GLIBS
15-09-2020
वन विभाग की कार्रवाई : 4 लाख रुपए से अधिक मूल्य के साल लट्ठे जब्त,संस्थान को किया गया सील

रायपुर। वनमंत्री मोहम्मद अकबर के निर्देशानुसार राज्य में वन विभाग की ओर से वनों की सुरक्षा के लिए अभियान लगातार जारी है। इस कड़ी में वन मंडल रायगढ़ के वन परिक्षेत्र रायगढ़ अंतर्गत आरके फर्नीचर एंड टिम्बर रायगढ़ में दबिश दी। 78 नग साल लकड़ी के अवैध लटठे जप्त किए गए हैं। इसका अनुमानित मूल्य 4 लाख रुपए से अधिक आंका गया है।  टीम ने रायगढ़ बाइपास रोड के छातामुड़ा चौक के पास स्थित आरके फर्नीचर एंड टिम्बर रायगढ़ को कार्रवाई के दौरान सील किया है।
प्रधान मुख्य वन संरक्षक राकेश चतुर्वेदी के मार्गदर्शन में वन मंडलाधिकारी रायगढ़ मनोज पांडेय की ओर से गठित टीम 14 सितंबर से उक्त फर्नीचर एंड टिम्बर रायगढ़ में सघन जांच की। टीम को मौके पर चार लाख रुपए से अधिक मूल्य के जब्त लट्ठे के संबंध में आरके फर्नीचर एंड टिम्बर रायगढ़ के मालिक की ओर से आवश्यक दस्तावेज उपलब्ध नहीं कराया गया। कार्रवाई में वन क्षेत्रपाल लीला पटेल सहित प्रभारी वन परिक्षेत्र अधिकारी राजेश्वर मिश्रा और दीनबंधु प्रधान व गोवर्धन राठौर आदि उड़नदस्ता दल के अमले का सराहनीय योगदान रहा। इसके अलावा विजय दीक्षित, ऋषिकेश्वर सिदार,गितेश्वर पटेल, विजय मिश्रा,प्रेमा तिर्की आदि विभागीय अमले ने भी कार्रवाई में भरपूर योगदान दिया। गौरतलब है कि वन मंडल रायगढ़ के अंतर्गत टीम सभी वन परिक्षेत्रों में वन अपराध को रोकने के लिए अभियान निरंतर चला रही है।

 

12-09-2020
वन विभाग की टीम ने मारा छापा: साढ़े पांच लाख रूपए से अधिक कीमत की अवैध लकड़ी और सामान जब्त

रायपुर। वन मंत्री मो.अकबर के निर्देशानुसार राज्य में वन विभाग की ओर से वनों की सुरक्षा के लिए अभियान लगातार चलाया जा रहा है। इस कड़ी में वनमंडल बिलासपुर के अंतर्गत विगत दिवस छापामार कार्रवाई में 5 लाख 50 हजार रुपए से अधिक राशि के अवैध लकड़ी चिरान और सामग्रियां जब्त की गई। इनमें 3 लाख 50 हजार रुपए की राशि के सागौन, शीशम आदि प्रजाति के लकड़ी चिरान और 2 लाख रुपए की राशि के काष्ठ चिरान इलेक्ट्रॉनिक मशीन आदि उपकरण शामिल हैं। प्रधान मुख्य वनसंरक्षक राकेश चतुर्वेदी के मार्गदर्शन में वन मंडलाधिकारी बिलासपुर कुमार निशांत की ओर से गठित टीम ने 11 सितंबर को बेलतरा परिक्षेत्र के ग्राम नेवसा में 7 अलग-अलग घरों में छापामार कार्रवाई की। इस दौरान सागौन और शीशम लकड़ी के अवैध चिरान जब्त किए गए। इसके साथ ही ग्राम नेवसा में चार नग रमदा और काष्ठ चिरान इलेक्ट्रॉनिक मशीन भी जब्त की गई। इनका अनुमानित मूल्य 5 लाख रुपए से अधिक है। इसी तरह टीम ने ग्राम बिटकुला में छापामार कार्रवाई के दौरान लगभग 50 हजार रूपए की राशि के सागौन के अवैध लकड़ी चिरान और सामग्री जब्त की। उक्त कार्रवाई में वन परिक्षेत्र कोटा, बेलगहना तथा रतनपुर के विभागीय अमला का योगदान रहा।

 

08-09-2020
मरवाही अरण्य फल प्रसंस्करण से खुला आय का अवसर, सीताफल पल्प के निर्माण से 61 लाख रूपए की आय अनुमानित

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की मंशा के अनुरूप वन मंत्री मो.अकबर के निर्देशन में राज्य में वन विभाग द्वारा वनवासियों को वनोपजों के संग्रहण के साथ-साथ प्रसंस्कण और विपणन से भी जोड़कर उन्हें अधिक से अधिक लाभ पहुंचाने के लिए हरसंभव पहल की जा रही है। इस तारतम्य में प्रधान मुख्य वन संरक्षक राकेश चतुर्वेदी ने बताया कि राज्य के मरवाही वनमण्डल के अंतर्गत सीताफल के संग्रहण, प्रसंस्करण तथा विपणन के लिए एक सहकारी समिति ’मरवाही अरण्य फल प्रसंस्करण उद्योग’ का गठन किया गया है। इससे क्षेत्र के 3 हजार 250 वनवासी परिवारों को सीधे तौर पर लाभ मिलेगा। यहां चालू वर्ष में लगभग 60 टन सीताफल पल्प के निर्माण से 61 लाख रूपए की आय अनुमानित है। इस तरह ’मरवाही अरण्य फल प्रसंस्करण उद्योग’ से वनवासियों के लिए अधिक से अधिक आय अर्जित करने का अवसर खुल गया है।

मरवाही अरण्य फल प्रसंस्करण में सीताफल के साथ-साथ वनों में पाए जाने वाले फलों जैसे- तेंदू, चार, भेलवा, महुआ, तथा जामुन आदि का मूल्य संवर्धन, पल्प निर्माण, आईस्क्रीम, कैंडी, बर्फी लड्डू जैसे उत्पादों का निर्माण किया जाएगा। इसकी स्थापना में लगभग 60 लाख रूपए का व्यय अनुमानित है। चालू वर्ष के दौरान लगभग 240 टन सीताफल क्रय का लक्ष्य रखा गया है। इसका संचालन दानीकुण्डा वन प्रबंधन समिति द्वारा किया जाएगा। समिति द्वारा क्षेत्र में सीताफल का न्यूनतम मूल्य 10 रूपए प्रति किलोग्राम निर्धारित कर क्रय किया जाएगा। इससे संग्राहकों को एक लाख 44 हजार रूपए का प्रत्यक्ष लाभ होगा। विगत वर्षों में क्षेत्र में व्यापारियों द्वारा 4 से 5 रूपए प्रति किलोग्राम में क्रय कर बड़े शहरों में इसे 40 से 50 रूपए प्रति किलोग्राम विक्रय किया जाता रहा है। अब क्षेत्र के वनवासियों को समिति से अधिक लाभ मिलेगा। इसी तरह चालू वर्ष में ही 60 टन सीताफल पल्प निर्माण का भी लक्ष्य रखा गया है। इसके अलावा सह उत्पाद के रूप में 36 टन बीज प्राप्त होगा। जिसे आर्गेनिक कीटनाशक उत्पादकों को विक्रय किया जाएगा। मरवाही अरण्य फल प्रसंस्करण द्वारा पल्प के निर्माण में 78 प्रति किलोग्राम का व्यय अनुमानित है। जिसका वर्तमान बाजार मूल्य 150 रूपए प्रति किलोग्राम है। इस तरह 60 टन सीताफल पल्प के निर्माण से 61 लाख 20 हजार रूपए की राशि का लाभ अनुमानित है। भविष्य में इसी समिति द्वारा सीताफल के साथ-साथ तेंदू, चार, भेलवा, महुआ, तथा जामुन से पल्प निर्माण, आईस्क्रीम, कैंडी, बर्फी लड्डू का निर्माण किया जाएगा और इसे रेलवे स्टेशनों, मॉलों तथा संजीवनी केन्द्रों में भी विक्रय किया जाएगा।

 

07-09-2020
नन्हें मेहमान के साथ हाथियों के दल ने फिर दी धमतरी में दस्तक

धमतरी। हाथियों के दल ने फिर अपने परिवार के साथ जिले में दस्तक दे दी है, जिसमें एक बच्चा भी साथ है। दल में कुल 21 हाथियों को मगरलोड ब्लॉक के मड़वापथरा में देखा गया है। ज्ञात हो कि कुछ माह पहले भी यही दल चंदा हाथी के साथ जिले में अपने परिवार के 21 सदस्यों के साथ जिले में आया था, हालांकि उस समय उसके और परिवार के सदस्यों ने किसी को नुकसान नहीं पहुंचाया था। अब फिर उसका दल एक नन्हें साथी के साथ जिले के मंडवापथरा क्षेत्र में दिखाई दिया है। हालांकि अब तक दल ने किसको भी फिलहाल कोई नुकसान की खबर नहीं है। डीएफओ अमिताभ वाजपेई ने बताया कि चंदा हाथी का दल पुनः जिले में आया है, वन विभाग अलर्ट है। निगरानी रखी जा रही, ग्रामीण क्षेत्रों में मुनादी करा दी गई है।

04-09-2020
आधा दर्जन हाथियों के दल का आतंक जारी, 3 घरों को तोड़ा

रायपुर/बलरामपुर। ग्राम माकड़ में हाथियों ने आतंक मचा रखा है। बलरामपुर के ग्राम माकड़ में 10 हाथियों का दल उत्पात मचा रहा है। हाथियों ने मक्के की फ़सल को रौंद दिया है। राजपुर वन परिक्षेत्र में हाथियों के दल ने एक घर को भी तोड़ दिया है। 3 मवेशियों को भी हाथियों ने घायल किया है। वन विभाग की टीम घायल मवेशियों का इलाज करा रही है।

03-09-2020
अमृतधारा पर्यटक स्थल को छत्तीसगढ़ में मिलेगी नई पहचान

कोरिया। कोरिया जिले का सुप्रसिद्ध जलप्रपात पर्यटक स्थल अमृतधारा को पर्यटन के क्षेत्र में छत्तीसगढ़ में एक नई पहचान दिलाने का प्रयास किया जाएगा। इस दिशा में जिला प्रशासन व प्रदेश सरकार के द्वारा तेज गति से कार्य किए जा रहे हैं। भरतपुर सोनहत विधायक गुलाब कमरो ने गुरुवार को अमृतधारा पहुंचकर अमृतधारा में चल रहे विभिन्न निर्माण कार्यों का निरीक्षण किया तथा जल्द से जल्द कार्यों को पूर्ण करने का आवश्यक दिशा निर्देश दिया।अमृतधारा में बनाए गए रेस्ट हाउस, रिसॉर्ट, कैंटीन  आदि का निरीक्षण किया। वन विभाग के अधिकारियों के द्वारा भरतपुर सोनहत विधायक गुलाब कमरो से एक रसोई घर का निर्माण कराए जाने की मांग की गई। वन विभाग के अधिकारियों का कहना था कि जलप्रपात पर्यटक स्थल अमृतधारा में आने वाले खास से आम तक जो लोग रेस्ट हाउस में ठहरते हैं उनके लिए खाना बनाने के लिए रसोई घर की व्यवस्था नहीं है अगर यहां पर रसोई घर की व्यवस्था करा दी जाती है तो आने वाले लोगों के लिए खाना बनाने आदि के लिए परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा। वन विभाग के अधिकारियों की मांग पर विधायक कमरो ने अमृतधारा में रसोईघर बनाने की बात कही है साथ ही कैंटीन को भी व्यवस्थित करने की बात कही है। उनके द्वारा जलप्रपात स्थल पर रेलिंग का कार्य सुरक्षा की दृष्टि से किया जा रहा है उसका भी निरीक्षण कर आवश्यक दिशा निर्देश दिया गया है।

भरतपुर सोनहत विधायक कमरो ने जलप्रपात अमृतधारा में पानी टंकी,रसोईघर एवं स्टॉप डेम बनाने की बात कही है। उन्होंने कहा कि स्टॉप डेम के बन जाने से पाइप लाइन के माध्यम से रेस्ट हाउस व रिसोर्ट तक पानी पहुंचाया जाएगा,जिससे पानी की व्यवस्था उपलब्ध हो सकेगी और पानी की समस्या से निजात मिल सकेगी। विधायक कमरो ने कहा कि फास्ट फूड के लिए 6 दुकानों का निर्माण कराया गया है उनका विस्तार करते हुए उन दुकानों के ऊपर पांच और दुकान का निर्माण कराया जाएगा। उन्होंने कहा कि कोरिया जिले के सुप्रसिद्ध पर्यटक स्थल अमृतधारा में सभी तरह की सुविधाएं लोगों को उपलब्ध कराई जाएंगी ! पर्यटन के क्षेत्र में अमृत धारा को छत्तीसगढ़ में एक नई पहचान दिलाई जाएगी इसके लिए जिला प्रशासन व राज्य शासन के द्वारा तेज गति से कार्य योजना बनाकर कार्य किया जा रहा है। आने वाले समय में अमृतधारा जलप्रपात पर्यटक स्थल का एक बदला हुआ स्वरूप नजर आएगा जहां पर लोगों की सुविधाओं को देखते हुए हर तरह की व्यवस्था रहेगी। इस अवसर पर जनपद पंचायत अध्यक्ष डॉ.विनयशंकर सिंह, जनपद उपाध्यक्ष राजेश साहू, नगर पालिका परिषद मनेंद्रगढ़ के उपाध्यक्ष कृष्णमुरारी तिवारी,जिला कांग्रेस महामंत्री रामनरेश पटेल सहित वन विभाग के अधिकारी एवं जनप्रतिनिधि उपस्थित रहे।

 

30-08-2020
टाइगर रिजर्व में वन विभाग की कार्रवाई, चीतल का शिकार करने वाले दो आरोपी गिरफ्तार

रायपुर। वन मंत्री मोहम्मद के अकबर के निर्देशानुसार राज्य में वन विभाग द्वारा वन्य प्राणियों के अवैध शिकार की रोकथाम सहित वनों की सुरक्षा के लिए अभियान लगातार चलाया जा रहा है। इस तारतम्य में अपर प्रधान मुख्य वन संरक्षक (वन्य प्राणी) अरूण पाण्डेय ने बताया कि आज मुखबीर की सूचना के आधार पर अचानकमार टाइगर रिजर्व के कोर क्षेत्र में स्थित सुरही ग्राम में तलाशी ली गई। इसमें मौके पर चीतल का मांस सहित शिकार के लिए प्रयुक्त सामग्रियों को जब्त कर ग्राम सुरही के दो आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है।

अचानकमार टाइगर रिजर्व लोरमी के उप संचालक विजया रात्रे और अचानकमार अमरकंटक बायोस्फीयर रिजर्व के क्षेत्र संचालक नायर विष्णुराज नरेन्द्रन के संयुक्त निर्देशन में दो पृथक-पृथक टीम गठित की गई और सूचना के आधार पर टाइगर रिजर्व के वन परिक्षेत्र सुरही के अंतर्गत ग्राम सुरही में सर्च वारंट जारी कर तलाशी ली गई। ग्राम सुरही में तलाशी के दौरान चीतल के अवैध शिकार में संलिप्त पंचू बैगा और छोटू बैगा को गिरफ्तार कर लिया गया है। इसके अलावा अवैध शिकार में संलिप्त अन्य आरोपियों की तलाश जारी है। उक्त कार्रवाई में अचानकमार टाइगर रिजर्व लोरमी के सहायक संचालक चूड़ामणी  सिंह वन परिक्षेत्र अधिकारी दिनेश कुमार ठाकुर, विकास कुमार चन्द्राकर, निखिल कुमार पैकरा तथा बुधवार सिंह आदि का योगदान रहा।

 

20-08-2020
सवा लाख के सागौन लकड़ी सहित एक पिकअप वाहन जब्त,तीन आरोपी  गिरफ्तार

रायपुर। वन मंत्री मोहम्मद अकबर के निर्देशानुसार राज्य में वन विभाग द्वारा वनों की सुरक्षा के लिए अभियान लगातार चलाया जा रहा है। इस कड़ी में हाल ही में बादलखोल अभ्यारण्य और जशपुर वनमंडल अंतर्गत लगभग एक लाख 25 हजार रूपए मूल्य के सागौन लकड़ी को जब्त करने सहित एक पिकअप वाहन के राजसात की कार्रवाई की जा रही है। इस संबंध में उप निदेशक हाथी रिजर्व एवं अभ्यारण्य प्रभाकर खलखो ने बताया कि विगत दिवस माह अगस्त के प्रथम सप्ताह में प्रधान मुख्य वन संरक्षक राकेश चतुर्वेदी के मार्गदर्शन में वन परिक्षेत्र कुनकुरी में सघन छापामार कार्रवाई की गई। इस दौरान वन विभाग के गठित दल द्वारा अवैध लकड़ी कटाई तथा परिवहन में संलिप्त कुनकुरी तथा सारंगडांड के तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया गया। इनके खिलाफ वन अपराध अधिनियम के तहत आवश्यक कार्रवाई जारी है। इसमें परिवहन में संलिप्त एक पिकअप वाहन क्रमांक सीजी 14 डी 0598 के राजसात सहित आरोपियों से 1.5 घन मीटर सागौन लकड़ी जप्त की गई है। इसमें सागौन लकड़ी का अनुमानित मूल्य लगभग एक लाख 25 हजार रूपए है। उक्त कार्रवाई में बादलखोल अभ्यारण्य, कुनकुरी तथा तपकरा वन परिक्षेत्र के वन कर्मचारियों का सराहनीय योगदान रहा। 

12-08-2020
होम हर्बल गार्डन योजना से औषधीय पौधों का निशुल्क वितरण 13-14 अगस्त को

रायपुर। लोक स्वास्थ्य परंपरा संवर्धन अभियान के तहत निशुल्क औषधीय पौधों का वितरण जारी है। इसके तहत पौधों का वितरण 13 और 14 अगस्त को संजीवनी मार्ट वन कार्यालय परिसर बिलासपुर में किया जाएगा। छत्तीसगढ़ राज्य औषधीय पादप बोर्ड के मुख्य कार्यपालन अधिकारी जेएसीएस राव ने बताया कि राज्य औषधीय पादप बोर्ड रायपुर, वन विभाग और परंपरागत वनौषधि प्रशिक्षित वैद्य संघ छत्तीसगढ़ के संयुक्त तत्वाधान में लोक स्वास्थ्य परंपरा संवर्धन कार्यक्रम चलाया जा रहा है।

इसके तहत बिलासपुर में गिलोय, अडूसा, तुलसी, पिपली, अश्वगंधा, कालमेघ, गुड़मार, स्टीविया, सहजन, निगुर्णी, ब्राम्ही, घृत कुमारी, मंडूपपर्णी, आंवला और सतावर आदि के जीवन रक्षक औषधीय पौधों का वितरण किया जाएगा। वनमंडलाधिकारी बिलासपुर कुमार निशांत ने बताया कि इसका वितरण 13 तथा 14 अगस्त को सुबह 11 बजे से शाम 4 बजे तक होगा। इन औषधीय पौधों को आसानी से घर के गमलों में लगाया जा सकता है।

 

11-08-2020
नगरी क्षेत्र में तेन्दुएं ने बछड़ा का किया शिकार,दो शावकों के साथ देखी गई मादा तेंदुआ

धमतरी। जिले के नगरी वन परिक्षेत्र अन्तर्गत राजपुर बीट के ग्राम बटनहर्रा में सोमवार की दरम्यानी रात वन्य प्राणी तेन्दुए ने एक बछड़े का शिकार कर लिया हैं। ग्रामीणों ने सुबह बछड़े का शव देखा,इसकी सूचना वन विभाग को दी गई।
वन विभाग से मिली जानकारी के अनुसार बटनहर्रा निवासी एक किसान को बाड़ी में कुछ आहट सुनाई दी,जिससे शंका होने पर रात लगभग 3 बजे वह बाड़ी की तरफ निकला तो बछड़ा गायब मिला। अंधेरा होने के कारण वह सुबह होने पर बछड़ा को ढूंढने की सोचकर पुनः घर अंदर आ गया। मंगलवार सुबह किसान कृष्णकुमार यादव के पड़ोसी के बाड़ी में बछड़े का शव क्षत विक्षत हालत में मिला।

कृष्ण कुमार यादव ने इसकी जानकारी वन विभाग को दी। वन विभाग को सूचना मिलते ही अधिकारी कर्मचारियों ने मौके पर जाकर शिनाख्त की तो मौके पर तेन्दुएं के पंजों का निशान मिला हैं साथ ही विभाग आगे की कार्रवाई में जुट गया है।बता दें कि एक लम्बी खामोशी के बाद एक बार फिर क्षेत्र में तेन्दुए की चहलकदमी नजर आई है, ताजा मामला कल सोमवार की शाम को देऊरपारा के पहाड़ी के नीचे देखने को मिला। जहाँ पर ग्रामीणों ने एक मादा तेन्दुएं को उसके दो छोटे शावकों के साथ देखा और तत्काल इसकी सूचना वन परिक्षेत्र बिरगुड़ी के अधिकारी कर्मचारियों को दी।

 

11-08-2020
सागौन के 143 नग अवैध चिरान जब्त, वनों की सुरक्षा के लिए सघन अभियान जारी

रायपुर। वन विभाग की ओर से वनों की सुरक्षा के लिए सघन अभियान चलाया जा रहा है। इस कड़ी में बिलासपुर वन मंडल के अंतर्गत गत दिवस बेेलगहना वन परिक्षेत्र के ग्राम लमनी डबरी में छापामार कार्रवाई की गई। वन मंडलाधिकारी कुमार निशांत के निर्देशन में गठित टीम द्वारा वहां एक व्यक्ति के घर से 143 नग सागौन तथा अन्य प्रजाति के चिरान जब्त किए गए। इसका अनुमानित मूल्य 50 हजार रुपये से अधिक आंका गया है। इसमें लमनी डबरी के संलिप्त एक व्यक्ति के विरूद्ध भारतीय वन अधिनियम के तहत अपराध दर्ज कर जांच की कार्रवाई जारी है। कार्रवाई के दौरान टीम में उप मंडलाधिकारी कोटा डीएन त्रिपाठी तथा वन परिक्षेत्र अधिकारी विजय कुमार साहू आदि विभागीय अमले का सराहनीय योगदान रहा।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804