GLIBS
31-10-2020
कोरोना काल में ऑनलाइन स्टडीज पालकों के लिए साबित हो रही सरदर्द, बच्चों को इसकी लत का शिकार होने से बचाएं

रायपुर। सालभर के बच्चों को भी फोन की लत लग चुकी है। कोरोना काल में ऑनलाइन स्टडी के नाम पर भी बच्चे दिनभर फोन लिए बैठे रहते हैं लेकिन बच्चों के हाथ में फोन जाना आपको कई मुसीबतों में डाल सकता है। ऑनलाइन एक्टिविटीज से बच्चों को दूर रखें। मोबाइल फोन दें भी तो फोन का डाटा कनेक्शन बंद रखें, वाई-फाई का इस्तेमाल करते हैं तो और अच्छा है, बच्चे से पासवर्ड शेयर न करें।

-डिवाइस को हमेशा किसी कॉमन प्लेस पर रखें। कोशिश करें कि टीवी, कंप्यूटर और दूसरे डिवाइस को एक ही जगह रखें। इससे आप बच्चों की ऑनलाइन एक्टविटी पर नजदीक से नजर रख सकेंगे।
-डिवाइस यूज की लिमिट तय करें। अगर आपने किसी ऑनलाइन गेम के लिए 20 मिनट तय किया है तो इस नियम का रेगुलर पालन करें। एक तरह से फैमिली डिवाइस नियम का पालन करें।
-किसी भी डिवाइस का पासवर्ड बच्चों को न बताए। जब बच्चा डिवाइस की मांग करें तो उससे पूछें कि उसे पासवर्ड क्यों चाहिए और ऑनलाइन क्या करना है। सभी डिवाइस का स्कीन लॉक रखें।
-24 महीने से कम उम्र का है तो उसके आस-पास सभी स्क्रीन को ऑफ रखें।

08-10-2020
15 लाख के सट्टा-पट्टी के साथ एक आरोपी गिरफ्तार

रायपुर/जगदलपुर। जिला मुख्यालय के कोतवाली पुलिस ने आईपीएल क्रिकेट मैच का सट्टा खेलाते हुए एक आरोपी को गिरफ्तार किया है। आरोपी के पास से पुलिस ने 11 हजार रुपए और 15 लाख के सट्टा-पट्टी सहित चार मोबाइल फोन बरामद किए हैं। कोतवाली टीआई एमन साहू ने बताया कि पुलिस को सूचना मिली कि एक युवक यशवंत नाहटा हाउसिंग बोर्ड कालोनी के सामने धरमपुरा इलाके में सांई गैसे एजेंसी के पास आईपीएल का सट्टा खेला रहा था। उस पर कार्यवाही करते हुए युवक को गिरफ्तार किया है। मौके पर आरोपी के कब्जे से नगदी रकम 11 हजार रुपए, 4 नग मोबाइल, 15 लाख का सट्टा-पट्टी जब्त कर आरोपी के विरूद्ध धारा 4-क जुआ एक्ट की कार्यवाही की गई।

22-09-2020
ऑनलाइन ठगी करने वाले दो आरोपियों को पुलिस ने पश्चिम बंगाल से किया गिरफ्तार, जवान से की थी लाखों की ठगी

रायपुर/कोंडागांव। सेना के जवान से 12 लाख रुपए की ठगी का मामला सामने आया है। बता दें कि जम्मू कश्मीर में तैनात भारतीय सेना के जवान प्रभुराम मरकाम से मोबाइल फोन के जरिए संपर्क कर फीमेल फ्रैंडशिप ऑनलाइन डेटिंग सर्विस के नाम पर 12 लाख रुपये की ठगी के दो आरोपियों को पुलिस ने पश्चिम बंगाल से गिरफ्तार कर उन्हें न्यायालय में पेश किया। सूत्रों के मुताबिक प्रभुराम मरकाम छुट्टी पर अपने घर कोंडागांव जिले के विश्रामपुरी थाना के अंतर्गत अपने गृहग्राम में आए पहुंचे थे। ठगी होने के बाद 9 सितंबर को उन्होंने विश्रामपुरी थाने में मामले की रिपोर्ट दर्ज कराई। पुलिस ने धारा 420, 34 भादवि के तहत मामला दर्ज करने के बाद जांच शुरू की।

जांच के दौरान पता चला कि ठगों के बैंक खाते कोलकाता पश्चिम बंगाल से संबंधित है। इस पर एसपी सिद्धार्थ तिवारी ने टीम गठित कर कोलकाता पश्चिम बंगाल भेजा। टीम ने एक सप्ताह तक रहकर आरोपियों तक पहुंच तो गई लेकिन गुपचुप तरीके से उनकी गतिविधियों पर नजर रखी। पर्याप्त साक्ष्य जुटाने के बाद स्थानीय पुलिस के सहयोग से आरोपियों के पश्चिम मेदिनापुर स्थित कार्यालय में दबिश देकर संचालक जीबन कृष्ण सिंघा और संधी शंकर बारीक को दबोच लिया। दोनों पश्चिम मेदिनापुर निवासी हैं। आरोपियों के कब्जे से 12 लाख रुपये, उपयोग किये जाने वाले विभिन्न कंपनी के कुल 24 मोबाइल फोन, 40 विभिन्न बैंक खाते का एटीएम कार्ड, दो लैपटॉप, ग्राहकों से चैटिंग करने का रिकार्ड रजिस्टर, कैल्कुलेटर व नोट गिनने की मशीन, विभिन्न मोबाइल कंपनियों के सिम कार्ड ​सहित अन्य सामान जब्त किए गए। दोनों आरोपी को अलीगढ़ कोलकाता के न्यायालय में पेश किया गया जहां अदालत ने उन्हें वर्तमान में कोविड-19 के गाइडलाइन का पालन करते हुए अंतरिम जमानत दे दी।

18-09-2020
न इंटरनेट न फोर जी नेटवर्क, साधारण मोबाइल फोन से बच्चों को पढ़ा रही है रेकी गांव की सरकारी स्कूल की टीचर इंदू डहरिया

रायपुर/कोरबा। बिना इंटरनेट बिना फोर जी नेटवर्क केवल फोन काॅल से ही बच्चों को पढ़ाई से जोड़ कर रख रही हरदीबाजार संकुल के रैकी की शासकीय माध्यमिक शाला की शिक्षिका इंदू डहरिया। इंदू डहरिया केवल सामान्य फोन काॅल से ही कई किलोेमीटर दूर बैठकर भी रोज विद्यार्थियों को पढ़ा रही हैं। शासकीय मिडिल स्कूल रैकी की शिक्षिका इंदू डहरिया जब बच्चों को अपने मोबाइल काॅल से सूर्य, ग्रह, आकाशगंगा का पाठ समझा रही थी, तभी स्कूल शिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव डाॅ. आलोक शुक्ला जिला कलेक्टर किरण कौशल के साथ रैकी पहुंच गये। उन्होंने पहले तो बिना कुछ कहे चुपचाप बैठकर सिस्टम समझा पर, जब जिज्ञासा शांत नहीं हुई तो, समन्वयक सेवनलाल राठौर को बुलाकर जानकारी ली।

डाॅ. शुक्ला ने पूछा कि ना तो वीडियो काॅल है, ना यहां कोई प्रोजेक्टर लगा है, पर फिर भी इतने बेहतरीन तरीके से यहां पढ़ाई कैसे हो रही है? प्रमुख सचिव को संकुल समन्वयक  सेवनलाल ने बताया कि सामान्य मोबाइल वाॅइस काॅल से शिक्षिका इंदू डहरिया उरगा में बैठकर मिडिल स्कूल रैकी में बैठे बच्चों को पढ़ा रहीं हैं। डीईओ सतीश पाण्डेय ने बताया कि इस स्पीकर सिस्टम को किसी भी स्कूल कर्मी या छात्र के परिजन के मोबाइल से जोड़कर रखा जाता है। शिक्षिका की ओर से तय समय पर स्कूल परिसर में विद्यार्थियों को बुलाकर कोविड-19 प्रोटोकाॅल का पालन करते हुये मास्क लगाकर व सोशल डिस्टेेंसिंग से बैठाया जाता है। शिक्षिका दिये गये नम्बर पर सामान्य वाॅइस काॅल करती है और काॅल कनेक्ट होने पर स्पीकर से उनकी तेज आवाज निकलती है। सभी बच्चे शिक्षिका द्वारा इस प्रकार पढ़ाये जा रहे पाठ को सुनते हैं तथा अपनी जिज्ञासा शांत करने के लिये प्रश्न भी पूछ लेते हैं। यह पढ़ाई सामान्य मोबाइल वाॅइस काॅल से होती है। इसीलिये स्मार्ट फोन या वीडियो काॅल की जरूरत नहीं होती और शिक्षिका-छात्रों का संवाद आपस में सामान्य काॅल की तरह होता है। इस पूरे सिस्टम को देखकर प्रमुख सचिव डाॅ. आलोक शुक्ला अचंभित रह गये। उन्होंने इस नवाचार के लिये डीईओ सतीश पाण्डेय सहित पूरे शिक्षा विभाग की प्रशंसा की।

डाॅ. शुक्ला ने किया मोहल्ला क्लासेस का निरीक्षण- डाॅ. शुक्ला ने आज अपने कोरबा प्रवास के दौरान कोरोना काल मेें बच्चों की पढ़ाई के लिये चलाई जा रही मोहल्ला क्लासेस का निरीक्षण व अवलोकन किया। उन्होंने हरदीबाजार संकुल के सुवामोड़ी की प्राथमिक शाला, रैकी की माध्यमिक शाला तथा नुनेरा संकुल की बांधाखार पूर्व माध्यमिक शाला की मोहल्ला क्लासेस का निरीक्षण किया। डाॅ. शुक्ला ने इन कक्षाओं में विद्यार्थियों से संवाद किया। उन्होंने विद्यार्थियों से किताबों में लिखे पाठ पढ़वाकर उनके अक्षर ज्ञान को परखा। प्रमुख सचिव ने बच्चों से गिनती, जोड़-घटाना, गुणा-भाग आदि के सवाल भी किये। डाॅ. शुक्ला ने बच्चों को चित्रों, माॅडलों, कहानियों के माध्यम से पढ़ाने के सरल-सुगम तरीकों की तारीफ की और इस कोरोना महामारी के दौरान बच्चों को सावधानी पूर्वक पढ़ाने पर शिक्षकों की हौसला अफजाई भी की। इस दौरान जिला पंचायत सीईओ कुंदन कुमार, नगर निगम के आयुक्त एस. जयवर्धन और जिला शिक्षाधिकारी सतीश पाण्डेय मौजूद रहे।

16-08-2020
108 संजीवनी एक्सप्रेस के ईएमटी और पायलट ने ईमानदारी और कर्तव्यनिष्ठा की पेश की मिसाल

धमतरी। 108 संजीवनी एक्सप्रेस के ईएमटी डायमंड निषाद और पायलट धर्मेंद्र साहू ने सड़क दुर्घटना में घायल व्यवसायी के 3 लाख रुपये की राशि और 2 मोबाइल फोन परिजनों को सौंप कर ईमानदारी और कर्तव्यनिष्ठा की मिसाल कायम की है। मिली जानकारी के अनुसार 15 अगस्त को एक दिन पूर्व संध्या धमतरी से रायपुर जा रहे 58 वर्षीय नरेंद्र शर्मा गुजरा - कोसमर्रा मार्ग के पास सड़क दुर्घटना में घायल हो गए। घटना की सूचना मिलते ही ईएमटी डायमंड निषाद और पायलट धर्मेंद्र साहू तुरन्त घटना स्थल पर पहुंचे। जब 108 की टीम घटना स्थल पर पहुंचे तो घायल नरेंद्र शर्मा अचेत अवस्था में थे। घायल व्यक्ति को प्राथमिक उपचार करते हुए जिला अस्पताल धमतरी में लाया गया। इस दौरान नरेंद्र शर्मा के बैग में 3 लाख रुपये और दो मोबाइल रखे हुए थे। जिसे ईएमटी और पायलट ने उनके पुत्र शशांक शर्मा को पुलिस के समक्ष सकुशल वापस लौटाए। ईएमटी और पायलट की कर्तव्यनिष्ठा और ईमानदारी की घायल के परिजनों के साथ सभी ने प्रशंसा की।

27-06-2020
छात्र ने व्हाट्सएप स्टेटस में मम्मी-पापा से मांगी माफी और उठाया ये खौफनाक कदम....

धमतरी। ग्यारवीं के एक छात्र ने आत्महत्या कर ली। उसने यह कदम क्यों उठाया इसका पता नहीं चल पाया। छात्र ने व्हाटसएप का उपयोग कर इसमें माता पिता के नाम एक इमोशनल स्टेटस डाला। बदकिस्मती से इस स्टेटस को माता पिता पहले नहीं देख पाए और जब देखा तो बहुत देर हो चुकी थी। बेटा खौफनाक कदम उठा चुका था। दरअसल ग्राम खिसोरा के छात्र ने फांसी लगा ली, छात्र कक्षा ग्यारहवीं का बताया जा रहा है। उसने अपने मोबाइल फोन के स्टेटस में मुझे माफ करना लिखकर अपनी जान दे दी। पुलिस से मिली जानकारी अनुसार करेली बड़ी चौकी अंतर्गत गौरव ग्राम खिसोरा में शुक्रवार को भूपेन्द्र साहू पिता रामलाल 18 वर्ष ने घर के पीछे बने कोठा के म्यार में साड़ी से फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। शुक्रवार को छात्र घर मे अकेला था, उसके माता-पिता   खेत में काम करने चले गये। खेत से काम करके घर लौटे तो घर का मुख्य दरवाजा बंद था। छत से चढ़कर दरवाजा खोला। मवेशी को बांधने कोठा तरफ गए तो देखा कि उसका बेटा भूपेन्द्र कोठा के म्यार में साड़ी से फांसी लगा लिया है। आत्महत्या का कारण स्पष्ट नही है। पुलिस ने छात्र के मोबाइल को जब्त किया तो पता चला कि छात्र ने अपने मोबाइल के व्हाट्सएप स्टेटस में लिखा था मैं आप लोगों को तकलीफ दिया, मुझे जिस भी चीज की जरूरत थी उसे आपने दिया, माँ पापा मुझे माफ करना। फिलहाल पुलिस मर्ग कायम कर जाँच में जुट गई है।

  

 

   

 

17-04-2020
20 अप्रैल से खुल जाएगा ऑनलाइन मार्केट, खरीद सकेंगे ये आइटम्स...

नई दिल्ली। कोरोना लॉकडाउन के दूसरे चरण के बीच सरकार 20 अप्रैल से कुछ राहत भी देने जा रही है। अमेजन, फ्लिकार्ट और स्नैपडील जैसी ई-वाणिज्य कंपनियों के माध्यम से मोबाइल फोन, टेलीविजन, रेफ्रिजरेटर, लैपटॉप और साफ-सफाई से जुड़े उत्पादों की बिक्री की अनुमति 20 अप्रैल से होगी। एक अधिकारी के अनुसार 20 अप्रैल से बिक्री शुरू होगी लेकिन कंपनियों की डिलीवरी वैन को आवाजाही के लिए प्रशासन की मंजूरी लेनी होगी। दरअसल, गृह मंत्रालय ने पहले जो गाइडलाइन जारी की थी, उसमें सिर्फ खाने-पीने की वस्तुएं, दवाएं और चिकित्सा उपकरणों समेत आवश्यक वस्तुओं की बिक्री को ही मंजूरी दी गई थी। अधिकारियों की मानें तो लॉक डाउन में मोबाइल फोन, टीवी, रेफ्रिजरेटर, लैपटॉप और स्टेशनरी आइटम को ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म जैसे अमेजन, फ्लिपकार्ट और स्नैपडील के माध्यम से 20 अप्रैल से लॉक डाउन के दौरान बेचने की अनुमति होगी। सरकार की नई कोरोना लॉक डाउन गाइडलाइन के मुताबिक, 20 अप्रैल से स्व-रोजगार में लगे इलेक्ट्रिशियंस, आईटी संबंधी मरम्मत का काम करने वाले लोगों, प्लंबर, मोटर मैकेनिक, बढ़ई को काम करने की अनुमति दी जाएगी। इसके अलावा, ई-कॉमर्स ऑपरेटरों द्वारा उपयोग की जाने वाली कूरियर सेवाओं और वाहनों को भी सरकार द्वारा अनुमति दी जाएगी।

14-03-2020
अब मोबाइल खरीदना पड़ेगा महंगा,12 की जगह लगेगा 18 प्रतिशत जीएसटी

नई दिल्ली। जीएसटी काउंसिल ने मोबाइल फोन पर टैक्स बढ़ाकर 18 फीसदी कर दिया है। अभी तक मोबाइल फोन पर 12 फीसदी जीएसटी लगता है, जिसे अब बढ़ाकर 18 प्रतिशत कर दिया गया है। शनिवार को जीएसटी काउंसिल की 39वीं बैठक हुई। इसमें केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण सहित कई राज्यों के वित्त मंत्री और वरिष्ठ अधिकारी शामिल हुए। जीएसटी काउंसिल की बैठक के बाद वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि मोबाइल पर लगने वाले जीएसटी को 18 फीसदी किया गया है। एयरक्रॉफ्ट के मेंटिनेंस, रीपेयर ऐंड ओवरहॉल सर्विस पर जीएसटी की दर को 18 फीसदी से घटाकर 5 फीसदी कर दिया गया है। फर्टिलाइजर्स और फुटवियर पर लगने वाली जीएसटी दरों में कोई बदलाव नहीं किया जाएगा। काउंसिल की बैठक में फैसला लिया गया है कि B2B सप्लाई और एक्सपोर्ट्स के लिए GSTR-1 फॉर्म भरना अनिवार्य होगा। वित्तमंत्री ने बताया है कि वित्त वर्ष 2018-19 के लिए वार्षिक रिटर्न दाखिल करने और विवरण के समाधान के लिए नियत तारीख को 30 जून 2020 तक बढ़ा दिया गया है। साथ ही 2 करोड़ से कम कारोबार वाले करदाताओं को 2017-18 और 2018-19 के लिए वार्षिक रिटर्न और विवरण के समाधान दाखिल करने में देरी होने के लिए लेट फीस नहीं देनी होगी। 

 

13-03-2020
जीएसटी बैठक में उपभोक्ताओं को मिल सकता है झटका, ये चार सामान हो सकते हैं महंगे 

नई दिल्ली। जीएसटी परिषद की इस सप्ताह 14 मार्च को बैठक होने वाली है। बैठक में मोबाइल फोन, ऊर्वरक, कृत्रिम धागे और कपड़ों पर अप्रत्यक्ष कर की दरें बढ़ाकर 18 फीसदी की जा सकती हैं। विशेषज्ञों ने ऐसी राय जाहिर की है कि जीएसटी दरें बढ़ाने से विनिर्माताओं के पास पूंजी की स्थिति में सुधार हो सकता है, लेकिन इससे तैयार माल की कीमतें बढ़ सकती हैं। अभी कुछ तैयार माल पर पांच से 12 फीसदी की दर से जीएसटी लगता है। हालांकि इनसे संबंधित सेवाओं तथा पूंजीगत वस्तुओं पर 18 फीसदी अथवा 28 फीसदी की दर से अपेक्षाकृत अधिक कर लगता है।

विनिर्माताओं को उन मामलों में इनपुट टैक्स क्रेडिट के रिफंड का दावा करना पड़ता है। इनमें तैयार माल की तुलना में इनपुट (उत्पादन सामग्री/सेवा पर) कर की दरें अधिक होती हैं। इस व्यवस्था के तहत सालाना करीब 20 हजार करोड़ रुपये के रिफंड का दावा किया जाता है। इसे दुरुस्त करने की जरूरत है। अधिकारियों ने कहा कि जीएसटी परिषद चरणबद्ध तरीके से इस गड़बड़ी को दूर करेगी। शनिवार की बैठक में चार सामानों मोबाइल, ऊर्वरक, जूते एवं कृत्रिम धागे तथा कपड़े एवं परिधान पर निर्णय लिया जा सकता है।

01-03-2020
फिल्मी स्टाइल में पॉकेट से मोबाइल निकालकर भागे चोर, मामला दर्ज

रायपुर। सब्जी खरीदने गए युवक के पॉकेट से मोबाइल फोन निकालकर बाइक सवार बदमाश फरार हो गया। घटना की रिपोर्ट अभनपुर थाने में दर्ज की गई है। मिली जानकारी के अनुसार ग्राम सिकरीडीह गोबरा नवापारा निवासी कोमल साहू ने रिपोर्ट दर्ज कराई है कि बीते दिन अभनपुर शनिचरी बाजार में सब्जी खरीदने गया हुआ था। इसी दौरान बाइक क्रमांक सीजी 05 एक्स 4256 के चालक ने प्रार्थी की जेब से मोबाइल निकालकर फरार हो गया। घटना की रिपोर्ट पर पुलिस ने  चोर के खिलाफ बाइक नंबर के आधार पर धारा 379 के तहत अपराध कायम कर मामला दर्ज कर लिया है। 

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804