GLIBS
22-04-2021
कोरोना कहर के कारण राज्य सरकार ने लिया फैसला, प्रदेश के सभी विश्वविद्यालयों में परीक्षाएं होगी ऑनलाइन 

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के दिशा निर्देश पर कोविड-19 की महामारी के संक्रमण को देखते हुए उच्च शिक्षा विभाग ने प्रदेश के राजकीय एवं निजी विश्वविद्यालयों में शिक्षा सत्र 2020-21 की कोई भी परीक्षा आगामी आदेश पर्यन्त ऑफलाइन पद्धति से आयोजित नहीं करने के आदेश दिए गए हैं। आदेश में स्पष्ट किया गया है कि समस्त परीक्षाएं ऑनलाइन/ब्लैण्डेंड मोड में ही किए जाएं।

20-04-2021
प्रदेश में घट रही कोरोना मरीजों की संख्या, हो रहा संक्रमितों का तुरंत इलाज, लगाई जा रही अधिक संख्या में वैक्सीन  

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के मार्गदर्शन में कोरोना जांच की संख्या में वृद्धि, मरीजों के त्वरित इलाज और वैक्सीनेशन के जरिए कोरोना नियंत्रण के प्रयास किए जा रहे हैं। राज्य में कोरोना गाइडलाइन का पालन के साथ ही कंटेनमेंट जोन और लॉकडाउन के माध्यम से भी कोरोना के प्रसार को रोकने की पहल की जा रही है। इन सब प्रयासों से प्रदेश में कोरोना संक्रमितों की संख्या में कमी आई है। कोरोना पीड़ितों को राहत पहुंचाने के लिए मुख्यमंत्री बघेल के निर्देश पर जिला प्रशासन द्वारा जिला एवं विकासखण्ड स्तर में स्थित कोविड केयर सेंटरों में वेंटिलेटर, आईसीयू और ऑक्सीजन बेड की व्यवस्था सुनिश्चित की जा रही है।

इसके अतिरिक्त कलेक्टरों के माध्यम से मरीजों को प्राथमिकता के तौर पर रेमडेसिविर इंजेक्शन एवं आवश्यक दवाईयां उपलब्ध कराई जा रही है। कोरोना संक्रमण के फैलाव को रोकने तथा पीड़ितों के त्वरित इलाज के लिए आवश्यकता अनुसार उन्हें क्वारेंटाइन सेंटर और आइसोलेशन केेन्द्र में रखने की व्यवस्था भी की गई है। जांजगीर-चांपा जिले में गत दिवस डॉक्टरों के बेहतर इलाज और जिला प्रशासन की बेहतर प्रबंधन के कारण होम आइसोलेशन में कोरोना का इलाज करा करे 425 मरीजों ने कोरोना का हराया है। यह जिले और प्रदेश के लिए बड़ी उपलब्धि है जो कोरोना को हराने में उम्मीद की जगाता है। जिले में कलेक्टर की देख-रेख में कोविड अस्पतालों और कोविड केयर सेंटरों में समुचित प्रबंध किए गए हैं। इसके लिए जिला अस्पताल परिसर जांजगीर-चांपा में एसईटीसी में 9 बेड आईसीयू के और 71 बेड ऑक्सीजन युक्त हैं। इसके अलावा 12 कोविड केयर सेंटर्स में 1220 बेड की सुविधा उपलब्ध कराई गई है। कोविड केयर सेंटर्स के 114 बेड में ऑक्सीजन की सुविधा उपलब्ध है। समुचित इलाज के फल स्वरुप अस्पताल में भर्ती मरीज तथा चिकित्सकों की निगरानी में उपचार करवा रहे होम आइसोलेशन के 425 मरीज आज पूरी तरह स्वस्थ्य हो गए। इसी प्रकार जांजगीर-चांपा जिले के पामगढ़ अनुविभाग के एसडीएम श्री करूण डहरिया ने जनसहयोग के माध्यम से कोविड केयर सेंटर खोलने का प्रसंशनीय पहल की है, इसके लिए उन्होंने अपने एक माह का वेतन देने की घोषणा की है। उन्होंने 50 बेड सर्वसुविधायुक्त कोविड केयर सेंटर तैयार करने के लिए समाज सेवी व आम नागरिकों से भी सहयोग करने की अपील की है।

 

20-04-2021
प्रदेश में टीके की दी जा चुकी है 50.56 लाख खुराक, राज्य में कोरोना वैक्सीन का वेस्टेज केवल 1.36 प्रतिशत

रायपुर। प्रदेश में कोरोना का टीका लगाने के लिए खोली गई वैक्सीन में से वेस्टेज टीके का प्रतिशत मात्र 1.36 है, जबकि राष्ट्रीय स्तर पर यह औसत 6.5 प्रतिशत है। भारत सरकार के इविन पोर्टल (वह पोर्टल जिसमें कब, कहाँ और कितनी संख्या में टीकाकरण के लिए भेजी गई दवाइयों और उनकी उपलब्धता की जानकारी होती है) के अनुसार छत्तीसगढ़ में अब तक 51 लाख 25 हजार 640 कोरोना वैक्सीन की डोज का उपयोग किया गया है। टीका लगाने के पहले हितग्राही की जानकारी दर्ज की जाने वाले कोविड पोर्टल के अनुसार प्रदेश में अब तक पहला और दूसरा डोज मिलाकर कुल 50 लाख 55 हजार 698 डोज लगाए जा चुके हैं। पब्लिक डोमेन में मौजूद भारत सरकार के दोनों पोर्टलों, इविन और कोविन के तुलनात्मक अध्ययन से पता चलता है कि प्रदेश में कोरोना वैक्सीन के मात्र 69 हजार 942 डोज ही वेस्ट डोज की श्रेणी में आते हैं। यह राज्य में टीकाकरण के लिए खोले गए कुल वैक्सीन का केवल 1.36 प्रतिशत है। पीआईबी द्वारा विगत दिनों में जारी प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार कोरोना वैक्सीन के वेस्टेज का राष्ट्रीय औसत 6.5 प्रतिशत है।

 

19-04-2021
अमर पारवानी ने कहा-लॉकडाउन कोई विकल्प नहीं, लेकिन आज की परिस्थिति में जरूरी 

रायपुर। छत्तीसगढ़ चेम्बर ऑफ कॉमर्स एण्ड इण्डस्ट्रीज ने सोमवार को पूरे प्रदेश के व्यापारियों और व्यपारिक संगठनों, कैट के पदाधिकारीयों की वीडियो कांफ्रेंसिंग से बैठक ली। प्रदेश महामंत्री  अजय भसीन ने बैठक का प्रस्तावना रखा। 
चेम्बर प्रदेश अध्यक्ष अमर पारवानी ने सभी व्यापारियों और पदाधिकारीयों को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि आज कोरोना रूपी इस महामारी से सम्पूर्ण छतीसगढ़ दहल उठा है।अस्पतालों में जगह नहीं है, इंजेक्शन नहीं मिल रहे है, सर्वप्रथम हम सभी को अपनी और अपने परिवार वालों की जान बचाना आवश्यक है।

इसलिए चेम्बर ने स्वयं आगे होकर शासन को लॉकडाउन के लिए कहा। इसका प्रतिसाद देखने को मिल रहा है।युवा कपिल दोषी ने युवा चेम्बर टीम की ओर से कोविड महामारी में हेल्प लाइन सेंटर के माध्यम से किए जा रहे कार्यो के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी दी। चेम्बर के वरिष्ठ राजेन्द्र जग्गी ने अपनी बात रखते हुए कहा कि सभी किराना व्यवसायी की लिस्टिंग वार्ड अनुसार की जानी चाहिए ताकि उनके नम्बरों को सभी ग्रुप में विस्तार कर उन्हें डोर डिलीवरी के माध्यम से आम जनता को विक्रय करने की अनुमति हो। इससे लोगो को सामान भी मिले। कोविड से बचे भी रहे। 
अमर पारवानी ने बताया कि बैंकों से सीमित समय में सभी ट्रेड  को लेनदेन के लिए समय सीमा की छूट के लिए राज्य सरकार को पत्र लिखा गया है। जीएसटी के रिटर्न कि तिथि को आगे बढ़ाने के लिए केंद्र सरकार से लगातार संपर्क बनाए हुए है,।शीघ्र ही इसका समाधान होने की संभावना है। 

प्रदेश भर से सभी ने अपने अपने व्यक्तव दिए। इनमें कैट के विक्रम सिंह देव ,जितेंद्र दोषी, मांगेलाल मालू,पवन बड़जात्या, मोहम्मद अली हिरानी, प्रहलाद रूंगटा, गारगी शंकर मिश्र, सुरेंदर सिंह, वासु मखीजा,राम मंधन, कैलाश खेमानी, अंकित जैन, प्रकाश सांखला, प्रहलाद रुंगटा, निलेश मूंदड़ा, तनेश आहूजा, सहित बड़ी संख्या में सभी ने अपनी अपनी बातें रखी। कार्यक्रम का ई संचालन संजय चौबे ने किया।

19-04-2021
Breaking: प्रदेश में पिछले तीन दिनों में करीब 35 हजार कोरोना मरीज स्वस्थ हुए

रायपुर। प्रदेश में रोज बड़ी संख्या में कोरोना मरीज ठीक हो रहे हैं। विगत 18 अप्रैल को एक ही दिन में 14 हजार 075 मरीजों ने कोरोना को मात दी है। पिछले तीन दिनों में प्रदेश भर में 34 हजार 961 लोग कोविड-19 से उबर चुके हैं। प्रदेश के विभिन्न अस्पतालों, कोविड केयर सेंटरों और होम आइसोलेशन में इलाज करा रहे 11 हजार 807 मरीज 16 अप्रैल को और 9079 मरीज 17 अप्रैल को डिस्चार्ज किए गए हैं। 18 अप्रैल को रायपुर जिले में 4627, दुर्ग में 3092, महासमुंद में 1284, बिलासपुर में 925, राजनांदगांव में 752 और रायगढ़ में 584 मरीज कोरोना से पूरी तरह ठीक हुए हैं। पिछले तीन दिनों में स्वस्थ हुए लगभग 35 हजार कोरोना संक्रमितों में से 34 हजार 447 ने होम आइसोलेशन में रहकर अपना इलाज करवाया है। वहीं पूर्ण रूप से स्वस्थ होने के बाद 514 मरीजों को विभिन्न अस्पतालों और कोविड केयर सेंटरों से डिस्चार्ज किया गया है। प्रदेश में कोरोना संक्रमण की शुरूआत के बाद से अब तक पॉजिटिव पाए गए पांच लाख 44 हजार 840 मरीजों में से चार लाख दस हजार 913 लोग ठीक हो चुके हैं। इनमें से एक लाख 12 हजार 595 संक्रमितों का कोविड अस्पतालों और कोविड केयर सेंटरों में इलाज किया गया है। वहीं दो लाख 98 हजार 318 मरीजों ने होम आइसोलेशन में उपचार कराकर कोरोना को मात दी है।

 

18-04-2021
भूपेश बघेल कोरोना नियंत्रण और इलाज के संबंध ले रहे बैठक,टीएस सिंहदेव भी मौजूद 

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल रविवार शाम अपने निवास कार्यालय से बैठक ले रहे हैं। वे वर्चुअल बैठक में राज्य के 10 जिलों में कोरोना संक्रमण की रोकथाम, अस्पतालों में इलाज के प्रबंध की समीक्षा कर रहे हैं। स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव भी बैठक में जुड़े हैं। मुख्यमंत्री निवास में मुख्य सचिव अमिताभ जैन और मुख्यमंत्री के सचिव सिद्धार्थ कोमल परदेशी उपस्थित हैं। स्वास्थ्य विभाग की अपर मुख्य सचिव रेणु जी.पिल्ले और बेमेतरा, राजनांदगांव, बिलासपुर, जांजगीर-चांपा, रायपुर रायगढ़, बलौदा बाजार, जशपुर, दुर्ग और कोरबा जिले के अधिकारी वर्चुअल रूप से बैठक में जुड़े हैं।

 

17-04-2021
अगले सप्ताह प्रदेश को मिलेंगे 30 हजार रेमडेसिविर इंजेक्शन,निविदा रही सफल

रायपुर। प्रदेश में रेमडेसिविर इंजेक्शन की उपलब्धता तय करने के लिए स्वास्थ्य विभाग लगातार प्रयासरत है। इसके लिए की गई निविदा सफल रही है। संबंधित कंपनी की ओर से अगले तीन सप्ताह के लिए प्रति सप्ताह 30 हजार इंजेक्शन के मान से कुल 90 हजार इंजेक्शन की आपूर्ति की जाएगी। यह रविवार 18 अप्रैल से शुरू हो जाएगी। छत्तीसगढ़ मेडिकल सर्विसेज कार्पाेरेशन के प्रबंध संचालक कार्तिकेय गोयल ने बताया कि रविवार से राज्य को हर सप्ताह 30 हजार यानी अगले तीन सप्ताह में 90 हजार रेमडेसिविर इंजेक्शन मिलेंगे। इसमें से अगले दो दिन में 3 हजार इंजेक्शन मिलेंगे, फिर शेष इंजेक्शन कंपनी की ओर से तय मात्रा और समय सीमा में दिए जाएंगे। ये इंजेक्शन प्रदेश के शासकीय मेडिकल कॉलेजों, जिला अस्पतालों एवं शासकीय स्वास्थ्य संस्थाओं में जहां कोविड मरीजों का इलाज हो रहा है उन्हें दिए जाएंगे। इसके अलावा दवाई कंपनियां, प्राइवेट अस्पतालों में इस इंजेक्शन की सीधे आपूर्ति कर रही हैं।

 

16-04-2021
प्रदेश में बीते दो सालों में स्वास्थ्य सुविधा सुदृढ़,मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल की संख्या हुई 9

रायपुर। राज्य में बीते दो सालों में स्वास्थ्य सुविधा को जनोन्मुखी बनाने की दिशा में छत्तीसगढ़ सरकार की ओर से कारगर प्रयास किए गए हैं। राज्य के स्वास्थ्यगत अधोसंरचना में बढ़ोत्तरी होने के साथ ही स्वास्थ्य अमले में भी वृद्धि हुई है। बीते दो सालों में राज्य में मेडिकल कॉलेज अस्पतालों की संख्या 6 से बढ़कर 9, जिला चिकित्सालयों की संख्या 26 से बढ़कर 28 और सिविल अस्पताल की संख्या 19 से बढ़कर 20 हो गई है। बीते दो सालों में 50 बिस्तर वाले 15 और 100 बिस्तर वाले 6 एमसीएच अस्पताल स्थापित किए गए हैं। इस अवधि में 6 नए उप स्वास्थ्य केन्द्र तथा एक सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र भी स्थापित किया गया है। राज्य में बीते दो सालों में स्वास्थ्य सुविधा को बेहतर बनाने की दिशा में किए गए प्रयासों का ही परिणाम है कि विशेषज्ञ, चिकित्सकों, चिकित्सा अधिकारियों सहित मेडिकल स्टाफ की संख्या 18,458 से बढ़कर 20,405 हो गई है। इसमें विशेषज्ञ, चिकित्सकों की संख्या 175 से बढ़कर 319, चिकित्सा अधिकारियों की संख्या 1359 से बढ़कर 1818 और स्टाफ नर्स की संख्या 2580 से बढ़कर 4091 हो गई है। वर्तमान में 300 चिकित्सा अधिकारियों, 92 स्टाफ नर्स, 50 मेडिकल लैब टेक्नॉलाजिस्ट तथा 146 ग्रामीण स्वास्थ्य संयोजक (महिला) की भर्ती प्रक्रियाधीन है।

राज्य के नागरिकों को निशुल्क स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराने के लिए आयुष्मान योजना के साथ-साथ मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना, संजीवनी सहायता कोष, मुख्यमंत्री बाल हृदय सुरक्षा योजना, मुख्यमंत्री बाल श्रवण योजना और चिरायु योजना संचालित की जा रही है। उक्त सभी योंजनाओं को छत्तीसगढ़ शासन की ओर से संचालित डॉ. खूबचंद बघेल स्वास्थ्य योजना, आयुष्मान योजना और मुख्यमंत्री विशेष स्वास्थ्य योजना में समाहित किया गया है।
राज्य में दिसंबर 2018 की स्थिति में आयुष्मान कार्डधारियों की संख्या मात्र 2,23,793 थी, जो आज की स्थिति में बढ़कर 1 करोड़ 13 लाख 57 हजार 441 हो गई है। इससे राज्य के नागरिकों को निशुल्क स्वास्थ्य सुविधा का लाभ शासकीय व मान्यता प्राप्त चिकित्सालयों में सहजता से उपलब्ध होने लगा है। राज्य में निशुल्क स्वास्थ्य सुविधा का लाभ पाने वाले परिवारों की संख्या 56 लाख से बढ़कर 67 लाख हो गई है। जिसमें से 56 लाख बीपीएल परिवारों को सालाना 5 लाख रुपए और 9 लाख एपीएल परिवारों को प्रति वर्ष 50 हजार रुपए तक निशुल्क इलाज की सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है। मुख्यमंत्री विशेष सहायता योजना के तहत राज्य के नागरिकों को गंभीर बीमारियों के इलाज के लिए 20 लाख रुपए तक की निशुल्क चिकित्सा सुविधा प्रदाय की जा रही है। राज्य में शासकीय एवं मान्यता प्राप्त चिकित्सालयों की संख्या बीते दो सालों में 1088 से बढ़कर 1359 हो गई है, जहां नागरिकों को आयुष्मान कार्ड या राशन कार्ड के जरिए पात्रता अनुसार निशुल्क स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है।

 

16-04-2021
Breaking : स्वास्थ्य विभाग ने कहा, छत्तीसगढ़ में ऑक्सीजन की कहीं कोई कमी नहीं

रायपुर। प्रदेश में कोरोना संक्रमितों और अन्य गंभीर रोगों से ग्रसित मरीजों के लिए ऑक्सीजन गैस की कोई कमी नहीं है। 15 अप्रैल की स्थिति में राज्य में रोजाना 386.92 मीट्रिक टन ऑक्सीजन गैस का उत्पादन राज्य में हो रहा है। वहीं वर्तमान में ऑक्सीजन सपोर्ट वाले 5 हजार 898 मरीजों के लिए प्रतिदिन 110.30 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की ही जरूरत पड़ रही है। राज्य के सभी शासकीय एवं निजी चिकित्सालयों में डिमांड के अनुरूप ऑक्सीजन गैस की निरंतर आपूर्ति की जा रही है। कोविड-19 मरीजों के लिए स्थापित कोविड डेडिकेटेड हॉस्पिटल, कोविड केयर सेंटर्स में ऑक्सीजन प्लांट जम्बो ऑक्सीजन सेलेण्डर एवं ऑक्सीजन कंसंट्रेटर के द्वारा मरीजों को ऑक्सीजन की निरंतर उपलब्ध कराई जा रही है। कोरोना पीड़ित मरीजों की मृत्यु गंभीर संक्रमण एवं बीमारी की वजह से हो रही है। ऑक्सीजन की कमी की वजह से मरीजों की मृत्यु की बात बिल्कुल भ्रामक है। स्वास्थ्य विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार राज्य में बीते 14 मार्च से ऑक्सीजन सपोर्ट वाले मरीजोें की संख्या में लगातार वृद्धि होने से ऑक्सीजन खपत भी बढ़ी है। 14 मार्च की स्थिति में राज्य में ऑक्सीजन सपोर्ट वाले मात्र 197 मरीजों के लिए 3.68 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की आवश्यकता थी, जो आज 15 अप्रैल की स्थिति में बढ़कर 110.30 मीट्रिक टन हो गई है। 15 अप्रैल की स्थिति में ऑक्सीजन सपोर्ट वाले मरीजों की संख्या 5 हजार 898 है। 

स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार राज्य में पीएसए ऑक्सीजन जनरेटर प्लांट की संख्या कुल 27 है, इनके द्वारा रोजाना 176.92 मीट्रिक टन ऑक्सीजन गैस का उत्पादन किया जा रहा है। इसके अलावा राज्य के दो लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन मैन्युफेक्चर्स द्वारा रोजाना 210 मीट्रिक टन एयर डेस्टीलेशन युनिट और पीएसए ऑक्सीजन जनरेट किया जा रहा है। इस प्रकार राज्य में कुल 29 प्लांट द्वारा 386.92 मीट्रिक टन ऑक्सीजन का प्रोडक्शन किया जा रहा है, जबकि वर्तमान में मात्र 110.30 मीट्रिक टन ऑक्सीजन गैस का ही उपयोग ऑक्सीजन सपोर्ट वाले मरीजों के लिए हो रहा है। निर्माता मेसर्स लूपिन गैस उरला द्वारा प्रतिदिन 9.32 मीट्रिक टन, मेसर्स स्टील अथॉरिटी आफ इंडिया लिमिटेड भिलाई स्टील प्लांट द्वारा 15 मीट्रिक टन, मेसर्स पी.एस गैस कुरांडी जगदलपुर द्वारा 2.8 मीट्रिक टन, मेसर्स विद्या गैस इंडस्ट्रिज सूरजपुर द्वारा 5.45 मीट्रिक टन, मेसर्स सर्वमंगला गैस रजगामर रोड कोरबा द्वारा 5 मीट्रिक टन, मेसर्स अतुल ऑक्सीजन कम्पनी रसमड़ा दुर्ग द्वारा 7.8 मीट्रिक टन, मेसर्स अतुल ऑक्सीजन कम्पनी नंदनी रोड भिलाई द्वारा 7.8 मीट्रिक टन, मेसर्स सिद्धि विनायक रायगढ़, मेसर्स सत्गुरू ऑक्सीजन कम्पनी बिलासपुर द्वारा 5-5 मीट्रिक टन, मेसर्स जीपी गैसेस जगदलपुर, मेसर्स जीएनएस गैसेस, मेसर्स श्री कृष्णा ऑक्सीजन उरला रायपुर एवं रायपुर सीमेंट प्लांट सिमगा बलौदाबाजार, बालाजी एयर प्रोडक्ट कोरबा द्वारा 1-1 मीट्रिक टन, मेसर्स ऋषि गैसेस द्वारा 2.95 मीट्रिक टन, मेसर्स श्री बालाजी गैसेस रजगामार रोड कोरबा, मेसर्स रामा गैसेस सोमनी राजनांदगांव तथा मेसर्स श्री बालाजी गैसेस सिरगिट्टी बिलासपुर द्वारा 2-2 मीट्रिक टन, मेसर्स विंध्याचल ऑक्सीजन गिरवानी रोड रायगढ़ द्वारा 5.4 मीट्रिक टन, मेसर्स गोदावरी पावर एण्ड इस्पात लिमिटेड रायपुर द्वारा 3.12 मीट्रिक टन, मेसर्स अमृत मेटल एण्ड गैसेस उरला रायपुर द्वारा 1.09 मीट्रिक टन, मेसर्स पंकज ऑक्सीजन लिमिटेड उरला रायपुर द्वारा 6.23 मीट्रिक टन, मेसर्स बजरंग पावर एण्ड इस्पात लिमिटेड तंडवा तिल्दा द्वारा 13.65 मीट्रिक टन, मेसर्स रायपुर कार्बाेनिक्स उरला रायपुर द्वारा 3.64 मीट्रिक टन, मेसर्स महामाया स्टील सरोरा रायपुर द्वारा 1.87 मीट्रिक टन, मेसर्स नहाटा मेटल एण्ड एयर प्रोडक्ट द्वारा 34.2 मीट्रिक टन तथा मेसर्स साकेत इंडस्ट्रियल द्वारा 22.8 मीट्रिक टन ऑक्सीजन गैस का प्रोडक्शन रोजाना किया जा रहा है। मेसर्स जिंदल स्टील एण्ड पावर लिमिटेड खरसिया रोड रायगढ़ द्वारा 15 मीट्रिक टन तथा मेसर्स प्रॉक्सीया इंडिया लिमिटेड भिलाई स्टील प्लांट भिलाई द्वारा 195 मीट्रिक टन एलएमओ (लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन गैस) का उत्पादन प्रतिदिन किया जा रहा है।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804