GLIBS
27-01-2021
ग्रामीण क्षेत्र के खेलकूद प्रतिभाओं को बढ़ावा देने की आवश्यकता: चुन्नीलाल साहू

धमतरी। वंदे मातरम ग्रुप एवं कर्मचारी संघ के तत्वाधान में आयोजित दो दिवसीय रात्रिकालीन कबड्डी प्रतियोगिता का आयोजन ग्राम खरतुली में किया गया। इसके शुभारंभ अवसर पर सांसद चुन्नीलाल साहू मुख्य अतिथि के रुप में उपस्थित हुए। कार्यक्रम की अध्यक्षता विधायक रंजना साहू ने किया। सांसद चुन्नीलाल साहू द्वारा वंदे मातरम ग्रुप व कर्मचारी संघ के सदस्यों से बातचीत की एवं खेलकूद को बढ़ावा देने के लिए किस तरीके से इस प्रतियोगिता को और आगे बढ़ाया जाए उस पर सुझाव दिया। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में खेलकूद को बढ़ावा देने के लिए निरंतर प्रयास किए जा रहे हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में खेलकूद में बहुत सी प्रतिभाएं छुपी हुई है, बस इनको मंच दिए जाने की आवश्यकता है, जो सिर्फ ऐसे ही प्रतियोगिताओं के माध्यम से पूरी हो सकती है। साथ ही माननीय सांसद जी ने कहा कि हमें अपने परंपरागत खेलों पर भी अपना ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता है। जीवन में खेलकूद अति आवश्यक है, इस में हार-जीत लगी रहती है, जो टीम आगे नहीं जा पाएगी उसे निराश होने की आवश्यकता नहीं है, और वह दोबारा अच्छे ढंग से प्रैक्टिस कर जीत के लिए आगे बढ़े। मैं आप सभी ग्रामवासियों को इस कबड्डी प्रतियोगिता के लिए बधाई देता हूं। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे विधायक रंजना साहू ने कहा कि खेल हम सभी के प्रतिदिन के जीवन के लिए बहुत अच्छा होता है, क्योंकि हमें स्वस्थ वातावरण में खेल सामान्य शारीरिक गतिविधियों में शामिल करता है।

युवाओं के द्वारा खेल, खिलाड़ियों के लिए बहुत ही प्रतियोगी और चुनौतीपूर्ण हो जाता है, इसलिए वह चुनौतियों को सामने रखकर उन पर ध्यान केंद्रित करते हुए सफलता की ओर आगे बढ़ता है। खेल से एक व्यक्ति की शारीरिक सुंदरता, उनके मानवता निर्माण में भी सहायक सिद्ध होता है। आज हमारे देश का प्राचीन खेल कबड्डी विश्व पटल पर अंतरराष्ट्रीय रूप में कबड्डी प्रतियोगिता का आयोजन किया जाता है, जिसमें भारतीय खिलाड़ियों के द्वारा सर्वाधिक जीत हासिल की गई है, यह हमारे लिए गौरव की बात है। आप सभी खिलाड़ी खेल भावना के साथ अच्छे प्रदर्शन कर जीत की ओर अग्रसर होकर विजयी हो, उसके लिए सभी टीमों को मैं अग्रिम शुभकामनाएं देती हूं। वंदे मातरम ग्रुप एवं कर्मचारी संघ के द्वारा नित प्रतिदिन अपनी सेवा से समाज को नई दिशा की ओर ले जाने वाले महिला कमांडो समूह को सांसद एवं विधायक के करकमलों से साड़ी एवं श्रीफल प्रदान कर सम्मानित किए गए। इस कार्यक्रम में मुख्य रूप से सांसद प्रतिनिधि उमेश साहू, मंडल महामंत्री अमन राव, ममता सिंह, सरिता यादव, सरपंच दिनेश सिन्हा, उप सरपंच सुरेश सिन्हा, चंदूलाल साहू, मधु सिन्हा सहित समिति के सदस्यगण, आयोजनकर्ता ग्रामीण जन एवं विभिन्न प्रतिभागि खिलाड़ी उपस्थित रहे।

 

23-01-2021
स्वावलंबन योजना के लिए अनुसूचित जनजाति वर्ग के अभ्यर्थियों से मंगाए गए आवेदन

बीजापुर। जिला अंत्यावसायी सहकारी विकास समिति बीजापुर ने शहीद वीर नारायण सिंह स्वावलंबन योजनान्तर्गत स्वरोजगार स्थापित करने के लिए अनुसूचित जनजाति वर्ग के अभ्यर्थियों से आवेदन पत्र आमंत्रित किया है। इस योजनान्तर्गत कुल 11 इकाई जिले को आवंटित है और प्रति इकाई लागत 2 लाख 2 हजार रुपए निर्धारित है। योजना से लाभान्वित होने के लिए अर्हता के तहत् अभ्यर्थी को जिले का मूल निवासी होने सहित अनुसूचित जनजाति वर्ग का होना चाहिए। आवेदक की पारीवारिक वार्षिक आय ग्रामीण क्षेत्र की दशा में 98 हजार रुपए तथा नगरीय क्षेत्र की स्थिति में एक लाख 20 हजार रुपए से अधिक नहीं होना चाहिए। आवेदक को 18 वर्ष से अधिक आयु का होने सहित कम से कम 8वीं उत्तीर्ण होना चाहिए तथा आवेदक पूर्व में किसी भी बैंक या वित्तीय संस्था से बकायादार नहीं होना चाहिए। योजनान्तर्गत इकाई लागत की राशि 2 लाख 2 हजार रुपए में से एक लाख 40 हजार रुपए अचल संपत्ति दुकान निर्माण के लिए तथा शेष 62 हजार रुपए कार्यशील पूंजी के रूप में बतौर ऋण 4 प्रतिशत वार्षिक ब्याज दर पर 5 वर्ष की अवधि के लिए उपलब्ध कराई जाएगी। लाभान्वित हितग्राही की ओर से नियमित रूप से निर्धारित मासिक किश्त की अदायगी करने पर संबंधित हितग्राही को इकाई लागत की 75 प्रतिशत अर्थात डेढ़ लाख रुपए प्रोत्साहन के रूप में देय होगी। इस योजना से लाभान्वित होने के इच्छुक आवेदक अंकसूची, राशन कार्ड, आधार कार्ड, जाति, निवास एवं अन्य प्रमाण पत्र की सत्यापित छायाप्रति के साथ आवेदन पत्र संबंधित जनपद पंचायत अथवा नगरीय निकाय में जमा कर सकते हैं। इस योजना की विस्तृत जानकारी जिला अंत्यावसायी सहकारी विकास समिति बीजापुर सहित सभी जनपद पंचायतों एवं नगरीय निकायों के कार्यालयीन सूचना पटल पर देखी जा सकती है।

 

06-01-2021
कोविड 19 टीकाकरण के प्रथम चरण के लिए हुई मॉक ड्रिल

कांकेर। जिले में शीघ्र ही कोविड 19 का टीकाकरण किया जाना है, जिसके प्रथम चरण के टीकाकरण का मॉक ड्रिल जिले के 1 शहरी क्षेत्र तथा 2 ग्रामीण क्षेत्रों में 7 जनवरी  को प्रातः 9 बजे से दोपहर 2 बजे तक किया जाएगा। कोविड 19 टीकाकरण के लिए शहरी क्षेत्र में एएनएम प्रशिक्षण केन्द्र कांकेर तथा ग्रामीण क्षेत्र में विकासखण्ड कांकेर के शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय बागोडार और नरहरपुर विकासखण्ड के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र अमोड़ा में कोविड 19 टीकाकरण का मॉक ड्रिल किया जाएगा। तीनों टीकाकरण केन्द्रों में टीकाकरण के लिए 3.03 कक्षों का चयन किया गया है, जिसमें प्रतिक्षा कक्ष, टीकाकरण कक्ष तथा निगरानी कक्ष बनाये गये हैं। कोविड 19 टीकाकरण के सफल मॉक ड्रिल के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा सम्पूर्ण तैयारी कर ली गई है।

इस आशय की जानकारी देते हुए मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. जेएल उईके ने बताया कि टीकाकरण टीम में लगे 40 कर्मचारियों को आज एनएम ट्रेनिंग सेंटर कांकेर में प्रशिक्षण दिया गया। उन्होंने बताया कि कोविड 19 टीकाकरण के मॉकड्रील के लिए प्रत्येक टीकाकरण केन्द्र के लिए 25.25 हेल्थ केयर स्टाफ का चयन किया गया है तथा चिन्हांकित हेल्थ केयर स्टाफ को कोविन पोर्टल से उनके मोबाइल नम्बर पर टीकाकरण के लिए सूचना भेजा जा चुकी है। साथ ही जिला स्तर पर भी कोविड.19 मॉक ड्रिल की सम्पूर्ण तैयारी कर ली गई है।

 

29-11-2020
रविवार को कांकेर जिले में 26 नए कोरोना मरीजों की पुष्टि

कांकेर। जिले में रविवार को 26 कोरोना मरीजों की पुष्टि हुई है। इसमें ग्रामीण क्षेत्रों से 24 तो वहीं शहरी क्षेत्र से 2 कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। कांकेर शहर से अलबेलापारा वार्ड से 2, वहीं कांकेर ग्रामीण क्षेत्र से 3 नए मरीज मिले है। इसके साथ ही अंतागढ़ से 1, भानुप्रतापपुर 3, चारामा 8,  नरहरपुर 8 वहीं कोयली बेड़ा से 1 कोरोना के नए मामले सामने आए हैं। वहीं अब 200 बेड वाले कोविड अस्पताल में केवल 24 मरीज ही उपचार्थ है।

 

10-11-2020
पशुपालकों की जरूरते पूरी करने में सहायक साबित हो रही है भूपेश सरकार की गोधन न्याय योजना

रायपुर/जशपुरनगर। भूपेश सरकार के गोधन न्याय योजना से हो रही आय से ग्रामीण पशुपालकों की जरूरते पूरी होने लगी है। जशपुर जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में पशुपालन करने वाले किसानों को इस योजना का सीधा लाभ मिलने लगा है। 2 रुपए प्रति किलोग्राम की दर से गौठान में गोबर विक्रय से उन्हें प्रत्यक्ष लाभ होने लगा है, जिससे उनके सपने को सकार करने में भी भरसक सहायता मिली है। जशपुर जिले के विकासखंड कांसाबेल के ग्राम बगिया की निवासी पशुपालक सलेन कुजूर ने गोधन न्याय योजना के अंतर्गत 19 क्विंटल गोबर का विक्रय किया है, जिससे उन्हें लगभग 3800 रुपए की आमदनी हुई है। सलेन ने बताया कि पहले वह अपने घर से निकलने वाले गोबर को खलिहान में डाल देते थे। इससे उन्हें प्रत्यक्ष रूप से कोई लाभ नहीं होता था, लेकिन गोधन न्याय योजना के प्रारंभ होने के बाद वह उन गोबर का गौठान में विक्रय कर रही है। इसका उनका प्रत्यक्ष लाभ मिल रहा है। सलेन ने बताया कि वह गोबर बिक्री से प्राप्त राशि का उपयोग अपने दैनिक जीवन की उपयोगी वस्तुओं को खरीदने में कर रही हैं।

हितग्राही सलेन ने अपनी खुशी का बयान करते हुए बताया कि गोधन न्याय योजना उनके लिए अतिरिक्त आय का जरिया बनी है। इसके माध्यम से वे उन चीजों को खरीदने में सक्षम हुई हैं, जिनकी आवश्यकता होने पर भी खरीदी नहीं कर पाती थी। अब वे अपनी मूलभूत जरूरतों को पूरा करने मे सक्षम हो रही है। उनका कहना है कि जल्द ही वे गोबर विक्रय की राशि से अपने लिए नए गाय खरीदेगी। इसके लिए वे धन एकत्र कर रही है। यह योजना उनके इस सपने को पूरा करने में काफी मददगार साबित हो रही है। गाय की खरीदी से वे दुग्ध उत्पादन सहित अन्य उत्पादों का विक्रय कर अपनी आय में वृद्वि करेंगी। उन्होने बताया कि इस योजना के तहत पशुपालकों को गोबर की विक्रय राशि हर पाक्षिक मिलने से उनके नए उम्मीदों को बल मिलने लगा है। उन्होंने जशपुर जिले में गोधन न्याय योजना के बेहतर संचालन के लिए प्रदेश मुखिया मुख्यमंत्री भूपेश बघेल व जिला प्रशासन के प्रति आभार व्यक्त करते हुए धन्यवाद दिया है। जिन्होने उनके जैसे ग्रामीण पशुपालकों की आवश्यकता को समझा व उनके लिए अतिरिक्त आय का सरल जरिया प्रदान किया।

08-11-2020
रविवार को कांकेर जिले में मिले कोरोना के 34 नए मरीज

कांकेर। जिले में रविवार को कोरोना संक्रमित के कुल 34 नए मरीजों की पहचान हुई है। आज शहरी क्षेत्र में 6 तो वहीं ग्रामीण क्षेत्र में 28 नए कोरोना संक्रमितों की पहचान हुई है। इसमें कांकेर शहर के बरदेभाटा से 3, अन्नपूर्णापारा से 2, रामनगर से 1 एवं कांकेर ग्रामीण क्षेत्र से 1 पॉजिटिव केस मिले है। वहीं अन्तागढ़ से 5, भानुप्रतापपुर से 5, चारामा से 5, दुर्गुकोंदल से 3, कोयलीबेड़ा से 9 कोरोना संक्रमित मरीजों की पुष्टि जिला स्वास्थ्य विभाग ने जारी बुलेटिन में की है।

 

06-11-2020
वेदांता-बालको ने बांटे 5000 ग्रामीणों को सुरक्षा कीट,करा रहे ग्रामीण क्षेत्रों में चिकित्सा सुविधा उपलब्ध

कोरबा। वेदांता समूह की कंपनी भारत एल्यूमिनियम कंपनी लिमिटेड (बालको) ने सामुदायिक विकास परियोजना ‘आरोग्य’ के अंतर्गत अपने संयंत्र के आसपास स्थित ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य और स्वच्छता के प्रति जागरूकता के लिए बड़े पैमाने पर कार्यक्रम आयोजित किए हैं। माह अक्टूबर में लगभग 5000 नागरिकों को सुरक्षा किट के अंतर्गत साबुन, मास्क और सैनिटाइजर वितरित किए गए। नागरिकों को वैश्विक महामारी से सुरक्षा के प्रति अनेक आयामों से परिचित कराया गया। ग्रामीण क्षेत्रों में चिकित्सा सुविधा की उपलब्धता वेदांता-बालको के सामुदायिक विकास कार्यों में सर्वोपरि है। वेदांता-बालको की आरोग्य परियोजना के अंतर्गत दो वेदांता ग्रामीण चिकित्सालय संचालित हैं। इन चिकित्सालयों के संचालन का उद्देश्य ग्रामीणों को झोला छाप नीम-हकीमों से मुक्ति दिलाना है। चलित चिकित्सा शिविर, मौसमी बीमारियों से बचाव और जागरूकता शिविर, मातृ-शिशु स्वास्थ्य जागरूकता अभियान, स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के साथ समन्वयन, एचआईव्ही एड्स के प्रति जागरूकता आदि अनेक ऐसे कार्यक्रम हैं जिनके माध्यम से ग्रामीणों के स्वास्थ्य का ध्यान रखा जाता है। सुरक्षा किट के वितरण पर ग्रामीणों ने बालको प्रबंधन के आभार जताया है।

कोविड-19 महामारी की रोकथाम की दिशा में वेदांता-बालको ने जिला प्रशासन के मार्गदर्शन और समन्वयन में कोविड अस्पताल की स्थापना में मदद की। मास्क और पीपीई निर्माण के माध्यम से महिला स्व सहायता समूहों की सदस्यों के लिए आजीविका के अवसर उपलब्ध कराए। जन प्रतिनिधियों के सहयोग से जरूरतमंदों को सूखा राशन और तैयार भोजन उपलब्ध कराए गए। राज्य और जिला प्रशासन ने कोरोना वाइरस के प्रति जागरूकता की दिशा में वेदांता-बालको संचालित कार्यों की खूब प्रशंसा की है। बालको की ओर से शिक्षा, स्वास्थ्य, स्वावलंबन, आधारभूत संरचना विकास, महिला सशक्तिकरण, जैव-निवेश, आजीविका आदि क्षेत्रों में परियोजनाएं क्रियान्वित हैं। परियोजनाओं के दायरे में छत्तीसगढ़ के लगभग 1.50 लाख जरूरतमंद शामिल हैं। 300 स्व सहायता समूहों के माध्यम से लगभग 4000 महिलाओं के स्वावलंबन एवं सशक्तिकरण में मदद मिल रही है। लगभग 500 एकड़ भूमि पर किसान आधुनिक तकनीकों की मदद से खेती कर रहे हैं। वेदांता स्किल्स स्कूल ने छत्तीसगढ़ के लगभग 9000 जरूरतमंद युवाओं को तकनीकी रूप से प्रशिक्षित कर स्वावलंबी बनने में मदद की है।

 

01-11-2020
कांकेर जिले में आज मिले 49 नए कोरोना पॉजिटिव

कांकेर। जिलेभर में रविवार को कोरोना संक्रमितों के 49 नए मामले सामने आए हैं। इसमें सवार्धिक ग्रामीण क्षेत्र से 44 तो वहीं शहरी क्षेत्र में 5 नये संक्रमितों की पहचान हुई है। स्वास्थ्य विभाग ने रविवार को जारी बुलेटिन में कुल 49 लोगों की पुष्टि की गई। इसमें कांकेर से 7,जिसमें राजापारा वार्ड से 1, बरदेभाठा से 2, अन्नपूर्णापारा 1, जंगलवार कॉलेज से 1 एवं कांकेर विकासखण्ड के ग्रामीण क्षेत्र से 2 पॉजिटिव मामले सामने आये हैं। जिले में अन्तागढ़ से 2, भानुप्रतापपुर से 6, चारामा से 7, दुर्गुकोंदल से 10, नरहरपुर से 8, कोयलीबेड़ा से 9 कोरोना संक्रमितों की पहचान हुई है। वहीं अब तक जिलेभर में कुल 4655 पॉजिटिव केस है।

 

22-10-2020
कांकेर जिले में आज मिले 74 नए कोरोना संक्रमित

कांकेर। जिले में गुुरुवार को कोरोना के 74 नए मामले सामने आए हैं। इसमें शहर में 12 तो ग्रामीण क्षेत्र में 62 कोरोना संक्रमित लोगों की पहचान हुई है। जिले में कोरोना के आये आंकड़े के अुनसार कांकेर में 16, अन्तागढ़ में 2, भानुप्रतापपुर में 15,  चारामा में 6, दुर्गुकोंदल में 9, नरहरपुर में 13, कोयलीबेड़ा में 13 कोरोना संक्रमितों की पहचान स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी बुलेटिन में कई गई है। वहीं शहर के श्रीरामनगर 2, आदर्श नगर से 1, पुलिस लाइन से 2, सिंगारभाठ से 7 व कांकेर के ग्रामीण क्षेत्र से 4 कोरोना पॉजिटिव लोगों की पहचान हुई है। इस तरह से कांकेर जिले में कुल एक्टिव मरीजों की संख्या अब 4048 है।

 

18-10-2020
कांकेर जिले में कोरोना संक्रमण के मिले 64 नए मामले,शहर में मिला मात्र एक

कांकेर। जिले में कोरोना संक्रमण के कुल 64 मामले सामने आए हैं,जिसमें शहर से 1 तो वहीं ग्रामीण क्षेत्र से 63 कोरोना संक्रमितों की पहचान हुई है। कुछ दिनों से कोरोना संक्रमितों की संख्या में कमी आई है। रविवार को स्वास्थ्य विभाग के मुख्य चिकित्सा अधिकारी की ओर से जारी बुलेटिन के अनुसार केर जिले में कुल 64 कोरोना संक्रमितों की पहचान हुई है। इसमें कांकेर शहर के शीतलतापारा वार्ड से 1 व कांकेर विकासखण्ड में 1, अन्तागढ़ में 1, भानुप्रतापपुर 12, चारामा में 15, दुर्गुकोंदल में 18, नरहरपुर में 14, कोयलीबेड़ा में 2 कोरोना संक्रमितों की पहचान हुई है।

 

10-10-2020
मंत्री गुरू रुद्रकुमार ने कहा-ग्रामीण क्षेत्रों में 42 लाख से अधिक परिवारों को मिलेगा मुफ्त नल कनेक्शन

रायपुर। राज्य के वनांचलों, अनुसूचित जाति बहुल गांवों और ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले 42 लाख 54 हजार परिवारों को घर-घर नल कनेक्शन देने काम अगले तीन साल में पूरा करने का लक्ष्य है। जल जीवन मिशन के तहत इन परिवारों को नि:शुल्क नल कनेक्शन दिए जाएंगे। लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री गुरु रुद्र कुमार ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के मार्गदर्शन में इस कार्य को तेजी से पूरा करने की कार्ययोजना लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग की ओर से बनाई गई है। ग्रामीण क्षेत्रों में शुद्ध पेयजल की आपूर्ति के लिए कार्ययोजना के अनुसार निविदाकारों को प्रशासकीय स्वीकृति के आधार पर कार्य दिए जा रहे हैं। मंत्री गुरू रूद्र  ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में पेयजल सुविधा के लिए 9485.60 करोड़ रुपए के लागत वाले उच्चस्तरीय जलागार निर्माण, पाइप लाइन विस्तार, सिविल वर्क, घरेलू कनेक्शन, क्लोरिनेटर एवं पॉवर पंप स्थापना के कार्य के लिए निविदाकारों को काम दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि राज्य में पहली बार मंत्रिमंडल के अनुमोदन के उपरांत निविदाकारों के लिए रूचि की अभिरूचि के माध्यम से दरें प्राप्त कर औचित्य दर प्रतिपादित की गई।

राज्य के ग्रामीण परिवारों को घरेलू नल कनेक्शन के माध्यम से तय समय-सीमा सितंबर 2023 तक पेयजल प्रदान करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। द्वितीय चरण में जल जीवन मिशन के कार्यों के लिए दर अनुबंध (कांट्रेक्ट) करने वाले 1326 इम्पेनल्ड निविदाकारों की सूची विभाग की ओर से जारी की गई है, इन निविदाकारों को जल्द ही प्रशासकीय स्वीकृति के आधार पर 7080 करोड़ रुपए के कार्य दिए जाएंगे। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सभी विभागों को निर्माण कार्यों के लिए नए एसओआर लागू करने कहा था। लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग की ओर से सबसे पहले राज्य में अपना नया यूएसओआर-2020 जारी कर निर्माण-संधारण संबंधी कार्य में लागू किया गया है। नए एसओआर की दरें लागू होने से पेयजल आपूर्ति संबंधी अद्योसंरचना के निर्माण में कम राशि खर्च होगी। मुख्यमंत्री की मंशा के अनुरूप प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में पेयजल व्यवस्था के लिए पहली बार वृह्द स्तर पर टंकी निर्माण, पाइपलाइन बिछाने के कार्य और घरेलू कनेक्शन इत्यादि कार्य तेजी से होगा। प्रमुख अभियंता एमएल अग्रवाल ने कहा कि जल जीवन मिशन के तहत विभिन्न निर्माण कार्यों के लिए दर अनुबंध (कांट्रेक्ट रेट) करने वाले 1326 निविदाकारों में 872 सी और डी श्रेणी, 454 ए और बी श्रेणी के निविदाकार शामिल हैं। सी और बी श्रेणी के निविदाकारों को यथासंभव उनके स्वयं के जिले में ही कार्य आवंटित किए जाएंगे।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804