GLIBS
23-07-2019
पीएम मोदी से मिलने संसद में आया उनका खास दोस्त !

नई दिल्ली। गंभीर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार को अलग अंदाज में दिखे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की इंस्टाग्राम प्रोफाइल से दो तस्वीरें शेयर की गई हैं जिनमें मोदी एक छोटे बच्चे को गोद में लिए दिख रहे हैं। पीएम मोदी इस तस्वीर में एक छोटे बच्चे के साथ खेलते नजर आ रहे हैं। इस तस्वीर के साथ कैप्शन में लिखा गया है कि एक बहुत खास दोस्त आज मुझसे मिलने संसद में आया। हालांकि यह बच्चा कौन है पीएम मोदी ने इसका जिक्र नहीं किया है। इन तस्वीरों में प्रधानमंत्री मोदी सिर्फ बच्चे के साथ खेलते ही नजर नहीं आ रहे हैं बल्कि उनकी मेज पर कई चॉकलेट्स भी रखी हुई दिखाई दे रही हैं। पहली तस्वीर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और वह बच्चा दोनों खिलखिलाते हुए नजर आ रहे हैं। प्रधानमंत्री इस तस्वीर में एक हाथ से छोटे बच्चे के पैर पकड़े नजर आ रहे हैं वहीं दूसरे हाथ से उन्होंने बच्चे के कंधे को थाम रखा है। इस तस्वीर में बच्चा अपने हाथ में एक बर्तन लिए हुए दिख रहा है। दूसरी तस्वीर में बच्चा टेबल पर रखी हुई चॉकलेट्स को देख रहा है। पीएम मोदी ने बच्चे को गोदी में पकड़ रखा है।

 

06-07-2019
पेशेवर निराशावादियों से सतर्क रहें, समाधान देने की जगह संकट में डाल सकते हैं : पीएम मोदी

वाराणसी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का शनिवार को अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी पहुंचे। उन्होंने भाजपा से लोगों को जोड़ने के लिए एक कार्यक्रम में हिस्सा लिया। प्रधानमंत्री ने आने वाले समय में भारत की 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने पर कहा- पेशेवर निराशावादियों से सतर्क रहें। वे समाधान देने की जगह संकट में डाल सकते हैं। इससे पहले मोदी ने एयरपोर्ट पर उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की कांस्य मूर्ति का अनावरण किया। इसके बाद उन्होंने हरहुआ गांव में पौधरोपण अभियान की शुरूआत की। इसके तहत 27 लाख पौधे लगाए जाएंगे। दोबारा प्रधानमंत्री पद संभालने के बाद यह उनका दूसरा बनारस दौरा है।

वृक्षारोपण का अभियान योगीजी के नेतृत्व में शुरू हुआ
मोदी ने कहा- यह संयोग हैं कि भाजपा का सदस्यता कार्यक्रम अमरत्व पात्र हमारी काशी में हो रहा है। यानी एक त्रिवेणी बनी है। काशी और देशभर के कार्यकतार्ओं को सफल अभियान के लिए शुभकामनाएं देता हूं। मुझे एयरपोर्ट पर स्वर्गीय लालबहादुर शास्त्री जी की प्रतिमा का अनावरण करने का मौका मिला। उसके बाद वृक्षारोपण का बहुत बड़ा अभियान योगीजी के नेतृत्व में आरंभ हुआ है।

5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने को लेकर कोई शक नहीं
प्रधानमंत्री ने कहा- एक बहुत बड़े लक्ष्य पर आपसे और प्रत्येक देशवासी से बात करना चाहता हूं। यह लक्ष्य सिर्फ सरकार का नहीं है। यह लक्ष्य हर भारतीय का है। कल आपने बजट में और उसके बाद टीवी पर चचार्ओं में और आज अखबारों में एक बात पढ़ी सुनी देखी होगी। चारों तरफ एक शब्द गूंज रहा है। वह है 5 ट्रिलियन डॉलर इकोनॉमी। आखिर इसका मतलब क्या है। यह आपके लिए जानना और घर-घर जाकर बताना भी जरूरी है। कुछ लोग हैं जो हम भारतीयों के सामर्थ्य पर शक कर रहे हैं। वे कह रहे हैं कि भारतीयों के लिए यह लक्ष्य हासिल करना बहुत मुश्किल है। साथियों जब यह बात सुनता हूं तो काशी के बेटे के मन में कुछ अलग ही भाव जगते हैं। मैं यही कहना चाहता हूं कि वो जो सामने मुश्किलों का अंबार है। उसी से तो मेरे हौसलों की मीनार है। चुनौतियों को देखकर घबराना कैसा, इन्हीं में तो छिपी संभावना अपार है। विकास के यज्ञ में परिश्रम की महक है। यही तो मां भारती का अनुपम श्रृंगार है। गरीब-अमीर बने नए हिंद की भुजाएं हैं। बदलते भारत की यही तो पुकार है। देश पहले भी चला और आगे भी बढ़ा अब न्यू इंडिया दौड़ने को बेताब है। दौड़ना ही तो न्यू इंडिया का सरोकार है।

केक जितना बड़ा होगा, उतना ज्यादा लोगों को मिलेगा
मोदी ने कहा- 5 ट्रिलियन डॉलर इकोनॉमी का मतलब होता है 5 लाख करोड़ डॉलर। आज हमारी अर्थव्यवस्था का जो आकार है उसका लगभग दोगुना। मैं खुद अर्थशास्त्री नहीं हूं। मुझे इसका अ भी नहीं आता। लेकिन जिस लक्ष्य की मैं आपसे बात कर रहा हूं उससे आपका उत्साह बढ़ेगा। यही मुसीबतों से मुक्ति का मार्ग है। अंग्रेजी में कहावत होती है कि साइज आॅफ द केक मैटर्स। यानी जितना बड़ा केक होगा, उतना ज्यादा लोगों को मिलेगा। इसी लिए हमने भारत की अर्थव्यवस्था को 5 ट्रिलियन डॉलर बनाने का लक्ष्य रखा है। अर्थव्यवस्था जितनी बड़ी होगी, उतनी ही लोगों की आमदनी बढ़ेगी और जीवनशैली में परिवर्तन होगा। आप दूसरे देश को देखेंगे तो पता चलेगा कि वहां भी प्रतिव्यक्ति आय ज्यादा नहीं होती थी। लेकिन एक समय आया, जब इन देशों में प्रतिव्यक्ति ज्यादा हो गई। यह वह समय था जब देश विकासशील से विकसित देशों की श्रेणी में आ गए। भारत अब लंबा इंतजार नहीं कर सकता। भारत जब सबसे युवा देश है तो यह लक्ष्य भी मुश्किल नहीं है। जब किसी देश में प्रतिव्यक्ति आय बढ़ती है तो वह खरीद क्षमता बढ़ाती है। जब क्षमता बढ़ती है, डिमांड बढ़ती है। इसी से सर्विस बढ़ती है और रोजगार के मौके बनते हैं।

बजट में 10 साल का विजन
मोदी ने कहा- हमारे दिमाग में गरीबी एक वर्च्यू बन गया है। हम बचपन में सत्यनारायण की कथा सुनते थे, उसकी शुरूआत एक गरीब ब्राह्मण से होती है। यानी शुरूआत ही गरीबी से होती थी। कल जो बजट प्रस्तुत किया गया, उसमें सरकार ने यह नहीं कहा कि इसमें इतना दिया गया। 5 ट्रिलियन डॉलर इकोनॉमी के लक्ष्य को भारत कैसे प्राप्त कर सकता है। यह हमने दिखाया और बताया कि आने वाले 10 साल के विजन के साथ हम मैदान में उतरे हैं। उसका एक पड़ाव है ये पांच साल। आज देश खाने-पीने के मामले में आत्मनिर्भर है तो इसके पीछे देश के किसानों का सतत परिश्रम है। अब हम किसानों को उत्पादक से आगे एक्सपोर्टर के रूप में देख रहे हैं। हमारे पास निर्यात की क्षमता है। फूड प्रोसेसिंग से लेकर मार्केटिंग तक के लिए निवेश बढ़ाया गया है।

पेशेवर निराशावादियों से सतर्क रहें
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा- कुछ लोग कहते हैं कि यह क्यों किया जा रहा है, वो क्यों किया जा रहा है। ऐसे लोग प्रोफेशनल पेसिमिस्ट यानी पेशेवर निराशावादी होते हैं। उदाहरण के तौर पर जब आप इनके पास कोई समस्या लेकर जाएंगे तो वे आपको समाधान की जगह संकट में डाल देंगे। समाधान को संकट में कैसे बदलना है, यह निराशावादी की पहचान होती है। 5 ट्रिलियन डॉलर के लक्ष्य के लिए सकारात्मकता भरना यह भी तो लोगों की जिम्मेदारी है। गंभीर से गंभीर बीमारी की स्थिति में भी डॉक्टर मरीज का उत्साह बढ़ाता है। क्योंकि अगर पेशेंट उत्साह से भर जाएगा तो बीमारी को परास्त कर सकता है। देश को निराशावादी लोगों से सतर्क रहने की जरूरत है। हम यह चर्चा कर सकते हैं कि मोदी जो बता रहे हैं वो ठीक है या नहीं और चर्चा करते हुए नए सुझाव भी देने चाहिए। लेकिन 5 ट्रिलियन का लक्ष्य नहीं होना चाहिए। इतना बड़ा लक्ष्य नहीं रखना चाहिए। इससे बचना चाहिए। देश के विद्वानों की राय हमारे लिए अहम है।

पिछली बार 27 मई को आए थे मोदी
लोकसभा चुनाव के बाद मोदी का अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी में यह दूसरा दौरा होगा। इससे पहले वह 27 मई को शहर के मतदाताओं को भारी मतों से विजयी बनाने के लिए धन्यवाद देने आए थे। शनिवार के कार्यक्रम के मद्देनजर हरहुआ प्राथमिक विद्यालय की दीवारों पर पर्यावरण से जुड़ी पेंटिंग बनाई गई हैं। 

पहले कार्यकाल में 19 बार किया था काशी का दौरा
मोदी ने अपने पहले कार्यकाल में 19 बार वाराणसी आए। इस दौरान उन्होंने कई कार्यक्रमों में शिरकत की और कई बार काशी विश्वनाथ मंदिर में दर्शन भी किए।

05-07-2019
सीएम बघेल ने पीएम मोदी को पत्र लिखकर वन संरक्षण अधिनियम में संशोधन का किया आग्रह 

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने छत्तीसगढ़ के वन क्षेत्रों के निवासियों के जीवन स्तर में सुधार और खुशहाली लाने के उद्देश्य से इन क्षेत्रों में लघु वनोपज प्रसंस्करण, कृषि प्रसंस्करण एवं खाद्य प्रसंस्करण से संबंधित ऐसे सूक्ष्म एवं लघु औद्योगिक इकाइयों, जिनमें किसी प्रकार का प्रदूषण नहीं होता हो, की स्थापना के लिए वन संरक्षण अधिनियम में आवश्यक संशोधन करने का आग्रह किया। मुख्यमंत्री ने ऐसे कार्यों को वानिकी गतिविधियों में शामिल करने का आग्रह करते हुए कहा है कि इससे वन क्षेत्रों में ऐसे प्रसंस्करण उद्योगों की बड़ी संख्या में स्थापना का मार्ग प्रशस्त हो सकेगा। मुख्यमंत्री ने अपने पत्र में कहा है कि कठिन भौगोलिक परिस्थितियों के कारण वन क्षेत्रों के निवासियों को  निर्बाध विद्युत आपूर्ति' सुनिश्चित करना अत्यंत कठिन कार्य है। बिना ऊर्जा के किसी भी समुदाय की आर्थिक प्रगति संभव नहीं है। इस समस्या के निराकरण के लिए यह आवश्यक है कि वन क्षेत्रों में एक से 5 मेगावाट क्षमता के सौर संयंत्र परियोजनाओं की स्थापना हेतु अनुमति प्रदान की जाए। इसके लिए  नवीन एवं नवीकरण ऊर्जा मंत्रालय भारत सरकार द्वारा वन-क्षेत्रों में गुणवत्तायुक्त विद्युत आपूर्ति हेतु विशेष कार्ययोजना तैयार की जाए। उन्होंने इसके लिए भी 'वन संरक्षण अधिनियम' के प्रावधानों में संशोधन करने तथा सौर ऊर्जा परियोजनाओं को 'हरित गतिविधि' मान्य करने का आग्रह किया है। 
मुख्यमंत्री ने अपने पत्र में लिखा है कि छत्तीसगढ़ राज्य के कुल भू-भाग का 44 प्रतिशत भाग वनों से आच्छादित है। छत्तीसगढ़ को 'हरित प्रदेश' अथवा सम्पूर्ण देश को शुद्ध वायु आपूर्ति करने वाले राज्य होने का गौरव प्राप्त है। लेकिन वनों के आधिक्य के कारण वन क्षेत्रों के निवासियों का जीवन अत्यंत कठिन है।  इन क्षेत्रों में 'वन अधिनियम' एवं 'वन संरक्षण अधिनियम' के कड़े प्रावधानों के कारण कृषि, व्यापार, उद्योग, सेवा क्षेत्र, संचार एवं परिवहन गतिविधियों का प्रसार अत्यंत सीमित है। इससे वन क्षेत्रों के निवासियों की आय में वृद्धि, गरीबी में कमी एवं जीवन स्तर में वृद्धि एक चुनौतीपूर्ण लक्ष्य बन चुका है। उन्होंने कहा कि राज्य के चिन्हांकित 10 आकांक्षी जिलों में से 9 जिलों के अधिकांश भागों में वन हैं। वन क्षेत्रों के निवासियों के जीवन में खुशहाली लाना राज्य सरकार का नैतिक दायित्व है, लेकिन इसमें केन्द्र सरकार का पूर्ण  सहयोग भी अत्यंत आवश्यक है।

04-07-2019
पीएम मोदी ने किनसे कहा कि राष्ट्रसेवा के लिए स्वस्थ शरीर जरूरी है

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारतीय जनता पार्टी के एससी-एसटी सांसदों को फिट रहने की नसीहत दी है। उन्होंने 40 साल से ज्यादा उम्र के सांसदों को नियमित स्वास्थ्य जांच कराने कहा है। पीएम नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को बीजेपी के एसटी और एससी के सांसदों की बैठक में सांसदों को ये नसीहत दी। बैठक में 44 एससी-एसटी सांसद मौजूद थे। पीएम मोदी ने बैठक में ये भी कहा कि राष्ट्र सेवा के लिए स्वस्थ शरीर जरूरी है। कई साथी असमय ही छोड़ गए। प्रधानमंत्री ने बैठक में सांसदों से उनके क्षेत्रों में कराए सामाजिक कार्य की जानकारी मांगी। इससे पहले पीएम मोदी बुधवार को पार्टी के ओबीसी सांसदों से मिले थे। अगले हफ्ते पीएम मोदी महिला, युवा और नए सांसदों से मुलाकात करेंगे। दरअसल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सांसदों को अलग-अलग वर्गों में बांटकर, उनके साथ बैठक कर रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लगातार हो रही बैठकों में राज्यसभा और लोकसभा दोनों सदनों के सांसदों सांसद शामिल हैं। सभी सांसदों से संसदीय मामलों के संबंध में भी बातचीत की जा रही है।

27-06-2019
130 करोड़ भारतीयों ने बनाई है पहले से मजबूत सरकार : पीएम मोदी

नई दिल्ली।  जी-20 सम्मेलन में भाग लेने जापान पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वहां कोबे में लोगों को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि मैं सात महीने बाद फिर यहां आकर भाग्यशाली हूं। यह संयोग है कि जब पिछली बार मैं यहां आया था और आपने मेरे मित्र शिंजो आबे में अपना विश्वास दिखाया था। आज जब मैं यहां हूं, दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र ने इस प्रधान सेवक पर और भरोसा दिखाया है।  प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि 130 करोड़ भारतीयों ने पहले से मजबूत सरकार बनाई है। यह बड़ी बात है। तीन दशक के बाद, पहली बार, पूर्ण बहुमत के साथ लगातार दूसरी बार सरकार बनी है। उन्होंने कहा कि सबका साथ, सबका विकास और उसमें लोगों ने अमृत मिलाया सबका विश्वास। हम इस मंत्र के साथ आगे बढ़ रहे हैं। भारत मजबूत बनेगा। पीएम मोदी ने कहा कि जब दुनिया के साथ भारत के संबंधों की बात होती है तो जापान इसमें महत्वपूर्ण स्थान रखता है। ये संबंध आज के नहीं है बल्कि सदियों से बने हुए हैं। इन संबंधों में एक-दूसरे की संस्कृति को लेकर सम्मान और सामंजस्यता है। 

 

25-06-2019
कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने राज्यसभा में किए पीएम मोदी से सवाल....

नई दिल्ली। राष्ट्रपति के अभिभाषण के बाद दोनों सदनों में बहस चली रही। इसी कड़ी में दिग्विजय सिंह सवाल किए। मंगलवार को राज्यसभा में कांग्रेस के दिग्विजय सिंह ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से सवाल किए।
उन्होंने कहा कि 2014 का सबका साथ-सबका विकास, 2019 तक आते-आते 2019 में विश्वास जुड़ गया है। दिग्विजय ने कहा कि जो व्यक्ति राष्ट्रपति की इफ्तार पार्टी में जाने को राजी नहीं था वो आज अल्पसंख्यकों का विश्वास जीतने की बात कर रहे हैं। जिस व्यक्ति ने मुस्लिम टोपी पहनने से इनकार कर दिया, केंद्र सरकार की योजना को लागू करने से मना कर दिया वह विश्वास की बात कर रहे हैं।
दिग्विजय ने कहा कि प्रधानमंत्री में क्या ये परिवर्तन सच में है या सिर्फ एक जुमला ही है। देश में आज सांप्रदायिकता का जहर कूट-कूटकर भर दिया गया है, अब इसे वापस निकालना आसान नहीं है। आप विश्वास की बात कर रहे हैं लेकिन आपके समर्थक झारखंड में एक व्यक्ति को मार रहे थे। भले ही उसने चोरी की थी लेकिन उसे कानूनी रूप से सजा मिलनी चाहिए थी।
दिग्विजय सिंह ने कहा कि लोकसभा में आज जय श्री राम और अल्लाह हू अकबर के नारे लग रहे हैं। आज देश में ऐसे नेता सामने आ रहे हैं जो हिंदुओं को भड़काते हैं, मुसलमानों को भड़काते हैं जो चिंता का विषय है।. प्रधानमंत्री अर्थव्यवस्था को 5 ट्रिलियन ले जाने का दावा कर रहे हैं, लेकिन अर्थव्यवस्था का आज बुरा हाल हो गया है। धोखे के साथ गलत आंकड़े जारी किए जा रहे हैं।
दिग्विजय ने कहा कि पिछले 5 साल में बेरोजगारी बढ़ी है, लेकिन राष्ट्रपति के भाषण में उसका जिक्र ही नहीं है। इस दौरान उन्होंने बैंकिंग सेक्टर के बुरे हाल पर भी केंद्र पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि 2014 में इन्होंने कश्मीरी पंडितों को वापस भेजने का वादा किया, लेकिन क्या सरकार आज इस पर जवाब दे पाएगी।

 

23-06-2019
बीएसएनएल के इंजीनियरों ने पीएम मोदी को पत्र लिखकर मांगी मदद 

नई दिल्ली। सार्वजनिक क्षेत्र की दूरसंचार कंपनी बीएसएनएल के इंजीनियरों और लेखा पेशेवरों के एक संघ ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से कंपनी के पुनरूद्धार के वास्ते हस्तक्षेप करने का आग्रह किया है। उन्होंने कहा है कि बीएसएनएल पर कोई कर्ज नहीं है और इसकी बाजार हिस्सेदारी में लगातार इजाफा हो रहा है। ऐसे में कंपनी को फिर से खड़ा किया जाना चाहिये। कंपनी में उन कर्मचारियों की जवाबदेही तय की जानी चाहिये जो अपना काम ठीक से नहीं कर रहे हैं। 'दि ऑल इंडिया ग्रेजुएट इंजीनियर्स एंड टेलीकॉम आफिसर्स एसोसिएशन' (एआईजीईटीओए) ने 18 जून को प्रधानमंत्री को इस बारे में पत्र लिखा है। पत्र में प्रधानमंत्री से कंपनी के नकदी संकट को दूर करने के लिये बजट समर्थन दिये जाने का अनुरोध किया गया है। इसमें कहा गया है कि नकदी संकट की वजह से कंपनी का परिचालन और सेवाओं का रखरखाव प्रभावित हो रहा है। पत्र में कहा गया है कि हमारा मानना है कि मौजूदा नकदी संकट को दूर करने के लिए सरकार की तरफ से मिलने वाले न्यूनतम समर्थन से भी बीएसएनएल को एक बार फिर से मुनाफा कमाने वाली कंपनियों में शामिल किया जा सकता है। एसोसिएशन ने कहा कि बीएसएनएल में कर्मचारियों के लिए प्रदर्शन आधारित व्यवस्था बनाई जानी चाहिए। इससे अच्छा प्रदर्शन करने वाले कर्मचारियों को पुरस्कृत किया जा सकेगा जबकि खराब प्रदर्शन करने वाले कर्मचारियों से जवाब मांगा जा सकेगा। बता दें कि सार्वजनिक क्षेत्र की दोनों दूरसंचार कंपनियां बीएसएनएल और एमटीएनएल 2010 से घाटे में चल रही हैं। उस समय इन कंपनियों से उनके परिचालन वाले सभी सर्किलों के लिए नीलामी में निकले स्पेक्ट्रम मूल्य का भुगतान करने को कहा गया था। एमटीएनएल दिल्ली और मुंबई में तथा बीएसएनएल शेष 20 दूरसंचार सर्किलों में परिचालन करती है। एमटीएनएल जहां लगातार घाटे में है वहीं बीएसएनएल ने 2014-15 में 672 करोड़ रुपये, 2015-16 में 3,885 करोड़ रुपये और 2016-17 में 1,684 करोड़ रुपये का परिचालन लाभ दर्ज किया था। पत्र में कहा गया है कि बाजार बिगाडऩे वाली परिस्थितियों के चलते बीएसएनएल सहित पूरा दूरसंचार क्षेत्र दबाव में आया है। इसके बावजूद बीएसएनएल की बाजार हिस्सेदारी में बढ़ोतरी हो रही है।

 

21-06-2019
पुतिन-ट्रंप को पछाड़ पीएम मोदी बने दुनिया के सबसे ताकतवर शख्स

 

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारत के लिए अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर बड़ी खुशखबरी की खबर आई है। पीएम नरेंद्र मोदी को ब्रिटिश हेराल्ड के एक पोल में रीडर्स ने 2019 का दुनिया का सबसे ताकतवर शख्स चुना है। इस पोल में मोदी ने दुनिया के अन्य ताकतवर नेताओं जैसे व्लादिमीर पुतिन, डोनाल्ड ट्रंप और शी जिनपिंग को मात दी। नॉमिनेशन लिस्ट में दुनिया की 25 से ज्यादा हस्तियों को शामिल किया गया था और जज करने वाले पैनल एक्सपर्ट्स ने सबसे ताकतवर शख्स के तमगे के लिए 4 उम्मीदवारों का नाम सामने रखा। चयन प्रक्रिया का मूल्यांकन इन सभी आंकड़ों के व्यापक अध्ययन और रिसर्च पर आधारित था।

19-06-2019
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के जन्मदिन पर पीएम मोदी और राजनाथ सिंह ने दी बधाई

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल को उनके जन्मदिन पर बधाई। ट्वीट के जरिए जन्मदिन की बधाई देते हुए पीएम मोदी ने राहुल गांधी के अच्छे स्वास्थ्य और लंबे जीवन की कामना की है। इसके साथ ही रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने भी राहुल गांधी को उनके बर्थ डे पर विश किया है। राजनाथ सिंह ने राहुल को जन्मदिन की बधाई और शुभकामनाएं प्रेषित की। 

आज राहुल गांधी 48 साल के हो गए हैं। उनका जन्म 19 जून 1970 को नई दिल्ली में राजीव और सोनिया गांधी के यहां हुआ था। वह अपने माता-पिता की दो संतानों में बड़े हैं। लोकसभा चुनाव 2019 में अमेठी और केरल के वायनाड से चुनाव लड़े थे। केरल के वायनाड से जीतकर राहुल गांधी संसद पहुंचे हैं।

17-06-2019
19 को सर्वदलीय बैठक, 'एक राष्ट्र एक चुनाव' पर होगी चर्चा

नई दिल्ली। पीएम मोदी ने नई लोकसभा के पहले सत्र की पूर्वसंध्या पर रविवार को सर्वदलीय बैठक की अध्यक्षता की और ‘एक राष्ट्र, एक चुनाव' के मुद्दे पर और अन्य महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा करने के लिए 19 जून को सभी दलों के प्रमुखों की बैठक बुलाई है। पीएम मोदी ने कहा कि लोकसभा में इस बार कई नये चेहरे हैं और निचले सदन का पहला सत्र नये उत्साह और सोच के साथ शुरू होना चाहिए। बैठक के बाद मीडिया को संबोधित करते हुए संसदीय कार्य मंत्री प्रहलाद जोशी ने कहा कि प्रधानमंत्री ने सभी दलों के नेताओं से इस बात का आत्मनिरीक्षण करने का अनुरोध किया कि संसद सदस्य जन प्रतिनिधि के तौर पर लोगों की आकांक्षाओं को पूरा करने में सक्षम हों। 16वीं लोकसभा के अंतिम दो वर्ष बेकार चले जाने के विषय पर भी विचार करने का अनुरोध किया गया। 

संसद के प्रत्येक सत्र की शुरूआत से पहले उसके सुगम कामकाज के लिहाज से सर्वदलीय बैठक की पंरपरा रही है। मोदी ने उन सभी दलों के अध्यक्षों को 19 जून को होने वाली बैठक में आमंत्रित किया है जिनका लोकसभा या राज्यसभा में एक भी सदस्य है। जोशी ने कहा कि ‘एक राष्ट्र, एक चुनाव' के मुद्दे पर, 2022 में भारत की आजादी के 75 साल होने और इस साल महात्मा गांधी के 150वें जयंती वर्ष के विषय पर चर्चा करने के लिए बैठक बुलाई है। उन्होंने कहा कि इसके बाद लोकसभा और राज्यसभा के सभी सांसदों के साथ 20 जून को रात्रिभोज पर बैठक होगी जिसमें सभी सरकार के साथ मुक्त संवाद कर सकेंगे।

जोशी ने कहा कि ये दो अनूठे तरीके सभी सांसदों के बीच टीम भावना का निर्माण करने में कारगर होंगे। आज की बैठक में विपक्ष ने मांग की कि किसानों के संकट, बेरोजगारी और सूखे जैसे विषयों पर संसद में चर्चा होनी चाहिए। बैठक के बाद मोदी ने ट्वीट किया कि आज हमने सार्थक सर्वदलीय बैठक की जो चुनाव परिणामों के बाद और मानसून सत्र शुरू होने से पहली बैठक है। नेताओं के बहुमूल्य सुझावों के लिए उनका आभार। हम सभी संसद में सुगम कामकाज के लिए सहमत हुए ताकि हम सभी जनता की आकांक्षाओं को पूरा कर सकें। 

16-06-2019
पानी पीती हैं बेटियां तो उल्टी हो जाती है, पीएम मोदी से मांगी खुदकुशी की अनुमति

लखनऊ। उत्तरप्रदेश के हाथरस में एक व्यक्ति और उसकी तीन बेटियों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर आत्महत्या करने की अनुमति मांगी है क्योंकि उन्हें पीने के लिए एक बूंद भी पानी नहीं मिल रहा है। हाथरस जिला के हासयान ब्लॉक में एक किसान चंद्रपाल सिंह क्षेत्र में खारा पानी आने की शिकायत करने के लिए कई दिनों से सरकारी अधिकारियों के चक्कर लगा रहे हैं। उन्होंने कहा कि हम ये पानी नहीं पी सकते। मेरी बेटियां जब भी ये पानी पीती हैं, उन्हें उल्टी हो जाती है। पानी में ज्यादा नमक होने के कारण फसलें भी नष्ट हो रही हैं। अपने परिवार को बोतलबंद पानी पिलाने की मेरी हैसियत नहीं है।

मेरी गुजारिशों से अधिकारियों के कानों पर जूं तक नहीं रेंग रही और अब मैंने प्रधानमंत्री से अपना और अपनी नाबालिग बेटियों का जीवन खत्म करने की अनुमति मांगी है। क्षेत्र के बाकी लोग भी इसी समस्या से जूझ रहे हैं। एक स्थानीय निवासी राकेश कुमार ने कहा कि पानी इतना खारा है कि जानवर तक ये पानी नहीं पीते। पीने योग्य पानी लाने के लिए हम लोगों को तीन से चार किलोमीटर दूर पैदल जाना पड़ता है। अधिकारियों से जब इस संबंध में पूछा गया तो उन्होंने इस समस्या के प्रति कोई जानकारी न होने की बात कही। 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804