GLIBS
13-01-2021
निगम जोन 1 ने तीन स्थानों में ढाई एकड़ निजी भूमि में जारी अवैध प्लाटिंग पर रोक लगाई

रायपुर। नगर निगम रायपुर के जोन 1 नगर निवेश विभाग की टीम ने  जोन 1 के यतियतन लाल वार्ड क्रमांक 4 के गोंदवारा में अवैध प्लाटिंग के खिलाफ कार्रवाई की। अनुग्रह रेसीडेंसी के पीछे, गोंदवारा रेलवे क्रासिंग के पास 3 स्थानों में लगभग ढाई एकड निजी भूमि पर अवैध प्लाटिंग की जा रही थी। जोन कमिश्नर नेतराम चंद्राकर के नेतृत्व जोन कार्यपालन अभियंता सुभाष चंद्राकर, जोन नगर निवेश उपअभियंता  अक्षय भारद्वाज, शरद देशमुख की उपस्थिति में यह कार्रवाई की गई। जोन कमिश्नर नेतराम चंद्राकर ने बताया कि नगर निगम आयुक्त सौरभ कुमार के आदेशानुसार जनशिकायतें सही मिलने पर टीम मौके पर पहुंची। अवैध प्लाटिंग पर रोक लगाने मुरम रोड को थ्रीडी की सहायता से काटा गया। निजी भूमि के वास्तविक भूमि स्वामी के बारे में जानकारी शीघ्र देने रायपुर तहसीलदार को पत्र लिखा गया है। तहसीलदार रायपुर कार्यालय से वास्तविक भूमि स्वामी की जानकारी मिलते ही निगम अधिनियम के प्रावधान के तहत संबंधित भूमि स्वामी पर कानूनी कार्रवाई करवाने संबंधित पुलिस थाना में नामजद एफआईआर दर्ज कराई जाएगी।

 

29-12-2020
आत्महत्या के मामले में एफआईआर दर्ज नहीं करने पर एएसआई निलंबित

जांजगीर-चांपा। आत्महत्या के मामले में एफआईआर दर्ज नहीं करने वाले एएसआई को एसपी ने निलंबित कर दिया है। मिली जानकारी के अनुसार पामगढ़ थाना क्षेत्र के संजय खरे का कुछ युवकों से 22 दिसम्बर को मारपीट हुई थी। मारपीट से आहत होकर संजय ने सोमवार को सुसाइड नोट लिखकर आत्महत्या कर ली थी। मृतक ने सुसाइड नोट में घटना और आरोपियों का जिक्र किया है। बता दें कि ममले में एएसआई हरनारायण ताम्रकार ने एफआईआर दर्ज नहीं किया। एएसआई पर 20 हजार रुपए घुस मांगने का भी आरोप लगा था। इस पर एसपी पारुल माथुर ने एएसआई हरनारायण ताम्रकार को निलंबित कर दिया है।

 

15-12-2020
सीसीटीवी कैमरा में मिला फुटेज,सामान चोरी करने वाले व्यक्तियों होगी एफआईआर दर्ज  

दुर्ग। नगर पालिक निगम दुर्ग द्वारा निर्मित छग लोक कला मार्ग में छग की पारंपरिक सांस्कृतिक परंपराओं का प्रतीक के रुप प्रतिमा  व अन्य सौदर्यीकरण का कार्य विगत दिनों किया गया। इसमें कुछ व्यक्तियों द्वारा छेड़छाड़ कर मूतियों से चश्मा व 6 अन्य सामानों की चोरी कर ली गई। निगम द्वारा लगाये गये सीसीटीवी कैमरा में उनका फुटेज 13 दिसबंर को रात्रि 12.40 बजे दर्ज हो गई है। इसे पैनड्राइव में लेकर आयुक्त इंद्रजीत बर्मन ने मूर्तियों से छेड़छाड़ और सामानों को चोरी करने वाले व्यक्तियों पर एफआईआर दर्ज कर कार्यवाही करने पत्र प्रेषित किया गया है। आयुक्त बर्मन ने आम जनता से अनुरोध कर कहा है कि शहर की सुन्दरता में छग की संस्कृति लोक कला कोक प्रदर्शित करने वाले आकृति और प्रतिमाओं से हमारी संस्कृति को हमें याद दिलाते हैं, इस सौदर्यीकरण स्थल को सुरक्षित रखें, किसी भी प्रकार से छेड़छाड़ न करें।

 

01-12-2020
भाजपा पार्षद दल ने निगम आयुक्त को सौंपा ज्ञापन, पार्किंग घोटाले में की एफआईआर दर्ज कराने की मांग

दुर्ग। नेता प्रतिपक्ष अजय वर्मा के नेतृत्व में भाजपा पार्षद दल ने शहर में चर्चित पार्किंग घोटाले के विषय में नगर निगम आयुक्त को ज्ञापन सौंपकर घोटालेबाजों एवं शहरवासियों से अवैध वसूली करने वालों के विरुद्ध पुलिस प्राथमिकी दर्ज कराने की मांग की। नेता प्रतिपक्ष अजय वर्मा के साथ भाजपा पार्षद गायत्री साहू,चंद्रशेखर चंद्राकर,कांशीराम कोसरे,नरेंद्र बंजारे,देवनारायण चंद्राकर,चमेली साहू,नरेश तेजवानी,लीना देवांगन,मनीष साहू,अजीत वैद्य,ओमप्रकाश राकेश सेन, हेमा शर्मा, शशि साहू, पुष्पा वर्मा एवं कुमारी बाई साहू ने संयुक्त रूप से बताया कि दुर्ग शहर के दो प्रमुख पार्किंग स्थलों इंदिरा मार्केट पार्किंग स्थल एवं बस स्टैंड पार्किंग स्थल को ना तो ठेकेदार को संचालन के लिए सौंपा गया और ना ही निगम के कर्मचारियों से पार्किंग शुल्क की वसूली की गई। पार्षद दल के नेताओं ने कहा कि अब सवाल यह उठता है यदि निगम ने दोनों पार्किंगो में शुल्क नहीं लगाया तो दुर्ग  शहर के नागरिकों से बस स्टैंड में और इंदिरा मार्केट के व्यापारियों एवं नागरिकों से पार्किंग शुल्क की अवैध वसूली कौन कर रहा था ? निगम ने पार्किंग  को 8 माह तक अवैध क्यों चलने दिया और ठेका क्यों नहीं दिया ? निगम को लाखों रुपए के नुकसान पहुंचते तक हमारे महापौर क्या कर रहे थे ? इसलिए भाजपा पार्षद दल ने निर्णय लिया है कि निगम को नुकसान पहुंचाने वाले और दुर्ग शहर के नागरिकों से अवैध वसूली करने वालों जब तक कड़ी सजा नहीं मिलेगी तब तक भाजपा पार्षदों का संघर्ष जारी रहेगा । भाजपा पार्षद दल को आयुक्त  ने ज्ञापन सौंपने के दौरान यह आश्वासन दिया है कि 3 दिसंबर को उसकी पूरी तरह जांच करेंगे और जांच में भाजपा के भी प्रतिनिधि को जांच में शामिल किया जाएगा।

 

26-11-2020
महिलाओं के उत्पीड़न संबंधित प्रकरणों पर डॉ.किरणमयी ने की सुनवाई

रायपुर। राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष डॉ.किरणमयी नायक ने कोरिया जिले के महिलाओं के उत्पीड़न संबंधित प्रकरणों पर जन सुनवाई कोरिया कलेक्ट्रेट के सभाकक्ष में की। सुनवाई के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग, फिजीकल डिस्टेंसिंग और सैनिटाइजर का प्रयोग करते हुए कार्यवाही प्रारंभ की गई। उन्होनें सुनवाई के लिए उपस्थित सभी पक्षकारों से चर्चा कर संबंधित प्रकरणों के स्थिति के संबंध में पूछताछ की। निर्धारित 20 प्रकरणों पर सुनवाई करते हुए 13 प्रकरण निराकृत कर नस्तीबद्ध किया गया तथा 7 प्रकरण आगामी सुनवाई के लिए रखा गया। इन 20 प्रकरणों में मानसिक व शारीरिक प्रताड़ना, कार्यस्थल पर प्रताड़ना, दहेज, मारपीट एवं संपत्ति विवाद के प्रकरण शामिल थे। एक प्रकरण में मृतिका की ओर से समाजसेवी संस्था से उपस्थित आवेदक,जिसकी शिकायत आवेदिका डॉक्टर महिला चिकित्सक के विरुद्ध लापरवाही से मृत्यु कारित करने की थी, को अध्यक्ष डॉ. किरणमयी नायक ने गंभीरता से संज्ञान लिया। मामले की जानकारी लेने पर ज्ञात हुआ कि आवेदन मृतिका के निकट परिजनों के द्वारा ना की जाकर समाजसेवी संस्था के द्वारा की गई थी,जिसका इस शिकायत से सीधा संबंध नहीं है और यह पाया गया कि शिकायत आपसी रंजिश वश की गई है। महिला चिकित्सक की ओर से अपने पक्ष समर्थन में दस्तावेज आयोग के समक्ष प्रस्तुत किया गया।

आयोग ने शिकायत का अवलोकन कर आवेदक की शिकायत को नस्तीबद्ध किया। दूसरे प्रकरण में आवेदिका द्वारा कार्यस्थल में प्रताड़ना संबंधित शिकायत की गई थी,जिसे गंभीरता से संज्ञान लिया जाकर संबंधित विभाग को आंतरिक परिवाद समिति का गठन किए जाने का तत्काल निर्देश दिया गया। साथ ही तहसीलदार की अध्यक्षता में संपूर्ण शिकायत की जांच कर आयोग को उसकी सूचना शीघ्र दिए जाने का निर्देश दिया गया। इसी तरह अन्य प्रमुख प्रकरण में तत्काल संज्ञान लिया जाकर अनावेदक के विरुद्ध तत्काल एफआईआर दर्ज किए जाने का निर्देश दिया गया। यह प्रकरण आवेदिका के पुत्री के साथ छेड़छाड़ तथा जान से मारने की धमकी दिए जाने संबंधित शिकायत आयोग के समक्ष प्रस्तुत किया गया था। इसी तरह आयोग के समक्ष आये मानसिक प्रताड़ना के प्रकरण में वृद्धा मां को बेटे द्वारा प्रतिमाह भरण पोषण राशि 3500 रुपये दिए जाने का निर्देश दिया गया। इसके अतिरिक्त माता से लिए हुए नगद राशि 1 लाख 35 हजार रुपये भी वापस किए जाने का निर्देश दिया गया, जिस पर आयोग के निर्देश का पालन करने अनावेदक पुत्र और बहू ने सहमति दी।

अन्य उल्लेखनीय प्रकरणों में प्रमुख एक प्रकरण में आवेदिका की शिकायत पर अनावेदक पति के द्वारा पुत्री सहित 4000 रुपये प्रति माह भरण पोषण राशि का निर्देश दिया गया,जिसके त्वरित पालन में अनावेदक द्वारा आयोग की समझाइश पर 2000 रुपये नगद अपने पत्नी और पुत्री को दिया गया। इसके अतिरिक्त आर्थिक अपराध संबंधित शिकायत पर आवेदिका को अध्यक्ष डॉ. किरणमयी ने समझाइश दी। पुलिस अधीक्षक और थाना प्रभारी को निर्देश दिया कि शिकायत पर जांच कर अपराधी को गिरफ्तार कर कार्रवाई करें तथा आर्थिक लेनदेन संबंधी कार्यवाही किया जाकर आवेदिका को राहत दे। सुनवाई के दौरान संसदीय सचिव व विधायक बैकुंठपुर अम्बिका सिंहदेव, सरगुजा विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष और भरतपुर-सोनहत विधायक गुलाब कमरो, कलेक्टर एसएए राठौर, पुलिस अधीक्षक चंद्रमोहन सिंह सहित जिला कार्यक्रम अधिकारी, महिला एवं बाल विकास विभाग एवं अन्य संबंधित अधिकारी व कर्मचारी के साथ पुलिस प्रशासन भी उपस्थित था।

 

23-11-2020
नेटफ्लिक्स के दो अधिकारियों पर मध्यप्रदेश में एफआईआर दर्ज

भोपाल। नेटफ्लिक्स के दो अधिकारियों पर सोमवार को रीवा में केस दर्ज हुआ है। धार्मिक भावनाओं को आहत करने के आरोप में इनके खिलाफ यह कार्रवाई की गई। इसी बीच, शिवराज सिंह के मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि उन्हें मंदिर में किस वाला सीन मंजूर नहीं है। वो समय और था, पर ये समय और है।मिश्रा ने कहा, “वेब सीरीज ए सूटेबल बॉय में कुछ भी सूटेबल नहीं हैं। फिल्म में मंदिर के अंदर ऐसे आपत्तिजनक दृश्य क्यों फिल्माए जाने चाहिए, जिससे किसी की भावनाएं आहत हों। ये गलत है। इस संबंध में आज गृह और विधि विभाग के अफसरों की बैठक बुलाई है।”मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि गृह और विधि विभाग के अधिकारी आज बैठक में विचार कर तय करेंगे कि वेब सीरीज ‘ए सूटेबल ब्वाॅय’ के निर्माता-निर्देशक और संबंधित ओटीटी प्लेटफार्म के खिलाफ क्या कानूनी कार्रवाई की जा सकती है।

मंत्री के टि्वटर हैंडल पर इस बाबत कुछ सिलसिलेवार ट्वीट्स में जानकारी दी गई। बताया गया कि वेब सीरीज में आपत्तिजनक दृश्यों के लिए ओटीटी प्लेटफार्म नेटफ्लिक्स के प्रबंधन से जुड़ीं मोनिका शेरगिल और अंबिका खुराना के खिलाफ रीवा के सिविल लाइंस थाने में धारा 295 ए (धार्मिक भावनाओं को जानबूझ कर ठेस पहुंचाने) के तहत एफआईआर दर्ज की गई है। मामले में फरियादी गौरव तिवारी के आवेदन पर केस हुआ है।आगे कहा गया कि नेटफ्लिक्स पर प्रसारित वेब सीरीज “ए सूटेबल ब्वाॅय” के आपत्तिजनक दृश्यों से धर्म विशेष की भावनाएं आहत होने का कानूनी परीक्षण करने के निर्देश गृह एवं विधि विभाग के अधिकारियों को दिए थे। परीक्षण में भावनाएं आहत होने का आरोप सही पाया गया है।

22-10-2020
सेल्स अधिकारी बताकर ट्रक को रोका और लूट लिया 5 लाख का ड्राई फ्रूट, हुए फरार

नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली में ड्राई फ्रूट से भरे ट्रक में बदमाशों ने लूट लिया। बदमाशों ने फर्जी सेल्स टैक्स अफसर बनकर ट्रक के ड्राइवर को बंधक बनाया और पांच लाख रुपये के ड्राई फ्रूट ले उड़े। घटना को नई दिल्ली के तिलक मार्ग इलाके में हुई। यहां पर ड्राई फ्रूट से भरे ट्रक को 3 बदमाशों ने रोका। बदमाशों ने खुद को सेल्स टैक्स अधिकारी बताया और ड्राइवर को बंधक बनाकर 5 लाख रुपये के ड्राई फ्रूट लूट लिए। बदमाशों ने ट्रक को पूर्वी दिल्ली के गाजीपुर फ्लाईओवर पर छोड़कर फरार हो गए। इस वारदात की नई दिल्ली इलाके में शिकायत की गई। मामले में पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर ली है। आरोपी फरार है और पुलिस आरोपियों की तलाश कर रही है। पुलिस का कहना है कि आरोपियों को पकड़ने के लिए सीसीटीवी फुटेज की जांच करने, सीडीआर का विश्लेषण करने और आरोपियों को पकड़ने के लिए खुफिया जानकारी इकट्ठा करने के लिए कई टीमें बनाई गई हैं।

 

21-10-2020
बाइक शोरूम दिलाने के नाम पर ठगी, बिहार से 7 लोगों को किया गिरफ्तार

अम्बिकापुर। बाइक शोरूम दिलाने के नाम पर 33 लाख की ठगी के मामले में बड़ी सफलता हासिल की है। पुलिस नें इस मामले में बिहार से 7 लोगों को गिरफ्तार किया है,जिनमें से 3 नाबालिग हैं। ठगों के इस गिरोह नें रामानुजगंज में भी बुलेट शुरूम दिलाने के नाम पर 15 हज़ार की ठगी को अंजाम दिया था।मामले के बारे में जानकारी देते हुए एसपी टीआर कोशिमा नें बताया कि 2 अक्टूबर को बौरीपर निवासी अजय सिंह के द्वारा कोतवाली थाने में एफआईआर दर्ज कराया था कि जावा बाइक की डीलरशिप दिलाने के नाम पर उनसे अज्ञात लोगों ने 33 लाख रुपये की ठगी की है।उसने बताया कि उन्हें पुणे से जावा बाइक का शोरूम अम्बिकापुर में खोलने के लिए उसने जावा के अधिकृत वेबसाइट से आवेदन किया था। इसके बाद उसे कुछ लोगों नें कॉल कर कई नम्बर दिए और कहा कि उन नम्बरों से कॉल आने पर उनके द्वारा बताए गए दस्तावेज और पैसे भेजने पर उसे अम्बिकापुर में जावा शोरूम खोलने की अनुमति दी जाएगी।
अजय सिंह नें उक्त नम्बरों से फोन आने पर मांगे गए दस्तावेज और एडवांस के नाम पर बताए गए बैंक अकाउंट में पहली बार रुपये ट्रांसफर किये। फिर दोबारा किसी वजह से पैसे की मांग करने पर 10 लाख रुपये फिर से भेज दिए। इस तरह उससे रजिस्ट्रेशन एवं अन्य शुल्क आदि के नाम पर कुल 33 लाख रुपये 2 अलग-अलग बैंक खाते में भेजे गए। उसे बताया गया कि उसका पंजीयन हो चुका है और जल्द ही शोरूम खोल सकते हैं और जल्द ही डिमांड के अनुसार गाड़ी मुहैया कराने का वादा किया गया।


साइबर ठगी करने वालों का यह ग्रुप पटना और आसपास के कम पढ़े लिखे लेकिन साइबर क्राइम के एक्सपर्ट हैं। दो तीन गांवों के बीच के हिस्से में जाकर फोन किया करते थे, ताकि उनका लोकेशन बार बार बदलता रहे। वह लोग बात करने के बाद मोबाइल बन्द कर देते थे। सरगुजा पुलिस नें फिलहाल पूरे मामले से जुड़े 7 लोगों को गिरफ्तार किया है। पकड़े गए सभी आरोपी कूटरचित दस्तावेज के आधार पर अलग-अलग बैंक में अकाउंट खुलवाते थे, जिसके एवज में उन्हें प्रति अकॉउंट 5 हज़ार रुपये दिए जाते थे। ट्रांजेक्शन की डिटेल जानकारी लेने के  बाद पुलिस नें इन सातों आरोपियों को बिहार से गिरफ्तार किया है। पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि इन्हीं फ़र्ज़ी बैंक अकाउंट्स पर ठगी के पैसों की लेनदेन किये जाते थे। पूछताछ में यह बताया कि किसी और के कहने पर उन्होनें अकाउंट खुलवाए थे। रामानुजगंज में भी उनके द्वारा ऐसी ठगी को अंजाम दिया गया था। आरोपियों के पास से मोबाइल,एटीएम कार्ड, लैपटॉप सिम कार्ड,आधार कार्ड जब्त किए गए हैं। यह शातिर आरोपी ऑथोराइज़्ड एजेंसी को सम्पर्क करने पर जानकारी हासिल करते और एक फर्जी वेबसाइट बनाकर लोगों को ठगी के लिए चुनते हैं। 

 

17-10-2020
कोर्ट ने दिए कंगना रनौत के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के आदेश

मुंबई। अभिनेत्री कंगना रनौत की फिर से मुश्किलें बढ़ने वाली हैं। शनिवार को मुंबई में बांद्रा कोर्ट ने कंगना रनौत के खिलाफ एक मामले में एफआईआर दर्ज करने के आदेश दिए हैं। बांद्रा कोर्ट में मुन्ना वराली और साहिल अशरफ सैयद ने याचिका दायर की है। इस याचिका में कहा गया है कि एक्ट्रेस लगातार बॉलीवुड को बदनाम करने की कोशिश कर रही हैं।याचिका में ये भी कहा गया है कि कंगना ने बॉलीवुड के हिंदू और मुस्लिम कलाकारों के बीच खाई पैदा की है। एक्ट्रेस बराबर आपत्तिजनक ट्वीट कर रही हैं,जिससे न केवल धार्मिक भावनाएं आहत हुई बल्कि फिल्म इंडस्ट्री में कई लोग इससे आहत हैं।

अब कोर्ट ने कंगना रनौत के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के आदेश दिए हैं।कंगना रनौत ने आरोप लगाया था कि बॉलीवुड में लगभग 99 प्रतिशत लोग ड्रग एडिक्ट हैं। उनकी टिप्पणी को बॉलीवुड सेलेब्स से आलोचना मिली थी, जो फिल्म उद्योग की रक्षा में सामने आए थे। जया बच्चन ने संसद में दिए अपने भाषण में उल्लेख किया था कि बॉलीवुड को बदनाम नहीं होना चाहिए क्योंकि यह भारतीय अर्थव्यवस्था में योगदान देता है। इसके साथ ही कंगना इन दिनों लगातार बॉलीवुड के कुछ लोगों पर निशाना साध रही हैं।

28-09-2020
राशन हेरा फेरी के मामले में कांग्रेस पार्षद पर एफआईआर दर्ज  

रायपुर/दंतेवाड़ा। जिले में राशन के चावल की हेरा फेरी के मामले में कांग्रेस पार्षद मनोज मालवीय के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई। कांग्रेस के जिला अध्यक्ष अवधेश गौतम ने पार्षद पर आरोप लगने के बाद दंतेवाड़ा जिला कांग्रेस कमेटी से मनोज मालवीय को 6 वर्ष के लिए पार्टी से निष्कासित कर दिया है। गौतम का कहना है कि इससे कांग्रेस की छवि धूमिल हुई है। सत्ताधारी पार्टी के नेताओं के द्वारा गरीबों के राशन को इस प्रकार हेराफेरी करना बहुत बड़े अपराध की श्रेणी में आता है। कांग्रेस पार्टी की छवि बदनाम करने की कोशिश के कारण उन्हें पार्टी से निष्कासित किया है।

17-09-2020
जानकारी छुपाने के मामले में दो कोरोना संक्रमितों पर एफआईआर दर्ज

रायपुर। कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद भी लापरवाही पूर्वक सड़कों में घुम रहे दो लोगों के खिलाफ नगर निगम की ओर से डीडी नगर थाने में की गई शिकायत के बाद एफआईआर दर्ज किया गया है। दोनों की तलाश की जा रही है। मिली जानकारी के अनुसार डीडी नगर थाना क्षेत्र का है जहां नगर निगम जोन पांच के कर्मचारी संजय कुमार बघेल ने क्षेत्र के ही रहने वालेे आशीष शर्मा और ओंकार देवांगन नामक लोगों के खिलाफ थाने में शिकायत दर्ज करवाई है। शिकायत के अनुसार रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद प्रशासन को गलत जानकारी देकर दोनों ही अस्पताल जाने से बच रहे हैं। इन दोनों लोगों पर आरोप है कि इन्होंने प्रशासन को गुमराह किया और छुपते रहे।

इससे दूसरों को भी संक्रमण फैलने का खतरा है। दोनों को नगर निगम की तरफ से कहा गया कि निरंतर संक्रमितों से संपर्क कर उन्हें हॉस्पिटल में भर्ती होने कहा गया लेकिन इन्होंने अपना पता छिपाकर मोबाइल फोन पर झूठी जानकारी देकर गुमराह किया। इनमें से एक आशीष तो दुर्ग तक घुम कर आ गया। ओंकार देवांगन को भी जब टीम लेने पहुंची तो वह घर पर नहीं मिला। अब इनकी तलाश और परिवार के लोगों से संपर्क किया जा रहा है। दोनों को अस्पताल में भर्ती कराया जाएगा। लेकिन दोनों का ही अभी तक कुछ पता नहीं चला है। ऐसे में डर है कि दोनों ही पॉजिटिव मरीजों ने कितने लोगों को संक्रमित कर दिया होगा। फिलहाल पुलिस के साथ नगर निगम की टीम भी दोनों की तलाश में लगी है।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804