GLIBS
05-08-2019
राष्ट्रीय प्रदर्शनी की तैयारियों को लेकर स्कूल शिक्षा प्रमुख सचिव ने ली बैठक

रायपुर।  बच्चों के लिए 46वीं जवाहर लाल नेहरू राष्ट्रीय विज्ञान, गणित एवं पर्यावरण प्रदर्शनी का आयोजन छत्तीसगढ़ में किया जाएगा। स्कूल शिक्षा विभाग और राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद के सहयोग से राजधानी रायपुर के शंकर नगर स्थित बीटीआई ग्राउंड में 15 से 20 अक्टूबर तक राष्ट्रीय प्रदर्शनी का आयोजन किया जाएगा। प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा गौरव द्विवेदी की अध्यक्षता में आज सिविल लाइन स्थित छत्तीसगढ़ इंफोटेक प्रमोशन सोसायटी (चिप्स) के स्टेट डाटा सेंटर में आयोजन की तैयारियों के संबंध में बैठक आयोजित की गई। बैठक में बताया गया कि प्रदर्शनी में देशभर के लगभग 200 मॉडल प्रदर्शन के लिए आएंगे। प्रदर्शनी के मॉडल का विषय 'जीवन की चुनौतियों के लिए वैज्ञानिक समाधन' पर आधारित होगा। उप विषयों में कृषि एवं जैविक खेती, स्वास्थ्य एवं स्वच्छता, संसाधन प्रबंधन, अपशिष्ट प्रबंधन, परिवहन और संचार और गणितीय प्रतिरूपण को भी सूचीबद्ध किया गया है। प्रदर्शनी में देशभर से लगभग 400 विद्यार्थी और 200 शिक्षकों की प्रतिभागिता होगी। प्रदर्शनी के अतिरिक्त प्रतिदिन समसामायिक और अन्य विषयों पर ख्यातिलब्ध वैज्ञानिकों का व्याख्यान भी होगा।  प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा गौरव द्विवेदी ने बैठक में कहा कि राष्ट्रीय प्रदर्शनी में सभी जिलों से चयनित बच्चों को बुलाया जाए। संस्कृति एवं पुरातत्व विभाग के अधिकारी को छत्तीसगढ़ी संस्कृति पर आधारित सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुति के लिए निर्देश दिए। कलेक्टर रायपुर डॉ. एस. भारतीदासन ने कहा कि जिला स्तर पर बैठक लेकर आयोजन के संबंध में सभी आवश्यक व्यवस्थाओं की जिम्मेदारी तय करके अवगत करायेंगे। बैठक में संचालक लोक शिक्षण एस. प्रकाश, संचालक राज्य शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद पी.दयानंद, संयुक्त सचिव स्कूल शिक्षा सौरव कुमार, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक रायपुर शेख आरिफ हुसैन, अतिरिक्त संचालक राज्य शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद डॉ. सुनीता जैन, राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद में विज्ञान एवं गणित शिक्षा विभाग के अध्यक्ष प्रोफेसर दिनेश कुमार, डॉ. आशीष कुमार श्रीवास्तव सहित स्कूल शिक्षा विभाग के अधिकारी उपस्थित थे।

 

31-07-2019
कांग्रेस ने कभी भी शिक्षा को लेकर राजनीति नहीं की : देवती कर्मा

दंतेवाड़ा। गीदम के जावंगा में संचालित 'आस्था' में चल रहे विवाद को लेकर आज देवती कर्मा ने पत्रकारों के सामने अपना पक्ष रखा। मंगलवार को आदिवासी नेता बोमड़ा राम कवासी ने देवती कर्मा पर कई गंभीर आरोप लगाए थे। पत्रकारों से चर्चा  करते हुए देवती कर्मा ने कहा कि कांग्रेस ने कभी भी शिक्षा को लेकर राजनीति नहीं की। 'आस्था' किसी की व्यक्तिगत संस्था नहीं है। बोमड़ा राम ने कहा है कि गलत काम करने पर जूते की माला पहनाकर विदा किया जाएगा। एक शिक्षक को जूते की माला पहनाने का अधिकार कवासी को किसने दिया यह समझ से परे है। उन्होंने आगे कहा कि एक जनप्रतिनिधि को पूरा अधिकार है कि वह किसी भी संस्था का निरीक्षण कर सकते हैं। विपक्ष में रहते हुए भी हमने हमेशा शिक्षा, स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान दिया है। बोमड़ा की अनर्गल बयानबाजी से लगता है कि आस्था के प्राचार्य के साथ उनकी गहरी सांठगांठ है। उनके इस बयान से ऐसा प्रतीत होता है कि उन पर दबाव डालकर इस तरह का बयान दिलवाया जा रहा है। देवती कर्मा ने आगे कहा कि  कवासी मुझे राजनीति करना न सिखाए। मैं जब तक जिंदा हूं  बेहतर शिक्षा व्यवस्था को लेकर लड़ती रहूंगी। एजुकेशन हब में बोमड़ा राम का योगदान सराहनीय है, लेकिन इतने संवेदनशील मुद्दे को लेकर इस तरह की बयानबाजी उनकी छोटी सोच को दर्शाता है। बोमड़ा राम को बयानबाजी की बजाए 'आस्था' की स्थिति सुधारने का प्रयास करना चाहिए।

 

27-07-2019
कलेक्टर ने किया शिक्षा, स्वास्थ्य, महिला एवं बाल विकास विभाग के कर्मचारियों का स्थानांतरण 

मुंगेली। कलेक्टर डाॅ. सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे ने प्रभारी मंत्री के अनुमोदन पश्चात शिक्षा, स्वास्थ्य, महिला एवं बाल विकास, आयुर्वेद एवं जल संसाधन विभाग में कार्यरत कर्मचारियों का जिला स्तर पर स्थानांतरण आदेश जारी किया है। स्थानांतरण नीति-2019 के प्रावधान अनुसार स्थानांतरण आदेश का क्रियान्वयन 30 जुलाई 2019 तक किया जाना है। कलेक्टर ने संबंधित कार्यालय प्रमुखों से कहा है कि स्थानांतरित कर्मचारी को तत्काल भारमुक्त करें तथा इसकी सूचना फैक्स/ईमेल द्वारा भेजना सुनिश्चित करें।

प्राप्त जानकारी के अनुसार विकास कुमार शर्मा औषधालय सेवक को शासकीय आयुर्वेद औषधालय पैजनिया से शासकीय आयुर्वेद औषधालय भटगांव स्थानांतरित किया गया है। दिनेश कुमार तिवारी सहायक ग्रेड-03 को मनियारी जल संसाधन संभाग मुंगेली से अनुविभागीय अधिकारी जल संसाधन उप संभाग लोरमी, घनश्याम सूर्यवंशी स्वच्छकार परिचारक सह चैकीदार को पशु औषधालय खपरीकला से पशु औषधालय कोयलारी, संदीप राजपूत स्वच्छकार परिचारक सह चैकीदार को पशु औषधालय लोरमी से पशु औषधालय मनोहरपुर स्थानांतरित किया गया है। इसी तरह श्रवण कुमार जायसवाल सहायक चिकित्सा अधिकारी को प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र साल्हेघोरी से प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र खैरवारखुर्द, अवध राम भास्कर ग्रामीण स्वास्थ्य संयोजक को उप स्वास्थ्य केंद्र लालपुरथाना से उप स्वास्थ्य केंद्र झलियापुर, निशा काठले सहायक ग्रेड-03 को प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र खपरीकला से प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पालचुवा, विजय कुमार चन्द्राकर ग्रामीण स्वास्थ्य संयोजक को उप स्वास्थ्य केंद्र दुल्लापुर से उप स्वास्थ्य केंद्र गजियानवागांव,  दिनेश कुमार दिवाकर वार्ड ब्वाय को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पथरिया से 50 बिस्तर मातृ एवं शिशु चिकित्सालय (एमसीएच) लोरमी, भगीन बाई स्वीपर को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पथरिया से जिला चिकित्सालय मुंगेली, ओमप्रकाश भास्कर फार्मासिस्ट ग्रेड-02 को प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र भटगांव से जिला चिकित्सालय मुंगेली, कुमुदनी मिश्रा ग्रामीण स्वास्थ्य संयोजक को उप स्वास्थ्य केंद्र बहरपुर से वैक्सीन भण्डार मुंगेली, टुकेश्वर साहू वार्ड ब्वाय को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लोरमी से प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र कंतेली स्थानांतरित किया गया है। संतोष कुमार धुवे सहायक ग्रेड-01 को बाल विकास परियोजना पथरिया से बाल विकास परियोजना मुंगेली 02 स्थानांतरित किया गया है।

इसी तरह श्रद्धा सोनी शिक्षक एलबी को शा.पू.मा.शा. डोंगरिया से शा.पू.मा.शा. जमकोर, गिरीश नंदनी डहरिया शिक्षक एलबी को क.गाॅ.आ.विद्या. सारधा से शा.पू.मा.शा. रोहराखुर्द,  सरस्वती लहरे शिक्षक एलबी को शा.पू.मा.शा. मनकी से शा.पू.मा.शा. सुरेठा, कु. निधि परमार शिक्षक एलबी को शा.पू.मा.शा. बिठलदह से शा.पू.मा.शा. मनकी, छोटेलाल वर्मा उ.वि.शि. को शा.पू.मा.शा. घाठापानी से शा.पू.मा.शा. कपुवा, टेकलाल साहू शिक्षक एलबी को शा.पू.मा.शा. कोदवामहंत से शा.पू.मा.शा. घाठापानी, दरवेश जायसवाल शिक्षक एलबी को शा.पू.मा.शा. बोड़तराकला से शा.पू.मा.शा. घाठापानी, प्रीति वैष्णव सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला. सुरजपुरा से शा.प्रा.शाला. ठरकपुर, तेजवंत कुमार बर्मन सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला. मुछेल से शा.प्रा.शाला. कंचनपुर, लोमस सिंह धुर्वे सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला. डुमरहा से शा.प्रा.शाला मलकछरी, नरेन्द्र कुमार राठोर सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला मनकी से शा.प्रा.शाला. झलरी, महेश कुमार मंडावी सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला भांठा से शा.प्रा.शाला देवरहट, विजय कुमार जयश्री सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला परसाकापा से शा.प्रा.शाला सुरजपुरा, मंजू ठाकुर सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला परदेशीकापा से शा.प्रा.शाला पेण्ड्री तालाब, ओमप्रकाश जायसवाल सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला महामाई से शा.प्रा.शाला तिलकपुर, गुरूदयाल साहू सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला गोड़खाम्ही से शा.प्रा.शाला महामाई, गणेश कश्यप सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला बोईरपारा से शा.प्रा.शाला रजपालपुर, पालेश्वर कामले सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला रजपालपुर से शा.प्रा.शाला बोईरपारा, महेश ध्रुव सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला पीपरखुंटा से शा.प्रा.शाला भालूखोंदरा, महेश कुमार यादव सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला परसाकापा से शा.प्रा.शाला मौहामड़वा, ईश्वर राम साहू सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला लालसायकापा से शा.प्रा.शाला तुलसाघाट, प्रतिमा कश्यप सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला अमलडीही से शा.प्रा.शाला कस्तुरबा गांधी आवासीय विद्यालय सारधा, अशोक कुमार घृतलहरे प्र.पा. को शा.प्रा.शाला नवागांव से शा.प्रा.शाला कारीडोंगरी, चमरूलाल जायसवाल सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला कारीडोंगरी से शा.प्रा.शाला नवागांव, कुंती कला कुर्रे प्रपा. को शा.प्रा.शाला कंचनपुर से शा.प्रा.शाला सुरीघाट, राजाराम ध्रुव सहायक ग्रेड-02 को कार्यालय विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी लोरमी से शा.उ.मा.शा. धरमपुरा,दीना साहू सहा.ग्रेड-03 को शा.उ.मा.शा. हरदी खेकतरा से शासकीय हाईस्कूल बोड़तरा, मंगल सिंह पोर्ते भृत्य को शा.उ.मा.शा. गोड़खाम्ही से शासकीय हाईस्कूल ढ़ोलगी,संतकुमार यादव भृत्य को शा.उ.मा.शा.बा. लोरमी से बीआरसाव शा.बहु.उ.मा.शा. मुंगेली, सुलभ त्रिपाठी सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला बांधी से शा.प्रा.शाला बटहा, लक्ष्मी ध्रुव सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला छपरवा से शा.प्रा.शाला जमुनाही,महेन्द्र नाथ बन्दे शिक्षक एलबी को शा.पू.मा.शाला सुकली से शा.पू.मा.शाला सोनपुरी, राजकुमार पात्रे शिक्षक एलबी को शा.पू.मा.शाला अमलडीही से शा.पू.मा.शाला गोड़खाम्ही, संतोषी पेण्ड्रो सहा.ग्रेड03 को शासकीय हाईस्कूल ढ़ोलगी से शा.उ.मा.वि. भालापुर,अन्नपूर्णादेवी कोसले शिक्षक एलबी को शा.पू.मा.शाला कंतेली से शा.पू.मा.शाला देवरी, लता बंजारे शिक्षक एलबी को शा.पू.मा.शाला झलियापुर से शा.पू.मा.शाला टेमरी,सुनीता तम्बोली शिक्षक एलबी को शा.पू.मा.शाला जमकोर से शा.पू.मा.शाला कंतेली, जितेन्द्र घृतलहरे शिक्षक एलबी को शा.पू.मा.शाला राजपुर से शा.पू.मा.शाला तरवरपुर, जितेन्द्र शर्मा शिक्षक एलबी को शा.पू.मा.शाला चकरभठा से शा.पू.मा.शाला लक्षनपुर, चंद्रधर दीक्षित शिक्षक एलबी को शा.पू.मा.शाला खैरा से शा.पू.मा.शाला झलियापुर,सरिता जोशी शिक्षक एलबी को शा.पू.मा.शाला कंतेली से शा.पू.मा.शाला दाउपारा, पिताम्बर मानिकपुरी शिक्षक एलबी को शा.पू.मा.शाला उस्लापुर से शा.पू.मा.शाला हथनीकला,बिमलेश्वरी जांगड़े शिक्षक एलबी को शा.पू.मा.शाला पुरान से शा.पू.मा.शाला ढ़बहा, तुलाराम राजपूत शिक्षक एलबी को शा.पू.मा.शाला ढ़बहा से शा.पू.मा.शाला पुरान, नारायण प्रसाद चंदन सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला. छटन से शा.प्रा.शा. सनकपाट, हेमा राय सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला. सेमरकोना से शा.प्रा.शा. डौकीदह, दुष्यंत कुमार नागवंशी सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला. खैरवार से शा.प्रा.शा. प्रतापपुर, राधिका देवांगन सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला. करूपान से शा.प्रा.शा. बरईदहरा, राजू पटेल सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला. ढ़बहा से शा.प्रा.शा. मदनपुर, शायरा बानो सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला. बरेला से शा.प्रा.शा. बिंझौरी, राहुल श्रीवास्तव सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला. देवरी से शा.प्रा.शा. पतालकुण्डी, राजेश कश्यप सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला. दाबो से शा.प्रा.शा. केसतरा, नंदिनी मानिकपुरी सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला. देवगांव से शा.प्रा.शा. रमईपुर,चन्द्रभान टंडन सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला. श्रृंगारपुर से शा.प्रा.शा. माराडबरी, उमेन्द्र लाल पटेल सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला. जमकोर से शा.प्रा.शा. सेमरकोना, दीपचंद जायसवाल सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला. जरहागांव से शा.प्रा.शा. फरहदा, मनोहर सिंह ध्रुव सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला. पण्डोतरा से शा.प्रा.शा. भठलीखुर्द,अनिल जायसवाल सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला. पचोटिया से शा.प्रा.शा. पण्डोतरा, नोरेन्ज कुमार दिवाकर सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला. बोधीपारा से शा.प्रा.शा. फरहदा,टिकाराम ध्रुव सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला. सिपाही से शा.प्रा.शा. बोधीपारा, सियाराम चन्द्राकर व्यायाम शिक्षक को शा.उ.मा.शा. दशरंगपुर से शा.उ.मा.शा. करही, अनिल कुमार शर्मा व्यायाम शिक्षक एलबी को शा.उ.मा.शा. फास्टरपुर से शा.उ.मा.शा. कन्या मुंगेली, संतोष मिश्रा सहा.ग्रेड 02 को शा.उ.मा.शा. दाउपारा से कार्यालय जिला शिक्षा अधिकारी मुंगेली, पिंकी घृतलहरे सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला. सिंघनपुरी से शा.प्रा.शा. पीथमपुर, रूद्रमणी उपाध्याय सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला. रमाबाई पाण्डेय से शा.प्रा.शा. सिंघनपुरी, रविकांत सिंह सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला. धरमपुरा से शा.प्रा.शा. सिंघनपुरी, आशीष सिंह ठाकुर शिक्षक एलबी को शा.पू.मा.शा. भालापुर से शा.पू.मा.शा. टेमरी, मनीष कुमार तिवारी शिक्षक एलबी को शा.पू.मा.शा. राजपुर से शा.पू.मा.शा. देवरी, चिन्तामणी तिवारी उ.व.शि. को शा.पू.मा.शा. धरमपुरा से शा.पू.मा.शा. राजपुर, ईश्वर देवांगन शिक्षक एलबी को शा.पू.मा.शा. दुल्लापुर से शा.पू.मा.शा. सुरेठा,लक्ष्मण देवांगन शिक्षक एलबी को शा.पू.मा.शा. नगर पालिका मुंगेली से शा.पू.मा.शा. दुल्लापुर, मेनुका ठाकुर शिक्षक एलबी को शा.पू.मा.शा. सिलदहा से शा.पू.मा.शा. बेडियाडीह,गौतरिहाराम साहू शिक्षक एलबी को शा.पू.मा.शा. गोइन्द्री से शा.पू.मा.शा. लक्षनपुर, श्री बद्रीप्रसाद साहू शिक्षक एलबी को शा.पू.मा.शा. गोइन्द्री से शा.पू.मा.शा. झलियापुर, पार्वती वर्मा शिक्षक एलबी को शा.पू.मा.शा. सकेत से शा.पू.मा.शा. मोहभट्ठा, मन्नूराम वर्मा सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला. मचहा से शा.प्रा.शा. ईमलीडीह, उर्मिला देवांगन सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला. ढ़ोठमा से शा.प्रा.शा. बीजातराई, सुमित्राबाई सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला. बदरा से शा.प्रा.शा. भरदा, लक्ष्मी साहू सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला. किरना से शा.प्रा.शा. झिरवन, नारायणी कश्यप सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला. लौदा से शा.प्रा.शा. खपरी, युगेश्वर प्रसाद चंद्राकर सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला. पुछेली से शा.प्रा.शा. गैजी, चैतुराम यादव सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला. अण्डा से शा.प्रा.शा. पीड़ा, विजय कुमार मारखण्डेय सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला. बगबुड़वा से शा.प्रा.शा. आबादीपारा, गोपीसिंह नेताम सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला. आबादीपारा से शा.प्रा.शा. बगबुड़वा, सलील जांगड़े सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला. पौंसरी से शा.प्रा.शा. कोदूकापा, मनीराम ध्रुव सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला. गोइन्द्री से शा.प्रा.शा. जल्लीकला, रूपनारायण बंजारा सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शाला. छिन्दभोग से शा.प्रा.शा. मदनपुर, पूरनसाय ध्रुव शिक्षक एलबी को शा.पू.मा.शाला. हथकेरा से शा.पू.मा.शाला बासीन, रामेश्वर वर्मा शिक्षक एलबी को शा.पू.मा.शाला. जोता से शा.पू.मा.शाला हथकेरा एवं भूपेन्द्र सिंह ठाकुर सहा.शि.एलबी को शा.प्रा.शा. बगबुड़वा से शा.प्रा.शा. ठकरपुर स्थानांतरित किया गया है।

 

16-07-2019
स्कूल शिक्षा मंत्री से स्थानांतरण के लिए सीधे पत्राचार नहीं कर सकेंगे कर्मचारी

रायपुर। स्कूल शिक्षा विभाग के अधीनस्थ कर्मचारी अपने स्वयं के स्थानांतरण एवं अन्य कारणों से सीधे मंत्री से पत्राचार नहीं कर सकेंगे। सीधे पत्राचार करना छत्तीसगढ़ सिविल सेवा आचरण नियम के विपरीत है। स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा इस संबंध में संचालक लोक शिक्षण, संयुक्त संचालक संभागीय कार्यालय, स्कूल शिक्षा, सभी जिला शिक्षा अधिकारी और विकासखण्ड शिक्षा अधिकारियों को पत्र जारी किया है। पत्र में कहा गया है कि विभाग के अंतर्गत अधीनस्थ कार्यालय एवं संस्थाओं में कार्यरत सभी अधिकारियों-कर्मचारियों को निर्देशित किया जाए। छत्तीसगढ़ सिविल सेवा आचरण नियम का पालन न करने वाले कर्मचारियों के विरूद्ध नियमानुसार अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी।

08-07-2019
जिले का ह्दय स्थल ग्राम पंचायत भैसबोड, सांसद के आगमन से हुआ अभिभूत

बालोद। जिले के डौडीं विकासखंड के ग्राम पंचायज भैसबोड़ में आदिवासी बच्चों की शिक्षा के लिए एक करोड़ की लागत से बने स्कूल का सांसद मंडावी ने उदघाटन किया। भारतीय जनता पार्टी के शासन काल में बच्चों के भविष्य को ध्यान में रखते हुए स्कूल भवन की स्वीकृति प्रदान की गई थी, जिसका उद्घाटन सरल स्वाभाव व रामायण के मानस मंडली के अच्छे व्याख्याता व लोकप्रिय सांसद मोहन मंडावी के हाथों संपन्न हुआ। सांसद मंडावी इस दौरान चार घंटे बच्चों व ग्रामीणों के बीच बिताया व भावुक होकर बच्चों को एक मिसाल पेश करने की बात कही।

उन्होने कहा कि मेरे लिए जीवन के वो पल सबसे खुबसुरत होगें। जब मैं इस स्कूल से पढ़ने वाले किसी बच्चे को कलेक्टर एसपी तहसीलदार व संसद भवन के साथ-साथ अन्य जिम्मेदार पदों पर बैठे देख लूंगा। पहली बार आदिवासी ग्राम भैसबोड़ में जैसे ही सांसद मोहन मंडावी का काफिला रूका तो समूचा ग्रामवासी खुशी से झूम उठे व भैसबोड़ सांसद की उपस्थिति किसी बड़े त्यौहार से कम नहीं था। इस दौरान सांसद मंडावी ने कहा कि हमारे देश के प्रधानमंत्री हमसे रामायण पाठ सुनना चाहते हैं यह बहुत बड़ी बात है छत्तीसगढ़ के लिए गौरव का विषय है गांव में बस्तर आर्ट के नाम से एक समूह ने झांकी बनाई थी जिस की प्रशंसा ग्रामवासियों के साथ-साथ सभी अन्य लोग भी कर रहे।

03-06-2019
सुकमा जिले के 100 प्राथमिक स्कूलों में पुस्तकालय योजना होगी शुरू

 

रायपुर। छत्तीसगढ़ के सुदूरवर्ती सुकमा जिले में जिला प्रशासन के साथ-साथ यूनीसेफ और रूम टू रीड के सहयोग से 100 प्राथमिक स्कूलों का चयन पुस्तकालय योजना के लिए किया गया है। नक्सल प्रभावित इस जिले के नन्हें बच्चों को शिक्षा के लिए प्रोत्साहित करने और ज्ञान की अथाह दुनिया को छोटी-छोटी पुस्तकों के माध्यम से पढऩा एवं लिखना सीखने के लिए यह प्रयास उपयोगी साबित होगा। कलेक्टर चन्दन कुमार एवं जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी ऋचा प्रकाश चौधरी के विशेष प्रयासों से इसकी शुरुआत 100 चयनित प्राथमिक शालाओं की जा रही है। इसी के तहत कलेक्ट्रेट के विवेकानन्द सभागार भवन में आज एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया। इसमें कलेक्टर, जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी सहित यूनीसेट के राज्य कार्यालय से आए शेषगीरी एवं शिखा राणा, रूम टू रीड की रंजो, तीनों विकासखण्ड के शिक्षा अधिकारी तथा चयनित 100 स्कूलों के प्रधान पाठक उपस्थित थे। उल्लेखनीय है कि योजना को शुरूआत करने से पहले 8 सदस्यीय जिला स्तरीय अध्ययन दल राजनांदगांव जिले में चल रहे पुस्तकालय योजना के अवलोकन के लिए भेजा गया था। दल ने रिपोर्ट जिला प्रशासन को सौंपी थी। सुकमा जिले के वर्तमान कलेक्टर चन्दन कुमार पहले राजनांदगांव में सीईओ जिला पंचायत रहते हुए भी इस योजना को बहुत करीब से देखा और समझा था और इसके परिणाम से प्रभावित होकर विशेष रूचि ली हैं। कार्यशाला में कलेक्टर ने कहा कि इस अभिनव योजना के क्रियान्वयन से जुड़े सभी लोगों को पूर्ण मनोयोग और लगन, मेहनत से कार्य करना हैं, जिससे इससे आशातीत सफलता मिल सके। 

15-04-2019
लोगों में डर पैदा करने निर्दोषों की हत्या करते हैं नक्सली : मनीष पारेख

रायपुर। नक्सलियों के दंडकारण्य स्पेशल जोन और दरभा डिवीजन कमेटी के सचिव साईंनाथ द्वारा पत्र जारी कर दन्तेवाड़ा विधायक भीमा मंडावी को हिंदूवादी नेता बताकर उनकी हत्या करने के स्पष्टीकरण पर भारतीय जनता युवा मोर्चा के प्रदेश कार्यसमिति सदस्य और नक्सल विरोधी नेता मनीष पारेख ने कहा है कि नक्सली बहाना बना रहे हैं। दन्तेवाड़ा विधानसभा और पूरे बस्तर संभाग के अधिकांश बीजेपी और कांग्रेसी नेता धार्मिक हैं, समूचे बस्तर संभाग सहित छत्तीसगढ़ में सभी धर्मों के लोग आपसी भाईचारे से रहते हैं। ऐसे में  एक आस्थावान विधायक भीमा मंडावी की नक्सलियों ने हत्या कर दी। मनीष पारेख ने कहा कि विधायक भीमा मंडावी शिक्षा के प्रति बेहद संवेदनशील और जागरूक थे। वे विधायक के तौर पर दन्तेवाड़ा विधानसभा में शिक्षा को बढ़ावा देकर ग्रामीणों को जागरूक करने का प्रयास कर रहे थे। चूंकि लोगों की जागरुकता और विकास नक्सलियों के सबसे बड़े शत्रु हैं इसलिए वे बस्तर में शिक्षा, स्वास्थ्य और विकास को बाधित करने के लिए तथा लोगों में डर पैदा करने के लिए निर्दोषों की हत्या करते हैं। मनीष पारेख ने नक्सलियों से पूछा है कि सड़क निर्माण में लगे गरीब व्यक्तियों की हत्या का क्या जवाब है नक्सलियों के पास? मुखबिरी के नाम पर निर्दोष ग्रामीणों की हत्या का क्या जवाब है? गांवों में सड़क, पानी, स्कूल, आंगनबाड़ी का विरोध क्यों करते हैं जबकि ये आवश्यकता ही नहीं अधिकार है जनता का। फागुन मेला देखने जा रहे परिवार को बम से उड़ा दिया, जिसमें दो गर्भवती महिलाओं सहित छोटी बच्ची भी थी, वे कौन से हिंदूवादी थे? मनीष पारेख ने कहा कि नक्सली बस्तर में अपना डर कायम रखने के लिए किसी की भी हत्या कर सकते हैं। नक्सली किसी विचारधारा की लड़ाई नहीं लड़ रहे हैं। मनीष पारेख का कहना है कि वे आगामी दिनों में परमार्थ संस्था के जरिए नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में जनजागरण का कार्य करेंगे और नक्सलियों को बेनकाब करेंगे।

09-02-2019
CM Bhupesh Baghel: सीएम भूपेश बघेल पहुंचे अपने स्कूल, कहा, शाला से मिला इतना कुछ कि ऋण से मुक्त होना असंभव  

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल शनिवार को दुर्ग जिले के ग्राम मर्रा स्थित हाईस्कूल पहुंचे। मुख्यमंत्री ने इसी स्कूल से शिक्षा ग्रहण की है। उन्होंने गुरूजनों से आशीर्वाद लिया और सहपाठियों के साथ बिताए आत्मीय क्षणों और स्कूल के दौर को साझा किया। श्री बघेल ने यहां आयोजित सम्मान समारोह को सम्बोधित करते हुए कहा कि अपने स्कूल को देखता हूं तो अपने गुरुजनों की, सहपाठियों की बहुत सी स्मृतियां ताजी हो जाती हैं। इनका इतना आशीर्वाद मिला कि आज मैं प्रदेश का मुख्यमंत्री हूँ। उन्होंने कहा यह इतना बड़ा ऋण है कि इस ऋण से मुक्त होना असंभव है। अपने सबसे मधुर दिन मैंने यहां बिताये। आज जब सभी दोस्तों से मुलाकात हुई तो लगा कि पुराने दिन वापस आ गए। यहां अब नया स्कूल भवन बन गया है, लेकिन मुझे वो पुरानी स्कूल भवन ही अच्छा लगता था। थी। तब साईकल से स्कूल आते थे।
मुख्यमंत्री ने कहा कि व्यवस्था में बेहतर बदलाव के लिए संघर्ष करना मैंने मर्रा से ही सीखा। यहां शिक्षकों की कमी थी। जब हमने संघर्ष किया तो यह कमी पूरी हुई। यह सीख हमेशा याद रही और मैं संघर्ष से कभी पीछे नहीं रहा। मुख्यमंत्री ने कहा कि खेती किसानी विकसित हो इसके लिए मर्रा में कृषि महाविद्यालय खोलने का निर्णय लिया गया। इसके आरम्भ हो जाने से बेहतर कृषि विशेषज्ञ तैयार हो पाएंगे और वे क्षेत्र में खेती किसानी को नई ऊंचाई पर ले जाएंगे। 
 मुख्यमंत्री ने कहा कि इस बार बजट में सर्वाधिक 22 फीसदी का प्रावधान कृषि के लिए रखा गया है। हम नरूवा, गरुवा, घुरूवा और बारी का विचार लेकर गांव के विकास के लिए काम कर रहे हैं। इसकी ग्रामीण अर्थव्यवस्था को विस्तार देने में बड़ी महत्वपूर्ण भूमिका होगी। हमारा पशुधन हमारी शक्ति बनेगा। जैविक खाद से लेकर बायो गैस तक गौठान से हमे प्राप्त होंगे। यह ऐसा संसाधन है जो मुफ्त है और हमेशा के लिए है। मुख्यमंत्री ने कहा कि कर्ज माफी तथा 2500 रुपये प्रति क्विंटल की दर पर धान खरीदी से किसानों की आर्थिक स्थिति मजबूत हुई है, जिसका असर बाजार में दिखने लगेगा। उन्होंने कहा कि किसानों के पास जो धन आया है, उससे वे छोटी-छोटी खुशियां पूरी कर सकेंगे। कुछ लोगों ने तो बाइक ली और लिखा लिया, 2500 रुपये धान मूल्य से प्राप्त। यह सब सुनकर बहुत अच्छा लगता है।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804