GLIBS
06-08-2020
लॉक डाउन की मियाद नहीं बढ़ेगी आगे, सुबह 8 से शाम 5 बजे तक खुलेंगी दुकानें

रायपुर/बलौदाबाजार। कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिये जिले में जारी लॉक डाउन की मियाद 6 तारीख के बाद आगे नहीं बढ़ाई जाएगी। दुकानें और व्यापारिक प्रतिष्ठान कल 7 तारीख से कोरोना  की रोकथाम के नियमों का पालन करते हुये संचालित हो सकेंगी। दुकानें सवेरे 8 बजे से लेकर शाम 5 बजे तक खुली रह सकती हैं। जिला कलेक्टर सुनील कुमार जैन ने बताया कि कोरोना महामारी का संकट अभी टला नहीं है। रोजाना बड़ी संख्या में प्रकरण सामने आ रहे हैं। इसलिये हम सभी को पहले से और ज्यादा सजग और सावधान रहने की जरूरत है। संक्रमण की रोकथाम में सामुदायिक भागीदारी की अहम भूमिका है। सभी को मास्क पहनने और सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करना अनिवार्य है। कोरोना से बचाव का यही एक प्रभावी उपाय है। लोगों में कोरोना के बचाव से सम्बंधित तमाम उपायों के बारे में पर्याप्त जागरूकता हो चुकी है। बावजूद इसके पालन नहीं किये जाने पर जान बुझकर कानून की अवज्ञा किये जाने के आरोप में कठोर कार्रवाई की जायेगी। उन्होंने व्यापारियों को भी बगैर मास्क पहने सामान लेने आये ग्राहकों को सामग्री नहीं बेचने के निर्देश दिए हैं।

25-07-2020
आदेश के बाद भी नहीं रुका भवन निर्माण का काम, मौके पर पहुंचकर तहसीलदार ने की कार्रवाई

कोड़ातराई/रायगढ़। तहसीलदार पुसौर के द्वारा काम रोकने दिए गए आदेश की धज्जियां उड़ाकर कोड़ातराई में दुकान और भवन निर्माण कार्य चल रहा था। मौके पर पहुंची तहसीलदार माया अंचल ने सभी काम रुकवाए। बता दें की कोड़ातराई में सड़क किनारे चल रहे निर्माण कार्य को लेकर, दो पक्षों में जमीन संबंधी विवाद चल रहा था। इसमें ज्योति शर्मा ने तहसीलदार न्यायालय में प्रकरण दर्ज करवाया था। दर्ज किए गए प्रकरण के मुताबिक ज्योति शर्मा की एक डिसमिल जमीन पर उर्मिला साहू ने कब्जा कर दीवार निर्माण कर लिया है। उक्त प्रकरण पर तहसीलदार ने काम रोकने के लिए आदेश जारी किया था। और सुनवाई के किये अगली तारीख 17 अगस्त तय की गई थी। लेकिन उर्मिला साहू ने स्थगनादेश को नहीं मानते हुए, निर्माण कार्य जारी रखा। जिस पर खुद तहसीलदार माया अंचल ने मौके पर पहुंचकर कार्य रुकवाया और मौके पर ही पटवारी को सामान जब्त करने के आदेश दिए।

02-06-2020
देश का नाम 'इंडिया' की जगह 'भारत' करने की मांग, सुप्रीम कोर्ट में याचिका पर सुनवाई स्थगित

नई दिल्ली। देश के नाम को 'इंडिया' के बजाए 'भारत' से संबोधित किए जाने को लेकर सुप्रीम कोर्ट में दायर याचिका पर मंगलवार को सुनवाई टल गई। कोर्ट ने इसकी सुनवाई के लिए अगली तारीख भी नहीं दी है। इस याचिका पर प्रधान न्यायाधीश एस ए बोबडे की अध्यक्षता वाली पीठ के समक्ष सुनवाई होनी थी। लेकिन सीजेआई बोबडे के मंगलवार को अवकाश पर होने की वजह से इसे टाल दिया गया। देश की शीर्ष अदालत में दायर इस याचिका में कहा गया है कि संविधान के पहले अनुच्छेद में लिखा है कि इंडिया यानी भारत। ऐसे में यह प्रश्न उठता है कि जब देश एक है तो उसके दो नाम क्यों है? एक ही नाम का प्रयोग क्यों नहीं किया जाता है? याचिकाकर्ता का कहना है कि इंडिया शब्द से गुलामी झलकती है और यह भारत की गुलामी का निशान है। इसलिए इस…

14-05-2020
यात्रा की तारीख से 6 महीने पहले तक टिकट जमा करने पर रिफंड की सुविधा,रेल मंत्रालय ने जारी किया संशोधित आदेश

रायपुर। रेल मंत्रालय ने कोविड-19 की परिस्थितियों के कारण टिकटों को रद्द करने और किराया वापसी का संशोधित दिशानिर्देश जारी किया है। पीआरएस काउंटर जनरेट टिकटों के लिए और  ई-टिकट के लिए रिफंड नियम के प्रावधानों में छूट, 21 मार्च से यात्रा की अवधि के लिए एक विशेष मामले के रूप में बुक किए गए यात्री सेवाओं की बहाली तक या अगले आदेश तक,

केस 1- रेलवे की ओर से रद्द की गई ट्रेन :  यात्रा की तारीख से 6 महीने पहले तक टिकट जमा करने पर रिफंड लिया जा सकता है।  ई-टिकट: ऑटो रिफंड होगा।

केस 2- ट्रेन रद्द नहीं है और यात्री यात्रा नहीं करना चाहता :  पीआरएस काउंटर टिकट:  टीडीआर (टिकट जमा रसीद) स्टेशन पर यात्रा की तारीख से 6 महीने के भीतर दायर की जा सकती है। (3 दिनों के मौजूदा नियम को छोड़कर) ट्रेन के चार्ट से सत्यापन के लिए टीडीआर के फाइलिंग के 60 दिनों के भीतर धनवापसी प्राप्त करने के लिए मुख्य दावा अधिकारी/सीसीएम  दावा कार्यालय में टीडीआर जमा किया जा सकता है।

ई-टिकट-ऑनलाइन कैंसिलेशन रिफंड की सुविधा उपलब्ध : जो यात्री 139 के माध्यम से टिकट रद्द करना चाहते हैं, उन्हें यात्रा की तारीख से 6 महीने के भीतर काउंटर पर रिफंड मिल सकता है। (ट्रेन के निर्धारित प्रस्थान तक के अतिरिक्त नियम)।

ई-टिकट : ऑनलाइन रद्दीकरण की सुविधा उपलब्ध- पूर्ण वापसी इस मामले में सभी यात्रियों को पीआरएस काउंटर टिकट और ई-टिकट दोनों के लिए दी जाएगी।
21 मार्च के बाद यात्रा की अवधि के लिए पहले से आरक्षित टिकट को रद्द करने पर पूर्ण वापसी

पीआरएस काउंटर टिकट :  21 मार्च के निर्देश जारी करने से पहले रद्द किए गए टिकट- शेष राशि की वापसी के लिए यात्री यात्रा की तारीख से 6 महीने के भीतर निर्धारित फॉर्म में आवश्यक जानकारी दाखिल करेंगे। दाखिल करने के लिए मुख्य वाणिज्यिक प्रबन्धक (रिफंड) या चीफ क्लैम ऑफिसर(सीएओ) जोनल मुख्यालय कार्यालय में जमा कर शेष राशि वापस ले सकते हैं।

ई-टिकट : बैलेंस रिफंड राशि उन यात्रियों के खाते में जमा की जाएगी, जहां से टिकट बुक किया गया था।

 

 

06-05-2020
छत्तीसगढ़ के मजदूरों को वापस लाने ट्रेन की तारीख जल्द तय करें सरकार : शैलेश नितिन त्रिवेदी

रायपुर। छत्तीसगढ़ के मजदूरों की घर वापसी के लिए ट्रेनों की तिथियों की घोषणा रेल मंत्रालय की ओर से जल्द जारी करने की मांग कांग्रेस की ओर से की जा रही है। कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि केंद्र सरकार ने मजदूरों की अपने अपने घर गांव अपने प्रदेश वापसी के लिए विशेष ट्रेन चलाने की घोषणा तो कर दी है। अभी तक छत्तीसगढ़ के मजदूरों के लिए देशभर से चलने वाली स्पेशल ट्रेन की तारीख की जानकारी केंद्र सरकार या रेलवे ने नहीं दी है। जबकि छत्तीसगढ़ सरकार ने रेलवे को पत्र लिखकर ट्रेनों की आवश्यकता, संख्या बता दी है और अपनी तरफ से किराया देने की पेशकश भी कर दी थी। त्रिवेदी ने कहा कि झारखंड की ट्रेनें चल गई, मध्य प्रदेश की ट्रेनें कब चलेगी इसकी सूचियां मध्य प्रदेश सरकार को बता दी गई लेकिन छत्तीसगढ़ के ट्रेनों की तारीख अभी तक रेल मंत्रालय ने नहीं बताई है। बाहर के प्रदेशों में फंसे छत्तीसगढ़ के मजदूर विगत 22 अप्रैल से खाली बैठे हैं और खाना राशन रहने और इलाज की तकलीफों का सामना कर रहे हैं। उनके पास की पूंजी समाप्त हो गई है। जो चोरी छुपे मजदूर आ रहे हैं और शोषण का शिकार हो रहे हैं उससे उन्हें छुटकारा मिलेगा।

05-05-2020
 जेईई मेन और नीट परीक्षा की तारीखें घोषित, जुलाई में होंगी दोनों परीक्षाएं

नई दिल्ली। नीट और जेईई की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए अच्छी खबर है। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने जेईई और नीट परीक्षा की तिथि की घोषणा कर दी है। उन्होंने कहा कि जेईई मेन परीक्षा 19 जुलाई से 23 जुलाई के बीच आयोजिक होगी। जबकि नीट परीक्षा 26 जुलाई को आयोजित किया जाएगा। बता दें कि मेडिकल की पढ़ाई के लिये नीट और इंजीनियरिंग के लिए जेईई का एग्जाम कराया जाता है। नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) के मुताबिक इन दोनों परीक्षाओं के लिए करीब 15 लाख छात्रों ने रजिस्ट्रेशन करवाया है। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक ने छात्रों से ऑनलाइन संवाद में परीक्षाओं की तारीखों सहित अन्य महत्वपूर्ण मुद्दों पर बात की। संवाद में मंत्री ने जेईई और नीट 2020 परीक्षाओं की तिथियां घोषित की। जेईई मेन परीक्षा 19 से 23 जुलाई के बीच आयोजित की जाएंगी।

वहीं नीट 2020 परीक्षा 26 जुलाई 2020 को आयोजित की जाएगी। इसके अलावा मंत्री ने ये भी कहा कि सीबीएस की परीक्षाओं को लेकर फैसला अगले कुछ दिनों में किया जाएगा। इससे पहले स्थिति की समीक्षा की जाएगी। उन्होंने ये भी कहा कि अगले एकेडमिक सत्र के सिलेबस को कम करने का फैसला किया गया है। ऐसे में अगली जेईई मेन और नीट 2021 की परीक्षाएं घटे हुए सिलेबस के आधार पर ही की जाएगी। गौरतलब है कि संयुक्त प्रवेश परीक्षा- मुख्य का आयोजन देश भर के इंजीनियरिंग कॉलेजों में प्रवेश के लिए होता है जबकि राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा के जरिए देशभर के चिकित्सा महाविद्यालयों में प्रवेश लिया जाता है। देश भर में 15 लाख से अधिक छात्रों ने नीट परीक्षा के लिए पंजीकरण कराया है। यह परीक्षा भारत के चिकित्सा महाविद्यालयों में प्रवेश पाने का रास्ता है। वहीं नौ लाख से अधिक छात्रों ने जेईई परीक्षा के लिए आवेदन किया है, जिसके जरिए भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थानों को छोड़कर देश के अन्य सभी इंजीनियरिंग कॉलेजों में प्रवेश होता है। 

 

04-05-2020
संघ लोक सेवा आयोग ने स्थगित की सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा, नई तारीख की घोषणा 20 मई को

नई दिल्ली। यूपीएसई ने सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा को स्थगित कर दी है। यह परीक्षा 31 मई को होनी थी, लेकिन लॉकडाउन के तीसरे चरण की वजह से परीक्षा को फिलहाल स्थगित कर दी गई है। परीक्षा की नई तारीख की घोषणा 20 मई को की जाएगी।संघ लोक सेवा आयोग का कहना है कि परीक्षा की नई तारीख की घोषणा स्थिति का जायजा लेने के बाद 20 मई को की जाएगी। गौरतलब है कि इस वक्त कोरोना वायरस से बचाव के लिए देश में तीसरे चरण का लॉकडाउन चल रहा है, जो कि 17 मई तक है।यूपीएसई सिविल सर्विस प्रीलिमिनरी एग्जाम के लिए एडमिट कार्ड पहले इसी हफ्ते जारी होने थे, लेकिन अब इस परीक्षा को ही स्थगित कर दिया गया है। परीक्षा की नई तारीख की घोषणा के बाद एडमिट कार्ड के जारी होने की जानकारी दी जाएगी। यूपीएसई का कहना है कि सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा देने वाले कई उम्मीदवारों ने आयोग से परीक्षा को स्थगित करने का निवेदन किया था

03-05-2020
व्यापमं ने ऑनलाइन फार्म भरने में आ रही परेशानियों के कारण 15 तक बढ़ाई तारीख

रायपुर। व्यापमं ने ऑनलाइन फार्म भरने में आ रही परेशानियों को ध्यान में रखते हुए एक बार फिर आवेदन की तारीख बढ़ा दी है। अब प्री एग्रीकल्चर टेस्ट (पीएटी), प्री फार्मेसी टेस्ट (पीपीएचटी), प्री पॉलिटेक्निक टेस्ट (पीपीटी) और बीएड की प्रवेश परीक्षाओं के लिए आवेदन 15 मई तक अभ्यर्थी कर सकते हैं। ज्ञातव्य है कि फार्म भरने में हो रही दिक्कतों पर ध्यान देते हुए व्यापमं के अधिकारियों ने आवेदन की तारीख बढ़ा दी है। प्रदेश में ज्यादातर बच्चे साइबर कैफे के माध्यम से आवेदन करते हैं। ऐसे बच्चों लॉक डाउन के समय में छात्रों को फार्म भरने में आ रही दिक्कतों को ध्यान में रखते हुए यह निर्णय ​प्रवेश परीक्षाओं के लिए आवेदन की आखिरी तारीख 15 मई तय की गई है।

21-04-2020
राज्य के पंजीयन कार्यालय अब 28 अप्रैल तक रहेंगे बंद,सरकार ने बढ़ाई तारीख

 

रायपुर। कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिए एहतियात के तौर पर राज्य के पंजीयन कार्यालय अब 28 अप्रैल तक बंद रहेंगे। इसके पहले पंजीयन कार्यालय को 21 अप्रैल तक बंद रखने के आदेश वाणिज्यि कर (पंजीयन) विभाग की ओर से जारी किया गया था। अब 28 अप्रैल तक राज्य के सभी पंजीयन कार्यालय को बंद रखने के आदेश जारी किए गए है।

15-02-2020
चेतवानी : अगर 31 मार्च तक आधार से लिंक नहीें करवाया पैन कार्ड तो बढ़ सकती है आपकी मुश्किलें!

नई दिल्ली। अगर आपने भी अब तक अपने आधार-पैन को लिंक नहीं किया है तो यह खबर आपके लिए बहुत महत्वपूर्ण है। पैन कार्ड यदि आधार से लिंक नहीं किया तो रद्द हो जायेगा। पैन को आधार से जोड़ना अनिवार्य है। बता दें कि 17 करोड़ पैन कार्ड के रद्द होने का खतरा है। अगर आपके भी आधार अभी तक पैन कार्ड से लिंक नहीं हुए तो रद्द हो जायेगा। इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने चेतावनी देते हुए कहा है कि इस साल की 31 मार्च तक अगर आपने अपने आधार कार्ड को पैन कार्ड के साथ लिंक नहीं किया तो पैन कार्ड से जुड़े कुछ काम रुक सकते हैं और पैन कार्ड को रद्द भी किया जा सकता है। क्योंकि आधार-पैन लिंक के लिए तारीख को कई बार आगे बढ़ाया जा चुका है। अब इसके लिए आखिरी तारीख 31 मार्च है, जिसके बाद पैन अन-ऑपरेटिव हो जाएगा, यानी आपको अगले 45 दिन में इस काम को पूरा कर लेना है। अगर आपने अब तक अपने आधार को पैन से लिंक नहीं किया है तो अब आप देर न करें, वरना आपको मुश्किल हो सकती है।

 

13-05-2019
मशीन अब यह भी बता देगी कि आप किस दिन और किस तारीख को मरेंगे!

नई दिल्ली। क्या ऐसा संभव है कि वैज्ञानिक एक ऐसी मशीन बना ले जो आपको यह बता दे कि आप किस दिन और किस तारीख को मरेंगे? जी हां, एक शोध में यह दावा किया जा रहा है कि ऐसा संभव है। एक ऐसी मशीन बना ली गई है जो इंसान की मौत का दिन-तारीख बता देगा। यही नहीं, यह मशीन अपनी आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और आधुनिक उपकरणों की सहायता से बेहद महीन डाटा एनॉलिसिस कर यह भी बता देगी कि आपको कब हार्ट अटैक आ सकता है। शोध के अनुसार अगर मशीन किसी शख्स की मौत की डेट किसी महीने की 10 तारीख को बताता है तो उसका अंतिम दिन नौ या फिर 11 तारीख हो सकता है। दरअसल मशीन लर्निंग पर किए गए अध्ययन को द इंटरनेशन कॉन्फ्रेंस ऑन न्यूक्लियर कार्डियोलॉजी एंड कार्डियक सीटी 2019 में प्रस्तुत किया गया। शोधपत्र के अनुसार यह मशीन बेहद गणितीय नियमों पर आधारित है। यह किसी शख्सियत की महीन से महीने जानकारी अपने पास रखती है और उसके विश्लेषण के आधार पर अपनी भविष्यवाणियां करती है। असल में हम ऐसी मशीनों से लगातार घिरे हुए हैं और अपने डाटा उन्हें दे रहे हैं। चाहे वह गूगल सर्च हों, चाहे फोन पर फेस रिकग्निशन, खुद से चलने वाली कार या नेटफ्लिक्स को दी गई जानकारियां, ये मशीनें एक-एक यूजर की जानकारियां रखने के बाद उन्हें अपने हिसाब से चीजें दिखानी शुरू कर दे रही हैं। इसका सीधा आशय है कि आप अंदाजा लगाए जाने के लायक हैं।

असल में हाल ही में 950 मरीजों के ऊपर उनके जीवन से जुड़ी 85 चीजों के ऊपर शोध किया गया। इसके बाद उनके साथ करीब छह सालों तक काम करने के बाद एक एल्गोरिथम बनाया गया। इस एग्लोरिथ्म में एक खास बात सामने आई। उन मरीजों में कई ऐसी बातें थी जिनके बारे में पहले ही बताया जा सकता था। इनमें सबसे खास बात उनकी मृत्यु और उनके आने वाले हार्ट अटैक की डेट थी। फिनलैंड के टुर्कू पीईटी सेंटर डॉ. लुइस एडुराल्डो जुअरेज ओर्जोको ने इस स्टडी को लिखा है कि हमारे पास बहुत से डाटा उपलब्ध होते  हैं, लेकिन हम उनकी उस तरह से इस्तेमाल नहीं कर पा रहे थे। इसलिए हमने इस विचार पर काम किया। यह मशीन दूसरी तकनीकों से एक कदम और आगे जाकर डाटा एनॉसिस करती है। उनके अनुसार डॉक्टर आपके इलाज के लिए भी अपने अनुभव के आधार पर एक तरह का जोखिम उठाते हुए आपको कुछ दवाइयां देता है। उसे विश्वास होता है कि अमुक लक्षण हैं तो अमुक दवा काम करेगी, लेकिन यह मशीन पूरी तरह से साफ  दिखने वाले डाटा पर आधारित होगी। जानकारी के अनुसार सीने के दर्द से परेशान 950 लोगों के साथ यह शोध शुरू हुआ था। छह साल के शोध में इसमें से 24 लोगों को हार्ट अटैक आए और 49 लोगों की मौत हो गई। शोध के दौरान उनमें से ज्यादातर लोगों की हार्ट अटैक और मौत की तारीख का अंदाजा पहले ही लगाया जा चुका था। इस शोध को लोगिटबूस्ट कहा गया। शोध के दौरान उनके 17 ऐसी चीजें थी जिन्होंने इसमें सबसे ज्यादा भविष्वाणी में भूमिका अदा की। इनमें उनके सेक्स, उम्र, स्मोकिंग, डायबिटीज आदि, जबकि उनकी जिंदगी की 85 चीजों पर काम किया जा रहा था। सबके आधार हर शख्स की जिंदगी का एग्लोरिथम बना हुआ है। उसका शरीर उसी तरह से रिएक्ट करता है।

 

27-12-2018
Durg : अभिषेक हत्याकांड मामले में बढ़ी तारीख, सुनवाई अब 18 जनवरी को 

दुर्ग। बहुचर्चित अभिषेक मिश्रा हत्याकांड मामले में गुरुवार को जिला एवं सत्र न्यायाधीश गोविंद कुमार मिश्रा की कोर्ट में सुनवाई होनी थी। न्यायाधीश मिश्रा के अवकाश पर होने के कारण अब इस मामले पर अगली सुनवाई की तारीख कोर्ट ने 18 जनवरी तय की है। सूत्रों के अनुसार शंकराचार्य इंजीनियरिंग कॉलेज जुनवानी के डायरेक्टर अभिषेक मिश्रा हत्याकांड मामले में आज स्मृति नगर में घटनास्थल पर लाश को निकालने के लिए गड्ढा खोदने वाले मजदूर सरजू व गोपाल का पुन: प्रतिपरीक्षण होना था।

पूर्व में अभियोजन पक्ष की ओर से पुन: प्रतिपरीक्षण के लिए आवेदन कोर्ट में लगाया गया था। आवेदन में कहा गया था कि लाश उत्खनन करने वाले मजदूर सरजू व गोपाल का प्रतिपरीक्षण पुन: करवाया जाए। पुलिस द्वारा धारा 164 के तहत कलमबद्ध बयान लिया जा चुका था। कोर्ट ने अभियोजन पक्ष के अधिवक्ता से कहा था कि वह तीन दिन के भीतर कोर्ट में प्रश्नावली प्रस्तुत करे, जो प्रश्न सरजू व गोपाल से पूछा जाना है। इस पर अभियोजन पक्ष की ओर से कोर्ट में प्रश्नावली प्रस्तुत कर दी गई थी। इस प्रकरण पर अब 18 जनवरी को सुनवाई होगी।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804