GLIBS
12-06-2021
देश के कई राज्यों में मानसून ने समय से पहले दी दस्तक, मुंबई में भारी बारिश का अलर्ट जारी

नई दिल्ली/रायपुर। मानसून ने देश के कुछ राज्यों में समय से पहले दस्तक दे दी है। जबकि कई राज्यों 14 या 15 जून तक मानसून के आने की संभावना है। भारतीय मौसम विभाग ने इसे लेकर भारी बारिश का अलर्ट भी जारी किया है। मौसम विभाग की माने तो मुंबई में शनिवार सुबह तक पिछले 24 घंटे में भारी बारिश हुई। बारिश की वजह से सेंट्रल रेलवे ने दादर-कुर्ला के बीच लोकल ट्रेनों को सस्पेंड कर दिया है। यहां ट्रैक पर पानी भर जाने के कारण ट्रेन सेवा सस्पेंड की गई है। हालांकि बाकी रूट्स की ट्रेन सेवा बाधित नहीं हुई है। बता दें कि उत्तर भारत में पंजाब, हरियाणा और दिल्ली में दक्षिण पश्चिमी मानसून 14 या 15 जून तक दस्तक देगा। वहीं ओडिशा, पश्चिम बंगाल, झारखंड और बिहार में मानसून आज आ सकता है। कल से उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश में भी मानसून के आने की संभावना है। जबकि छत्तीसगढ़ में मानसून ने समय 5 दिन पहले ही दस्तक दे दी है।

 

10-06-2021
मानसून ने दी तय समय से पहले दस्तक, सात दिन पहले ही पूर्वी और मध्य भारत में बारिश की आहट

नई दिल्ली। इस वर्ष मानसून ने समय से पहले दस्तक दी है। दक्षिण पश्चिम मानसून अपने सामान्य समय से सात दिन पहले गुरुवार को मध्यप्रदेश में पहुंच गया। जबलपुर और शहडोल संभाग के जिलों के लिए आईएमडी ने ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। भोपाल के वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक पीके साहा ने बताया कि पिछले 24 घंटों में भोपाल, जबलपुर और ग्वालियर सहित राज्य के कई हिस्सों में बारिश हुई है। साहा ने कहा, 'मानसून की उत्तर सीमा मध्यप्रदेश के बैतूल और मंडला जिलों से होकर गुजरती है। इसके साथ ही राज्य के कुछ हिस्सों में मानसून पहुंच गया। आमतौर पर, मानसून का आगमन मध्यप्रदेश में 17 जून को होता है। यह शायद पहली बार है कि यह सात दिन पहले ही आ गया है।' ऑरेंज और यलो अलर्ट शुक्रवार सुबह तक के लिए प्रभावी रहेगा।  मौसम विभाग ने बताया कि मानसून गुरुवार को ओडिशा पहुंच गया है। राज्य में अगले दो दिन के लिए रेड अलर्ट जारी किया गया है और अगले पांच दिनों तक भारी बारिश की चेतावनी दी गई है। आईएमडी के वैज्ञानिक आशीष कुमार ने कहा कि अनुमान है कि अगले 48 घंटे में मानसून बिहार में प्रवेश कर जाएगा। बिहार में येलो और ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है। महाराष्ट्र के कुछ हिस्सों में भारी बारिश के अनुमान के मद्देनजर राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) के 15 दलों को विभिन्न हिस्सों में तैनात किया गया है। एनडीआरएफ के महानिदेशक एसएन प्रधान ने ट्वीट कर कहा कि चार दलों को रत्नागिरी, दो-दो दलों को मुंबई, सिंधुदुर्ग, पालघर, रायगढ़, ठाणे और एक दल कुर्ला (पूर्वी मुंबई उपनगर) में तैनात किया गया है। आईएमडी ने कहा, अगले 48 घंटों में मानसून पूर्वी उत्तर प्रदेश के कुछ इलाकों और बिहार में पहुंचेगा। अगले दो दिनों में यह पश्चिमी उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के कुछ इलाकों तक पहुंच सकता है। इसलिए विभाग ने दिल्ली में मानसून उम्मीद से पहले पहुंचने का अनुमान जताया है। बता दें कि सामान्य तौर पर दिल्ली में मानसून का आगमन जून अंत तक होता है।

 

09-06-2021
आर्थिक राजधानी में छाए रहेंगे काले बादल, तेज बारिश होने के आसार

मुंबई/रायपुर। देश में मानसून ने दस्तक दे दी है। कई राज्यों में बरसात शुरू भी हो चुकी है। वहीं देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में भी भारी बारिश होने के आसार है। मौसम विभाग की माने तो बुधवार को मुंबई में काले बादल छाए रहेंगे साथ ही तेज बारिश भी होगी। बता दें के भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने दक्षिण पश्चिम मानसून को मुंबई में आज दस्तक देने की संभावना जताई है।

28-05-2021
कोरोना कहर के बाद अब ब्लैक फंगस ने दी दस्तक,जिले में मिला पहला मरीज

धमतरी। कोरोना संक्रमण के बाद ब्लैक फंगस का प्रकोप छत्तीसगढ़ में भी बढ़ने लगा है। कोरोना से ठीक होने के बाद कई लोगों में ब्लैक फंगस पाया जा रहा है। धमतरी जिले में भी ब्लैक फंगस का पहला मामला सामने आया है। एक व्यक्ति में ब्लैक फंगस मिलने के बाद जिला अस्पताल ने उसे  इलाज के लिए रायपुर एम्स रेफर कर दिया है। डाॅ.आभा हिशीकर ने बताया कि बालोद जिले के रहने वाले एक शख्स 4 मई को कोरोना संक्रमित हो गए थे। उनका इलाज बालोद के कोविड सेंटर में चल रहा था और ठीक होने के बाद 16 मई को डिस्चार्ज कर दिया गया था। वही डिस्चार्ज के बाद मरीज के चेहरे में सूजन थी सर्दी खांसी भी पूरी तरह से ठीक नहीं हुई थी। इलाज के लिए धमतरी के एक निजी अस्पताल में भर्ती हुए थे। शुक्रवार को सिटी स्केन कराने पर पता चला की उनके फेफडे में ब्लैक फंगस है। इसके बाद उन्हें जिला अस्पताल रिफर कर दिया गया। जहां पूरी तरह से परीक्षण के बाद जिला अस्पताल के डाॅक्टरों ने बेहतर इलाज के लिए एम्स रिफर कर दिया।

 

27-05-2021
झारखंड में यास चक्रवात ने दी दस्तक,75 किमी की गति से चली हवा,भारी बारिश,लोगों को घर में रहने की नसीहत  

रांची। चक्रवाती तूफान ‘यास’ 75 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार की हवाओं और भारी बारिश के साथ झारखंड की सीमा में पहुंचा। चक्रवात के कारण चक्रवात के मद्देनजर राज्य में लोगों को अगले चौबीस घंटे घरों में ही रहने को कहा गया है और कोल्हान प्रमंडल के पूर्वी सिंहभूम, सरायकेला, पश्चिमी सिंहभूम, बोकारो के अलावा खूंटी एवं पश्चिमी सिंहभूम जिलों में निचले क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने का काम लगातार जारी है। अब तक दस हजार से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों तक पहुंचा दिया गया है। झारखंड के आपदा प्रबंधन विभाग के सचिव डा. अमिताभ कौशल ने बताया कि बंगाल की खाड़ी से उठा चक्रवाती तूफान यास झारखंड की सीमा में प्रवेश कर गया।

 

12-04-2021
कोरोना ने दी सुप्रीम कोर्ट में दस्तक, कई कर्मचारी हुए संक्रमित, घर से काम करेंगे जज

नई दिल्ली। देश में कोरोना की लहर बेकाबू होती जा रही और अब इसकी जद में सुप्रीम कोर्ट के भी कई कर्मचारी आ गए हैं। रिपोर्ट के अनुसार कोर्ट के करीब आधे कर्मचारी कोरोना की चपेट में आ गए हैं। ताजा हालात के बाद अब कोर्ट में मामलों की सुनवाई जज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए घर से करेंगे। बड़ी संख्या में कोरोना संक्रमण के मामलों के सामने आने के बाद सुप्रीम कोर्ट के पूरे परिसर को सैनेटाइज कराया जा रहा है। सूत्रों के अनुसार कोर्ट की तमाम बेंच आज सुनवाई में अपने तय समय से करीब एक घंटे देर से बैठेंगी। ऐसे में 10.30 बजे से बैठने वाली बेंच 11.30 से बैठेगी जबकि 11 बजे से बैठने वाली बेंच दोपहर 12 बजे से सुनवाई शुरू करेगी। रिपोर्ट में बताया गया है कि अभी तक के टेस्ट के रिपोर्ट के अनुसार अब तक 44 स्टाफ के संक्रमित होने की सूचना है। ये रिपोर्ट शनिवार तक की हैं और संख्या में वृद्धि हो सकती है।

 

22-03-2021
क्या आप जानते है छत्तीसगढ़ में कहां है ओनाकोना मंदिर? क्या है इसका इतिहास?

रायपुर। बालोद जिले के अंत में धमतरी और दुर्ग की सीमा पर स्थित ओनाकोना मंदिर काफी समय से जिज्ञासा और चर्चा का विषय रहा है, चाहे मंदिर हो या हरे-भरे हरियाली के दृश्य, छत्तीसगढ़ राज्य कई चीजों को बनाए रखता है। कुछ वर्षों के लिए, यह स्थान अज्ञात और सुगम से बहुत दूर था, लेकिन कुछ पर्यटकों के दिलों में इस जगह ने खूबसूरती से दस्तक दी और समय के साथ पर्यटकों का यहां आना शुरू हो गया। खासकर जब मंदिर का निर्माण शुरू हुआ। इस जगह को एक पर्यटक स्थल के रूप में विकसित करने का श्रेय तीरथ राज फुटन को दिया जाता है। फुटन के अनुसार छत्तीसगढ़ राज्य में प्राकृतिक सौंदर्य बहुत है, जहाँ हर पीढ़ी प्रकृति के साथ समन्वय करने जा रही है। तीरथ राज के अनुसार, छत्तीसगढ़ से कई भक्त पूजा अनुष्ठानों के लिए जाने में सक्षम नहीं हैं। उनकी सुविधा को देखते हुए जल्द ही मंदिर के अंदर प्रतिष्ठित भगवान स्थापित होंगे, इसलिए भक्तों को दूर नहीं जाना पड़ेगा। यह धमतरी से 26.5 किलोमीटर की दूरी पर, बालोद से 51.7 किलोमीटर, कांकेर से 83.8 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

यह मंदिर करझर गांव के अंदर स्थित है। ओनाकोना में स्थित बांध के तट पर दो मंदिरों का निर्माण किया जा रहा है, मंदिर की कलाकृति नासिक में त्र्यंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग धाम की तर्ज पर बनाई जा रही है। धमतरी जिले के आसपास के क्षेत्रों में तीन से चार बड़े बांध हैं, जो पूरे छत्तीसगढ़ राज्य में मौसम, जलवायु और राज्य के पर्यावरण में सबसे अधिक समर्थन देते हैं। यहां निर्माणाधीन मंदिर भगवान शिव को समर्पित है। मंदिरों की दीवारों पर कलाकृति शानदार है, जिसे बेहतरीन राजमिस्त्री ने उकेरा है। नौका विहार पानी के अच्छे और शांत प्रवाह में किया जाता है। प्राकृतिक दृश्यों का यह सुंदर संगम और भगवान शिव की आस्था छत्तीसगढ़ राज्य को और अधिक अद्वितीय बनाती है। प्राकृतिक खनिज, खेत खलिहान, महान नदियाँ, प्राचीनता के गुण और संस्कृति, छत्तीसगढ़ में यह सब है। हम छत्तीसगढ़ राज्य के आभारी हैं और इसे नमन करते हैं।

16-02-2021
Video: सरगुजा में बर्ड फ्लू की दस्तक, प्रशासन ने जारी किया हाई अलर्ट

अंबिकापुर। सरगुजा जिला भी अब बर्ड फ्लू की चपेट में आ चूका है। शासकीय कुक्कुट फॉर्म सकलो में बर्ड फ्लू का मामला सामने आया है। बता दें कि शासकीय कुक्कुट फॉर्म सकलो में पिछले कुछ दिनों से मुर्गियों की मौत हो रही थी। इसे देखते हुए और बर्ड फ्लू की आशंका पर सैंपल जाँच के लिए भोपाल स्थित हाई सिक्योरिटी लैब भेजा गया था। सोमवार को आई रिपोर्ट से पॉजिटिव होने की पुष्टि हुई है। इसके बाद प्रशासन ने हाई अलर्ट जारी कर दिया है। पशुधन विभाग के सहायक संचालक एनपी सिंह ने बताया कि जाँच रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद विभाग सर्वे करवाना शुरू कर चुकी हैं। अंबिकापुर के सकलो स्थित शासकीय कुक्कुट फॉर्म में मंगलवार को करीब 34 सौ बड़ा मुर्गा और 17 हजार चूजों को गड्डे में दफ्नाया गया। वहीं मामले की संजिंदगी को देखते हुए निगम प्रशासन ने अंबिकापुर के चिकन मार्केट में मुर्गा बिक्री पर पूर्ण प्रतिबंध लगा दिया हैं।

07-10-2020
सघन कोरोना सर्वे के लिए घर-घर दस्तक दे रही आंगनबाड़ी कार्यकर्ता  

रायपुर/दुर्ग। जिले में कोरोना संक्रमण को बढ़ने से रोकने के लिए सघन कोरोना सर्वे अभियान शुरू किया गया है। इसके लिए गठित टीम घर-घर जाकर कोविड-19 से सम्बंधित लक्षण वाले मरीजों की पहचान कर रही है। इस कार्य में जिले की आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, मितानिन व महिला पुलिस स्वयंसेविका महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही हैं। मैदानी स्तर पर कोरोना से निपटने के लिए घर-घर सघन सर्वे में कोविड-19 से सम्बंधित लक्षण वाले लोगों की जानकारियां जुटाई जा रही हैं। सर्वे टीम के द्वारा उच्च जोखिम वाले-60 वर्ष से अधिक, गर्भवती महिला, 5 वर्ष के कम आयु के बच्चे, उच्च रक्तचाप, डायबीटीज से ग्रसित व्यक्ति, कैंसर अथवा किडनी रोग से ग्रसित व्यक्ति, टीबी रोग, सिकल सेल, एड्स से पीड़ित लोगों की पहचान की जा रही है। कोविड-19 के संक्रमण में गंभीर रोगों से पीड़ित व्यक्तियों में सर्दी, खांसी, बुखार व गले में खराश जैसे लक्षण वाले लोगों की घर-घर जाकर पहचान की जा रही है। 

दुर्ग ग्रामीण परियोजना क्षेत्र के रसमड़ा सेक्टर के 9 ग्राम पंचायतों में 5 अक्टूबर से 12 अक्टूबर तक घरों में सघन कोरोना सर्वे अभियान के लिए टीम पहुंच रही हैं। इस दौरान टीम लोगों से सोशल डिसटेंसिंग का पालन करने व मास्क लगाने के लिए भी प्रेरित कर रही हैं। महिला एवं बाल विकास विभाग की महिला सुपरवाइजर शशी रैदास ने बताया, रसमड़ा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के अंतर्गत 9 ग्राम पंचायत कोटमी, मोहलाई, महमरा, खपरी, रसमड़ा, गनियारी, पीपरछेड़ी, दमोदा, खुरसुल में लगभग 25,000 लोगों का सर्वे करने के लिए 28 टीमें बनाई गई है। प्रत्येक टीम को प्रति दिन 30 से 50 घरों में जाकर परिवार के सभी सदस्यों की स्वास्थ्य से  संबंधित जानकारियों को एकत्रित करना है। आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, सहायिका, मितानिन व महिला पुलिस स्वयंसेविका को सर्वे टीम में शामिल कर स्वास्थ्य विभाग के निर्देशों के तहत यह अभियान चलाया जा रहा है। 

ग्राम गनियारी की आंगनबाड़ी कार्यकर्ता मीना देवदास ने बताया, सर्वे के दौरान लक्षणयुक्त मरीजों अर्थात सर्दी-खांसी या बुखार से ग्रसित लोग होने पर उन्हें संभावित मरीज मानकर कोरोना जांच के लिए एंटीजन टेस्ट किया जाएगा। इसके लिए गांव के आसपास रसमड़ा पीएचसी में टेस्टिंग सेंटर बनाए गए हैं, जहां दूसरे दिन मरीजों का सैंपल किट में डालकर रिपोर्ट बताई जाएगी। सर्वे में मिले लक्षणयुक्त मरीजों की जांच के बाद कोरोना पॉजिटिव मिलने पर उन्हें कोविड अस्पताल या होम आइसोलेशन के माध्यम से इलाज की सुविधा दी जाएगी। सीएमएचओ डॉ. गंभीर सिंह ठाकुर ने जिले के लोगों से घर पहुंचने वाले सर्वे दल को स्वास्थ्य की सही जानकारी देने की अपील की है। उन्होंने ने कहा सघन कोरोना सर्वे सामुदायिक संक्रमण को रोकने में बहुत महत्वपूर्ण अभियान है। इसमें कोरोना लक्षण वाले लोगों की जल्द पहचान कर जांच कराई जाएगी। कोरोना पॉजिटिव लोगों की जल्द पहचान होने से कोरोना संक्रमण को रोकने में मदद मिलेगी।

05-10-2020
सर्दी-खांसी-बुखार के मरीजों की जानकारी लेने सर्वे शुरू, जिले में 479 दलों ने घर-घर दी दस्तक

कोरबा। जिले में कोरोना सघन सर्वे अभियान सोमवार से शुरू हो गया है। कोरोना संक्रमण की चैन तोड़ने तथा कोरोना लक्षणात्मक लोगों की जानकारी लेने पांच से 12 अक्टूबर तक कोरोना सर्वे घर-घर जाकर किया जायेगा। कोरोना सर्वे दल द्वारा प्रत्येक घर में जाकर कोरोना संबंधी लक्षणयुक्त लोगों की जानकारी ली जायेगी। कोरोना सर्वे के लिए जिले भर में कुल 479 सर्वे दल बनाये गये हैं। शहरी क्षेत्र में 67 और ग्रामीण क्षेत्रों में 412 टीमों ने आज से सर्वे का काम शुरू कर दिया हैे।  कासखंड कोरबा में 74, कटघोरा में 53, करतला में 78, पाली में 93 एवं पोड़ीउपरोड़ा में 114 सर्वे दल बनाये गये हैं। घर-घर भ्रमण कर सर्वे करने वाली टीम में आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, मितानिन, एएनएम तथा बहुउद्देशीय स्वास्थ्य कार्यकर्ता शामिल हैं। कोरोना सर्वे टीम को स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों द्वारा प्रशिक्षण भी दिया गया है। प्रशिक्षण के लिए जिले में 57 प्रशिक्षण केन्द्र बनाये गये हैं। सर्वे टीम द्वारा घर-घर जाकर सर्वे किया जा रहा है एवं लक्षणयुक्त मरीजों की जानकारी ली जा रही है। लक्षणयुक्त मरीजों की जानकारी सेक्टर स्तर पर एकत्रित की जा रही है।

इसके लिए सेक्टर स्तर के प्राचार्य और डाटा एंट्री आपरेटर की ड्यूटी लगाई गई है। सर्वे के दौरान पाये गये लक्षणयुक्त मरीजों का एन्टीजोन टेस्ट किया जायेगा। जिले भर में मरीजों के गांव के समीप ही टेस्टिंग सेंटर बनाया गया है। एंटीजेन टेस्ट के लिए कुल 55 टेस्टिंग सेंटर का चिन्हांकन किया गया है। शहरी क्षेत्रों में आठ टेस्टिंग सेंटर बनाये गये हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में 47 टेस्टिंग सेंटर बनाये गये हैं जहां पर लक्षणयुक्त कोरोना संदिग्ध लोंगों की कोरोना जांच की जायेगी। विकासखंड कोरबा में 9, कटघोरा में 7, करतला में 8, पाली में 8 और विकासखंड पोंड़ीउपरोड़ा में 15 कोरोना टेस्टिंग सेंटर बनाये गये हैं। कलेक्टर किरण कौशल ने सर्वे दल को स्वास्थ्य की सही जानकारी देनें लोगों से अपील की है। कलेक्टर ने कहा कि कोरोना सर्वे सामुदायिक संक्रमण को रोकने में बहुत महत्वपूर्ण अभियान है। उन्होंने कहा कि जिले भर में कोरोना लक्षण वाले लोगों की पहचान कर कोरोना जांच कराई जायेगी। कोरोना पाजिटिव लोगों की पहचान होने से कोरोना संक्रमण को रोका जा सकता है। सर्वे के दौरान मिलने वाले कोरोना पाजिटीव लोगों की कोविड अस्पताल या होम आइसोलेशन के माध्यम से ईलाज किया जायेगा। कलेक्टर ने सर्वे दल को सर्दी, खांसी, बुखार तथा गंभीर बीमारी के बारे में सही-सही जानकारी देने की लोगों से अपील की है।


 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804