GLIBS
20-09-2019
 पिकअप से 81 नग साल चिरान जब्त, दो आरोपी हिरासत में

उदयपुर। सरगुजा जिले के वन परिक्षेत्र उदयपुर के कर्मचारियों ने गुरुवार और शुक्रवार की दरम्यानी रात करीब 1 बजे गस्त के दौरान एक पिकअप में इमारती लकड़ी लोड होने की खबर पर मोटरसाइकिल एवं बोलेरो से पिकअप का पीछा करते हुए  साल चिरान लगभग 2.08 घन मीटर जब्त कर दो आरोपियों को धर दबोचा। वन विभाग के एसडीओ एसएन मिश्रा और वन परिक्षेत्राधिकारी सपना मुखर्जी ने बताया कि कल डांडगांव सर्किल के कर्मचारियों को सूचना मिली कि पिकअप में लकड़ी लोडकर ले जाया जा रहा है। वनकर्मियों ने इसका पीछा करना शुरू किया। रुकवाने का लाख प्रयास करने के बाद भी पिकअप चालक ने वाहन नहीं रोका बल्कि उसकी गति और बढ़ाता चला गया। वनकर्मियों ने भी हार नहीं मानी और बाइक के साथ-साथ बोलेरो में सवार होकर पिकअप का पीछा किया।  अंतत: ग्राम जमगला के समीप उसे पकडऩे में सफलता हासिल मिली। पिकअप चालक ने इसे सूरजपुर जिले के वन परिक्षेत्र प्रेमनगर के ग्राम जनार्दनपुर से चिरान लोड कर लाना बताया। पिकअप क्रमांक सीजी 15 सीजेड 3519 को जमगला निवासी लोचन सिंह चला रहा था। उसके साथ पिकअप में सहेश्वर सिंह भी सवार था। जब् की गई साल की 81 नग चिरान 2.08 घन मीटर है। लकड़ी की कीमत लगभग 80 हजार रुपए बताई गई है। लकड़ी तस्करों के खिलाफ छ.ग.वनोपज व्यापार अधिनियम की धारा 5ग,एवं छ.ग. काष्ठ चिरान अधिनियम की धारा 5अ के अधीन पी.ओ.आर.क्र.10800/16 दर्ज कर राजसात करने की कार्रवाई की जा रही है। इस कार्रवाई में वन परिक्षेत्र सहायक रामलोचन द्विवेदी, वनरक्षक अशोक सिंह, अमरनाथ राजवाड़े, सियाराम वर्मा, भरत सिंह, धनेश्वर सिंह, बुध साय, चौकीदार चंद्र दास, शिव प्रसाद यादव सहित अन्य लोग सक्रिय रहे।

20-09-2019
गांव में दिखा मगरमच्छ, ग्रामीणों ने किया वन विभाग हवाले

जांजगीर चाम्पा। कोटमिसोनार में 4 फिट लंबा मगरमच्छ दिखने से ग्रामीणों मे हड़कंप मच गया। ग्रामीणों ने मगरमच्छ दिखने की सुचना वन विभाग को दी। वन विभाग की टीम के मौके पर पहुंचने से पहले ग्रामीणों ने मगरमच्छ को पकड़ लिया था। मौके पर पहुंचकर वन विभाग की टीम ने मगरमच्छ को अपने कब्जे में लिया और क्रोकोडायल पार्क में ले जाकर छोड़ दिया।  

20-09-2019
हाथियों का दल पहुंचा रहा फसल को नुकसान, किसान परेशान

राजपुर। धान की फसल तैयार होने को है और जिले में एक बार फिर से जंगली हाथियों ने अपनी पैठ जमा ली है। फसलों को नुकसान पहुंचाने लगे हैं जिससे किसानों के लिए दुगनी मुसीबत खड़ी हो गई है। एक ओर जहां इस वर्ष बारिश की अनियमितता के कारण फसल प्रभावित हो गई है। वहीं दूसरी ओर अब हाथियों ने बची खुची कसर पूरी कर दी है। फसलों को नुकसान पहुंचाने के साथ-साथ हाथियों द्वारा गांवो में घुसकर जमकर तबाही मचाई जाती है। इससे कई बार हाथियों एवं मनुष्य के बीच संघर्ष की स्थिति निर्मित हो जाती है। लोगों को जनहानि के रूप में इसकी भारी कीमत चुकानी पड़ती है। फिलहाल राजपुर विकासखंड के गांवो के लोग जंगली हाथियों के डर से ग्रामीण घरों को छोड़ एक सुरक्षित स्थान पर रात भर जागने पर मजबूर है। बताया जा रहा है कि अभी 15 हाथियों का दल क्षेत्र में जमा हुआ है। इस दल का नाम बाकी दल है।

जिसमें 2 बच्चे 7 नर और 6 मादा हाथियों की संख्या है। यह हाथियों का दल वन परिक्षेत्र राजपुर के अंतर्गत माकर एवं उलिया गांव के बीच के जंगलों में जमा हुआ है। बीती रात इन हाथियों के दल ने माकर गांव के 2 किसानों की फसलों को नुकसान पहुंचाया है। हालांकि उससे होने वाले नुकसान का अभी तक नुकसान अनुमान नहीं लगाया जा सका है। हाथियों का दल लगातार उस क्षेत्र में जमा हुआ है जिसके डर से लोग खेतों का मुआयना नहीं कर पा रहे हैं। वहीं वन विभाग ने लोगों से अपील की है कि हाथियों के साथ छेड़छाड़ ना करें। उन्हें किसी प्रकार से तंग ना किया जाए। ना ही उसने किसी प्रकार की उकसाने की कोशिश करें। इससे जन धन का नुकसान हो सकता है। वन परिक्षेत्र अधिकारी राजपुर का कहना है कि हमने लोगों को हाथियों के पहुंच से दूर रहने की हिदायत दी है। जंगलों में जाने से मना किया है। रात के समय में घर में ही रहने की सलाह दी है। हमारी टीम द्वारा लगातार हाथियों पर नजर रखी जा रही है और उन्हें बसाहट से दूर रखने की हर संभव प्रयास की जा रही है l

15-09-2019
युवक की जंगली भालू से खूनी मुठभेड़, जख्मी हालत में हुआ अस्पताल में भर्ती

कोरबा। जंगलों के भीतर नहीं जाने की वन विभाग की चेतावनी को नजरअंदाज करना एक ग्रामीण को महंगा पड़ गया। पुटु खोजने निकले एक युवक की जंगली भालू से मुठभेड़ हो गई। इस खूनी संघर्ष में युवक बुरी तरह जख्मी हो गया। वह जैसे तैसे भागकर घर पहुंचा, जिसके बाद उसे पसान के अस्पताल ले जाया गया। गहरे जख्मों को देखते हुए डॉक्टर्स ने उसे पेंड्रा के अस्पताल रिफर कर दिया। घायल हुए युवक का नाम आनंद कुमार पिता बलराम सिंह (38) है। वह पसान वन परिक्षेत्र के सुखाबहरा गांव का रहने वाला है। परिजनों की माने तो आनंद कुमार रविवार सुबह पुटु की तलाश में जंगलों के भीतर गया हुआ था। तभी अचानक उसका सामना एक भालू से हो गया। वह खुद को बचा पाता इससे पहले ही भालू ने उस पर हमला कर दिया। जान बचाकर आनंद कुमार लहूलुहान हालत में सीधे घर पहुंचा। फिलहाल उसकी हालत स्थिर है। डायल 112 के जवानों ने उसे पेंड्रा के अस्पताल में दाखिल करा दिया है। वन विभाग को इसकी सूचना दे दी गई है। उन्होंने ग्रामीणों से अपील की है कि फिलहाल जंगलों के भीतर प्रवेश से बचे। गौर करने वाली बात है इन दिनों प्रशांत क्षेत्र में जंगली हाथी और भालू का आतंक देखा जा रहा है। वन विभाग की चेतावनी के बाद भी ग्रामीण जंगलों में घुसने से बाज नहीं आ रहे है और इस तरह वह वन्यप्राणियों के हमले का शिकार हो रहे है। 

 

12-09-2019
पुल ढहने से ग्रामीणों को आने-जाने में हो रही दिक्कत

राजनांदगांव। बारिश के पानी के चलते मानपुर से  20 किलोमीटर दूर पर जक्के जाने वाले मार्ग पर बनी पुलिया पूरी तरह ढह गई। पुलिया के ढह जाने की वजह से यातायात पूरी तरह प्रभावित हो चुका है। यह भी खबर सामने आ रही है कि पुल के दोने तरफ रातभर ग्रामीण और पालतू मवेशी फसे हुए थे। ग्रामीणों ने बताया कि इस पुल का निर्माण वन विभाग ने वर्ष 2014 में 48 की लाख की लागत से कराया था। ग्रामीणों का आरोप है कि पुलिया निर्माण के वक्त मापदंडों का ध्यान नहीं रखा गया जिसके कारण मंगलवार को पुलिया पूरी तरह ढह गई। बताया गया कि इस पुलिया से पानी बहकर बोरिया नदी में जाता है। पल्लेमाड़ी, डुलकी माइंस और कमका सुर व कोसमी जगहों के पानी बहाव इसी पुलिया से होकर गुजरता है। इस मार्ग पर से गुजरने वाले ग्रामीणों को दिक्कतों का सामना नहीं करना पड़े इसके लिए लाखों की लागत से पुल का निर्माण कराया गया था, लेकिन पांच साल में ही पुलिया बीच से ढह गई। वन विभाग से मिली जानकारी के अनुसार कार्य एजेंसी तो वन विभाग थी, लेकिन आरईएस विभाग की देखरेख में यह पुल बना था। और भुगतान वन विभाग ने किया था। गांव के  हेमलाल  दर्रो, तलवार बोगा, बुधरू दुग्गा, मंशा राम दुग्गा, मनेश दुग्गा, शिवलाल बोगा, रामप्रसाद कोमरे, मनकेर बोगा, जगत बोगा, चैतराम पटेल आदि ने बताया कि इस पुल के ढहने से हम लोगों का आना-जाना बंद हो गया, जिसके कारण भारी परेशानी हो रही है। पुल ढहने की खबर सुनकर मोहला मानपुर विधायक इंद्रशाह मंडावी और युवा कांग्रेस के जिलाध्यक्ष मनीष निर्मलकर भी वहां पहुंचे और ग्रामीणों से मुलाकात की। प्रभारी तहसीलदार सुरेंद्र उर्वासा ने बताया कि पुल के टूटने से आवागमन बाधित नहीं हुआ है, ग्रामीण दूसरे रास्ते से अपने गांव पहुंच रहे हैं।

 

06-09-2019
ठेलकाबोड़ में तेंदुए ने बनाया 20 कड़कनाथ मुर्गों को अपना शिकार

कांकेर। शहर से सटे ठेलकाबोड़ में बीते चार दिनों से एक तेंदुए ने आतंक मचा रखा है। बीती रात भी तेंदुआ गांव में घुस आया और एक बार फिर कड़कनाथ मुर्गा फार्म में घुसकर 15 से 20 मुर्गों को मार डाला। फार्म के मालिक ने तेंदुए को अपने मोबाइल के कैमरे में कैद किया तब कहीं जाकर वन विभाग की टीम ने मौके पर तेंदुए को पकडऩे पिंजरा लगाया है। बते दें कि इलाके के पास वाली पहाड़ी से रोजाना रात में तेंदुआ नीचे उतरकर बस्ती की ओर रुख कर रहा है, जिससे यहां के लोगों में काफी दहशत है। तेंदुआ यासिम खान के कड़कनाथ मुर्गे के फार्म में रोज घुस रहा है। भोजन की तलाश में तेंदुए के रोज बस्ती की ओर आने से लोग काफी डरे हुए हैं और रात में घरों से निकलने से घबरा रहे हैं। 

नरेश भीमगज की रिपोर्ट 

03-09-2019
हाथी प्रभावितों को राज्य मंत्री गुलाब कमरो ने बांटा मुआवजा

मनेन्द्रगढ़। वन विभाग द्वारा हाथी के उत्पात से प्रभावित 15 लोगों के बीच 2 लाख 3 हजार 800 रूपए का मुआवजा वितरण किया गया। सरगुजा विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष गुलाब कमरो ने भरतपुर ब्लाक के ग्राम पंचायत चाटी में कुंअवारपुर परिक्षेत्र में मुआवजा राशि का चेक वितरण किया साथ ही ग्रामीणजनों से मुलाकात भी की। उदल सिंह ग्राम घटई को 50 हजार, जमथान के रामभरोस को 1 हजार 400, रामलाल को 1 हजार 200, सुशीला देवी को 13 हजार 800, ग्राम चांटी के बंशलाल को 4 हजार 400, बाबू सिंह को 22 हजार 700, श्यामसुंदर को 1 हजार, हीरालाल को 20 हजार 900, सुखलाल को 1 हजार 800, बिहारी को 23 हजार 100, राजेंद्र सिंह को 8 हजार 650, डोंगरीटोला के गोविंद सिंह को 25 हजार 100, दुखवा सिंह को 21 हजार, मंडल सिंह को 1 हजार 600 एवं सुखी बाई को 7 हजार 150 रुपए का चेक राज्यमंत्री के हाथों वितरित किया गया। वहीं राज्यमंत्री कमरो ने चांटी के मिडिल स्कूल का निरीक्षण भी किया। स्कूल की जर्जर हालत पर चिंता व्यक्त करते हुए उन्होंने नए भवन की स्वीकृति प्रदान की।

 

31-08-2019
कलेक्टर ने ली वन प्रबंधन समितियों की बैठक

धमतरी। कलेक्टर रजत बंसल ने शनिवार को वन विभाग के मुख्यालय में स्थित धन्वंतरि सभाकक्ष में वन प्रबंधन समितियों तथा वन परिक्षेत्र अधिकारियों की बैठक लेकर उनके कार्यों की समीक्षा की। बैठक में उन्होंने ऐसे वन परिक्षेत्र जहां राशि मौजूद है, वहां अभिसरण से नए कार्य स्वीकृत करने, बाड़ी परियोजना के तहत सम्मिलित गांवों में आदर्श बाड़ी विकसित करने के लिए आधुनिक विधि से खेती को प्रोत्साहित करने, बाड़ियों को फेंसिंग करने, जैविक खाद्य के निर्माण पर जोर देने की बात कही, साथ ही क्रेडा विभाग के समन्वय से बॉयोगैस की उपयोगिता और महत्व एवं इस पर मॉडल विकसित करने के लिए कलेक्टर ने जोर दिया। उन्होंने बैठक में वन प्रबंधन समितियों का माइक्रो प्लान समय-सीमा में तैयार कर समितियों की सहभागिता सुनिश्चित करने व विभिन्न योजनाओं के साथ अभिसरण करने की कार्ययोजना तैयार करने की बात कही। साथ ही जिले में 26 वनधन विकास केन्द्र विकसित करने के लिए प्रारम्भिक तौर पर प्रस्ताव तैयार करने के निर्देश अधिकारियों को दिए।

 

27-08-2019
फिर वन विभाग में बंपर तबादले, देखिए इस बार किन्हें किया गया इधर से उधर

रायपुर। छत्तीसगढ़ की भूपेश सरकार ने तबादलों के क्रम में वन विभाग में बंपर तबादले किए हैं। इस बार वन क्षेत्रपाल संवर्ग के 84 और उप वन क्षेत्रपाल संवर्ग के 70 कर्मचारियों को स्थानांतरित किया गया है। इस संबंध में छत्तीसगढ़ शासन वन विभाग के अवर सचिव केपी राजपूत ने आदेश जारी किया है।

 

26-08-2019
मंत्री मो. अकबर ने किया आश्वस्त, वन विभाग उपलब्ध करवाएगा निशुल्क पौधे

रायपुर। परिवहन, वन,आवास एवं पर्यावरण मंत्री मो.अकबर ने सोमवार को राजीव भवन में प्रचार गीत को लॉन्च किया। पर्यावरण की दिशा में कार्य कर रहे संगठन ने अभियान हर-घर पौधा, घर-घर पौधा की जानकारी देते हुए एक प्रचार गीत का शुभारंभ मंत्री मो. अकबर के हाथों से करवाया। संगठन के पदाधिकारियों ने बताया कि पौधारोपण की शुरुआत उन्होंने अपने घरों से परिजनों ही एक-एक पौधा लगाकर शुरू की है। मंत्री मो.अकबर ने आश्वस्त किया है कि इस कार्यक्रम में जितने भी पौधे लगाए जाएंगे उसे वन विभाग नि:शुल्क उपलब्ध करवाएगा। 

दरअसल सोमवार को संगठन के लोग राजीव भवन में मंत्री से मिलिए कार्यक्रम में पहुंचे थे। यहां मंत्री मो. अकबर ने कांग्रेस पदाधिकारियों, कार्यकतार्ओं और जनसामान्य से मुलाकात कर उनकी समस्याओं का निराकरण किया। मुलाकात कार्यक्रम के बाद उपस्थित पत्रकारों से चर्चा करते हुए मंत्री मो.अकबर ने बताया कि प्रदेश भर से लोग अपनी विभिन्न समस्याओं को लेकर मिलने आए थे। उनकी समस्याओं का यथायोग्य निराकरण किया गया। नागरिकों ने पिपरिया उप-तहसील को पूर्णरूपेण तहसील का दर्जा देने की मांग के संबंध में ज्ञापन सौंपा। उसे संबंधित विभाग को आवश्यक कार्यवाही के लिये भेज दिया गया। विभिन्न प्राथमिक सहकारी समिति के पदाधिकारियों ने अपने क्षेत्रों के सहकारी समितियों के परिसीमन की प्राथमिक प्रकाशन की परेशानियों के निराकरण का आवेदन भी सौंपा।

 

26-08-2019
वन विभाग में बड़ा फेरबदल, 58 अधिकारियों को किया गया इधर से उधर

रायपुर। राज्य शासन की ओर से लगातार विभिन्न विभागों में तबादलों का क्रम जारी है। अब छत्तीसगढ़ सरकार ने वन विभाग में तबादले किए हैं। सरकार ने भारतीय वन सेवा के 58 अधिकारियों को इधर से उधर किया है। इस संबंध में छत्तीसगढ़ शासन वन विभाग के उप सचिव भोस्कर विलास संदिपान ने आदेश जारी किया है।

 

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804