GLIBS
06-07-2019
नक्सल समस्या के उन्मूलन के लिए बजट में कोई भी प्रावधान नहीं : राजकिशोर प्रसाद

कोरबा। केन्द्रीय बजट पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए जिला कांग्रेस कमेटी कोरबा के अध्यक्ष राजकिशोर प्रसाद ने बताया कि केन्द्र सरकार की बजट अत्यंत निराशाजनक है। खासकर मध्यमवर्ग के लिए। सरकारी उपक्रमों के निजीकरण करने की भाजपा सरकार की पुरानी परंपरा चालू रहने का अंदेशा है। मध्यम वर्ग के लिए आयकर में किसी प्रकार की छूट का प्रावधान नहीं है। छत्तीसगढ़ धान उत्पादक प्रदेश है, लेकिन राष्ट्रीय एमएससी 1850/- प्रतिक्विंटल के विरूद्ध मात्र 65/- प्रति क्विंटल की बढ़ोत्तरी छत्तीसगढ़ के किसानों के लिए निराशाजनक है। छत्तीसगढ़ के यशस्वी मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा पहले ही 2500/- रुपये प्रति क्विंटल धान का समर्थन मूल्य आगे भी दिये जाने की बात कही गई है। बजट में रोजगार मूलक कोई भी कार्यक्रम घोषित नहीं है और छत्तीसगढ़ की नक्सल समस्या के उन्मूलन के नाम पर भी बजट में कोई भी प्रावधान नहीं है। यह नक्सल समस्या के उन्मूलन की दिशा में केन्द्र सरकार की उदासीनता का परिचायक है। राजकिशोर प्रसाद ने कहा कि पिछले पॉच वर्षों तक प्रधानमंत्री आवास योजना आज भी धरातल पर नहीं के बराबर है।


 

12-06-2019
औचित्यहीन बातों को मुद्दा बना रही भाजपा : राजकिशोर प्रसाद

 

कोरबा। कोरबा लोकसभा में हुई करारी हार से क्षुब्ध भाजपा के नेता इन दिनां निगम चुनाव में अपनी खोई साख जुटाने औचित्यहीन बातों को मुद्दा बनाकर जनता के बीच विलाप कर ध्यान आकृष्ट कर रही है। जिला कांग्रेस कमेटी शहर के अध्यक्ष राजकिशोर प्रसाद ने भाजपा नेताओं को आड़े हाथो लेते हुए कहा कि भाजपा नेताओं ने कोरबा जिले मे अपनी पार्टी की लुटिया डुबो डाली है। अब जब बचा कुछ नहीं तो बिना सिर पैर के मुद्दों को लेकर प्रेस कांफ्रेंस लेकर विलाप कर रहे हैं।

शहर अध्यक्ष ने कहा कि जनता ने इन्हें 15 साल के सत्ता सुख से यूं ही वंचित नही किया। सत्ता का जनविरोधी आचरण से त्रस्त होकर जनता ने इन्हे बाहर का रास्ता दिखाया है। बिना सिर पैर की बात करने के पहले अपने गिरेबान में झांके विधानसभा चुनाव में ट्रकों शराब की खेप कोरबा जिले में सत्ता के संरक्षण में पहुंचा था। कांग्रेस कार्यकर्ताओं की पैनी नजर से बचने का पूरा ड्रामा भाजपा के इन्ही प्रेस कांफ्रेस कर रहे नेताओं ने रच डाला था पर सजग और तब विपक्ष के विधायक एवं कोरबा विधानसभा प्रत्याशी जयसिंह अग्रवाल के तीखे तेवर के आगे एक नहीं चली थी। भाजपा प्रत्याशी के करतूत को जनता ने अपनी आंखो से देखा था और अखबारों में पढ़ा था।

दर्री के गरीब अनुसूचित जाति के कांग्रेस कार्यकर्ता आज भी उस घटना से सदमें में है। श्री प्रसाद ने भाजपा के नेताओ से कहा है कि हार की हताशा से बाहर आएं और निगम चुनाव के पहले अपनी ताकत फिजूल में मत गंवाइएं जिस ढाबे को लेकर इतनी हाय तौबा किया जा रहा है। वह गौमाता चौक के पवित्र स्थल के समीप मांस मदिरा के विक्रय और असामाजिक तत्वों का अड्डा बन चुका था। पवित्र आस्था केन्द्र गौमाता एवं शहर का मुख्य प्रवेश द्वार की गरिमा की रक्षा के लिये प्रशासन के कदमों की बुराई नही बल्कि प्रशंसा की जानी चाहिए।

Advertise, Call Now - +91 76111 07804