GLIBS
17-09-2020
कलेक्टर ने कहा, नदी क्षेत्र में अवैध उत्खनन से संबंधित न होकर मामला उभयपक्षों में मारपीट का प्रतीत हो रहा

धमतरी। कुरूद विकासखण्ड के ग्राम मंदरौद के रेत उत्खनन क्षेत्र में गत रात्रि घटित मारपीट के मामले में कलेक्टर जयप्रकाश मौर्य ने तत्काल संज्ञान में लिया है। उन्होंने अनुविभागीय अधिकारी कुरूद से घटना के संबंध में प्रतिवेदन मांगा। इसके आधार पर उन्होंने यह स्पष्ट किया कि रेत उत्खनन एवं भण्डारण क्षेत्र में घटित मारपीट की घटना प्रथम दृष्टया दो उभयपक्षों के बीच विवाद के परिणामस्वरूप प्रतीत हो रहा है, न कि अवैध उत्खनन का। पूरे प्रकरण के संबंध में पुलिस द्वारा विवेचना की जा रही है। इस संबंध में कलेक्टर ने बताया कि अशोक पवार ग्राम मंदरौद पटवारी हल्का नंबर 53 खसरा क्रमांक 1720 का भाग 0.86 हेक्टेयर क्षेत्र में अस्थायी अनुज्ञा भण्डारण की अनुमति प्रदान की गई है। उक्त स्थल में अशोक पवार के चौकीदार एवं उसके परिवार तथा 12-15 लोगों के मध्य विवाद हुआ। अनुविभागीय दण्डाधिकारी कुरूद के माध्यम से घटनाक्रम के संबंध में प्रतिवेदन लिया गया। थाना कुरूद के प्राथमिकी क्रमांक 0497 तथा मनीष पवार के आवेदन पत्र का अवलोकन किया गया। इससे स्पष्ट नहीं होता है कि उभयपक्षों के मध्य मारपीट की घटना के लिए कौन जिम्मेदार है ? इस संबंध में पुलिस उभयपक्षों का बयान लेकर पृथक से विवेचना कर रही है।

अनुविभागीय अधिकारी राजस्व कुरूद से प्राप्त प्रतिवेदन के आधार पर घटनाक्रम के अवलोकन से स्पष्ट है कि तथाकथित मारपीट अशोक पवार के अस्थायी भण्डारण के लिए अनुमति प्राप्त भण्डारण क्षेत्र में हुई। जब यह घटना हुई, तब नदी क्षेत्र में उत्खनन की कार्रवाई नहीं हो रही थी, न ही नदी क्षेत्र से किसी वाहन को जब्त किया। छत्तीसगढ़ खनिज (खनन, परिवहन तथा भण्डारण) नियम 2009 के कण्डिका 3 के तहत भण्डारण क्षेत्र के जांच के लिए प्राधिकृत अधिकारी नियुक्त किए गए हैं, इनसे इतर व्यक्ति/अधिकारी भण्डारण क्षेत्र में अवैध प्रवेश नहीं कर सकता है, यदि किसी व्यक्ति को शिकायत है तो सक्षम प्राधिकारी को सूचना दे सकता है। इस घटनाक्रम के अवलोकन से स्पष्ट है कि अशोक पवार के मंदरौद स्थित अस्थायी अनुज्ञा भण्डारण क्षेत्र में कुछ अज्ञात लोगों द्वारा नियम विरूद्ध प्रवेश किया गया, जिससे यह घटना घटित हुई। प्रथम दृष्ट्या स्पष्ट है कि यह मामला अवैध उत्खनन से संबंधित न होकर दो पक्षों की मारपीट से संबंधित है, जिसकी विवेचना पुलिस के द्वारा की जा रही है। कलेक्टर ने कहा है कि जांच के उपरांत दोषियों के विरूद्ध नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।

क्या हैं मामला

बीते दिन जिला पंचायत में बैठक के बाद अध्यक्ष कांति सोनवानी, उपाध्यक्ष निशु चंद्राकर, सदस्य तारणी नीलम चंद्राकर, सुमन संतोष साहू, कुसुमलता साहू, मनोज साक्षी और सभापति मीना बंजारे, यतीन्द्र बंजारे रेत खदानों के निरीक्षण में निकले थे। कुरूद क्षेत्र के ग्राम गाड़ाडीह मन्दरौद के पास एक जगह पर दो तीन हाइवा रेत खाली हो रही थी। इसे देख जिला पंचायत सदस्य यतीन्द्र बंजारे ने वहां मौजूद लोगों से पूछताछ की। इसके बाद वह लोग आक्रोशित हो गये और लाठी डंडे रॉड से मारपीट शुरू कर दिये। खास बात इस मारपीट की घटना में 3-4 महिलायें भी शामिल थीं और जिला पंचायत अध्यक्ष व अन्य पदाधिकारियों के सामने यह मारपीट की घटना हुई। जिनके बीच बचाव के बाद फिर मामला शांत हुआ। ईधर घटना के बाद जिला पंचायत सदस्य यतीन्द्र बंजारे ने कुरूद थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई है। इस सम्बंध में कुरूद थाना प्रभारी गगन वाजपेयी ने बताया कि रिपोर्ट के आधार पर आरोपियों पर 294, 323, 506, 147, 148, 149 3 (1) द 3 (1) स 3 (2) vए के तहत अपराध दर्ज किया गया है। पुलिस सूत्रों ने बताया कि रेत भंडारण स्थल में जिला पंचायत सदस्यों के साथ मारपीट करने वालो में नरेंद्र साहू, धर्मेंद्र साहू, कांता निर्मलकर, फूलसिंह दिवान, रोहित राय व कुछ अन्य महिलाएं भी शामिल हैं। पुलिस अपराध दर्ज कर आगे जांच कार्यवाही में जुटी हुई है।

 

06-09-2020
नदी में जाने वाले पानी‌ की धार को मोड़ा गया सिंचाई पानी देने नहर की ओर 

रायपुर। बीते सप्ताह हुए घनघोर बारिश के चलते गंगरेल लबालब हो गया है और इसमें केचमेंट एरिया से आ रहे अतिरिक्त पानी को नदी में न छोड़ खेतों को सिंचाई पानी पहुंचाने इसकी धार को महानदी मुख्य नहर की क्षमता के अनुरूप इस नहर की ओर‌ मोड़ ‌‌‌दिया गया है। इसके चलते न केवल पानी की कमी वाले खेतों को‌ सिंचाई पानी मिल सकेगा वरन् नदी में व्यर्थ जाने वाले पानी‌ का सार्थक उपयोग होने के साथ-साथ फिलहाल गंगरेल लबालब रहेगा। ज्ञातव्य हो कि बीते सप्ताह पूरे प्रदेश में हुए भारी‌ बारिश के चलते गंगरेल सहित प्रदेश के लगभग सभी बांध लबालब हो गये हैं व गंगरेल के केचमेंट एरिया में हुए घनघोर बारिश की वजह से इसके लबालब होने के बाद भी पानी का आवक जारी ‌‌‌है। इधर किसान एक बार फिर सिंचाई के लिये पानी की आवश्यकता महसूस कर‌ रहे थे। 

किसानों के अनुसार ‌‌‌फिलहाल कन्हार खेतों के लिए पानी की आवश्यकता नहीं है पर‌ मटासी‌ मिट्टी वाले खेतों सहित आउटलेटों के कमांड एरिया में आने वाले खेतों के लिये पानी की आवश्यकता महसूस की जा रही थी क्योंकि इन‌ खेतों ‌‌‌में जाय्दा दिन तक पानी ठहरता नहीं। इसके अतिरिक्त घनघोर भारी बारिश के चलते खेतों के मेड़ों में कटाव आ जाने व इनकी मरम्मत करते तक इन खेतों में इकट्ठा पानी भी बह‌ निकला था। इस स्थिति को देखते हुए किसानों की मांग तथा पूर्व में जल संसाधन मंत्री रवीन्द्र चौबे का‌ इस ओर‌ ध्यानाकर्षण कराये जाने के चलते इस अतिरिक्त पानी का रूख महानदी मुख्य नहर की ओर मोड़ दिया गया है।

ज्ञातव्य हो कि बीते 24 अगस्त को गंगरेल के केचमेंट एरिया में हो रहे बारिश के चलते गंगरेल के लबालब हो जाने की संभावना को देखते हुये रायपुर जिला जल उपभोक्ता संस्था संघ के अध्यक्ष रहे‌ भूपेन्द्र शर्मा ने चौबे का ध्यानाकर्षण इस ओर कराते हुये अतिरिक्त पानी को नदी में न छुड़वा नहर में डलवाने का आग्रह किया था पर इसके तुरंत बाद प्रदेश भर में‌ हुये भारी बारिश व‌ खेतों के लबालब हो जाने की स्थिति को देखते हुये अतिरिक्त पानी को नहर में तब नहीं छोड़ा गया था पर अब खेतों में सिंचाई पानी की आवश्यकता को देखते हुये पानी का रूख नहर की ओर मोड़ दिया गया है व महानदी मुख्य नहर में पानी दौड़ने लगा है। सिंचाई पंचायतों के अध्यक्ष रह‌ चुके थानसिह साहू,   हिरेश चन्द्राकर, चिंताराम वर्मा, प्रहलाद चन्द्राकर, गोविंद चन्द्राकर, भारतेन्दु साहू, धनीराम साहू, मनमोहन गुप्ता, संतराम बघेल, तुलाराम चन्द्राकर, योगेश चन्द्राकर आदि ने नहर में पानी ‌‌‌छोड़े जाने का‌ स्वागत किया है।

31-08-2020
नदी के बहाव में बह रही लड़की को युवक ने बचाया, पुलिस ने किया सम्मानित

गुंडरदेही। नदी में तेज बहाव में आने से बालिका बह गई, जिसे एक युवक ने बचाया। दरअसल नगर पंचायत क्षेत्र गुंडरदेही से गुजरने वाली तांदुला नदी में सोमवार को एक बालिका नहाने गई थी। पानी के तेज बहाव में आने के कारण लड़की बहने लगी। इस पर वहां मौजूद युवक ने देखा और नदी में कूदकर बालिका को बचाया और सुरक्षित बाहर निकाला। युवक का नाम मनीष निषाद बताया जा रहा है। गुण्डरदेही पुलिस ने युवक मनीष निषाद को थाना बुलाया और पुष्प गुच्छ भेंट कर सम्मानित कर उत्साहवर्धन किया ।

शब्बीर रिजवी की रिपोर्ट

 

29-08-2020
Video: आजादी के बाद भी खाट में मरीज को लेकर नदी पार कर रहे लोग

कवर्धा। समय पर इलाज नहीं मिल पाने के कारण एक युवक की मौत हो गई। भोरमदेव थाना के ग्राम केशदाझंडी में एक अठारह वर्षीय आदिवासी युवक तुकाराम बैगा का तबियत बिगड़ी और स्वास्थ्य अमले को इसकी सूचना दी गई लेकिन स्वास्थ्य विभाग द्वारा वाहन नहीं पहुंचने का हवाला दे दिया गया। ऐसे में बीमार युवक को खाट में लिटाकर बैगा समाज के जिलाध्यक्ष कामू और युवक के परिजन खाट पर लिटाकर गांव से निकल पड़े। सरौधा जलाशय के पास कमर तक भरे पानी में कड़ी मशक्कत के बाद मरीज को जलाशय पार कराया गया। उसके बाद स्वास्थ्य विभाग और प्रशासन को फिर से मौके पर बुलाया गया लेकिन एम्बुलेंस के इंतजार में युवक ने दम तोड़ दिया और अस्पताल पहुंचने पर डॉक्टरों ने युवक को मृत घोषित कर दिया। बता दें कि बारिश के कारण सरोधा जलाशय लबालब भर गया है, जिसके कारण जलाशय से 5 फीट ऊपर पानी बह रहा है।

 

26-08-2020
फोन को लेकर हुआ था पिता-पुत्र के बीच विवाद, नानी के घर जा रहा हूं कहकर निकला और लगा दी नदी में छलांग, तलाश जारी...

रायपुर। पिता से फोन को लेकर हुए विवाद के बाद शराब पीकर युवक ने इंदिरा सेतु से कल नदी में छलांग लगा दी थी। घटना के बाद से युवक की तलाश जारी है। फिलहाल अभी तक युवक का पता नहीं चला पाया है। खमतराई निवासी दीपक साहू सोमवार रात शराब पीकर घर आया था। इस दौरान उसके पिता बुधराम ने शराब पीने को लेकर फटकार लगाई थी जिसके बाद युवक ने अपने पिता से फोन मांगा। इस पर पिता ने इन्कार कर दिया। इस पर दोनों के बीच विवाद हो गया। बाद में पिता ने फोन देने पर वह नानी के घर जाने की बात कहकर घर से निकल गया। वह सीधे अरपा नदी पर बने इंदिरा सेतु पर पहुंच गया। यहां से युवक ने अपने रिश्तेदार को फोन लगाकर नदी में कूदकर आत्महत्या करने की बात कही। इसके बाद परिजन आनन-फानन में मौके पर पहुंचे। इस दौरान परिजन उससे फोन पर बात करते रहे। परिजनों को इंदिरा सेतु में देखते ही दीपक ने नदी में छलांग लगा दी। परिजनों ने इसकी सूचना सरकंडा पुलिस को दी। पुलिस ने रात में ही मौके पर ही पहुंचकर युवक की तलाश शुरू कर दी थी। अंधेरा होने के कारण पुलिस को दिक्कतों का सामना करना पड़ा।

19-08-2020
दोस्तों के साथ बालक गया था नदी में नहाने, तेज बहाव में बह गया, ढूंढ़ने में जुटी पुलिस

कवर्धा। सकरी नदी पुल के ऊपर से पानी बहने लगा। कई घंटों तक मार्ग बाधित रहा। वही बुधवार की दोपहर नदी में नहाते वक्त एक बालक पानी में बह गया। इससे अफरा तफरी मच गई। मिली जानकारी अनुसार रंजीत उमरा उम्र 10 वर्ष नहाने के लिए दोस्तों के साथ नदी में गया था,जहां तेज बहाब में पानी में बह गया। इसकी जानकारी मिलने पर परिवार के लोग ने पुलिस को सूचना दी। पुलिस मौके पर पहुंच कर बालक को ढूढ़ने का काम शुरू कर दिया है।

 

17-08-2020
प्रदेश के कई हिस्सों में जलभराव की स्थिति, सुकमा के कई इलाकों को कराया गया खाली...

रायपुर। पिछले 48 घंटों से हो रही बारिश के कारण प्रदेश के कई हिस्सों में जलभराव की स्थिति उत्पन्न हो गई है। इसी प्रकार राजधानी के जलविहार कॉलोनी, गुढ़ियारी, न्यू राजेंद्र नगर, कालीबड़ी, टिकरापारा, भनपुरी के निचले इलाकों में जलभराव की स्थिति बनी रही। रिमझिम बारिश के बाद शहर की प्रमुख सड़कों पर जल भरा रहा। 

मौसम विज्ञान विभाग ने अभी भी प्रदेश के अधिकतर हिस्सों में आकाशीय बिजली गिरने के साथ भारी बारिश की चेतावनी दी है। बिलासपुर, सुकमा, जगदलपुर, कांकेर, धमतरी, गरियाबंद कई जिलों में ताबड़तोड़ बारिश के कारण जलभराव की स्थिति निर्मित रही। फिलहाल बारिश की फुहारें अभी भी जारी है। वहीं सुकमा क्षेत्र में नदी का जलस्तर बढ़ने के कारण पुरानी बस्ती को खाली करा दिया गया है।

16-08-2020
कोयलीबेड़ा में नक्सलियों ने सरकार के खिलाफ लगाया बैनर और काला पुतला

कांकेर। स्वतंत्रता दिवस के दिन नक्सलियों ने दहशत फैलाने की कोशिश की है। कोयलीबेड़ा में नदी किनारे नक्सलियों ने बैनर लगाए हैं। प्रदेश सरकार के खिलाफ इसमें बातें लिखी हुई हैं। इसमें उन्होंने भूपेश सरकार पर  मूल आदिवासियों के हक को समाप्त करने का आरोप लगाया है। नक्सलियों ने बैनर के साथ काले रंग का पुतला भी लगाया।

01-08-2020
Video: नहीं बना पुल, प्रसव पीड़िता को परिजनों ने कंधों पर लादकर पार कराई नदी

अंबिकापुर। सरगुजा जिले के मैनपाट से एक ऐसी तस्वीर सामने आई है, जहाँ जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग की कमियों को बताने के लिए काफी  है। मैनपाट के छोर में बसा कदनई गांव जहां की आबादी महज 1000 है। इस गांव में राष्ट्रपति के दत्तक पुत्र माने जाने वाले कोरवा जनजाति के लोग निवासरत है। रविवार को एक कोरवा महिला को प्रसव पीड़ा हुई। उसके बाद पीड़िता के परिजनों ने झेलेगी में बैठा कर नदी पार करवाया। नदी के उस पार स्वास्थ्य विभाग के वाहन से पीड़िता को शांतिपारा के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में पहुँचाया गया। यहां  प्रसूता का इलाज चल रहा है।  जिले के कलेक्टर ने बताया कि मैनपाट के कुछ इलाके पहुँचविहीन है, जिसे दुरुस्त करने की कोशिश की जा रही है। बहरहाल गांव के लोगों ने जिला प्रशासन को कई बार जानकारी दी है लेकिन आज तक पुल नही बन पाया है।

 

30-07-2020
जुआ पकड़ने गई पुलिस, युवक नदी में कूदा, तलाश के बाद शव बरामद

राजनांदगांव। लालबाग पुलिस सूचना मिलने पर बीती रात रामपुर के पास मोहभटा गांव में जुआ खेल रहे कुछ युवकों को पकड़ने गई थी। इसी बीच पुलिस को देख एक युवक डर के मारे नदी में कूद गया,जो अभी तक लापता था। पुलिस और नगर सेना के गोताखोर युवक की तलाश कर रहे थे। कुछ समय पहले प्रशिक्षु उप पुलिस अधीक्षक मयंक रणसिंह ने कहा कि तलाश की जा रही है। अभी-अभी राजनांदगांव के राजीव नगर निवासी योगेंद्र सोनकर का शव पुलिस ने बरामद कर लिया। लेकिन अभी इस मामले में कोई भी कुछ कहने की स्थिति में नहीं है। मामले की जांच की जा रही है।

 

27-07-2020
वर्षो बाद भी नदी पर नहीं बन पुल, बरसात के दिनों में ग्रामपंचायत से कट जाता है आश्रित ग्राम

अंबिकापुर। लखनपुर जनपद अंतर्गत एक आश्रित ग्राम ऐसा भी है जो बरसात के मौसम में एक टापू के समान अलग थलग नजर आता है। इस आश्रित ग्राम के निवासियों का संपर्क अपने ही संबंधित ग्राम पंचायत से पूरी तरह टूट जाता है। मामला है लखनपुर विकासखंड अंतर्गत सुदूर वनांचल क्षेत्र तिरकेला के आश्रित ग्राम ढोंगाडाँड़ का। इस आश्रित ग्राम के लोगों को बरसात के दिनों में मुख्य पंचायत से अलग जीवन बसर करना पड़ता है। दरअसल हकीकत यह भी है कि तिरकेला और इस आश्रित ग्राम के मध्य से एक नदी बहती है,जहां नदी पर पुल निर्माण नहीं होने से साधन अभाव में बरसात के दिनों में इस आश्रित ग्राम का संपर्क अपने संबंधित ग्राम से पूरी तरह टूट जाता है। इस आश्रित ग्राम में 65 घर मौजूद हैं तथा इस इन घरों में बड़ी संख्या में बूढ़े,बच्चे,महिलाएं निवास करती हैं। नदी का जलस्तर बढ़ने से इस ग्राम के लोगों को अपने संबंधित ग्राम तिरकेला जाने के लिए मशक्कत करना पड़ता है।

ग्राम पंचायत तिरकेला के इस आश्रित ग्राम में न तो विद्युत व्यवस्था सुचारू हो पाई है और न ही शुद्ध पेयजल ही सुलभ हो पाया है। यहां शुद्ध पेयजल के लिए एक हैंडपम्प है,जो कि अब खराब स्थिति में है। ग्रामवासियो को तिरकेला नदी का पानी पीने के लिए उपयोग करना पड़ रहा है। बरसात के दिनों में किसी आपातकालीन स्थिति में अस्पताल तक पहुंचने के लिए भी इन्हें काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। कुन्नी का प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र तथा लखनपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र दोनों ही इस स्थान से काफी दूरी पर स्थित है। ढ़ोंगाडाँड़ के निवासियों ने बताया कि नदी पर पुल बनाये जाने कई बार जनप्रतिनिधियों सहित सरपंच सचिव से मांग की गई थी परंतु आज तक मांग पूरी नही हो पाई है। ग्रामवासियो ने इस संबंध में शासन प्रशासन का ध्यानाकर्षण कराते हुए नदी पर पुल बनाये जाने सहित विभिन्न व्यवस्थाओं को दुरुस्त कराए जाने की मांग की है ताकि भविष्य में उन्हें इस तरह की किसी परेशानी का सामना न करना पड़े।

 

Advertise, Call Now - +91 76111 07804