GLIBS
03-07-2020
प्रदेश के इन कृषि महाविद्यालयों में 66 पदों पर भर्ती प्रक्रिया शुरू 

रायपुर। छत्तीसगढ़ के विभिन्न जिलों में संचालित 6 शासकीय कृषि महाविद्यालयों में 66 पदों पर सहायक प्राध्यापकों की भर्ती की प्रक्रिया शुरू हो गई है। दावा-आपत्ति के निपटारे के बाद उपयुक्त अभ्यर्थियों की सूची लंबे समय के बाद जारी कर दी गई है। 85 नंबर की श्रेणी में आए अभ्यर्थी का शैक्षणिक रिकॉड बेहतर माना जाएगा। यह श्रेणी बारहवीं से लेकर पीएचडी समेत अन्य डिग्री के आधार पर तय होगा। इसके बाद अंतिम सूची श्रेणी की जारी होगी। फिलहाल राज्य शासन ने कोरोना के कारण नई भर्तियों पर रोक लगा रखी है। विश्वस्त सूत्रों की माने तो भर्ती की पूरी प्रक्रिया को फाइनल लिस्ट तक किया जाएगा।

अंतिम स्वीकृति लेने के लिए शासन को पत्र लिखा जाएगा। स्वीकृति मिलने के बाद ही बंद लिफाफे को खोलकर नियुक्ति की प्रक्रिया होगी। अक्टूबर माह से नया शैक्षणिक सत्र शुरू होगा, जिसे ध्यान में रखते हुए नए कृषि कॉलेजों में सहायक प्राध्यापकों की भर्ती समय से हो जाए। कृषि विश्वविद्यालय से जुड़े छह सरकारी  महाविद्यालयों में 66 पदों पर सहायक प्राध्यापकों की भर्ती की जानी है। आवेदन की आखिरी तिथि 20 मई थी। एग्रीकल्चरल एक्सटेंशन, एग्रीकल्चरल इकोनॉमिक्स, स्टेटिस्टिक्स, एग्रोनॉमी, एनटोमोलॉजी, फार्म मशीनरी, जेनेटिक एंड प्लांट ब्रडिंग, फ्रूट साइंस, लाइव स्टॉक, सायल साइंस आदि पदों पर भर्ती होगी।

03-07-2020
लॉक डाउन में प्रदेश के 1.07 करोड़ से अधिक लोगों को मिला नि:शुल्क भोजन और खाद्यान्न

रायपुर। लॉक डाउन शुरू होने से लेकर अब तक छत्तीसगढ़ में 1 करोड़ 7 लाख 85 हजार 817 लोगों को नि:शुल्क भोजन और खाद्यान्न पैकेट उपलब्ध कराया गया है। यह प्रशासन, समाजसेवी संस्थाओं और दानदाताओं के सहयोग से संचालित राहत शिविरों के माध्यम से जरूरतमंदों तक पहुंचा। स्वयंसेवी संस्थाओं के सहयोग से कोरोना संक्रमण के बचाव के लिए अब तक 49 लाख 88 हजार 977 मास्क सैनिटाइजर और अन्य सामग्री का नि:शुल्क वितरण किया गया है। राज्य के सभी जिलों में कोरोना संक्रमण और लॉक डाउन की वजह से निर्मित परिस्थिति को देखते हुए गरीबों, श्रमिकों और निराश्रित लोगों को नि:शुल्क भोजन व खाद्यान्न पैकेट उपलब्ध कराए जाने का सिलसिला जारी है।

कोरोना संक्रमण और लॉक डाउन के कारण जरूरतमंदों की मदद के लिए राज्य भर में जगह-जगह लगाए गए राहत शिविरों में 2 जुलाई को 31 हजार 406 जरूरतमंदों, श्रमिकों और निराश्रितों को नि:शुल्क भोजन और खाद्यान्न पैकेट उपलब्ध कराया गया। कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए मास्क, सैनिटाइजर और दैनिक जरूरत का सामान भी जिला प्रशासन और स्वयंसेवी संस्थाओं की ओर से लगातार मुहैया कराया जा रहा है। जिलों से प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार 2 जुलाई को स्वयंसेवी संस्थाओं की मदद से 1130 मास्क और सैनिटाइजर, साबुन आदि का वितरण जरूरतमंदों को किया गया है।

02-07-2020
सर्व ब्राह्मण समाज ने राष्ट्रीय गायन प्रतियोगिता के परिणाम किए घोषित  

रायपुर। सर्व ब्राह्मण समाज ने राष्ट्रीय ऑनलाइन गायन प्रतियोगिता के परिणाम घोषित किए हैं। प्रदेश अध्यक्ष ललित मिश्रा व सांस्कृतिक मंच के प्रदेश अध्यक्ष जेपी शर्मा ने बताया कि प्रतियोगिता में प्रदेश के अलावा अन्य प्रदेशों से भी प्रतियोगी शामिल हुए। कुल 137 प्रतियोगियों ने म्यूजिकल सॉन्ग वीडियो भेजे थे। निर्णायक संगीत एवं गायन के शिक्षक समीर भट्टाचार्य थे। विजेताओं को नगद राशि के अलावा ट्राफी व प्रशस्ति पत्र भी दिया जाएगा। घोषित परिणाम में उम्र वर्ग 8 से 15 में प्रथम मुस्कान मिश्रा बलोदा बाजार,द्वितीय आध्या तिवारी दुर्ग,तृतीय दीक्षा वर्द पांडे रायपुर, विशेष प्रतिभा पुरस्कार ओम तिवारी दुर्ग, शोमी पांडे सतना। उम्र वर्ग 16 से 35 में प्रथम शुभम दीक्षित दुर्ग, द्वितीय के उषा कोरबा ,तृतीय स्वाति पांडे मनेंद्रगढ़, विशेष प्रतिभा पुरस्कार शुभम पाठक राजनांदगांव और अविनाश पंडा रायगढ़। वर्ग उम्र 35 से ऊपर -प्रथम सुजाता संदीप शुक्ला रायपुर, द्वितीय प्रसन्ना वर्द पांडे रायपुर,तृतीय अमित शर्मा दुर्ग, विशेष प्रतिभा सम्मान-विजेता शर्मा राजनांदगांव,भावना जोशी अहमदाबाद,अर्पणा दुबे कोटा रायपुर, अंजू मिश्रा रायपुर। उम्र 85 के शामिल प्रतियोगी शांतिलाल शर्मा को उनके जज्बे को सलाम करते हुए मोटिवेट अवार्ड प्रदान किया गया।

01-07-2020
राम वनगमन पथ होगा हरा-भरा,3600 पौधे लगाने तैयारियां शुरू

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रदेश के राम वनगमन पथ को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने का निर्णय लिया गया है। राज्य शासन की ओर से वनवास के दौरान भगवान राम के रूकने और गुजरने वालों मार्गों का चिन्हांकन कर उन्हें पर्यटन स्थलों के रूप में विकसित किया जा रहा है। राम वन गमन परिपथ को हरा-भरा करने के लिए बड़े पैमाने पर पौधरोपण भी किया जा रहा है। सरगुजा जिले के उदयपुर विकासखंड स्थित रामगढ़ की पहाड़ी और महेशपुर को राम वनगमन परिपथ में शामिल किया गया है। इसे पर्यटन के रूप में विकसित किया जा रहा। राम वनगमन पथ में 3 हजार 600 पौधे लगाए जा रहे हैं। इसमें आम, नीम, कटहल, गुलमोहर, करंज, जामुन, इमली, आदि के पौधे शामिल हैं। इन सभी पौधों को महिला स्व-सहायता समूह के द्वारा बनाए जा रहे बांस के ट्री-गार्ड से सुरक्षित की जाएगी। वन विभाग महिला समूह से 450 रुपए प्रति नग की दर से ट्री-गार्ड खरीदेगा। ट्री-गार्ड बनाकर बेचने से समूह की माहिलाओं की आमदनी बढ़ेगी और पौधों की सुरक्षा भी होगी। वन विभाग की ओर से आगामी तीन वर्षों तक रोपे जा रहे पौधों की देखभाल की जाएगी।

जिले के उदयपुर विकासखंड की 10.25 किलो मीटर रामवन गमन मार्ग में 3600 पौधे रोपे जाएंगे। इन कार्यों में ग्राम पंचायत पुटा में उदयपुर से रामनगर केदमा मार्ग में 3 किलो मीटर में 1200 पौधे, ग्राम पंचायत शानीबर्रा में रामनगर से लछमनगढ़ 2 किलो मीटर में 800 पौधे, ग्राम पंचायत खोडरी में जनपद पंचायत उदयपुर से देवगढ़ रोड तक 3 किलो मीटर में 800 पौधे, ग्राम पंचायत महेशपुर में महेशपुर मंदिर से केदमा मार्ग तक 1.25 किलो मीटर में 400 पौधे, ग्राम पंचायत झिरमिटी अल्कापुर से हर्टिकल्चर नर्सरी तक एन एच 130 के किनारे 1 किलो मीटर में 400 पौधे लगाये जाएंगे।

 

01-07-2020
प्रदेश के युवा डॉक्टर कोरोना के मरीजों की करेंगे टेली कॉउंसलिंग, बेंगलुरु के डॉक्टरों ने दिया प्रशिक्षण

रायपुर। डॉक्टर्स दिवस पर बुधवार को मनोरोगों के विख्यात चिकित्सकीय संस्थान, निमहांस बेंगलुरू के डॉक्टरों ने राज्य के मेडिकल एवं आयुर्वेदिक कॉलेज के युवा डॉक्टरों को प्रशिक्षण दिया। उन्होंने कोरोना के मरीजों और क्वारेंटाइन में रहने वाले लोगों में मानसिक तनाव के निवारण के उपायों और चिकित्सकीय परामर्श पर वेब ट्रेनिंग दी। यह प्रशिक्षण कार्यक्रम तीन चरणों में आयोजित किया जा रहा है। पहले चरण में निमहांस के विशेषज्ञ शामिल हुए। राज्य के लगभग 200 युवा डॉक्टरों ने ऑनलाइन प्रशिक्षण कार्यक्रम में अपनी उपस्थिति दर्ज कर प्रशिक्षण प्राप्त किया।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की विशेष पहल पर गठित कोरोना सहायता पटल पर सभी डॉक्टरों ने इस ट्रेनिंग में भागीदारी की और खुद को कोरोना कार्यकर्ता की तरह नामित किया। प्रशिक्षण में छत्तीसगढ़ कोरोना सहायता पटल के प्लेटफार्म पर यूनिसेफ राज्य योजना आयोग, निमहांस (राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य एवं स्नायु विज्ञान संस्थान) के विशेषज्ञ सहित मेडिकल कॉलेज रायपुर एवं आयुर्वेदिक कॉलेज के विद्यार्थी शामिल हो रहे हैं।  पहले चरण के मुख्य ट्रेनर्स डॉ. शेखर शेषाद्री, निमहांस और डॉ. उषाकिरण अग्रवाल, शासकीय कला एवं वाणिज्य कन्या महाविद्यालय, रायपुर थे। दूसरे चरण की ट्रेनिंग डॉ. श्रीधर, यूनिसेफ और डॉक्टर मंजीत कौर बल (समर्थ संस्थान) की ओर से दी जाएगी। तीसरे चरण में मेडिकल कॉलेज रायपुर के डॉक्टर्स इस ट्रेनिंग को पूरा करेंगे। प्रशिक्षित युवा डॉक्टर कोरोना से संबंधित मरीजों की टेली कॉउंसलिंग का कार्य करेंगे।

 

01-07-2020
प्रदेश में अब तक 283.4 मि.मी. औसत वर्षा दर्ज

रायपुर। राज्य शासन के राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग द्वारा बनाए गए राज्य स्तरीय नियंत्रण कक्ष द्वारा संकलित जानकारी के मुताबिक 1 जून से अब तक 283.4 मिमी औसत वर्षा दर्ज की जा चुकी है। राज्य के विभिन्न जिलों में आज सुबह रिकार्ड की गई वर्षा के अनुसार सरगुजा में 0.9 मिमी, सूरजपुर में 1.7 मिमी, बलरामपुर में 1.1 मिमी, जशपुर में 0.3 मिमी, कोरिया में 2.6 मिमी, रायपुर में 19.6 मिमी, बलौदाबाजार में 30.9 मिमी, गरियाबंद में 36.9 मिमी, महासमुन्द में 17.9 मिमी, धमतरी में 25.1 मिमी, बिलासपुर में 0.9 मिमी, रायगढ़ में 1.0 मिमी, जांजगीर-चांपा में 2.3 मिमी और कोरबा में 2.0 मिमी औसत वर्षा दर्ज की गई है। इसी प्रकार गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही में 9.6 मिमी, दुर्ग में 47.1 मिमी, कबीरधाम में 5.4 मिमी, राजनांदगांव में 4.7 मिमी, बालोद में 22.7 मिमी, बेमेतरा में 7.0 मिमी, बस्तर में 5.5 मिमी, कांकेर में 4.9 मिमी, नारायणपुर में 20.7 मिमी, दंतेवाड़ा में 14.6 मिमी और बीजापुर में 11.6 मिमी, औसत वर्षा आज रिकार्ड की गई।

01-07-2020
प्रदेश में कोरोना ने छीनी एक और जिंदगी, पढ़े पूरी खबर...

रायपुर। प्रदेश में कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर बड़ी खबर सामने आई है। सेवानिवृत्त आईएफएस केसी यादव की कोरोना संक्रमण से मौत हुई है। साथ ही वे डाइबिटीज की बीमारी से भी पीड़ित थे। केसी यादव को दो दिन पहले एम्स अस्पताल में भर्ती कराया गया था। एम्स प्रबंधन ने खबर की पुष्टि कर दी है।

30-06-2020
प्रदेश में अब तक 4 लाख से अधिक पौधों का वितरण

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की मंशा के अनुरूप और वन मंत्री मोहम्मद अकबर के निर्देशन में वन विभाग द्वारा राज्य में 25 जून से सभी जिला मुख्यालयों में निवासरत नागरिकों के लिए पौधों की घर पहुंच सेवा निरंतर जारी है। अब तक राज्य में 4 लाख से अधिक पौधों का वितरण किया जा चुका है। इनमें सबसे अधिक बिलासपुर संभाग में एक लाख 21 हजार पौधों का वितरण किया गया है। प्रधान मुख्य वन संरक्षक राकेश चतुर्वेदी ने बताया कि निःशुल्क पौधा प्रदाय योजना के तहत वनमण्डल के अंतर्गत जिला मुख्यालयों में निवासरत नागरिक पौधरोपण के लिए पौधों की मांग संबंधित वन विभाग के अधिकारी से कर सकते हैं। इसमें पौधों का वितरण संबंधित जिला मुख्यालय के नगर सीमा के भीतर ही किया जा रहा है। इसके लिए सवेरे 10 बजे से शाम 6 बजे तक का समय निर्धारित किया गया है। उन्होंने बताया कि पर्यावरण संरक्षण, शुद्ध जलवायु, ताजे और मीठे फलों की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करने तथा हरा-भरा एवं सुन्दर छत्तीसगढ़ बनाने के उद्देश्य से राज्य सरकार द्वारा वृहद स्तर पर वृक्षारोपण का कार्यक्रम चलाया जा रहा है। इसमें प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों के नगर सीमा के भीतर विभिन्न प्रजाति के छायादार और फलदार पेड़ लगाने के लिए घर पहुंच निःशुल्क पौधों का वितरण निरंतर जारी है। पौधों की घर पहुंच सेवा के लिए जिलेवार अधिकारियों के मोबाइल नंबर पर संपर्क कर सकते है। इसमें रायपुर के अंतर्गत 90092-42222 तथा 94255-16516 है। इसी तरह महासमुंद के लिए 89597-68056, गरियाबंद के लिए 90099-17777, बलौदाबाजार के लिए 94062-21158 तथा धमतरी के लिए 94252-36881 है।

जगदलपुर के लिए 97539-19000, 75870-16600, 94252-62616, 75870-16601, सुकमा के लिए 75870-16100, 94255-99900, 75870-16210, 93402-87483, 94249-81771 तथा 94242-60662 है। बीजापुर के लिए 87708-13090, 94062-92155, 83055-22662, 87704-38425, 96911-21579, 97705-84017, दंतेवाड़ा के लिए 75870-16100, 89197-06470, 94252-58328, 90098-58328 तथा 94076-42841 है। कांकेर के लिए 75872-15124, 94256-71492, 97701-56776, कोण्डागांव के लिए 88173-31612, 94255-06111 तथा नारायणपुर के लिए 75870-14310 है। इसी तरह सरगुजा के लिए 95840-25909, सूरजपुर के लिए 94242-62346, बलरामपुर के लिए 88392-95580, कोरिया के लिए 98268-93531, 94242-42112 तथा जशपुर के लिए 94241-90608 है। दुर्ग के लिए 94255-86652, 94252-19355, 98266-30264, 75870-13105, बेमेतरा के लिए 74895-41711, 99810-56709 तथा बालोद के लिए 94076-48100, 94060-62726, 94241-25438 है। राजनांदगांव के लिए 96445-65780, 96179-48700, 98274-65122, 62641-62601, 76103-40895, 94255-63093, कवर्धा के लिए 94791-05168, 94790-27029 तथा 87709-76735 है। इसी तरह बिलासपुर के लिए 90981-16130, 70240-23890, 99268-42547 तथा मरवाही के लिए 75870-12244 है। कोरबा के लिए 70006-25744, 78699-39187, 62615-78190, 94252-27185, 98935-39187, रायगढ़ के लिए 97537-33701, 79875-84789, 94241-59875, जांजगीर-चांपा के लिए 74159-95623, 88398-49260 और मुंगेली जिले के लिए 94255-63128, 91793-35863, 99818-92173 तथा 83184-89146 है।

 

30-06-2020
प्रदेश में लोकल टूरिज्म को बढ़ावा देने की दिशा में हो बेहतर काम : ताम्रध्वज साहू

रायपुर। पर्यटन मंत्री ताम्रध्वज साहू ने कहा है कि देश में कोविड-19 की वर्तमान स्थिति को देखते हुए राज्य सरकार ने निर्णय लिया है कि फिलहाल छत्तीसगढ़ में स्थानीय पर्यटन (लोकल टूरिज्म) को बढ़ावा देने की दिशा में कार्य किया जाए। उन्होंने कहा कि राज्य शासन के दिशा-निर्देशों के अनुरूप स्थानीय पर्यटकों के लिए विभिन्न सुविधाओं सहित पर्यटन स्थलों में पर्यटकों के रात्रि विश्राम के लिए होटल, मोटल एवं रिसॉर्ट की व्यवस्था किया जाए ताकि राज्य में लोकल टूरिज्म को बढ़ावा देने की दिशा में बेहतर कार्य हो सके।पर्यटन मंत्री साहू ने मंगलवार को छत्तीसगढ़ टूरिज्म बोर्ड के होटल जोहार छत्तीसगढ़ और होटल प्रबंधन संस्थान का निरीक्षण किया।

होटल जोहार के पुनर्निर्माण के लिए संबंधित अधिकारियों को प्रस्ताव तैयार करने के निर्देश दिए ताकि होटल जोहार छत्तीसगढ़ को पर्यटकों के लिए शीघ्र संचालित किया जा सके। पर्यटन मंत्री ने छत्तीसगढ़ टूरिज्म बोर्ड द्वारा संचालित होटल प्रबंधन संस्थान (आईएचएम) नवा रायपुर का भी निरीक्षण किया। इस संस्थान को वर्तमान सत्र से ही प्रारंभ किए जाने के लिए तत्काल सभी औपचारिकताओं को पूर्ण करने के निर्देश संबंधित अधिकारी को दिए ताकि होटल प्रबंधन संस्थान में इस सत्र से छात्र-छात्राओं के लिए शिक्षण प्रशिक्षण प्रारंभ हो सके। निरीक्षण के दौरान छत्तीसगढ़ टूरिज्म बोर्ड की प्रबंध संचालक इफ्फत आरा और छत्तीसगढ़ टूरिज्म बोर्ड के

29-06-2020
प्रदेश में बार ही बंद रहेंगे, होटल-रेस्टोरेंट नहीं, नया आदेश जारी

रायपुर। राज्य शासन ने होटल, रेस्टोरेंट और बार संचालन के संबंध में जारी आदेश में संशोधन किया है। इस संबंध में वाणिज्यिक कर आबकारी विभाग की ओर से नया आदेश जारी हुआ है। जारी नए आदेश के अनुसार स्पष्ट किया गया है कि रेस्टोरेंट बार और होटल बार में स्थित केवल बार रूम, स्टॉक रूम  और शराब संग्रहण को 5 जुलाई तक बंद रखा गया है। कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए जारी निर्देशों का पलन करना आवश्यक होगा।

 

29-06-2020
कौशिक ने कहा, प्रदर्शन की पॉलिटिक्स से कुछ नही होगा,धरना के बजाय वैट टैक्स कम हो

रायपुर। नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने प्रदेश में पेट्रोल-डीजल के दामों को लेकर कांग्रेस के प्रदर्शन पर प्रतिक्रिया व्यक्त की। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कांग्रेस की सरकार है उनके मंत्री और कार्यकर्त्ता को अपनी सरकार को पेट्रोल-डीजल के दामों पर वैट टैक्स कम कर के लिये सुझाव देना चाहिए। इससे की प्रदेश की जनता को राहत मिल सकेगी। इस तरह से प्रदर्शन के नाम पर सियासत नही करना चाहिये। उन्होंने कहा कि जब से प्रदेश में कांग्रेसी की सरकार बनी है तब से जनहित के मुद्दे पर कोई ध्यान नहीं है। केवल भ्रम फैलाकर यह सरकार आम लोगों को दिग्भ्रमित करना चाहती है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार को संवेदनशीलता से इन उत्पादों  पर जल्द ही वैट टैक्स कम करना चाहिए ताकि जनता को महंगाई से राहत मिल सके। इस समय जिस तरह कोरोना को लेकर जो परिस्थितियां निर्मित हुई हैं उसे ध्यान में रखते हुए कांग्रेस की सरकार को बड़े फैसले लेने की जरूरत है। इस दिशा में अब तक प्रदेश सरकार ने कोई कदम नहीं उठाया है। पूरे प्रदेश में महंगाई नियंत्रण में नहीं है,जिस पर भी सरकार को चिंता करना चाहिए।


 

 
29-06-2020
प्रदेश के 14 नगर निगमों में 101 मुख्यमंत्री वार्ड कार्यालयों से 13 हजार से अधिक समस्याओं का हुआ निराकरण

रायपुर। प्रदेश के नगरीय क्षेत्रों में आम नागरिकों की समस्याओं का समाधान अब उनके मोहल्ले में ही मुख्यमंत्री वार्ड कार्यालय से हो रहा है। इससे लोगों के जोन कार्यालय अथवा मुख्य नगर निगम कार्यालय जाने से निजात मिल रही है। वही नागरिकों का समय भी बच रहा हैं। नगरीय निकायों में निवासरत नागरिकों को बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए मुख्यमंत्री वार्ड कार्यालय का संचालन किया जा रहा है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने शहरी निवासियों को स्थानीय स्तर पर ही छोटी-मोटी समस्याओं के निराकरण के लिए 2 अक्टूबर 2019 को मुख्यमंत्री वार्ड कार्यालय का शुभारंभ किया था। प्रदेश के 14 नगर निगमों में 101 वार्ड कार्यालयों में नागरिकों के 13 हजार 983 शिकायतों-समस्याएं प्राप्त हुई थी। इनमें से 13 हजार से अधिक शिकायतों-समस्याओं का त्वरित निराकरण कर लिया गया है।अधिकारियों ने बताया कि वार्ड कार्यालयों में साफ-सफाई, सड़कों का निर्माण, नालियों का निर्माण, नालियों का संधारण, स्ट्रीट लाईट संधारण, उद्यान तथा भवनों की साफ-सफाई, पाईप लाईन लिकेज संधारण और स्वच्छ पेयजल संबंधी समस्या का शीघ्र निराकरण किया जाना शामिल है। इसके अतिरिक्त निकाय द्वारा जारी की जाने वाली सेवाएं जैसे भवन अनुज्ञा, दुकान पंजीयन, विद्युत अनापत्ति प्रमाण पत्र, आवासीय योजनाओं से संबंधी प्रमाण पत्र एवं निकायों से संबंधित विभिन्न जन कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी तथा समस्याओं का निराकरण वार्ड स्तर पर ही किए जाने की व्यवस्था वार्ड कार्यालय द्वारा की गई।

 

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804