GLIBS
06-04-2020
पूर्व विधायक और अहिवारा नगर पालिका अध्यक्ष समेत 6 के खिलाफ एफआईआर दर्ज

दुर्ग। पूर्व भाजपा विधायक लाभचंद बाफना और अहिवारा नगर पालिका अध्यक्ष नटवर ताम्रकार सहित 6 पार्षदों के खिलाफ पुलिस ने एफआईआर दर्ज की है। मिली जानकारी के अनुसार आज 6 अप्रैल को भाजपा के स्थापना दिवस के अवसर पर देशभर में चल रहे लॉक डॉन के दौरान इन नेताओं द्वारा उसका उल्लंघन कर पार्टी का स्थापना दिवस कुछ लोगों को इकट्ठा कर मनाया गया। इसकी जानकारी पुलिस को प्राप्त हुई और पुलिस ने इन लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। पुलिस ने बताया कि लाभचंद बाफना सहित अन्य भाजपा नेताओं पर आरोप है कि उन्होंने लॉक डाउन और धारा 144 का उल्लंघन किया और भीड़ इकट्ठा कर कार्यक्रम किया।

दरअसल सोमवार 6 अप्रैल को भाजपा का स्थापना दिवस था। दुर्ग जिले के अहिवारा में पूर्व विधायक लाभचंद बाफना और पालिका अध्यक्ष नटवर ताम्रकार, भाजपा जिलामंत्री चंचल बाफना समेत कुछ भाजपा के पार्षद व कार्यकर्ताओं द्वारा बेरला चौक पर कार्यक्रम आयोजित कर नियमों का उल्लंघन किया गया। पूर्व विधायक अपने समर्थकों के साथ इकट्ठे होकर अटल चौक पर नारेबाजी भी की। इसकी शिकायत कांग्रेस के अनिल श्रीवास्तव ने नंदनी थाने में की। शिकायत के आधार पर नंदनी पुलिस ने लाभचंद बाफना, नटवर ताम्रकार, चंचल बाफना सहित 6 लोगों के खिलाफ नामजद एफआईआर दर्ज किया है। थाना प्रभारी जितेन्द्र वर्मा ने बताया कि पुलिस ने धारा 188,34 के तहत 6 लोगो के नामजद व अन्य खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। इस पर जल्द ही कार्रवाई की जाएगी।

28-03-2020
कोरोना वायरस से संक्रमित पत्रकार के खिलाफ एफआईआर दर्ज, कमलनाथ की प्रेसवार्ता में हुए थे शामिल

भोपाल। मध्यप्रदेश में कोरोना वायरस से पीड़ित पाए गए पत्रकार के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली गई है। बता दें कि पत्रकार पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ की प्रेस कॉन्फ्रेंस में हिस्सा लेने पहुंचे थे। दरअसल पत्रकार की बेटी लंदन से लौटी थी,जिन्हें क्वारनटीन रहने को कहा गया था। उसके बाद वह लड़की कोरोना पॉजिटिव पाई गई। बाद में पत्रकार और उनकी बेटी दोनों कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। खबर के बाद पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने खुद को आइसोलेट कर लिया।
बता दें कि सीएम हाउस में हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस में दिग्विजय सिंह,कांग्रेस के सभी विधायक और प्रदेश के वरिष्ठ अधिकारियों समेत करीब 200 पत्रकार मौजूद थे। ऐसे में कई अन्य पत्रकारों ने भी खुद को आइसोलेट किया है। दरअसल कोरोना को राष्ट्रीय आपदा घोषित किया गया है साथ ही इसके संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए देशभर में लॉकडाउन किया गया है।

 

14-03-2020
शिकायत के बाद कार्यवाही में देरी होने पर ग्रामीणों ने एसपी से लगाई गुहार

रायगढ़। बरमकेला के गांव भंवरपुर से दर्जनों ग्रामीण विधायक प्रकाश नायक के साथ रायगढ़ पुलिस अधीक्षक के कार्यालय पहुंचे। यहां उन्होंने अपने साथ हुई जातिगत गाली गलौज व मारपीट की एफआईआर दर्ज होने के बाद भी अब तक दोषियों पर कार्यवाही नहीं किए जाने की शिकायत पुलिस अधीक्षक से की है। बरमकेला ब्लाक से आई महिलाओं ने बताया कि 10 मार्च को गांव के तालाब में गांव की महिलाएं जब नहा रही थी तो वहां पर डबरा के रहने वाले कुछ युवक आए और महिलाओं के सामने अभद्र एवं अश्लील हरकत करने लगे। इसे देखकर उसी गांव के कुछ युवकों ने डबरा से आए युवकों का विरोध किया व उन्हें अश्लील हरकत करने मना किया। यह बात डबरा से आए युवकों को नागवार गुजरी और वे मारपीट पर उतारू हो गए। उन्होंने भंवरपुर गांव के लड़कों से जातिगत गाली गलौज एवं मारपीट की। विवाद ज्यादा बढ़ने पर गांव के लोग इकट्ठा हुए। तब डबरा के युवक भीड़ देख भाग खड़े हुए।

अपने गांव में घटित इस घटना की जानकारी जब ग्राम पंचायत डबरा के सरपंच को देने के लिए भंवरपुर बरमकेला के अमृतलाल चौहान डभरा जा रहे थे तो पुनः युवकों द्वारा जानलेवा हमला किया। जब अमृतलाल चौहान को बचाने गांव के युवा आगे आए तो उन्हें भी डबरा के युवकों ने मारपीट की। इसकी शिकायत बरमकेला थाने में दर्ज कराई जा चुकी है। एफआईआर दर्ज होने के बाद भी डबरा ग्राम के रहने वाले उन युवक पुलिस की गिरफ्त से बाहर हैं। एफआईआर दर्ज होने के बाद आगे की कार्रवाई पुलिस द्वारा जल्दी किए जाने की गुहार ग्रामवासियों ने पुलिस अधीक्षक से की है। बताना चाहेंगे कि ग्रामीण पहले अपने क्षेत्रीय विधायक प्रकाश नायक के पास उनके कार्यालय पहुंचे थे,जहां पर स्वयं विधायक ग्रामीणों के साथ एसपी कार्यालय पहुंचे और पुलिस अधीक्षक से उनकी मुलाकात करवा कर जल्द कार्यवाही का आश्वासन दिलाया है।

 

06-03-2020
अवैध प्लाटिंग कर बनाई जा रही थी सड़क, रोक लगाकर निगम ने दिए कार्रवाई के आदेश

रायपुर। जोन 6 के अंतर्गत गोकुल नगर में अवैध प्लाटिंग की सूचना पर निगम अमले ने दबिश दी। मौके पर पहुंची रायपुर नगर निगम की नगर निवेश टीम को शिकायत सही मिली। एक एकड़ में हो रही अवैध प्लॉटिंग के लिए बनी मुरुम सड़क को मशीन से काटकर निर्माण कार्य रुकवाया गया। जोन कमिश्नर विनय मिश्रा ने बताया कि तहसीलदार रायपुर को पत्र लिखकर गोकुल नगर की संबंधित निजी भूमि के वास्तविक भूमि स्वामी की शीघ्र जानकारी देने अनुरोध किया गया है। जानकारी मिलते ही जोन 6 नगर निवेश विभाग संबंधित थाने में संबंधित वास्तविक भूमि स्वामी के खिलाफ कड़ी कानूनी कार्रवाई के लिए नियमानुसार नामजद एफआईआर दर्ज करवायी जाएगी।

02-03-2020
निगम टीम ने डेढ़ एकड़ भूमि पर की जा रही अवैध प्लाटिंग रोकी, अब एफआईआर की तैयारी

रायपुर। नगर निगम के जोन 5 नगर निवेश विभाग के अमले ने सोमवार को जनशिकायत मिलने पर डेढ़ एकड क्षेत्र में की जा रही अवैध प्लाटिंग को रुकवाया। भूमि स्वामी की जानकारी मिलने पर अवैध प्लाटिंग के प्रकरण में संबंधित व्यक्ति के खिलाफ संबंधित पुलिस थाना में नियमानुसार कानूनी कार्यवाही करने नामजद एफआईआर दर्ज करवाई जाएगी। इस संबंध में जोन 5 कमिश्नर अरूण धु्रव ने कहा कि तहसीलदार को पत्र लिखकर संबंधित निजी भूमि के वास्तविक भूमि स्वामी की जानकारी शीघ्र निगम जोन 5 को उपलब्ध करवाने अनुरोध किया गया है। जोन कमिश्नर के नेतृत्व और जोन सहायक अभियंता आरएन पटेल, नगर निवेश उपअभियंता सैय्यद जोहेब की उपस्थिति में पंडित सुंदरलाल शर्मा वार्ड क्रमांक 66 के कॉलोनी क्षेत्र में दबिश दी गई। टीम ने एक नागरिक की ओर से लगभग डेढ़ एकड क्षेत्र निजी भूमि में की जा रही अवैध प्लाटिंग के कार्य की वस्तुस्थिति को प्रत्यक्ष देखा।

इस दौरान जनशिकायत सही मिलने पर जोन 5 नगर निवेश अमले ने अवैध प्लाटिंग करने के लिए की जा रही प्लाट कटिंग सहित अवैध मुरम रोड को तत्काल थ्रीडी स्थल पर बुलवाकर कटवाया। अवैध प्लाटिंग के कार्य पर तत्काल कारगर रोक स्थल पर लगाई।  जोन 5 कमिश्नर ने कहा कि नगर निगम जोन 5 नगर निवेश विभाग द्वारा रायपुर तहसीलदार को पत्र लिखकर संबंधित निजी भूमि के वास्तविक भूमि स्वामी की जानकारी शीघ्र निगम जोन 5 को उपलब्ध करवाने अनुरोध किया गया है। नागरिकों से प्राप्त जानकारी के अनुसार संबंधित नागरिक को नोटिस देकर उनसे दस्तावेज जांच के लिए प्रस्तुत करने कहा गया है। निजी भूमि के वास्तविक भूमि स्वामी की जानकारी मिलने पर अवैध प्लाटिंग के प्रकरण में निगम जोन 5 नगर निवेश विभाग के माध्यम से संबंधित व्यक्ति के खिलाफ संबंधित पुलिस थाना में नियमानुसार कानूनी कार्यवाही करने नामजद एफआईआर दर्ज करवायी जाएगी।

 

26-02-2020
दोपहिया वाहन का नहीं दिया बीमा क्लेम, उपभोक्ता फोरम ने लगाया 60 हजार हर्जाना

दुर्ग। बीमादावा निराकरण संबंधी आवश्यक दस्तावेज जमा नहीं किये जाने का कारण बताते हुए बीमा कंपनी ने चोरी हुए दोपहिया वाहन का दावा भुगतान नहीं किया, इसे निराधार पाते हुए जिला उपभोक्ता फोरम के अध्यक्ष लवकेश प्रताप सिंह बघेल, सदस्य राजेन्द्र पाध्ये व लता चंद्राकर ने इंश्योरेंस कंपनी पर 61 हजार रुपये हर्जाना लगाया।

ग्राहक की शिकायत
स्मृति नगर भिलाई निवासी शिकायतकर्ता अनिकेत पशीने का दोपहिया एक्टिवा वाहन उसके पिता आलोक पशीने द्वारा उपयोग करने के दौरान दिनांक 16 जुलाई 2017 को सूर्या ट्रेजर मॉल भिलाई के सामने चोरी हो गया। तलाश करने से भी वाहन के नहीं मिलने पर परिवादी के पिता ने उसी दिन स्मृति नगर चौकी में एफआईआर दर्ज कराई। बीमा कंपनी को सूचना देते हुए क्लेम फॉर्म भरा गया तथा बीमा कंपनी द्वारा मांगे गए दस्तावेज भी जमा किए गए, इसके बाद चोरी के संबंध में न्यायालय की खात्मा रिपोर्ट और वाहन की दोनों चाबियाँ जमा कराने जब परिवादी पहुंचा तो बीमा कंपनी ने कहा कि समय पर दस्तावेज नहीं देने के कारण उसका दावा निरस्त कर दिया गया है। 

अनावेदक बीमा कंपनी का जवाब
अनावेदक बीमा कंपनी ने प्रकरण में यह बचाव लिया कि परिवादी के पिता ने वाहन को सार्वजनिक स्थान छोड़ दिया जो कि पार्किंग स्थल भी नहीं है, सुरक्षा के लिए कोई उपाय किए बिना लापरवाही पूर्वक छोड़े जाने से वाहन चोरी हुआ, इसीलिए परिवादी बीमा दावा पाने का अधिकारी नहीं है। बीमा कंपनी ने यह भी बचाव लिया कि परिवादी द्वारा बीमा कंपनी को घटना की सूचना 30 दिन बाद दी गई है  जो कि बीमा शर्त का उल्लंघन है। परिवादी ने बीमादावा से संबंधित आवश्यक दस्तावेज भी जमा नहीं किए इसीलिए उसका दावा बंद कर दिया गया।

फोरम का फैसला
प्रकरण में प्रस्तुत दस्तावेजों एवं प्रमाणों  के आधार पर जिला उपभोक्ता फोरम के अध्यक्ष लवकेश प्रताप सिंह बघेल, सदस्य राजेन्द्र पाध्ये व लता चंद्राकर ने उपभोक्ता के प्रति बीमा कंपनी द्वारा सेवा में निम्नता का कृत्य किया जाना प्रमाणित पाया। फोरम ने विचारण के दौरान यह पाया कि पुलिस विवेचना और न्यायालयीन खात्मा रिपोर्ट के आधार पर चोरी की घटना संदेहास्पद नहीं है और वास्तव में वाहन चोरी हुआ है साथ ही संबंधित वाहन का बीमित होना भी एक स्थापित तथ्य है, ऐसे में केवल तकनीकी आधारों पर वाहन की बीमा राशि का भुगतान नहीं किया जाना सेवा में निम्नता एवं व्यवसायिक दुराचरण का परिचायक है। जिला उपभोक्ता फोरम के अध्यक्ष लवकेश प्रताप सिंह बघेल, सदस्य राजेन्द्र पाध्ये व लता चंद्राकर ने संयुक्त रूप से फैसला सुनाते हुए इंश्योरेंस कंपनी पर 61000 रुपये हर्जाना लगाया, जिसके तहत बीमा दावा राशि 49574 रुपये, मानसिक पीड़ा की क्षतिपूर्ति स्वरूप 10000 रुपये तथा वाद व्यय के रुप में 1000 रुपये देना होगा एवं दावा राशि पर 6 प्रतिशत वार्षिक दर से ब्याज भी देना होगा।

 

22-02-2020
वारिस पठान के खिलाफ भड़काऊ बयान देने के मामले में एफआईआर दर्ज

नई दिल्ली। एआईएमआईएम नेता वारिस पठान को कर्नाटक में भड़काऊ भाषण देना भारी पड़ गया। बता दें कि कलबुर्गी पुलिस ने वारिस पठान के खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत एफआईआर दर्ज की है। दरअसल वारिस पठान ने 16 फरवरी को कर्नाटक के कलबुर्गी में सीएए के विरोध में एक रैली में कहा था कि हमें साथ मिलकर आगे बढ़ना होगा। हमें आजादी लेनी होगी, जो चीजें मांगने से नहीं मिलतीं, वह छीनकर लेनी होती हैं। हम 15 करोड़ हैं लेकिन 100 करोड़ पर भारी है। पठान का यह बयान सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हुआ था। भड़काऊ भाषण देने के मामले में कलबुर्गी पुलिस ने वारिस पठान के खिलाफ दंगा भड़काने के इरादे से लोगों को उकसाने के मामले में धारा 117 एवं 153 के तहत और दो समूहों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा देने के लिए आईपीसी की धारा 153ए के तहत केस दर्ज किया है। इस विवादित बयान को लेकर नेताओं से लेकर अभिनेताओं तक ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है। इस बयान पर उलमा ने भी कड़ा एतराज जताया है। उलमा का कहना है कि वारिस पठान हों या फिर कोई और नेता राजनीति की खातिर इस तरह की जहरीली जुबान का इस्तेमाल कर वह मुल्क के अमनो अमान को बरबाद करना चाहते हैं। वारिस पठान को अपना बयान वापस लेकर देश से माफी मांगनी चाहिए।

 

13-02-2020
जंगल से सागौन की लकड़ी काटकर ले जाने वाले आरोपियों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

गुना। जंगल से अवैध रूप से सागौन की लकड़ी काटकर ले जाने वाले आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस को मिली जानकारी के अनुसार 8 फरवरी की रात को धरनावदा थाना अंतर्गत ग्राम दावत तरफ से रहीम अख्तर पिकअप वैन से जंगल से चोरी कर सागौन की लकड़ी ले जा रहा था। लोगों ने इसकी सूचना हंड्रेड डायल पर दी। तब 100 डायल ने पुराने बाईपास मंडी के पास वैन को रोक लिया। किंतु रहीम अख्तर चोरी की लकड़ी से लदी वैन और अन्य वाहन को लेकर भगा गया। इस सूचना ग्राम पंचायत देहरी के ग्रामीण ने राधौगढ़ एसडीओपी बीपी तिवारी को दी। आरोपी अख्तर के विरुद्ध धरनावदा थाने में धारा 379 के तहत एफआईआर दर्ज कर ली गई। इसके बाद आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की।

राकेश किरार की रिपोर्ट

 

08-02-2020
1000 करोड़ का एनजीओ घोटाला, सीबीआई की टीम पहुंची रायपुर,अफसरों से हो सकती है पूछताछ

रायपुर। प्रदेश में कथित 1000 करोड़ के एनजीओ घोटाले की जांच के लिए सीबीआई की टीम रायपुर पहुंच चुकी है। सीबीआई की टीम भोपाल से जांच के लिए रायपुर पहुंची है। बताया गया कि दो से तीन दिनों में समाज कल्याण विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों से पूछताछ की जा सकती है। सीबीआई ने विभाग के सचिव को पत्र लिखकर दस्तावेज की मांग की है। इसके पूर्व इस मामले में सरकार की ओर से बिलासपुर हाईकोर्ट में दायर पुनर्विचार याचिका पर हाईकोर्ट ने फैसला सुरक्षित रख लिया है। दायर याचिका में सरकार की ओर से कहा गया था कि सीबीआई की जगह इस मामले को राज्य पुलिस को सौंपा जाए। बताया गया कि उच्च न्यायालय ने विगत दिनों एक आदेश जारी कर घोटाले में शामिल अफसरों पर एफआईआर दर्ज कर कार्रवाई करने के निर्देश दिए थे।

 

05-02-2020
कोरियाग्राफर गणेश आचार्य के खिलाफ यौन शोषण मामले में एफआईआर दर्ज

मुंबई। यौन शोषण के आरोप में कोरियोग्राफर गणेश आचार्य के खिलाफ एफआईआर दर्ज हो गई है। बुधवार 5 फरवरी को अम्बोली पुलिस स्टेशन में दर्ज हुई। इस एफआईआर में आचार्य के साथ दो महिलाओं का नाम भी शामिल है। इनपर 26 जनवरी को पीड़ित को पीटने का आरोप है।  अभी तक इस मामले में किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है। अतिरिक्त पुलिस आयुक्त (पश्चिम) मनोज शर्मा ने कहा, गणेश आचार्य और दोनों महिलाओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज हो गई है। बाकी जांच जारी है। दरअसल पिछले महीने एक महिला ने इंडियन फिल्म एवं टेलीविजन कोरियोग्राफर्स एसोसिएशन के जनरल सेक्रेटरी और सीनियर कोरियोग्राफर गणेश आचार्य पर काम करने से रोकने और कमीशन मांगने का आरोप लगाया था। महिला ने महाराष्ट्र महिला आयोग और अम्बोली पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी। शिकायत में महिला ने यह भी कहा था जब 2009-10 में वह आचार्य से उनके ऑफिस में मिलने गई थी, तब उन्होंने उसे एडल्ट वीडियो देखने के लिए मजबूर किया था। महिला की शिकायत में इस बात का उल्लेख भी था कि 26 जनवरी को आईएफटीसीए के एक इवेंट में आचार्य ने उसके साथ बदतमीजी की थी और उसे पीटा भी था। पिछले सप्ताह एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में आचार्य ने आरोपों का खंडन किया था। उन्होंने इसे उनके खिलाफ साजिश करार दिया था।  

 

05-02-2020
आईएएस अधिकारियों के खिलाफ सीबीआई ने दर्ज की एफआईआर, अधिकारियों में खौफ

रायपुर। निःशक्तजनों की संस्था के नाम पर हुए हजार करोड़ रूपए के घोटाले मामले में सीबीआई ने मध्यप्रदेश में 12 आईएएस अधिकारियों के खिलाफ अपराध पंजीबद्ध किया है। छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट की डबल बैंच के आदेश के बाद सीबीआई ने मामले में एफआईआर दर्ज किया है। राजधानी के कुशालपुर निवासी कुंदन सिंह ठाकुर ने बिलासपुर हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी। रिट में रिटायर्ड दो मुख्य सचिव और वर्तमान में कार्यरत आईएएस अधिकारियों पर राज्य स्रोत निशक्त जन संस्थान नामक संस्थान बनाकर सरकारी विभागों से हर महीने लाखों रुपए कर्मचारियों के नौकरी के भुगतान के नाम और अन्य कार्यों के लिए रुपए निकाले जाने का आरोप है। याचिकाकर्ता के अनुसार, रायपुर शहर के माना में चार हजार दिव्यांगों के उपचार के नाम पर घोटाले को अंजाम दिया । इलाज के नाम पर करोड़ों रुपये खर्च किया गया लेकिन केवल कागजों पर  अचंभित करने वाली बात यह थी कि याचिकाकर्ता कुंदन सिंह ठाकुर को भी कर्मचारी बताकर उनके नाम से भी पैसे निकाले गए थे। जैसे ही ठाकुर को मामले की जानकारी हुई उसने समस्त दस्तावेज जमा कर हाईकोर्ट में याचिका दायर कर दी। इसके बाद हाईकोर्ट की सिंगल बेंच ने  जस्टीस मनींद्र श्रीवास्तव ने इस प्रकरण की सुनवाई के बाद माना था कि यह मामला साधारण नहीं है। इसे जनहित याचिका के रूप में स्वीकार किया गया और मामले को डबल बेंच में भेज दिया था। 31 जनवरी को कोर्ट ने सीबीआई को सभी के खिलाफ एफआईआर दर्ज किये जाने का आदेश दिया था। इसके साथ ही घोटाले में शामिल अधिकारियों के खिलाफ अलग से विभागीय जांच किये जाने का आदेश भारत सरकार के कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग को दिया था। 

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804