GLIBS
14-10-2019
'आप' के प्रदेशाध्यक्ष ने कहा- फांसी हो जाए लेकिन साथ में रखूंगा फरसा  

चंडीगढ़। आम आदमी पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष नवीन जयहिंद ने फरसा रखकर चुनाव आयोग के नोटिस पर उल्टा सवाल खड़ा कर दिए हैं। उन्होंने कहा कि ये फरसा मैंने आत्मरक्षा के लिए अपने साथ रखा हुआ है। आयोग चाहे फांसी लगा दे, फरसा साथ ही रखूंगा। क्या कानून व संविधान की पालना चुनाव के दौरान अलग-अलग होती है? भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष को जब लाठी भेंट की गई, मुख्यमंत्री को जब गदा भेंट की गई व अन्य भाजपा नेताओं को गदा, फरसे, तलवार भेंट करने पर आयोग ने संज्ञान क्यों नहीं लिया? आयोग को मेरा फरसा ही क्यों दिखाई दे रहा है। उन्होंने कहा कि मेरा मकसद लोगों को ये दिखाना है कि प्रदेश के मुखिया सत्ता के नशे में हैं। मेरा फरसा रखने का मतलब सिर्फ  दिखाने के लिए है लोगों की गर्दन काटने के लिए नहीं। ये लोगों को बचाने के लिए है। ये फरसा एक जगह नहीं, बल्कि हर जगह मैं साथ रखता हूं। फरसा एक धार्मिक चिन्ह है।
चुनाव आयोग के लिए अगर फरसा शस्त्र है तो गदा भी तो शस्त्र है, भीम ने दुर्योधन को गदा से ही मारा था। जिस तरह भीम अपने साथ गदा रखते थे वैसे ही भगवान परशुराम भी अपने साथ फरसा रखते थे, जो किसी की गर्दन काटने के लिए नहीं, बल्कि पापियों से बचने के लिए होता था। उन्होंने कहा कि फरसा किसी भी रिकॉर्ड में हथियार के रूप में दर्ज नहीं है। आयोग भाजपा नेताओं पर भी कार्रवाई की हिम्मत करके दिखाए।  

14-10-2019
महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव : 9 हजार से अधिक मतदान केंद्रों से होगा सीधा वेब प्रसारण

 

नई दिल्ली। 21 अक्टूबर को महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के लिए वोटिंग होनी है। अगले हफ्ते होने वाली वोटिंग के लिए चुनाव आयोग ने बड़ा फैसला लिया है। चुनाव आयोग महाराष्ट्र में होने वाले विधानसभा चुनाव के दौरान 9,000 से अधिक मतदान केंद्रों से सीधा वेब प्रसारण (वेबकास्टिंग) करेगा। वेब प्रसारण में चुनाव आयोग ने संवेदनशील मतदान केंद्र को भी शामिल करने का फैसला किया है। एक अधिकारी ने सोमवार को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि राज्य में पहली बार वीवीपीएटी (मतदान पर्ची) मशीनों का भी इस्तेमाल किया जाएगा।

24 अक्टूबर को आएंगे नतीजे

चुनाव अधिकारी ने बताया कि चुनाव आयोग उपद्रवियों को मतदान केंद्रों पर गड़बड़ी करने से रोकने के लिए वेब प्रसारण कर रहा है। चुनाव आयोग का मानना है कि इस कदम से पारदर्शिता में भी बढ़ोतरी होगी। चुनाव आयोग ने एक बयान में कहा कि महाराष्ट्र में 9,673 मतदान केंद्रों से सीधा वेब प्रसारण होगा। राज्य की 288 विधानसभा सीटों के लिए 21 अक्टूबर को 96,661 मतदान केंद्रों पर चुनाव कराए जाएंगे। अधिकारी ने बताया कि पारदर्शिता बढ़ाने के लिए कुल 1,35,021 वीवीपीएटी मशीनों का उपयोग किया जाएगा। महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में मुख्य मुकाबला एनडीए और यूपीए के बीच है। महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के नतीजे 24 अक्टूबर को घोषित किए जाएंगे।

27-09-2019
भारी बारिश से 17 लोगों की मौत, 16 हजार लोगों को सेना ने पहुंचाया सुरक्षित स्थान पर

नई दिल्ली। महाराष्ट्र के पुणे शहर और उसके आसपास अचानक हुई मूसलधार बारिश के कारण अलग-अलग हादसों में 17 लोगों की मौत हो गई। अधिकारियों ने गुरुवार को बताया कि बुधवार-गुरुवार की रात करीब 106 मिलीमीटर से भी ज्यादा बारिश के बाद 16 हजार से ज्यादा लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने बताया कि स्थानीय प्रशासन, पुलिस और एनडीआरएफ की टीमें शहर और बारामती तहसील में तैनात की गई हैं। गुरुवार को बंद रहने के बाद शुक्रवार को भी स्कूल और कॉलेजों में अवकाश घोषित कर दिया गया है। पुणे के एसपी संदीप पाटिल ने कहा कि मुंबई-बंगलूरू हाईवे पर खेड़-शिवपुर गांव में दरगाह पर सो रहे छह लोग भारी बारिश में बह गए, इनमें चार के शव मिले हैं और दो लोग अभी तक लापता हैं। पुरंदर में दो लोगों के लापता होने की खबर है। इसके अलावा पांच लोगों की बुधवार रात अर्नेश्वर क्षेत्र की तांगेवाला कॉलोनी में दीवार गिरने से मौत हो गई। एक अन्य घटना में साहकर नगर क्षेत्र में एक व्यक्ति का शव मिला है। दत्तावाड़ी, सिंहगढ़ रोड और भारती विद्यापीठ में बाढ़ के पानी की चपेट में आकर सात लोगों की मौत हो गई। सिंहगढ़ रोड और भारती विद्यापीठ क्षेत्र से चार लोग अब भी लापता हैं।

पुणे शहर के अलावा उसकी तहसीलों हवेली, भोर, पुरंदर और बारामती में भी बारिश ने कहर बरपाया है। प्रशासनिक अधिकारियों के मुताबिक, जेजूरी के करीब करहा नदी पर बने नजारे बांध से पानी छोड़े जाने के चलते बारामती से 2500 लोगों को सुरक्षित जगह भेजा गया है। इसके अलावा पुणे शहर के निचले इलाकों में आई बाढ़ के चलते 3000 लोगों शिफ्ट करना पड़ा है। जिले में कुल 16 हजार लोगों को शिफ्ट किया गया है। सेना ने घरों की छतों और पेड़ों पर फंसे करीब 300 लोगों को बचाया है। बाढ़ की चपेट में आकर 175 से ज्यादा वाहनों के बह जाने की खबर है। जिलाधिकारी नवल किशोर राम ने करीब 59 गांवों के बाढ़ के पानी में डूबे होने की पुष्टि की है। जिलाधिकारी ने बताया कि राज्य में 21 अक्तूबर को होने वाले विधानसभा चुनावों के चलते आदर्श आचार संहिता लागू है। इसके चलते बारिश के कारण मची तबाही की खबर चुनाव आयोग को दे दी गई है। पीड़ितों को उचित मदद दिए जाने की प्रक्रिया जल्द शुरू हो जाएगा। भारी बारिश के चलते पुणे शहर, पुरंदर, बारामती, भोर और हवेली तहसील के स्कूल और कॉलेजों में शुक्रवार को भी अवकाश की घोषणा कर दी गई है।

26-09-2019
राज्यसभा की 2 सीटों के लिए उपचुनाव की तिथि की हुई घोषणा....

नई दिल्ली। भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली और राम जेठमलानी के निधन के बाद उत्तर प्रदेश औऱ बिहार में खाली हुई राज्यसभा की दो सीटों पर उपचुनाव की तारीखों का ऐलान कर दिया गया है। चुनाव आयोग ने बताया कि इन दोनों सीटों पर 16 अक्टूबर को चुनाव होंगे। बता दें कि कुछ दिन पहले ही पूर्व वित्त मंत्री और भाजपा के सीनियर नेता अरुण जेटली का गंभीर बीमारी के कारण निधन हो गया। उनके निधन के कुछ ही दिन बाद राम जेठमलानी भी गुजर गए। जेटली जहां यूपी कोटे से राज्यसभा सांसद और लीडर ऑफ द हाउस थे तो जेठमलानी आरजेडी के कोटे से उच्च सदन पहुंचे थे।

 

22-09-2019
हरियाणा विधानसभा चुनाव: आम आदमी पार्टी ने 22 सीटों पर घोषित किए प्रत्याशी

नई दिल्ली। हरियाणा में 21 अक्टूबर को होने जा रहे विधानसभा चुनावों के लिए आम आदमी पार्टी (आप) ने रविवार को अपने 22 उम्मीदवारों की घोषणा कर दी। इन उम्मीदवारों में गुरुग्राम से रणबीर सिंह राठी, फरीदाबाद से कुमारी सुमानाता वशिष्ठ, फरीदाबाद एनआईटी से संतोष यादव, बल्लभगढ़ से हरेंद्र भाटी, पंचकुला से योगेश्वर शर्मा और अंबाला शहर से अंशुल कुमार अग्रवाल हैं। हरियाणा की वर्तमान विधानसभा का कार्यकाल दो नवंबर को खत्म हो रहा है और चुनाव आयोग ने विधानसभा की 90 सीटों पर चुनाव के लिए तारीखों की घोषणा कर दी है।  परिणामों की घोषणा 24 अक्टूबर को होगी। हरियाणा में 2014 में हुए विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी ने 47 सीटों पर जीत दर्ज कर सरकार बनाई थी। दूसरे स्थान पर रही भारतीय राष्ट्रीय लोक दल (आईएनएलडी) ने 19 सीटों पर जीत दर्ज की थी, जबकि उस समय सत्तारूढ़ कांगेस को सिर्फ 15 सीटों पर जीत मिली थी। दो सीटें हरियाणा जनहित कांग्रेस (एचजेसी) और शिरोमणि अकाली दल (एसएडी) तथा बहुजन समाज पार्टी को एक-एक सीट पर जीत मिली थी, वहीं पांच निर्दलीय उम्मीदवारों ने भी जीत हासिल की थी।

 

12-09-2019
कांग्रेस की लोकतंत्र पर आस्था नहीं : गागड़ा

रायपुर। पूर्व मंत्री व दंतेवाड़ा उपचुनाव के सह संचालक महेश गागड़ा ने दंतेवाड़ा विधानसभा उपचुनाव के दौरान एक के बाद एक वायरल हो रहे ऑडियो के मद्देनजर कांग्रेस नेताओं पर निशाना साधा है। मंत्री गागड़ा ने कहा कि ये ऑडियो इस बात की तस्दीक करते हैं कि कांग्रेस की लोकतंत्र और जनादेश पर जरा भी आस्था नहीं रही है और वह भय व आतंक के सहारे सत्ता का दुरुपयोग करते हुए चुनाव जीतना चाहती है। पूर्व मंत्री गागड़ा ने कहा कि वायरल हुए ताजा ऑडियो  में जनता कांग्रेस (छ) प्रत्याशी पर दबाव डालकर नाम वापसी के लिए बाध्य करने की बात सामने आई है। इससे दो दिन पहले ही मतदाताओं व अधिकारियों को धमकाने वाला ऑडियो वायरल हुआ है। गागड़ा ने कहा कि इस तरह चुनावी प्रक्रिया को प्रभावित करना शर्मनाक है। उन्होंने इस समूचे प्रकरणों के मद्देनजर चुनाव आयोग को संज्ञान लेकर यथोचित सख्त कार्रवाई करने की मांग भी की है।

11-09-2019
कथित ऑडियो से कांग्रेस पार्टी की हार स्पष्ट सुनाई पड़ रही है : महेश गागड़ा

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के नेता व पूर्व मंत्री महेश गागड़ा ने दंतेवाड़ा क्षेत्र में वायरल हो रहे एक कथित ऑडियो को चुनाव आचार संहिता का खुला उल्लंघन बताया है। महेश गागड़ा ने कहा कि यह कथित ऑडियो  साबित करता है कि कांग्रेस अपनी हार को प्रत्यक्ष देखकर अब भय और दबाव के जरिए जनमत को प्रभावित करने के हथकंडों को आजमाने में लग गई है। दंतेवाड़ा चुनाव में छोटे व बड़े सरकारी अधिकारियों को भी धमकाया जा रहा है कि कांग्रेस पार्टी को जिताने के लिए कार्य करें। यह लोकतंत्र के लिए शर्मनाक है।

पूर्व मंत्री गागड़ा ने कहा कि दंतेवाड़ा क्षेत्र में वायरल इस ऑडियो  में कथित तौर पर कांग्रेस प्रत्याशी की बेटी लोगों को धमकाकर वोट मांगती सुनाई आ रही हैं। इस ऑडियो  में मतदाताओं को धमका रही हैं कि यदि कांग्रेस प्रत्याशी को वोट नहीं दिया तो उन्हें नक्सली बताकर झूठे मामलों में फंसा दिया जाएगा। महेश गागड़ा ने कहा कि लोकतांत्रिक और राजनीतिक शुचिता से कांग्रेस का कभी नाता ही नहीं रहा है। उसने अपने राजनीतिक आचरण से लोकतांत्रिक मयार्दाओं और जनादेश को हमेशा अपमानित करने का काम किया है। पूर्व मंत्री गागड़ा ने कथित वायरल ऑडियो के मद्देनजर चुनाव आयोग से कांग्रेस के विरुद्ध आचार संहिता के खुले उल्लंघन के मामले में तत्काल कड़ी कार्रवाई की मांग की है।

10-09-2019
दंतेवाड़ा विधानसभा उपचुनाव: प्रचार जोरों पर, 23 सितंबर को होगा मतदान

दंतेवाड़ा। विधानसभा उपचुनाव नजदीक आने की वजह से चुनाव प्रचार की तैयारी जोरों से चल रही है। दंतेवाड़ा विधानसभा उपचुनाव 23 सितंबर को होना है, जिसको देखते हुए पुलिस प्रशासन और चुनाव आयोग पूरी तरह से तैयार है। नक्सल प्रभावित क्षेत्र होने के कारण दंतेवाड़ा में प्रशासन पूरी तरह से सतर्क है। दन्तेवाड़ा विधानसभा उपचुनाव को शांतिपूर्वक संपन्न कराने के लिए यहां बड़ी संख्या में पुलिस बल को तैनात किया गया है।

16-08-2019
आधार से जुड़े वोटर कार्ड, चुनाव आयोग ने कानून मंत्रालय को लिखी चिट्ठी

नई दिल्ली। चुनाव आयोग ने वोटर कार्ड को आधार से लिंक करने की मांग की। इसके लिए आयोग ने कानून मंत्रालय को खत भी लिखा है। आयोग ने कहा कि उन्हें ये अधिकार दिया जाए कि वो वोटर आई कार्ड के साथ आधार लिंक कर सके। इससे बोगस वोटर कार्ड पर रोक लगेगी. ये कदम राष्ट्र हित में भी है।

11-07-2019
सांसद हंसराज को हाईकोर्ट का नोटिस, चुनाव आयोग को दस्तावेज नष्ट न करने का निर्देश 

नई दिल्ली। उत्तर-पश्चिमी दिल्ली से भाजपा के सांसद हंसराज हंस को दिल्ली हाईकोर्ट ने नोटिस जारी किया है। साथ ही चुनाव आयोग को निर्देश दिया है कि 2019 लोकसभा चुनावों से संबंधित किसी भी दस्तावेज को नष्ट न करें। हंसराज हंस पर चुनावी एफिडेविट में गलत जानकारी देने का आरोप है। चुनावों में हंसराज हंस के प्रतिद्वंद्वी और कांग्रेस प्रत्याशी रहे राजेश लिलोठिया ने हंस के खिलाफ दिल्ली हाईकोर्ट में याचिका दायर की है। उन्होंने आरोप लगाया है कि हंस ने एफिडेविट में पत्नी पर 2.50 करोड़ रुपए का कर्ज होने की बात कही थी, जो सरासर गलत है। इतना ही नहीं हंस ने अपनी शिक्षा को लेकर भी गलत जानकारी दी है। बता दें कि दिल्ली की महत्वपूर्ण सीटों में से एक उत्तर पश्चिम दिल्ली संसदीय सीट इस बार अनुसूचित जाति के उम्मीदवारों के लिए आरक्षित थी। यही वजह रही कि कांग्रेस ने यहां से राजेश लिलोठिया को उतारा, जबकि बीजेपी ने 2014 के चुनाव में जीते सांसद उदित राज का टिकट काटकर सिंगर हंसराज हंस को उम्मीदवार बनाया। इसके बाद उदित राज कांग्रेस में शामिल हो गए।

 

 

10-06-2019
मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने ली विधानसभा सदस्य की शपथ

भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने विधानसभा सदस्य के तौर पर शपथ ले ली है। सोमवार को विधानसभा अध्यक्ष एनपी प्रजापति जी ने कमलनाथ को विधायक पद की शपथ दिलाई। बता दें कि कमलनाथ छिंदवाड़ा विधानसभा सीट पर हुए उपचुनाव में जीते हैं। इससे पहले वह छिंदवाड़ा सीट से सांसद थे, लेकिन मुख्यमंत्री बनने के बाद उन्होंने इस्तीफा दे दिया था। कलमनाथ ने विधायक निर्वाचित होने पर विधानसभा अध्यक्ष एनपी प्रजापति जी के कक्ष में विधानसभा सदस्य की शपथ ग्रहण की। इस दौरान कई वरिष्ठ अधिकारी मौजूद रहे।

बता दें कि हाल ही में संपन्न हुए छिंदवाड़ा उपचुनाव में कमलनाथ ने भारतीय जानता पार्टी के प्रत्याशी को कड़े मुकाबले में हराया। इस सीट पर बीजेपी ने विवेक बंटी साहू को अपना उम्मीदवार बनाया था लेकिन वो चुनाव हार गए। चुनाव आयोग के आंकड़ों के मुताबिक कलमनाथ को 1 लाख 12 हजार 508 वोट मिले। उन्हें 54.99 फीसदी वोट शेयर मिला। जबकि उनके प्रतिद्वंद्वी बीजेपी के विवेक बंटी साहू को 87 हजार 896 मत मिले। वहीं लोकसभा चुनावों में प्रदेश में कांग्रेस का प्रदर्शन बहुत निराशाजनक रहा। पार्टी राज्य की 29 संसदीय सीटों में से सिर्फ एक सीट छिंदवाड़ा ही जीत सकी। यहां से कमलनाथ के बेटे नकुलनाथ जीते हैं।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804