अपने संगठन से जुड़े दोषी लोगों के नाम बताएं जो हिंसा में शामिल थे।  नये कृषि कानूनों को लेकर करीब दो माह से चिल्ला बॉर्डर पर धरना दे रहे भारतीय किसान यूनियन (भानू) ने बुधवार से अपना धरना वापस ले लिया। दिल्ली में मंगलवार को ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई हिंसक घटना तथा राष्ट्र ध्वज के अपमान से आहत होकर भानु गुट ने धरना वापस लिया है।
वहीं लोक शक्ति दल ने अपना विरोध-प्रदर्शन जारी रखने की बात कही है। नोएडा यातायात पुलिस के अधिकारियों ने बताया कि बीकेयू (भानु) के विरोध वापस लेने के साथ ही चिल्ला बॉर्डर के माध्यम से दिल्ली-नोएडा मार्ग 57 दिनों के बाद यातायात के लिए फिर से खुल गया।

मालूम हो कि भारतीय किसान यूनियन (भानू) नये कृषि कानूनों के विरोध में चिल्ला बॉर्डर पर धरना दे रहा था। इस धरने की वजह से नोएडा से दिल्ली जाने वाला रास्ता करीब 57 दिनों से बंद था। भारतीय किसान यूनियन (भानू) के राष्ट्रीय अध्यक्ष ठाकुर भानु प्रताप सिंह ने चिल्ला बॉर्डर पर एक संवाददाता सम्मेलन में बताया कि कल ट्रैक्टर परेड के दौरान जिस तरह से दिल्ली में पुलिस के जवानों के ऊपर हिंसक हमला हुआ तथा कानून व्यवस्था की जमकर धज्जियां उड़ाई गई, इससे वे काफी आहत हैं।इस बाबत पूछने पर अपर पुलिस उपायुक्त रणविजय सिंह ने बताया कि किसानों ने स्वतः धरना खत्म करने का निर्णय लिया है। उन्होंने कहा कि थोड़ी देर में ही किसान धरना स्थल को छोड़ देंगे तथा यहां पर लगे टेंट आदि को हटाकर यातायात को पुनः सुचारु रुप से चालू कर दिया जाएगा। भारतीय किसान यूनियन (लोकशक्ति) के राष्ट्रीय अध्यक्ष मास्टर श्यौराज सिंह ने कहा कि वह ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई हिंसा की कड़ी निंदा करते हैं।

 

28-01-2021
लाल किले पर झंडा फहराने वाले की पहचान हुई, 22 वर्षीय युवक जुगराज सिंह तरनतारन के एक गांव का रहने वाला

दिल्ली/रायपुर। गणतंत्र दिवस  पर हुई हिंसा के दौरान लाल किले पर झंडा फहराने वाले युवक की पहचान हो गई है। उसकी तस्वीरें सामने आ रही है और बताया जा रहा है कि युवक का नाम जुगराज सिंह है। वो खेती किसानी करता है और उसके परिजनों का यह कहना है कि वह किसी भी संगठन से नहीं जुड़ा है। किसानों के आंदोलन में वह साथ में चला गया था। युवराज सिंह तरनतारन जिले के गांव का रहने वाला है।

27-01-2021
अंबेडकर अस्पताल और मेडिकल कॉलेज रायपुर में फहराया गया तिरंगा झंडा 

रायपुर। डॉ. भीमराव अंबेडकर स्मृति चिकित्सालय और मेडिकल कॉलेज रायपुर में भी 72वें गणतंत्र दिवस पर ध्वजारोहण किया गया। पं. जवाहर लाल नेहरु स्मृति चिकित्सा महाविद्यालय प्रांगण में अधिष्ठाता डॉ. विष्णु दत्त ने, वहीं डॉ. भीमराव अंबेडकर स्मृति चिकित्सालय में चिकित्सा अधीक्षक डॉ. विनित जैन ने झंडा फहराया। इस दौरान अंबेडकर अस्पताल परिसर में स्थापित भारतीय संविधान के जनक व स्वतंत्र भारत के प्रथम विधि एवं न्याय मंत्री डॉ. भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया गया। भारतीय संविधान के प्रधान वास्तुकार के रूप में उनके योगदान का स्मरण किया गया। गणतंत्र दिवस के मौके पर मेडिकल कॉलेज के प्रांगण में कार्यक्रम को अधिष्ठाता डॉ. दत्त ने संबोधित किया। उन्होंने कहा कि इस बार गणतंत्र दिवस अपने साथ नई सौगात लेकर आया है। कोरोना के कहर से देश को बचाने में जुटे वॉरियर्स यानी योद्धाओं के लिए कोरोना वैक्सीन का आना, एक अनमोल सौगात है। समस्त हेल्थ केयर वर्कर्स ने कोरोना वॉरियर्स के रूप में जी-जान से देशवासियों की सुरक्षा की, उन्होंने इसके लिए सबको बधाई दी। इस दौरान चिकित्सा महाविद्यालय के छात्र, नर्सिंग स्टॉफ, डॉक्टर, प्रोफेसर और अस्पताल के अधिकारी व कर्मचारी उपस्थित थे।

27-01-2021
गरिमामयढंग से मनाया गया गणतंत्र दिवस,मुख्यअतिथि कवासी लखमा ने ध्वजारोहण कर सलामी ली

कांकेर। जिले में 72वें गणतंत्र दिवस हर्षाेल्लास के साथ गरिमामयढंग से मनाया गया। जिला स्तरीय समारोह शासकीय नरहरदेव उच्चतर माध्यमिक विद्यालय कांकेर के खेल मैदान मे आयोजित किया गया, जहॉ पर मुख्यअतिथि वाणिज्यिक कर (आबकारी), वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री कवासी लखमा ने ध्वजारोहण कर सलामी ली। राष्ट्रगान पश्चात मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के जनता के नाम संदेश का वाचन किया गया। संदेश वाचन में कहा कि, हमारी सबसे पहली प्राथमिकता अनुसूचित जनजाति व अनुसूचित जाति बहुल अंचल तथा ग्रामीण जनता है, सरकार ने गरीबी रेखा के नीचे जीवनयापन करने वाले परिवारो की बहुतायत को देखते हुए तथा उन्हें राष्ट्रीय औसत के बराबर लाने की चुनौती स्वीकार करते हुए ’’पूना माड़ाकाल दंतेवाड़ा’’ कार्यक्रम शुरू किया, जो ऐसे अन्य जिलों में भी विकास के लिए नवाचार का आधार बनेगा। मुख्यमंत्री हाट-बाजार क्लीनिक योजना, कुपोषण और मलेरिया मुक्ति का आगाज भी बस्तर से हुआ, जो आगे चलकर पूरे प्रदेश के लिए एक नजीर और प्रेरणास्त्रोत बना। हमने तेंदूपत्ता संग्रहण की पारिश्रमिक दर 02 हजार 5 सौ रूपये से बढ़ाकर 04 हजार रूपये प्रतिमानक बोरा किया।

शहीद महेन्द्र कर्मा तेंदूपत्ता संग्राहक सामाजिक सुरक्षा योजना के माध्यम से इस काम में लगे परिजनों को सुरक्षा और बेहतरी का सुरक्षा कवच उपलब्ध कराया गया। प्रदेश में सामुदायिक वन अधिकार पत्र तथा सामुदायिक वन संसाधन पत्र देने के नये उपायों को बड़ी सफलता मिली है। बस्तर, सरगुजा तथा मध्य क्षेत्र विकास प्राधिकरणों में अध्यक्ष और उपाध्यक्ष की नियुक्ति स्थानीय जनप्रतिनिधियांे से की है और उन्हें क्षेत्रीय विकास के निर्णय लेने के लिए व्यापक अधिकार दिये गये हैं। इस साल 21 लाख 52 हजार 485 किसानों का पंजीयन हुआ, पंजीकृत रकबा भी 24 लाख 46 हजार से बढ़कर लगभग 28 लाख हेक्टेयर हो गया है। धान सहित 14 तरह की फसल लेने वाले किसानों को मदद देने के लिए राजीव गांधी किसान न्याय योजना शुरू की गई और किसानों को 05 हजार 7 सौ करोड़ रूपये देने का वादा किया था। तीन किस्तों में 80 प्रतिशत भुगतान हो चुका है, इसी वित्तीय वर्ष में शतप्रतिशत भुगतान कर दिया जायेगा। गोधन न्याय योजना के माध्यम से 05 माह में लगभग 72 करोड़ रूपये का भुगतान सरकारी दर पर गोबर विक्रेताओं को किया गया है। प्रदेश में जवाहर सेतु योजना, मुख्यमंत्री सुगम सड़क योजना, मुख्यमंत्री ग्राम सड़क एवं विकास योजना, प्रधानमंत्री सड़क योजना के माध्यम से सैकड़ो पुल-पुलिया तथा 04 हजार किलोमीटर से अधिक सड़के बनाई जा रही है। बस्तर में बनाये जा रहे नगरनार इस्पात संयंत्र को निजी हाथों में बेचने की कोशिश की जाती है तो छत्तीसगढ़ सरकार इस संयंत्र को खरीदने को तैयार है।

27-01-2021
हिंसा के बाद किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा, जो आदमी हिंसा में पाया जाएगा उसे स्थान छोड़ना पड़ेगा

रायपुर/नई दिल्ली। गणतंत्र दिवस के मौके पर दिल्ली में हुए उपद्रव के बाद आंदोलनकारियों के प्रति लोगों की सहानुभूति कम हुई है। कल जो हुआ वह नहीं होना था। राष्ट्रीय ध्वज का अपमान, लाल किले में चढ़ाई, पुलिस वालों पर पथराव और लाठीचार्ज, अनेको पुलिस बल के कर्मचारी घायल और ना जाने क्या कुछ नहीं हुआ। वह भी गणतंत्र दिवस के मौके पर। इस हिंसा के बाद किसान नेता राकेश टिकैत ने बुधवार को अपना बयान जारी किया है। राकेश टिकैत ने कहा, जिसने झंडा फहराया वो कौन आदमी था? एक कौम को बदनाम करने की साज़िश पिछले दो महीने से चल रही है। कुछ लोगों को चिंहित किया गया है, उन्हें आज ही यहां से जाना होगा। जो आदमी हिंसा में पाया जाएगा उसे स्थान छोड़ना पड़ेगा और उसके खिलाफ कार्रवाई होगी

Advertise, Call Now - +91 76111 07804