GLIBS
18-01-2021
कहीं जाने की जल्दी हो तो अचानक आए मेहमान के फटाफट स्वागत का टेंशन क्यों? ट्राई कीजिए आलू कीस

रायपुर। अचानक घर में आजाए कोई मेहमान तो ट्राई कीजिए आलू का कीस। यह खाने में बहुत ही टेस्टी लगती है और इसे आसानी से बनाया जा सकता है। 

सामग्री :
दो आलू
एक छोटा चम्मच घी
एक छोटा चम्मच जीरा
पांच करी पत्ते
तेल जरूरत के अनुसार
एक छोटा चम्मच भुनी मूंगफली (दरदरी पिसी हुई)
एक छोटा चम्मच नींबू का रस
दो छोटा चम्मच हरा धनिया
स्वादानुसार नमक

विधि :
- सबसे पहले एक बाउल में आलू को कद्दूकक कर लें।
- मीडियम आंच में एक पैन में तेल गरम करने के लिए रखें।
- तेल के गरम होते ही इसमें जीरा और करी पत्ते डालकर भूनें।
- जीरे के चटकते ही इसमें घिसे हुए आलू और नमक मिलाएं और 4-5 पांच मिनट तक सेकें।
- तय समय के बाद इसे पलटकर दूसरे साइड से भी सेंक लें।
- आलू के सुनहरा होते ही इस पर दरदरी पिसी हुई मूंगफली डालकर एक और मिनट तक तले और आंच बंदकर दें।
- तैयार है आलू की कीस। नींबू का रस और हरे धनिये से गार्निश कर सर्व करें।

22-11-2020
अचानक आए मेहमानों को फटाफट सर्व करने के लिए बनाइए ब्रेड पनीर रोल टेस्टी टेस्टी हेल्दी हेल्दी

रायपुर। कम समय है तो कोई बात नहीं काम समय में ब्रेड पनीर रोल तैयार हो जाता है। यह हेल्दी रेसिपी भी है। आप इस रेसिपी की गुडनेस बढ़ाने के लिए ब्राउन ब्रेड का इस्तेमाल भी कर सकते हैं। साथ ही डीप फ्राई करने की बजाय रोस्ट करके भी ब्रेड रोल बना सकते हैं। इन टिप्स से रोल्स और भी ज्यादा टेस्टी बनेंगे।

सामग्री :
वाइट या ब्राउन ब्रेड
पनीर 
प्याज
टमाटर 
धनिया 
मिर्च 
नमक 
हल्दी 
काली मिर्च 
तेल/घी 

विधि :
सबसे पहले ब्रेड के किनारे काटकर अलग कर लें। इसके बाद पनीर को मैश कर लें। पैन में घी या तेल डालकर इसमें प्याज को भूनें। फिर टमाटर डालकर भूनें। फिर इसमें नमक, हल्दी, मिर्च मिलाएं। अब इसमें मैश किया हुआ पनीर डालकर मिला लें। ऊपर से हरा धनिया और काली मिर्च डालकर गैस ऑफ कर दें। आप भरावन मिक्सचर में अपनी पसंद के हिसाब से जीरा, अजवाइन, बीन्स, भी डाल सकते हैं। मिक्सचर तैयार होने के बाद ब्रेड के अंदर इस मिक्सचर को डालकर लम्बाई में रोल को शेप देकर फ्राई या रोस्ट कर लें। आपके हेल्दी पनीर रोल्स तैयार हैं। ब्रेकफास्ट या टी ब्रेक में इस रेसिपी का मजा लें।

20-11-2020
कपिल शर्मा की पत्नी गिन्नी चतरथ फिर हुई प्रेग्नेंट, जनवरी में आ सकता है नया बेबी

रायपुर/मुंबई। कॉमेडियन कपिल शर्मा के घर जल्द ही नया मेहमान आने वाला है। उनकी पत्नी गिन्नी चतरथ एक बार फिर प्रेग्नेंट है। रिपोर्ट्स की मानें तो उनकी प्रेग्नेंसी को छह महीने हो चुके हैं। ऐसे में अब गिन्नी को देखभाल की जरूरत है। इसलिए कपिल की मां मुंबई पहुंच गई है। प्रेग्नेंसी के अंतिम दिनों में कपिल की पूरी फैमिली साथ रहना चाहती है। कहा जा रहा है कि गिन्नी जनवरी 2021 में दूसरे बेबी को जन्म दे सकती है। 

कपिल शर्मा पहले ही हैं एक बच्ची के पिता
बता दें, यह कपिल शर्मा का दूसरा बच्चा होगा। कपिल की एक बेटी है, जिसका नाम अनायरा है। वो 10 दिसंबर को वो एक साल की हो जाएगी। इसके ठीक दो दिन बाद कपिल और गिन्नी की शादी को दो साल पूरे हो जाएंगे। इस बार तो ग्रैंड सेलिब्रेशन की तैयारी लगती है, क्योंकि कपिल के घर एक-दो नहीं बल्कि तीन खुशियों का मौका एक साथ आया है।

14-10-2020
मेहमानों का स्वागत कीजिए गरमागरम वेज कटलेट से, लज्जतदार बनाने में भी आसान और हर किसी को पसन्द भी

रायपुर। स्वादिष्ट और लाजवाब स्नैक में से एक है वेज कटलेट। वेज कटलेट का लाजवाब स्वाद सभी को पसंद आता है। घर कोई मेहमान या दोस्त आये तो उन्हें आप वेज कटलेट बनाकर आसानी से खिला सकते है। इसे बनाने की सभी सामग्री आसानी से मिल जाती है। 

घर पर ऐसे बनाये वेज कटलेट :
वेज कटलेट बनाने के लिए सबसे पहले मैदा ले और छलनी की मदद से छान ले। अब एक बर्तन में छने हुए मैदा और उसमे थोड़ा सा पानी मिलाकर एक चिकना घोल तैयार कर ले। इस घोल में काली मिर्च, लाल मिर्च, धनिया, अदरक का पेस्ट, अमचूर, गरम मसाला और नमक डालकर अच्छी तरह से मिक्स कर ले। अब ब्रेड के पीस ले और उन्हें तोड़कर उनका चूरा कर ले। एक बाउल में उबले हुए आलू को डालकर अच्छे से मसल ले अब उसमे मनचाहे सब्ज़िया डाले और मिक्स करे। साथ ही इसमें ब्रेड का चूरा भी भी मिक्स करले। अब इस मिश्रण को हाथ में ले और हथेली की मदद से एक आकार देकर कटलेट बना ले। इस पीस को मैदा के घोल में डुबाए और प्लेट में रख दे। इसे तरह सारे कटलेट बनाकर एक प्लेट में रख दे।अब एक कढ़ाई में तेल डालकर गरम करने के लिए गैस पर रख दे। 2-3 कटलेट एक बार में लेकर कढ़ाई में डाले और दोनों तरफ से पलट के अच्छी तरह से तले। जब यह तल जाए तो उन्हें एक प्लेट में टिशू बिछाकर निकाल ले। स्वादिष्ट और लाजवाब वेज कटलेट तैयार है इन्हे टोमेटो सॉस या चटनी के साथ सर्वे करें।

10-07-2020
मानसून हिमालय में मना रहा छुट्टी, इधर मेहमानों की तरह आए बादल और बरसकर रवाना हो गए

रायपुर। राजधानी में मौसम ने करवट बदली तो ऐसा लगा कि झूमकर बरसेंगे बादल, लेकिन मेहमान की तरह आए और कुछ देर बरस कर रवाना हो गए। ये मौसम का छलावा है,इसे मानसूनी बारिश ना समझें, क्योंकि मानसून हिमालय की तराई पर सैर कर रहा है। वो तो भला है द्रोणिका का,जो प्रदेश का खयाल रख रही है, वरना मानसून ने तो उम्मीदों पर ब्रेक ही लगा दिया है। मौसम विज्ञानी एचपी चंद्रा ने कहा कि मानसून द्रोणिका का पूर्वी छोर हिमालय की तराई में चले जाने के कारण प्रदेश में मानसून ब्रेक जैसी स्थिति बन गई है। बारिश की मात्रा और क्षेत्र दोनों घट गई है। दक्षिण ओड़ीसा और उसके आसपास स्थित द्रोणिका के प्रभाव से प्रदेश के कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा हुई। उन्होंने कहा कि एक द्रोणिका दक्षिण पूर्व उत्तर प्रदेश से छत्तीसगढ़ होते हुए दक्षिण ओड़िसा तक 4.5 किलोमीटर ऊंचाई पर स्थित है। प्रदेश में 11 जुलाई को कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा होने या गरज चमक के साथ छींटे पड़ने की संभावना है। एक-दो स्थानों पर गरज चमक के साथ आकाशीय बिजली गिरने की संभावना है। प्रदेश में अधिकतम तापमान में विशेष परिवर्तन होने की संभावना नहीं है।

 

15-04-2020
राहत शिविर में मेहमान बच्चों की शिक्षा के लिए मिनी शाला, ड्रॉईंग-पेंटिंग का प्रशिक्षण भी

रायपुर। कोरोना संक्रमण की वजह से देशव्यापी लॉकडाउन के चलते मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की विशेष पहल और निर्देशन पर छत्तीसगढ़ राज्य में दूसरे राज्यों के प्रवासी श्रमिकों और जरूरतमंदों की मदद के लिए जगह-जगह पर राहत शिविर लगाए गए हैं। इन राहत शिविरों में देश के विभिन्न प्रांतों के श्रमिक सपरिवार ठहरे हुए है। श्रमिकों के साथ उनके बच्चे भी इन शिविरों में रह रहे हैं। इन बच्चों के लिए सरगुजा जिला प्रशासन की ओर से मिनी शाला में 14 बच्चों के पढ़ने की व्यवस्था की गई है। इन्हें पढ़ाई के साथ साथ ड्रॉईंग और पेंटिंग सीखाने का काम किया जा रहा है। बता दें कि मुख्यमंत्री बघेल ने दूसरे राज्यों से छत्तीसगढ़ आए प्रवासी श्रमिकों को छत्तीसगढ़ का मेहमान कहा है और उनके रहने, खाने और चिकित्सा की व्यवस्था के निर्देश प्रशासन को दिए हैं। प्रवासी श्रमिकों के साथ-साथ उनके बच्चों की सुविधाओं का भी राहत शिविरों में ध्यान रखा जा रहा है।

खाली समय में बच्चों के लिए इन राहत कैम्पों में खेल-कूद और अन्य रचनात्मक गतिविधियों के साथ ही उनकी शिक्षा की अभिनव पहल छत्तीसगढ़ राज्य के सीमावर्ती जिले सरगुजा के बिशुनपुर सामुदायिक भवन स्थित राहत शिविर में देखने को मिली। जिला प्रशासन सरगुजा ने विधिवत मिनी शाला लगाकर 14 बच्चों के अध्ययन-अध्यापन की व्यवस्था की है। इन बच्चों को पढ़ाने और ड्रार्इंग-पेंटिंग सिखाने का कार्य जिला प्रशासन के सहयोग से शिविर में रह रहे युवा सतेन्द्र ऋषि की ओर से किया जा रहा है। बता दें कि अंबिकापुर नगर के बिशुनपुर, प्रतीक्षा बस स्टैण्ड और सरगवां हॉस्टल में लगाए गए राहत कैम्पों में मध्यप्रदेश, झारखण्ड, उत्तरप्रदेश, बिहार, उड़ीसा के कुल 108 श्रमिक और अन्य लोग ठहरे हुए हैं। उनके साथ शिविरों में बच्चे भी रह रहे हैं। बच्चों की पढ़ाई के लिए जिला प्रशासन की ओर से ब्लैक बोर्ड, चाक, पेंसिल, किताब तथा खेल सामग्री, बैट, बाल, फिसल पट्टी आदि की व्यवस्था की गई है।

01-04-2020
भूपेश बघेल ने राज्य के मेहमानों का जाना हाल, सुविधाओं को लिया जायजा, जानिए कैसी रही अतिथियों से मुलाकात...

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बुधवार को राजधानी के लाभांडी में लॉकडाउन के दौरान जरुरतमंद और बेसहारा लोगों के लिए बनाए गए आश्रय स्थल का जायजा लिया। सारी व्यवस्थाओं की जानकारी ली। आश्रय स्थल पर रूके लोगों से मुख्यमंत्री बघेल ने कहा है कि छत्तीसगढ़ में इस वक्त रूका हुआ बाहर का कोई भी व्यक्ति हमारा मेहमान है। किसी को परेशान होने की कोई जरूरत नहीं है। सभी आवश्यकताओं की पूर्ति हम करेंगे। बता दें कि लॉक डाउन की स्थिति में देश के विभिन्न हिस्सों के जो लोग रायपुर में फंसे हैं, उनके लिए जिला प्रशासन ने लाभांडी में कोरोना राहत शिविर-आश्रय स्थल बनाया है । इस शिविर में 12 राज्यों और 17 जिलों के भटक रहे 205 लोगों को आश्रय, भोजन और सुविधा दी गई है।
 
मेहमानों ने सीएम को बताई आपबीती :

मुख्यमंत्री ने बुधवार को एक-एक व्यक्ति से मुलाकात की। सभी को भरोसा दिलाया कि उन्हें किसी प्रकार की दिक्कत नहीं होगी। वे निश्चिंता से रहें और अपने घर -परिवार को भी अपनी कुशलता की जानकारी दें। मुख्यमंत्री से बातचीत के दौरान झारखंड के बलदेव राणा ने बताया कि वे और उनके साथी महाराष्ट्र से लौट रहे थे। उत्तर प्रदेश के देवरिया के रामनाथ शर्मा नौकरी की तलाश में छत्तीसगढ में भटक रहे थे। मध्यप्रदेश के पिपरिया के साधु रामदास त्यागी राजिम मेला के बाद से यहां थे। महाराष्ट्र के गौतम मजदूरी कर रहे थे। गोंदिया के श्रीकांत ट्रासपोर्ट लाइन में होने के कारण यहां फंसे थे और हरियाणा के रामू परिवार की दो महिलाओं और दो बच्चों के साथ यहां पेशी में आए थे। आश्रय प्राप्त सभी ने मुख्यमंत्री को भोजन, चिकित्सा, रूकने सहित जरूरी सुविधाएं के लिए धन्यवाद दिया।


 


मुख्यमंत्री ने अन्य राज्यों के सीएम से भी की बात :  

मुख्यमंत्री बघेल ने बताया कि उन्होंने झारखंड सहित विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बातचीत की है। आश्वस्त किया कि उनके राज्यों के लोग छत्तीसगढ़ में अच्छे से रहेंगे। इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने छत्तीसगढ़ के मजदूरों और नागरिकों के भी उनके राज्यों मे फंसे होने की स्थिति में हर संभव सहयोग देने का आग्रह भी किया है। यह भी कहा कि ऐसे ही आश्रय शिविर राज्य के सभी जिलों में बनाए गए हैं। मुख्यमंत्री के मुलाकात और अवलोकन के दौरान जिले के वरिष्ठ अधिकारी ,स्वयंसेवी संगठन के लोग और स्थानीय पार्षद भी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री ने उन्हें इस नेक और मानवता के काम में दिन-रात लगकर सेवा करने के लिए साधुवाद दिया। किए जा रहे कार्यों की प्रशंसा की। रूके नागरिकों मे सबसे अधिक नागरिक मध्यप्रदेश के 27 और झारखंड के 19 हैं। जिले मे सबसे अधिक बलौदाबाजार के 18 और दुर्ग के 13 है। छत्तीसगढ़ के 121 और रायपुर जिले के 40 हैं।

28-11-2019
ऐसा क्या किया आसवानी परिवार ने कि हो रही तारीफ ही तारीफ

जबलपुर। जबलपुर में हो रही एक अनोखी शादी समाज को एक अलग संदेश दे रही है। इसकी जमकर तारीफ  की जा रही है। इस शादी में मेहमान के तौर पर बड़े बड़े लोगों को नहीं बल्कि मूक-बधिर छात्र, वृद्ध आश्रम में रहने वाले बुजुर्ग और दृष्टिबाधित बच्चों को बुलाया गया है। यही नहीं, उन्हें बकायदा बैठा कर न सिर्फ खाना खिलाया गया बल्कि जमकर मेहमान नवाजी की गई। बड़े घरों की शादियों में आधुनिक जमाने के वो तमाम इंतजाम होते है जो वैवाहिक आयोजनों की भव्यता को चार चांद लगाते हैं, लेकिन जबलपुर में हो रही आसवानी परिवार की शादी खास होने के साथ-साथ जरा अलग हटके है।  

तीन दिनी वैवाहिक कार्यक्रम शुरुआत इन खास मेहमानों की मेहमान नवाजी से की गई। दूल्हे के पिता ने बताया कि वे अपने बेटे की शादी को सादगी के साथ सेवाभाव से करना चाहते थे। यही वजह है कि उन्होंने दिव्यांग, दृष्टिबाधित बुजुर्गों को न्योता देकर बकायद पार्टी दी। उनका मानना है कि उनके बेटे के जीवन की नई शुरुआत इन सभी के आशीर्वाद से होगी। शादी में पहुंचे मेहमानों को आसवानी परिवार के सदस्यों ने अपने हाथों से खाना खिलाया। जबकि मेहमान भी इसे एक अनूठी पहल मानते है। उनका कहना है कि ये मौका खुद पर गर्व करने की बात हैं जहां समाज में किसी देवता के रूप में सभी खास मेहमानों को बैठाकर भोजन कराया जा रहा है।

04-02-2019
Theft : बिन बुलाए मेहमान ने किया गिफ्ट में हाथ साफ

कोरबा। चोरों के अनोखे-अनोखे कारनामों के बारे में तो सूना ही होगा पर क्या आपने ऐसे चतुर सुजान चोर के बारे में सुना है जो शादी पार्टी में वर-वधु के गिफ्ट में हाथ साथ कर दे। जी हां एक युवक ने शादी पार्टी में वर-वधु के पीछे खड़े होकर मिलने वाले सारे गिफ्ट पर हाथ साफ कर दिया। पुलिस आरोपी युवक को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। हम और आप जब भी किसी के यहां शादी समारोह में शामिल होने जाते हैं तो परंपरा के अनुसार वर-वधु को शगुन के रूप में लिफाफे में नगद राशि व आभूषण वर वधु के हाथ में थमा कर आशीर्वाद देते हैं वर-वधु यह लिफाफा बाजू में या पीछे बैठे लोगों को देखकर दूसरे लोगों का मुस्कुराकर स्वागत करने लगते हैं, यहीं हो रहा था राताखार निवासी किशोर सिंह के पुत्र गणेश और वधू ऋषिका के आशीर्वाद समारोह में। तभी वर वधु के पीछे खड़ा एक युवक वर की बहन के हाथ से लिफाफे छीन कर भाग खड़ा हुआ किशोर सिंह ने बताया कि राताखार मिशन ग्राउंड में आयोजित आशीर्वाद समारोह में बिन बुलाए एक मेहमान ने गिफ्ट पर हाथ साफ कर दिया।

किशोर सिंह ने बताया कि सारे गिफ्ट समेट कर भाग जाने वाले युवक के विषय में जानकारी वीडियो से मिली। इसमें वर-वधु के पीछे खड़े होकर वह युवक लिफाफे लेता दिखाई दे रहा है । वीडियो क्लिप के आधार पर किशोर सिंह के परिवार ने खोजबीन की तो पता चला कि युवक का नाम दीपक उर्फ लल्ला पोद्दार है नीम चौक पुरानी बस्ती निवासी लल्ला मंच के पीछे से पर्दा हटा कर ऊपर आ गया और इसी रास्ते से कुछ देर बाद गिफ्ट लेकर फरार हो गया था। किशोर सिंह ने इस मामले की शिकायत कोतवाली पुलिस से की लल्ला पोद्दार पकड़कर थाना लाया गया लेकिन अब वह नशे में होने का कारण बता कर खुद को कानूनी शिकंजे से बचा लेने की जुगत भिड़ा रहा है । कोतवाली प्रभारी रघुनंदन शर्मा ने बताया कि वीडियो के आधार पर आरोपी से पूछताछ की जा रही है।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804