GLIBS
23-11-2020
आडावाल ओरना कैम्प, पुलिस लाइन आसना को किया जाएगा कंटेनमेंट जोन घोषित

जगदलपुर। जिला प्रशासन की ओर से शहर के आडावाल ओरना कैम्प, पुलिस लाइन आसना, बलदेव स्टेट, सिंधी कलोनी, सनसिटी और हाउसिंग बोर्ड कालोनी में लगातार कोरोना पॉजिटिव मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए आने वाले दिनों में संबंधित क्षेत्र को कंटेनमेंट जोन घोषित करने की करवाई की जाएगी। इससे संक्रमण के प्रसार के रोकथाम के समुचित उपाय सुनिश्चित करने के लिए इन स्थानों को एक दो दिनों के लिए सील किया जाएगा। साथ ही वहाँ रहने वाले लोंगों की अनिवार्य सैंपलिंग ली जाएगी। जिला प्रशासन एवं स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना वायरस के संक्रमण के प्रभावी उपाय सुनिश्चित किए गए हैं।

इस कार्य में जनप्रतिनिधि एवं आम नागरिकों से सहयोग की अपील की गई है। ताकि आने वाले समय में कोविड-19 के केसेस की जल्द डिटेक्शन कर समय पर इलाज के आधार पर जीवन बचाया जा सके। सघन जांच अभियान के अंतर्गत जगदलपुर शहर के भीड़-भाड़ वाले क्षेत्रों में लोगों की लगातार कोरोना जांच की जा रही है। इसके अंतर्गत सामवार को चर्च में लोंगों का कोरोना जांच किया गया।

20-11-2020
पांचवी कक्षा के नितिन साहू बने तहसीलदार, कुर्सी पर बैठकर कहा-सभी की मदद करने की कोशिश करूंगा

दुर्ग। पांचवी कक्षा के छात्र नितिन साहू तहसीलदार बने। वे इस कुर्सी पर प्रतीकात्मक रूप से बैठे। उद्देश्य था बच्चों को सार्वजनिक जीवन के एक्सपोजर का। यह कार्यक्रम जिला प्रशासन के सहयोग से एमसीसीआर तथा यूनिसेफ ने किया। नितिन साहू तहसील आफिस की तय समयावधि में आफिस पहुंचे और तहसीलदार की कुर्सी पर बैठे। वहां पर उन्होंने उपस्थित मीडिया से अपनी प्राथमिकताएं भी साझा की। तहसीलदार बने नितिन ने कहा कि मेरे लिए अमीर और गरीब सब बराबर हैं। सबके साथ न्याय हो, इसके लिए भरपूर कोशिश करूंगा। जो भी मेरे पास अपनी समस्या लेकर आएगा, उसे हल करने की पूरी कोशिश करूंगा। अपने तहसील में कानून और व्यवस्था की स्थिति अच्छी रखने की दिशा में काम करूंगा। मैं स्कूल जाउंगा, आंगनबाड़ी भी जाऊंगा और देखूंगा कि वहां व्यवस्था कैसी है। मैं खूब काम करूंगा। नितिन ने बताया कि उन्हें बहुत अच्छा लग रहा है और वे अब खूब पढ़ाई करेंगे। यहां मौजूद तहसीलदार उमेश साहू एवं अन्य अधिकारियों ने भी नितिन की खूब प्रशंसा की और उसे कहा कि खूब पढ़ो और जिंदगी में बड़ा मुकाम हासिल करो। उन्होंने एमसीसीआर तथा यूनिसेफ की टीम को भी इस अच्छे कार्यक्रम के लिए बधाई दी। उन्होंने कहा कि ऐसे कार्यक्रमों से बच्चों का हौसला बढ़ता है और वे बेहतर करने की दिशा में आगे बढ़ते हैं।

 

20-11-2020
जिला एवं सत्र न्यायाधीश की टीम ने जीता सद्भावना क्रिकेट मैच, जिला प्रशासन की टीम को 57 रनों से हराया

जांजगीर-चांपा।  जिला एवं सत्र न्यायाधीश राजेश श्रीवास्तव और कलेक्टर यशवंत कुमार की टीम के बीच पेण्ड्री के मिनी स्टेडियम में सद्भावना क्रिकेट मैच का आयोजन किया गया। दोनों टीम के खिलाड़ियों ने उत्कृष्ट खेल का प्रदर्शन किया। जिला एवं सत्र न्यायाधीश की टीम विजयी रही। जिला एवं सत्र न्यायाधीश की टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 87 रन  बनाकर जीत के लिए 88 रन का लक्ष्य रखा। कलेक्टर इलेवन की टीम मात्र 29 रन बनाकर ऑल आउट हो गई।  संयुक्त कलेक्टर सचिन भूतड़ा, चांपा एसडीएम सुभाष राज,प्रमोद,निलेश,विशाल,उदय,आकाश,  अजय,जितेंद्र, सुजीत,ओपी, संदीप साय, नरेश, पवन ने उत्कृष्ट खेल का प्रदर्शन किया। मैच के दौरान अपर कलेक्टर लीना कोसम,एसएस पैकरा,डिप्टी कलेक्टर केएस पैकरा,एसडीएम मेनका प्रधान सहित खिलाड़ी उत्साहवर्धन के लिए मैच के दौरान उपस्थित थीं।

 

19-11-2020
गुरुनानक देव का 551वां प्रकाश पर्व 30 नवंबर को, बैठक में दिशानिर्देशों का पालन कर मनाने का निर्णय

रायपुर। गुरु नानक देव का  551वां  प्रकाश पर्व  30 नवंबर को है।  इस संबंध में गुरुवार को अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष(कैबिनेट मंत्री दर्जा प्राप्त) महेंद्र सिंह छाबड़ा की अगुवाई में शहर के सभी गुरुद्वारों के अध्यक्ष व पदाधिकारी की बैठक सिविल लाइन में हुई। बैठक में जिला प्रशासन के अधिकारी एडीएम एनआर साहू ,एसडीएम प्रणव सिंह मौजूद थे। बैठक में गुरुनानक देव के प्रकाश उत्सव मनाए जाने संबंध में विस्तृत चर्चा हुई। गुरुद्वारा कमेटी के सभी अध्यक्षों ने प्रशासन की ओर से कोरोना काल निर्देशित सभी आदेशों का पालन करते हुए नानक जयंती मनाने का निर्णय लिया। बैठक में अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष महेंद्र सिंह छाबड़ा ने जिला प्रशासन  को आश्वासन दिया है। उन्होंने कहा है कि छत्तीसगढ़ शासन व प्रशासन की ओर से कोरोना काल के सभी आदेशों का सिख समाज  पालन करते हुए प्रशासन को सहयोग देगा। बैठक में रायपुर शहर के विभिन्न गुरुद्वारों के अध्यक्ष व पदाधिकारी उपस्थित थे। इनमें स्टेशन रोड गुरुद्वारा के अध्यक्ष निरंजन सिंह खनूजा, कार्यकारी अध्यक्ष सुरेन्द सिंह छाबड़ा, जीएस जिपी, मेंबर गुरमीत सिंह सैनी छाबड़ा, सचिव तेजिंदर सिंह होरा, इंद्रजीत सिंह छाबड़ा, गुरमीत सिंह गुरुदत्ता, गुरुद्वारा देवेन्द नगर दिलेर सिंह होरा, पंडरी गुरुद्वारा के अध्यक्ष बलविंदर लवली, जसबिर सिंह, हीरापुर गुरुद्वारा अध्यक्ष रंनजोध सिंह, टाटीबंद गुरुद्वारा अध्यक्ष गुरदीप सिंह, महावीरनगर गुरुद्वारा अध्यक्ष बलुक सिंग, बाबाबुढ्ढा गुरुमुख सिंह चिमा, गुरू अमर दास देवपुरी कुलवंत, गुरुनानक नगर जीएस भाटीया, सोनू सलुजा सहित अन्य उपस्थित थे।

19-11-2020
मजदूरों को ठूस-ठूस कर उत्तरप्रदेश ले जाने वाली तीन बस जब्त, जिला प्रशासन की सक्रियता से मजूदर पहुंचे वापस घर

महासमुन्द। तीन बसों में मजदूरों को भरकर दूसरे राज्य ले जाने वालों पर जिला प्रशासन ने कार्रवाई करते हुए मजदूरों को वापस उनके घर रवाना कर दिया है। बता दें कि उड़ीसा से सैकड़ों की तादात में मजदूर बस में भरकर दूसरे राज्य भेजे जा रहे वाहनों पर कार्रवाई कर पलायन कर रहे मजदूरों को प्रशासन ने वापस घर भेज दिया है। कसडोल में बीती रात उड़ीसा से सैकड़ों की तादात में मजदूर बस में भर कर दूसरे राज्य भेजे जा रहे थे। प्रशासन ने पलायन कर रहे मजदूरों को वापस घर भेज दिया है। बसों में भरे मजदूरों की संख्या 391 बताई जा रही है। पकड़े गए तीनों बसों से मजदूर उत्तरप्रदेश के ईट भट्ठों में ले जाने की तैयारी थी। लेकिन कसडोल प्रशासन के एसडीएम अग्रवाल के निर्देश पर तहसीलदार एमएल सिन्हा के नेतृत्व में द्वय नायब तहसीलदार श्रीधर पंडा एवं भवानी शंकर साव, आरआई आरके कैवर्त एवं नोहर साहू, पटवारी ऋषि मिश्रा एवं सत्यवान पाठक, प्रशिक्षित डीएसपी पांडेय एवं श्रम अधिकारियों की सक्रियता से ग्राम चिखली में बस को पकड़ लिया गया। कोविड—19 संकट काल में एक बस में 120 से अधिक यात्री ठूस-ठूस कर भरे मिले। फिलहाल कसडोल प्रशासन ने मजदूरों को उनके घर वापस भेज दिया है। 

 

18-11-2020
राशन चोरी की मिल रही थी शिकायत,जिला प्रशासन ने की कार्यवाही,चावल और गाड़ी को किया जब्त

बीजापुर। जिला मुख्यालय के वार्ड क्रमांक 3 बीजा हलबापरा में संचालित राशन दुकान से राशन बाहर बेचे जाने की कई दिनों से स्थानीय लोगों के द्वारा मीडिया को सूचना दी जा रही थी। खबर यह थी कि हर महीने गाड़ी में भरकर चावल कहीं जाता है। मीडिया की टीम ने बीजा हलबापारा स्थित राशन दुकान पर अपनी नजर बनाए रखी थी,लगभग दो महीने के मशक्कत के बाद बुधवार को पकड़ में आया। इस बार राशन दुकान से चावल गाड़ी में भर कर बाहर लेकर जाने तैयारी थी। राशन दुकान में जब मीडिया की टीम पहुंची उस वक्त पिकअप वाहन में राशन दुकान से चावल लादा जा रहा था। कई बोरे चावल लादा जा चुका था। जब मीडिया टीम ने उचित मूल्य की दुकान संचालिका से जानकारी मांगी तो उल्टे सीधे जवाब दे रही थी। जवाब सही नहीं मिला तब मीडियाकर्मियों ने जिला खाद्य अधिकारी बीएल पदमाकर को फोन से जानकारी दी।

परंतु खाद्य विभाग की सुस्ती के चलते कार्यवाही लेट होता देख मीडिया ने जिला प्रशासन को दूरभाष से जानकारी दी। तत्काल जिला प्रशासन ने मामले को संज्ञान में लेते हुए बीजापुर एसडीएम हेमेंद्र भुआर्य,खाद्य अधिकारी बीएल पद्माकर एवं अन्य अधिकारियों को उचित मूल्य की दुकान पर कार्यवाही के लिए भेजा । बीजापुरी एसडीएम ने मौके पर पहुंचकर गाड़ी और चावल को जब्त किया और आगे की कार्यवाही की जा रही है।बाइट-बीजापुर एसडीएम हेमन्त भुआरे ने बताया कि मीडिया से जानकारी मिलने पर तत्काल जिला  प्रशासन के आदेश पर हमारी टीम राशन दुकान पहुंची।वहां मौके पर गाड़ी और चावल जब्त किया गया है।दुकान संचालिका से राशन संबंधी पंजी के संबंध में पूछने पर कोई संतोषप्रद जवाब नही मिला।जिस पर आगे की कार्रवाई चावल और गाड़ी को जब्त कर लिया गया है।जिला प्रशासन के द्वारा आगे की कार्यवाही की जा रही है।

13-11-2020
जिला प्रशासन ने इस सप्ताह होने वाली परीक्षाओं की दी जानकारी,नोडल अधिकारी नियुक्त

रायपुर। जिला प्रशासन ने इस सप्ताह होने वाली दो परीक्षाओं की जानकारी दी है। दोनों परीक्षाओं के सफल संचालन के लिए नोडल अधिकारियों की नियुक्ति की गई है। मिली जानकारी के मुताबिक कर्मचारी चयन आयोग की ओर से संयुक्त स्नातक स्तरीय परीक्षा- 2019 (टायर-2) 16 से 17 नवंबर तक आयोग के निर्धारित एक परीक्षा केन्द्र में होगी। परीक्षा के सुचारू संचालन के लिए पूनम शर्मा,डिप्टी कलेक्टर व परीक्षा प्रभारी अधिकारी रायपुर को नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। इसी तरह कर्मचारी चयन आयोग की ओर से जूनियर हिन्दी अनुवादक, जूनियर अनुवादक और सीनियर हिन्दी अनुवादक परीक्षा-2020 ( टायर-2) 19 नवंबर को आयोग के निर्धारित एक परीक्षा केन्द्र में होगी। परीक्षा के सुचारू संचालन के लिए पूनम शर्मा,डिप्टी कलेक्टर व परीक्षा प्रभारी अधिकारी रायपुर को नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है।

 

 

11-11-2020
नियमों की अनदेखीः मेडिकल गोदाम सहित 11 दुकान सील,आवासीय भूमि पर बना लिया था काम्पलेक्स

कवर्धा। नगर पालिका परिषद कवर्धा एवं जिला प्रशासन की संयुक्त टीम ने बुधवार को काली मंदिर के सामने निर्मित मेडिकल गोदाम सहित 11 व्यवसायिक गोदाम को आगामी आदेश तक सील कर दिया गया है। रतन सिंह ठाकुर वार्ड क्रं.18 द्वारा नगर पालिका परिषद कवर्धा से बिना भवन निर्माण अनुज्ञा लिये व्यवसायिक गोदाम निर्माण कर लिया गया था। निर्माण के समय नगर पालिका द्वारा कार्य रोके जाने एवं नियमानुसार भवन निर्माण अनुज्ञा लिये जाने के लिए अनेको बार पत्र जारी किया गया था। लेकिन उनके द्वारा अनुज्ञा जारी किये जाने के लिए अधूरे दस्तावेज के साथ-साथ भ्रामक जानकारी प्रस्तुत किया गया।नगर पालिका के उप अभियंता विरेन्द्र नवघरे ने बताया कि रतन सिंह ठाकुर वार्ड क्रं. 18 द्वारा नगर पालिका द्वारा जारी पत्र का अवहेलना करते हुए आवासीय प्रयोजनार्थ उपयोग भूमि में भवन निर्माण कर मेडिकल गोदाम सहित अन्य व्यवसायिक प्रयोजन के लिए काम्पलेक्स निर्माण कर लिया गया।

लगातार नोटिस व शासकीय पत्र का अवहेलना किये जाने के कारण 6 नवंबर को अंतिम पत्र जारी करते हुए उनको सूचित किया गया था कि अवैध निर्माण को स्वयं से हटा लेवें अथवा भवन अनुज्ञा संबंधी वांछित व संपूर्ण दस्तावेज प्रस्तुत करें अन्यथा पत्र प्राप्ति के पश्चात् पालिका द्वारा छग नगर पालिका अधिनियम 1961 की ससास 187 की उपधारा 8 के तहत बिना अनुमति निर्मित भवन को हटाने की कार्यवाही की जावेगी। नवघरे ने बताया कि भू उपयोग में उल्लेखित आवासीय प्रयोजनार्थ होने के बाद भी व्यवसायिक प्रयोजनार्थ निर्माण कर व अधूरी जानकारी प्रस्तुत करने के कारण बुधवार को रतनसिंह ठाकुर द्वारा निर्मित व्यवसायिक काम्पलेक्स व सहगोदामों को सील कर दिया गया। इस कार्यवाही में नायब तहसीलदार हेमंत पैकरा, सब इंजीनियर अभिषेक श्रीवास्तव, राजस्व विभाग टीम संतोष वानखेडे, हुलास ठाकुर सहित स्टाफ उपस्थित थे।

 

10-11-2020
सुकमा जिला शिक्षा के क्षेत्र में बाजी मार रहा है, 10वीं में अव्वल और 12वीं में छठा रहा वहां का छात्र

रायपुर/सुकमा। सुकमा के छात्र छात्राएं शिक्षा के क्षेत्र में झंडे गाड़ रहे हैं। ज्ञात हो कि इस वर्ष सुकमा के होनहार छात्रों ने दसवीं बोर्ड में जिले को प्रदेश भर में पहला स्थान दिलाया था वहीं बारहवीं की परीक्षाओं में 6वां स्थान कायम किया था। इसका श्रेय जिला प्रशासन, शिक्षा विभाग, शिक्षक शिक्षिकाओं साथ ही उन छात्रों को भी जाता है, जिन्होंने अपनी मेहनत से प्रदेश भर में जिले को गौरवान्वित किया है।

पढ़ई तुन्हर दुआर से लाभान्वित हो रहे बच्चे
कोरोना महामारी के दौर में बच्चों की शिक्षा पर बुरा प्रभाव डाला है। कोविड-19 के संक्रमण के फैलाव को देखते हुए सभी शैक्षणिक संस्थान बंद करने पड़े। इससे सबसे ज्यादा नुकसान अध्ययनरत छात्र छात्राओं को हुआ। छत्तीसगढ़ शासन स्कूल शिक्षा विभाग ने प्रदेश के छात्र छात्राओं को उनकी पढ़ाई से जोड़े रखने के लिए ऑनलाइन माध्यम से पढ़ई तुंहर दुआर कार्यक्रम चलाकर बच्चों के घरों तक शिक्षा पहुंचाने की अनूठी पहल की। इससे प्रदेश भर के लाखों छात्र लाभान्वित हो रहे हैं। जिन क्षेत्रों में इंटरनेट सुविधा सुचारू रूप से उपलब्ध नहीं है वहां शिक्षा सारथियों की मदद से बच्चों को घर पहुंच शिक्षा उपलब्ध कराई गई। इसके साथ ही नेटवर्कविहीन क्षेत्रों में ऑफलाइन माध्यम से शिक्षा दी गई।

शिक्षा सारथियों ने दिया अमूल्य योगदान
ऑफलाइन कक्षाओं के सफल क्रियान्वयन में ग्रामीण युवक युवतियों ने शिक्षा सारथी के रूप में अपना अमूल्य योगदान दिया है। इसी तारतम्य में सुकमा जिले के छिन्दगढ़ ब्लॅाक के ग्राम पंचायत बिरसठपाल, रतिनाईकरास के रहने वाले शिक्षा सारथी विजय कुमार मांझी ने अपने उत्कृष्ट योगदान से पढ़ई तुंहर दुआर पोर्टल पर ख्याति हासिल की है। उन्हें हमारे नायक के रूप में प्रदर्शित किया गया। मांझी ने बताया कि कोरोना के कारण सभी शालाएं बंद है। ऐसे समय में छत्तीसगढ़ शासन ने पढ़ाई तुम्हार दुआर कार्यक्रम के जरिए बच्चों तक ऑनलाइन माध्यम से शिक्षा पहुंचाने की पहल की है। सुकमा में कई ऐसे क्षेत्र है जहां नेटवर्क की सुचारू उपलब्धता नहीं होने के फलस्वरूप बच्चे ऑनलाइन कक्षाओं का लाभ नहीं उठा पा रहे थे। उन्होंने तब बच्चों को शिक्षा से जोड़े रखने के लिए जून 2020 से मोहल्ला कक्षाओं का संचालन शुरू किया। इसमें बच्चों को लरनिंग किट के माध्यम से पढ़ाया गया, हर दो दिन में विजय बच्चों को दिए गए कार्य का अवलोकन कर उन्हें सही सीख देते गए। इससे बच्चों को प्रोत्साहन मिला और वे बेहतर करते गए।

08-11-2020
सरकार अब हांप रही है उसके पास ने तो विकास के लिए पैसा ना किसान के लिए पैसा है: डॉ.विमल चोपड़ा

महासमुन्द। पूर्व विधायक व भाजपा नेता डॉ.विमल चोपड़ा ने किसानों की समस्याओं को देखते हुए सरकार और जिला प्रशासन के रवैय्ये को देखते हुए कहा कि किसानों के धान खरीदी को लेकर ना सरकार गंभीर है और ना ही जिले के राजस्व का अमला, किसान पंजीयन को लेकर तहसील, एसडीएम, कलेक्ट्रेट के चक्कर काट रहे हैं लेकिन किसानों की परेशानियों से किसी को कुछ लेना देना नहीं है। चोपड़ा ने कहा कि महासमुन्द के सत्तासीन जनप्रतिनिधि सत्ता के मद में मस्त है किसानों की समस्याओं से उनका को सरोकार नहीं है। वहीं सत्ता पक्ष के लोगों ने यहां के एसडीएम, तहसीलदार, पटवारी को छूट दे रखी है। सरकार की बिलकुल भी मनसा नहीं है कि वह किसानों के फसल को समय पर ले। पूर्व विधायक डॉ.विमल चोपड़ा ने कहा कि कलेक्टर के निर्देश के बावजूद अनुविभागीय अधिकारी राजस्व द्वारा किसानों के प्रकरणों में रूचि नहीं लिया जा रहा है।अपने मातहत अधिकारियों के साथ बैठकर समस्या का निपटारा करने के बजाय कार्यालय से नदारत रहते है।

जनप्रतिनिधियों के साथ उपेक्षात्मक व्यवहार किया जा रहा है। किसान इस वर्ष वनाधिकार पट्टे सिचाई विभाग की जमीन पर खेती करने वाले, मंदिर ट्रस्ट की जमीन पर धान पैदावार करने वाले, जिले के दो ब्लॉक में खेती करने वाले, बैंटक या अन्य संस्थाओं से कर्ज लेकर लगातार ऋण पटाने वाले किसान, जमीन खरीदी के बीस-पच्चीस साल बाद ऑन लाइन में पूर्व के मालिक का नाम  बताए जाने वाले किसानों, गिरदावरी के नाम पर रकबा काटे जाने वाले किसान, रकबा कम चढाये जाने वाले किसान, आनलाइन बताये जाने वाले किसान परेशान होकर भटक रहे है उनकी सुनवाई प्रशासनिक स्तर पर नहीं हो रही है साथ ही पटवारियों द्वारा हजारों रुपए लेकर कार्य किया जा रहा है, रुपए नहीं देने पर काम को लटकाये जाने सहित अन्य आरोप पूर्व विधायक विमल चोपड़ा ने लगाये है। पूर्व विधायक चोपड़ा ने आगे कहा कि भाजपा द्वारा अनुविभागीय एवं तहसील कार्यालय में लगातार जन अदालत लगाकर किसानों एवं आम जनता की राजस्व संबंधी समस्याओं का निराकरण किया जा रहा है। शासन द्वारा भगवान भरोसे छोड़े गये किसानों को इस जन आंदोलन से भारी राहत मिलने की बात कही है। श्री चोपड़ा ने कहा कि सरकार अब हांप रही है उसके पास ने तो विकास के लिए पैसा ना किसान के लिए पैसा है।  

 

07-11-2020
जिले के कोविड अस्पतालों में अब तक 2 हजार 588 कोरोना संक्रमितों का हुआ इलाज

कोरबा। जिले में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिये कलेक्टर किरण कौशल द्वारा बेहतर और हरसंभव प्रयास किया जा रहा है। कोरोना संक्रमित मरीजों की बेहतर इलाज के लिये दी जाने वाली स्वास्थ्य सुविधाओं को जिला प्रशासन द्वारा निरंतर प्रदान किया जा रहा है। जिले में कोविड मरीजों के इलाज के लिये शासकीय और निजी कोविड अस्पताल स्थापित किये गये हैं। जिले में कुल आठ कोविड संस्थान हैं,जहां पर कोविड संक्रमित मरीजों को भर्ती करके इलाज किया जा रहा है। सभी कोविड संस्थानों में स्वास्थ्य सुविधाएं और मरीजों को मिलने वाली सुविधाओं को जिला प्रशासन द्वारा निगरानी रखकर सुनिश्चित की जा रही है। कोरोना संक्रमितों के लक्षणों और गंभीरता के अनुसार उन्हें कोविड अस्पतालों या होम आईसेालेशन में रखकर इलाज किया जा रहा है। जिले के कोविड संस्थानों में कोरोना संक्रमित मरीजों के इलाज के लिये कुल एक हजार 320 बेड की क्षमता विकसित की गई है। आठ कोविड अस्पतालों में अब तक कुल दो हजार 588 कोरोना संक्रमित मरीजों को इलाज के लिये भर्ती किया जा चुका है। कोविड अस्पतालों में भर्ती मरीजों में 383 मरीज अन्य जिलों के भी शामिल हैं। कुल भर्ती किये गये मरीजों में से दो हजार 313 मरीज कोरोना से स्वस्थ होकर अपने घर लौट चुके हैं। वर्तमान में 80 मरीजों का ईलाज कोविड अस्पतालों में जारी है। बिना या कम लक्षण वाले कोरोना संक्रमित मरीजों को घर पर ही होम आइसोलेशन में रखकर इलाज कराने की सुविधा जिला प्रशासन द्वारा प्रदान की गई है। जिले में अब तक कुल छह हजार 678 लोगों का इलाज होम आइसोलेशन में रखकर किया जा चुका है,जिनमें से पांच हजार 626 लोग होम आइसोलेशन में रहकर पूर्ण रूप से कोरोना से मुक्त हो चुके हैं। वर्तमान में 901 कोरोना संक्रमितों का इलाज होम आइसोलेशन में रखकर किया जा रहा है। होम आइसोलेशन में रखे गये 151 मरीजों में गंभीर स्वास्थ्य की स्थिति आने पर  उन्हें कोविड अस्पताल में भी रिफर किया जा चुका है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा मिली जानकारी के अनुसार ईएसआईसी कोविड अस्पताल में 142 बेड की क्षमता विकसित है। इस कोविड अस्पताल में अभी तक एक हजार 087 मरीज भर्ती किये जा चुके हैं,जिनमें से 976 मरीज ठीक होने के बाद अपने घर लौट चुके हैं। सिपेट कोविड केयर सेंटर में 850 बेड की क्षमता स्वीकृत की गई है। 

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804