GLIBS
01-09-2020
एसपी पहुंचे नगरी थाना, डीआरजी और उपस्थित जवानों के साथ की चर्चा, बढ़ाया मनोबल

धमतरी। पुलिस अधीक्षक धमतरी बीपी राजभानू ने मंगलवार को थाना नगरी जाकर डीआरजी जवानों व अन्य पुलिस अधिकारी व कर्मचारियों से मिलकर डीआरजी जवानों का उत्साहवर्धन किया। एसपी ने उनके साथ भोजन व चर्चा कर उन्हें मानसिक तनाव से मुक्त रहकर उत्कृष्ठ कार्य करने के लिए प्रोत्साहित किया। साथ ही किसी प्रकार की समस्या होने पर अवगत कराने निर्देशित किया। बता दें कि थाना नगरी क्षेत्र अंतर्गत ग्राम घोरागांव जंगल में 30 अगस्त की रात
डीआरजी जवानों ने सर्चिंग गश्त के दौरान पुलिस नक्सली मुठभेड़ में गोबरा एलओएस के एरिया कमांडर रवि कुमार उर्फ सन्नू को मार गिराने तथा उसके शव सहित घटनास्थल से बंदूक, विस्फोटक सामग्रियां, डेटोनेटर, इलेक्ट्रिक वायर, बैटरी वायर, अन्य दैनिक उपयोग की सामग्रियां बरामद करने में सफलता प्राप्त करने पर एसपी ने डीआरजी जवानों का उत्साहवर्धन किया। इस दौरान पुलिस अनुविभागीय अधिकारी नगरी नितिश ठाकुर, थाना प्रभारी नगरी एनएस ठाकुर एवं थाना मे पदस्थ डीआरजी स्टाफ व सभी अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित थे।

07-08-2020
अवैध रेत खनन, डीजल-पेट्रोल और कबाड़ चोरी के कारोबार पर होगी सख्त कार्रवाई : कलेक्टर

कोरबा। रेत, डीजल-पेट्रोल चोरी और कबाड़ के अवैध काम पर कलेक्टर किरण कौशल ने सख्त रूख अपनाया है। उन्होने जिले के राजस्व और पुलिस अधिकारियों की बैठक में अवैध रेत खनन, डीजल-पेट्रोल चोरी और कबाड़ के गैर कानूनी कारोबार करने वालो के विरूद्ध कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। कलेक्टर किरण कौशल के निर्देश पर ही पिछले तीन दिनों में प्रशासन ने अवैध रेत खोदने वाले माफियाओं के विरूद्ध कठोर कार्रवाई की है। इनमें से एक जगह भिलाई खुर्द में तो खुद कलेक्टर व एसपी अभिषेक मीणा ने पहुंच कर भारी मात्रा में अवैध रूप से खोदकर रखी गई रेत पकड़ी थी। पिछले तीन दिनों में जिला प्रशासन की टीमों ने अलग-अलग जगहों पर दबिश देकर 103 हाईवा से अधिक अवैध रेत जप्त की है। अवैध रेत के उत्खनन में लगी पॉकलेन मशीन सहित टेज्लर, दो कांक्रीट मिलर, एक हाइड्रा, दो हाइड्रोलिक रिंग और अवैध परिवहन करते हुए एक हाइवा और दो ट्रैक्टरों को भी जप्त किया गया है। कलेक्टर-एसपी की इस संयुक्त कार्रवाई से जिले में रेत का अवैध कारोबार करने वाले लोगो में हड़कंप मच गया है। कलेक्टर कौशल ने कहा है कि ऐसी कार्रवाईयां आगे भी जारी रहेंगी। अवैध रेत खनन, डीजल-पेट्रोल चोरी के साथ-साथ कबाड़ का अवैध धंधा करने वालो पर प्रशासन की पैनी नजर है, और ऐसे अवैध धंधे करते पकड़े जाने पर सख्त से सख्त कार्रवाई होगी।

बैठक में एडीएम संजय अग्रवाल, नगर निगम आयुक्त एस जयवर्धन, अपर कलेक्टर प्रियंका महोबिया सहित डीएसपी मुख्यालय रामगोपाल करियारे, शहर सीएसपी राहुल देव, अनुविभागीय राजस्व अधिकारी सुनील नायक और अन्य राजस्व एवं पुलिस अधिकारी भी मौजूद रहे। बैठक में कलेक्टर ने सभी अधिकारियों को अवैध रेत खनन सहित डीजल-पेट्रोल और कबाड़ चोरी की    किसी भी प्रकार की सूचना मिलने पर तत्काल रिस्पांस करने के निर्देश दिए हैं। कलेक्टर कौशल ने कहा कि अवैध कारोबार से शासन-प्रशासन की जनमानस में छवि खराब होती है साथ ही इसके कारण आगे बड़ी घटनाओं-दुर्घटनाओं से भी इनकार नहीं किया जा सकता। ऐसे अवैध कारोबारियों पर सख्त कार्रवाई से शासन-प्रशासन के प्रति जनमानस का विश्वास बढ़ता है। उन्होने अधिकारियो को सख्त हिदायत भी दी कि सूचना मिलने पर भी अवैध कारोबार के खिलाफ कार्रवाई नहीं करने वाले अधिकारियों के विरूद्ध प्रशासनिक कार्रवाई की अनुशंसा की जाएगी।

10-07-2020
Video: 'स्पंदन' अभियान के तहत कराया गया पीटी और योगाभ्यास

धमतरी। अपने कर्तव्यों के साथ-साथ समाज और परिवार के बीच समन्वय बनाने, उनका ख़्याल रखने और न जाने कितनी जिम्मेदारियां निभाती है पुलिस। लेकिन कभी कभी यही जिम्मेदारियां किसी के मन में चिंता का रूप लेने से वे अवसाद से घिर जाते है। इन्हीं समस्याओं से पुलिस अधिकारी/कर्मचारी को बचाने पुलिस महानिदेशक के द्वारा स्पंदन अभियान शुरू किया गया है। इसका मुख्य उद्देश्य जवानों के मानसिक तनाव को दूर करते हुए उन्हें उत्कृष्ट कार्य के लिए प्रोत्साहित किया जाना है। शासकीय कार्य के दौरान जवानों को मानसिक तनाव से मुक्त रहकर अपने कर्तव्यों के साथ साथ पारिवारिक दायित्वों का निर्वहन करने के लिए स्वस्थ जीवन शैली एवं शारीरिक स्वास्थ्य अत्यंत महत्वपूर्ण है। पुलिस अधीक्षक बीपी राजभानू  शुक्रवार को जनरल परेड में जवानों को पी.टी., योगाभ्यास एवं खेलकूद कराने के लिए निर्देशित करते हुए रक्षित केंद्र धमतरी में पुलिस जवानों के साथ स्वयं उपस्थित रहकर उनका मनोबल बढ़ाते हुए पीटी में हिस्सा लिया। पुलिस अधीक्षक ने कहा कि स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मस्तिष्क एवं मन निवास करता है।

इसलिए ड्यूटी के दौरान सुरक्षा संबंधी नियमों का पालन करने, किसी भी परिस्थिति में अवसाद ग्रस्त न होने तथा अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखते हुए व्यायाम एवं योगाभ्यास को दैनिक जीवन में अपनाने के लिए निर्देशित किये। पीटी के उपरांत अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मनीषा ठाकुर रावटे ने जवानों को कहा कि तनाव में रहकर कोई कार्य न करें, तनाव में अक्सर बनते कार्य भी सही ढंग से नही हो पाते है, मानसिक व शारीरिक तनाव को कम करने के लिए ड्यूटी के बाद ज्यादा से ज्यादा समय अपने परिवार को दे।इस अवसर पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मनीषा ठाकुर रावटे, उप पुलिस अधीक्षक मुख्यालय अरुण जोशी, उप पुलिस अधीक्षक अजाक सारिका वैद्य, रक्षित निरीक्षक के देव राजू, निरीक्षक प्रणाली वैद्य, रीना कुजूर, थाना प्रभारी सिटी कोतवाली भावेश गौतम, अर्जुनी उमेंद टंडन, रुद्री युगल किशोर नाग, यातायात प्रभारी सत्यकला रामटेके, सूबेदार रेवती वर्मा एवं अन्य पुलिस अधिकारी-कर्मचारी गण उपस्थित रहे।

06-07-2020
प्रज्ञागिरी पहाड़ी पर मिले कंकाल का राज खुला, प्रेमी ही निकला हत्यारा

कवर्धा। डोंगरगढ़ की प्रज्ञागिरी पहाड़ी पर एक कंकाल मिलने का मामला सामने आया था। कंकाल 6 से 7 महीने पुराना था। इसकी सूचना मिलते ही डोंगरगढ़ थाना व सीएसपी मणिशंकर चन्द्रा सहित अन्य पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे थे। मामले की जांच पड़ताल के बाद पता चला कि कवर्धा निवासी युवती राजनांदगांव में नर्सिंग की ट्रेनिंग करने के लिए आई थी। इसके बाद अचानक अक्टूबर 2019 में लापता हो गई। इसके बाद से युवती का कुछ पता नहीं था। इसी बीच पुलिस ने गुमशुदा लोगों की तलाश के लिए अभियान शुरू किया, तो डोंगरगढ़ की प्रज्ञापुरी पहाड़ियों में एक कंकाल मिला। इसकी शिनाख्त पुलिस ने उस युवती के रूप में की।
 
पुलिस जांच में पता चला कि युवती का कवर्धा में रहने वाला मनोज वार्ष्णेय से प्रेम प्रसंग था। मनोज 6 अक्टूबर को युवती को घुमाने के लिए डोंगरगढ़ ले गया था। वहां अगले दिन 7 अक्टूबर को किसी बात पर दोनों के बीच विवाद हो गया। झगड़ा इतना बढ़ा कि युवक ने युवती की हत्या कर दी और शव को वहीं पहाड़ियों के बीच छिपा दिया। कॉल डिटेल के जरिए पुलिस आरोपी तक पहुंची और उसे गिरफ्तार कर लिया।

04-07-2020
रायपुर जिले में 60 और शहर में 41 एक्टिव कंटेनमेंट जोन, 97 इलाकों को किया जा चुका है कंटेनमेंट जोन से मुक्त

रायपुर। राजधानी में लगातार नए कोरोना मरीज की पहचान हो रही है। शनिवार को ही 35 मरीजों की पहचान हुई है। जिला प्रशासन की ओर से कोरोना पॉजिटिव की पहचान के बाद इलाकों को सील करने के साथ ही कंटेनमेंट जोन की घोषणा की जा रही है। रोजाना नए कंटेनमेंट जोन की घोषणा हो रही है। साथ ही राहत की बात भी है कि कई इलाकों को नए मरीज की पहचान नहीं होने के कारण कंटेनमेंट जोन से मुक्त किया जा रहा है। जिला प्रशासन से मिली जानकारी के मुताबिक वर्तमान में रायपुर जिले में 60 एक्टिव कंटेनमेंट जोन है, इनमें रायपुर शहर में ही 41 कंटेनमेंट जोन है। इसी तरह विकासखंड धरसींवा में 2 एक्टिव, तिल्दा में 1, खरोरा में 1, बिरगांव निगम क्षेत्र में 5, अभनपुर में 10 कंटेनमेंट जोन है। वहीं रायपुर जिले में 97 इलाकों को कंटेनमेंट जोन से मुक्त किया गया है। इनमें रायपुर शहर के 57, धरसींवा के 6, तिल्दा के 8, बिरगांव के 14, अभनपुर के 9 और आरंग के 3 इलाके शामिल है। इन 97 इलाकों में कंटेनमेंट जोन की घोषणा के बाद से नए केस की पहचान नहीं हुई है। एक्टिव कंटेनमेंट जोन की सूची देखने क्लिक करें, डी-एक्टिव कंटेनमेंट की सूची देखने क्लिक करें  

जिला प्रशासन की ओर से कंटेनमेंट जोन में निर्धारित कड़े नियम
कंटेनमेंट जोन में प्रवेश या निकास के लिए केवल 1 द्वार होगा। इसमें तैनात पुलिस अधिकारी की ओर से फिजिकल डिस्टेंसिग तय करते हुए मेडिकल इमरजेंसी और आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति के लिए आवागमन करने वाले सभी व्यक्तियों का विवरण एक रजिस्टर में दर्ज किया जाता है। कंटेनमेंट जोन अंतर्गत सभी दुकानें, आफिस और अन्य वाणिज्यिक प्रतिष्ठान आगामी  आदेश पर्यन्त पूर्णत: बंद रहेंगें। प्रभारी अधिकारी की ओर से कंटेनमेंट जोन में होम डिलीवरी के माध्यम से आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति उचित दरों पर तय की जाएगी। आवश्यक वस्तुओं की होम डिलीवरी के लिए विधिवत परिवहन अनुमति इंसीडेंट कमांडर करेंगे। कंटेनमेंट जोन अंतर्गत सभी प्रकार के वाहनों के आवागमन पर पूर्ण प्रतिबंध रहेगा। मेडिकल इमरजेंसी को छोड़कर अन्य किन्हीं भी कारण से कन्टेनमेंट जोन या मकान के बाहर निकलना प्रतिबंधित रहेगा। केवल मेडिकल इमरजेंसी की दशा में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी रायपुर के द्वारा पास जारी कर इंसीडेंट कमांडर को सूचित किया जाएगा। आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति में संलग्न व्यक्ति फिजिकल डिस्टेंसिग और सैनिटाइजेशन तय करते हुए कंटेनमेंट जोन में प्रवेश कर सकेंगें। अन्य किसी भी व्यक्ति को कंटेनमेंट जोन से बाहर निकलना या अंदर आना पूर्णत: प्रतिबंधित रहेगा। कंटेनमेंट जोन में उपरोक्तानुसार लॉक डाउन का कड़ाई से पालन कराने के लिए संबंधित थाना प्रभारी उत्तरदायी होंगे। कंटेनमेंट जोन में शासन की गाइडलाइन अनुसार व्यवस्था बनाए रखने के लिए वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, रायपुर की ओर से आवश्यक कार्यवाही तय की जाएगी। जिला चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी की ओर से संबंधित क्षेत्र में शासन के निर्देशानुसार कांटेक्ट ट्रेसिंग, स्वास्थ्य निगरानी और सैम्पल की जांच इत्यादि आवश्यक व्यवस्था तय की जाएगी।

25-06-2020
स्पंदन कार्यक्रम के तहत एक दिवसीय कार्यशाला का हुआ आयोजन

राजनांदगांव। बुधवार को पुलिस अधिकारियों कर्मचारियों में बढ़ते अवसाद एवं मानसिक तनाव के संबंध में पुलिस महानिदेशक छत्तीसगढ़ के स्पंदन अभियान के तहत पुलिस महानिरीक्षक, दुर्ग रेंज दुर्ग, विवेकानंद सिन्हा एवं पुलिस अधीक्षक जिला बल राजनादगांव, जितेंद्र शुक्ला एवं इरफान-उलं रहीम खान, पुलिस अधीक्षक, पुलिस प्रशिक्षण विद्यालय राजनांदगाँव द्वारा पुलिस प्रशिक्षण विद्यालय में समस्त कर्मचारी एवं अधिकारियों के तनाव प्रबंधन एवं कार्यशैली में सुधार विषय पर कार्यशाला पुलिस प्रशिक्षण विद्यालय राजनांदगाँव में आयोजित की गई।

इसमें पुलिस महानिरीक्षक विवेकानंद सिन्हा द्वारा समस्त अधिकारी एवं कर्मचारी व पीपी कोर्स तथा महिला नवा रक्षकों से व्यक्तिगत तौर पर बातचीत की गई एवं उनकी समस्याएं सुनी व पारिवारिक पृष्ठभूमि के संबंध में जानकारी ली गई। उनके जीवन की कठिनाइयों को करीब से जानने का प्रयास किया गया तथा तनाव प्रबंधन, कार्यशैली में विकास के लिए दिशा निर्देश दिया गया। इस अवसर पर अधिकारियों कर्मचारियों को अपने स्वास्थ्य का पूरा ध्यान रखते हुए पूरी क्षमता और संवेदनशीलता के साथ अपने कर्तव्य निर्वहन करने की समझाइश दी गई। आज की विषम परिस्थिति में जन सामान्य से एवं अपने परिजनों से भी स्वयं तनाव मुक्त दिनचर्या बनाये रखने कहा गया साथ ही किसी भी जटिल परिस्थिति में अनुशासन के साथ अपने वरिष्ठ अधिकारियों से समाधान के संबंध में मित्रवत आवश्यक मार्गदर्शन लेने की बात कही गई। इस अवसर पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक राजनांदगाँव सुरेशा चौबे, उप पुलिस अधीक्षक पुलिस प्रशिक्षण विद्यालय सहित संस्था के सभी अधिकारीगण उपस्थित रहे।

23-06-2020
34 पुलिस अधिकारी व कर्मचारियों का एसपी ने किया तबादला...

धमतरी। पुलिस अधीक्षक बीपी राजभानू ने पुलिस अधिकारी-कर्मचारियों का स्थानांतरण किया गया है। इनमें 5 थाना प्रभारी सहित 4 सहायक उपनिरीक्षक और 25 प्रधान आरक्षकों को इधर से उधर किया गया है। देखें लिस्ट...

09-06-2020
पुलिसकर्मियों ने जनता से किया दुर्व्यवहार तो निलंबन के साथ होगी एफआईआर,डीजीपी ने दिया आदेश

रायपुर। प्रदेश में पुलिस विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों द्वारा आमजनता के साथ दुर्व्यवहार के गंभीर मामले सामने आने के बाद डीजीपी ने नाराजगी जताई है। डीजीपी डीएम अवस्थी ने सभी रेंज के आईजी और पुलिस अधीक्षकों को कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। डीजीपी ने कहा कि प्रदेश में यदि किसी पुलिस अधिकारी ने किसी भी आमजन से दुर्व्यवहार किया तो उसे तत्काल प्रभाव से निलंबित कर आपराधिक प्रकरण दर्ज किया जाएगा। डीजीपी ने अधिकारियों को अपने अधीनस्थों पर कठोर नियंत्रण रखने के निर्देश दिए। डीजीपी ने कहा कि इसके पूर्व भी कई बार निर्देशित किया गया है कि आम नागरिकों के साथ पुलिस का व्यवहार सम्मानपूर्ण और सहानुभूतिपूर्ण होना चाहिए। हाल ही में कुछ घटनाएं प्रकाश में आई हैं,जिसमें पुलिस अधिकारियों और कर्मचारियों के द्वारा आम जनता के साथ दुर्व्यवहार और जबरन मारपीट की गई है। ऐसे मामलों के कारण विभाग में लम्बे समय से मेहनत कर रहे ईमानदार और अनुशासित पुलिसकर्मियों की सारी मेहनत पर पानी फिर जाता है। और पुलिस की नकारात्मक छवि जनमानस के सामने आती है। उन्होंने निर्देश दिया कि हाल में घटित इस प्रकार के प्रकरणों पर विभागीय जांच कर कार्यवाही की जाए।

 

05-05-2020
दो दिन में ही हटाए गए कोतवाली प्रभारी शिवमंगल सिंह, नए टीआई होंगे मुकेश सोम

कवर्धा। कोतवाली थाना अंतर्गत बड़ा जुआ चल रहा था। इस बड़े मामले में दो दिन पहले टीआई सुशील मलिक को निलंबित कर दिया गया था और नए टीआई के रूप में शिवमंगल सिंह को कोतवाली प्रभारी बनाया गया था, लेकिन दो दिन में ही शिवमंगल सिंह को भी हटा दिया गया।

बता दें कि बीते दिनों कोतवाली के मगरदा स्थित राइस मिल में एक लाख 28 हजार का बड़ा जुआ चल रहा था जिसमें 10 आरोपी भी पकड़े गए। यह कार्रवाई आईजी के विशेष टीम में भिलाई से आकर की थी। कोतवाली पुलिस को इसकी भनक तक नहीं लगी। इससे नाराज कोतवाली टीआई सुशील मलिक को निलंबित करते हुए हटा दिया गया था। उनके स्थान पर शिवमंगल सिंह को टीआई बना दिया गया था, लेकिन दो दिन बाद नए आदेश में शिवमंगल सिंह को लाइन अटैच कर दिया गया है और पिपरिया थाना प्रभारी मुकेश सोम को कोतवाली की जिम्मेदारी दी गई है। वहीं पिपरिया थाना की जिम्मेदारी लवकुमार कवर को दी गई है। इस प्रकार जिले में लगातार पुलिस अधिकारियों का प्रभार बदले जा रहे है। पिछले एक सप्ताह में तीन आदेश पुलिस अधीक्षक द्वारा जारी किया गया है।

28-03-2020
लॉक डाउन ड्यूटी में लगे पुलिस अधिकारी-कर्मचारियों को मिले बेहतर सुविधाएं : डीजीपी

रायपुर। डीजीपी डीएम अवस्थी ने निर्देश दिए हैं कि सभी रक्षित निरीक्षक फिक्स पिकेट एवं पेट्रोलिंग में लगे पुलिस अधिकारी/कर्मचारियों के लिए अच्छा खाना व शुद्ध पानी आदि की व्यवस्था करें। इसके  साथ ही पुलिस लाईन में पानी, दूध आदि की व्यवस्था भी करने के निर्देश दिए गए हैं। अवस्थी ने कहा कि पुलिस अधिकारी, कर्मचारी विषम परिस्थिति में निरंतर ड्यूटी पर तैनात हैं। पुलिसकर्मियों के परिवार को किसी प्रकार की समस्या न आये, इसका विशेष ध्यान रखें। उनके परिवार को आवश्यक सेवा/वस्तुएं आदि की उपलब्धता/आपूर्ति करना पुलिस लाईन के उप पुलिस अधीक्षक व रक्षित निरीक्षक की अहम जिम्मेदारी है।  जिन पुलिसकर्मियों की ड्यूटी कोरोना वायरस पॉजिटिव मरीजों को अस्पताल ले जाने तथा क्वारेंटाईन सेंटर्स पर लगायी गयी है, वे समस्त सुरक्षा मापदण्ड का कड़ाई से पालन करें। संबंधित पुलिस अधीक्षक स्वयं यह सुनिश्चित करें कि किसी भी प्रकार से कोई पुलिसकर्मी कोरोना पॉजिटिव मरीज के संपर्क में न आये, वे आवश्यक सुरक्षित दूरी बनाये, मास्क, सेनिटाईजर आदि के उपयोग के साथ-साथ कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव संबंधी दिशा-निर्देशों का कड़ाई से पालन करें। ऐसे पुलिसकर्मी जो ड्यूटी के बाद विश्राम के लिए एक ही जगह रुक रहे हैं वे एक दूसरे से पर्याप्त दूरी बनाकर रखें साथ खाना खाते समय भी दूरी का ध्यान रखें।

28-03-2020
ड्यूटी के दौरान पुलिसकर्मी स्वयं को भी रखें सुरक्षित : डीएम अवस्थी

रायपुर। पुलिस महानिदेशक डीएम अवस्थी ने आज समस्त रेंज पुलिस महानिरीक्षक और पुलिस अधीक्षकों को विडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से आवश्यक निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि सभी पुलिस अधिकारी ड्यूटी के दौरान अपने आप को सुरक्षित रखें। मास्क लगाएं, सेनेटाईजर का उपयोग करें साथ ही निर्धारित सोशल डिस्टेंस बनाये रखें। विशेष परिस्थितियों जैसे मरीज को अस्पताल लाते-ले जाते समय अपने आप को सुरक्षित रखें। अवस्थी ने कहा कि सभी पुलिस अधीक्षकों को गरीब लोगों तक भोजन एवं पानी की व्यवस्था करने निर्देश दिए गए हैं। जनता की परेशानियों का निराकरण करें ताकि जनता में पुलिस के प्रति विश्वास की भावना पैदा हो। भोजन की पर्याप्त व्यवस्था न होने पर जनता में आक्रोश पैदा हो सकता है, इस कार्य में सरकारी और निजी सामाजिक संस्थाओं के साथ-साथ एनजीओ का भी सहयोग लेकर भोजन की पर्याप्त व्यवस्था की जाये।

पुलिस महानिदेशक की ओर से पुलिस महानिरीक्षक रायपुर को कोरोना वायरस के बचाव के संबंध में शरीर को प्लास्टिक से ढंकने वाला कवर नमूने के तौर पर उपलब्ध कराया गया है जिसका सभी रेंज एवं जिलों में उपयोग करने निर्देश दिये गए हैं। सभी पुलिस अधिकारी अपने परिवार को भी सुरक्षित रखें। कोरोना वायरस विशेष रूप से नाक, आंख एवं मुंह के माध्यम से ही शरीर में प्रवेश करता है। अत: इन्हें पर्याप्त रूप से मास्क लगाकर सुरक्षित रखें। नक्सल प्रभावित क्षेत्र में पदस्थ सभी अधिकारी विशेष रूप से इसका ध्यान रखें एवं जहॉं आम जनता को चिकित्सा की आवश्यकता हो, वहां चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराएं। सब्जी मंडियों में बहुत अधिक भीड़भाड़ इकट्ठी हो रही है। इसको कम करने के लिये ठेलों के माध्यम से सब्जी का वितरण किया जा सकता है। इससे भीड़ पर नियंत्रण किया जा सकेगा। उन्होंने कहा कि सभी प्रशिक्षण केन्द्रों में रिजर्व बल अधिक संख्या में एक साथ एक स्थान पर रखना उचित नहीं है। उनकी नियमित रूप से ड्यूटी  में दूर-दूर रखा जाये।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804