GLIBS
12-11-2019
गुरूनानक देव ने दिया मानवता का संदेश - भूपेश बघेल 

रायपुर।  मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मंगलवार को बिलासपुर के गुरूनानक स्कूल परिसर में गुरू नानक देव के 550वें प्रकाश पर्व पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए का कि गुरूनानक देव ने ऊंच-नीच, छुआछूत, भेदभाव और जातिवाद से ऊपर उठकर मानवता का संदेश दिया है, उसे अमल में लायें।  मुख्यमंत्री बघेल ने कहा कि समाज में जब कुरीतियां व्याप्त थी, ऐसे समय में गुरूनानक जी का अवतरण हुआ। वे बाल्यकाल से ही चिंतन, मनन करने वाले और मानवता के प्रति अगाध श्रद्धा उनके मन में रही है। छुआछूत को छोड़ सब एक साथ एक ही पंगत में भोजन करें, इसलिये लंगर प्रथा शुरू की। उन्होंने अज्ञानता के खिलाफ संदेश दिया। गुरूनानक देव एक मात्र ऐसे संत थे, जिन्होंने काफी लंबी दूरी पद यात्रा की और समानता, भाईचारा और प्रेम का संदेश दिया। उन्होंने कहा कि सब एक ही ईश्वर के संतान हैं, इसमें भेदभाव नहीं होना चाहिये। समाज की समृद्धि, सुख, शांति के बिना संभव नहीं है। गुरू नानक देव ने एक सहज, सरल और संगठित समाज की नींव रखी। जिसमें जात-पांत और अमीर-गरीब के भेद को मिटाया। कार्यक्रम में गुरूद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष अमरजीत सिंह दुआ ने प्रकाश पर्व के संबंध में जानकारी देते हुए गुरू सिंह सभा एवं सिख समाज द्वारा पिछले एक वर्ष में जनकल्याण के लिये आयोजित कार्यक्रम की जानकारी दी। कार्यक्रम में विधायक शैलेष पाण्डेय, मोहन मरकाम एवं रश्मि सिंह, महाधिवक्ता सतीशचन्द्र वर्मा, मुख्यमंत्री के सलाहकार प्रदीप शर्मा एवं बड़ी संख्या में सिख समाज के लोग मौजूद थे।
 

07-05-2019
अमेरिका ने भारत पर लगाया उनकी कंपनियों के साथ भेदभाव करने का आरोप

नई दिल्ली। अमेरिका के कॉमर्स सेक्रेटरी विल्बर रॉस ने कहा है कि अमेरिकी कंपनियों के साथ भारत में गलत व्यवहार हो रहा है, खासकर वॉलमार्ट और मास्टरकार्ड के साथ। उन्होंने कहा कि भेदभाव की इस नीति की भी एक सीमा होनी चाहिए। ऐसा करने से बाहरी कंपनियां भारत में निवेश करने में हिचकिचाएंगी। बता दें कि रॉस इन दिनों भारत दौरे पर हैं और वे ट्रेड फोरम में यह चिंता जाहिर कर रहे थे। रॉस ने कहा कि फ्लिपकार्ट के अधिग्रहण के बाद वॉलमार्ट को जो परेशानियां आईं वो एक बड़ा मुद्दा है। लेकिन फिर भी वॉलमार्ट लगातार देश में निवेश कर रहा है। वहीं मास्टरकार्ड को तो लोकल स्तर पर डाटा संबंधी परेशानियों का सामना करना पड़ा लेकिन वो भी निवेश नहीं रोक रही है। गौरतलब है कि यह पहला मौका है जब अमेरिका ने इस मुद्दे पर सार्वजनिक तौर पर कुछ कहा है। इस दौरान रॉस ने कहा कि डाटा लोकलाइजेशन संबंधी रोक लगाने के परिणाम बुरे हो सकते हैं। उन्होंने कहा कि भारत सरकार को इस संबंध में कुछ करना होगा और अपने ई कॉमर्स नियमों में बदलाव करने होंगे।

16-04-2019
PM Modi: क्षेत्र व जात-पात के आधार पर भेदभाव करती है कांग्रेस और बीजेडी : पीएम मोदी 

भुनेश्वर। आम चुनाव को लेकर सभी सियासी दलों का प्रचार चरम पर है। मंगलवार को पीएम मोदी ने ओडिसा के संबलपुर में चुनावी सभा को संबोधित ​किया। यहां उन्होंने विरोधी पार्टियों पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि हमारे देश में सरकार के पास पैसे की कमी नहीं है। कमी रही है तो उस पैसे के सही इस्तेमाल की। पहले की सरकारों ने कभी इस पर ध्यान नहीं दिया कि जितने पैसे भेजे जा रहे हैं, वो आप तक पूरे पहुंचें या नहीं। आजादी के इतने सालों तक ये भ्रष्टाचार चल रहा था लेकिन इसे कोई रोकने वाला नहीं था। अब इस चौकीदार की सरकार ने ये व्यवस्था बनाई है कि सरकार अगर 100 पैसे भेजे, तो पूरे 100 पैसे देश के गरीबों पर खर्च हों। 
उन्होंने कांग्रेस और बीजू जनता दल पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि क्षेत्र और जात-पात के आधार पर भेदभाव कांग्रेस और बीजेडी की उपलब्धि रही है। उन्होंने कहा कि जल शक्ति मंत्रालय बनाया जाएगा। इसके तहत देशभर की नदियों के, समुद्र के, बारिश के पानी को जरुरतमंदों तक पहुंचाने का मिशन चलाया जाएगा। इससे पानी से जुड़ी समस्याएं कम हो पाएंगी। जंगलों की समृद्धि ओडिशा की शक्ति है। ओडिशा की यही शक्ति भारत को ताकत दे रही है। लेकिन इन जंगलों में रहने वालों की पूछ नहीं बल्कि लूट हुई है।
बता दें कि पीएम मोदी ओडिशा में जनसभा लेने के बाद कोरबा और भाटापारा में चुनावी सभा को संबोधित करेंगे।  

10-04-2019
शिक्षिका ने किया जाति के नाम पर छात्रा से भेदभाव, शिकायत पर कलेक्टर ने दिए जांच के आदेश 

सूरजपुर। सूरजपुर जिले के एक स्कूल में शिक्षिका के अस्पृश्यता और छुआछूत के बर्ताव का मामला सामने आया है। शिक्षिका के व्यवहार से व्यथित छात्रा ने बुधवार को जिला कलेक्टर से इसकी शिकायत की है। सूरजपुर जिले के ग्राम नेवरा की दलित समुदाय की छात्रा समीपवर्ती ग्राम पसला के पूर्व माध्यमिक पाठशाला में कक्षा आठवीं में अध्ययनरत है। यहां पर मध्‍याह्न भोजन के तहत अवकाश हुआ तो उस वक्त विद्यालय की कुछ शिक्षिकाओं ने छात्राओं से भोजन लगाने को कहा। इनमें से एक दलित छात्रा ने जब यहां पदस्थ शिक्षिका को भोजन लाकर दिया तो वह नाराज हो गईं। कहने लगीं कि यह छात्रा तो दलित है, इसके हाथ का खाना नहीं खाऊंगी। यह कहते हुए उन्होंने थाली वापस भेज दी। इतना ही नहीं उन्होंने उस थाली में निशान लगाने को भी निर्देशित किया ताकि यह पता चल सके कि इस थाली को किसी दलित ने स्पर्श किया है। शिक्षिका के इस बर्ताव से दुखी और व्यथित छात्रा ने कलेक्टर से मुलाकात कर लिखित आवेदन से पूरे घटनाक्रम से अवगत कराकर शिकायत की। छात्रा ने उक्त विद्यालय से नाम काटकर अन्य संस्था में पढ़ने की इच्छा जताई है। ग्राम पसला की स्कूल की शिक्षिका पर लगे आरोपों की पुष्टि के लिए शिक्षिका से संपर्क किया गया, लेकिन उनसे मुलाकात नहीं हो पाई। इस संबंध में जिला कलेक्टर दीपक सोनी ने बताया कि छात्रा ने इस आशय का पत्र दिया है। मामले की गंभीरता को देखते हुए जिला शिक्षा अधिकारी को जांच के निर्देश दिए गए हैं। जांच के बाद कार्रवाई की जाएगी।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804